GLIBS
10-09-2020
लोन वर्राटू योजना से प्रभावित होकर इनामी माओवादी ने किया आत्मसमर्पण

दंतेवाड़ा। जिले में चलाए जा रहे लोन वर्राटू योजना से प्रभावित होकर नक्सली समाज की मुख्यधारा में जुड़ने के उद्देश्य से आत्मसमर्पण कर रहे हैं। लोन वर्राटू योजना से प्रभावित होकर एक लाख रूपए इनामी माओवादी मिलिशिया कमाण्डर कोसा कवासी ने 5 किलोग्राम आईईडी के साथ खुद को कुआकोण्डा पुलिस स्टेशन में आत्मसपर्ण किया। तेतम गांव में ही चार दिन पहले नक्सली भय एवं दबाव के कारण पुलिस कैम्प के विरोध में रैली की गई थी। नक्सलियों के भय के बावजूद भी गाँव के नक्सली हिम्मत दिखाते हुए नक्सलियों के चंगुल से आज़ाद हो रहे हैं।

 

03-09-2020
स्कूल संचालकों की मनमानी जारी, फीस को लेकर छात्र पालक संघ का विरोध तेज

रायपुर। फीस को लेकर स्कूल संचालकों की बढ़ती मनमानी का पलकों ने विरोध तेज कर दिया है। प्रदेश के अलग-अलग शहरों में छात्र पालक संघ के लोग शासन के समक्ष शिकायत प्रस्तुत करते हुए नो स्कूल नो फीस की मांग कर रहे हैं। वहीं स्कूल संचालकों ने फीस नहीं पटाने पर 8 सितंबर से ऑनलाइन पढ़ाई बंद करने की चेतावनी दी है। राजधानी रायपुर के जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में होली क्रॉस स्कूल, बैरन बाजार में पढ़ने वाले बच्चों के परिजन शिकायत लेकर पहुंचे हुए थे। पता चला कि किसी स्टॉफ के कोरोना पॉजिटिव निकल जाने के कारण कार्यालय 5 दिनों के लिए बंद कर दिया गया है। पालकों ने बताया कि उनसे सत्र के प्रारंभ से लेकर अब तक की फीस मांगी जा रही है, जबकि तब ऑनलाइन कक्षाएं भी अच्छी तरह शुरू नहीं हुई थीं, वहीं साल के शुरू में लिया जाने वाला एकमुश्त शुल्क भी फीस में जोड़कर किश्तों में मंगा जा रहा है। 

पालकों ने बताया कि स्कूल का स्टॉफ भी उनसे बदतमीजी से पेश आ रहा है। वे जब स्कूल पहुंचे तब उन्हें कोरोना के बहाने रोक दिया गया, जबकि फीस पटाने आये पालकों को रोका तक नहीं गया। यहाँ अपनी फरियाद लेकर पहुंची बिंदु मोल नाम की महिला ने बताया कि वो परित्यक्ता है और उसकी अपील पर होलीक्रॉस स्कूल, बैरन बाजार के फादर ने पिछले साल उसके दो बच्चों की फीस माफ करने का आदेश दिया था। लेकिन आज प्रबंधन द्वारा बीते वर्ष से लेकर अब तक की फीस एकमुश्त जमा करने और टीसी लेकर जाने को कहा जा रहा है।

होलीक्रॉस स्कूल, बैरन बाजार से संबंधित इन पालकों को प्रिंसीपल से मिलने नहीं दिया गया और उल्टे बाहर का रास्ता दिखा दिया गया, छात्र पालक संघ के समक्ष पालकों की शिकायत होने पर इन्हें समर्थन देने पहुंचे छत्तीसगढ़ छात्र-पालक संघ के अध्यक्ष नजरुल खान ने बताया कि स्कूलों की फीस विधिवत तरीके से पालक-शिक्षक संगठन की बैठक में अनुशंसा के बाद डीईओ की अनुमति से तय की जाती है, मगर यह प्रक्रिया किसी भी स्कूल प्रबंधन द्वारा अपनायी नहीं जाती है। इसलिए समस्त स्कूलों द्वारा पालकों से मांगी जा रही समस्त फ़ीस पूरी तरह से अवैध है वैसे भी लॉक डाउन में बेरोजगारी से त्रस्त पालक फीस पटाने में सक्षम भी नहीं हैं। नजरुल खान ने यह भी बताया कि स्कूल संचालकों के संगठन ने 8 सितंबर तक फीस नहीं पटाये जाने की स्थिति में ऑनलाइन पढ़ाई बंद करने की चेतावनी दी है। शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत फीस नहीं पटाने के चलते कोई भी स्कूल प्रबंधन न तो पढ़ाई रोक सकता है और न ही बच्चे को स्कूल से निकाल सकता है। फिलहाल उनका संगठन देख रहा है कि इस मामले में शासन स्कूलों के खिलाफ शिक्षा के अधिकार कानून के तहत कार्यवाही करता है या नहीं, अन्यथा पालक संघ आंदोलन के लिए तैयार हैं। गौरतलब है कि स्कूल फीस को लेकर हाइकोर्ट में अलग-अलग वाद दायर किया गया है, इनमें से कुछ के फैसले आना अभी बाकी है, इसमें प्रमुख मांग ये है कि ट्यूशन फीस की सही ढंग से व्याख्या की जाए, तभी स्कूलों में फीस पटा पाना संभव होगा, और स्कूल संचालकों की मनमानी पर रोक लग सकेगी।

02-09-2020
संपत्ति कर आधा करने के वादे की याद दिलाने सामान्य सभा में अनोखा प्रदर्शन

अम्बिकापुर। नगर निगम अम्बिकापुर में सामान्य सभा कि बैठक में सम्पत्तिकर आधा करने को लेकर एक अलग तरह का विरोध प्रदर्शन देखने को मिला। सरगुजा सांसद प्रतिनिधि कैलाश मिश्रा सामान्य सभा की बैठक में प्रींटेड टीशर्ट पहन कर पहुंचे। इस टी शर्ट में स्थानीय अखबारों में प्रकाशित एक खबर प्रिंट थी,जिसमें हैडलाइन थी कि नगर निगम ने कहा कि सरकार से लडाई लड़नी पडी तो लडेंगे,वायदे के अनुरूप आधा करेंगे टैक्स। यह पूरा मामला 2014 का हैं जब अंबिकापुर नगर निगम में कांग्रेस की सरकार आई थी। उस दौरान कांग्रेस ने यह वादा किया था कि सरकार बनते ही संपत्तिकर आधा कर दिया जायेगा। लेकिन इसके बावजूद निगम सरकार अपने वादे को पूरा नहीं कर पाई। इसके विरोध में सांसद प्रतिनिधि कैलाश मिश्रा ने पेपर कटिंग का प्रिंट वाला टीशर्ट पहन कर सामान्य सभा की बैठक में पहुंच गए ताकि नगर निगम सरकार का इस वादे की और ध्यान आकर्षित हो सके।

 

30-08-2020
कोरोना संक्रमित के शव जलाने का गोंडवाना समाज ने जताया विरोध,संसदीय सचिव से की मुलाकात

कांकेर। कोरोना संक्रमित के शव जलाने को लेकर अब अलबेलापारा में भी विरोध शुरू हो गया है। विरोध जताने माहुरबंदपारा व अलबेलापारा के गोंडवाना समाज के लोग एकजुट होकर विधायक निवास पहुंचे। जिला प्रशासन के द्वारा अभी कोरोना संक्रमितों के मौत के बाद उनके शवों को जलाने के लिए जगह का चिन्हांकन नहीं किया गया है।शहर के अलबेलापारा में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए कोविड अस्पताल खोला गया है। कोविड अस्पताल के पास ही कोरोना संक्रमित मरीजों के मृत्यु होने पर उनके शवों को वहीं जलाया जा रहा है। इसका गोंडवाना समाज के लोगों ने विरोध जताया।  विधायक से मिलने पहुंचे समाज के लोगों ने बताया कि जहां पर कोरोना संक्रमित शव जलाये जा रहे हैं, वहां पर कई सालों से उनके परिजनों के शवों का दफन किया गया है,जो कि गोंडवाना समाज का मरघट स्थल है। समाज के लोगों का कहना है कि गोंडवाना समाज की रीति के अनुसार मरघट स्थल में अन्य व्यक्तियों के शवों को जलाना अनुचित है।

इससे जहां आसपास रह रहे लोगों में कोरोना संक्रमण का खतरा व्याप्त हो रहा है तो वहीं परंपरा के खिलाफ भी है। विधायक शिशुपाल शोरी ने कहा कि कलेक्टर से इस संबंध में चर्चा की जायेगी। उन्होंने समाज के लोगों को आश्वासन दिया कि अब गोंडवाना समाज के मरघट स्थल में कोई भी शव जलाने नहीं दिया जायेगा। गोंडवाना समाज के स्थानीय पदाधिकारी पंचराम सलाम, मुड़ादार अजय कुमेटी, महेन्द्र सिंहसार, गोर्वधन कुमेटी ने बताया कि दूसरे दिन फिर विधायक व संसदीय सचिव शिशुपाल शोरी से चर्चा हुई है। उन्होंने कहा है कि यदि मरघट स्थल पर शव जलाने ले जाया जाता है तो विरोध करने सबसे पहले वे मौके पर खड़े हो जायेंगे। विधायक से भेंट करने वालों में अलबेलापारा-माहुरबंदपारा के गोंडवाना समाज की तुलसी बाई कुमेटी, बहुराबाई, रजंतीन मरकाम, जमुना कुमेटी, सगीना ठाकुर, मीनाबाई मंडावी, चंपाबाई सलाम, श्यामबत्ती सलाम, उषा ठाकुर मौजूद थीं।

 

30-08-2020
Video: कोरोना संक्रमित शव के अंतिम संस्कार के खिलाफ लोगों ने खोला मोर्चा, प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज

कोरबा। दैहानपारा बालको में कोरोना संक्रमित के शव को दफ़नाने को लेकर विरोध जारी है। पुलिस और प्रशासन के समझाइश के बाद भी लोग विरोध कर रहे हैं। उनकी मांग है कि कोरोना संक्रमित बॉडी को यहां ना दफनाकर कही और दफनाया जाये। इसी बीच पुलिस और लोगों के बीच झड़प हो गई। इसके बाद पुलिस और महिला पुलिस बल ने लाठीचार्ज किया। लाठीचार्ज के दौरान एक महिला पुलिस कर्मी के सिर में चोट लगी। लोगों का विरोध जारी है।

27-07-2020
रत्नाबांधा के बाद अब गोकुलपुर में शराब दुकान खोलने का विरोध होने लगा तेज

धमतरी। रत्नाबांधा रोड में शराब दुकान खोलने के विरोध में प्रदर्शन जारी है, कल दुर्ग रोड में चक्काजाम की भी कोशिश की गई थी, यह मामला अभी शांत भी नहीं हुआ है और गोकुलपुर वार्ड में प्रस्तावित शराब दुकान का विरोध तेज होने लगा है। भटगांव रोड में जहां शराब दुकान खोली जानी है आसपास स्कूल,शासकीय कार्यालय के साथ रिहायशी क्षेत्र है। तीन वार्ड के लोगों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर मांग की है कि शराब दुकान अन्यत्र खोली जाएं अन्यथा अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

18-07-2020
रेलवे के निजीकरण का सीआईटीयू ने किया विरोध

अम्बिकापुर। केंद्रीय सरकार द्वारा रेलवे के निजीकरण किए जाने के विरोध में सीआईटीयू ने 16 एवं 17 जुलाई को एक दिवसीय अखिल भारतीय स्तर पर विरोध दिवस का आयोजन समीप के रेलवे स्टेशन पर किए जाने का आह्वान किया था। इसके परिपालन में अंबिकापुर यूनाइटेड फोरम ऑफ ट्रेड यूनियन के बैनर तले विभिन्न संगठनों ने अंबिकापुर रेलवे स्टेशन पर 17 जुलाई को एक दिवसीय विरोध प्रदर्शन किया और प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन स्टेशन मास्टर को दिया।  प्रकाश नारायण सिंह, प्रवीण सिंह, रघुनाथ प्रधान, मनोज द्विवेदी, अनंत सिन्हा, सुधीर तिवारी,एचआर पात्रे के साथ यूनियन के सदस्यों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कार्यक्रम आयोजित किया गया।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804