GLIBS
24-08-2020
नरेन्द्र मोदी कांग्रेस से नहीं बल्कि गांधी परिवार के मजबूत नेतृत्व क्षमता से डरते हैं : विकास उपाध्याय

रायपुर। दिल्ली में कांग्रेस के नए अध्यक्ष चुने जाने की अटकलों और जारी के बीच संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस ली। विकास ने गांधी परिवार के हाथों ही नेतृत्व सौंपे जाने की वकालत करते हुए कहा है कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सार्वजनिक जगहों से लेकर कई मौकों पर कहते हैं कि, वो कांग्रेस मुक्त भारत चाहते हैं, दरअसल ऐसा नहीं, वे असल में गांधी परिवार मुक्त कांग्रेस की बात करते हैं। इस बात को कांग्रेस के एक-एक कार्यकर्ता व पार्टी के नेताओं को समझ जाना चाहिए। मोदी कांग्रेस से नहीं बल्कि ज्यादा गांधी परिवार के मजबूत नेतृत्व क्षमता से डरते हैं।

विकास उपाध्याय ने कहा कि, कांग्रेस पार्टी को राहुल गांधी में उम्मीद नजर आती है ,क्योंकि वो वास्तव में नरेंद्र मोदी का एक विकल्प पेश करते हैं। मोदी की हर नीति को राहुल गांधी चुनौती देते नजर आते हैं। पिछले कुछ वर्षो में यदि विभिन्न राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव कि स्थति के बारे में भी यदि ध्यान दिया जाए तो, गुजरात समेत मध्यप्रदेश, राजस्थान, पंजाब, कर्नाटक, मणिपुर, पांडिचेरी और छत्तीसगढ़ में पार्टी ने मजबूत स्थति कायम की। इसमें गुजरात में तो राहुल गांधी के ताबड़तोड़ प्रचार के चलते लगभग कांग्रेस पार्टी का बराबरी का मुकाबला रहा है। इन चुनावों में भी मतदाताओं ने राहुल गांधी के चेहरे को सामने में रख मतदान किया था, इससे इनकार नहीं किया जा सकता।

विकास उपाध्याय ने कहा कि, बीजेपी एक चुनौती है कहना गलत है। ये भी हमें नहीं भूलना चाहिए कि, पिछले विधानसभा चुनाव में दिल्ली और झारखंड में बीजेपी की हार भी हुई। इसलिए यह बात नहीं है कि, कांग्रेस या फिर विपक्ष बीजेपी को टक्कर नहीं दे सकते। या फिर उसका विकल्प नहीं बन सकते। राहुल गांधी एक मात्र नेता हैं, जो इसके वास्तविकता का लगातार खुलासा कर सामने आ रहे हैं। इसीलिए मोदी को भय है तो बस इस गांधी परिवार से, जिसे कांग्रेस को भी असली ताकत के रूप में अख्तियार करना चाहिए।

24-08-2020
कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में चर्चा जारी, प्रियंका ने नबी तो राहुल ने सिब्बल को घेरा...

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक की चर्चा जारी है। पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बैठक में सदस्यों से कहा है कि उन्हें अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी से मुक्त कर दें और पार्टी को संकट से उबारने के लिए प्रयास करें। साथ ही बैठक में सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी को लेकर चर्चा जारी है। कई वरिष्ठ नेताओं ने इसको लेकर नाराजगी जाहिर की है। बैठक से पहले पार्टी मुख्यालय के बाहर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी की और गांधी परिवार से ही किसी को अध्यक्ष बनाने की मांग की। 

कार्यसमिति की बैठक में कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुलाम नबी आजाद के बयान पर कहा है कि आप जो कह रहे हैं वह चिट्ठी में लिखी बातों से बिल्कुल अलग है। कार्यसमिति की बैठक में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने राहुल गांधी के उस आरोप का जवाब दिया। जिसमें उन्होंने बीजेपी की मदद करने का आरोप लगया। सिब्बल ने कहा, ''राजस्थान उच्च न्यायालय में कांग्रेस पार्टी का बचाव किया। भाजपा सरकार को गिराने के लिए मणिपुर में पार्टी का बचाव। पिछले 30 सालों ने कभी भी किसी मुद्दे पर बीजेपी के पक्ष में बयान नहीं दिया। फिर भी "हम भाजपा से मिले हुए हैं!'' हालांकि कि आजाद ने जवाब देते समय राहुल गांधी का नाम नहीं लिया। कार्यसमिति की बैठक में गुलाम नबी आज़ाद ने पत्र लिखने के कारण बताए साथ ही इस्तीफे की भी पेशकश की। गुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि वह इस्तीफा दे देंगे अगर वह किसी भी तरह से भी भाजपा की मदद कर रहे थे या दूसरे के इशारे पर ऐसा कर रहे थे।

08-07-2020
जो सच के लिए लड़ते हैं, उनकी कोई कीमत नहीं होती और उन्हें धमकाया नहीं जा सकता: राहुल गांधी

नई दिल्ली। गांधी परिवार से जुड़े तीन ट्रस्‍टों की जांच को लेकर मोदी सरकार की तरफ से गठित की गई समिति को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है, जो सच के लिए लड़ते हैं, उनकी कोई कीमत नहीं होती और उन्हें धमकाया नहीं जा सकता है। राहुल गांधी इस मामले को लेकर केंद्र सरकार पर आक्रामक हो गए हैं। राहुल ने ट्वीट करते हुए लिखा है, मिस्टर मोदी को लगता है कि दुनिया उनके जैसी है, उन्हें लगता है कि हर किसी की कोई कीमत है या उसे धमकाया जा सकता है। वह कभी नहीं समझेंगे कि जो सच के लिए लड़ते हैं, उनकी कोई कीमत नहीं होती और उन्हें धमकाया नहीं जा सकता है।

 

04-07-2020
कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने के लिए कुछ बदलाव जरूरी हैं : चंद्रशेखर शर्मा

रायपुर। काँग्रेस पार्टी की स्थिति पर लगातार नजर बनाए रखने वाले कांग्रेस चिंतक और समाजसेवी रायपुर निवासी चंद्रशेखर शर्मा ने काँग्रेस पार्टी की मौजूदा स्थिति को देखते हुए मीडिया के माध्यम से अपने निजी विचार रखते हुए कहा है कि, आंदोलन से निकली हुई पार्टी को अपने मूलभूत सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए केंद्र की मौजूदा मोदी सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ अभियान शुरू करते हुए अब जन आंदोलन और जेल भरो आंदोलन करने की अत्यधिक आवश्यकता है। काँग्रेस पार्टी को अपने अभियान को सफल बनाने के लिए सर्वप्रथम संगठन में अमूलचूल परिवर्तन करने की अत्यधिक आवश्यकता है,जिसके तहत राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर पर अनुभव और जोश का समीकरण बनाने की जरूरत है। आज सर्वाधिक आवश्यकता है, कि काँग्रेस पार्टी की कमान युवा वर्ग के हाथ में हो इसके साथ ही अनुभव और मार्गदर्शन का भी समावेश हो।

चंद्रशेखर शर्मा ने कहा कि काँग्रेस पार्टी में गांधी परिवार एक मजबूत धागे का काम करता है जिसने तमाम काँग्रेस जनों और काँग्रेसी विचारधारा वाले लोगों को एक साथ पिरोकर रखा है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए राहुल गांधी को काँग्रेस अध्यक्ष बनाते हुए राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर पर ज्यादा से ज्यादा युवाओं को संगठन में शामिल किया जाना चाहिए। इसके साथ ही काँग्रेस पार्टी को इस युवा वर्ग को मार्गदर्शन देने के लिए एक मार्गदर्शक मंडल का गठन करना चाहिए जिसमें काँग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह, पी. चिदंबरम, एके एंटनी जैसे और भी अनुभवी लोगों समूचे देश से चुनाव करके शामिल करना चाहिए। इसी प्रकार प्रदेश, जिला और ब्लॉक स्तर पर भी संगठन में अनुभव और जोश का समीकरण बनाने की जरूरत है। काँग्रेस पार्टी को ऐसे लोगों को संगठित करने की अत्यधिक आवश्यकता है जो कि पार्टी के नाम का उपयोग अपने निजी स्वार्थ के बजाय जनसेवा के करें। संगठन में शामिल किए जाने वाले सभी लोगों की कार्यकुशलता का विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए न कि किसी नेता की सिफारिश पर।

13-01-2020
रक्षामंत्री और योगी समेत 13 वीआईपी की सुरक्षा से हटाए जाएंगे ‘ब्लैक कैट’ कमांडो

नई दिल्ली। गांधी परिवार से एसपीजी कवर वापस लेने और वीआईपी सुरक्षा में व्यापक कटौती के बाद केंद्र सरकार ने एनएसजी कमांडो को पूरी तरह इस काम से हटाने का फैसला किया है। अब रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत 13 वीआईपी हस्तियों को एनएसजी के ‘ब्लैक कैट’ कमांडो सुरक्षा नहीं देंगे। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, करीब दो दशक बाद ऐसा होगा जब एनएसजी कमांडो को वीआईपी सुरक्षा ड्यूटी से हटाया जाएगा। वीआईपी सुरक्षा से एनएसजी को हटाने से करीब 450 कमांडो मुक्त हो जाएंगे, जिनका इस्तेमाल देश में बने इनके पांच ठिकानों में इनकी मौजूदगी को और मजबूत करने में किया जाएगा। 1984 में जब एनएसजी का गठन हुआ था, तब वीआईपी ड्यूटी इसके मूल कामों में शामिल नहीं थी। एनएसजी ‘जेड प्लस’ श्रेणी सुरक्षा प्राप्त 13 वीआईपी हस्तियों को सुरक्षा देता है। प्रत्येक के साथ दो दर्जन एनएसजी कमांडो होते हैं। गृहमंत्रालय का मानना है कि एनएसजी को आतंकवाद और विमान अपहरण जैसी गतिविधियों के खिलाफ अभियान के अपने मूल काम पर ध्यान लगाना चाहिए।

सीआरपीएफ और सीआईएसएफ को मिलेगा जिम्मा

सुरक्षा प्रबंधों में शामिल एक अधिकारी ने बताया कि जल्द एनएसजी से इन वीआईपी का सुरक्षा जिम्मा वापस लेकर सीआरपीएफ और सीआईएसएफ को सौंपी जा सकता है, जो पहले ही 130 विशिष्ट लोगों को सुरक्षा मुहैया करा रही है। सीआरपीएफ पूर्व पीएम मनमोहन सिंह व उनकी पत्नी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को सुरक्षा दे रही है। वहीं, सीआईएसएफ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत समेत अन्य प्रमुख लोगों की सुरक्षा दे रही है।

इन्हें मिला है एनएसजी कवर

राजनाथ और योगी आदित्यनाथ के अलावा यूपी की पूर्व सीएम मायावती, मुलायम सिंह, आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू, पंजाब के पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल, जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला, असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल और भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को भी एनएसजी कवर मिला है।

 

20-11-2019
राज्यसभा में उठा गांधी परिवार से एसपीजी सुरक्षा हटाने मुद्दा, भाजपा ने दिया ये जवाब

नई दिल्ली। कांग्रेस ने संसद के शीतकालीन सत्र के तीसरे दिन बुधवार को राज्यसभा में गांधी परिवार से एसपीजी सुरक्षा हटाने को लेकर मुद्दा उठाया। इस विषय को लेकर कांग्रेस आक्रमक रूख अपनाए हुए हैं। आज ही यूथ कांग्रेस इसी विषय को लेकर संसद पर मार्च करेगी। राज्यसभा में कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने गांधी परिवार से एसपीजी सुरक्षा हटाने को लेकर कहा कि इस मुद्दे पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। गांधी परिवार से एसपीजी सुरक्षा हटाने के मुद्दे पर जवाब देते हुए बीजेपी सांसद जेपी नड्डा ने राज्यसभा में कहा कि इस मामले में कोई राजनीतिक नहीं हो रही है, गृह मंत्रालय का एक निर्धारित पैटर्न है और एक प्रोटोकॉल है।  कांग्रेस सांसद छाया वर्मा ने राज्यसभा में छत्तीसगढ़ से धान की खरीद और आम आदमी पार्टी सांसद संजय सिंह ने दिल्ली की कानून व्यवस्था को लेकर शून्यकाल नोटिस दिया है। 
 

19-11-2019
कांग्रेस की चेतावनी : गांधी परिवार को कुछ हुआ तो भाजपा होगी जिम्मेदार

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन भी लोकसभा में शुरू होने वाली बैठक हंगामे के साथ शुरू हुई। कांग्रेस नेता सोनिया, राहुल गांधी से एसपीजी की सुरक्षा वापस लिये जाने के मुद्दे पर कांग्रेस, द्रमुक के सदस्यों ने पूरे प्रश्नकाल में आसन के समीप नारेबाजी की। शून्यकाल में इन दलों ने इस विषय पर सदन से वाकआउट किया। शून्यकाल में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने जब इस विषय को उठाने का प्रयास किया तो लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि कांग्रेस सदस्य पहले ही इस विषय को नियम-प्रक्रिया के तहत उठा चुके हैं। चौधरी ने कहा कि गांधी परिवार के सदस्यों की जान खतरे में है। सोनिया गांधी और राहुल गांधी साधारण सुरक्षा प्राप्त करने वाले लोग नहीं हैं और 1991 से एसपीजी की सुरक्षा प्राप्त कर रहे थे। उन्होंने प्रश्न किया कि अचानक से एसपीजी सुरक्षा क्यों हटा ली गई? गांधी परिवार पर अगर किसी तरह का हमला होता है तो इसके लिए बीजेपी जिम्मेदार होगी। लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने कहा कि चौधरी इस विषय को पहले ही उठा चुके हैं। स्पीकर ने उन्हें आगे बोलने की इजाजत नहीं दी।

संसदीय कार्य राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि कांग्रेस सदस्य के इस विषय पर कार्यस्थगन प्रस्ताव के नोटिस को स्पीकर खारिज कर चुके हैं। यह अब शून्यकाल का विषय नहीं है और इसे बिना नोटिस के कांग्रेस सदस्य कैसे उठा सकते हैं। इस पर कांग्रेस के सभी सदस्य खड़े होकर विरोध दर्ज कराने लगे। चौधरी को इस विषय पर आगे बोलने की अनुमति नहीं दिये जाने पर कांग्रेस और राकांपा के सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया। इसके बाद द्रमुक के टीआर बालू ने भी इस विषय को उठाने का प्रयास किया। लेकिन उन्हें भी बोलने की अनुमति नहीं दी गई। जिसके बाद द्रमुक सदस्यों ने भी सदन से वाकआउट किया। इससे पहले मंगलवार सुबह सदन की बैठक शुरू होते ही कांग्रेस सदस्यों ने आसन के पास आकर नारेबाजी शुरू कर दी। द्रमुक सदस्य भी गांधी परिवार के सदस्यों की एसपीजी सुरक्षा हटाये जाने के विरोध में आसन के समीप पहुंच कर नारेबाजी करने लगे। गौरतलब है कि हाल ही में सरकार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी की एसपीजी सुरक्षा वापस ले ली थी। अब उन्हें जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई है। हंगामे के बीच ही लोकसभा अध्यक्ष ने प्रश्नकाल चलाया और किसानों से संबंधित विषय पर सदस्यों ने कृषि मंत्री से प्रश्न पूछे। बिरला ने नारेबाजी कर रहे सदस्यों से अपने स्थान पर जाने की अपील करते हुए कहा कि किसानों के विषय पर चर्चा हो रही है और ऐसे में सदन में हंगामा अच्छी परंपरा नहीं है।
 

16-11-2019
युवा कांग्रेस ने गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने के विरोध में किया प्रदर्शन

रायपुर। युवा कांग्रेस द्वारा गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने के विरोध में शनिवार को यहां राजीव गांधी चौक पर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। इसके साथ ही युवा कांग्रेस धरना प्रदर्शन के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन भी सौंपेगी। युवा कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि केंद्र की भारतीय जनता पार्टी की सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने का निर्णय गलत है। इसके विरोध में युवा कांग्रेस ने एक दिवसीय धरना दिया है। युथ कांग्रेसियों का कहना है कि धरना प्रदर्शन के माध्यम से एसपीजी सुरक्षा हटाए जाने के निर्णय की निंदा की गई है। जिस परिवार ने देश के लिए शहादत दी, कुबार्नी दी ऐसे परिवार की सुरक्षा हटाना बेहद निंदनीय है। उन्होंने कहा कि बदले और द्वेष की राजनीति भारतीय जनता पार्टी कर रही है। शनिवार को सांकेतिक रूप से युथ कांग्रेसियों ने अपनी मांग रखते हुए धरना प्रदर्शन के माध्यम से देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को निवेदन पत्र देकर गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा वापस लेने की मांग की है। बता दें कि केंद्र सरकार ने गांधी परिवार में सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की एसपीजी सुरक्षा हटाई है। जबकि जेड श्रेणी की सुरक्षा अभी इनके पास है, सीआरपीएफ ने इन नेताओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाल ली है।

24-06-2019
गांधी परिवार के बाहर से बन सकता है कांग्रेस अध्यक्ष : मणिशंकर अय्यर

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने रविवार को कहा कि गैर गांधी भी कांग्रेस का अध्यक्ष बन सकता है, लेकिन गांधी परिवार को पार्टी में सक्रिय रहना होगा। उन्होंने दावा किया कि भाजपा का उद्देश्य पहले गांधी मुक्त कांग्रेस और फिर कांग्रेस मुक्त भारत बनाना है। अय्यर ने कहा कि अगर राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बने रहते हैं तो अच्छा रहेगा, लेकिन उनकी इच्छाओं का भी सम्मान किया जाना चाहिए। न्यूज एजेंसी से बात करते हुए उन्होंने कहा, मुझे यकीन है कि अगर गैर गांधी पार्टी का अध्यक्ष बनता है, तो भी हम पार्टी का अस्तित्व बचाए रख सकते हैं। बशर्ते कि नेहरू-गांधी परिवार पार्टी में सक्रिय रहे। संकट के वक्त वे पार्टी को संभालने में मदद कर सकते हैं।

राहुल को लेकर पार्टी में भ्रम की स्थिति

अय्यर ने कहा कि मीडिया को अटकलों की बजाय थोड़ा इंतजार करना चाहिए। राहुल गांधी ने पार्टी अध्यक्ष के रूप में अपना विकल्प चुनने के लिए एक महीने का समय दिया है। इस मुद्दे पर कांग्रेस में भ्रम की स्थिति बनी हुई है। पार्टी नेता उनके अध्यक्ष रहने के पक्ष में है।

कांग्रेस फिर से वापसी करेगी- अय्यर

शीर्ष नेतृत्व में फेरबदल की जरूरत के सवाल पर उन्होंने कहा कि अगर आप सिर ही कलम कर देंगे तो धड़ फड़फड़ाने लगेगा। अय्यर ने कांग्रेस के इतिहास के कई ऐसे उदाहरण पेश किए जब गैर गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष रहे हैं। यूएन ढेबर से लेकर ब्रह्मानंदा रेड्डी तक गैर गांधी पार्टी प्रमुख रहे। वही मॉडल अभी भी अपनाया जा सकता है। हम जानते हैं कि सोनिया गांधी संसदीय दल की प्रमुख हैं और राहुल गांधी संसदीय दल का हिस्सा हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि राहुल गांधी हों या कोई और पार्टी फिर से वापसी करेगी।

05-04-2019
गांधी परिवार का त्याग जानती है जनता : दिग्विजय

 

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राजधानी भोपाल से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को सोशल मीडिया पर एक तस्वीर पोस्ट करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी गांधी परिवार को कितना भी बदनाम करे, लेकिन जनता इस परिवार के त्याग-तपस्या का इतिहास जानती है। सिंह ने सोशल मीडिया पर वायरल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी की एक तस्वीर को शेयर करते हुए कहा है कि नेहरू-गांधी परिवार के ये संस्कार हैं।

कितना ही भाजपा उन्हें बदनाम करे, जनता इस परिवार का त्याग, तपस्या और बलिदान का इतिहास जानती है। तस्वीर में गांधी केरल के वायनाड में नामांकन दाखिले के दौरान मची भगदड़ में घायल एक पत्रकार का स्ट्रेचर थामे दिखाई दे रहे हैं। वहीं प्रियंका गांधी ने कथित तौर पर उस घायल पत्रकार के जूते पकड़े हुए हैं। बताया जा रहा है कि दोनों उस पत्रकार को एंबुलेंस तक पहुंचा रहे हैं।

13-09-2018
Sambit Patra : किंगफिशर का असली मालिक गांधी परिवार : भाजपा
राहुल गांधी पर लगाए 5 हजार करोड़ के गबन के आरोप
Advertise, Call Now - +91 76111 07804