Politics

शिंदे गुट ही असली शिवसेना, स्पीकर का अहम फैसला

Share

महाराष्ट्र में शिवसेना विधायकों के योग्यता को लेकर विधानसभा स्पीकर राहुल नार्वेकर ने अपना फैसला सुना दिया है। इस फैसले से उद्धव ठाकरे गुट को बड़ा झटका लगा है। स्पीकर ने अपने फैसले में साफ तौर पर एकनाथ शिंदे को हटाने के फैसले को नामंजूर कर दिया है। उन्होंने कहा है कि संविधान के मुताबिक हम नहीं हटा सकते थे। शिंदे को हटाने का फैसला कार्यकारिणी का होना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी पर उद्धव गुट का रुख साफ नहीं है। उन्होंने कहा कि उद्धव ठाकरे का गुट संवैधानिक नहीं है। उन्होंने सौफ तौर पर कहा कि विधायक दल के नेता को हम नहीं हटा सकते। असली पार्टी पर उद्धव ठाकरे की दलील भी खारिज कर दी गई है।

महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर कहते हैं, “21 जून 2022 को जब प्रतिद्वंद्वी गुट उभरे तो शिंदे गुट ही असली शिवसेना राजनीतिक दल था।” उन्होंने कहा कि यूबीटी गुट ने रिकॉर्ड पर कोई सामग्री नहीं रखी है या यह भी सुझाव नहीं दिया है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की कोई बैठक बुलाई गई थी जहां वास्तविक राजनीतिक दल के बारे में कोई निर्णय लिया गया था। 2018 की नेतृत्व संरचना शिवसेना के संविधान (1999 के जिस पर भरोसा किया जाता है) के अनुरूप नहीं थी। इस नेतृत्व संरचना को यह निर्धारित करने के लिए मानदंड के रूप में नहीं लिया जा सकता है कि कौन सा गुट वास्तविक शिव सेना राजनीतिक दल है।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि शिवसेना के 2018 संशोधित संविधान को वैध नहीं माना जा सकता क्योंकि यह भारत के चुनाव आयोग के रिकॉर्ड में नहीं है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार, मैं किसी अन्य कारक पर नहीं जा सकता जिसके आधार पर संविधान मान्य है। रिकॉर्ड के अनुसार, मैं वैध संविधान के रूप में शिव सेना के 1999 के संविधान पर भरोसा कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि शीर्ष अदालत के अनुसार दोनों गुटों ने संविधान पार्टी के अलग-अलग संस्करण प्रस्तुत किए हैं, तो उस मामले में किस बात को ध्यान में रखा जाना चाहिए, जो संविधान प्रतिद्वंद्वी गुटों के उभरने से पहले दोनों पक्षों की सहमति से ईसीआई को प्रस्तुत किया गया था। आगे निष्कर्ष दर्ज करने से पहले यह दोहराना जरूरी है कि इस अयोग्यता की शुरुआत के अनुसार, महाराष्ट्र विधान सचिवालय ने 7 जून 2023 को एक पत्र लिखा था, जिसमें ईसीआई कार्यालय से पार्टी संविधान/ज्ञापन/नियमों की एक प्रति प्रदान करने का अनुरोध किया गया था।

GLIBS WhatsApp Group
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button