GLIBS
20-05-2020
स्पेशल ट्रेन में आंध्रप्रदेश से चांपा पहुंचे 53 श्रमिक, मुख्यमंत्री की जताया आभार  

रायपुर। विजयवाड़ा आंध्रप्रदेश से छत्तीसगढ़ के श्रमिकों को लेकर विशेष ट्रेन 20 मई को दोपहर में चांपा पहुंची। इस ट्रेन में रायगढ़ और सुकमा के 4-4, बलरामपुर के 2 और कोरिया के 1 श्रमिक को मिलाकर कुल 53 श्रमिक चांपा स्टेशन पहुंचे। ट्रेन से उतरे श्रमिकों ने छत्तीसगढ़ पहुंचकर राहत की सांस ली और मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के प्रति आभार जताया । शिवरीनारायण खरौद के दुर्गा प्रसाद ने कहा कि वे रोजी मजदूरी करने परिवार सहित विजयवाड़ा गए हुए थे। काम पूरा होने के बाद भी लॉक डाउन के कारण वापस नहीं आ पा रहे थे। घर वापसी की चिंता हो रही थी। काम बंद होने से आर्थिक समस्या का भी सामना करना पड़ रहा था। वापस आने के लिए ट्रेन बस आदि सभी सुविधाएं बंद हो गई है। ऐसे समय में छत्तीसगढ़ के श्रमिको को वापस लाने में छत्तीसगढ़ सरकार ने मदद की। उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने के लिए दिल से धन्यवाद दिया।


लॉक डाउन के कारण आंध्रप्रदेश में मजदूरी करने गए श्रमिक पिछले करीब दो माह से फंसे हुए थे। राज्य सरकार की ओर से श्रमिक स्पेशल ट्रेन की व्यवस्था हो जाने से जांजगीर-चांपा जिले के 37 श्रमिक आज चांपा पहुचे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर लॉक डाउन में फंसे छत्तीसगढ़ के श्रमिकों को वापस लाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है। कलेक्टर जनकप्रसाद पाठक के मार्गनिर्देशन में ट्रेन के चांपा पहुंचने से पहले रेलवे प्लेटफार्म को सेनेटाइज किया गया। आगंतुक सभी यात्रियों को चांपा सेवा संस्थान की ओर से प्लेटफार्म में ही भोजन उपलब्ध कराया गया। ट्रेन से शारीरिक दूरी का पालन करते हुए श्रमिकों को उतारा गया। खंडवार बने स्वास्थ्य विभाग के स्टाल में थर्मल स्केनिंग और स्वास्थ जांच कर श्रमिकों को नियत बसों में गंतब्य के लिए रवाना किया गया।

18-05-2020
अंफान के कारण पूर्व तटीय रेलवे की ट्रेनों का मार्ग बदला, ऐसे ही होगा 21 मई तक परिचालन

 

रायपुर। ओड़िशा और आंध्रप्रदेश से होकर गुजरने वाले चक्रवात अंफान के कारण आपदा प्रबंधन और सुरक्षा की दृष्टि से पूर्व तट रेलवे से संबंधित कुछ पार्सल एक्सप्रेस और श्रमिक स्पेशल गाड़ियों को विजयवाड़ा-बल्लरशाह- नागपुर-बिलासपुर-झारसुगुड़ा-खड़कपुर होकर मार्ग परिवर्तित किया गया है। रेलवे के मुताबिक परिवर्तित मार्ग से चलने वाली पार्सल एक्सप्रेस गाडियों में 17 से 20 मई को बंगलोर से हावड़ा के लिए छूटने वाली 00615 बंगलोर-हावड़ा पार्सल एक्सप्रेस विजयवाड़ा-बल्लरशाह-नागपुर-बिलासपुर-झारसुगुड़ा-खड़कपुर होकर चलेगी। 18 से 21 मई को हावड़ा से बंगलोर के लिए छूटने वाली 00616 हावड़ा-बंगलोर पार्सल एक्सप्रेस परिवर्तित मार्ग खड़कपुर-झारसुगुड़ा-बिलासपुर-नागपुर-बल्लरशाह-विजयवाड़ा होकर चलेगी। 17 से 20 मई को सिकंदराबाद से हावड़ा के लिए छूटने वाली 00615 सिकंदराबाद-हावड़ा पार्सल एक्सप्रेस विजयवाड़ा-बल्लरशाह-नागपुर-बिलासपुर-झारसुगुड़ा-खड़कपुर होकर चलेगी। 16 से 20 मई को वास्को डी गामा से गुवाहाटी के लिए छूटने वाली 00647/ 00648 वास्को डी गामा-गुवाहाटी-वास्को डी गामा पार्सल एक्सप्रेस विजयवाड़ा बल्लरशाह- नागपुर-बिलासपुर-झारसुगुड़ा-खड़कपुर होकर चलेगी।इसी तरह  परिवर्तित मार्ग से चलने वाली श्रमिक स्पेशल गाड़ियों को भी परिवर्तित मार्ग से चलाया जा रहा है। इनमें 17 मई को 06174 मंगलोर-धनबाद श्रमिक स्पेशल परिवर्तित मार्ग से विजयवाड़ा-बल्लरशाह-नागपुर-बिलासपुर-झारसुगुड़ा-चक्रधपुर से  होकर चलाई गई।

16-05-2020
आंध्रप्रदेश से कोलकाता के लिए साइकिल से निकले 17 मजदूर

दंतेवाड़ा। लॉक डाउन की वजह से जो मजदूर एक राज्य से दूसरे राज्य मजदूरी के लिए गए थे, वहीं फँस गए हैं। मजदूरों को खाने रहने जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। वहीं आंध्र प्रदेश के वारंदल में कोलकाता के मजदूर काम के लिए गए थे और लॉक डाउन होने की वजह से वहीं फँस गए। ये 17 मजदूर आंध्रप्रदेश से कोलकाता के लिए साइकिल से निकल पड़े। ये मजदूर अभी गीदम पहुँचे हैं। गीदम हॉस्पिटल में इन मजदूरों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया।

 

13-05-2020
भूखे चल रहे थे 21 मजदूर, कांग्रेस नेता सलीम रोकड़िया ने ली सुध

धमतरी। आंध्रप्रदेश के एसकोटा से 21 मजदूरों का दल अपने घर झारखंड के चितरा जिला जाने के लिए पैदल निकला है। ये मजदूर एक सप्ताह तक पैदल चलकर व वाहनों से लिफ्ट लेते हुए धमतरी पहुंचे। नेशनल हाईवे में तपती दोपहरी के समय पैदल चल रहे थे, जो भूख से बेहाल थे। इन मजदूरों पर जब कांग्रेस नेता व पूर्व नेता प्रतिपक्ष सलीम रोकड़िया की नजर पड़ी तो उन्होंने तुरंत अपने पास बुलाकर हालचाल पूछा। सबसे पहले मजदूरों के लिए कोल्ड स्टोरेज में नहाने की व्यवस्था की ताकि उन्हें गर्मी से राहत मिले। साथ ही सभी मजदूरों के भोजन बनवाकर खिलाया, रास्ते के लिए भी उन्हें भोजन देकर विदा किये, सभी मजदूर सलीम रोकड़िया को दुआ देते हुए अपने गंतव्य की ओर आगे बढ़ गए।

10-05-2020
23 मजदूरों के फरार होने के बाद सीआरपीएफ संभालेगी क्वॉरेंटाइन सेंटर की जिम्मेदारी

दंतेवाड़ा। जिले के अरनपुर क्षेत्र में स्थित बालक आश्रम क्वॉरेंटाइन सेंटर में आंध्रप्रदेश से आये आसपास के 46 मजदूरों को क्वॉरेंटाइन किया गया था। मौके का फायदा देखते हुए 23 मजदूर फरार हो गए। हालांकि 3 दिनों बाद ग्राम सचिव और स्वास्थ्य अमले ने गांव पहुंचकर फरार ग्रामीणों की तलाश कर उन्हें होम क्वारेंटाइन कर दिया गया। अब अरनपुर क्वारेंटाइन सेंटर की जिम्मेदारी सीआरपीएफ 111 वीं बटालियन ने ली है।सीआरपीएफ अब क्वारेंटाइन सेंटर में ग्रामीणों की देख रेख करेगी और उनका ख्याल रखेगी ताकि अब सेंटर से कोई फरार न हो सके। सीआरपीएफ के जवानों ने बालक आश्रम के क्वारेंटाइन सेंटर को सैनीटाइज भी किया। सीआरपीएफ ने ग्रामीणों को राहत सामग्री का वितरण किया।
सीआरपीएफ एक सौ ग्यारहवीं बटालियन के उप कमांडेंट विकास कुमार सिंह ने लोगों को क्वारेंटाइन का महत्व बताते कोरोना की रोकथाम के बारे में समझाया एवं परेशानी होने पर उन्हें दूर करने का आश्वासन भी दिया। इस दौरान 111वीं बटालियन के सहायक कमांडेंट अमित सिंह ,अविनाश कुमार,विजय कुमार उपस्थित थे।

 

07-05-2020
आंध्रप्रदेश सरकार देगी गैस लीक में हताहत हुए लोगों के परिजनों को एक-एक करोड़

विशाखापत्तनम। आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने आर आर वेंकटपुरम गांव में गुरुवार तड़के एलजी पॉलिमर केमिकल संयंत्र से जहरीली गैस रिसाव की घटना में अब तक नौ लोगों की मौत होने की जानकारी देते हुए मृतकों के परिजनों को एक-एक करोड़ रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की।रेड्डी ने यहां किंग जॉर्ज अस्पताल में इस हादसे में घायलों तथा उनके परिजनों से मुलाकात के बाद कहा कि इस घटना में गंभीर रूप से बीमार उन मरीजों को 10-10 लाख रुपये दिये जायेंगे जो वेंटिलेटर पर हैं जबकि उन प्रभावितों को एक-एक लाख रुपये सहायता राशि दी जाएगी जिनका इलाज दो से तीन दिनों तक किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इस हादसे में मामूली रूप से बीमार उन लोगों को 25-25 हजार रुपये दिये जायेंगे,जो या तो प्रभावित हैं या जिनका अस्पतालों में प्राथमिक उपचार किया जाएगा।मुख्यमंत्री ने कहा कि गैस लीक घटना की जांच के लिए पर्यावरण एवं वन विभाग के विशेष मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गयी है। इस समिति में विशाखापत्तनम के जिलाधिकारी और पुलिस आयुक्त समेत अन्य लोगों काे सदस्य के रूप में शामिल किया गया है। इस समिति की रिपोर्ट मिलने के बाद राज्य सरकार आगे की कार्रवाई करेगी।

05-05-2020
होम क्वारेंटाइन की अवधि पूरी होने से पहले आंध्रप्रदेश जा पहुंचा ट्रक चालक, पुलिस ने किया मामला दर्ज

महासमुंद। होम क्वारेंटाइन की अवधि पूरी होने से पहले एक ट्रक चालक के आंध्रप्रदेश जाने का मामला सामने आया है। शिकायत के बाद पुलिस ने उसके खिलाफ मामला दर्ज किया है। ट्रक चालक का दो टूक शब्दों में कहना है कि जब उसका सेठ बुलाऐगा वह आंध्रप्रदेश जाएगा और गांव आ जाएगा। वह होम क्वारेंटाइन में नहीं रह सकता है। मिली जानकारी के अनुसार खल्लारी थाना के ग्राम खट्टी निवासी किशन निषाद विशाखापटनम आंध्रप्रदेश में ट्रक चालक है। 25 मार्च को वह गांव आया था। जिसे होम क्वांरेटाइन में रखा गया था। 28 दिन की अवधि पूर्ण होने से पहले बिना किसी की अनुमति से वह फिर से विशाखापटनम चला गया। 29 अप्रैल को वह पुनः ग्राम खट्टी पहुंचा। तीस अप्रैल को स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने उसे 28 दिन के होम क्वांरेंटाइन में रहने के लिए कहा। जिस पर उसने दो टूक शब्दों में कह दिया गया वह अपने सेठ के बुलावे पर आंध्रप्रदेश जाएगा और गांव आएगा। प्रशासन को जैसा उचित लगे वैसा कार्रवाई करें। इसकी जानकारी कोरोना महामारी नियंत्रण के नोडल अधिकारी को सूचना दी गई। बाद इसके इसकी रिपोर्ट पुलिस में दर्ज कराई गई। पुलिस ने आरोपी ट्रक चालक के खिलाफ धारा 188, 269, 270 के तहत मामला दर्ज कर विवेचना में लिया है।

04-05-2020
कलेक्टर ने राज्यों के लिए नियुक्त किए अनुमोदनकर्ता और प्रस्तावक अधिकारी,आदेश जारी

रायपुर। लॉक डाउन में रायपुर जिले में फंसे ऐसे व्यक्ति जो अन्य राज्य जाना चाहते हैं, उनसे आवेदन प्राप्त कर आवश्यक कार्यवाही करने के लिए कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी रायपुर ने अनुमोदनकर्ता और प्रस्तावक अधिकारियों को नियुक्त किया है। ऐसे व्यक्ति जो मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र,दिल्ली,आंध्रप्रदेश और तेलंगाना जाना चाहते हैं, उनके लिए अनुमोदनकर्ता अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी विनीत नंदनवार और प्रस्तावक अनुविभागीय दंडाधिकारी प्रणव सिंह होंगे।
उत्तर प्रदेश, झारखंड, बिहार, उड़ीसा,पश्चिम बंगाल, भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य, असम,कर्नाटक और केरल के लिए अनुमोदनकर्ता अधिकारी अपर कलेक्टर पद्मनी भोई साहू और प्रस्तावक अनुविभागीय दंडाधिकारी आरंग विनायक शर्मा को नियुक्त किया गया है। इसी तरह जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और तमिलनाडु के लिए अनुमोदनकर्ता अपर कलेक्टर एनआर साहू और प्रस्तावक अनुविभागीय दंडाधिकारी अभनपुर सूरज कुमार साहू को नियुक्त किया गया है। प्रस्तावक अधिकारी आवंटित किए गए राज्यों के व्यक्तियों का आवेदन प्राप्त करेंगे। स्कूटनी और परीक्षण उपरांत सही पाए गए प्रकरणों को स्वीकृति अनुमोदनकर्ता अधिकारी की ओर से नियमानुसार अनुमति दी जाएगी।

11-04-2020
कांकेर जिले के युवतियां,युवक फंसे आंध्रप्रदेश में, पिता ने वापस लाने कलेक्टर से लगाई गुहार

कांकेर। लॉक डॉउन के चलते जिले के लगभग 80 युवक-युवती आंध्रप्रदेश में फंसे होने के बाद उनके परिजनों ने कलेक्टर से गुहार लगाई है।मिली जानकारी के अनुसार कांकेर जिले के 65 युवती व 15 युवक और कोंडागांव जिले की 6 लड़कियां,जो आंध्रप्रदेश के नैलूर जिले के ग्राम मेनकुरु में एक टेक्सटाइल मिल में काम करने गए हुए थे, लॉक डाउन के कारण वहां फंसे हुए। फिलहाल अभी उनके ठहरने व भोजन की व्यवस्था है किंतु परिजनों द्वारा चिंता व्यक्त की जा रही। इसको लेकर चारामा क्षेत्र सराधु नवागांव की युवती के पिता द्वारा कलेक्टर से किसी भी तरह अपने गृहग्राम लाने के लिए लिखित पत्र दिया। इस पर कलेक्टर द्वारा उनके रुकने खाने की उचित व्यवस्था करवाने की बात कही है साथ ही लॉक डॉउन के बाद ही स्थितियों को देखते हुए उन्हें वापस लाने की बात कही है। इस सबंध में वहाँ फंसी युवतियों से चर्चा करने पर उन्होंने बताया कि हमें सब चीजें मिल रही है लेकिन हमें किसी भी हाल में घर पहुँचना है या फिर हमें रायपुर में ही अस्पताल में रखा जाए। यहाँं से किसी भी तरह हमें निकाला जाए ऐसी बातें उन्होंने बताई।

10-04-2020
33 ग्रामीण जंगल के रास्ते पैदल पहुंचे दंतेवाड़ा, आंध्रप्रदेश गए थे मजदूरी करने

दंतेवाड़ा। आंध्रप्रदेश के नंदी गांव में 33 ग्रामीण मजदूरी करने के लिए गए थे। वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से पूरे देश में लॉक डाउन किया गया,जिसकी वजह से ये मजदूर आंध्रप्रदेश में फंस गए थे। वहां पर कुछ दिन बाद ठेकेदार ने राशन देना बंद कर दिया तो यह ग्रामीण जंगल के रास्ते पैदल ही दंतेवाड़ा तक आए। ये ग्रामीण दंतेवाड़ा जिले के ककाड़ी चूलपारा के हैं। मजदूरों ने दूसरे राज्य से आने की जानकारी नहीं छुपाते हुए ग्रामीणों और स्वास्थ्य विभाग को इसकी सूचना दी,जिससे इनका चेकअप हो सके। ऐसा कर इन मजदूरों ने मानवता का परिचय दिया है, वहीं स्वास्थ्य कर्मियों ने इनका स्वागत करते हुए ताली बजाकर इनका स्वागत किया गया। यही वजह है कि इन मजदूर ग्रामीणों की तारीफ हो रही है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804