GLIBS
10-09-2020
टेली कॉलिंग के माध्यम से हॉस्पिटल में फोन करके मरीजों से पूछ रहे, खाना कैसा है सफाई कैसी है

दुर्ग। जिला प्रशासन द्वारा टेलीकॉलिंग के माध्यम से कोविड केयर सेंटर में मौजूद मरीजों से साफ-सफाई भोजन एवं तबियत के संबंध में लगातार जानकारी भी ली जा रही है। ताकि अस्पताल की व्यवस्था के संदर्भ में लगातार फीडबैक मिलता रहे। 40 नर्सों की टीम लगातार मरीजों से फीडबैक ले रही है। आज लिए गए फीडबैक में 88 प्रतिशत मरीजों ने खानपान की सुविधा को अच्छा बताया तथा 68 प्रतिशत मरीजों ने सफाई की सुविधा को अच्छा बताया। टेलीकॉलर में मरीजों से उनकी तबीयत के संबंध में भी जानकारी ली गई। अधिकांश मरीजों ने बताया कि तबीयत बहुत अच्छी है, कुछ मरीजों ने वॉमिटिंग की शिकायत बताई। टेलीकॉलर के माध्यम से लगातार इन मरीजों से फीडबैक लिया जा रहा है, इस फीडबैक को उच्च अधिकारियों को प्रेषित किया जा रहा है ताकि हॉस्पिटल की व्यवस्था को निरंतर बेहतर करने की दिशा में काम किया जा सके फीडबैक को 4 बिंदुओं में बांटा गया है,इनमें से शुरुआती 2 बिंदु सेहत से संबंधित है। इन बिंदुओं में से वर्तमान में कैसा अनुभव कर रहे हैं, जनरल कंडीशन कैसी है तथा खान-पान एवं साफ सफाई से संबंधित फीडबैक शामिल है। इस संबंध में जानकारी देते हुए कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे ने कहा कि मरीजों का फीडबैक जानना जरूरी है। इसके लिए कॉल सेंटर के माध्यम से लगातार मरीजों से पूछताछ की जा रही है उनकी सेहत के बारे में पूछताछ की जा रही है। उनको मिलने वाली सुविधाओं के संबंध में पूछताछ की जा रही है। सामान्य स्वास्थ्य के बारे में पूछताछ की जा रही है तथा बीमारी से संबंधित लक्षणों की स्थिति के संबंध में भी पूछताछ की जा रही है। इसके माध्यम से मरीजों से जो फीडबैक मिल रहा है। उनसे लगातार व्यवस्था को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी। टेली सेंटर के माध्यम से दोनों ही केंद्रों शंकराचार्य हॉस्पिटल एवं कचांदूर में मरीजों से बातचीत कर रही है। सभी मरीजों का सभी मरीजों के फीडबैक लिया गया। समय दर्ज किया जा रहा है, इसे नियमित रूप से फीडबैक लिया जाएगा ताकि स्थिति को लगातार बेहतर किया जा सके। अधिकांश मरीज अस्पताल की व्यवस्थाओं के संदर्भ में संतुष्ट है। अस्पताल में सभी बुनियादी व्यवस्थाओं की स्थिति को निरंतर बेहतर करने की दिशा में काम किया जा रहा है।

 

09-09-2020
होम आइसोलेशन के संबंध में स्वास्थ्य विभाग ने जारी की चेकलिस्ट, व्यवस्था और कार्यवाही के निर्देश

रायपुर। कोविड-19 के अलाक्षणिक और हल्के लक्षण वाले मरीजों के होम आइसोलेशन में इलाज की व्यवस्था और जरूरी कार्यवाहियां तय करने स्वास्थ्य विभाग ने अधिकारियों के लिए चेकलिस्ट जारी की है। होम आइसोलेशन की व्यवस्था देख रहे सभी अधिकारियों को इसके अनुसार व्यवस्था के निर्देश दिए गए हैं। चेकलिस्ट के अनुसार व्यवस्था व कार्यवाही पूर्ण किए जाने की जानकारी स्टेट कोविड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर को उपलब्ध कराने कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग ने चेकलिस्ट के साथ मैदानी अधिकारियों को निर्देशित किया है कि, होम आइसोलेशन की आवश्यकता और मापदंडों के अनुरूप शहरी क्षेत्रों में समुचित व्यवस्था करें। इसके लिए कोरोना नियंत्रण के लिए काम कर रहे सभी कार्यक्रम अधिकारियों को होम आइसोलेशन के लिए जारी दिशा-निदेर्शों व प्रपत्रों के संबंध में संवेदीकरण (Sensitization) किया जाना जरूरी है।

होम आइसोलेशन की व्यवस्था और इसकी निगरानी के लिए सप्ताह में सातों दिन चौबीसों घंटे चलने वाले कॉल सेंटर एवं कंट्रोल रूम की जिला मुख्यालय और प्रमुख विकासखंडों में स्थापना के साथ ही कंट्रोल रूम प्रभारी का नाम और मोबाइल नम्बर जारी किया जाना है।स्वास्थ्य विभाग ने सभी जिलों को चेकलिस्ट के अनुसार होम आइसोलेशन के कार्य के लिए अलग-अलग चरणों में कार्य संपादन, कन्ट्रोल रूम औरं निगरानी कार्य के लिए नियुक्त स्वास्थ्य कर्मियों का ड्यूटी रोस्टर, प्रबंधन व समन्वय के लिए रैपिड एक्शन टीम के गठन तथा टीम लीडर के नाम व मोबाइल नंबर सहित ड्यूटी रोस्टर जारी करने कहा गया है। होम आइसोलेट होने वाले पॉजिटिव मरीजों को दिशा-निर्देशों व दवाइयों की खुराक के बारे में जानकारी वितरण के लिए तैयार कराने, जिला प्रशासन की ओर से होम आइसोलेटेड मरीज के घर से घरेलू अपशिष्ट के संग्रहण और इसके समुचित प्रबंधन के लिए अंतर्विभागीय चर्चा और इस कार्य के लिए ड्यूटी का निर्धारण भी करने कहा गया है। विभाग ने होम आइसोलेशन वाले मरीजों की निगरानी व चिकित्सकीय कार्य के लिए नामांकित किए गए डॉक्टरों के संवेदीकरण व निजी चिकित्सकों को दायित्व सौंपे जाने की स्थिति में उनकी सहमति प्राप्त करने के निर्देश दिए हैं।

26-03-2020
अच्छी पहल : आपको रायपुर में डोर स्टेप डिलीवरी चाहिए तो निगम जोन वार नंबर जारी, सभी को करें फॉरवर्ड 

रायपुर। कोरोना के संक्रमण के प्रसार को रोकने और नियंत्रण के लिए घोषित लॉकडाउन की वजह से आम नागरिकों को असुविधा ना हो, इसके लिए रायपुर स्मार्ट सिटी व नगर निगम ने जिला प्रशासन की देखरेख में महत्वपूर्ण "फूड सप्लाई कंट्रोल" रूम स्थापित किया है। कहा गया है कि ऐेसे परिवार जिन्हें भोजन, दवा जैसी जरूरी आवश्यकताओं की जानकारी चाहिए। वह भी इस कॉल सेंटर में कॉल कर सहायता प्राप्त सकते हैं। साथ ही किराना, दवा, दुग्ध उत्पाद के होम डिलीवरी के लिए संस्थानों की एक सूची जारी की गई है। बताया गया कि कंट्रोल रूम नंबर (0771- 4055574) पर कॉल कर ऐसे सभी नागरिक जो विषम परिस्थितियों में अपने योगदान से अनाज जिसमें सभी जरूरी खाद्य आदि शामिल हैं,प्रदान करने के लिए कॉल कर सकते हैं। यह कॉल सेंटर उन लोगों तक जिन्हें भोजन-अनाज आदि की जरूरत है, अपने विशेष वाहनों के जरिए सुलभ कराएगा। 

जिला प्रशासन के निर्देश पर नगर की सामाजिक संस्थाएं व स्व सहायता समूह के सदस्य इस कंट्रोल रूम के जुड़कर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इस कंट्रोल रूम के माध्यम से नगर निगम के सभी जोन में उपलब्ध दवा-दुकानें, जिनसे ऑनलाइन दवाईयां मंगाई जा सकती हैं, उसकी भी जानकारी दी जा रही है। कोई भी व्यक्ति या संस्था जो दान की इच्छुक हैं वह भी इस कॉल सेंटर पर कॉल कर अपनी सहायता प्रदान कर सकते हैं। इसके अलावा उन परिवारों तक जिन्हें भोजन, दवा जैसी जरूरी आवश्यकताओं की जानकारी चाहिए वह भी इस कॉल सेंटर में कॉल कर सहायता प्राप्त सकते हैं। जारी नं. की लिस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें...

 

14-09-2019
‘ड्रीम गर्ल’ ने की धमाकेदार ओपनिंग, फिल्म में कॉमेडी का भरपूर डोज.....

मुंबई। आयुष्मान खुराना और नुसरत भरूचा स्टारर फिल्म ड्रीम गर्ल सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। फिल्म 13 सितंबर को रिलीज हुई और पहले ही दिन इसने धमाकेदार ओपनिंग की है। फिल्म को राज शांडिल्य ने डायरेक्ट किया है। फिल्म ड्रीम गर्ल में आयुष्मान खुराना एक पढ़े-लिखे बेरोजगार का किरदार निभा रहें है। वे एक ऐसे लड़के का किरदार निभा रहे हैं, जो लड़कियों की आवाज में दूसरे पुरुषों से बात करता है। आयुष्मान पैसों की तंगी के चलते अपने टैलेंट का इस्तेमाल करता है और कॉल सेंटर में ‘पूजा’ बनकर काम करने लगता है। करम कॉल सेंटर में पूजा बनकर बातें करना शुरू करता है तो लोगों को उसकी बातें इतनी पसंद आ जाती हैं कि वो ‘पूजा’ के प्यार में पड़ने लगते हैं। पूजा से बात करने के बाद उसके कॉलर्स आशिक बन जाते हैं, जो उसे पाने के लिए अपनी जान दे सकते हैं, बीवी को छोड़ सकते हैं और यहां तक कि अपना धर्म भी बदल सकते हैं। दरअसल, पूजा ही इस फिल्म की ‘ड्रीम गर्ल’ है जिसे हर कोई पाना चाहता है। आगे की कहानी जानने के लिए आपको ये फिल्म देखनी होगी। फिल्म में कॉमेडी का भरपूर डोज है। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804