GLIBS
22-05-2020
कटघोरा को छोड़कर अन्य क्षेत्रों में खुलेंगी नाई दुकान, सैलून, ब्यूटी पार्लर

कोरबा। जिले में कोरोना वायरस के बचाव के लिए पूर्व में सैलून, ब्यूटी पार्लर एवं नाई दुकानों पर लगाये गये प्रतिबंध को हटा लिया गया है। नगर पालिका परिषद् कटघोरा को छोड़कर कोरबा जिले के सभी क्षेत्रों में सैलून, ब्यूटी पार्लर और नाई दुकानें अब सोमवार से शुक्रवार प्रातः नौ बजे से शाम पांच बजे तक खुलेंगी। ग्राहकों को सेलून में सेवा लेने से पूर्व ही अपाॅइंटमेंट लेना अनिवार्य होगा। कलेक्टर किरण कौशल ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सभी सावधानियां बरतते हुए नाई दुकानों, ब्यूटी पार्लरों एवं सैलूनों को संचालन की अनुमति दी गई है। उन्होंने कहा कि दुकान संचालक किसी भी व्यक्ति पर उपयोग की गई वस्तु या सामान का दोबारा अन्य व्यक्ति पर उपयोग नहीं कर सकेंगे। इसलिए डिस्पोजेबल सामानों का उपयोग करना अनिवार्य होगा।

22-05-2020
रायपुर रेल मंडल के टिकट काउंटर सेकेंड हॉफ में खुलेंगे शाम साढ़े 6 तक, रेलवे ने बताया कारण..

रायपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल के स्टेशनों के आरक्षण केंद्रों पर द्वितीय पाली में आरक्षित टिकट काउंटर दोपहर 2:00 बजे से शाम 06:30 बजे तक ही खोले जाएंगे। यात्रियों की सुविधा के लिए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल के स्टेशनों पर आरक्षण केंद्रों के टिकट काउंटर से 22 मई से खोल दिए गए हैं। यात्री टिकट बनाने भी पहुंच रहे हैं। रेलवे के मुताबिक कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए रात में जारी कर्फ्यू के कारण आरक्षण केंद्रों पर द्वितीय पारी में आरक्षित टिकट काउंटर दोपहर 2:00 बजे से शाम 06:30 बजे तक ही खोले जाएंगे।

20-05-2020
एनएसएस युवाओं में सेवा और नेतृत्व की भावना के बीज का रोपण करता है: राज्यपाल

रायपुर। राज्यपाल अनुसुइया उइके ने राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के स्वयंसेवकों की ओर से कोविड-19 सेे बचाव के लिए किये गए कार्यों की सराहना की है। राज्यपाल ने कहा है कि एनएसएस युवाओं में सेवा भावना और नेतृत्व की भावना के बीज का रोपण करता है। मैं खुद भी एनएसएस से जुड़ी रही और यह महसूस किया है। इसके कारण मुझे समाज सेवा करने की प्रेरणा मिली।राज्यपाल ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए स्वयंसेवकों की ओर से ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। साथ ही लॉकडाउन के दौरान पुलिस के साथ मिलकर लोगों को घर में रहने की अपील की जा रही है। कुछ स्थानों पर भोजन, मास्क और सेनिटाइजर वितरण में भागीदारी निभाई जा रही है। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए चिन्ह भी बनाए जा रहे हैं। ये समस्त कार्य सराहनीय हैं। इन स्वयंसेवकों से  किए जा रहे सहयोग से हम देश-प्रदेश को कोरोना से मुक्त करने में सफल होंगे।

19-05-2020
कोरोना से बचाव के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में एक्टिव सर्विलेंस टीम कर रही डोर-टू-डोर सर्वे

रायपुर/सूरजपुर। कोरोना वायरस से बचाव के लिए जिला प्रशासन की टीम जिले के सभी विकासखण्डों के ग्रामीण व नगरीय क्षेत्रों में डोर-टू-डोर एक्टिव सर्विलेंस कार्य कर रही है। मास्टर ट्रेनर शिक्षकोें की निगरानी में आंगनबाड़ीकार्यकर्ताओं, मितानिनों, कोटवार, रोजगार सहायकों के माध्यम से प्रत्येक ग्राम में डोर-टू-डोर एक्टिव सर्विलेंस के तहत् कार्य कर रहे है। इसके अलावा बाहर से आने वाले लोगों की जानकारियों को भी पूछताछ कर इसकी सूचना दी जा रही है। डोर-टू-डोर सामुदायिक एक्टिव सर्विलेंस कार्य के दौरान समुचित स्वास्थ्य जांच, मास्क, सैनिटाइजर, हेण्डवॉस का उपयोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सहित सुरक्षा मानकों के पालन से संबंधित जानकारी देकर समझाइश दे रहे हैं। मास्टर ट्रेनरों की ओर से डोर-टू-डोर सर्वे करते हुए सक्रिय सर्विलेंस के उद्देश्य के संबंध में बताया जा रहा है कि समुदाय में कोरोना वायरस से बचाव व नियंत्रण के लिए किस तरह से लक्षण वाले व्यक्तियों का पता करना है।

आगे की जांच प्रक्रिया व उपचार से संबंधित जानकारी भी दी जा रही है। मास्टर ट्रेनर ने सर्वे के दौरान बताया कि सक्रिय सर्विलेंस के लिए सर्वे दल में आवश्यकतानुसार 3 से 4 सदस्यीय दल हैं दल के सदस्य संबंधित क्षेत्र के आंगनबाड़ी कायकर्ता व शिक्षक हैं। ग्रामीण क्षेत्रों मे कोटवार एवं नगरीय क्षेत्रों में नगरीय निकाय के कर्मी भी दल के सदस्य हैं। जिला कलेक्टर दीपक सोनी ने बताया कि जिला में निरंतर सर्वे जारी है, जिसमें अब तक 1 लाख 35 हजार 467 परिवार के कुल सदस्य 6 लाख 79 हजार 495 लोगों का सर्वे किया गया है। जिनका सैंपल लेकर जांच कराई जा रही है।

साथ ही उनके निर्देश पर आयुर्वेद विभाग की ओर से रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने त्रिकटू चूर्ण का वितरण और काढ़ा बनाकर सेवन की जानकारी दि जा रही है। उन्होंने बताया कि सक्रिय सर्विलेंस के लिए सर्वे करते समय दल को विशेष सावधानियां बरतने को कहा गया है, जिसमें दल के सभी सदस्यों को अनिवार्यतः मास्क लगाकर सभी प्रक्रियाओं को पूर्ण करने, इसके अलावा संक्रमित परिवार से बात करते समय दल के सदस्य फिजिकल डिस्टेंस का पालन करते हुए कम से कम दो मीटर की दूरी बनाकर सर्वे करेंगे। इसके अलावा नियमित तौर पर हाथ को साबुन, सैनिटाइजर या हैण्डवॉस से धोने जैसी सुरक्षा मानको को प्राथमिकता के साथ पालन करने के लिए निर्देशित किया गया है। इसके अतिरिक्त टीम द्वारा सुरक्षा मानकों का पालन करने समझाइश भी दी गई है।

17-05-2020
लॉक डाउन में जरूरतमंदों के लिए सभी वर्गों से बढ़े मदद के हाथ

रायपुर/जशपुरनगर। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन समाजसेवी, जनप्रतिनिधि, स्वयंसेवी संस्था और आम नागरिक भी जरूरतमंद लोगों के सहयोग के लिए आगे हाथ बढ़ाकर मदद कर रहे हैं। इसी कड़ी में जिले के कर्मचारी, मितानिन, रसोइया, भृत्य, स्वास्थ्य कार्यकर्ता  भी सहयोग देने में पीछे नहीं है। वे भी स्वेच्छा से मुख्यमंत्री राहत कोष और कलेक्टर कोविड रिलिव फंड में अपना सहयोग दे रहे हैं। जशपुर के महिला पुरूष मध्यान्ह भोजन रसोइयां संघ ने कोरोना वायरस संक्रमण से राहत के लिए 7 लाख 15 हजार 800 रुपए की सहायता राशि दी है। इसी प्रकार दुलदुला ब्लाॅक के मितनिन बहनों ने भी कोविड-19 कलेक्टर रिलिफ फंड में 43 हजार 150 रुपए की सहायता राशि का योगदान की।
क्वारेंटाइन सेंटरों में रसोईया, भृत्य ने भी अपनी अहम भूमिका निभाई है। श्रमिकों के लिए भोजन, पानी, साफ-सफाई की जिम्मेदारी उन्हीं के उपर निर्भर है।आदिमजाति विभाग के सहायक आयुक्त ने बताया कि छोटे-छोटे कर्मचारियों को प्रोत्साहित करने के लिए ग्राम पंचायत के सरपंच, सचिव और जनप्रतिनिधि आगे आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि क्वारेंटाइन सेंटर प्री-मैट्रिक बालक एवं कन्या छात्रावास सरबकोम्बो में भृत्य,रसोइया और स्वीपर को ग्राम पंचायत सरबकोम्बो के सचिव ने महिला भृत्यों को साड़ी एवं पुरूष भृत्यो को लोवर टी शर्ट देकर प्रोत्साहित किया। रसोइया,भृत्य स्वीपर ने धन्यवाद देते हुए कहा कि जरूरतमंद लोगों को सहयोग देने के लिए हमेशा तत्पर रहेंगे और सेवा भावना से निरंतर कार्य करते रहेंगे।

 

16-05-2020
भाटापारा रेलवे स्टेशन पर प्रवासी श्रमिकों को इम्युनिटी बढ़ाने दिया जा रहा आयुर्वेदिक काढ़ा

रायपुर/बलौदाबाजार। कोरोना संक्रमण से बचाव व रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए भाटापारा रेलवे स्टेशन में बाहर से आ रहे श्रमिकों को आयुर्वेदिक औषधियां और काढ़ा पिलाया जा रहा है। कलेक्टर कार्तिकेया गोयल और एसपी प्रशांत ठाकुर ने स्टेशन में आयुर्वेदिक काढ़ा पीने और कोरोना से बचाव के लिए सभी लोगों को इम्युनिटी बढ़ाने सलाह दी। आयुष विभाग की ओर से  स्टेशन के निकास द्वार पर स्टाल लगाया गया है। जहा काढ़ा पिलाने के साथ ही उन्हें महीने भर का काढ़ा बनाने की औषधियां भी दी जा रही हैं। आयुष विभाग के डॉक्टर भैना के नेतृत्व में आयुर्वेद विभाग की टीम इस काम में सेवा भाव से जुटी हुई है।

डॉ. भैना ने बताया कि पिछले तीन दिनों में हज़ारों श्रमिकों को काढ़ा पिलाया जा चुका है और श्रमिकों को इसकी सेवन और बनाने की विधि भी सरल भाषा में समझाई जा रही है। आधा कप पानी में थोड़ा सा गुड़ मिलाकर चुटकी भर काढ़ा चूर्ण डाल दें। दिन में दो दफा पीना लाभकारी है। इसके नियमित सेवन से शरीर में कोरोना को हराने की ताकत पैदा होती है। डॉ. भैना ने कोरोना से बचाव के लिए पूरे दिन गरम पानी पीने, प्रतिदिन आधे घण्टे की योगासन, प्राणायाम एवं ध्यान करने और भोजन में हल्दी, जीरा, धनिया, मसाले एवं लहसुन का उपयोग करने की सलाह दी है। उन्होंने गरम दूध आधा चम्मच हल्दी चूर्ण मिलाकर एक या दो बार पीना चाहिए।

15-05-2020
डेंगू से बचाव के लिए सप्‍ताह में एक दिन कूलर का पानी खाली कर मनाए ड्राई–डे

रायपुर। प्रत्येक वर्ष 16 मई को विश्‍व डेंगू दिवस के रूप में मनाया जाता है परंतु इस वर्ष वैश्विक महामारी कोविड-19 की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए इस दिवस पर किसी प्रकार की जागरूकता रैली या सभा का आयोजन नहीं किया जाएगा। इस दिवस के उद्देश्य की पूर्ति के लिए स्वास्थ्य विभाग कोरोना संक्रमण के दौरान सोशल मीडिया के माध्यम से जन जागरूकता का प्रयास कर रही है। छोटी-छोटी फिल्मों और स्लोगन के जरिए मच्छर जनित रोगों से बचाव की जानकारी दी जा रही है,जिसके माध्यम से डेंगू ट्रांसमिशन सीजन शुरू होने से पहले बीमारी नियंत्रण के लिए निवारक उपायों को करने का आह्वान किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग कोविड-19 के मद्देनजर विश्‍व डेंगू दिवस पर आम जागरूकता बढ़ाने के लिए सोशल मीडिया, फेसबुक, व्हाट्सएप आदि माध्यमों का सहारा लेगा| इस वर्ष के विश्‍व डेंगू दिवस -2020 का थीम- ‘इफेक्टिव कम्युनिटी इंगेजमेंट: की टू डेंगू कंट्रोल’’ रखी गई है। बरसात शुरू होते ही मच्छर जनित रोगों जैसे डेंगू एवं चिकनगुनिया का खतरा बढ़ जाता है| मच्छरों से फैलने वाले इन दोनों रोगों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए राज्य के साथ जिला भी पूर्व से ही सतर्क है| जुलाई महीने में डेंगू के नियंत्रण के लिए घर-घर जाकर कूलरों की सफाई करने जागरुकता अभियान चलाया जाएगा। दिल्ली की तर्ज पर डेंगू बचाव की अपील राष्‍ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के जिला नोडल अधिकारी डॉ.विमल किशोर राय ने बताया दिल्ली की तर्ज पर राजधानी में भी डेंगू से बचाव के उपाय अपनाए जाएंगे। इसके तहत सप्ताह में एक दिन रविवार को ड्राई डे मनाने की अपील लोगों से की जाएगी ताकि इस दिन कूलर की सफाई कर उसका पानी लोग अवश्य बदलें जिससे कूलर के पानी में एडीज मच्छर (डेंगू का मच्छर) न पनप सके। उन्होंने कहा जैसे दिल्ली सरकार ने सप्ताह में एक दिन कूलर सफाई की अपील लोगों से कर वहां डेंगू बीमारी पर काफी हद तक सफलता पाई है उसी तर्ज पर राजधानी में भी लोगों से एक दिन कूलर की सफाई यानि रविवार ड्राई डे की अपील की जाएगी।

मच्छरों से रहें सावधान

राष्‍ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के जिला नोडल अधिकारी डॉ.विमल किशोर राय ने बताया डेंगू एवं चिकनगुनिया की बीमारी संक्रमित एडीस मच्छर के काटने से होती है. एडिस मच्‍छर में ट्रांसओवेरियन ट्रांसमिशन होता है। जो मच्‍छर के अंडे में भी डेंगू के संक्रमण फैलाने के लिए नए मच्‍छर होते हैं। यह मच्छर सामान्यता दिन में काटता है एवं यह स्थिर पानी और कूलर के पानी में पनपता है. इस लिए घरों में उपयोग किए जाने वाले कूलर को सप्‍ताह में एक दिन ड्राई-डे मनाते हुए कूलर का पानी पूरी तरह से बदल कर सावधानियां बरत सकते हैं। डेंगू का असर-  शरीर में 3 से 9 दिनों तक रहता है। इससे शरीर में अत्यधिक कमजोरी आ जाती है और शरीर में प्लेटलेट्स लगातार गिरने लगती है। वहीँ चिकनगुनिया का असर शरीर में 3 माह तक होती है। गंभीर स्थिति में यह 6 माह तक रह सकती है। डेंगू एवं चिकनगुनिया के लक्षण तक़रीबन एक जैसे ही होते हैं। इन लक्षणों के प्रति सावधान रहने की जरूरत है। तेज बुखार, बदन, सर एवं जोड़ों में दर्द ,जी मचलाना एवं उल्टी होना,आँख के पीछे दर्द त्वचा पर लाल धब्बे/चकते का निशान,नाक,मसूढ़ों से रक्त स्त्राव,काला मल का आना डेंगू एवं चिकनगुनिया के लक्षण होते हैं। डेंगू का निदान रक्त परीक्षण की मदद से किया जाता है,जो वायरस और एंटीबॉडी की जांच करने में मदद करता है। 

 

14-05-2020
जिले में 1132 क्वारेंटाइन केंद्रों में 560 लोग क्वारेंटाइन वहीं 700 लोग होम क्वारेंटाइन

कोरिया। कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिए लॉक डाउन अवधि में जिले में 7850 व्यक्तियों की क्षमता वाले 1132 क्वारेंटाईन केंद्रों में कुल 560 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया है। इसमें नगरीय निकायों में 864 व्यक्तियों की क्षमता वाले 38 क्वारेंटाइन केंद्रों में 189 एवं जनपद पंचायतों में 6986 व्यक्तियों की क्षमता वाले 1094 क्वारेंटाईन केंद्रों में 371 लोग शामिल है। वहीं जिले में कुल 700 लोगों को होम क्वारेंटाइन किया गया है। इसमें नगरीय निकायों में 427 एवं जनपद पंचायतों में 273 लोग शामिल है।शासन के निर्देशानुसार जिले में बाहर से आये श्रमिकों को भोजन की व्यवस्था की जा रही है। वहीं पैदल जाने वाले श्रमिकों को उनके अगले गंतव्य तक पहुंचाने के लिए भी वाहन की व्यवस्था की जा रही है। बाहर से आये कुल 129 श्रमिकों को भोजन कराया गया है। इसमें नगरीय निकायों में 33 पुरूष एवं 5 महिला तथा तथा जनपद पंचायतों में 73 पुरूष एवं 18 महिला शामिल है। वहीं आज तक कुल 121 लोगों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए अगले गंतव्य तक पहुंचाने के लिए वाहन उपलब्ध कराया गया है। इसमें नगरीय निकायों में 30 एवं जनपद पंचायतों में 91 श्रमिक शामिल  है।बाहर से जिले में आये श्रमिकों के लिए नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। वहीं चिकित्सा टीम द्वारा श्रमिकों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है। गांव के सरपंच, सचिव, शिक्षक को भी ऐसे केंद्रों की निगरानी के लिए निर्देशित किया गया है।

 

 

11-05-2020
कोरोना से बचाव के लिए अपनाएं आयुर्वेदिक उपाएं,रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करेगी शासन की एडवाइजरी

रायपुर। विश्वव्यापी कोरोना वायरस कोविड-19 महामारी से पूरा देश प्रभावित है। इससे बचने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की भी आवश्यकता है। इस संबंध में स्वास्थ्य सचिव, छत्तीसगढ़ शासन ने सभी जिला कलेक्टरों को पत्र लिखकर विभिन्न माध्यमों से व्यापक प्रचार-प्रसार करने कहा है। स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक ने पत्र के माध्यम से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बिंदुवार उपाए भी बताए हैं,जिसे अपनाकर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है।

 

 

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804