GLIBS
26-11-2020
प्रदेश को मिली एक और आरटीपीसीआर लैब, अब कुल 11 लैबों में होगी कोरोना की जांच
08:42pm

रायपुर। राज्य शासन के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने एक और लैब को कोरोना संक्रमण की पहचान के लिए आरटीपीसीआर जांच की अनुमति प्रदान की है। इसके साथ ही प्रदेश में अब सैंपलों की आरटीपीसीआर जांच की सुविधा वाले लैबों की कुल संख्या 11 हो गई है। इनमें सात शासकीय और चार निजी क्षेत्र के लैब हैं। प्रदेश में रायपुर स्थित एम्स सहित सभी सात शासकीय मेडिकल कॉलेजों में यह सुविधा है। वहीं निजी क्षेत्र के दो मेडिकल कॉलेजों रिम्स रायपुर एवं श्रीशंकराचार्य भिलाई सहित रायपुर के लाइफवर्थ अस्पताल में भी आरटीपीसीआर जांच की जा रही है। राज्य शासन द्वारा आज रामकृष्ण केयर अस्पताल में भी आरटीपीसीआर जांच की अनुमति दी गई है।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए प्रतिदिन अधिक से अधिक संख्या में सैंपलों की जांच के निर्देश दिए हैं। इसके लिए प्रदेश में जांच की सुविधा लगातार बढ़ाई जा रही है। अब 11 आरटीपीसीआर लैबों के साथ रोजाना आरटीपीसीआर जांच की क्षमता आठ हजार हो चुकी है। कोविड-19 की पहचान के लिए इस पद्धति से जांचे गए सैंपल के परिणाम सबसे सटीक होते हैं। इसमें गलत परिणाम की आशंका सबसे कम होती है। कोरोना संक्रमण की पुष्टि के लिए आरटीपीसीआर जांच को सबसे अच्छा माना जाता है।

प्रदेश में अभी प्रतिदिन 32 हजार सैंपलों की जांच की जा रही है। इसमें ट्रू-नाट पद्धति और रैपिड एंटीजन किट से की जा रही जांच भी शामिल है। जांच की संख्या बढ़ने से पिछले चार सप्ताह में संक्रमण की दर में कमी आई है। 25 नवम्बर को संक्रमण दर (SPR) 5.5 प्रतिशत, 15 नवम्बर को 8.5 प्रतिशत, 01 नवम्बर को 8.6 प्रतिशत तथा 15 अक्टूबर को 10 प्रतिशत दर्ज की गई है।

 

 

26-11-2020
कोरोना का कहर फिर भी लापरवाही, अनाधिकृत दुकान संचालकों पर लगाया दंड,वसूला जुर्माना
08:40pm

भिलाई। त्यौहारी सीजन के निकलने और तापमान में गिरावट आते ही कोरोना वायरस एक बार फिर कहर बरपाने लगा है। इसकी मूल वजह लापरवाही ही है। इसे देखते हुए अपर कलेक्टर व रिसाली नगर पालिक निगम के आयुक्त प्रकाश कुमार सर्वे ने सख्ती बरतने निर्देश दिए है। गुरूवार को अभियान चलाकर निगम अधिकारियों ने कुल 1600 जुर्माना वसूला। रिसाली नगर पालिक निगम क्षेत्र में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ एक बार फिर कार्यवाही की जा रही है। निगम की टीम बाजार क्षेत्र व सार्वजनिक क्षेत्रों में पैनी नजर रख रहे हैं। ऐसे लोगों से जुर्माना वसूल रहे है,जो मास्क लगाने और फिजिकल डिस्टेंस का पालन करने में कोताही बरत रहे हैं। गुरूवार को निगम क्षेत्र में 16 लोगों के खिलाफ कार्यवाही की गई। टीम के सदस्यों ने बाजार क्षेत्र में भ्रमण किया। इस दौरान ऐसे दुकान संचालकों के खिलाफ कार्यवाही की जो बिना अनुमति पंडाल लगाकर व्यापार कर रहे थे। टीम के सद्स्यों ने कुल 1400 रूपए जुर्माना वसूल किया। रिसाली नगर पालिक निगम के आयुक्त प्रकाश कुमार सर्वे ने लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ हर रोज अभियान चलाने के निर्देश दिए है। इसके लिए टीम का गठन किया गया है। टीम में राजस्व निरीक्षक अनिल मेश्राम के अलावा रामेश्वर निषाद, धर्मरक्षक पाठक, टेकराम हरिन्द्रवार, पंकज कुशवाहा शामिल है।

 

26-11-2020
कोरोना के बढ़ते संक्रमण के लिए जिम्मेदार सरकार या खुद हम?
03:36pm

रायपुर। आजकल जगह जगह इतती भीड़ देखने को मिल रही है की काबू करना ही मुशकिल हो गया है। सोशल डिस्टेंसिंग का कोई पालन नहीें कर रहा है न सरकार का बनाया कोई नियम पालन कर रहा। वहीं प्रदेश भर में 1877 लोग से ज्यादा संक्रमित पाए गए हैं। कोरोना के बढ़ते आंकड़े और लोग बिना खौफ के घूम रहे हैं, जैसे उन्हें इसका भय ही नहीं है। केंद्र ने शासित प्रदेशों को कड़ाई से कोरोना वायरस के रोकथाम के उपाय, विभिन्न गतिविधियों पर एसओपी और भीड़ को नियंत्रित करने के लिए अनिवार्य उपाय करने का निर्देश दिया है और साथ ही सरकार ने नाइट कर्फ्यू लगाने के फैसले के लिए राज्य सरकारों को पूरी छूट दे दी है। सरकार अपनी ओर से पूरी कोशिश में लगी है कोरोना को खत्म करने लेकिन लोग क्यों नियम का पालन नहीं कर रहे हैं, क्या उन्हें खुद कि जान कि परवाह नहीं है?

26-11-2020
Breaking: कोरोना मरीज ने एम्स से छलांग लगाकर की आत्महत्या, कारण अज्ञात  
03:14pm

रायपुर। राजधानी रायुपर स्थित एम्स अस्पताल में कोरोना मरीज ने छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली। कोरोना मरीज जांजगीर निवासी बताया जा रहा है। मिली जानकारी के अनुसार कोरोना मरीज एम्स की दूसरी मंजिल से छलांग लगाई है। घटना की जानकारी मिलते ही आमानाका पुलिस मौके पर पहुंची है। कोरोना पीड़ित को लेकर पूरी जानकारी सामने नहीं आई है, साथ ही इस बात का भी पता नहीं चल पाया है कि उसने आत्मघाती कदम क्यों उठाया है। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

 

26-11-2020
प्रदेश में बढ़ी टेस्टिंग, कोरोना की रफ्तार कुछ कम, मौत के आंकड़े चिंताजनक
12:22pm

रायपुर। छत्तीसगढ़ में टेस्टिंग की संख्या बढ़ा दी गई है। इन दिनों अधिकाधिक संख्या में टेस्ट हो रहे हैं। कुल टेस्ट की संख्या के 10 प्रतिशत मरीज भी नहीं मिल रहे हैं। पिछले 24 घंटे में बुधवार को 33842 लोगों की जांच की गई। इनमें 1877 नए पॉजिटिव केस मिले। मौत का आंकड़ा 2783 पहुंच चुका है, जो चिंताजनक है। देर रात जारी मेडिकल बुलेटिन में एनआईसी के पोर्टल में तकनीकी समस्या के कारण स्वस्थ हुए मरीजों का आंकड़ा नहीं मिल सका। बुधवार की स्थिति में प्रदेश 229203 कोरोना केस मिल चुके हैं। इनमें 201744 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।पिछले 24 घंटे में 11 मरीजों की मौत हुई है। पूर्व की 5 और मौत की जानकारी विभाग को मिली है। प्रदेश में रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव, बिलासपुर, रायगढ, कोरबा, जांजगीर-चांपा में सर्वाधिक मरीजों की पहचान हुई है। मेडिकल बुलेटिन देखने यहां क्लिक करें

 

25-11-2020
मोबाइल मेडिकल यूनिट का लोगों ने लिया लाभ,कराया स्वास्थ्य परीक्षण,निगम आयुक्त ने देखी व्यवस्था
07:41pm

भिलाई। निगमायुक्त ऋतुराज रघुवंशी निरीक्षण के लिए अचानक जोन क्रमांक 3 अंतर्गत बैकुंठ धाम के पास मोबाइल मेडिकल यूनिट के द्वारा लगाए गए स्वास्थ्य शिविर पहुंचे। रघुवंशी ने शिविर का निरीक्षण करते हुए आए हुए मरीजों की संख्या, चिकित्सकों से दवाई की उपलब्धता, मरीजों को प्राप्त होने वाली दवाई एवं पर्ची, संगठित असंगठित, भवन व अन्य संनिर्माण कर्मकारो की पंजीयन की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने जोन आयुक्त प्रीति सिंह को बैठक की उचित व्यवस्था तथा सोशल डिस्टेंस को लेकर निर्देश दिए। निगम क्षेत्र के तीन स्थानों पर आज स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया था। तीनों स्वास्थ्य शिविर में 157 लोगों ने स्वास्थ्य लाभ लिया। बैकुंठ धाम दुर्गा सांस्कृतिक मंच के पास लगाए गए स्वास्थ्य शिविर में 88 लोगों ने अपना स्वास्थ्य परीक्षण कराया, जिसमें से 80 लोगों को दवाई वितरण किया गया तथा 8 लोगों का लैब टेस्ट किया गया।

जोन क्रमांक 1 के नेहरू नगर क्षेत्र में मॉडल टाउन हनुमान मंदिर के पास स्वास्थ शिविर का आयोजन किया गया था,जिसमें 25 लोगों ने स्वास्थ्य परीक्षण कराया, 5 लोगों का लैब टेस्ट किया गया 18 लोगों को नि:शुल्क दवाई वितरण किया गया। दाई दीदी क्लीनिक में महिलाओं का काफी उत्साह देखने मिल रहा है जोन क्रमांक 4 के वार्ड 30 बालाजी नगर में दाई-दीदी क्लीनिक के माध्यम से महिलाओं को स्वास्थ्य लाभ दिया गया। इस शिविर में 44 महिलाओं ने अपना इलाज कराया 10 महिलाओं का लैब टेस्ट किया गया तथा 30 महिलाओं को नि:शुल्क दवा वितरण किया गया। डायग्नोसिस सेंटर के लिए स्थल का निरीक्षण निगम क्षेत्र में डायग्नोस्टिक सेंटर खोले जाने को लेकर आज निगमायुक्त ऋतुराज रघुवंशी ने जोन क्रमांक 4 के अंडा चौक के समीप, जोन क्रमांक 3 के बैकुंठधाम के पास स्थित भवन, तथा जोन क्रमांक 1 के प्रियदर्शनी परिसर आश्रय स्थल स्थित भवन का निरीक्षण किया। उपायुक्त तरुण पाल लहरें ने बताया कि डायग्नोसिस सेंटर भिलाई निगम क्षेत्र में खोला जाना है,जिसके लिए भवन का चयन किया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान उपायुक्त अशोक द्विवेदी, जोन आयुक्त अमिताभ शर्मा एवं सुनील अग्रहरि मौजूद रहे।

 

25-11-2020
कांकेर जिले में 25 नए कोरोना मरीजों की पहचान, 2 की मौत
07:10pm

कांकेर।  जिले में बुधवार को 25 नये कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है। वहीं स्वास्थ्य विभाग ने दो मौत की पुष्टि की है।  25 नये कोरोना संक्रमित मरीजों में ग्रामीण क्षेत्र से 21 एवं शहरी क्षेत्र से 4 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। वहीं कांकेर विकासखण्ड की एक 57 वर्षीय महिला एवं भानुप्रतापपुर विकासखण्ड से एक 46 वर्षीय पुरुष की मौत होने की पुष्टि स्वास्थ विभाग द्वारा की गई है। आज जारी बुलेटिन में कांकेर से 5, अन्तागढ़ से 1, भानुप्रतापपुर से 5, चारामा से 9, दुर्गुकोंदल से 1, नरहरपुर से 3, कोयलीबेड़ा से 1 नये कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान हुई है।

 

25-11-2020
अस्पताल पहुंचने में देर न करें मरीज,स्वास्थ्य विभाग ने की अपील
06:52pm

रायपुर। राज्य में कोरोना संक्रमण के केस बढ़ रहे हैं। इसके पीछे एक बड़ी वजह लोगों की लापरवाही सामने आ रही है। स्वास्थ्य विभाग बार-बार अपील कर रहा है कि लोग जांच कराने और अस्पताल पहुंचने में देरी न करें।  इससे राज्य में मृत्यु दर कम की जा सके। अधिकारियों ने बताया कि जशपुर जिले के 60 वर्ष के पुरूष को 1 नवंबर से कफ और कमजोरी के लक्षण दिख रहे थे। सात नवंबर को उनका रायगढ़ में एंटीजेन टेस्ट कराया गया। टेस्ट में निगेटिव आने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती होने के लिए कहा गया, लेकिन वो नहीं माने। वापस जशपुर चले गए। रात को तबीयत बिगड़ने पर अंबिकापुर शासकीय अस्पताल में ले गए लेकिन भर्ती नहीं हुए। 8 नवंबर को फिर रायगढ़ अस्पताल ले जाने के दौरान ही उनकी मृत्यु हो गई। डेथ ऑडिट में यह बात सामने आई कि यह मरीज की लापरवाही के कारण हुआ।  यदि चिकित्सक की सलाह पर वे भर्ती हो जाते तो उनकी जान बच सकती थी।

 

Please Wait... News Loading