GLIBS
छोटे भाई के साथ जा रही युवती का रास्ता रोककर मारपीट, आरोपी गिरफ्तार  

दुर्ग। छोटे भाई के साथ कॉलेज जा रही रही युवती का रास्ता रोककर उसके साथ गाली-गलौज, मारपीट और जान से मारने की धमकी देने वाले युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। युवती घटना स्थल पर पूरे साहस के साथ आरोपी युवक का 

सामना किया और तत्काल घटना की सूचना पुलिस को दी। पीड़ित युवती की शिकायत पर पद्भनाभपुर चौकी पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ धारा 294, 323, 341, 506 के तहत जुर्म दर्ज कर लिया है। पद्भनाभपुर चौकी पुलिस को दी शिकायत में बीएससी फाइनल इयर की छात्रा ने बताया है कि वह साइंस कॉलेज में पढ़ती है। पुलिस के मुताबिक युवती अपने छोटे भाई के साथ कॉलेज जा रही थी। तभी रास्ते में आरोपी अशोक जांगड़े ने उसका रास्ता रोका। युवक ने उससे बात करने की कोशिश की लेकिन युवती ने बात नहीं की। इस पर युवक ने उससे गाली-गलौज करते हुए मारपीट पर उतारु हो गया। प्रभारी पद्भनाभपुर चौकी शिव शंकर गेंदले ने बताया दोनों आपस में रिश्तेदार हैं। उनके मुताबिक उनके बीच कुछ घरेलू विवाद था। 

कृषि मंत्री बृजमोहन के खिलाफ जलकी जमीन विवाद मामले में लगाई गई याचिका खारिज 

रायपुर। कृषि मंत्री  बृजमोहन अग्रवाल के खिलाफ जलकी जमीन मामले में दायर उच्च न्यायालय पिटीशन को मुख्य न्यायाधीश के बेंच ने डिसमिस कर दिया। यह याचिका शहर की पूर्व महापौर व कांग्रेस नेत्री किरणमयी नायक ने लगाई थी। 

याचिका में कहा गया है कि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के परिजनों द्वारा महासमुंद जिले के ग्राम जलकी में वन भूमि को कब्जा करके उसमें रिसार्ट बना लिया गया है। ग्रामीणों ने इसकी शिकायत वन विभाग और शासन से की थी फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

मुजगहन रवाना हुए अजीत जोगी, खेत में लगाएंगे रोपा
खेत चलो अभियान का करेंगे आगाज, चुनाव चिह्न का करेंगे प्रचार-प्रसार
संविदा कर्मचारियों की मांग पर शासन मौन, चिकित्सा व्यवस्था ठप 

रायपुर।  नियमितीकरण की मांग को लेकर स्वास्थ्य विभाग में काम कर रहे संविदा कर्मचारी 16 जुलाई से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। इसकी वजह से   चिकित्सा व्यवस्था ठप हो गई है।  सरकारी अस्पतालों में मरीज व उनके परिजन हलाकान हो गए हैं। इधर अपनी मांगों को लेकर संविदाकर्मी धरना स्थल पर महायज्ञ करने की तैयारी कर रहे हैं। 

Glibs.in की टीम अंबेडकर अस्पताल और जिला अस्पताल पहुंची तो देखा कि अस्पताल में ओपीडी में इलाज कर रहे हैं लेकिन लैब में जांच नहीं हो रही है। 

सरकारी अस्पताल में इलाज कराने वाले मरीजों का डॉक्टर तो इलाज कर रहे हैं। बता दें कि कई विभागों में ताला तक लगा हुआ है ऐसे में मरीजों को इलाज के दौरान काफी परेशानी झेलना पड़ रहा है। Glibs.in ने जब पूरे मामले को लेकर अफसरों से बात किया तो उन्होंने बताया कि संविदा कर्मचारियों की हड़ताल है। इसी वजह से काम-काज ठप है। इधर संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी संघ के प्रदेश महासचिव राजकुमार कुश्वाहा ने बताया कि आंदोलन में अफसरों का साथ भी है लेकिन वे खुले तौर पर सामने नहीं आ रहे हैं। वहीं देखा गया कि संविदा कर्मचारियों के हड़ताल में चले जाने के बाद से नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग में सफाई का काम प्रभावित हो रहा है। नगर निगम में जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र भी बनाने के लिए कर्मचारियों को स्मार्ट कार्ड बनाने की जिम्मेदार स्वास्थ्य विभाग को मिला है, वह भी शहर में नहीं बन रहा है। 

पीएससी मेंस परीक्षा शुरू, 298 पदों के लिए 4760 अभ्यर्थी दे रहे परीक्षा 

भोपाल। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग की मुख्य परीक्षा शुरू हो चुकी है। यह परीक्षा 23 से 28 जुलाई तक ग्वालियर, भोपाल, जबलपुर, इंदौर के संभागीय मुख्यालयों के 13 परीक्षा केंद्रों पर जारी रहेगी। 298 पदों के लिए प्रारंभिक परीक्षा में 4760 उम्मीदवार परीक्षा दे रहे हैं। सोमवार को परीक्षा केंद्र में प्रवेश से पहले अभ्यर्थियों से मोबाइल टोपी घड़ी जूते मौजे उतरवाए दिए गए। महिला परीक्षार्थियों के साथ भी पूरी सख्ती बरती गई। उनके बालों में लगाने का क्लीप, मंगलसूत्र, कान की बालियां और चूड़ियों की भी जांच की गई। 

बता दें कि पीएससी मुख्य परीक्षा में कुल छह पेपर होंगे। इनमें चार प्रश्नपत्र सामान्य अध्ययन से होंगे। चारों प्रश्नपत्र 300-300 अंकों के होंगे। पांचवें पर्चा हिंदी भाषा का होगा। यह 200 अंकों का होगा। आखिरी प्रश्नपत्र निबंध लेखन का होगा। सभी प्रश्नपत्रों के 1400 अंकों में से प्राप्तांक के आधार पर मेरिट सूची बनेगी। मेरिट के आधार पर पदों के मुकाबले तीन गुना उम्मीदवारों का चयन अगले और अंतिम दौर इंटरव्यू के लिए होगा। इंटरव्यू 175 अंकों का होगा। लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के कुल 1575 अंकों के आधार पर अंतिम मेरिट और चयन सूची तैयार की जाएगी।

बारदाना गोदाम में लगी भीषण आग, लाखों का नुकसान

धमतरी। सोमवार की सुबह शांति कॉलोनी चौक में एक बारदाना गोदाम में भीषण आग लग गई। जिसे 6 घंटे बीत जाने के बाद भी नहीं बुझाया जा सका है ।मॉर्निंग वॉक में निकले वार्ड पार्षद नेमीचंद जैन को जब इसकी जानकारी हुई तो तत्काल उसने नगर निगम के फायर कर्मियों को फोन कर इसकी जानकारी दी। मौके पर दमकल की 3 गाड़िया पहुंचकर आग पर काबू करने का प्रयास शुरू कर दिया।

बताया गया है कि यह बारदाना गोदाम अंबिका ट्रेडर्स के प्रोपराइटर मनीष गौरी का है। उन्होंने बताया कि आगजनी में कम से कम 18 से 20 लाख रुपए नुकसान होने की आशंका है। आगजनी लगातार अनवरत जारी है। इसे बुझाने के लिए नगर निगम की दमकल की गाड़ियां लगी हुई है । 6 घंटे बीत जाने के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया जा सका है।

गौरतलब है कि वार्ड वासियों का कहना है कि कल देर रात से ही इस गोदाम से कुछ आगजनी की बदबू उठने लगी थी लेकिन धुँवा नहीं उठने के कारण लोग कुछ समझ नहीं पाया । आज सुबह ही गोदाम की खिड़कियां से धुआं निकलने लगी। रिहायशी इलाका में आगजनी की घटना से कॉलोनी वासियों में हड़कंप मच गया है।

जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल पर, गड़बड़ाई चिकित्सा सेवाएं, मरीजों की बढ़ी मुश्किलें 

भोपाल। भोपाल के हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल समेत सरकारी मेडिकल कॉलेजों से जुड़े दूसरे अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाएं आज से गड़बड़ा गई  हैं।

10 हजार स्टायफंड बढ़ाने की मांग को लेकर जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन बेमियादी हड़ताल पर चले गए हैं। साथ ही सातवें वेतनमान की मांग को लेकर गांधी मेडिकल कॉलेज, हमीदिया अस्पताल और सुल्तानिया अस्पताल के स्वशासी कर्मचारियों ने भी बेमियादी हड़ताल का ऐलान किया है। 5 मेडिकल कॉलेज के करीब 1500 जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर हैं। इसका असर इमरजेंसी सेवाओं पर भी पड़ेगा। अतिरिक्त मुख्य सचिव राधेश्याम जुलानिया ने अधिकारियों और जूनियर डॉक्टरों के साथ मीटिंग बुलाई है। मीटिंग के बाद हड़ताल न करने पर चर्चा की जाएगी। चर्चा असफल रही तो जूनियर डॉक्टरों का आंदोलन और तेज होगा। 

बता दें कि पीजी प्रथम वर्ष, द्वितीय वर्ष व तृतीय वर्ष का स्टायपेंड क्रमश: 45 हजार, 47 हजार और 49 हजार रुपए है। जूडा इसे बढ़ाकर क्रमश: 65 हजार, 67 हजार व 69 हजार रुपए करने की मांग कर रहा है। इसके लिए जूडा का चरणबद्ध आंदोलन कई दिन से चल रहा है। वे अलग ओपीडी चला रहे थे। लेकिन आज से उनकी प्रदेशव्यापी हड़ताल शुरू हो गई। इस हड़ताल से भोपाल हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल में असर दिखने लगा है। 

CH / NEWS
12:03pm

रायपुर। प्रदेश में काम करने वाले स्वास्थ्य विभाग के संविदा कर्मचारियों ने रेगुलर की मांग को लेकर 16 जुलाई से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। इस वजह से स्वास्थ्य चिकित्सा व्यवस्था ठप पड़ी हुई है और इसी वजह से सरकारी अस्पतालों में मरीजों का इलाज नहीं हो रहा है। इधर कर्मचारियों द्वारा आज अपनी मांगों को लेकर धरना स्थल पर महायज्ञ करने वाले हैं। 

24 को वामपंथी पार्टियों का 'प्रतिरोध दिवस', छग में भी होगा विरोध प्रदर्शन

रायपुर। त्रिपुरा में भाजपा-आईपीएफटी गठजोड़ तथा प. बंगाल में तृणमूल कांग्रेस सरकारों द्वारा जनतंत्र की हत्या, मानवाधिकारों के दमन, नागरिक स्वाधीनताओं के हनन और वामपंथ के खिलाफ हिंसा और आतंक की राजनीति किए जाने के खिलाफ पूरे देश में वामपंथी पार्टियों द्वारा 24 जुलाई को देशव्यापी 'प्रतिरोध दिवस' मनाया जायेगा. छत्तीसगढ़ में भी इस दिन विरोध प्रदर्शन आयोजित किए जायेंगे.

यह जानकारी माकपा राज्य सचिव संजय पराते, भाकपा (माले)-लिबरेशन के सचिव बृजेन्द्र तिवारी तथा भाकपा सचिव आरडीसीपी राव ने एक संयुक्त बयान में दी. उन्होंने प. बंगाल व त्रिपुरा में वामपंथ के खिलाफ जारी हिंसा को हमारे देश के संविधान पर हमला करार देते हुए राजनैतिक अभिव्यक्ति, नागरिक स्वाधीनता और मानवाधिकारों के पक्ष में आम जनता को संगठित करने का फैसला किया है.

वामपंथी नेताओं ने बताया कि प. बंगाल में पंचायत चुनावों में वामपंथी कार्यकर्ताओं को नामांकन पत्र तक दाखिल नहीं करने दिया गया और एक-तिहाई से अधिक सीटों पर तृणमूल उम्मीदवारों के निर्विरोध निर्वाचन की घोषणा कर दी गई, जिसे उच्चतम न्यायालय ने भी 'राजनैतिक धांधली' करार दिया है. पंचायत चुनाव में हिंसा में 11 वामपंथी कार्यकर्ताओं को अपनी जान देनी पड़ी है. भांगर में भूमि अधिग्रहण के खिलाफ संघर्ष में तृणमूली गुंडों के हमलों व पुलिस फायरिंग में कई कार्यकर्ताओं को अपनी जान गंवानी पड़ी है. बंगाल में आम जनता के जनवादी अधिकारों व आजीविका पर बड़े पैमाने पर हमले जारी हैं.

उन्होंने कहा कि इसी तरह त्रिपुरा में विधानसभा चुनावों में वामपंथी पार्टियों के 1000 कार्यकर्ता हताहत हुए हैं और 2100 समर्थकों के घरों को लूटा/ध्वस्त किया गया है. वामपंथी पार्टियों और जनसंगठनों के 1000 से ज्यादा कार्यालयों पर हमला कर उन्हें लूटा/जलाया गया है. 500 से अधिक कार्यकर्ताओं को अपने घरों से भगाया गया है. यहां किसी भी प्रकार की राजनैतिक गतिविधियां चलाना असंभव हो गया है. यहां तक कि मई दिवस व मार्क्स की 200वीं जयंती-समारोहों पर भी हमले किए गए हैं. वामपंथी पार्टियों से जुड़े निर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों को इस्तीफ़ा देने के लिए बाध्य किया जा रहा है. प्रशासन पूरी तरह से हमलावरों के साथ में है.

Exclusive: लता मंगेशकर से मिली सरोज पांडे, अमित शाह के साथ पहुंची लता के घर...

रायपुर। संकल्प फॉर समर्थन अभियान के तहत भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर से मुलाकात की। इस मौके पर पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव सरोज पांडे और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस भी साथ थे। सरोज पांडे ने लता को अपने हाथ से तोहफा भी दिया। 

 

 

लता मंगेशकर के मुंबई स्थित घर पहुंचकर शाह और पांडे ने  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विगत चार वर्षों में किये गए महत्वपूर्ण कार्यों की चर्चा की। हम आपको बता दें कि अमित शाह और सरोज पांडे पिछले माह ही लता मंगेशकर से मुलाकात करने वाले थे। लेकिन ऐन मुलाकात के पहले लता ने स्वास्थगत कारणों से अपाइंटमेंट को कैंसिल कर दिया था। तब अमित शाह और सरोज पांडे फिल्म अभिनेत्री माधुरी दीक्षित से मुलाकात कर वापस आ गए थे। इस बार लता से समय मिलने पर भाजपा के शीर्ष नेताओं ने उनसे मुलाकात कर अपने लिए समर्थन मांगा। इस मौके पर महाराष्ट्र भाजपा प्रदेशाध्यक्ष  राव साहेब दानवे पाटिल भी मौजूद थेे। 

रात का भोजन खाते ही पखांजुर के ट्राइबल हॉस्टल की 25 छात्राएं बीमार, अस्पताल में भर्ती

पखांजुर। पखांजुर में स्थित ट्राइबल विभाग के गर्ल्स हॉस्टल में बीती रात को 25 से ज्यादा छात्राओं की तबियत खाना खाने के बाद खराब हो गई। उन्हें सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ट्राइबल विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर केपी ध्रुव ने कहा कि घटना की जांच की जा रही है। जिला प्रशासन लगातार इस घटना पर नजर रखे हुए है। वहीं कुछ छात्राओं का कहना है कि खाने में छिपकली गिर पड़ी थी जिसको निकाला गया। घटना को लेकर कलेक्टर कार्यालय के आला अफसरों ने भी चुप्पी साध रखी है।

क्या है पूरा मामला:

जानकारी के अनुसार रविवार की रात पखांजुर के गर्ल्स हॉस्टल में जैसे ही छात्राओं ने भोजन किया एक के बाद एक कई छात्राओं को उल्टी होने लगी। देखते ही देखते करीब 25 छात्राओं की तबियत खराब हो गई । छात्राओं को तुरंत सिविल अस्पताल पखांजुर में भर्ती कराया गया। वहीं बीमार बच्चों का कहना है कि खाने में छिपकली गिर गई थी।

छात्रावास में मौजूद अन्य छात्राओं के स्वास्थ की जांच ली जा रही है। तो वहीं जिम्मेदारों ने इसको लेकर चुप्पी साध रखी है। कोई इस मामले पर बात नहीं करना चाह रहा है।

Please Wait... News Loading
GLIBS Ads
Visitor No.