GLIBS
04-06-2020
विशेष विमान से रायपुर लौटे 170 श्रमिक, अमरजीत भगत ने माना आभार
01:04pm

रायपुर। लॉक डाउन के कारण कर्नाटक में फंसे 170 प्रवासी मजदूरों की छत्तीसगढ़ वापसी गुरुवार को विशेष विमान से हुई है। रोटरी क्लब के सहयोग से बैंगलुरू से विशेष विमान ने इन मजदूरों को लेकर गुरुवार को पहुंचा। प्रदेश के खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने सहयोग के लिए आभार माना है। दरअसल लॉक डाउन के दौरान जरुरतमंदों के लिए विशेष हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया था। कर्नाटक में फंसे हुए छत्तीसगढ़ के श्रमिकों में से अनेक मजदूरों ने कॉल करके मदद की गुहार लगाई थी। निरंतर प्रयास करते हुए अनेक प्रवासी श्रमिकों को रेलमार्ग से वापस लाने की व्यवस्था की गई थी। फिर भी अनेक श्रमिक कर्नाटक के विभिन्न क्षेत्रों में फंसे हुए थे। खाद्यमंत्री ने बताया कि इन मजदूरों को वापस लाने की कोशिशें लगातार चल रही थीं। कर्नाटक के सुदूर भागों में होने के कारण सबसे संपर्क करने व उनकी मदद करने में अड़चनें आ रही थीं। इसी दौरान खाद्यमंत्री का संपर्क कर्नाटक के कोलार जिले के रोटरी क्लब के अध्यक्ष सोमशेखर गौड़ा और रोटरी क्लब के ही सदस्य अजय बहेल से हुआ।

श्रमिकों के विषय में उनसे चर्चा होने पर उन्होंने आगे बढ़कर मदद की पेशकश की। रोटरी क्लब के अध्यक्ष सोमशेखर गौड़ा और अजय बहेल ने सक्रियता दिखाते हुए कर्नाटक के अलग-अलग हिस्सों में फंसे श्रमिकों को कैंपेगौड़ा एयरपोर्ट, बैंगलुरू तक उन्हें बस से लाने की व्यवस्था की। इसके बाद उन्हें विमान से छत्तीसगढ़ लाया गया। इस सहयोग के लिए खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने पत्र लिखकर सोमशेखर गौड़ा और अजय बहेल के प्रति आभार व्यक्त किया। साथ ही उन्होंने उन सभी को धन्यवाद दिया, जिन्होंने श्रमिकों की घर वापसी के लिए योगदान दिया है। इन श्रमिकों को बेंगलुरू एयरपोर्ट में लाने से पहले 14 दिन के क्वारंटाइन में रखा गया था। छत्तीसगढ़ आगमन के बाद इनकी स्वास्थ्य जांच की गई। छत्तीसगढ़ में घर जाने से पहले इन्हें क्वारंटाइन में रखा जाएगा। खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि हेल्पलाइन नंबर 18001233714 अब भी जारी है। यदि देश के किसी भी भाग में फंसे मजदूर या अन्य नागरिकों को जरूरत हो तो इस नंबर पर कॉल कर सकते हैं। यदि कोई भी जरुरतमंदों की किसी भी तरह की मदद करना चाहते हैं तो उनका स्वागत है।

04-06-2020
राहुल गांधी से चर्चा में बोले राजीव बजाज- लॉक डाउन से चौपट हुई अर्थव्यवस्था
रा
12:07pm

नई दिल्ली। कोरोना वायरस संकट के बीच देश की अर्थव्यवस्था को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर हमला कर रहा है। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आए दिन किसी न किसी एक्सपर्ट से अर्थव्यवस्था मुद्दे पर बात कर रहे हैं। इसी कड़ी में उन्होंने गुरुवार को बजाज ऑटो के प्रबंध संचालक राजीव बजाज से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की। लॉक डाउन के आर्थिक प्रभाव को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने देश के नामी उद्योगपति राजीव बजाज के साथ वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की। इस दौरान राजीव बजाज ने कहा कि लॉक डाउन से अर्थव्यवस्था को बहुत गहरी चोट पहुंची है और लोगों में इसको लेकर काफी डर बना हुआ है।

राजीव बजाज ने कहा कि दुनिया के कई देशों में मेरे रिश्तेदार और दोस्त हैं और वहां भी लॉक डाउन हुआ लेकिन ऐसा कहीं नहीं था। वह बाहर घूमने जा सकते थे। सामाजिक और भावनात्मक पहलुओं के संदर्भ में वे लोग बेहतर परिस्थिति में थे। राहुल गांधी ने ऑटो के मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव बजाज से बात की। राहुल ने सबसे पहले बजाज से उनके इलाके में कोरोना की स्थिति पूछी। बजाज ने जवाब दिया- ये नया माहौल है, हम इसमें ढलने की कोशिश कर रहे हैं। बजाज ने कहा कि यह काफी अजीब है। मुझे नहीं लगता कि किसी ने कल्पना की थी कि दुनिया को इस तरह से बंद कर दिया जाएगा। मुझे नहीं लगता कि विश्व युद्ध के दौरान भी दुनिया बंद थी। तब भी चीजें खुली थीं। यह एक अनोखी और विनाशकारी घटना है।

राहुल गांधी ने पूछा कि किसी ने नहीं सोचा था कि पूरी दुनिया में लॉक डाउन हो जाएगा, ऐसा विश्व युद्ध के समय पर भी नहीं हुआ था जिसके जवाब में राजीव बजाज ने कहा कि भारत में एक तरह का ड्रैकियन लॉक डाउन है। ऐसा कहीं पर भी नहीं हुआ। हमारे यहां की तुलना में कई देशों में बाहर निकलने की अनुमति थी। कोरोना को लेकर बजाज ने कहा कि मुझे लगता है कि अपने यहां फैक्ट और सच्चाई के मामले में कमी रह गई है, लोगों को लगता है कि ये बीमारी एक कैंसर जैसी है। अब जरूरत है कि लोगों की सोच को बदला जाए और जीवन को आम पटरी पर लाया जा सके। लेकिन इसमें एक लंबा वक्त लग सकता है। हम इसके बीच में फंस गए हैं और हमें जापान और स्वीडन की तरह नीति अपनानी चाहिए थी। वहां पर नियमों का पालन हो रहा है, लेकिन लोगों के लिए जीवन को मुश्किल नहीं बनाया जा रहा है।

04-06-2020
Breaking : छत्तीसगढ़ में देर रात मिले 52 नए कोरोना मरीज, एक्टिव केस अब 489
12:08pm

रायपुर। छत्तीसगढ़ में बुधवार देर रात 52 नए कोरोना मरीजों की पहचान की गई। इनमें जांजगीर 20, महासमुंद 12, जशपुर 6, बलौदा बाजार 4, बालोद 3 और दुर्ग राजनांदगांव व रायपुर से 2-2 एवं रायगढ़ से एक मरीज की पहचान की गई है। इस प्रकार 3 जून को कुल 86 मरीजों की पहचान की गई। कल रात्रि ही 19 कोरोना मरीज स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किए गए हैं। इनमें मुंगेली के 15 और बेमेतरा के दो, बालोद बिलासपुर के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद अब छत्तीसगढ़ में एक्टिव मरीजों की संख्या 489 हो गई है।

04-06-2020
इंदौर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3600 के पार, अब तक 145 मरीजों की मौत
11:43am

भोपाल। देश भर में जानलेवा कोरोना वायरस का कहर जारी है। नोवेल कोरोना से देश में अब तक 6075 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं संक्रमितों की कुल संख्या 2 लाख 16 हजार 919 हो गई है। देश में कोविड-19 से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल इंदौर में पिछले 24 घंटे के दौरान इस महामारी के 36 नए मामले मिले हैं। इसके साथ ही जिले में संक्रमितों की कुल तादाद 3,597 से बढ़कर 3,633 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने आज यह जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद अलग-अलग अस्पतालों में पिछले दो दिनों में इलाज के दौरान 75 वर्षीय पुरुष समेत चार मरीजों की मौत हो गई। इसके बाद जिले में इस महामारी की चपेट में आकर दम तोड़ने वाले मरीजों की तादाद 145 पर पहुंच गई है। उन्होंने बताया कि इलाज के बाद कोविड-19 के संक्रमण से मुक्त होने पर अब तक जिले के 2,184 लोगों को अस्पतालों से छुट्टी दी जा चुकी है। कोविड-19 का प्रकोप कायम रहने के मद्देनजर इंदौर जिला रेड जोन में बना हुआ है। जिले में इस प्रकोप की शुरूआत 24 मार्च से हुई, जब पहले चार मरीजों में इस महामारी की पुष्टि हुई थी।

04-06-2020
देश में कोरोना ने तोड़े सारे रिकार्ड, 24 घंटे में 9304 नए मामले आए, 260 लोगों की मौत, कुल आंकड़ा 2.17 लाख के करीब
11:38am

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। भारत भी कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। देश में जारी लॉक डाउन के बाद भी कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 9,304 नए मामले सामने आए हैं और 260 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देश भर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 2,16,919 हो गई है, जिनमें से 1,06,737 सक्रिय मामले हैं, 1,04,107 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 6,075 लोगों की मौत हो चुकी है।

04-06-2020
लॉक डाउन, क्वारंटाइन उल्लंघन पर 23 एफआईआर दर्ज
09:45am

रायपुर। लॉक डाउन, क्वारंटाइन उल्लंघन करने और जानकारी छिपाने पर पुलिस ने पिछले 24 घंटे में 23 अपराध दर्ज किये हैं। रायपुर में 1, धमतरी में 1, महासमुंद में 1, बलौदाबाजार में 3, बिलासपुर में 1, मुंगेली में 11, जांजगीर चाम्पा में 1, गौरेला पेंड्रा मरवाही में 3, कोरिया में 1 अपराध दर्ज किये गए हैं। पुलिस ने आईपीसी की धारा 188, 269, 270 के तहत अपराध दर्ज किए हैं।

03-06-2020
छत्तीसगढ़ के मजदूरों को लेकर 4 और 5 जून को रायपुर आएगा विशेष विमान
10:40pm

रायपुर। छत्तीसगढ़ के 180 प्रवासी मजदूरों को लेकर 4 जून को बेंगलुरू से विशेष विमान रायपुर पहुंचेगा। प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने ट्वीटर हैंडल पर यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया है कि बेंगलुरू और हैदराबाद लॉ यूर्निवसिटी के सहयोग से श्रमिक विशेष विमान से रायपुर पहुंचेंगे। उन्होंने इस सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि सभी श्रमिकों को उनके गृह जिलों के क्वारंटाइन सेंटरों तक पहुंचाने का इंतजाम कर रहे हैं। 
प्रभारी कलेक्टर रायपुर सौरभ कुमार ने बताया कि यह रिलिफ फ्लाइट क्रमांक 9405 चार जून को बेंगलुरू से सुबह 8 बजे रवाना होकर 9.50 बजे रायपुर के स्वामी विवेकानंद विमानतल पहुंचेगी। इसमें बलौदाबाजार, महासमुंद,जांजगीर चांपा,पेन्ड्रा गौरेल्ला मरवाही, नारायणपुर जिले के श्रमिक आएंगे। इसी तरह 5 जून को 174 श्रमिक आएंगे। इन श्रमिकों को चिकित्सा जांच के बाद भोजन उपलब्ध कराके संबंधित जिलों में भेजा जाएगा। ये दोनों फ्लाइट विशेष श्रमिक फ्लाइट है,जिन्हें श्रमिकों को लाने के लिए बुक किया गया है।

03-06-2020
पूर्व अध्यक्ष उसेंडी ने कहा, अब विष्णुदेव साय के नेतृत्व में 2023 में छत्तीसगढ़ में बनेगी सरकार
रा
09:31pm

रायपुर। भाजपा छत्तीसगढ़ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने कार्यकाल समाप्त होने पर पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं का धन्यवाद दिया है। उसेंडी ने कहा कि वे नए प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय के नेतृत्व में नई प्रदेश कार्यकारिणी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर उसी समर्पण और ध्येय-निष्ठा के साथ पार्टी के विस्तार के कार्य में जुटे रहेंगे। विष्णुदेव साय के नेतृत्व में जिस प्रकार 2008 में विधानसभा, लोकसभा, नगरनिगम और पंचायत चुनाव में विजय हासिल की थी वैसे ही 2023 में प्रदेश भाजपा विधानसभा में जीत हासिल कर सरकार बनाएगी। उसेंडी ने कहा कि केंद्रीय नेतृत्व का निर्णय प्रदेश भाजपा की राजनीतिक ऊर्जा को नई दिशा देने वाला है। साय की नियुक्ति सत्ता और संगठन के उनके सुदीर्घ अनुभवों का सम्मान है।

 

03-06-2020
कलेक्टर ने जारी किया साप्ताहिक हाट बाजारों के संचालन संबंधी आदेश
09:28pm

कोरिया। कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी सत्य नारायण राठौर ने जिले में संचालित समस्त साप्ताहिक हाट बाजारों को अपने निर्धारित दिन में संचालित किये जाने के लिए प्रातः 7 से शाम 7 बजे तक की अनुमति शर्तों के अधीन प्रदान की है। निर्धारित शर्तों के अंतर्गत संचालित प्रतिष्ठानों में न्यूनतम  कर्मचारी उपस्थित होंगे तथा एक समय में एक ही ग्राहक की अनुमति होगी। साप्ताहिक बाजारों में प्रत्येक दुकान की दूरी 20 फीट या शासन द्वारा जारी निर्देश के अनुरूप होगी।
कलेक्टर ने बताया कि कंटेनमेंट जोन से संबंधित जारी आदेश यथावत रहेंगे। स्वच्छता एवं सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना होगा। भारत सरकार के गृह मंत्रालय तथा राज्य शासन के द्वारा पूर्व में जारी शेष निर्देश यथावत रहेंगे। पूर्व में अप्रभावित क्षेत्र के हॉटस्पाट अथवा कन्टेनमेंट घोषित होने की दशा में गतिविधियों के संचालन की अनुमति स्वतः समाप्त हो जावेगी। पूर्व में जारी शेष आदेश तथा शर्तें यथावत रहेंगी। उन्होंने बताया कि आदेश का उल्लंघन किये जाने पर संबंधित व्यक्ति आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60, भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188 तथा अन्य सुसंगत विधिक प्रावधानों जो लागू हों, के अंतर्गत कार्यवाही के भागी होंगे।

 

03-06-2020
मनी बैक पॉलिसी लेने वाले ग्राहक को नहीं किया समय पर भुगतान,एलआईसी पर 21 हजार रुपए हर्जाना
09:23pm

दुर्ग। मनी बैक जीवन बीमा पॉलिसी लेने वाले शासकीय कर्मचारी को आठवें और बारहवें वर्ष में मनी बैक का बेनिफिट नहीं दिया, इस कृत्य को सेवा में निम्नता ठहराते हुए जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष लवकेश प्रताप सिंह बघेल, सदस्य राजेन्द्र पाध्ये और लता चंद्राकर ने भारतीय जीवन बीमा निगम की पदमनाभपुर दुर्ग शाखा पर 21 हजार रुपये हर्जाना लगाया।

परिवादी की शिकायत

आनंद नगर दुर्ग निवासी शासकीय कर्मचारी एके पाठक ने महासमुंद में पदस्थ रहते हुए भारतीय जीवन बीमा निगम से 28 फरवरी 2003 को जीवन सुरभि मनी बैक पॉलिसी ली थी, जिसका वार्षिक प्रीमियम 6170 था, इस पॉलिसी में 4 वर्ष बाद 30 प्रतिशत, 8 वर्ष बाद 30 प्रतिशत 12 वर्ष बाद 40 प्रतिशत मनी बैक बेनिफिट दिया जाना था एवं अंतिम वर्ष में परिपक्वता राशि का भुगतान किया जाना था। शासकीय कर्मचारी होने के कारण परिवादी का महासमुंद से दुर्ग स्थानांतरण हुआ तब उसने अपनी बीमा पॉलिसी को भी दुर्ग स्थानांतरित करा लिया। स्थानांतरण के पश्चात परिवादी को पॉलिसी से मिलने वाली मनी बैक बेनिफिट आठवें वर्ष (2011) और बारहवें वर्ष (2015) में नहीं मिली और दिनांक 28 फरवरी 2018 को पॉलिसी परिपक्व होने के बाद भी उसे इस लाभ से वंचित रखा गया। इसके बाद परिवादी ने लिखित में जानकारी भी बीमा कंपनी को दी लेकिन परिवादी को उसकी मनी बैक बेनिफिट रकम 41648 रुपये का भुगतान नहीं किया गया।

अनावेदक का जवाब

बीमा कंपनी ने प्रकरण में उपस्थित होकर जवाब दिया कि परिवादी ने अपनी पालिसी महासमुंद से क्रय की थी,जिसका भुगतान महासमुंद शाखा से प्राप्त होना था और आठवें वर्ष में 15000 रुपये एवं बारहवें वर्ष में 20000 रुपये का चेक महासमुंद शाखा से समय पर भेजा गया था किंतु परिवादी के नाम से जारी पॉलिसी ट्रांसफर हो जाने के कारण और परिवादी द्वारा किसी प्रकार की सूचना नहीं दिए जाने के कारण परिवादी को भुगतान नहीं हो सका। कंपनी ने भुगतान करने का प्रयास किया था। परिवादी ने ही घोर लापरवाही की है।

फोरम का फैसला

प्रकरण में पेश दस्तावेजों एवं प्रमाणों तथा दोनों पक्षों के तर्को के आधार पर जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष लवकेश प्रताप सिंह बघेल, सदस्य राजेन्द्र पाध्ये और लता चंद्राकर ने यह निष्कर्ष निकाला कि परिवादी का स्थानांतरण दुर्ग हुआ तब परिवादी ने नए पते की सूचना दी थी ऐसे में अनावेदक का यह दायित्व था कि आठवें एवं बारहवें वर्ष मिलने वाली राशि को परिवादी के पालिसी में दर्शित पते पर भेजता। इसके बाद जब बीमा कंपनी ने दिनांक 28 फरवरी 2018 को अंतिम भुगतान किया उस दौरान भी परिवादी को आठवें एवं बारहवें वर्ष की राशि का भुगतान किया जा सकता था किंतु उस समय भी परिवादी को उसकी राशि नहीं दी गई जबकि अनावेदक को परिवादी के पते का ज्ञान हो चुका था। उपभोक्ता फोरम के समक्ष प्रकरण के लंबित रहने के दौरान बीमा कंपनी ने 41648 रुपये का भुगतान आठवें और बारहवें वर्ष के लिए ब्याज सहित किया है। ये राशि परिवादी को वर्ष 2011 एवं 2015 में ही अनावेदक से प्राप्त होनी थे किंतु उसे राशि प्राप्त नहीं हुई और कई वर्षों तक पत्र व्यवहार करना पड़ा और अनावश्यक चक्कर लगाने पड़े। इससे उसे आर्थिक व मानसिक पीड़ा हुई है और परिवादी अपनी ही राशि से कई वर्षों तक वंचित रहा। यदि परिवादी ने फोरम के समक्ष परिवाद प्रस्तुत न किया गया होता तो उसे उसकी राशि भी प्राप्त नहीं होती। इस आधार पर परिवादी अनावेदक बीमा कंपनी से 20000 रुपये मानसिक क्षतिपूर्ति प्राप्त करने का अधिकारी है साथ ही बीमा कंपनी को वाद व्यय के रूप में 1000 रुपये भी परिवादी को देना होगा।

 

Please Wait... News Loading