GLIBS
06-07-2021
डबल सैलरी का लालच देकर रीवा की युवती से राजधानी रायपुर में बलात्कार, रसूखदार ठेकेदार पर आरोप

रीवा/रायपुर। मध्यप्रदेश की रीवा जिले की लड़की से राजधानी रायपुर में बलात्कार करने का मामला सामने आया है। दरअसल लड़की रायपुर स्थित ट्रैवल एजेंसी में काम करती है। ठेकेदार सुनील राधेश्याम अग्रवाल जो कि ऐश्वर्या रेजिडेंसी में रहता है।  उसने डबल सैलरी में नौकरी देने का लालच देकर युवती को होटल में बुलाया था। यहां युवती पहुंची तो चाय में नशीला पदार्थ मिलाकर पिला दिया। इसके बाद उसके साथ बलात्कार की घटना को अंजाम दिया।

इतना ही नहीं आरोपी सुनील राधेश्याम अग्रवाल ने पीड़िता को जान से मारने की धमकी भी दी। युवती रायपुर में तीन माह तक शिकायत के लिए भटकती रही, लेकिन ठेकेदार के खिलाफ केस दर्ज नहीं किया गया। इसके बाद पीड़िता ने रीवा में परिवार वालों को आप बीती बताई। उसके बाद भाई के साथ युवती ने महिला थाने पहुंचकर केस दर्ज कराया। महिला अधिकारी ने युवती के बयान लेने के बाद मामला दर्ज करते हुए केस डायरी रायपुर स्थित सिविल लाइन थाने भेज दी है।


 

 

07-06-2021
जेल में बंद डेरा प्रमुख राम रहीम कोरोना संक्रमित

नई दिल्ली/रायपुर। बलात्कार के आरोप में जेल में बंद डेरा प्रमुख राम रहीम कोरोना संक्रमित हो गए हैं। राम रहीम को गुरु राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

18-05-2021
पुलिस ने दुष्कर्म के आरोपी को गिरफ्तार कर भेजा रिमांड पर

दुर्ग। दुष्कर्म के आरोपी को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार किया। मोहन नगर थाना प्रभारी बृजेश कुशवाहा ने बताया कि दुष्कर्म के आरोप में टीटी को गिरफ्तार कर उसे ज्यूडिशियल रिमांड पर भेजा है। अपराध दर्ज होने के तुरंत बाद मोहन नगर पुलिस ने त्वरित कार्रवाई की है। कुशवाहा ने बताया कि 13 मई को प्रार्थियां ने लिखित आवेदन पेश कर रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि राहुल राजपूत के घर में वह पूर्व में वर्ष 2019 में घर का कामकाज करती थी। वर्ष 2020 में काम छुड़ा दिया था लेकिन बाद में फिर काम पर रख लिया। इस दौरान आरोपी ने पीड़िता का दैहिक शोषण किया। इस पर प्रार्थियां ने पुलिस थाने पहुंचकर अपराध दर्ज करवाया। पुलिस ने रिपोर्ट पर अपराध क्रमांक 145/2021 धारा 376, 506 भादवि कायम कर विवेचना में लिया। विवेचना के दौरान मंगलवार को आरोपी राहुल कुमार राजपूत उम्र 30 वर्ष से पूछताछ की गई। आरोपी ने अपना जुर्म स्वीकार किया, जिसे गिरफ्तार कर ज्यूडिशियल रिमांड पर भेजा गया। 

 

17-01-2021
सांसद कल्याण बनर्जी का विवादित बयान : भाजपा के लोग दुष्कर्म कर लगा रहे जय श्रीराम के नारे

रायपुर/बंगाल। टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। कल्याण ने कहा कि भाजपा के लोग जय श्रीराम का नारा लगा रहे हैं और बलात्कार कर रहे हैं। बनर्जी ने कहा कि बलात्कार के आरोपी पंडितों के खिलाफ भाजपा के लोग काले झंडे लिए प्रदर्शन करते हुए क्यों नजर नहीं आते हैं? उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए क्योंकि ये पंडित इन लोगों की पार्टी के ही होते हैं। वहीं कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी पर निशाना साधते हुए कल्याण बनर्जी ने कहा कि बंगाल में भाजपा के सबसे बड़े एजेंट अधीर रंजन चौधरी हैं। वह वाम दलों के साथ कांग्रेस का गठबंधन ठीक से होने नहीं देंगे क्योंकि वो भाजपा के सबसे बड़े एजेंट हैं। अर्जुन सिंह पर निशाना साधते हुए बनर्जी ने कहा कि अर्जुन सिंह सुपारी किलर है। वह बाहुबली और गुंडा होने के कारण मशहूर हैं।

 

 

21-11-2020
दुष्कर्म का मुकदमा निकला झूठा, आरोप लगाने वाली युवती को देना होगा मुआवजा

नई दिल्ली। एक शख्स पर लगे बलात्कार के आरोप झूठे पाए जाने के बाद चेन्नई की अदालत ने उस पीड़ित को 15 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया है। उस शख्स पर कॉलेज की छात्र ने बलात्कार का आरोप लगाया था। इसके बाद उस पर करीब सात साल तक केस चला। खबर के अनुसार, बलात्कार पीड़िता के डीएनए टेस्ट में साबित हुआ कि वह युवक आरोपी नहीं था। ऐसे में उसने मुआवजे के लिए मुकदमा दायर किया, जिसमें उसने कहा कि झूठे बलात्कार के आरोप ने उनके करियर और जीवन को बर्बाद कर दिया। आंशिक रूप से उनकी याचिका की अनुमति देते हुए, अदालत ने मुआवजे के रूप में उस पीड़ित को 15 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया है। कोर्ट ने यह मुआवजा राशि उस महिला व उसके माता-पिता को झूठी शिकायत दर्ज कराने के एवज में देने का निर्देश दिया है। 

15-10-2020
राजधानी में अपराधियों का राज, राज्य में कानून व्यवस्था चरमराई :  भगवानू नायक 

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश प्रवक्ता अधिवक्ता भगवानू नायक ने प्रदेश में बढ़ती हुई बलात्कार, महिला अपराध, हत्या, चाकूबाजी के साथ राजधानी में ड्रग्स, कोकीन, गांजा, शराबखोरी, सट्टा के अवैध कारोबार पर सरकार को आईना दिखाया है। भगवानू ने  कहा है कि छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर अब अपराध और अपराधियों का केंद्र बनते जा रही है। यहां पर शहर के हृदय स्थल में खुलेआम हत्या हो जाती है। लॉक डाउन में जहां आम जनता को दवा और दूध के लिए नियमों का भय दिखाया जाता है, वहीं रसूखदारों की ओर से नशे की पार्टी मनायी जाती है।  खुलेआम गोली चलाई जाती है। चाकूबाजी की घटना तो आम हो गई, कब किसी निहत्थे पर चाकू चल जाए और उसकी जान चली जाए कोई बड़ी बात नहीं रह गई है। 
भगवानू नायक ने कहा है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई है, सुबह अखबार में किसी बड़े अपराध घटित होने के हेडलाइन की खबर के साथ दिन की शुरुवात होती है, जिससे आम जनता में खौफ का माहौल बना हुआ कि कब किसके साथ कोई आपराधिक दुर्घटना घट जाए ? कब  किसी बहन बेटी की अस्मत  लूट जाए ? ऐसे में आज आम चर्चा का विषय बना हुआ है। राज्य की जनता जोगी राज को याद कर रही है, जब स्व. जोगी ने अपराध और अपराधियों को ठीक कर दिया था। जोगी राज में किसी अपराधी का किसी बहन या बेटी के साथ दुष्कर्म करने का दु:साहस तो दूर, बुरी नजर से देखने तक कि हिम्मत नहीं थी। भगवानू ने कहा है कि जल्द से जल्द  कानून व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त नहीं किए जाने पर जनता कांग्रेस सड़क से लेकर सदन तक धरना , प्रदर्शन और आंदोलन करेगी।

03-10-2020
बलरामपुर दुष्कर्म की घटना नहीं,मंत्री डहरिया की सोच छोटी : अमित जोगी

रायपुर। अमित जोगी ने मंत्री शिव डहरिया के बलरामपुर बलात्कार की घटना को छोटी और उत्तरप्रदेश हाथरस की घटना को बड़ी बताने पर कड़ी आपत्ति व्यक्त की है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे)के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने छत्तीसगढ़ की लाखों माताओं,बहनों से मांफी मांगने की मांग मंत्री डहरिया से की है। अमित ने मंत्री डहरिया के इस बयान को महिला विरोधी और महिलाओं का घोर अपमान करार दिया है।अमित ने कहा कि बलरामपुर दुष्कर्म की घटना छोटी नहीं है,बल्कि मंत्री शिव डहरिया की सोच और मानसिकता छोटी है।

बलरामपुर घटना को हाथरस कांड से तुलना कर उक्त घटना को छोटी सी घटना कहकर मंत्री डहरिया अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकते। अमित जोगी ने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने के बाद यह कोई पहली बलरामपुर दुष्कर्म की घटना नहीं हैं। बल्कि विगत 20 माह में महिला अपराध की बढ़ोतरी हुई है। कांग्रेस राज में छत्तीसगढ़ की माताएं और बहनें सुरक्षित नहीं हैं। लगातार छेड़खानी, बलात्कार और विभिन्न महिला अपराध कोरोना की तरह बढ़ता ही जा रहा हैं। ऐसे में छत्तीसगढ़ शासन के एक जिम्मेदार मंत्री छत्तीसगढ़ के बलरामपुर में घटित दुष्कर्म की घटना को छोटी बता रहे हैं। इससे प्रदेश की लाखों महिला बहनों का मनोबल गिरा है। अपराधियों का हौसला बुलंद हुआ है, जिसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है।

 

07-06-2020
महिला ने ससुराल वालों के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत, एफआईआर दर्ज                    

दुर्ग। कोतवाली के अंतर्गत पद्मनाभपुर चौकी में बलात्कार और दहेज प्रताड़ना हाईप्रोफाइल मामला सामने आया है। इसमे महिला ने पति समेत 5 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस के मुताबिक प्रार्थिया की शादी 2014 में हुई थी। कुछ समय पूर्व से वह अपने मायके में रह रही है। बीते दिन उसने शिकायत दर्ज कराई गई। इस पर पुलिस ने दहेज प्रताड़ना व शारिरिक शोषण का मामला पंजीबद्ध करते हुए जांच शुरू कर दी है। वही वर्तमान में अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। वही मामला हाईप्रोफाइल और राजनीतिक रसूख की वजहों से चर्चा में है। मामले में आरोपी एक कालेज के संचालक और सांसद के करीबी बताये जा रहे हैं। पुलिस की माने तो घटना स्थल रायपुर का होने के कारण मामला जीरो में कायम कर अग्रिम जांच के लिए रायपुर भेज दिया है। दुर्ग पुलिस ने महिला की लिखित शिकायत पर जीरो पर भादवि की धारा 376[2][च], 376[च], 498[ए], 506, 34 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है। घटना स्थल थाना डीडी नगर रायपुर का होने की वजह से पुलिस ने प्रार्थिया का बयान दर्ज कर केस डायरी संबंधित थाने को भेज दी है। 

 

08-03-2020
शादी का प्रलोभन देकर बनाया शारीरिक संबंध, विवाह से किया इंकार, मामला दर्ज

रायपुर। शादी का प्रलोभन देकर सालों तक शारीरिक संबंध बनाने के बाद शादी करने से मना करने की रिपोर्ट टिकरापारा थाने में दर्ज की गई है। मिली जानकारी के मुताबिक टिकरापारा निवासी पीडि़ता 26 वर्ष ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि टिकरापारा में अमित कुमार सिंह निवासी ग्राम सरगाव अंबिकापुर में प्रार्थिया से जान पहचान होने पर शादी का प्रलोभन देकर 15 सितंबर 2015 से 28 दिसंबर 2019 के मध्य लगातार शारीरिक संबंध बनाता रहा। जब पीड़िता ने शादी करने के लिए कहा तो आरोपी ने विवाह से इंकार कर मुलाकात बंद कर दी। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 376 के तहत बलात्कार का मामला दर्ज कर लिया है। 

 

01-03-2020
आरटीआई में हुआ खुलासा, तीन साल में चलती ट्रेन में बड़े दुष्कर्म के मामले

नई दिल्ली। रेलवे में साल 2017 और 2019 के बीच रेलवे परिसर और चलती ट्रेनों में 165 से अधिक बलात्कार के मामले सामने आये। यह जानकारी आरटीआई के एक जवाब में सामने आई है। बलात्कार के मामलों की संख्या 2017 में 51 से कम होकर 2019 में 44 हो गई लेकिन 2018 में ऐसे मामलों में वृद्धि हुई थी जब ये बढ़कर 70 हो गए थे। नीमच के सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौर के सवाल पर आये जवाब के अनुसार 2017-2019 के दौरान रेलवे परिसर में बलात्कार के 136 मामले और चलती ट्रेनों में 29 मामले हुए जो कुल मिलाकर 165 होते हैं।

2018 में बलात्कार के 70 मामलों में से 59 मामले रेलवे परिसर में जबकि 11 ट्रेनों में हुए। 2017 में बलात्कार के 51 मामलों में से 41 रेलवे परिसर में जबकि 10 चलती ट्रेनों में सामने आये। महिलाओं के खिलाफ बलात्कार के अलावा अपराध के 1672 मामले हुए हैं, जिसमें से 802 रेलवे परिसर में जबकि 870 ट्रेनों में हुए। इन तीन वर्षों के दौरान रेलवे परिसर और ट्रेनों में अपहरण के 771 मामले, लूटपाट के 4718 मामले, हत्या के प्रयास के 213 मामले और 542 हत्या के मामले हुए हैं। रेलवे में पुलिसिंग राज्य का विषय है।

अपराध की रोकथाम, मामले दर्ज करना, उनकी जांच एवं रेलवे परिसरों और चलती ट्रेनों में कानून एवं व्यवस्था बनाये रखना राज्य सरकारों की जिम्मेदारी होती है, जिसका निर्वहन वे राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) या जिला पुलिस के जरिये करती हैं। रेलवे ने महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाये हैं। रेलवे में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में मंत्रालय ने पिछले महीने राज्यसभा को सूचित किया था कि जोखिम वाले और पहचान किये गए मार्गों या खंडों में औसतन 2200 ट्रेनों में रेलवे सुरक्षा बल सुरक्षा प्रदान करता है जबकि 2200 ट्रेनों में प्रतिदिन विभिन्न राज्यों में जीआरपी द्वारा सुरक्षा प्रदान की जाती है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804