GLIBS
05-12-2019
नाना ने किया युवती से बलात्कार, मामला दर्ज

रायपुर। रिश्ते में नाना ने युवती को डराधमका कर शारीरिक संबंध बनाया व किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी। घटना की रिपोर्ट गोबरानवापारा थाने में दर्ज की गई है। मिली जानकारी के अनुसार पारागांव गोबरा नवापारा निवासी पीडि़ता 20 वर्ष ने रिपोर्ट दर्ज करायी है कि प्रार्थिया का नाना रामु साहू ने 25 अप्रैल से 5 दिसंबर के मध्य रेलवे क्रासिंग के पास नयापारा स्थित घर में अकेला पाकर डरा-धमकाकर जबरन शारीरिक संबंध बनाया और किसी को न बताने की धमकी दी। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 376, 506 के तहत बलात्कार कर मामला दर्ज कर लिया है।

03-12-2019
महिलाओं के साथ अत्याचार के खिलाफ पीआईएसएफ  ने निकाली रैली, दोषियों को फांसी देने की मांग

रायपुर। देश में महिलाओं के साथ लगातार हो रहे बलात्कार  के विरोध में टीम पब्लिक इशू सोशल फाउंडेशन (पीआईएसएफ) ने मरीन ड्राइव पर हाथों में स्लोगन लिखी हुई तख्तियां लेकर अपराधियों को सार्वजनिक रूप से फांसी दिए जाने की मांग करते हुए युवाओं एवं महिलाओं के साथ शांति मार्च किया। पीआईएसएफ  के चैयरमेन नितिन भंसाली के नेतृत्व में फाउंडेशन के सदस्यों ने मंगलवार शाम स्थानीय युवाओं, महिलाओं और छात्रों के साथ राजधानी के तेलीबांधा स्थित मरीन ड्राइव पर महिलाओं-बेटियों के साथ हो रहे बलात्कार, हत्या जैसे गंभीर मामलों का विरोध करते हुए  हाथों में तख्तियां लेकर शांति मार्च करते हुए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से इन जघन्य अपराधों के दोषियों को समय सीमा के भीतर सार्वजनिक रूप से फांसी  दिए जाने की मांग की। प्रदर्शनकारियों  ने एक स्वर में कहा कि अब ऐसे मामलों में निंदा करने या मोमबत्ती जलाकर श्रद्धांजलि देने से कुछ नहीं होगा। इसके खिलाफ संसद में कड़ा कानून बनाना और उसे तत्काल लागू किया जाना आवश्यक हो गया है। नितिन भंसाली ने बलात्कार  के आरोपियों को सार्वजनिक रूप से फांसी दिए जाने की मांग को लेकर  राष्ट्रपति ओर प्रधानमंत्री के नाम पोस्ट कार्ड, ई मेल भेजकर एक अभियान चलाए जाने की भी घोषणा की। आज के कार्यक्रम में प्रमुख रूप से पार्थ घोष, अरुण छाबड़ा, आभा मिश्रा, श्रिया अनुपम, चांदनी वलेरा, मिंदर सलूजा, ललित जोबनपुत्र, विश्वास पंडित, मुस्कान जग्यसी, हर्षा  बावनकर, मोनाली गुहा, तिरु मिश्रा, सत्येंद्र श्रीवास्तव, राहुल अरोरा, रंजीत अरोरा, ईशा भगोरिया आदि उपस्थित थे।

 

 

03-12-2019
और कितनी निर्भया देख कर जागेंगे हम, राजधानी में जली मशाल

रायपुर। निर्भया से रोजा और फिर प्रिंयका तक गैंग रेप और बलात्कार बढ़ते जा रहे हैं । इन सबसे लड़ने के लिए सभी तबकों को अपने स्तर पर कार्य करने की जरूरत है। बलात्कार महिलाओं के खिलाफ होने वाला सर्वाधिक हिंसक अपराध है, जो उनकी शारीरिक अखंडता को नष्ट करता है, सामाजिक संबंधों के उनकी विकास की क्षमता को बाधित कर उनके जीवन व जीविका को प्रभावित करता है। यह कहना था वीमेन आर ह्यूमन की प्रमुख सदस्य मनप्रीत बग्गा का। साथ ही वीमेन आर ह्यूमन के प्रमुख सदस्य जिया गोस्वामी, आकृति सिंह, प्रियंका शुक्ला,पूनम सहित अन्य युवतियों ने मंगलवार शाम मशाल यात्रा निकाली। 


युवतियों का कहना था कि सम्मान के साथ जीने का अधिकार, जीवन के अधिकार में शामिल है, जिसे भारत का संविधान हर नागरिक के लिए सुनिश्चित करता है। महिलाओं को भी मानव होने की स्वाभाविक गरिमा तथा किसी भी प्रकार की हिंसा से मुक्त बराबरी का जीवन जीने का अधिकार है। पर पितृसत्तात्मक समाज शुरूआत से ही महिलाओं को इस अधिकार से वंचित करता आ रहा है। सरकार, संस्थाएं और समाज सभी महिलाओं के बराबरी के जीवन से भयभीत  हैं। पितृसत्ता की ओर झुकी हुई हैं। जिसका परिणाम भ्रूण हत्या, घरेलू हिंसा, दहेज हत्या , एसिड अटैक और बलात्कार के रूप में हमारे सामने है। महिलाओं के प्रति अपराध बढ़ते जा रहे हैं। पर इसके ठोस समाधान के लिए कोई प्रयास नहीं कर रहा है।सबसे पहले तो ऐसे जघन्य अपराध को अंजाम देने वाले अपराधियों को दंड देना आवश्यक होता है, वहीं पीड़ित महिला को गरिमा तथा आत्मविश्वास के साथ जीने में मदद करने की आवश्यकता होती है। ताकि वह महिला एक गरिमापूर्ण व सार्थक जीवन जी सके।

युवतियों की मांग है कि स्कूलों में सभी को जेंडर शिक्षा दिलाई जाए, सरकार द्वारा सभी स्कूलों में लड़कियों को सेल्फ प्रोटेक्शन की ट्रेनिंग दी जाए, महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों के लिए राज्य सहित पूरे देश में विशेष कोर्ट बनाए जाएं, शहर के कोने कोने में सुरक्षा के लिए पैनिक बटन  हों, सभी महिलाओं को आॅन लाईन एफआईआर करने का अधिकार मिले, बलात्कर होने पर जिले स्तर में  एसपी और कलेक्टर की जिम्मेदारी तय हो उनके उस पर इसका फर्क पड़े, समाज के स्तर पर अपराधियों की पहचान कर उनका सार्वजनिक बहिष्कार किया जाए।

01-12-2019
बांध के समीप मिली युवती की जली लाश, बलात्कार कर हत्या की आशंका

राजपुर। बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के राजपुर-प्रतापपुर मार्ग पर स्थित मुरका  स्थित बांध के समीप युवती की जली हुई लाश रविवार सुबह ग्रामीणों ने देखी। इसकी सूचना तत्काल उन्होंने पुलिस को दी। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को अपने कब्जे में ले लिया है। शाम तक मृतका की शिनाख्त पुलिस नहीं कर पाई थी । ऐसी  आशंका जताई जा रही है कि युवती का बलात्कार कर हत्या की गई होगी। जानकारी के अनुसार राजपुर थानांतर्गत राजपुर-प्रतापपुर मार्ग पर ग्राम मुरका स्थित बांध से लगे रविवार की सुबह करीब 8 बजे  कुछ ग्रामीण गए थे। इसी दौरान अचानक उनकी नजर जली हुई लाश पर पड़ी। लाश के पैरों में पायल तथा हाथ में कंगन के कारण शव महिला के होने की पुष्टि की गई। इसकी सूचना ग्रामीणों ने राजपुर पुलिस को दी। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची और आला अधिकारियों को इसकी जानकारी दी। दोपहर को बलरामपुर पुलिस अधीक्षक टीआर कोशिमा और फोरेसिंक टीम भी मौके पर पहुंची। उन्होंने शव की बारीकी से जांच की। फिलहाल मृतिका की शिनाख्त नहीं हो पाई है।

 

30-11-2019
पशु चिकित्सक के साथ हुई हैवानियत पर महिला पुलिस अधिकारी ने अपने वॉल पर लिखी ये बात...

नई दिल्ली। हैदराबाद में एक पशु चिकित्सक के साथ हुई घटना ने दिल्ली के निर्भया कांड की यादें एक बार फिर जेहन में ताजा कर दी हैं। इसने समाज को झकझोर कर रख दिया है और महिलाओं की सुरक्ष को लेकर एक बहस खड़ी हो गई है। इन सबके बीच मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के पुलिस मुख्यालय में तैनात अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पल्लवी त्रिवेदी ने सोशल मीडिया पर एक अपील जारी की है। उनकी यह अपील वायरल हो गई है।

पल्लवी त्रिवेदी ने अपने फेसबुक वॉल पर पल्लवी ने अपील करते हुए लिखा

कल निर्भया थी, आज प्रियंका और निर्भया से प्रियंका के बीच हजारों लड़कियां बलात्कार का शिकार हुईं। चुनिंदा केस ही चर्चा में आए बाकी दूर दराज के कस्बों के केस लोकल समाचार पत्रों की एक कॉलम की खबर बन कर रह गए। लोग व्यथित हुए, दो चार दिन जिक्र चला और फिर रोजमर्रा को जिंदगी शुरू हो गई। लेकिन हर घटना के बाद हमने पेरेंट के रूप में, वयस्क लड़की के रूप में, जिम्मेदार पड़ोसी और नागरिक होने के नाते क्या कदम उठाए जिससे कि हमारे आसपास की लड़की के साथ यह जघन्य घटना न हो सके? यदि उठाए भी तो ये नाकाफी थे। आज मैं एक लड़की, एक जिम्मेदार नागरिक और एक पुलिस अधिकारी होने के नाते कुछ प्रिवेंटिव एक्शन व जरूरी कदम सभी को सजेस्ट करना चाहती हूं, जो हर हालत में हर लड़की और उनके परिजनों तक पहुंचें।

1- नाबालिग लड़कियों के केस में पेरेंट्स और स्कूल प्रबंधन की सबसे ज्यादा जिम्मेदारी होती है। नासमझ बच्ची अपने साथ हुई घटना को न ठीक से समझ सकती है और न बता सकती है। इसलिए हर वक्त उसे सुरक्षित निगरानी में रखना बेहद जरूरी है। खासकर पुरुष स्टाफ जैसे ड्राइवर, नौकर, रिश्तेदार, ट्यूशन टीचर वगैरह के साथ अकेला न छोड़ें और न ही उनसे बच्ची के कपड़े बदलने या नहलाने जैसे कार्य कराएं। उसे तीन साल की उम्र से ही अच्छे और खराब स्पर्श की ट्रेनिंग दें। इसे अपने मौलिक कर्तव्य की तरह निभाएं।

2- आठ साल की उम्र में बच्ची को अश्लील हरकतों और रेप का अर्थ समझा दें। बार बार समझाएं जिससे उसे इसकी समझ पैदा हो जाए और अकेले असुरक्षित जाने के खतरों से लगातार आगाह करते रहें। उसे बताएं कि कोई पुरूष अगर अश्लील इशारे करे, पोर्न वीडियो भेजे या दिखाने की कोशिश करे, उसके सामने अपना लिंग छुए या दिखाए या मास्टरबेट करे तो फौरन आकर पेरेंट्स को बताए। यही हरकतें उसके पोटेंशियल बलात्कारी होने का लक्षण हैं और वो आपसे ये सब शेयर कर सके इसके लिए उसके दोस्त बनिए। डांट डपट करके उसे ये बातें बताने से हतोत्साहित न करें।

3- किशोर लड़कियों को अकेले निकलने से न रोकें किंतु उसे जरूरी सेफ्टी मेजर्स के बारे में बताएं। उसके साथ रेप के केसेस डिस्कस करें और उसके मोबाइल में वन टच इमरजेंसी नंबर रखें जो आवश्यक रूप से पुलिस का ही हो। उसके बाद वह परिजनों को कॉल कर सकती है। स्प्रे, चाकू, कैंची, सेफ्टी पिन, मिर्च पाउडर उसके बैग में अनिवार्य रूप से रहे। यह आदत जितनी जल्द विकसित कर दें, उतना बढ़िया। इसका डेमो देकर उसे ट्रेंड करवा दें। रिहर्सल आवश्यक है अन्यथा हथियार होते हुए भी घबराहट में उसका उपयोग नहीं हो पाता।

4- वयस्क लड़कियां भी पर्स में ऊपर बताए हुए हथियार अनिवार्य रूप से रखें व जरूरत पड़ने पर बिना घबराए उनके इस्तेमाल में कुशल हो। इन हथियारों के साथ एक तेज आवाज वाली सीटी रखें। अपराध के वक्त तेज शोर से अक्सर अपराधी भाग जाते हैं। अगर कोई ऐसी डिवाइस हो या बन सकती हो जो एक बटन दबाते ही इतनी तेज विशेष आवाज का सायरन बजाए जो आसपास के सारे क्षेत्र में गूंज जाए और जिसकी आवाज को सिर्फ रेप होने की आशंका के रूप में यूनिवर्सल साउंड माना जाए तो कृपया इसकी जानकारी दें और अगर नहीं है और कोई व्यक्ति या कंपनी इसे बना सकती है तो इसे सभी नागरिकों की तरफ से मेरा आग्रह मानकर बना दे। यह बेहद प्रभावी सिद्ध होगी।

5- पुलिस कंट्रोल रूम व किसी भी पुलिस अधिकारी का नंबर हमेशा अपने पास रखें  और सबसे पहले उन्हें डायल करें। पुलिस की छवि आपके मन में जो भी हो पर याद रखें कि महिलाओं के अपराधों में पुलिस बेहद तत्परता से काम करती है व आपकी सबसे निकट का पुलिस वाहन शीघ्र आपके पास पहुंच जाएगा। पुलिस एप अपने मोबाइल में रखें व अपनी लोकेशन भेजें। अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन जाकर स्टाफ व अधिकारियों से परिचय करें। पुलिस वाकई आपकी दोस्त है। यह आप महसूस करेंगी।

6- मैं चाहती हूं कि लड़कियों के लिए यह देश और दुनिया इतना सुरक्षित हो कि वे आधी रात को भी बेखटके सड़कों पर घूम सकें लेकिन यथार्थ इतना सुंदर नहीं है। इसलिए अकेले देर रात सूनी सड़कों पर आवश्यकता होने पर ही निकलें। पुलिस हर कदम पर आपके साथ तैनात नहीं हो सकती और अपराधी व दरिंदे लड़कों को रातों रात सुधारा नहीं जा सकता। इसलिए क्लब या पार्टी से देर रात लौटें तो अपनी सुरक्षा का ध्यान पहले रहे। कैब या टैक्सी करने पर तुरंत लाइव लोकेशन घरवालों को दें व उसका फोटो भी भेजें। यह बात उस ड्राइवर को भी मालूम हो।

7- एक महत्वपूर्ण बात यह कि अगर अपराधी अकेला है तो उसे हैंडल किया जा सकता है। अगर वह दुष्कर्म करने की कोशिश करता है तो बिना घबराए उसके टेस्टिकल्स हाथों से पकड़कर जितनी मजबूती से हो सके, दबा दें। इससे वह कुछ मिनिटों के लिए अशक्त हो जाएगा और लड़की को बच निकलने का या उस पर आक्रमण करने का वक्त मिल जाएगा। गैंगरेप की दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति में लड़की जरूर बेबस हो सकती है मगर ऐसे में पुलिस को त्वरित सूचना मदद करेगी।

8- मार्शल आर्ट या अन्य कोई सुरक्षात्मक आक्रमण कला सिखाना अपनी बच्चियों के लिए टू डू लिस्ट में अनिवार्यतः शामिल कर लें।

9- बच्चों की सही काउंसलिंग और अपराधों से बचाव के उपाय आप न जानते हों तो बेझिझक पुलिस थाने या किसी एनजीओ की मदद लें। आपके स्कूल, क्लास, कोचिंग, मोहल्ले में आकर आपके लिए काउंसलिंग सेशन आयोजित हो जाएगा।

10- सबसे महत्वपूर्ण बात सबसे अंत में ये कि समाज को स्त्रियों के लिए सुरक्षित बनाएं और इसके लिए अपने घरों के, मोहल्ले के व समाज के लड़कों को बचपन से ही शिक्षित करें। उनकी विकृत मानसिकता न हो इसके लिए अपने लड़कों की गतिविधियों पर दस बारह साल की उम्र से नजर रखें। उसके मोबाइल पर, उसके दोस्तों पर, उसकी आदतों पर लगातार नजर रखें व उससे लगातार बात करें। हर रेप घटना पर उससे चर्चा करें। उसे संवेदनशील बनाएं और स्त्रियों के प्रति सम्मान करना सिखाएं।

यह शिक्षा अमीरी, गरीबी, धर्म, जाति, क्षेत्र के भेद से परे हर मां बाप को अपने लड़कों को देनी होगी। अगर पेरेंट्स खुद अनपढ़ व जागरूक नहीं हैं तो जिम्मेदार नागरिक अपने आसपास के क्षेत्रों में, स्कूलों में लड़कों के लिए समय समय पर ऐसे सेशन आयोजित कर सकते हैं। इसके साथ ही लड़कों में अपराध के दंड के विषय में भी भय जागृत करें। अगर कोई लड़का आपके परिवार अथवा आस पड़ोस में सेक्समेनियक है तो उसे सायकायट्रिस्ट को दिखाएं। उसे वयस्क होने के बाद म्युचुअल कंसेंट से सेक्स के बारे में समझाएं। यदि कोई आवारा, शराबी लड़के आपकी नजरों में हों तो जरूर पुलिस को खबर करें। यह सब आज करना शुरू करेंगे तो रातों रात कुछ नहीं बदलेगा लेकिन लगातार प्रयासों से असर जरूर दिखेगा क्योंकि कोई परिवार नहीं जानता कि अगली बार किसके घर की स्त्री इस हादसे की शिकार होगी। प्लीज इसे बेहद बेहद गंभीरता से लें। अगर आप ये सब कर रहे हैं तो कृपया अपना फर्ज समझकर दूसरों को भी समझाएं। स्त्रियों के लिए एक बेहतर समाज बनाने में हम सब की आहुति लगेगी। प्रदर्शन करें, धरने दें, कड़ी सजा की मांग करें, कैंडल मार्च करें लेकिन खुद के कर्तव्य नहीं भूलें।

 

17-11-2019
महिला को घर में अकेली देखकर रिश्तेदार ने किया दुष्कर्म, मामला दर्ज

रायपुर। घर में महिला को अकेली देखकर रिश्तेदार ने डरा धमकाकर शारीरिक संबंध बनाया। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पीड़िता ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि 16 नवंबर को रिश्ते में मौसा लगने वाले आरोपी ने घर में अकेली देखकर डरा धमकाकर शारीरिक संबंध बनाया। घटना की रिपोर्ट पर आरोपी के खिलाफ पुलिस ने बलात्कार का मामला दर्ज कर धारा 376, 506 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।
 

07-11-2019
जेल में बंद पति से मिलने आई पत्नी, दो जेलगार्ड समेत चार लोगों ने किया सामूहिक दुष्कर्म

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के राजगढ़ की जेल में बंद अपने पति से मिलने आई एक 35 साल की महिला के साथ दो जेलगार्ड और दो अन्य लोगों ने गैंगरेप किया। पुलिस के मुताबिक, पीड़िता ने अपने बयान में कहा कि 1-2 नवंबर की रात को किठौर नामक जगह पर चार लोगों ने उसके साथ गैंगरेप किया। किठौर सारंगपुर उप-जेल से लगभग 15 किमी दूर है, जहां पीड़िता का पति बंद है और शाजापुर के सालसाली पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आता है। पीड़िता जो राजगढ़ जिले के खेड़वार गांव की निवासी है अक्सर सारंगपुर उप-जेल में आती थी जहां उसका पति बंद था। जेल में आने जाने के दौरान सारंगपुर उप-जेल के दो जेलगार्डों से पीड़िता की जान पहचान हुई। उन दोनों का नाम हरिराम और माली सिंह है।

पीड़िता की शिकायत के अनुसार, हरिराम और माली सिंह ने उसे 1 नवंबर को कॉल किया और कहा कि उसका पति बीमार है। दोनों आरोपियों ने उसे बताया कि उसके पति को सारंगपुर अस्पताल ले जाया गया है। पुलिस ने बताया कि कॉल मिलने के बाद पीड़िता ने रामचंद्र से संपर्क किया जिसे वो भाई की तरह मानती थी और उसे सारंगपुर ले जाने के लिए कहा। रामचंद्र अपने भतीजे के साथ पीड़िता को सारंगपुर के लिए लेकर निकला और किठौर पहुंचा जहां दोनों जेलगार्डों ने उन्हें फोन पर आने का निर्देश दिया था।

जैसे ही वे किठौर पहुंचे सबसे पहले हरिराम और माली सिंह ने पीड़िता का गैंगरेप किया। हरिराम और माली सिंह के चले जाने के बाद, रामचंद्र और उसके भतीजे ने भी उसके साथ बलात्कार किया। पीड़िता 6 नवंबर को सालासाली पुलिस स्टेशन पहुंची और शिकायत दर्ज कराई। सालासाली पुलिस थाना प्रभारी प्रेम लता खत्री ने बताया कि चारों आरोपियों के खिलाफ गैंगरेप का मामला दर्ज किया गया है। खत्री ने कहा कि आरोपियों का पता लगाने के प्रयास जारी हैं। पुलिस ने कहा कि दोनों जेलगार्ड बुधवार को ड्यूटी के लिए नहीं पहुंचे और अपने स्टाफ क्वार्टर में भी नहीं मिले। अन्य दो आरोपी भी फरार हैं।

02-11-2019
फ़ेसबुक पर दोस्ती, प्यार और फिर अनाचार, मामला दर्ज

रायपुर। सोशल मीडिया में दोस्ती, प्यार फिर शादी का प्रलोभन देकर अनाचार का मामला आम हो गया है। फेसबुक के माध्यम से प्रेम प्रसंग के बाद युवक ने शादी का प्रलोभन देकर युवती से होटल में शारीरिक संबंध बनाने का मामला प्रकाश मे आया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार बांसटाल गोलबाजार निवासी युवती ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि 24 अक्टूबर 2018 से 21 जून 2019 तक विनय बघेल ने फेसबुक के माध्यम से दोस्ती होने पर शादी का प्रलोभन देकर राजधानी के एक होटल में लगातार शारीरिक संबंध बनाया। मामले की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज कर धारा 376 के तहत अपराध कायम कर लिया है।

 

26-10-2019
उप जेल से फरार हुए चार कैदी, सुरक्षा व्यवस्था की खुली पोल

मुंगेली। बीती रात देवरी उप जेल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही सामने आई। उप जेल से हत्या, बलात्कार और नारकोटिक्स जैसे मामलों में सजा काट रहे चार कैदी दीवार फांद कर फरार हो गए। घटना का अनुमानित समय रात बारह से दो बजे के बीच का बताया जा रहा है। उप जेल की बैरक नंबर तीन में बंद चारों कैदियों की पहचान बेलगहना निवासी तरुण केवट, धीरज पटेल, इंदल और सुरेश पटेल के रुप में की गई है। इन सभी पर हत्या, बलात्कार नॉरकोटिक्स एक्ट के मामले कायम थे। कैदियों के फरार होने से जेल प्रबंधन द्वारा की गयी सुरक्षा व्यवस्थाओं की पोल खुल गयी।

16-10-2019
नाबालिग को भगाने के आरोप में युवक गिरफ्तार      

भिलाई। नाबालिग को भगाकर ले जाने के मामले में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोप है कि आरोपी नाबालिग को पंजाब ले गया, जहां उससे शादी कर बलात्कार किया। आरोपी के खिलाफ अपराध दर्ज कर ज्यूडिशियल रिमाण्ड पर भेजा गया है। यह मामला सुपेला थाना क्षेत्र का है, जहां मॉडल टाऊन, नेहरू नगर निवासी जगजीत सिंह उर्फ  बाबू को गिरफ्तार किया गया है। दुर्ग एसपी प्रखर पाण्डे द्वारा चलाये जा रहे अपराध निराकरण की दिशा में शहर एएसपी रोहित कुमार झा और भिलाई नगर सीएसपी अजीत यादव के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी सुपेला बृजेश कुशवाहा के नेतृत्व में पुलिस ने कार्रवाई की है।

12-10-2019
युवती को शादी का प्रलोभन देकर 7 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, मामला दर्ज

रायपुर। राजधानी में शादी का प्रलोभन देकर युवती के साथ रिश्तेदार द्वारा लगातार शारीरिक संबंध बनाने का मामला सामने आया है। युवती ने जब शादी करने को कहा तो रिशतेदार ने युवती का अश्लील विडियो वायरल करने की धमकी दी। घटना की रिपोर्ट खमतराई थाने में दर्ज की गई है। मिली जानकारी के अनुसार भनपुरी खमतराई निवासी  26 वर्षीय युवती ने रिपोर्ट दर्ज करायी है कि 24 अगस्त 2012 से 14 अप्रैल 2019 के मध्य प्रार्थियां के घर आए जीजा के मामा के लड़के अभिषेक विश्वकर्मा 28 वर्ष महुवा बाजार जिला अम्बेडकर नगर यूपी ने शादी का प्रलोभन देकर कई बार शारीरिक संबंध बनाया व इसी दौरान उसका अश्लील वीडियो बना लिया। युवती द्वारा शादी करने के लिए कहने पर आरोपी ने अश्लील वीडियो को वायरल कर बदनाम करने की धमकी देने लगा। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 376, 493 के तहत बलात्कार का मामला दर्ज कर लिया है। 

 

28-09-2019
बलात्कार का आरोपी चिन्मयानंद श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी से निष्कासित

प्रयागराज। शाहजहांपुर में एमएलएम की छात्रा के साथ रेप और यौन उत्पीडऩ के आरोप में जेल भेजे जाने के बाद पूर्व केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। स्वामी चिन्यमयानंद पर लगे गम्भीर आरोपों के बाद अब साधु संतों ने उनसे किनारा कर लिया है। श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी से जुड़े स्वामी चिन्मयानंद को अखाड़े ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है। अखाड़े से निष्कासित होने के बाद अब स्वामी चिन्मयानंद साधु संतों की बैठकों और अखाड़े के किसी भी कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सकेंगे। श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी ने स्वामी चिन्मयानंद का पूर्ण रूप से बहिष्कार करने का फैसला कर लिया है। श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के सचिव महंत राम सेवक पुरी महाराज ने स्वामी चिन्मयानंद पर लगे आरोपों को बेहद गम्भीर बताया है। उन्होंने कहा है कि साधु-संत इसकी निंदा करते हैं। उन्होंने कहा है कि इस घटना से साधु संतों की छवि भी धूमिल हुई है।

महंत राम सेवक पुरी महाराज ने कहा है कि जब तक स्वामी चिन्मयानंद इन आरोपों से बाइज्जत बरी नहीं होते हैं, तब तक अखाड़े से बाहर ही रहेंगे। उन्होंने कहा है कि जो भी भगवाधारी इस तरह के कृत्य करते हैं श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी उसकी कड़ी निंदा करता है। महंत राम सेवक पुरी महाराज ने कहा है कि इससे पहले अखाड़े से जुड़े दाती महाराज पर भी यौन शोषण के गम्भीर आरोप लगे थे, जिन्हें भी अखाड़े ने निष्कासित कर दिया है। उन्होंने कहा है कि स्वामी चिन्मयानंद पर अखाड़े की कोई पदवी नहीं थी। लेकिन स्वामी चिन्मयानंद श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी के महामंडलेश्वर स्वामी भजनानंद महाराज के शिष्य हैं। इस वजह से श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी ने उन पर अखाड़े से निष्कासन की कार्रवाई की है। स्वामी चिन्मयानंद पर लगे यौन शोषण के आरोपों के बाद साधु संतों की सर्वोच्च संस्थान अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने भी बड़ी कार्रवाई का मन बनाया है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की 10 अक्टूबर को हरिद्वार में होने वाली बैठक में स्वामी चिन्मयानंद को अखाड़े से बाहर करने का प्रस्ताव सभी 13 अखाड़ों के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में पास किया जायेगा।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804