GLIBS
22-02-2020
कोरोना वायरस: विमान को मंजूरी देने में देरी कर रहा है चीन, भारतीयों की वापसी पर संकट
02:41pm

नई दिल्ली। चीन में कोरोना वायरस अपना कहर बरपा रहा है। एक ओर जहां चीन के वुहान प्रांत में कोरोना से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। वहीं चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत की ओर से मुहैया कराए जा रहे सहायता लेने के इच्छुक नहीं हैं। दरअसल कोरोना वायरस से प्रभावित चीन के वुहान प्रांत जाने के लिए भारतीय वायुसेना का सी-17 ग्लोबमास्टर तैयार है। लेकिन अभी तक चीन की तरफ से इस विमान को मंजूरी नहीं दी गई है। मिली जानकारी के अनुसार चीन जानबूझकर भारतीय विमान को मंजूरी नहीं दे रहा है।बता दें कि भारत ने 17 फरवरी को एलान किया था कि वायुसेना का सबसे बड़ा सी-17 ग्लोबमास्टर विमान मेडिसिन लेकर चीन जाएगा। यह विमान वापसी में न केवल भारतीय बल्कि वहां फंसे पड़ोसी देशों के नागरिकों को भी लेकर आएगा। लेकिन इस विमान को उड़ान भरने को लेकर चीन ने अभी तक हरी झंडी नहीं दिखाई है।

इस महीने की शुरुआत में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को लिखे पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि भारत कोरोना वायरस की चुनौती से निपटने में चीन के लोगों और सरकार के प्रति एकजुट है और देश को सहायता मुहैया कराने की पेशकश दी। मामले से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि मुसीबत की घड़ी में दूसरों की मदद करने के हमारे लोकाचार को देखते हुए राहतसामग्री की पेशकश की गई जबकि भारत में खुद इनकी भारी कमी है। जिन सामान की आपूर्ति की जानी है उनमें दस्ताने, सर्जिकल मास्क, फीडिंग पम्प और डिफिब्रिलेटर्स हैं जिनकी आवश्यकता चीन ने जताई थी। एक अनुमान के मुताबिक, वुहान में अभी 100 से अधिक भारतीय रह रहे हैं। कई देशों ने चीन से अपने नागरिकों को निकाल लिया है और वहां कोरोना वायरस के मद्देनजर लोगों और सामान की आवाजाही पर रोक लगा दी है।

 

21-02-2020
चिकन में कोरोना वायरस की अफवाह फैला रहे शरारती तत्व, पोल्ट्री उत्पाद में आ रही कमी 
10:38am

धमतरी। जिले में कोरोना वायरस को लेकर शरारती तत्वों की ओर से अफवाह फैलाई जा रही है। इससे पोल्ट्री उत्पाद में कमी आ रही है। पोल्ट्री एसोसिएशन की ओर से कारोना वायरस के लिए कुछ शरारती तत्वों द्वारा गलत फहमी के खिलाफ एक आवश्यक मीटिंग बुलाई गई। इसमें कुछ महत्वपर्ण बिंदु पर विचार विमर्श कर निर्णय लिया गया है और कलेक्टर से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपा जायेगा। ज्ञापन में कहा जाएगा कि कारोना वायरस से पोल्ट्री उत्पाद पर कोई भी असर नहीं पड़े, भारत सरकार ने कोरोना वायरस से चिकन को पूरी तरह सुरक्षित माना है। चिकन खाने से किसी भी प्रकार का कोई भी नुकसान नहीं है। आसपास के इलाकों में लाउडस्पीकरों की सहायता से प्रचार किया जाएगा। साथ ही चिकन महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। बैठक में मुख्यरूप से अशोक चारवानी, शकीलअहमद, अनिल कामरानी, संजीव यादव, शेखरसिन्हा, सोहन चक्रधारी, शमीम क़ुरैशी, अशोक सिन्हा, महिपाल सोनी, अब्दुल हमीद, जावेद उमर, हीरा सोनकर, मो. असलम, नदीम रोकड़िया आदि उपस्थित थे। उपरोक्त मीटिंग में दुर्ग जिले के फार्मर डब्बू चन्द्राकर व पप्पू प्रफुल्ल चन्द्राकर भी शामिल हुए।

19-02-2020
स्वास्थ्य विभाग ने की अपील : अफवाहों पर ध्यान न दें, छत्तीसगढ़ में कोई भी कोरोना वायरस से प्रभावित नहीं
07:04pm

रायपुर। छत्तीसगढ़ में अभी तक कोरोना वायरस से प्रभावित कोई भी मरीज नहीं मिला है। चीन से लौटे लोगों और कोरोना वायरस पीड़ित से मिलते-जुलते लक्षणों वाले कुछ मरीजों के सैंपल जांच के बाद किसी के भी इससे प्रभावित होने की पुष्टि नहीं हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने लोगों से अपील की है कि वे किसी भी तरह की अफवाहों और बेबुनियाद खबरों पर ध्यान न दें। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कोरोना वायरस के लक्षणों के बारे में जानकारी देते हुए लोगों को इससे जागरूक रहने को कहा है। उन्होंने बताया कि इसके वायरस से प्रभावितों में तेज बुखार, खांसी और सांस लेने में दिक्कत जैसे लक्षण होते हैं। कई मरीजों को निमोनिया या किडनी फेलियर भी होता है जिससे उनकी जान भी जा सकती है। अभी तक कोरोना वायरस से बचाव का कोई टीका उपलब्ध नहीं है। इससे बचाव का सबसे अच्छा तरीका इसके संक्रमण से बचना है।

डॉक्टरों ने प्रभावित देशों जहां यह रोग पाया गया है, वहां नहीं जाने की सलाह दी है। उन्होंने व्यक्तिगत स्वच्छता पर ध्यान देने, साबुन से बार-बार हाथ धोने और खांसते एवं छींकते समय मुंह को ढंक कर रखने कहा है। जिन देशों में यह वायरस फैला है उसकी जानकारी विश्व स्वास्थ्य संगठन की वेबसाइट www.who.int पर उपलब्ध है। कोरोना वायरस या COVID-19 एक नया वायरस (विषाणु) है जो पहली बार चीन के हुबेई प्रांत के वुहान शहर में पाया गया है। कोरोना वायरस विषाणुओं का एक बड़ा समूह है जिनमें से कुछ लोगों को रोगग्रस्त करते हैं और कुछ पशुओं में घर करते हैं। शुरुआत में चीन के वुहान शहर में संक्रमित रोगियों का सम्बन्ध वहां के बड़े सी-फूड और पशु बाजार से पाया गया। इससे यह संकेत मिले कि इस वायरस का स्रोत पशु हो सकता है।

 

19-02-2020
चीन में कोरोना का कहर, मरने वालों की संख्या पहुंची 2 हजार के पार
10:58am

नई दिल्ली। चीन में कोरोना वायरस अपना कहर बरपा रहा है। कोरोना से चीन में हर दिन लोगों की मौत हो रही है। चीन के हुबेई प्रांत में कोरोना वायरस से पिछले 24 घंटों में 136 लोग मारे गए और इससे मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 2000 पार हो गया है। इसके कुल 74,185 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने बताया कि इससे मरने वालों की संख्या 2,004 हो गई है। वहीं इसके 1,749 नए मामले सामने आए हैं। चीन में कोरोना वायरस ने आतंक मचा रखा है। कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। आयोग ने कहा कि जिन 136 लोगों की जान गई उनमें से 132 हुबेई में जबकि हेइलोंगजियांग, शानदोंग, गुआंगदोंग और गुइझोऊ में एक-एक व्यक्ति मारे गए। आयोग ने बताया कि इसके 1,185 नए संदिग्ध मामले सामने आए हैं। मंगलवार को 236 मरीजों की हालत काफी गंभीर थी, जबकि 1,824 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। गौरतलब है कि पिछले वर्ष दिसंबर में चीन के वुहान में कोरोना वायरस का पहला सामने आया था जिसके बाद यह 25 से ज्यादा देशों में फैल गया।

 

17-02-2020
भारत ने ढूंढ़ी कोरोना की दवा, तीन संक्रमित मरीज हुए ठीक, अब चीन की करेगा मदद 
12:26pm

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। वहीं भारत ने कोरोना वायरस पर बड़ी सफलता हासिल कर ली है। कोरोना वायरस से संक्रमित तीनों भारतीयों का संक्रमण खत्म हो गया है। केरल में कोरोना वायरस से संक्रमित तीसरे मरीज की स्थिति में सुधार होने के बाद उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। इससे पहले केरल के दो मरीजों को कोरोना वायरस से सही होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई थी। इसमें एक का इलाज कसारगोड के कंझनगढ़ सरकारी अस्पताल में चल रहा था, जबकि दूसरे छात्र का अलप्पुझा मेडिकल कॉलेज में अस्पताल चल रहा था। दोनों के सेहत में सुधार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। 

चीन में कोरोना वायरस के बढ़ते मामले को देखते हुए भारत वहां चिकित्सा सामग्रियों की एक स्टॉक भेजेगा। चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिस्री ने रविवार को ट्विटर पर लिखा, चिकित्सा सामग्रियों की एक स्टॉक भेजेगा और मुश्किल घड़ी से निकलने में चीन की मदद करेगा। यह एक मजबूत उपाय है, जो चीनी लोगों के साथ भारत और यहां के लोगों की एकजुटता, दोस्ती और सद्भावना को प्रदर्शित करेगा। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि चीन नए कोरोना वायरस का मजबूती से मुकाबला कर रहा है और उसे विश्वास है कि जल्द ही इस संकट से देश बाहर निकल आएगा। वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेद्रोस अदहानोम घेब्रेसस ने नए कोरोना वायरस से मुकाबला करने में चीन की कोशिशों की तारीफ की।

15-02-2020
कोरोना का कहर, चीन में मरने वालों की संख्या 1500 से अधिक पहुंची
02:16pm

नई दिल्ली। चीन में कोरोना वायरस अपना कहर बरपा रहा है। जिसके कारण चीन में लोगों की मौत का आंकड़ा तेजी से बढ़ते जा रहा है। जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार कोरोना वायरस संक्रमण के कारण चीन में मरने वालों की संख्या 1500 से अधिक हो चुकी है।  इस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 66 हजार से अधिक हो गई है। इस संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित हुबेई प्रांत के लोग हुए है। चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस अब दुनिया के कई शहरों तक पहुंच चुका है।

 

14-02-2020
चीन के हुबेई प्रांत में कोरोना का बढ़ा कहर, मरने वालों की संख्या 1500 के करीब
12:15pm

 

नई दिल्ली। चीन में कोरोना वायरस अपना कहर बरपा रही है। चीन के हुबेई प्रांत में कोरोना वायरस से 116 लोगों की मौत के साथ ही इस महामारी के कारण देश में मरने वालों की संख्या 1,483 पर पहुंच गई। स्वास्थ्य अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। प्रांतीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि गुरुवार को हुबेई में कोरोना वायरस के 4 हजार 823 नए मामले सामने आए। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या नहीं बताई है। गुरुवार को आयोग ने घोषणा की कि चीन के हुबेई प्रांत में घातक कोरोना वायरस से एक ही दिन में रिकॉर्ड 242 लोगों की मौत हो गई।

13-02-2020
कोरोना पर ट्वीट करना राहुल गांधी को पड़ा भारी, सोशल मीडिया पर लोगों ने किया ट्रोल
रा
01:25pm

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी एक बार फिर अपनी गलती को लेकर ट्रोल हो गए हैं। दरअसल कोरोना वायरस को लेकर बुधवार को किए गए एक ट्वीट में राहुल ने जम्मू-कश्मीर के एक हिस्से को पाकिस्तान के हिस्से के तौर पर दिखा दिया। इसके बाद सोशल मीडिया यूजर्स ने राहुल को ट्रोल करना शुरू कर दिया। जिसके बाद राहुल ने वह ट्वीट डिलीट कर दिया।
राहुल ने कहा कि कोरोना वायरस हमारे लोगों और हमारी अर्थव्यवस्था के लिए बहुत ही गंभीर खतरा है। मेरे हिसाब से सरकार इस खतरे को गंभीरता से नहीं ले रही है। समय पर कदम उठाने की जरूरत है। यहां तक तो ठीक था, लेकिन उन्होंने इस ट्वीट के साथ विश्व का नक्शा शेयर किया जिसमें भारत से कश्मीर को अलग दिखाया गया है। इस नक्शे में जम्मू-कश्मीर के एक हिस्से को पाकिस्तान के हिस्से के रूप में दिखाया गया है। इसे लेकर राहुल गांधी ट्रोल हो गए। राहुल के इस ट्वीट के बाद ट्विटर यूजर्स ने राहुल को निशाने पर लेना शुरू कर दिया। कुछ देर बाद राहुल ने यह ट्वीट डिलीट कर दिया और एक न्यूज स्टोरी के साथ दूसरा ट्वीट किया।

13-02-2020
कोरोना के कारण कैंसल हुआ दुनिया का सबसे बड़ा टेक इवेंट, जानें क्या है मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस
12:09pm

नई दिल्ली। कोरोना वायरस चीन के बाद अब दुनियाभर में तेजी से फैल रहा है। अब इस वायरस का असर टेक इंडस्ट्री पर भी पड़ा है। चीन के बाद दुनियाभर में फैल रहे कोरोना वायरस के खतरे का असर टेक्नॉलजी इंडस्ट्री पर भी पड़ रहा है। इस वायरस की वजह से बार्सिलोना में होने वाला दुनिया का सबसे बड़ा टेक इवेंट MWC 2020 भी कैंसल करना पड़ गया। MWC (मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस) इवेंट 24 फरवरी से 27 फरवरी के बीच आयोजित होना था। दरअसल, कोरोना वायरस के खतरे के कारण इस इवेंट में एक के बाद एक कई दिग्गज कंपनियों ने आने से मना कर दिया था, जिसके बाद GSM असोसिएशन ने इस साल के इवेंट को कैंसल करने का फैसला किया है।

जनिेए क्या है मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस
मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस का आयोजन हर साल फरवरी में स्पेन के बार्सिलोना में होता है। यह दुनिया में टेलिकॉम सेक्टर का सबसे बड़ा इवेंट है। स्पॉन्सर्स सहित कई बड़ी और छोटी कंपनियां पहले से ही इस इवेंट में हिस्सा नहीं लेने का एलान कर चुकी हैं। हाल ही में वोडाफोन ने भी कहा था कि 'कंपनी कोरोना वायरस से जुड़ी रिपोर्ट्स की निगरानी कर रही है। कंपनी ने वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की ओर से हाल में जारी हुई चेतावनी को देखने के बाद इस साल MWC में शामिल नहीं होने का फैसला किया है।' इससे पहले नोकिया, HMD ग्लोबल, LG, वीवो, सोनी, ऐमजॉन, टानला सलूशंस और कुछ अन्य कंपनियां MWC से हटने की घोषणा कर चुकी थीं। इस टेक इवेंट में 1 लाख से ज्यादा विजिटर्स आने वाले थे, जिनमें चीन के 5000 से 6000 विजिटर्स शामिल होते।



 

12-02-2020
कोरोना की आंशका ने ली किसान की जान, सर्दी-बुखार से था पीड़ित
04:24pm

नई दिल्ली। चीन में कोरोना वायरस अपना कहर बरपा रहा है। इस वायरस से मरने वालों की संख्या 1 हजार से अधिक पहुंच गई है। कोरोना का भय लोगों के मन में इस कदर बस गया है कि लोग डर के मारे लोग अब आत्महत्या करने लगे हैं। दरअसल, आंध्र प्रदेश के चित्तूर में एक शख्स के मन में कोरोना वायरस का खौफ इस कदर बैठा कि उसने आत्महत्या ही कर ली।
चित्तूर जिले के एक शख्स ने मंगलवार को इस वजह से आत्महत्या कर ली, क्योंकि उसे डर था कि वह शायद कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुका है। 50 साल के मृतक का शव मां की कब्र के पास स्थित पेड़ से लटका मिला। उसके परिवार ने कहा कि उसे खतरनाक कोरोना वायरस से संक्रमित होने का डर था, जिसकी वजह से उसने यह कदम उठाया। मृतक चित्तूर जिले के थोट्टमबेडू गांव के सेशमानायडू कंदृगा का किसान था।
मृतक के बेटे ने बताया कि उसके पिता 1 फरवरी से सर्दी-बुखार से पीड़ित थे। 5 फरवरी को वह रुइया अस्पताल गए थे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें कहा था कि वह यूरिनरी ट्रैक्ट संक्रमण से भी पीड़ित हैं। डॉक्टरों ने उन्हें दवा दी और सर्दी-जुकाम किसी को न फैले इसके लिए उन्हें मास्क पहनने को कहा। बेटे ने आगे कहा कि जब दवा खाने के बाद भी बुखार और सर्दी से निजात नहीं मिला तो उनका झल्लाना शुरू हो गया। उन्हें लगा कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं। बेटे ने कहा कि मेरे पिता को डर था कि यह वायरस कहीं हम लोगों तक न पहुंच जाए। इसलिए उन्होंने हमें बचाने के लिए खुद फांसी लगा ली। बता देंकि तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस का एक भी मामला सामने नहीं आया है।


 

09-02-2020
कोरोना वायरस : रिसर्च में हुआ खुलासा, चमगादड़ या सांप से नहीं बल्कि इस जीव से फैला वायरस
04:54pm

बेंगलुरु। चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या करीब 772 तक पहुंच चुकी हैं । वहीं, इस विषाणु से संक्रमित होने के अब तक करीब 34,546 से ज्यादा मामलों की पुष्टि हुई है। अभी तक यह माना जा रहा था कि चाइना के वुहान से फैला कोरोना वायरस चमगादड़ या सांप से मनुष्‍यों में फैला है। लेकिन चाइना के वैज्ञानिकों द्वारा हाल ही में किए गए शोध में कुछ और ही सच का खुलासा हुआ हैं। हाल ही में वैज्ञानिकों के द्वारा की गई खोज में यह बात सामने आई है कि कोरोना वायरस सांप या चमगादड़ से नहीं बल्कि पैंगोलिन नामक वन्‍य जीव के कारण मनुष्‍यों में फैला हैं। साउथ चाइना एग्रीकल्‍चर विश्वविद्यालय ने अपनी वेबसाइट पर ये खुलासा किया है। विवि ने अपनी वेबसाइड पर जारी बयान में कहा कि है कोरोना वायरस पर उनके द्वारा की गई रिसर्च के अनुसार कोरोना वायरस की रोकथाम और नियंत्रण किया जा सकता है।

पैंगोलिन के जरिए मनुष्‍य में यह बीमारी आई है। बता दें चाइना के वैज्ञानिकों की रिसर्च के अनुसार कोरोना के स्ट्रेन का जीनोम,पैंगोलिन से मिले जीनोम से 99 प्रतिशत मिलता है। इस खोज में पता चला है कि कोरोना के मनुष्य में आने में वन्य जीव पैंगोलिन की भूमिका हो सकती हैं। इसी कारण पैंगोलिन के जरिए मनुष्‍य में यह बीमारी आई है। अब तक अनुमान लगाए जा रहे थे कि चमगादड़ और सांपों से कोरोना का वायरस फैला। लेकिन नवीन शोध में पुष्टि हो चुकी है कि इसका कारण पैंगोलिन हैं। चाइना की न्यूज एजेंसी शिन्हुआ ने भी ऐसी ही रिपोर्ट जारी कि है,जिसमें कहा गया है कि शोध के मुताबिक पैंगोलिन से इंसानों इस बीमारी के आने की आशंका सबसे अधिक है। अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीएस) के अनुसार, कोरोना वायरस जानवरों से मनुष्यों तक पहुंच जाता है। नया चीनी कोरोनो वायरस, सार्स वायरस की तरह है। इसके संक्रमण से बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्याएं हो जाती हैं। यह न्यूमोनिया का कारण भी बन सकता है। हांगकांग विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के वायरोलॉजिस्ट लियो पून, जिन्होंने पहले इस वायरस को डिकोड किया था, उन्हें लगता है कि यह संभवतः एक जानवर में शुरू हुआ और मनुष्यों में फैल गया। 

 

09-02-2020
चीन से भारत आने वाले लोगों पर डीजीसीए ने लगाया प्रतिबंध, कोरोना वायरस से मरने वालों की सख्या हुई 811
11:17am

नई दिल्ली। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने कोरोना वायरस के फैलते कहर को लेकर एहतियातन चीन जाने वाले या चीन से आने वाले विदेशियों के भारत में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है। डीजीसीए ने आदेश जारी किया है कि जो 15 जनवरी 2020 को या उसके बाद चीन गए हैं उन लोगों को भारत में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। डीजीसीए की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि विदेशी जो 15 जनवरी, 2020 को या उसके बाद चीन गए हैं उन्हें भारत-नेपाल, भारत-भूटान, भारत-बांग्लादेश और भारत-म्यांमार सहित किसी भी हवाई, भूमि या बंदरगाह से भारत की सीमा में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है।
 
चीन में मृतकों की संख्या 811 हुई

बता दें कि चीन में घातक कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 811 हो गई है और इसके संक्रमण के 37000 से अधिक मामलों की पुष्टि हो चुकी है। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने रविवार को बताया कि शनिवार को इससे 89 और लोगों की जान चली गई और 2,656 नए मामले सामने आए।

आयोग के अनुसार 31 प्रांतीय स्तर के क्षेत्रों में इससे अब तक कुल 811 लोगों की जान जा चुकी है और 37,198 मामलों की पुष्टि हुई है। उसने बताया कि शनिवार को जिन 89 लोगों की जान गई उनमें से 81 हुबेई प्रांत के थे, जहां इस विषाणु के कारण सबसे अधिक लोग मारे गए हैं। इसके अलावा दो लोग हेनान में मारे गए। हेबेई, हेइलोंगजियांग, अनहुइ, शानदोंग, हुनान और गुआंग्शी झुआंग में इससे एक-एक व्यक्ति की जान गई है।
 
कोरोना वायरस से हुई मौत के आंकड़े ने सार्स को छोड़ा पीछे

चीन में फैले कोरानावायरस से मरने वालों का आंकड़ा लगभग 17 साल पहले सार्स वायरस के कारण हुई मौतों से अधिक है। सार्स वायरस 2003 में फैला था और दो दर्जन से अधिक देशों में इसके मरीज पाए गए थे, सार्स के कारण 774 लोगों की जान गई थी।

चीन की लापरवाही आई सामने

जानकारों का कहना है कि कोरोना को रोकने में विफल रहे चीन में पहली बार जनता की नजरों में उनके सरकारी तंत्र की पोल खुल गई है, जिसे बड़े स्तर पर सफलतापूर्वक कार्य करने में दक्ष माना जाता था। चीन के राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपने कार्यकाल में नौकरशाहों और टेक्नोक्रेट्स से ज्यादा पार्टी काडर को तवज्जो दी है। इसके चलते पार्टी का डर नौकरशाही पर हावी हो गया है। नौकरशाह ऐसा कोई भी निर्णय लेने से कतराते हैं, जिससे सरकार की आलोचना हो। मशहूर चीनी लेखक और वहां की राजनीति-नौकरशाही पर नजर रखने वाले शु काइझेन का मानना है कि कोरोना वायरस के बेकाबू होने में मौजूदा प्रशासनिक हालात का बड़ा योगदान है। वुहान से फैली महामारी ने स्थानीय सरकार की कमजोर कार्रवाई और नौकरशाहों के मन में शीर्ष स्तर पर बैठे नेताओं के भय को उजागर कर दिया है।