GLIBS
10-04-2020
भूखे को भोजन कराने का काम करेगी प्रशासन और पुलिस,सेवा के बहाने सड़क पर दिखे तो होगी कार्रवाई

रायपुर/बिलासपुर। शहरवासियों को अब भूखों को भोजन कराने, मवेशियों को चारा देने के बहाने बाहर निकलना महंगा पड़ सकता है। नेक काम करने से किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं लेकिन शारीरिक दूरी का पालन कराने यानी सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं हो पा रहा है। जिला प्रशासन और पुलिस ने साफ कर दिया है कि मदद निगम या पुलिस के माध्यम से होगी। सेवा के बहाने सड़कों पर झुंड में घूमते पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी।

02-04-2020
विधायक ने ली बेजुबानों की सुध, शहर के कई स्थानों पर मवेशियों के लिए की चारे की व्यवस्था

महासमुंद। कोरोना संक्रमण के खतरे को रोकने के लिए लाॅकडाउन किया गया है। ऐसे में बेजुबान और बेसहारा जानवरों पर आफत टूटी है। जरूरतमंदों की सहायता के लिए विधायक विनोद चंद्राकर द्वारा मुहिम चलाई जा रही है। इस मुहिम के तहत जरूरतमंदों को राशन सामान व भोजन के पैकेट वितरित किए जा रहे हैं। इसके अलावा बेजुबान मवेशियों के लिए अतिरिक्त भोजन की व्यवस्था भी कर रहे हैं। गुरूवार को विधायक चंद्राकर ने पशु चिकित्सा विभाग के उपसंचालक झारिया व पशु चिकित्सक चंद्राकर के साथ शहर के दादाबाड़ा से लेकर बीटीआई तक कई स्थानों पर मवेशियों के लिए चारे की व्यवस्था की।

इस दौरान कुछ युवाओं ने विधायक चंद्राकर को बताया कि उनके द्वारा भी कुछ स्थानों पर मवेशियों के चारे की व्यवस्था की जा रही है। इस पर विधायक ने युवाओं की तारीफ करते हुए कहा कि बेजुबान जानवरों पर लाॅकडाउन में टूटी आफत में उनका सहारा बनने के लिए लोगों को आगे आना चाहिए। उन्होंने शहरवासियों से अपने आसपास घूमने वाले इन बेजुबानों को खाना खिलाकर पुण्य कमाने की बात कहीं। उन्होंने संकट की इस घड़ी में गरीब लोगों के साथ ही इन बेजुबान जानवरों की मदद करने लोगों से अपील की। इसके बाद विधायक चंद्राकर ने बीटीआई रोड स्थित जिला शिक्षा कार्यालय के मैदान में सब्जी बाजार लगाने वाले लोगों को मास्क वितरण किया। विधायक ने कोरोना के संक्रमण से बचने सलाह देते हुए लोगों को सुरक्षित रहने की अपील की।

30-11-2019
मवेशियों पर कहर बरपाने वाली खतरनाक बीमारी का छत्तीसगढ़ में प्रवेश

गरियाबंद। केरला झारखंड और ओडिशा के मवेशियों पर कहर बरपाने के बाद अब लंपी नामक खतरनाक बीमारी छत्तीसगढ़ में प्रवेश कर चुकी है। ओडिशा से लगे गरियाबंद जिले के गावों में मवेशियों को इस बीमारी ने अपना शिकार बनाया है। खास बात यह है कि एक से दूसरे मवेशी में फैलने वाली इस बीमारी का पता तब चला जब मीडिया ने इसकी खबर चलाई और रायपुर के अधिकारी जांच के लिए पहुंचे। रायपुर के वरिष्ठ पशु चिकित्सक ने जहां बीमार मवेशियों को दूसरों से अलग रखने के निर्देश दिए हैं वहीं केंद्र सरकार पहले ही इस संक्रामक बीमारी को लेकर एडवाइजरी जारी कर चुकी है।
रायपुर से पहुंची पशु चिकित्सकों की टीम ने इसकी पुष्टि की है। डॉक्टरों ने पशुओं में फैली बीमारी का नाम लंपी बताया है। बीमारी के बारे में अधिक जानकारी देते हुए डॉक्टरों ने बताया कि ये बीमारी झारखंड, ओडिसा और केरला में अब तक अपने पैर पसार चुकी है। भारत सरकार द्वारा बीमारी को लेकर स्पेशल एडवाईजरी जारी की गई है, जिसका पालन छत्तीसगढ़ में भी गंभीरता से किया जा रहा है। डॉक्टरों ने छत्तीसगढ में ये बीमारी ओडिसा से आने की बात कही है। जिले के दौरे पर पहुंचे डॉक्टरों ने प्रभावित गांवो का दौरा किया और पीड़ित पशुओं का उपचार किया, साथ ही कई पीडित पशुओं के सैंपल भी लिये, जिसे जॉच के लिए राज्य और राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं में भेजा जायेगा। चिकित्सको ने किसानों को पीड़ित पशु अन्य पशुओं से अलग रखने और उनका सही उपचार कराने की सलाह दी है। साथ ही स्थिति नियंत्रण में होने का दावा भी किया है। गौरतलब है कि ओडिसा सीमा से लगे गरियाबंद जिले के मैनपुर और देवभोग विकासखंड के दर्जनो गांवो में ये बीमारी फैल चुकी है और सैंकडो पशु इसकी चपेट में आ चुके हैं।

 

 

29-11-2019
गरियाबंद जिले में मवेशियों में फैली अज्ञात बीमारी, पशुपालक दहशत में

गरियाबंद। गरियाबंद जिले में बीते एक महीने से पशुओं में अज्ञात बीमारी फैली हुई है और यह पशु मालिकों में भारी दहशत का कारण बनी हुई है। बीमारी की शुरुआत पशुओं के शरीर में सूजन से होती है जो धीरे धीरे घाव में तब्दील हो जाती है। फिर कुछ दिन बाद पशु चारा खाना छोड़ देता है। किसानों के मुताबिक इस बीमारी से अब तक कई जानवरों की मौत  हो गई है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक ओडि़शा सीमा से लगे 20 गांवों में 100 से अधिक जानवर इस बीमारी से पीडि़त हैं, हालांकि जमीनी हकीकत इससे कहीं अलग है। ग्रामीणों की मानें तो देवभोग और मैनपुर इलाके के अधिकांश गांवों में ये बीमारी अपनी दस्तक दे चुकी है। पशु चिकित्सक भी बीमारी को लेकर फिलहाल असमंजस की स्थिति में है, अभी तक वे बीमारी का नाम भी पता नहीं लगा पाए हैं। पशु चिकित्सकों ने बीमार पशुओं के सैंपल जांच के लिए भेजे हैं और जांच रिपोर्ट आने के बाद ही सही इलाज होने की बात कह रहे है। फिलहाल डॉक्टर मक्खियों और मच्छरों से ये बीमारी फैलने का दावा कर रहे हैं और इसकी रोकथाम के लिए बीमार पशुओं को एंटीबायटिक दवाइयां दे रहे है।


 

25-11-2019
रायपुर रेल मंडल में कैटल रन ओवर के खतरे से निपटने चलाया जा रहा जागरुकता अभियान

रायपुर। रेलवे पटरियों पर मवेशियों के प्रवेश ने मंडल में ट्रेनों की समय की पाबंदी पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। मवेशियों के टकराने की बढ़ती घटनाएं ना केवल ट्रेनों की समय की पाबंदी, बल्कि ट्रेनों एवं उनमें यात्रा करने वाले यात्रियों की सुरक्षा और संरक्षा को भी एक गंभीर खतरा है। ट्रेनों के साथ मवेशियों के टकराने की बढ़ती घटनाओं को कम करने के लिए रायपुर मंडल मे जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है, साथ ही साथ मवेशियों के मालिकों को भी इससे होने वाले नुकसानों और कानूनों की समझाइश दी जा रही है। पशुपालकों को पहले स्थिति की गंभीरता से अवगत कराया जा रहा है, और यदि वे इसका पालन नहीं करते हैं, तो प्रशासन उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी कर सकता है। चराई करते समय, मवेशी रेलवे पटरियों पर आ जाते हैं और गाड़ियों की चपेट में आने से मर जाते हैं। ऐसे हादसों से न केवल गाड़ियो का परिचालन प्रभावित होता है बल्कि रेल्वे संपत्तियो को भी नुकसान होता है साथ ही साथ उनमे यात्रा करने वाले यात्रियो के जान माल की सुरक्षा भी खतरे मे पड़ जाती है। 

रेल प्रशासन द्वारा रेलवे सुरक्षा बल एवं संबधित निरक्षकां को इस प्रकार के मामले में कानूनी कार्यवाही के निर्देश दिए गए हैं। मवेशी मालिक अपनी मवेशियां को रेल लाइनों से दूर रखकर रेल परिचालन को सुगम बनाने मे मदद करें। इस तरह के मामले मे रेलवे अधिनियम 1989 की धाराएँ 153 और 154 के तहत जुमार्ना या कारावास या दोनों का प्रावधान है और इस प्रकार के मामले की पुनरावृति होने पर दोषी के खिलाफ अधिकाधिक अर्थदंड एवं कठोर कार्यवाही हो सकती है। रेलवे ट्रेनों की समय सीमा में सुधार एवं सुरक्षित यात्रा व परिवहन के लिए रेलवे की सीमा मे मवेशियों को प्रवेश करने से रोकने के लिए तत्पर है।
 

25-10-2019
भालू के हमले से घायल बुजुर्ग को विधायक ने बेहतर इलाज के लिए भिजवाया रायपुर

मनेंद्रगढ़। जंगल में मवेशियों को छोड़कर वापस घर लौट रहे बुजुर्ग पर तीन भालुओं ने हमले कर दिया। इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे तत्काल स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। जानकारी के अनुसार थाना झगडाखाड अंतर्गत पाराडोल निवासी  समारू पिता नन्हू आज सुबह करीब 9 बजे अपने मवेशियों को छोडऩे जंगल गया था। जब वह जंगल से लौट रहा था तभी तीन भालुओं ने उसपर एकाएक हमला कर दिया। इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे तत्काल मनेंद्रगढ़ के अस्पताल में भर्ती कराया गया। घायल बुजुर्ग को देखने के लिए सविप्रा उपाध्यक्ष व सोनहत भरतपुर विधायक गुलाब कमरो मनेंद्रगढ़ स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। उन्होंने डॉक्टर व परिजनों से मिलकर पीडि़त का स्वास्थ्य हाल चाल जाना। बुजुर्ग की गम्भीर हालत को देखते ही उन्होंने तत्काल रायपुर रेफर कराया। मनेंद्रगढ़ से रायपुर हॉस्पिटल  तक पूरी व्यवस्था उन्होंने की और हर सम्भव मदद का भरोसा दिया।

 

21-10-2019
फसलों की सुरक्षा, रोजगार और मवेशियों का संवर्धन करना गौठान का उद्देश्य

जांजगीर-चाम्पा। कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक की उपस्थिति में गौठान प्रबंधन एवं संचालन विषय पर आज जिला पंचायत कार्यालय सभाकक्ष में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कलेक्टर पाठक ने कहा कि फसलों की सुरक्षा, स्थानीय रोजगार उपलब्ध कराने एवं मवेशियों के संवर्धन के लिए गांवों में गौठान का संचालन प्रारंभ किया गया है। गौठान से जैविक खाद, गौ मूत्र से बने औषधि, गोबर गैस प्लाण्ट आदि गौठान समिति की आय का स्रोत बनेगा। गाय व गोबर से हमारी धार्मिक आस्था जुड़ी हुई है। छत्तीसगढ़ की परंपरा के अनुसार दीपावली के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा का आयोजन बड़े धूमधाम से होता है। इस वर्ष सभी गौठानों में गोवर्धन पूजा का आयोजन 28 अक्टूबर को किया जाएगा। कलेक्टर ने कार्यशाला में उपस्थित जनपद पंचायत के सीईओ और ग्राम पंचायत सचिवों से कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार गौठानों के संचालन के लिए ग्राम गौठान स्थायी समिति का गठन किया जाएगा। समिति के सदस्य चयन, गौठान में स्व सहायता समूह एवं कर्मचारियों की नियुक्ति एवं मानदेय भुगतान के संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों की सहभागिता से ही गौठान का संचालन संभव है। फसल कटाई के बाद गौठानों में चारा व्यवस्था के लिए किसानों को पैरा दान के लिए प्रेरित किया जाएगा।
 जिला  पंचायत सीईओ तीर्थराज अग्रवाल ने राज्य सरकार के दिशा निर्देश के क्रियान्वयन के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। राज्य स्तरीय मास्टर ट्रेनर मंजित कौर ने पीपीटी के माध्यम से बताया कि पुराने संमृद्ध गांवों की कल्पना साकार करने के लिए नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी का संवर्धन राज्य सरकार द्वारा जनभागीदारी से किया जा रहा है। कार्यशाला में ग्राम गौठान समिति के अध्यक्ष सहित अन्य पदाधिकारियों के मनोनयन के संबंध में जानकारी दी गई। समिति में 33 प्रतिशत महिला सदस्यों को शामिल किया जाएगा। समिति के अध्यक्ष का प्रस्ताव ग्रामसभा द्वारा किया जाएगा। जिसका अनुमोदन प्रभारी मंत्री द्वारा किया जाएगा। समिति के अध्यक्ष द्वारा अनुशंसित एवं प्रभारी मंत्री द्वारा अनुमोदित सम्मानित नागरिक को कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी दी जाएगी। समिति के आय-व्यय के लिए संयुक्त खाता का संचालन किया जाएगा। समिति में 5 सक्रिय युवा सदस्य सहित कुल 13 सदस्य होगें। समिति का कार्यकाल एक वर्ष का होगा।  कार्यशाला में बताया गया कि  गौठानों में पानी, बिजली, शैड, महिलाओं के लिए प्रसाधन व्यवस्था, पैराकुट्टी मशीन, चरवाहा कक्ष, पशु चिकित्सा आदि की व्यवस्था भी की जाएगी।  एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन दो पालियों में किया गया। प्रथम पाली में जनपद सीईओ और ग्राम पंचायत सचिव शामिल हुए। दूसरी पाली में वन, कृषि, उद्यान, पशुधन विकास विभाग, गौठान प्रभारी अधिकारी, कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक शामिल हुए।


 

09-10-2019
सीएम भूपेश बघेल बोले-एक दिन में नहीं बिगड़ती स्थिति, इसके लिए पूर्व सरकार जिम्मेदार

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सड़क पर बैठे आवारा मवेशियों की समस्या को लेकर प्रदेश की पूर्व भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। सीएम बघेल ने बुधवार को मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि पिछले 15 सालों की अव्यवस्था के कारण ऐसी स्थिति बनी है, ये एक दिन में हुआ नहीं है। छत्तीसगढ़ में लगभग 1 करोड़ 25 लाख पशुधन है और 35 लाख के आसपास मवेशी खुले में हैं। इनसे खेत भी बर्बाद हो रहे हैं और सड़क पर दुर्घटनाएं भी हो रही है। सीएम बघेल ने कहा कि हमारी सरकार आते ही इस ओर प्रयास किया। लगभग डेढ़ हजार से अधिक गौठान बन चुके है। हमारा अगला लक्ष्य शहर में, नगरीय निकायों में गौठान बनाना है। ये समस्या इतनी बड़ी है कि एक दिन या एक माह में इसका निदान नहीं किया जा सकता है, यह बगैर जनसहयोग के संभव नहीं है। इस मामले में सरकार अपनी तरफ से प्रयास कर रही है। जनसहयोग भी मिले तो हम सालभर में इस समस्या का निदान कर सकते हैं। सीएम बघेल ने विद्या मितान शिक्षक कल्याण संघ के नियमितीकरण की मांग पर कहा कि छत्तीसगढ़ विद्या मितान शिक्षक कल्याण संघ जन चौपाल में मुलाकात करने पहुंचे थे। विद्या मितान शिक्षक को हम लोगों ने मौका देने की बात कही थी। साथ ही जिले में तात्कालिक पद पड़े हुए हैं। आवश्यकता के हिसाब से उन्हें रखा जाएगा, लेकिन कहीं कुछ विसंगति होगी तो उसे भी देखा जाएगा। सीएम बघेल ने जवानों को बधाई और शुभकामनाएं भी दीं। उन्होंने कहा कि हमारे जवान लगातार नक्सलियों से लड़ते हुए नक्सलियों को पीछे धकेल रहे हैं। नक्सलियों की गिरफ्तारी और लगातार सरेंडर भी हो रहा है। सीएम ने चित्रकोट उपचुनाव पर दावा किया कि यह चुनाव भी हम जीतेंगे। उन्होंने कहा कि अभी जब मैं चित्रकोट गया तो देखने में आया कि कार्यकर्ताओं और लोगों में इसे लेकर उत्साह है। वहां बैठक भी हुई। सीएम बघेल ने कहा कि प्रचार के लिए वे स्वयं कल गुरुवार को चित्रकोट जाएंगे।

 

26-09-2019
नेशनल हाइवे 49 में बड़ी घटना, मिले दर्जन भर गायों के शव

जांजगीर चांपा। जिले से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। यहां एनएच 49 पर 12 गायों के शव मिले हैं। बताया जा रहा है कि इन्हें भारी वाहन ने रौंदा दिया और फरार हो गया। इसमें सभी 12 गायों की मौत हो गई है। एनएच पर गायों के शव पड़े हैं। मामला अकलतरा के अमरताल गांव का है। जानकारी के अनुसार सड़क पर मवेशियों के बैठने से यह घटना हुई। सूचना पर निगम और पुलिस की टीम मौके पर पहुंचकर सड़कों मृत गायों को हटाने की कार्रवाई में जुटी है। फरार वाहन चालक की पतासाजी की जा रही है। बता दें कि एक दिन पहले ही प्रयास गौ रक्षा की टीम ने एक दिवसीय भूख हड़ताल की थी। प्रयास गौ रक्षा के लोगों ने कहा था कि जिले में गायों के संरक्षण नहीं किया जा रहा है और उनकी सुरक्षा के लिए कोई ठोस उपाय नहीं किए जा रहे हैं।  

 

25-09-2019
Breaking : गौ रक्षा को लेकर युवा बैठे भूख हड़ताल पर

जांजगीर चांपा। गौ रक्षा को लेकर चांपा नगर के युवा एक दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठ गए है। इसमें युवाओं ने मांग की है कि चांपा नगर के मुख्य मार्ग व अन्य सभी स्थानों से सभी मवेशियों को हटाकर एक सुरक्षित स्थान व्यवस्थित करें। पशु चिकित्सक व उचित इलाज साथ में उनके चारा समुचित व्यवस्था की जाए। युवाओं ने इस आंदोलन को यज्ञ रूपी आंदोलन का नाम दिया है। सभी युवा भूख हड़ताल पर बैठे हुए हैं। सभी युवा जिला प्रशासन पर गौ रक्षा को लेकर लापरवाही का आरोप लगाते हुए नारेबाजी कर रहे हैं।

21-09-2019
पकड़ा गया घरों में घुसकर मवेशियों पर हमला करने वाला आतंकी भालू

बलरामपुर। बलरामपुर में जहां एक ओर जंगली हाथियों ने अपना उत्पात जारी रखा है तो वही जंगली भालू ने भी गांव में घुसकर जमकर उत्पात मचाया। जंगली भालू ने गाँव मे उत्पात से हड़कंप मचा हुआ था। जंगली भालू ने कई ग्रामीणों के घरों के भीतर घुस कर मवेशियों पर हमला कर रहा था। इस दौरान भालू के हमले में दो बैलों की मौत हो गई और कई घायल हो गए। मामला बलरामपुर जिले के वन परिक्षेत्र वाड्रफनगर के ग्राम पंचायत ढोढ़ी पानसरा का है, जहां पर गांव के भीतर सुबह-सुबह एक जंगली भालू घुस आया। जंगली भालू ने कई मवेशियों पर हमला कर उन्हें घायल कर दिया। जंगली भालू के आतंक से परेशान ग्रामीणों ने वन विभाग को गांव में भालू के आतंक की जानकारी दी, जिसके बाद वन विभाग की वाइल्डलाइफ डीएफओ के नेतृत्व में खूंखार भालू को रेस्क्यू कर रमकोला वनक्षेत्र में छोड़ा गया। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804