GLIBS
12-03-2020
दिल्ली हिंसा: पुलिस की बड़ी कार्रवाई, पीएफआई अध्यक्ष परवेज और सचिव इलियास को किया गिरफ्तार
रा
12:33pm

नई दिल्ली। दिल्ली हिंसा मामलों की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गुरुवार को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष परवेज और सचिव इलियास को गिरफ्तार किया है। बता दें कि इन दोनों पर दिल्ली हिंसा भड़काने का आरोप है। स्पेशल सेल ने शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन और पीएफआई के संबंधों की जांच करते हुए दोनों की गिरफ्तारी की है। दोनों से पूछताछ की जा रही है। यह पूछताछ फंडिंग को लेकर भी हो रही है। बता दें कि इलियास दिल्ली के शिव विहार इलाके का रहने वाला है। उसके उपर प्रदर्शनों के दौरान लोगों को फंड मुहैया कराने का आरोप है। पीएफआई के अध्यक्ष परवेज और सचिव इलियास से पहले, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पीएफआई के एक सदस्य दानिश को गिरफ्तार किया था। दानिश को सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान दुष्प्रचार करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। दिल्ली पुलिस ने बताया था कि दानिश पीएफआई के काउंटर इंटेलिजेंस विंग का प्रमुख है और एंटी सीएए प्रोटेस्ट में काफी सक्रिय रहा है। पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि दानिश व उससे जुड़े नेटवर्क के लोग किस तरह से सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन में काम कर रहे हैं। 

 

08-03-2020
सीएए विरोध पर योगी सरकार के कदम से हाई कोर्ट नाराज, पूछा - किस नियम के तहत लगाए गए पोस्टर
12:04pm

लखनऊ। उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में सीएए के विरोध में हुई हिंसा के आरोपियों के पोस्टर लगाए गए हैं। इसको लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने नाराजगी जताई है। इस मामाले में आज रविवार को हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस गोविन्द माथुर सुनवाई करेंगे। चीफ जस्टिस गोविन्द माथुर ने योगी सरकार को नोटिस भी जारी कर दिया है। कोर्ट ने पूछा कि किस नियम के तहत पोस्टर लगाए गए। हाई कोर्ट ने लखनऊ के पुलिस कमिश्नर और डीएम को सुबह अदालत में हाजिर होने का आदेश दिया। चीफ जस्टिस गोविन्द माथुर और जस्टिस रमेश सिन्हा की डिवीजन बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी। गौरतलब है कि रविवार को ज्यादातर आपातकालीन मामलों की सुनवाई होती है। हाई कोर्ट ने इस मामले में भी आपातकालीन सुनवाई का फैसला किया है। आपको बता दें पिछले साल 19 दिसंबर को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नागरिकता कानून के खिलाफ हिंसा हुई थी, जिसमें बड़े पैमाने पर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया था। इसके जवाब में यूपी सरकार ने उपद्रव में शामिल लोगों से नुकसान की वसूली करने का फैसला किया था।

02-03-2020
दिल्ली हिंसा: नाले में मिले 4 शव, मरने वालों की संख्या पहुंची 46
12:41pm

नई दिल्ली। दिल्ली के उत्तरी पूर्वी हिंसा में सोमवार को मरने वाले लोगों की संख्या 46 तक पहुंच गई है। वहीं दिल्ली हिंसा के करीब एक हफ्ते बाद स्थिति शांत पर तनावपूर्ण बनी हुई है। रविवार को गोकलपुरी और शिव विहार इलाके के नाले से चार और शव बरामद किए गए थे। हालांकि पुलिस के अनुसार यह स्पष्ट नहीं कि शवों का संबंध दंगों से है या नहीं। दूसरी ओर दिल्ली में रविवार शाम को कुछ जगहों पर हिंसा की अफवाह फैलने से माहौल तनावपूर्ण हो गया। आग की तरह फैली अफवाह के कारण कुछ जगहों पर बाजार बंद हो गए। कई इलाकों में लोगों ने खुद को घरों में बंद कर लिया, तो कहीं-कहीं लोग लाठी-डंडे लेकर गलियों में पहरा देने लगे। कुछ देर के लिए मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए गए। इस बीच, दिल्ली पुलिस ने कहा कि हालात पूरी तरह नियंत्रण में है और लोग अफवाहों पर ध्यान न दें। इसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली।
 

01-03-2020
शाहीन बाग़ में धारा 144 लागू, प्रदर्शनकारी आज निकालेंगे शांति मार्च
12:14pm

नई दिल्‍ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के विरोध में देश की राजधानी दिल्‍ली के शाहीन बाग इलाके में दो महीने से भी ज्‍यादा वक्‍त से लोग धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच हिन्‍दू सेना ने शाहीन बाग में जवाबी विरोध-प्रदर्शन का ऐलान किया था। हालांकि हिन्‍दू सेना ने 29 फरवरी को इस घोषणा को वापस ले लिया था। इसके बावजूद दिल्‍ली पुलिस ने एहतियातन इलाके में दिनभर के लिए धारा 144 लागू कर दी है, ताकि एक जगह ज्‍यादा लोग इकट्ठा न हो सकें। बता दें कि उत्‍तर-पूर्वी दिल्‍ली में हिंसा के खिलाफ शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने 1 मार्च को ही शांति मार्च निकालने की घोषणा की है। शाहीन बाग मामले में दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर डीसी श्रीवास्तव ने कहा कि एहतियात के तौर पर बड़ी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गई है। पुलिस का मकसद है कि शांति और कानून-व्यवस्था बनी रहे। किसी भी तरह की अप्रत्याशित घटना के लिए पुलिस ने ये तैयारियां

28-02-2020
आईबी कर्मचारी अंकित की बेरहमी से चाकू मारकर की गई हत्या, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा
11:32am

नई दिल्ली। दिल्ली के उत्तरी-पूर्वी हिंसा में मारे गए भारतीय खुफिया एजेंसी के सुरक्षा सहायक मैं तैनात अंकित शर्मा की उपद्रवियों ने बेरहमी से हत्या की थी। गुरुवार को अंकित शर्मा के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि उनके शरीर पर चाकू से बार-बार हमला किया गया था। रिपोर्ट के मुताबिक अंकित के शरीर का कोई भी हिस्सा नहीं बचा, जहां चाकू नहीं मारा गया हो। अंकित की मौत शरीर पर चाकू लगने और बुरी तरह से पीटे जाने से हुई थी। अंकित शर्मा का शव 26 फरवरी को चांदबाग में नाले से मिला था। पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया गया, जिसके बाद उनके पैतृक गांव में अंतिम संस्कार हुआ। आईबी कांस्टेबल अंकित शर्मा का शव गुरुवार शाम उनके पैतृक गांव इटावा ले जाया गया। शहीद अंकित अमर रहे के नारों के बीच उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान प्रशासन की ओर से सलामी दी गई। 

28-02-2020
दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 39, घायलों का इलाज जारी
11:22am

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के मुद्दे को लेकर हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 38 हो गई है। इसमें गुरु तेग बहादुर अस्पताल में 34 लोगों की लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में तीन तथा एक व्यक्ति की जग प्रवेश चंद अस्पताल में मौत हो गई। इस इलाके में तीन दिनों तक हुई हिंसक वारदातों में लगभग 200 लोग घायल हुए हैं, जिसमें से कई लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। फिलहाल हालात नियंत्रण में है और जांच के लिए क्राइम ब्रांच के अंतर्गत एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है। बता दें कि दिल्ली पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी मनदीप सिंह रंधावा ने बताया कि हिंसाग्रस्त इलाकों में समुचित संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात करने के बाद हालात नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि 48 प्राथमिकी अब तक दर्ज की जा चुकी है और तथ्यों की जांच करने के बाद और मामले दर्ज किये जाएंगे। एक हजार से अधिक सीसीटीवी फुटेज मिले हैं, जिसकी जांच की जा रही है। अब तक 106 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। उन्होंने कहा कि इलाके में शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए दिन-रात चौकसी बरती जा रही है।

27-02-2020
सोनिया, मनमोहन ने सौंपा राष्ट्रपति को ज्ञापन, कहा-क्यों मूक दर्शक बनी रही केंद्र सरकार
रा
01:30pm

नई दिल्ली। दिल्ली हिंसा को लेकर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पार्टी के अन्य नेता राष्ट्रपति भवन पहुंचे। इस दौरान सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को ज्ञापन सौंपा। इसके बाद उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से दिल्ली के हालात खराब है और इस सिलसिले में हमने राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा है। उन्होंने कहा कि बीते दिनों पथराव और लोगों की हत्या हुई है। केन्द्र सरकार और दिल्ली की नई सरकार हिंसा पर मूल दर्शक बनी रही। सोनिया ने कहा कि राष्ट्रपति ने आश्वासन दिया है कि केन्द्र सरकार से बात करेंगे और जरूरी कदम उठाएंगे। मनमोहन सिंह ने कहा कि दिल्ली में पिछले चार दिनों में जो हुआ है वह राष्ट्रीय शर्म की बात है। इस हिंसा में 200 से ज्यादा लोग घायल हुए है और यह केन्द्र सरकार की विफलता के चलते हुआ है।

 

27-02-2020
दिल्ली हिंसा के पांचवें दिन मरने वालों की संख्या हुई 32, कई घायल
04:38pm

नई दिल्ली। उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा के बाद गुरुवार को अधिकतर इलाकों में शांति का माहौल है। आज फिलहाल हिंसा की खबर नहीं मिली है। दिल्ली में उपद्रवियों की हिंसा के बाद आज पांचवें दिन मारने वालों की संख्या 32 तक पहुंच गई है। वहीं घायलों की तादाद 200 के पार बताई जा रही है। बता दें कि बुधवार को भारतीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने भी हिंसा वाले इलाके का दौरा कर हालात का जायजा लिया था। भारी संख्या में पुलिस और अर्द्धसैनिक बल की तैनाती के कारण बुधवार को उपद्रवी गायब नजर आए। हिंसा से मरने वालों की संख्या बुधवार को 28 पहुंच गई, जबकि करीब 250 घायलों को उपचार के लिए अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है, जहां 30 से अधिक की हालत नाजुक बताई जा रही है। 

 

26-02-2020
दिल्ली हिंसा के बीच पीएम मोदी का ट्वीट, कहा- जल्द से जल्द हो शांति बहाल
02:48pm

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पहली बार ट्वीट किया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा- दिल्ली के अलग-अलग हिस्से में जो हालात हैं उस पर विस्तृत समीक्षा की। पुलिस और अन्य एजेंसियों शांति बहाली सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है। गौरतलब है कि नागरिकता कानून के पक्ष और विरोधी समूह के बीच बढ़े तकरार के बाद राजधानी दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाके में भारी तनाव का माहौल है। हालांकि, सुरक्षाबलों की भारी तैनाती के बाद काफी हद तक अब स्थिति नियंत्रण में है।

26-02-2020
शाहीन बाग पर आज भी नहीं हुआ फैसला, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- फिलहाल हस्तक्षेप नहीं करेंगे
12:18pm

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ शाहीन बाग में पिछले दो महीने से ज्यादा दिनों से प्रदर्शन चल रहा है। सुप्रीम कोर्ट में शाहीन बाग प्रदर्शन को लेकर बुधवार को एक बार फिर सुनवाई हुई। लेकिन इस सुनवाई का कोई नतीजा नहीं निकल सका। दरअसल सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल इस मामले में हस्तक्षेप नहीं करेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 23 मार्च की तारीख तय की है।
सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि दिल्ली हाईकोर्ट ने हिंसा से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई की है। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह हिंसा से जुड़ी याचिकाओं पर विचार करके शाहीन बाग प्रदर्शनों के संबंध में दायर की गई याचिकाओं के दायरे में विस्तार नहीं करेगा।

 

26-02-2020
दिल्ली हिंसा में मौत का आंकड़ा पहुंचा 18, अजित डोभाल को मिली हिंसा नियंत्रण की जिम्मेदारी
11:26am

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा के बाद बुधवार को हालात सामान्य हैं। बता दें कि दिल्ली के सभी मेट्रो स्टेशन आज खोल दिए गए हैं। वहीं मृतकों की संख्या बढ़कर 18 हो गई है। नागरिकता संसोधन कानून (सीएए) के विरोधियों और समर्थकों के बीच रविवार से भड़की हिंसा ने मंगलवार को उग्र रूप धारण कर लिया। सबसे ज्यादा हिंसा मौजपुर और कर्दमपुरी में हुई। यहां सीएए के विरोधी और समर्थक खुलेआम फायरिंग करते रहे।

अजित डोभाल को मिली हिंसा नियंत्रण की जिम्मेदारी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल को दिल्ली हिंसा को नियंत्रित करने की जिम्मेदारी सौंप दी गई है। वह प्रधानमंत्री और कैबिनेट को दिल्ली के हालात के बारे में जानकारी देंगे। डोभाल ने कल रात जाफराबाद, सीलमपुर और उत्तर-पूर्वी दिल्ली के अन्य इलाकों का दौरा किया था। वहां उन्होंने विभिन्न समुदायों के नेताओं से भी बातचीत की थी। डोभाल ने यह स्पष्ट कर दिया है कि अब राजधानी में कानून व्यवस्था की कोई कमी नहीं होगी। पर्याप्त संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बलों की तैनाती कर दी गई है। पुलिस को स्थिति नियंत्रण के लिए खुली छूट दे दी गई है। गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर उत्तर पूर्वी दिल्ली के कुछ इलाकों में मंगलवार को फिर हिंसा भड़क गई, जहां उपद्रवियों ने पथराव किया, दुकानों में तोड़फोड़, फायरिंग और आगजनी की। कई इलाकों में हालात बेकाबू हो गए, जिसके बाद पुलिस ने उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश दिया। 

 

25-02-2020
दिल्ली में हो रही हिंसा पर स्वरा भास्कर ने किया ट्वीट, लिखा - आगे बढ़ों और पत्थर फेंको, दिल्ली पुलिस के लिए तालियां
02:19pm

नई दिल्ली। सीएए और एनआरसी के विरोध को लेकर दिल्ली के ब्रह्मपुरी और मौजपुर इलाके में तीसरे दिन भी पत्थरबाजी और हिंसक प्रदर्शन जारी है। रविवार से शुरू हुई हिंसा में अब तक एक हेड कांस्टेबल समेत सात लोगों की मौत हो चुकी है। हिंसक प्रदर्शन का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। इस बीच स्वरा भास्कर ने प्रदर्शनकारियों का सपोर्ट करते हुए एक ट्वीट किया है। इसके बाद उनकी आलोचना की जा रही है। स्वरा ने एक ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लिखा है- आगे बढ़ों और पत्थर फेंको... दिल्ली पुलिस के लिए तालियां। कर्तव्य की उपेक्षा के चलते तुमने एक अपने को खोया है। स्वरा यहां शहीद दिल्ली पुलिस के हवलदार रतनलाल की बात कर रही हैं। स्वरा ने जिस ट्वीट का रिप्लाई किया उसमें लिखा था- यहां कुछ समन्वय की स्थिति दिख रही है। "आगे बढ़ो और पत्थर फेंको," एक पुलिसकर्मी कानून के समर्थन में प्रदर्शनकारियों पर चिल्लाते हुए दौड़ रहा है। एक इवेंट के दौरान स्वरा ने ये भी कहा था कि अगर मैं राजनेता होती तो मैं सबसे पहले देशद्रोह का कानून हटाती क्योंकि आज के जमाने में ये बहुत चलन में है। मुझे लगता है आज कल हम देशद्रोह का आरोप ऐसे बांटते हैं जैसे मंदिर में प्रसाद। बता दें कि कुछ समय पहले ही स्वरा भास्कर फिल्म इंडस्ट्री के तमाम कलाकारों के साथ सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन करती नजर आई थी। 

 

Please Wait... News Loading