GLIBS
18-11-2020
रेणु जोगी को पार्टी सुप्रीमो की कमान,कहा-2023 में अजीत जोगी के अधूरे सपने को पूरा करेंगे

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) की महत्वपूर्ण बैठक जोगी निवास अनुग्रह में हुई। बैठक में प्रदेशभर से प्रतिनिधियों ने भाग लिया। बैठक में अजीत जोगी के निधन के बाद रिक्त हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर लोकतांत्रिक प्रक्रिया से चुनाव किया गया। विधायक डॉ.रेणु जोगी राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्वाचित हुई। रेणु जोगी ने अपना उद्बोधन संत कबीर का दोहा "कबीरा खड़ा बाजार में, मांगे सबकी खैर, ना काहू से दोस्ती ना काहू से बैर" से शुरू किया। उन्होंने  प्रदेश भर से आए प्रतिनिधियों से कहा कि कठिन से लेकर कठिन परिस्थिति में सभी जनता कांग्रेस के साथ खड़े हैं। आप सब सही मायने में छत्तीसगढ़ महतारी के सच्चे सिपाही हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा से हमारा अपमान किया है। कांग्रेस विधायक रहते हुए मेरा अपमान किया, स्व. जोगी का अपमान किया। हमारे दिल में सबके लिए प्रेम है। हम पुरानी बातों में नहीं जाना चाहते हैं। 2023 में हम छत्तीसगढ़ियों की सरकार बनाकर स्व.अजीत जोगी के अधूरे सपने को पूरा करने का संकल्प लें।

 

विधायक दल के नेता विधायक  धर्मजीत सिंह ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ को छोड़कर पूरे देश में कांग्रेस का बुरा हाल है। कांग्रेस ने हाथी को बीमार कर दिया। साइकिल को पंचर कर दिया, लालटेन को बूझा दिया। कार्यकर्ता तीन साल धैर्य रखें, जनता कांग्रेस भविष्य में सरकार बनाएगी। विधायकद्वय पर तंज कसते हुए धर्मजीत सिंह ने कहा कि आप सब हमारे परिवार के सम्मनीय सदस्य हैं। कांग्रेस के मायाजाल में न फंसे, न उधर के रहेंगे न इधर के रहेंगे। साथ में आए मिलकर काम करेंगे। धर्मजीत सिंह ने यह भी कहा कि न मैं कांग्रेस में जाऊंगा न भाजपा में जाऊंगा, मैं जनता कांग्रेस में रहूंगा जोगी परिवार के साथ रहूंगा। अमित जोगी ने अपना अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए कहा कि मेरे पिता और पार्टी के संस्थापक स्व.अजीत जोगी ने अपनी आत्मकथा सपनों के सौदागर में प्रदेश के पहले और एकमात्र मान्यता प्राप्त दल के संबंध में लिखा है। पार्टी को व्यक्तियों पर नहीं बल्कि विचारों- जिसे सामूहिक रूप से उन्होंने छत्तीसगढ़ प्रथम सिद्धांत की परिभाषा दी थी, पर केंद्रित होना चाहिए। उन्होंने ये भी लिखा है कि 2018 पार्टी का पहला न कि अंतिम अध्याय है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते मेरे लिए उनकी ये दोनों बातें सर्वाधिक महत्व रखती है। जेसीसीजे का अपना अलग अस्तित्व बनाए रखना छत्तीसगढ़- और छत्तीसगढ़ियों- की राजनीतिक पहचान को बनाए रखने के लिए अनिवार्य है।  अमित जोगी ने कहा अगले तीन साल निर्णायक रहेंगे। सत्ता के गुरुत्वाकर्षण के कारण संघर्ष के हमारे सैंकड़ों साथी, विशेषकर प्रथम पंक्ति के नेता, कांग्रेस में वापस लौट चुके हैं। ये बेहद स्वाभाविक सी बात है और इस से हमें निराश नहीं होना चाहिए। जो चले गए हैं, उनके साथ मेरे दलीय तो नहीं लेकिन दिली संबंध बरकरार रहेंगे। बैठक के अंत में पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अमित जोगी ने लोकतांत्रिक प्रक्रिया से निर्वाचित 21 सदस्यीय कोर कमेटी,21 सदस्यीय मार्गदर्शक मंडल,15 सदस्यीय स्थायी आमंत्रित सदस्य और 186 सदस्यीय प्रदेश प्रतिनिधि की घोषणा की।

31-10-2020
Breaking : अमित जोगी ने किया ऐलान, मरवाही चुनाव में जेसीसीजे भाजपा के साथ, जनता से की अपील

रायपुर। मरवाही चुनाव से जुड़ी बड़ी खबर सामने आई है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे ) ने भाजपा को समर्थन दे दिया है। इसकी घोषणा जेसीसीजे अध्यक्ष अमित जोगी ने कर दी है। अमित ने कहा है कि शुक्रवार देर रात विधायक दल के नेता धरमजीत सिंह और विधायक दल के सचिव राजेंद्र राय ने जानकारी दी। उन्होंने भाजपा के प्रत्याशी गंभीर सिंह का समर्थन करने का निर्णय लिया। प्रमोद शर्मा और अधिकांश पार्टी कार्यकर्ता भी इस बात पर अपनी सहमति दे चुके हैं। अमित ने कहा कि उनकी भाजपा के किसी नेता से आज तक इस संबंध में सीधा संवाद नहीं हुआ है। वे अपनी पार्टी के नेताओं की इस राय से पूर्ण रूप से सहमत हैं।

अमित ने कहा कि उनका अपना मानना है कि वैचारिक रूप से क्षेत्रीय दल और राष्ट्रीय दल में स्थायी समझौता संभव नहीं है। बशर्ते कि राष्ट्रीय दल हमारी स्वराज की भावना का सम्मान करे। किंतु वर्तमान परिप्रेक्ष्य में जब कांग्रेस ने मेरे स्व. पिता अजीत जोगी के अपमान को अपने प्रचार का मुख्य केंद्र-बिंदु बना ही लिया है और मेरे परिवार को चुनाव के मैदान से छलपूर्वक बाहर कर दिया है, तो ऐसी परिस्थिति में  मुझे मेरे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का निर्णय स्वाभाविक और सर्वमान्य लगता है। वैसे भी मुझे पूरी उम्मीद है कि ये उपचुनाव न्यायपालिका की चुनाव याचिका की कसौटी में स्वमेव एक साल के भीतर स्थगित हो जाएगा। मरवाही की जनता को अपनी इच्छा अनुसार विधायक चुनने का अवसर एक बार फिर ज़रूर मिलेगा।

अमित ने कहा है कि ऐसे में आज उनके सामने एक ही विकल्प है। अमित ने मरवाही की जनता से अपील की है कि उनके स्व. पिता को अपमानित कर रहे कांग्रेस के लोगों के विरुद्ध वोट दें। अजीत जोगी के मरणोपरांत उनका अपमान करने वाले कांग्रेसियों को सबक सिखाने का इस से बेहतर मौका नहीं मिलेगा। अमित ने कहा है कि उनकी मां डॉ. रेणु जोगी से इस भी संबंध में चर्चा की और वो इस बात से सहमत है। अजीत जोगी के स्वर्गवास के बाद पार्टी- और परिवार में उनका निर्णय अंतिम होता है। कांग्रेस की एक बार फिर जमानत ज़ब्त कराना ही एकमात्र उद्देश होना चाहिए। सही मायने में यही मरवाही के कमिया अजीत जोगी का असली सम्मान होगा। अमित जोगी ने विश्वास व्यक्त किया है कि जनता हमेशा की तरह उनके परिवार के सम्मान की रक्षा करेगी।

29-10-2020
अजीत जोगी के प्रति अमर्यादित कांग्रेसी बयानबाजी आग में घी के समान : रिजवी

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के मीडिया प्रमुख इकबाल अहमद रिजवी ने कहा है कि मरवाही उपचुनाव में स्व. अजीत जोगी के परिवार के प्रत्याशी उनके पुत्र अमित जोगी व बहू ऋचा जोगी से भयभीत कांग्रेस को पराजय का डर सता रहा था। सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस के भारी दबाव में ऐन-केन-प्रकारेण नामांकन ही रद्द करवा दिया। इसके बावजूद भी हार के इसी भय के कारण चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस के प्रचारकों को स्व. अजीत जोगी के लिए अशोभनीय टिप्पणी और स्तरहीन बयानबाजी के कारण स्वर्गवासी प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी के पक्षधर मरवाही के मतदाताओं के रोष का सामना करना पड़ रहा है। यह कांग्रेस प्रत्याशी के लिए बहुत भारी पड़ने वाला है। रिजवी ने कहा है कि स्व. अजीत जोगी के प्रति कांग्रेस नेताओं के भाषणों में लगाए जा रहे झूठे आरोपों और अभद्र व स्तरहीन टिप्पणियों से कांग्रेस अपने पैरों पर स्वयं कुल्हाड़ी मार रही है। कांग्रेस की कुंठा, हताशा और पराजय के भय से यह सिद्ध हो रहा है कि कांग्रेस प्रत्याशी के सामने अपनी जमानत बचाने का प्रश्न खड़ा हो गया है। पानी की तरह पैसा बहाकर भी कांग्रेस खाली हाथ नजर आने वाली है। अब तो जोगी परिवार को जी-जान से चाहने वाली मरवाही की जनता अजीत जोगी के प्रति कांग्रेस के किए जा रहे अशोभनीय बयानों से आहत हो कर, जोगी परिवार के प्रति अपने लगाव का प्रदर्शन अवश्य करेगी। मरवाही के परिणाम का ऊंट किस करवट बैठेगा यह 10 नवंबर को ही पता चलेगा।

21-10-2020
क्या रमन सिंह की तरह भाजपा मानती है कि अजीत जोगी आदिवासी थे : विकास तिवारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने भाजपा की प्रदेश इकाई से सवाल किए हैं। पूछा है कि प्रदेश भाजपा को यह बताना चाहिए कि वह अजीत जोगी और अमित जोगी को आदिवासी मानते हैं, जिस तरह पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह उन्हें आदिवासी मानते थे। प्रदेश भाजपा को यह भी बताना चाहिए कि क्या आदिवासी नेता नंदकुमार साय और ननकीराम कंवर की तरह अजीत जोगी और अमित जोगी को नकली आदिवासी मानते थे तो भाजपा की प्रदेश इकाई अपने आदिवासी नेताओं के बयान से सहमत है कि नहीं है? इस बात का स्पष्टीकरण भाजपा की प्रदेश इकाई को देना चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा है कि भाजपा के अंदर अंदरूनी लड़ाई छिड़ चुकी है,जो कि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के लिए है। भाजपा के आदिवासी नेता इस बात को लेकर नाराज हैं कि पिछले 15 सालों में अजीत जोगी के जाति प्रकरण को रमन सिंह की ओर से दबा कर रखा जाता था। अब जब छानबीन जांच समिति ने अमित जोगी और उनकी धर्मपत्नी ऋचा जोगी को आदिवासी नहीं माना है, तब भी पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह शादी में नाराज फूफा की तरह नाराज बैठे हैं। दूसरी ओर भाजपा के वरिष्ठ आदिवासी नेता इस फैसले का स्वागत कर रहे हैं। प्रदेश की जनता भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुसाय से जानना चाहती है कि वह किस तरफ है, क्या वह रमन सिंह की तरह अजीत जोगी अमित जोगी को आदिवासी मानते हैं या अपने ही पार्टी के वरिष्ठ आदिवासी नेता ननकीराम कंवर और नंदकुमार शायद ऐसा अजीत जोगी और अमित जोगी को नकली आदिवासी मानते हैं।

19-10-2020
कोटा विधायक रेणु जोगी पहुंची निमधा और सिवनी,अजीत जोगी की आत्मकथा भेंट कर मांगा न्याय 

रायपुर/पेंड्रा। कोटा विधायक डॉक्टर रेणु जोगी सोमवार को मरवाही विधानसभा क्षेत्र के सिवनी और निमधा साप्ताहिक बाजार पहुंची। अपने पति स्व. अजीत जोगी पर लिखी आत्मकथा सपनो का सौदागर की पुस्तकें दुर्गा मां के चरणों में अर्पित की। साथ ही वहां उपस्थित ग्रामीणों को सप्रेम भेंट की। इस दौरान रेणु जोगी ने कहा कि स्व.जोगी मरवाही को अपना परिवार मानते थे और उनके जाने के बाद हमारा जोगी परिवार अमित-ऋचा, स्वर्गीय जोगी  के बताए रास्ते पर चलते हुए मरवाही की जनता का कमिया बनकर सेवा करते रहेंगे। वर्तमान चुनाव में हमारे साथ छल किया गया है। अमित जोगी और ऋचा जोगी के नामांकन को निरस्त करने के कारण जोगी परिवार इस चुनाव में हिस्सा नहीं ले पा रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे साथ जो अन्याय हुआ है, उसका न्याय मरवाही की जनता हमारे परिवार को देगी। इसलिए हम सबसे बड़ी जनता की अदालत में न्याय की अपेक्षा करते हंै। हमें पूरा विश्वास है मरवाही की जनता हमें न्याय देगी।

17-10-2020
Breaking : मरवाही चुनाव में अमित जोगी को झटका, छानबीन समिति ने रद्द किया जाति प्रमाण पत्र

रायपुर। मरवाही उपचुनाव में जोगी कांग्रेस अध्यक्ष अमित जोगी को बड़ा झटका लगा है। छानबीन समिति ने उनका जाति प्रमाण पत्र रद्द कर दिया है। बता दें कि 16 अक्टूबर को आदेश की कॉपी जारी की गई थी, जिसमें समिति ने अमित जोगी को कंवर नहीं माना है। अमित के पिता स्व. अजीत जोगी का भी जाति प्रमाण पत्र पहले ही रद्द हो चुका है। अब अमित जोगी का जाति प्रमाण पत्र रद्द कर दिया गया। गौरतलब है कि पहले ऋचा जोगी का जाति प्रमाण पत्र रद्द हो चुका है।  जाति प्रमाण पत्र निरस्त होने के बाद अमित जोगी मरवाही चुनाव भी नहीं लड़ पाएंगे।

14-09-2020
लोकसभा में याद किए गए अजीत जोगी,परिवार ने माना आभार

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश प्रवक्ता भगवानू नायक ने कहा कि,कोरोना महामारी के बीच संसद का मानसून सत्र सोमवार से शुरू हुआ। लोकतंत्र की सबसे बड़ी  पंचायत लोकसभा, संसद में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी व छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री व पूर्व लोकसभा सदस्य (12वीं व 14वीं लोकसभा ) स्व. अजीत जोगी सहित 13 सदस्यों को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई है। साथ ही सदन की कार्यवाही एक घंटे के लिए स्थगित की गई। जोगी परिवार के सदस्य स्व. अजीत जोगी की धर्मपत्नी रेणु जोगी, पुत्र अमित अजीत जोगी व पुत्र वधु ऋचा जोगी ने छत्तीसगढ़ की जनता की ओर से लोकसभा  के सभी सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त किया।

14-08-2020
अजीत जोगी का वाहन अब मरीजों की सेवा में आएगा काम,परिवार ने किया जनता को समर्पित

रायपुर। छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री स्व.अजीत जोगी वाहन अब मरवाही में एंबुलेंस के रूप में काम में लाया जाएगा। स्व. जोगी की धर्मपत्नी व कोटा विधायक डॉ.रेणु जोगी ने कहा है कि स्व.जोगी के दुर्घटना के बाद उनके जीवनकाल में उनका एम्बुलेंस वाहन उनके लिए अत्यंत महत्वपूर्ण था। स्व.जोगी जब कभी भी उक्त वाहन में सवार होकर किसी सभा समारोह में भाग लेने जाते थे, तब उन्हें वाहन से उतरते देखने के लिए हजारों की संख्या में भीड़ लग जाती थी। एक प्रकार से स्व.जोगी का वाहन आकर्षण हुआ करता था। अजीत जोगी के निधन के बाद उनके इच्छानुसार उनके वाहन को जोगी परिवार ने स्मृति में गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले की जनता को समर्पित किया है। अब वाहन गौरेला-पेंड्रा-मरवाही की जनता की स्वास्थ्य संबंधी सेवा के काम आएगा। इसके अतिरिक्त अजीत जोगी के दो व्हीलचेयर को भी  जोगी परिवार ने भेंट किया है,जो लोगों के काम आ सके। उक्त वाहन के सुचारू रूप से संचालन और संधारण के लिए मरवाही में 15 सदस्यीय एक ट्रस्ट का गठन भी किया हैं। इसमेंं प्रमुख रूप से बून्द कुंवर मास्को, देवकी ओट्टी, पुश्पेश्वरी सिंह, भगवती पोर्ते, पुष्पा टाडिया, राम शंकरराय, सुनील गुप्ता, प्रताप भानु, गणेश पाण्डेय, कैप्टन राम भजन, विजय चौबे, गंगा केसरी, विरेन्द्र बघेल, अजुर्न सिंह, अर्जुन मार्को, दयाराम पाव शामिल है।

28-07-2020
बंद नहीं होगा अजीत जोगी का मोबाइल नंबर,जेसीसीजे ने ह़ेल्प लाइन बनाने का लिया निर्णय

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) की कोर कमेटी का बैठक सोमवार को पार्टी अध्यक्ष अमित अजीत जोगी अध्यक्षता में ऑनलाइन हुई। बैठक में प्रदेशभर से पदाधिकारी और जिलाध्यक्षों ने भाग लिया। सभी ने संगठन को जमीनी स्तर पर मजबूत करने पर जोर दिया। पार्टी की कोर कमेटी ने सर्वसम्मति से अनेक प्रस्ताव पारित किए। तय किया गया है कि पार्टी के संस्थापक अजीत जोगी के मोबाइल नंबर 094252-03333 को हेल्प लाईन नंबर बनाया जाएगा। इससे छत्तीसगढ़ियों के समस्याओं का समाधान शीघ्रातिशीघ्र किया जाएगा। इसके साथ ही कोर कमेटी ने मरवाही उपचुनाव को ऐतिहासिक मतों से जीतने को संकल्प पारित किया है। मरवाही चुनाव में बड़ी मात्रा में सरकारी तंत्र के दुरूपयोग की आशंका जताते हुए प्रदेश पदाधिकारियों ने छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को ज्ञापन सौंपने का भी निर्णय लिया हैं। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने बीरगांव, भिलाई, रिसाली और जामुल में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव के लिए अभी से कमर कसने और पार्टी चुनाव चिन्ह हल चलाता किसान में दमदारी के साथ चुनाव लड़ने का घोषणा की है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने महिला जनता कांग्रेस की ओर से प्रदेश में मार्च माह से शराबबंदी के लिए चलाए जा रहे हस्ताक्षर अभियान की सराहना की। उन्होंने हस्ताक्षर अभियान में और भी तेजी लाने का निर्देश दिया हैं। साथ ही माह अगस्त में बरोजगारों का रोजगार दिलाने के लिए सत्याग्रह करने का निर्णय लिया हैं। सत्याग्रह को सफल बनाने के लिए युवा नेता गोविन्द शेट्ठी, दानिश रफीक, अशोक सोनवानी, जहीर खान, आनंद सिंह, टिकेश प्रताप सिंह, प्रदीप साहू, संजीव खरे, नवल सिंह राठिया, संदीप यदु और नरेन्द्र भवानी को प्रमुख जिम्मेदारी दी गई।

 

03-07-2020
अजीत जोगी के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी,युवक को गिरफ्तार करने की मांग

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने दिवंगत अजीत जोगी के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी करने वाले युवक को गिरफ्तार करने की मांग की है। झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष व आदिवासी युवा नेता विक्रम नेताम ने नितेश नेताम नामक युवक के खिलाफ सिविल लाइन थाना में एफआईआर दर्ज करने के लिए ज्ञापन सौंपा है। आरोप है कि खुद को युवा कांग्रेसी बताने वाले नितेश नेताम ने अशोभनीय टिप्पणी की है। विक्रम नेताम ने कहा है कि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने 5 जुलाई को पेंड्रा में होने वाली शांति पूजा की जानकारी फेसबुक में प्रसारित की थी। इस दौरान स्वयं को युवा कांग्रेसी बताने वाले नितेश नेताम ने फेसबुक के उक्त पोस्ट में अजीत जोगी के खिलाफ अशोभनीय, अभद्र टिप्पणी की। इससे न सिर्फ जनता कांग्रेसी बल्कि जोगी समर्थक आहत हुए हैं। युवक को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई चाहते हैं। शुक्रवार को जेसीसीजे ने सिविल लाइन थाना प्रभारी को ज्ञापन सौंपकर युवक को गिरफ्तार कर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। इस दौरान विक्रम नेताम साथ भगत हरबंश,प्रशांत सोनी,दशमू तांडी,मन्सू निहाल, विवेक बंजारे,दीनानाथ मेश्राम आदि उपस्थित थे।

 

02-06-2020
अमित जोगी ने पूरी की पिता की अंतिम इच्छा,नर्मदा संगम में किया पिंडदान

रायपुर। छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी की कब्र की मिट्टी को उनके पुत्र अमित जोगी ने नर्मदा संगम में विसर्जित कर अपने पिता की अंतिम इच्छा पूरी की। मंगलवार दोपहर 12 बजे पावर हाउस तिराहा, मुक्तिधाम पेंड्रारोड से लेकर अमरकंटक के रामघाट, नर्मदा, अरंडी संगम, सोन नदी व अचानकमार के माटिनाला व पीढ़ा में विसर्जित किया गया। इसके साथ ही अमरकंटक में पुत्र अमित जोगी ने अजीत जोगी का पिण्डदान भी किया। अजीत जोगी ने मृत्यु के पश्चात अपने कब्र की मिट्टी को अमरकंटक के रामघाट, नर्मदा अरंडी संगम, सोनमुड़ा के सोनभद्र नदी,अचानकमार के माटीनाला और पीढ़ा में विसर्जित किए जाने की इच्छा जताई थी। उनके इच्छा के अनुरूप उनके पुत्र अमित जोगी व पत्नी डॉ.रेणु जोगी सहित उनके पैतृक गांव जोगीसार के पारिवारिक सदस्यों और कवंर समाज के लोगों ने मिट्टी कलश यात्रा निकली। यह कलश यात्रा,गौरेला के पावर हाउस तिराहा के पास कब्रिस्तान से सैकड़ों गाड़ियों के काफिले के साथ निकलकर जलेश्वर मार्ग होते हुए अमरकंटक पहुंची। इस बीच गौरेला, पुराना गौरेला, अंजनी, चुकतीपानी आदि जगह मे रोकर कर लोगों ने कलश के दर्शन भी किए।
अमरकंटक में कलश की कुछ मिट्टी नर्मदा संगम में प्रवाहित की गई। इसी संगम में अमित जोगी ने धार्मिक रीति रिवाज के अनुसार स्व.अजीत जोगी का पिण्डदान भी किया। इसके बाद इस कलश की मिट्टी को नर्मदा अरंडी संगम, अचानकमार के माटीनाला, केवंची व पीढ़ा के जंगलों में भी छिड़का गया। इस दौरान अजीत जोगी की पत्नी डॉ.रेणु जोगी, पुत्र अमित जोगी के अलावा लोरमी विधायक धर्मजीत सिंह, बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा और जोगी परिवार के अन्य सदस्य और सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

30-05-2020
अजीत जोगी के अंतिम संस्कार में धरमलाल कौशिक सहित अन्य भाजपा नेता हुए शामिल

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश इकाई ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। शनिवार को गौरेला में उनके अंतिम संस्कार में प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक भी शामिल हुए। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, राष्ट्रीय महामंत्री व सांसद सरोज पांडे, राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री सौदान सिंह, सांसद रामविचार नेताम, प्रदेश महामंत्री संगठन पवन साय, केंद्रीय राज्यमंत्री रेणुका सिंह, सहित अन्य वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804