GLIBS
02-12-2019
प्रियंका गांधी की सुरक्षा में सीआरपीएफ की लापरवाही उजागर, जानें क्या हुआ?

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी की सुरक्षा में बड़ी चूक का मामला सामने आया है। बताया गया कि प्रियंका के घर में कम से कम पांच लोग घुस गए। सूत्रों के मुताबिक 25 तारीख को लोग घुसे थे जो खुद को कार्यकर्ता बता रहे थे। वहीं दिल्ली पुलिस और दिल्ली पुलिस सुरक्षा यूनिट का कहना है कि उन्हें इस घटना की जानकारी नहीं मिली है, न ही दी गई है। इस मामले में प्रियंका गांधी के कार्यालय का कहना है कि  सीआरपीएफ लापरवाही के साथ काम कर रही है। बताया गया कि मामला सीआरपीएफ डीजी के पास है और इसकी जांच चल रही है। जानकारी के अनुसार ब्लैक स्कॉर्पियो में सवार तीन महिलाएं और दो युवक जबरन प्रियंका के आवास में घुस आए। जानकारी दी गई कि वे पांचों प्रियंका के साथ सेल्फी लेने के लिए घर में घुस गए थे। बता दें कि नवंबर में ही गांधी परिवार को अब जेड-प्लस सुरक्षा प्रदान की गई है जिनमें सीआरपीएफ के जवान शामिल होते हैं। इससे पहले उन्हें एसीपीजी सुरक्षा मिली हुई थी। 

 

30-11-2019
आखिर दो छात्रों की मौत का जिम्मेदार कौन ? क्या इस प्रकरण में जुर्म दर्ज नहीं होना चाहिए? या फिर लीपापोती होगी?

रायपुर/महासमुंद/ सिरपुर। महानदी के आगोश में आज रायपुर के दो मासूम छात्र समा गए। दोनों की गलती सिर्फ इतनी के वे अपने दोस्तों के साथ आज के दिन को यादगार मनाने गए थे, जो उनके परिजनों के लिए सबसे दुःखद दिन साबित हुआ। माँ बाप ने हंसते हंसते अपने जिगर के टुकड़े को रवाना किया था, जिन्हें नहीं मालूम था कि वे अपने बच्चों को सजा धजा कर भेज तो रहे है पर वे कभी वापस नहीं लौटेंगे? बच्चों को भी क्या पता जिस दिन को खुशियों से सराबोर करने के लिए वे कई दिनों से तैयारी कर रहे थे, मौज मस्ती की प्लानिंग कर रहे हैं वो उनकी ज़िंदगी का आखिरी दिन होगा। पिकनिक मनाना इतना महंगा पड़ेगा न उन मासूम छात्रों को पता था न उनके पालकों को, वरना शायद वे अपने आंखों के तारो को यूं बुझने नहीं भेजते। अब सवाल ये उठता है कि क्या उन बच्चों की मौत का जिम्मेदार कौन है? क्या वो नदी है? जिसने उन बच्चो को निगल लिया? या फिर वे बच्चे हैं, जो नदी में उतरे है? या फिर वे ज़िम्मेदार लोग जो बच्चो को मौत के घाट पर उतार आये?

पिकनिक फ्री में तो ले जाते नहीं है स्कूल वाले, उसके लिए मोटी रकम भी वसूली जाती है। तो फिर 170 बच्चों को नदी के किनारे ले जाने और उन्हें उनके हाल पर छोड़कर खुद पिकनिक मनाने में इतना मशगूल हो जाना कि दो बच्चों की मौत से ही उसके खुमारी टूटे। क्या बच्चों को स्कूल परिसर से बाहर ले जाने के बाद सुरक्षित वापस लौटने की ज़िम्मेदारी उन्हें साथ ले जाने वाले स्टाफ की नहीं थी? क्या स्कूल प्रबंधन इस दुर्घटना के लिए ज़िम्मेदार नहीं है? क्या फिर हम इस कलेजे को चीर कर रख देने वाली लापरवाही को महज दुर्घटना कह कर लीपापोती कर देंगे? क्या फिर हम इसी तरह की दुर्घटना होने के बाद फिर इसी तरह रोयेंगे? और सबसे बड़ी बात क्या सारी औपचारिकताएं उन बच्चों के माता पिता, भाई बहनों, परिजनों के ज़ख्मों पर मरहम लगा पायेगा? क्या रोज़ शाम को उन बच्चों की स्कूल से वापसी पर माँ आंखों में आने वाली चमक दोबारा लौटेगी? क्या अड़ोस पड़ोस के बच्चों को लेने आने वाली स्कूल बस का हर सुबह शाम उन्हें नहीं रुलाएगा? क्या नही रुलाएगा उन दो छात्रों के माता पिता को समझ से परे है। ये दुर्घटना तो सरासर नहीं है? और लापरवाही तो कतई नहीं। ये सरासर जुर्म है और इस पर कठोर कार्रवाई होनी ही चाहिए।

 

14-11-2019
पानी टंकी पर चढ़े सांड को नीचे उतारने में प्रशासन का छूटा पसीना

रेवाड़ी। जिले के बावल हलके में पानी की 200 फीट ऊंची टंकी  पर एक सांड जा चढ़ा। ये पानी टंकी ज्योतिबा फूले पार्क में बनाई गई है। सांड को नीचे उतारने में प्रशासन का पसीना छूट गया। करीब 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद सांड को नीचे उतारा गया। सांड को उतारने के लिए प्रशासन ने कई तरीक अपनाए। लेकिन अंत में सांड को क्रेन की सहायता से नीचे उतारा गया। सांड को नीचे उतारने के बाद अधिकारियों ने राहत की सांस ली। बताया जा रहा है कि पानी टंकी का दरवाजा खुला था जिसके चलते सांड ऊपर तक जा पहुंचा। सांड बुधवार रात से ही पानी टंकी के ऊपर था। सुबह जब लोगों को इस बात का पता चला तो हड़कंप मच गया। ये बात पूरे इलाके में फैल गई। सांड को दखने के लिए लोगों की भीड़ पहुंच गई। इस मामले में जनस्वास्थ्य विभाग की लापरवाही भी सामने आई है। बता दें कि रात को पानी की टंकी पर लगा दरवाजा खुला हुआ था और सांड अंदर घुस गया। सांड सीढिय़ो से पानी की टंकी पर चढ़ गया, परंतु ऊपर जगह कम होने के कारण वापस नीचे नहीं उतर पाया। सुबह लोगों ने सांड को टंकी पर चढ़ा देखा तो पुलिस व दमकल विभाग को सूचना दी। इसके बाद रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ।

 

12-11-2019
एडवेंचर स्पोर्ट्स में दूसरी मंजिल से गिरी छात्रा, एम्स में भर्ती

रायपुर। एडवेंचर स्पोर्ट्स में दूसरी मंजिल से छात्रा के गिरने का मामला सामने आया है। परिजनों ने द रेडिएंट वे स्कूल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है। जानकारी के अनुसार बिना सुरक्षा इन्तजाम के द रेडिएंट वे स्कूल में एडवेंचर स्पोर्ट्स का आयोजन किया गया था। एक छात्रा एडवेंचर के दौरान दूसरी मंजिल से गिर गई। छात्रा को एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जिला शिक्षाधिकारी ने जांच के बाद स्कूल पर कार्रवाई करने की बात कही है।

17-09-2019
स्कूल बस से दबकर एलकेजी की छात्रा की मौत

कोण्डागांव। जिले के विकासखण्ड माकड़ी के ग्राम शामपुर में आज हृदयविदारक घटना में यहां 7 वर्ष की एक मासूम की अपने ही स्कूल बस के नीचे आकर दब जाने से मौके पर ही मौत हो गई। जानकारी के अनुसार माकड़ी के केंब्रिज केरला मॉडल स्कूल में एलकेजी की छात्रा ख्याति देवांगन 7 वर्ष पिता विनय देवांगन हर रोज की तरह आज भी स्कूल गई थी। जब ख्याति शाम को बस से घर लौटी तो बस से उसे घर के सामने उतार दिया गया लेकिन बस चालक की लापरवाही के चलते बस रिवर्स करते वक्त बस के नीचे आ गई और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। 

 

12-09-2019
राशन कार्ड आवेदन फार्म वितरण में लापरवाही पर निगम के दो कर्मचारी सस्पेंड

दुर्ग। निगम आयुक्त इंद्रजीत बर्मन ने आज राशन कार्ड वितरण में लापरवाही बरतने के कारण निगम के सहायक राजस्व निरीक्षक रामखिलावन चंद्राकर और भृत्य चंद्रभागा टेम्भुरणे को सस्पेंड कर दिया। निलंबन अवधि में दोनों कर्मचारी निगम के स्वास्थ्य विभाग में उपस्थिति देंगे। बिना पूर्व अनुमति  मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे। निगम आयुक्त ने बताया कि निगम क्षेत्र के सामान्य वर्ग एपीएल लोगों का नया राशनकार्ड बनाया जा रहा है। दुर्ग निगम के कर्मचारियों की ड्यूटी उनके मूल कार्यों के साथ लगाई गई है। राशनकार्ड आवेदन फार्म वितरण कार्य में लगे कर्मचारियों को दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक निर्धारित स्थल पर  राशनकार्ड आवेदन फार्म का वितरण करना है। दोनों कर्मचारियों को 9 सितंबर को अपने मूल कार्य के साथ दोपहर 2 बजे से सामान्य एपीएल परिवारों को आवेदन फार्म प्राप्त करने निर्देशित किया गया था। आदेश के बावजूद 12 सितंबर को अपने कर्तव्य स्थल शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला, दीपक नगर दुर्ग में उपस्थित नहीं हुए।

 

07-08-2019
अध्यापन कार्य में लापरवाही बरतने वाले 22 शिक्षकों पर हुई बड़ी कार्रवाई

कवर्धा। कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने बोड़ला अनुविभागीय अधिकारी राजस्व द्वारा वनांचल क्षेत्रों के 11 स्कूलों का औचक निरीक्षण के बाद प्रस्तुत जांच प्रतिवेदन के आधार पर अध्यापन कार्य में लापरवाही बरतने वाले 22 शिक्षकों पर हुई बड़ी कार्रवाई की है। सभी 22 शिक्षक औचक निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित थे। इसमें दो सहायक शिक्षक एलबी के विरूद्ध निलंबन की कार्यवाही, नौ शिक्षकों का एक-एक दिन का वेतन रोकने और एक सहायक शिक्षक एलबी का एक वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिये है। इसके अलावा शिक्षक एलबी के चार शिक्षकों का एक-एक दिन का दिन का वेतन रोकने तथा सहायक शिक्षक पंचायत के दो शिक्षकों का एक-एक दिन का वेतन रोकने और चार शिक्षकों का एक-एक वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिये गये है। कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी को संबंधित शिक्षकों के सेवा पुस्तिका में इंद्राज करने के भी निर्देश दिये है।  

 

06-08-2019
एम्स हास्पिटल में प्रसव के दौरान नवजात की मौत, परिजनों ने लगाया डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप 

रायपुर। एम्स हास्पिटल में डिलिवरी के दौरान नवजात की मौत हो जाने पर परिजनों ने डिलिवरी करा रहे डॉक्टर के खिलाफ लापरवाही करने का आरोप लगाते हुए अस्पताल परिसर में जमकर हंगामा कर दिया। हंगामे की सूचना मिलते ही पुलिस एम्स अस्पताल पहुंचकर हंगामा कर रहे परिजनों को शांत कराने में जुट गई है। मिली जानकारी के अनुसार टाटीबंध निवासी एक महिला को प्रसव पीड़ा उठने पर एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। प्रसव के दौरान नवजात की मौत हो जाने पर परिजनों ने डॉक्टरों के द्वारा की गई लापरवाही की बात कहते हुए अस्पताल परिसर में हंगामा शुरू कर दिया इसके चलते बड़ी संख्या मे आसपास के लोग पहुंचकर भीड़ लगा दिये। हंगामे की सूचना पुलिस को मिलते ही अस्पताल में पहुंचकर परिजनों को शांत कराने की कोशिश करने लगे।

01-08-2019
सहायक शिक्षक विद्या सागर दुग्गा निलंबित

बीजापुर। प्रभारी कलेक्टर राहुल वेंकट ने नशे में धुत बिना अनुमति कलेक्टर चैम्बर में घुसने वाले सहायक शिक्षक विद्या सागर दुग्गा माध्यमिक बालक आश्रम इलमिडी को निलंबित कर दिया है। अनुशासनहीनता और कार्य के प्रति लापरवाही बरतने के आरोप में कार्रवाई की गई है। निलंबन की अवधि में सहायक शिक्षक विद्या सागर दुग्गा का मुख्यालय विकासखंड शिक्षा कार्यालय बीजापुर निर्धारित किया गया है।

 

16-07-2019
कार्यो में लापरवाही एवं उदासीनता बरतने के कारण पटवारी निलंबित

मुंगेली। अनुविभागीय अधिकारी (रा.) मुंगेली अमित गुप्ता ने शासकीय कार्यो में लापरवाही बरतने, कर्तव्य के प्रति उदासीनता एवं उच्चाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना किये जाने के कारण हल्का नंबर 29 के पटवारी मिर्जा अजीम बैग को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया है। निलंबन अवधि में नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता की पात्रता रहेगी। निलंबन अवधि में उनका मुख्यालय तहसील कार्यालय मुंगेली नियत किया गया है। उल्लेखनीय है कि नगर मुंगेली स्थित रामप्रताप सिंह के स्वामित्व की भूमि खसरा नंबर 681/3 रकबा 0.05 एकड़ का रामप्रताप सिंह के फौत होने उपरांत फौती दर्ज किया जाकर उसके वारिसानों शिवशंकर सिंह वगैरह के नाम पर बिना आॅनलाईन अपडेशन किये भू-अधिकार एवं ऋण पुस्तिका जारी किया गया। बिना सक्षम अधिकारी की अनुमति के अपने कर्तव्य से अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहे। 11 जुलाई 2019 की स्थिति में आॅनलाईन खसरे एवं नक्शे में अंतर 1064 पाया गया। श्री बेग द्वारा आॅनलाईन अपडेशन नहीं किया गया। अधीक्षक/सहायक अधीक्षकों द्वारा नामांतरण/प्रमाणीकरण कार्य हेतु कलेक्टर द्वारा स्थगन किये जाने के बावजूद नामांतरण पंजी वर्ष 2018-19 के क्रमांक 2 से 13 एवं 15 से 24 तक दर्ज प्रविष्टियों को 14 जून 2019 को सहायक अधीक्षक, भू-अभिलेख मुंगेली से प्रमाणीकरण कराया गया है।

03-07-2019
नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी योजना के क्रियान्वयन में लापरवाही, उप संचालक कृषि को नोटिस

धमतरी। राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना के क्रियान्वयन को लेकर जिला प्रशासन बेहद संजीदा व सतर्क है। इसी तारतम्य में कलेक्टर रंजत बंसल के द्वारा बुधवार को धमतरी विकासखण्ड के ग्राम सेहराडबरी में तैयार किए गए आदर्श गौठान का निरीक्षण किया गया। इस दौरान योजना के क्रियान्वयन में लापरवाही बरतने एवं संतोषप्रद जवाब प्रस्तुत नहीं करने के कारण कृषि विभाग के उप संचालक कृषि, एसएडीओ तथा ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया। विदित हो कि शासन की महत्वपूर्ण योजना अंतर्गत कृषि विभाग को निर्मित किए जा रहे गौठानों में जैविक विधि से खाद उत्पादन करने के लिए दायित्व सौंपा गया है। ग्राम पंचायत सेहराडबरी एवं संबलपुर के गौठानों में जैविक खाद उत्पादन इकाई का कार्य कृषि विभाग द्वारा नहीं किया गया था। इस के लिए उपसंचालक कृषि आरके कश्यप, मनोज सागर एसएडीओ धमतरी एवं ग्राम सेहराडबरी के आरएईओ धीरेन्द्र साहू, वायएस तोमर संबलपुर को दो दिनों के भीतर नोटिस का जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं।

12-06-2019
कार्य में लापरवाही बरतने को लेकर पटवारी स्थानांतरित

पसान। जिला कोरबा विकासखण्ड पोड़ी उपरोड़ा अनुविभागीय अधिकारी एवं अनुविभागीय दंडाधिकारी ने कार्य के प्रति लापरवाही व उदासीनता बरतने तथा उच्चाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना करने पर उपतहसील पसान ग्राम के पटवारी मोहनराम दिवाकर का गुरसिया स्थानन्तरण  किया गया है।

पोड़ी उपरोड़ा  अनुविभागीय अधिकारी ने बताया कि पसा  के पटवारी मोहन राम दिवाकर  के विरूद्ध कार्य के प्रति घोर लापरवाही एवं उदासीनता बरतने एवं उच्चाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना करने व अतिमहत्वपूर्ण शासकीय कार्य वन अधिकार मान्यता पत्रो का मौका निरीक्षण, एवं जांच सीमांकन , अन्य शासकीय कार्यो में रुचि नही लेने की रिपोर्ट प्राप्त हुई हैं, जिस पर  पटवारी मोहन राम दिवाकर के विरूद्ध कठोर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जानी हैं इसे तुरन्त  ही प्रभावशील किया गया  हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804