GLIBS
03-12-2020
तेज रफ्तार ट्रैक्टर ट्रॉली असंतुलित होकर पलटी, दूल्हे सहित 6 की मौत, 15 घायल

खंडवा। मध्यप्रदेश में खंडवा जिले के खालवा थाना क्षेत्र में गुरुवार को महलू गांव के पास बारात लेकर जा रही ट्रैक्टर ट्रॉली अनियंत्रित होकर पलट गई। हादसे में दूल्हा, उसकी मां समेत छह लोगों की मौत हो गई, जबकि 15 लोग घायल हो गए। वही 7 लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है, जिन्हें खंडवा जिला अस्पताल रिफर किया गया है। बताया जाता है कि ट्रैक्टर ट्रॉली तेज रफ्तार में थी। इसी कारण पुलिया के मोड़ पर चालक का संतुलन बिगड़ गया। ट्रॉली अचानक लहराकर पलट गई। जानकारी के अनुसार खालवा के गारबेड़ी से कुंअर सिंह की बारात ट्रैक्टर ट्रॉली से जा रही थी। वाहन में दूल्हे के रिश्तेदारों में महिलाओं, बच्चों समेत करीब 35 लोग सवार थे। रोशनी पुलिस चौकी क्षेत्र के महलू गांव के पास पुलिया से गुजरते समय वाहन का संतुलन अचानक बिगड़ गया। इससे ट्रैक्टर ट्रॉली पलट गई। वाहन में बैठे लोग 15 फीट नीचे नाले में जा गिरे। घटना के बाद वहां चीख-पुकार मच गई। पुलिया के नीचे नाले में पत्थर थे। इन्हीं पर गिरने से लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। हादसे में दूल्हे कुंअर सिंह पिता लल्लूराम की भी मौत हो गई। घायलों को खालवा प्राथमिक चिकित्सालय ले जाया गया, जहां से गंभीर घायलों को खंडवा जिला अस्पताल रिफर कर दिया।

03-12-2020
दिल्ली दौरे से सीधे रायगढ़ पहुंचे भूपेश बघेल,बाबा धाम मंदिर में करेंगे दर्शन 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दिल्ली दौरे से लौटते समय सीधा रायगढ़ पहुंचे। गुरुवार रात्रि 9 बजे रायगढ़ पहुंचने पर उनका आत्मीय स्वागत हुआ। इस दौरान विधायक रायगढ़ प्रकाश नायक,विधायक सारंगढ़ उत्तरी गणपत जांगड़े, विधायक लैलूंगा चक्रधर सिंह सिदार, जिला पंचायत अध्यक्ष निराकार पटेल, महापौर जानकी अमृत काटजू, सभापति जयंत ठेठवार, कलेक्टर भीम सिंह, पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह, एडीएम राजेन्द्र कटारा, सीईओ जिला पंचायत ऋचा प्रकाश चौधरी सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने जिंदल एयर स्ट्रीप में मुख्यमंत्री बघेल का स्वागत किया। बता दें कि मुख्यमंत्री बघेल रायगढ़ में बाबा धाम मंदिर में दर्शन करने जाएंगे। वे रायगढ़ में रात को विश्राम करेंगे। बुधवार देर रात दिल्ली रवाना हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पार्टी के वरिष्ठ  नेताओं से मुलाकात की। वे बैठक में शामिल हुए।

03-12-2020
एमएसपी पर उपज बेचने वाले किसानों की संख्या छत्तीसगढ़ में 94 प्रतिशत से अधिक

रायपुर। एमएसपी यानि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अपनी उपज बेचने वाले किसानों की संख्या छत्तीसगढ़ राज्य में देखे तो यह 94 प्रतिशत से भी ज्यादा है। भूपेश बघेल सरकार की किसान हितैषी नीतियों के कारण पिछले दो साल में छत्तीसगढ़ राज्य में न केवल खेती का रकबा बढ़ा है, बल्कि जो लोग खेती-किसानी को अलाभकारी व्यवसाय मानते हुए इसे छोड़ दिए थे, वो लोग एक बार फिर वापस खेती की ओर अपना रूख कर लिए हैं।छत्तीसगढ़ में 2017 में 76 प्रतिशत किसानों ने एमएसपी पर धान बेचा था। भूपेश सरकार के आने के बाद इसमें आशातीत वृद्धि देखी गई। यह आंकड़ा 2018 में 92.61 और 2019 में 94.02 पहुंच गया है। इस साल राज्य में 2 लाख 48 हजार 171 नए किसानों ने भी पंजीयन कराया है तो यह आंकड़ा इस बार 98 प्रतिशत से भी पार पहुंचने की उम्मीद है। छत्तीसगढ़ में बीते 1 दिसंबर से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी शुरू हो गई है। राज्य में इस साल धान बेचने के लिए 21 लाख 29 हजार 764 किसानों ने पंजीयन कराया है। इनके बोये गए धान का रकबा 27 लाख 59 हजार 385 हेक्टेयर से अधिक है। दो सालों में धान बेचने वाले किसानों का रकबा 19.36 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 22.68 लाख हेक्टेयर और किसानों की संख्या 12 लाख 6 हजार बढ़कर 18 लाख 38 हजार हो गई है।
वर्ष 2017-18 में छत्तीसगढ़ राज्य में समर्थन मूल्य पर 56.85 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हुई थी। दो सालों के दौरान धान खरीदी का यह आंकड़ा 83.94 लाख मीट्रिक टन पहुंच गया। इस साल धान बेचने के लिए पंजीकृत किसानों की संख्या और धान की रकबे को देखते हुए समर्थन मूल्य पर बीते वर्ष की तुलना में ज्यादा खरीदी का अनुमान है। धान उपार्जन के लिए बारदाने की कमी के बावजूद भी राज्य सरकार इसके प्रबंध में जुटी हुई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सत्ता की बागडोर संभालते ही राज्य के 17 लाख 82 हजार किसनों का लगभग 9 हजार करोड़ रुपए का कृषि ऋण की माफी और 17 लाख से अधिक किसानों पर वर्षों से बकाया 244.18 करोड़ रुपए का सिंचाई कर माफ किया है। छत्तीसगढ़ सरकार ने किसानों को उनका हक और उपज का वाजिब मूल्य दिलाने के लिए 21 मई से राजीव गांधी किसान न्याय योजना शुरू की। इस योजना के तहत राज्य के 19 लाख किसानों को 5750 करोड़ रुपए चार किश्तों में दिए जा रहे हैं। अब तक तीन किश्तों में किसानों को 4500 करोड़ रूपए की सीधी मदद दी जा चुकी है।

03-12-2020
कृषि कानूनों के विरोध में किसान सभा ने किया प्रदर्शन, फूंके पुतले

कोरबा। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति सहित 500 से अधिक किसान संगठनों के देशव्यापी आह्वान पर छत्तीसगढ़ किसान आंदोलन से जुड़े छत्तीसगढ़ किसान सभा और छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के साथ जनवादी महिला समिति ने काले कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों के साथ एकजुटता का प्रदर्शन किया। बांकी मोंगरा चौक और बालको में  किसान विरोधी कानूनों का पुतला जलाया। "कॉर्पोरेट भगाओ-खेती-किसानी बचाओ-देश बचाओ" के केंद्रीय नारे पर आंदोलन किया गया। कृषि और बिजली कानून में संशोधन को वापस लेने की मांग की गई। प्रदर्शन को माकपा जिला सचिव प्रशांत झा,माकपा पार्षद राजकुमारी कंवर सूरती कुलदीप, किसान सभा के प्रताप दास, जवाहर कंवर,नन्दलाल कंवर, महिला समिति की प्रदेश संयोजक धनबाई कुलदीप, छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के दीपक साहू, श्रमिक नेता एसएन बेनर्जी,जनक दास ने संबोधित किया। 

 

03-12-2020
एम्स निदेशक ने कहा, जनवरी के पहले सप्ताह तक मिल सकती है देश में कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल की आपात मंजूरी

नई दिल्ली। ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) के निदेशक डॉ.रणदीप गुलेरिया ने उम्मीद जताई है कि इस महीने के अंत तक या अगले महीने की शुरुआत तक भारत में वैक्सीन को इस्तेमाल के लिए आपात मंजूरी मिल जाएगी। गुलेरिया ने कहा कि अब हमारे पास कुछ वैक्सीन फाइनल स्टेज ट्रायल पर हैं। इन्हें जल्द ही सार्वजनिक इस्तेमाल की इजाजत मिल सकती है। एम्स निदेशक ने कहा कि एक बार बूस्टर डोज दिया गया, तो वैक्सीन लोगों के अंदर अच्छी-खासी मात्रा में एंटीबॉडी बनाना शुरू कर देगी, जिससे वे कई महीनों के लिए सुरक्षित हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि अभी यह देखना बाकी है कि वैक्सीन लोगों में किस तरह की प्रतिरोधक क्षमता बनाती है।डॉ.गुलेरिया ने कहा कि अभी हमारे पास काफी मात्रा में डेटा है,जो कहता है कि वैक्सीन सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि वैक्सीन की सुरक्षा और क्षमता से बिल्कुल समझौता नहीं किया जाएगा। अब तक 70 से 80 हजार वॉलंटियर वैक्सीन लगवा चुके हैं। किसी में भी गंभीर समस्या देखने को नहीं मिली। उन्होंने कहा कि शॉर्ट टर्म वैक्सीन काफी सुरक्षित है।
डॉ.गुलेरिया ने कहा कि शुरुआत में वैक्सीन के डोज की आपूर्ति इतनी नहीं होगी कि इसे सभी को दिया जा सके। इसलिए हमें इसकी प्रॉयोरिटी तय करनी होगी। उन्होंने बताया कि जिन पर जान जाने का खतरा ज्यादा होगा, उन्हें पहले वैक्सीन मिलेगी। मसलन पहले से किसी बीमारी वाले बुजुर्गों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन मिलनी चाहिए। डॉ.गुलेरिया ने कहा कि केंद्र और राज्य दोनों ही स्तरों पर वैक्सीन देने की योजना युद्धस्तर पर तैयार की जा रही है।
बता दें कि भारत में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रा जेनेका की वैक्सीन-कोवीशील्ड के फेज-3 के क्लिनिकल ट्रायल्स के नतीजे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आ चुके हैं। इसे भारत में बना रहे सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के सीईओ अदार पूनावाला ने पिछले हफ्ते कहा था कि वे जल्द ही इमरजेंसी अप्रूवल के लिए एप्लाई करने की तैयारी कर रहे हैं। इसके अलावा भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन कोवैक्सिन भी तीसरी स्टेज के ट्रायल जल्द खत्म कर सकती है। इसके अलावा रूस की स्पूतनिक वैक्सीन के ट्रायल की जिम्मेदारी रेड्डीज लैब संभाल रही है। इस वैक्सीन के भी नतीजे आ चुके हैं।

03-12-2020
Breaking: प्रदेश में मिले 1555 कोरोना मरीज, रायपुर से सर्वाधिक केस, 22 मौतें

रायपुर। प्रदेश में गुरुवार को 1555 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई है। अस्पताल से 174 और होम आइसोलेशन से 1599 मरीज डिस्चार्ज हुए हैं। इस तरह से कुल 1773 मरीज स्वस्थ हुए हैं। प्रदेश में कोरोना और अन्य बीमीरियों से आज 17 मौत हुई है। पूर्व की 5 और मौत की जानकारी आज स्वास्थ्य विभाग को मिली है। वर्तमान में 19300 एक्टिव मरीज प्रदेश में है। अब तक 2941 मरीजों की मौत हो चुकी है। यह जानकारी रात 8 बजे की स्थिति में जारी मेडिकल बुलेटिन में मिली है। गुरुवार को 36578 लोगों की जांच हुई है। इनमें राजधानी रायपुर में सर्वाधिक 229 मरीजों की पहचान हुई है। इसी प्रकार दुर्ग जिले से 117, राजनांदगांव से 101, बालोद से 76, बेमेतरा से 46, कबीरधाम से 12, धमतरी से 48, बलौदा बाजार से 68, महासमुंद से 47, गरियाबंद से 19, बिलासपुर से 109, रायगढ़ से 112, कोरबा से 112, जांजगीर-चांपा से 79, मुंगेली से 19, गौरेला पेंड्रा मरवाही से 7, सरगुजा से 46, कोरिया से 40, सूरजपुर से 65, बलरामपुर से 24, जशपुर से 36, बस्तर से 21, कोंडागांव से 43, दंतेवाड़ा से 22, सुकमा से 5, कांकेर से 41, बीजापुर से 6 और अन्य राज्य से 3 मरीज मिले हैं। मेडिकल बुलेटिन देखने यहां क्लिक करें  

 

03-12-2020
एसडीएम ने धान खरीदी केन्द्र में गलत तरीके से धान बिक्री करते व्यक्ति को पकड़ा, ट्रैक्टर और धान जब्त

महासमुंद।  जिले में मंगलवार 1 दिसंबर से धान खरीदी की शुरूआत हुई। दो दिनों में 10 हजार 507 किसानों से 29 हजार 449 मेट्रिक टन धान की खरीदी हुई। जिले में अभियान के पहले दिन चार हजार 971 किसानों से मोटा, पतला तथा सरना 13 हजार 762 मेट्रिक टन धान खरीदी की गई। बुधवार 2 दिसम्बर को 5 हजार 676 किसानों से 15 हजार 687 मैट्रिक टन धान खरीदी केन्द्रों पर की गई। खरीदी केन्द्रों पर जिला प्रशासन की ओर से किसानों के लिए समुचित व्यवस्था की गई थी। जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने खरीदी केन्द्रों का दौरा कर व्यवस्था का जायजा भी लिया जा रहा है। अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) सरायपाली  कुणाल दूदावत ने गुरुवार को धान खरीदी केन्द्र जंगलबेड़ा में गलत तरीके से दूसरे के पट्टे पर धान बिक्री करते हुए एक किसान को पकड़ा। ट्रैक्टर एवं लोडेड धान जब्त किया गया। वहीं एसडीएम महासमुंद सुनील कुमार चंद्रवंशी ने धान खरीदी केन्द्र बम्हनी और पिटियाझर का निरीक्षण किया और किसानों से बातचीत की। जिले के नए और पुराने कुल 137 खरीफ विपणन धान उपार्जन केन्द्र है। इन केन्द्रों में समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी 1 दिसम्बर से 31 जनवरी तक और मक्का की खरीदी 1 दिसम्बर से 31 मई 2021 तक की जाएगी। जिले के एक लाख 40 हजार 35 किसानों ने धान विक्रय के लिए सहकारी समितियों में पंजीयन कराया हैं। इनका कुल रकबा 2 लाख 13 हजार हेक्टेयर से अधिक हैं।

 

03-12-2020
धमतरी जिले में अबतक कुल 6069 संक्रमित की हुई पहचान, कुल हुए 5555 स्वस्थ,मौत का आंकड़ा पहुंचा 95

धमतरी। जिले में आज 48 कोरोना संक्रमित मरीज मिले है,साथ ही 48 लोगों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। बुधवार को मिले संक्रमितों में से धमतरी ग्रामीण से 13, कुरूद ब्लाक से 4, नगरी से 11 , धमतरी शहर से 16 और मगरलोड से 4 संक्रमित मरीज मिले है। जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ डीके तुर्रे ने बताया कि आज धमतरी जिले से 48 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। जिले से 1 संक्रमित व्यक्ति की मौत हुई है जोकि कोरोना संक्रमण और अन्य बीमारियों से ग्रसित था ।जिले में अब तक कोरोना मृतकों की संख्या 95 हो चुकी है।

धमतरी

धमतरी शहर से मिले संक्रमित में आमातालाब रोड से 1, सिटी कोतवाली से 1, गोकुलपुर से 1, गुजराती कॉलोनी से 3, जनपद पंचायत से 1, कर्मा चौक से 2, रामपुर वार्ड से 1, रामसागर पारा से 1, रिसाईपारा से 1,सदर बाजार से 1, शांति कॉलोनी से 1, सिहावा चौक से 1, विवेकानंद कॉलोनी से 1 संक्रमित मरीज की पहचान हुई है।

धमतरी ग्रामीण

गुजरा ब्लॉक की बीएमओ डॉ वंदना व्यास ने बताया की आज 12 संक्रमित मरीजों की पहचान हुई है, जिसमें आमदी से 1, बोरदा एस से 1, धौराभाटा से 2, कसावाही से 1, पंचवटी कॉलोनी से 1, परेवाडी से 1, रुद्री से 4, सारंगपुरी खरेंगा से 1, उडेना से 1 संक्रमित मरीज मिले हैं।

नगरी

नगरी ब्लॉक से मिले संक्रमितों में बनरौद से 2, नगरी से 4, नावागांव से 3, सिंगपुर से 1, कोहीनपारा गेडरा से 1 संक्रमित मिले है।

कुरुद

कुरूद ब्लाक से मिले संक्रमितों में अमृत कॉलोनी से 1, बाजार चौक भेन्द्रा से 1, परसथि से 1, दर्रीपारा भाटागांव से 1 संक्रमित मिले है।

मगरलोड

मगरलोड ब्लाक से कुड़ेल से 1, मगरलोड से 2, मेघा से 1 संक्रमितों मिले है।
जिले में अब तक मिले कुल संक्रमितों की संख्या 6069 हो चुकी है,जिसमें से एक्टिव केस की संख्या 450 है।धमतरी कोविड-19 अस्पताल में 10 और कोविड-19 केयर सेंटर कुरूद में 5 मरीजों का उपचार किया जा रहा है। वही आज 48 लोगों को स्वस्थ्य होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है,कुल 5555 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है।  

 

03-12-2020
विशेषज्ञों की चेतावनी के अनुसार ही बढ़ रहे कोरोना केस, मृत्यु के आंकड़ों में भी इजाफा

रायपुर। विशेषज्ञों की चेतावनी के अनुसार ठंड के मौसम में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं।  इसके साथ ही मृत्यु के आंकड़ों में भी इजाफा हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि यह लोगों की ओर से जांच में देरी करने के कारण हो रहा है। मेकाहारा के क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ डॉ. ओपी सुंदरानी ने कहा कि लक्षण दिखने के 24 घंटे के अंदर ही सभी लोगों को कोरोना जांच करानी चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ  मामलों में ऐसे बुजुर्ग और ऐसे व्यक्ति जिन्हें पूर्व में कोई बीमारी है, वे भी संक्रमण के शिकार हो रहे हैं। जबकि घर से बाहर भी नहीं जा रहे हैं। उनमें घर के अन्य युवा सदस्यों से संक्रमण हो सकता है। युवाओं मे प्रतिरोधक क्षमता अधिक होती है, इसलिए उनमें ये लक्षण नहीं दिखते और अक्सर वे स्वस्थ भी हो जाते हैं। बुजुर्गों को वे संक्रमित कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त ऐसे व्यक्ति जिन्हें पूर्व में कोई बीमारी जैसे सांस की तकलीफ, हृदय की बीमारी, डायबिटीज आदि हो उन्हें भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है। डॉ. सुंदरानी ने कहा कि जल्द जांच कराने और इलाज शुरू होने से रिकवरी की संभावनाएं बढ़ जाती है। वर्तमान में प्रदेश में कुल 1019 शासकीय केन्द्रों  (स्वास्थ्य केन्द्रों, सामुदायिक भवनों और मोबाइल टीम) में कोविड -19 की एंटीजेन जांच ,11 संस्थानों में आरटीपीसीआर की जांच की जा रही है। इसके अतिरिक्त 546 शासकीय केन्द्रों में ट्रू नाट और 660 शासकीय केन्द्रों में आरटीपीसीआर जांच के लिए सेंपल भी  लिए जा रहे हैं।

 

03-12-2020
मुख्य सचिव पहुंचे गौठान,महिला स्व सहायता समूह के कार्यों को सराहा

रायपुर। प्रदेश के मुख्य सचिव अमिताभ जैन ने गुरुवार को जिले के आरंग विकासखंड के ग्राम बैहार पहुंचे। यहां महिला स्व सहायता समूहों के माध्यम से संचालित गौठान का अवलोकन किया। केचुएं, गोबर और पैरा जैसे कृषि अवशेषों की सहायता से बनाए जा रहे वर्मी कम्पोस्ट इकाई का अवलोकन किया।  मुख्य सचिव ने महिलाओं के कार्यों की सराहना की। रूबरू होकर उनके कामकाज और कार्याे की जानकारी ली। मुख्य सचिव ने गौठान के माध्यम से खरीदे गए गोबर और जैविक गोबर खाद के बिक्री की व्यवस्था की जानकारी ली। उन्होंने महिलाओं से उनके काम और इससे मिलने वाले लाभ से खुश होने की जानकारी ली। अधिकारियों ने बताया कि उद्यानिकी, कृषि, वन आदि के विभागों से वर्मी कम्पोस्ट की मांग आ रही है। महिलाओं ने बताया कि उन्हें उम्मीद है कि इससे उन्हें लाभ होगा। मुख्य सचिव ने जिला अधिकारियों से कहा कि गौठान और महिला स्व सहायता समूहों की सफलता का टेस्ट यही है कि समूहों के महिलाओं को उनकी मेहनत और कार्यो से लाभ मिले और उनके राशि जल्दी मिले।

उन्होंने गौठान के कार्यों से जुड़े सबसे छोटे से छोटे कर्मचारियों से भी परिचय प्राप्त किया। विशेषकर महिला कर्मचारियों के गौठान कार्यो के शामिल होने पर प्रसन्नता वयक्त की। उनसे कहा कि वे व्यक्तिगत रूप से महिला स्व सहायता समूह की महिलाओं से चर्चा करते रहें। उनके फिडबैक के आधार पर उन्हें लाभांवित करने का प्रयास करें। सरपंच गीता साहू ने भी कहा कि महिल स्व सहायता के कार्यों से गांव की महिलाओं को अच्छा कार्य मिला है,वे खुश हैं। समिति के अध्यक्ष चंद्रविजय साहू ने गौठान के कार्यों की विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान कलेक्टर डॉ एस. भारतीदासन, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. गौरव सिंह सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

 

Please Wait... News Loading
GLIBS Ads