GLIBS
Ahmed Patel: कांग्रेस के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष पद से हटाए गए मोतीलाल वोरा, अहमद पटेल  संभालेंगे नई जिम्मेदारी 

रायपुर। राष्ट्रीय कांग्रेस के कोषाध्यक्ष पद पर लंबे समय तक रहे मोलीलाल वोरा को पद से हटा दिया गया है। उनकी जगह इस पर नई जिम्मेदारी गांधी परिवार के विश्वनीय माने जाने वाले अहमद पटेल को दी गई है। आपको बता दें कि अहमद पटेल गुजरात के बड़े नेताओं में गिने जाते है, और वे सोनिया गांधी के सबसे करीबी लोगों में शामिल है। आज कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के फैसला लेने के बाद छत्तीसगढ़ राज्यसभा सांसद मोतीलाल वोरा को कोषाध्यक्ष पद से हटा दिया गया है। श्री वोरा ने लंबे समय तक इस पद पर काम किया है। 

English Medium : सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल में बच्चों व पालकों ने जड़ा ताला

गरियाबंद। जिले के विकास खंड मुख्यालय फिंगेश्वर में संचालित सरकारी बालक शाला इंग्लिस  मीडियम प्राइमरी स्कूल में विगत 2 माह से शिक्षको की कमी को लेकर आज बच्चों के साथ शिक्षको ने ताला जड़ कर स्कूल का बहिष्कार कर दिए है और जमकर शासन प्रशासन के खिलाफ नारे बाजी कर रहे है।

आज सुबह जब बच्चे स्कूल पहुचे तो बच्चों के साथ पहल भी स्कूल पहुचे और लगातार विगत कई माह से शिक्षकों की कमी और बच्चों की भविष्य को देखते हुए स्कूल के गेट में ताला जड़ कर हंगामा शुरू कर दिए।

आनन फानन में पहुंचे अधिकारी

मामले की जानकारी जैसे ही शिक्षा विभाग को मिली मौके पर आनन फानन में जिला शिक्षा अधिकारी एस.एल. ओगरे के साथ विकास खंड शिक्षा अधिकारी अजीत सिंग जाट स्कूल पहुंच कर पालको के साथ चर्चा करते हुए पालको को मनाने की कोशिश में लग गए ।

137 बच्चों पर सिर्फ 4 शिक्षक

फिंगेश्वर के शासकीय बालक शाला इंग्लिश मीडियम प्राइमरी स्कूल में 137 बच्चों की दर्ज संख्या है जिनको पढ़ाने में लिए शासन प्रशासन ने सिर्फ 4 शिक्षक नियुक्त किये है बड़ी हैरानी की बात है जिस हिंदी मीडियम स्कूल को इंग्लिश मीडिया स्कूल में तब्दील किया गया है। वंहा एक भी इंग्लिश मीडियम के शिक्षक नही है और जो शिक्षक है उन्हें शासन प्रशासन द्वारा इंग्लिश पढ़ाने के लिए ट्रेनिग दिया गया है। जो जैसे तैसे बच्चों को इंग्लिश पढ़ाने का काम करते है। 

इंग्लिश मीडियम के पुस्तकें भी काफी लेट में वितरण हुआ

हालात ये है कि इंग्लिश में पुस्तकें भी काफी लेट लतीफ से बच्चों को वितरण किया गया है, बताया जाता है इंग्लिश मीडियम के लिए पुस्तके शिक्षा विभाग में आ चुका था लेकिन विभागी लापरवाही बताया जा रहा है लेट लतीफ वितरण होने का वजह।

पालको को जिला शिक्षा अधिकारी ने दिया आश्वासन फिर खुला स्कूल का ताला

ताला बंदी कि बाद मौके पर पहुचे जिला शिक्षा अधिकारी एस. एल.ओगरे ने मौके पर मौजूद पालको से चर्चा कर एक शिक्षक की व्यकल्पिक व्यवस्था करने की बात कही जिसके बाद पालको ने ताला खोल दिया है और बच्चे पुनः पढाई शुरू कर दिए है ।

सरकार इंग्लिश मीडियम तो संचालित कर दी है पर क्यों शिक्षकों की व्यवस्था नही की आज दो माह बीत जाने के बाद भी शिक्षको के अभाव की वजह से बच्चों की पढ़ाई लगातार प्रभावित हो रहा है। हैरानी की बात यह है इंग्लिश मीडियम में  इंग्लिश मीडियम पढ़ाने वाले शिक्षक ही नही है जो शिक्षक है वो सिर्फ हिंदी मीडिया के ही है जो अपने क्षमता अनुसार बच्चों को इंग्लिश की पढ़ाई करवाते है ।

अगर सरकार समय रहते इंग्लिश मीडियम में शिक्षको की व्यवस्था नही की तो बच्चो की भविष्य में भारी प्रभाव पड़ सकता है जिसका आखिर जिम्मेदार कौन होगा सब से बड़ा सवाल बन कर खड़े हो रहा है ।

 
State Information Commission : राज्य सूचना आयोग कार्यालय 23 अगस्त से नया रायपुर में

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य सूचना आयोग का कार्यालय गुरूवार 23 अगस्त से नया रायपुर के सेक्टर 19 नार्थ ब्लॉक में आयोग के नये भवन में लगेगा। वर्तमान में यह कार्यालय रायपुर में पुराना मंत्रालय के पास लग रहा है। आयोग से संबंधित समस्त कार्य 23 अगस्त से नये कार्यालय में होंगे। 

मुख्य सूचना आयुक्त एमके राउत ने आज यहां बताया कि 23 अगस्त से नया रायपुर के नये कार्यालय में आयोग में प्रस्तुत अपील और शिकायत प्रकरणों की नियमित सुनवाई प्रारंभ कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि अपील और शिकायत प्रकरणों के पंजीयन, सूचना प्राप्ति के लिए आवेदन लेने के कार्य, सूचना पत्रों के आवक-जावक सहित आयोग कार्यालय की स्थापना और लेखा संबंधी सभी कार्य 23 अगस्त से नये कार्यालय में शुरू हो जाएंगे। 

 

Achankamar: अचानकमार टाइगर रिजर्व में चल रहा था मदिरापान, वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर ने टोका तो...

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के अचानकमार टाइगर रिजर्व में खुलेआम शराबनोशी हो रही है, लेकिन वन विभाग के अफसरों को शायद ये नजर नहीं आ रहा है। प्रदेश के जाने-माने वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर सत्यप्रकाश पांडे ने जब ये देखा तो सोशल मीडिया पर अपने शब्दों में बयां किया। पढ़िए सत्यप्रकाश पांडे की जुबानी, पूरी कहानी...

 ये तस्वीर अचानकमार टाइगर रिजर्व के कोर क्षेत्र छपरवा-लमनी के बीच की है। इलाका प्रतिबंधित है, आप इस सड़क मार्ग का आवाजाही में उपयोग तो कर सकते हैं मगर इतने इत्मीनान के साथ बैठकर शराबखोरी नहीं कर सकते। मगर क्या करें जिन्हे जंगल के कायदे, प्रकृति के वसूलों से सरोकार नहीं वे इस तरह के कृत्य को अपना एकाधिकार समझते हैं। पिछले दिनों ये नज़ारा देखकर मैं थोड़ा हैरान हुआ, एक कार जिसमें सवार 5 लोग। दो जमीन पर बकायदा चटाई बिछाकर बाकी कार के भीतर सुरा का रसपान करते जोर-जोर से गाना बजाना कर रहे थे। मैंने गाडी रोकी मना किया, थोड़ा बहस का माहौल भी बना लेकिन मैंने जैसे ही तस्वीरें खींचना शुरू किया सबके होश फाख्ता हो गए। मैंने भी सोच रखा था जो होगा देखेंगे। हालांकि उन्होंने कैमरे को देखते ही शराब चखना और कुछ कचरा वहीँ फेंक दिया। मैंने फिर कहा जो गंदगी जानवरों की सेहत बिगाड़ने के लिए जंगल में छोड़े जा रहे हो उसे साथ लिए जाओ, उन्होंने फेका हुआ कचरा गाडी में रखा और मन ही मन हजारों गालियों से मुझे नवाजते आगे बढ़ गए। 

अचानकमार टाइगर रिजर्व के रास्ते यानी शिवतराई से केंवची-अमरकंटक जाने के रास्ते को पिछले साल बंद कर दिया गया था लेकिन हाईकोर्ट के फैसले के बाद ये रास्ता एक बार फिर से आम जनमानस के लिए खोला गया, नतीजा सामने है। दरअसल वन्यजीवन से प्यार करने वाले इतने सकून से चटाई बिछकर जंगल में शराबखोरी नहीं कर सकते। इस तरह के ना जाने कितने ही लोग हैं जो अलग-अलग तरह के दुष्कृत्यों को अंजाम देने हर रोज जंगल का रुख करते हैं। ऐसे कथित सज्जनों की वजह से उन लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं जो असल में जंगल से रिश्ता रखते हैं। इन सब मामलों में कुछ कमियां विभाग की भी हैं, हालांकि इस घटनाक्रम की जानकारी मैंने विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों को दी है। उन्होंने भरोसा दिलाया है की इस तरह के लोगों पर अब कड़ी निगरानी होगी साथ ही पकडे जाने पर अर्थदंड और कारावास की सजा के लिए न्यायालय भेजा जाएगा। 
इस पोस्ट के माध्यम से मैं उन सभी मित्रों खासकर प्रकृति प्रेमियों से पूछना चाहता हूँ क्या इस तरह की हरकते ठीक हैं ? क्या ऐसे लोगों के चेहरे बेनकाब नहीं होने चाहिए ? ऐसे लोग जंगल, जंगली जानवरों के दुश्मन हैं जो शहर से लायी हुई खाने की चीजों के खत्म होने के बाद कचरा, शराब की खाली होती बोतलों को जंगल में फेंकते हुए आगे बढ़ जाते हैं। बेशक जंगल जाइये, आँख बाहर निकलते तक शराब पीजिये मगर रुककर नहीं कार में चलते-चलते। क्यूंकि जब सरकार ही चाहती है शराब पीकर मस्त रहिये तो पिने में क्या बुराई है। बस ख्याल रहे जंगल को और वन्यजीवन को नुक्सान ना पहुंचे।

 

 

Subrata Sahu : मतदाता सूची में नाम जुड़वाने आज अंतिम दिन, सूची का प्रकाशन 27 सितंबर को होगा- सुब्रत साहू

रायपुर। आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बन रहे मतदाता सूची में नाम जुड़वाने आज अंतिम दिन है। 27 सितंबर को सूची का अंतिम प्रकाशन किया जाएगा। यह जानकारी देते हुए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग नई दिल्ली के निर्धारित कार्यक्रम अनुसार राज्य के शत प्रतिशत मतदाताओं के नाम मतदाताओं की सूची में जोड़ने, अपात्रों के नाम विलोपित करने और 24 नामों को संशोधित करने के लिए मतदाता सूची का संक्षिप्त पुनरीक्षण किया जा रहा है। जिन मतदाताओं की उम्र एक जनवरी 2018 से 18 वर्ष हो गई है या किसी पात्र नागरिक का नाम अभी तक मतदाता सूची में दर्ज नहीं है। ऐसे नागरिकों के लिए 21 अगस्त 2018 नाम जुड़वाने के लिए अंतिम अवसर होगा बता दें कि इसी पुन: निरीक्षण में आधार पर 27 सितंबर 2018 के मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन किया जाएगा। यही मतदाता सूची इस निर्वाचन में मताधिकार प्रदान करेगी। यदि कोई पात्र मतदाता अपना आवेदन उक्त तिथि तक प्रस्तुत ना करें तो भी नामांकन का अंतिम तिथि वह अपना नाम जोड़ें जाने के लिए आॅनलाइन आवेदन एन वी एस पी डॉट इन पर कर सकता है। 

श्री साहू ने बताया कि नाम जोड़ने पात्र नागरिक प्रारूप 6 में आवेदन अभिहित अधिकारी को प्रस्तुत करें। ऐसे में मतदाता जिनकी मृत्यु हो चुकी है या अन्यंत्र स्थानांतरित हो गए हैं, ऐसे नाम मतदाता सूची से हटाने के लिए प्रपत्र साथ प्रस्तुत करें। मतदाता सूची में अंकित प्रवेश के संशोधन हेतु प्रपत्र प्रस्तुत करें इसके अलावा एक ही विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में 1 मतदान केंद्रों के क्षेत्र में दूसरे मतदान केंद्र के क्षेत्र में निवासरत मतदाता अपने क्षेत्र की मतदाता सूची में नाम सम्मिलित किए जाने के लिए प्रारूप 8 क्रमांक में आवेदन पत्र अभिहित अधिकारी को प्रस्तुत कर सकते हैं।

Priyadarshini Congress : बनेगी महिला कांग्रेस की नई विंग ‘प्रियदर्शिनी कांग्रेस’ इंदिरा जयंती पर हो सकती है घोषणा 

नई दिल्ली। इंदिरा गांधी की जयंती पर महिला कांग्रेस की नई विंग प्रियदर्र्शिनी कांगेस का गठन किया जा सकता है। इस विंग में 18 से 30 वर्ष उम्र की युवतियां ही इस विंग में काम करेंगी।  इस नई विंग में कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों की आयु सीमा तय की गई है। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के नाम पर राहुल ने इस विंग को ‘प्रियदर्शिनी कांग्रेस’ नाम दिया है। राहुल गांधी के इशारे पर उनकी टीम ने इसका प्रस्ताव तैयार कर उन्हें सौंप दिया है। माना जा रहा है कि 19 नवंबर को इंदिरा गांधी की जयंती के मौके पर दिल्ली में इसके गठन की घोषणा होगी। 

महिला कांग्रेस की तर्ज पर प्रियदर्शिनी कांग्रेस को राष्ट्रीय स्तर से लेकर ब्लॉक स्तर तक तैयार किया जाएगा। विंग से जुड़ने वाली तेजतर्रार छात्राओं को प्रियदर्शिनी कांग्रेस में राष्ट्रीय स्तर पर जिम्मेदारी दी जाएंगी। महिला कांग्रेस की तरह प्रियदर्शिनी कांग्रेस में भी राष्ट्रीय स्तर पर अध्यक्ष, प्रभारी महासचिव, उपाध्यक्ष, सचिव, कोषाध्यक्ष और सदस्य होंगे। इसी तरह प्रदेश, जोन, जिला, तहसील और फिर ब्लॉक स्तर पर प्रियदर्शिनी कांग्रेस का संगठन तैयार किया जाएगा। युवतियों को प्रियदर्शिनी कांग्रेस से स्कूल, कॉलेजों और यूनिवर्सिटी से जोड़ा जाएगा। 

स्कूल और कॉलेज की उन छात्राओं को, जिनका कांग्रेस और उसकी विचारधारा के प्रति झुकाव है, उन्हें प्रियदर्शिनी कांग्रेस से जोड़ा जाएगा। नियमानुसार प्रियदर्शिनी कांग्रेस में 18 से 30 उम्र की युवतियां काम करेंगे और काम के बदौलत विंग में पद संभालेंगी। 30 साल की उम्र पूरी करते ही उसे महिला कांग्रेस के मुख्य संगठन (जिस स्तर पर वह थी, उसी स्तर पर। यानी अगर वह प्रियदर्शिनी कांग्रेस में ब्लॉक स्तर पर थी, तो महिला कांग्रेस में उसे ब्लॉक स्तर पर ही काम दिया जाएगा।) में भेज दिया जाएगा। इस तरह युवतियों को पार्टी से जोड़ने का सिलसिला लगातार चलता रहेगा। पार्टी सूत्रों का दावा है इसके जरिए जहां महिला कांग्रेस को नई तेजतर्रार नेता मिलेंगी, वहीं उन युवतियों को राजनीति करने का मौका मिलेगा, जिन्हें चाहकर भी राजनीतिक दलों में काम करने का मौका नहीं मिल पाता था। 

महिला नेता का नाम आते ही, धारणा बनती है कि वह शुद्ध भारतीय परिधान यानी साड़ी या शूट (सलवार कुर्ता) पहनेंगी। लेकिन, प्रियदर्शिनी कांग्रेस के प्रस्ताव में इस मिथक को तोड़ा गया है। प्रस्ताव के मुताबिक प्रियदर्शिनी कांग्रेस से जुड़ी युवतियों के ड्रेस कोड में टी शर्ट के साथ जीन्स या ट्राउजर होगा। नीले व काले रंग की जीन्स और ट्राउजर के साथ टी शर्ट का रंग प्रयदर्शिनी कांग्रेस में कार्यकर्ता की वरिष्ठता के आधार पर तय होगा। पार्टी सूत्रों की मानें तो अभी प्रस्ताव में टी शर्ट के रंग तय नहीं किए गए हैं। जल्द इसको लेकर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के साथ उनकी टीम की बैठक में रंगों का तय किया जाएगा। 

CH / NEWS
12:33pm

रायपुर। राज्य में भाजपा की सरकार होने के बाद भी भाजपा पार्षद अपने वार्ड में हुकुमत नहीं चल रहा है। भाजपा पार्षद बीते तीन साल से नाली और सड़क के लिए बिरगांव के महापौर और आयुक्त को पत्र लिख चुके हैं। बावजूद तीन साल में पक्की सड़क तक नहीं बनी, जनता से पीड़ित पार्षद अपनी समस्या कलेक्टर ओपी चौधरी से मिलकर समस्या बताया।  कलेक्टर चौधरी ने आश्वासन देते हुए नाली-सड़क निर्माण करवाने की बात की है। 
 

CH / NEWS
12:24pm

भिलाई समेत रायपुर में डेंगू से 24 मौत हो चुकी है, लेकिन नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने ध्यान नहीं दे रहे हैं। जबकि शहर के खाली प्लाट में बारिश की पानी भर गया है, इसे निकालने के लिए किसी प्रकार से व्यवस्था नहीं की है। जबकि आज रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे डेंगू को लेकर शहर का निरीक्षण भी किया है। 
 

Amit Jogi: जोगी का विजय रथ तैयार, मुंबई के सिद्धी विनायक मंदिर में पूजा-अर्चना कर अमित जोगी ने किया रवाना

रायपुर। अजीत जोगी का विजय रथ तैयार हो गया है। मुंबई में सिद्धि विनायक मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद रथ को अमित जोगी ने रायपुर के लिए रवाना किया। श्री जोगी ने मंदिर में 1008 लड्डूओं का वितरण भी किया। इसके बाद गणपति बप्पा का आशीर्वाद लेकर अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त बस ‘विजय रथ’को रायपुर के लिए रवाना किया गया। 

इस  रथ को 45 दिनों में मुंबई में ईएमटी डिजाइन स्टूडीओ द्वारा तैयार कराया गया है। इसमें अजीत जोगी के लिए आपात-चिकित्सा युक्त किटाणु-रहित शयन कक्ष, रोड- शो के किए विशेष पारदर्शी बैठक कक्ष, और लिफ्ट से बस से ऊपर निकलने वाला विशेष स्टेज बनाया गया है।

 जनता कांग्रेस के संस्थापक अजीत जोगी 23 अगस्त से विजय यात्रा के प्रथम चरण का शुभारंभ बंजारी माता मंदिन से करेंगे। इस यात्रा का समापन 28 अगस्त को रतनपुर के महामाया मंदिर में होगा। इस दौरान अजीत जोगी 12 विधान सभा क्षेत्रों में 150 से अधिक गांव- कस्बों में रोड शो और 40 से अधिक आम सभाओं को संबोधित करेंगे।

 

 

CH / NEWS
12:09pm

रायपुर| कांग्रेस की समन्वय समिति आज शाम तक प्रदेश कांग्रेस कमिटी को रिपोर्ट सौपेंगी | इसमें सभी उम्मीदवारों की कर्मकुंडली होगी। इसी के आधार पर उनके टिकट का फैसला होगा। ऐसे में अब हर कोई समिति के सदस्यों की निगाह में खुद को अच्छे से अच्छा साबित करने में लगा हुआ है। कांग्रेस की पूरी कोशिश है कि जिताऊ उम्मीदवारों को ही मैदान में उतारा जाए। ऐसे में समिति कोई भी चूक करने के मूड में कतई दिखाई नहीं देती। माना तो ये भी जा रहा है कि इसी विश्वास को लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष ने पीसीसी को इसके गठन की जिम्मेदारी सौंपी थी।
 

Please Wait... News Loading
GLIBS Ads
Visitor No.