GLIBS
18-10-2020
अन्य प्रदेशों से छत्तीसगढ़ लौटे 6.81 लाख लोगों ने पंचायतों में बनाए गए सेंटरों में  पूरी की क्वारेंटाइन अवधि

रायपुर। देश के विभिन्न हिस्सों से बड़ी संख्या में छत्तीसगढ़ लौटे प्रवासी श्रमिकों के लिए ग्राम पंचायतों में बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटरों से कोरोना संक्रमण का प्रसार रोकने में बड़ी सहायता मिली है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जिला प्रशासन के सहयोग से इसके लिए प्रदेश भर में 21 हजार 580 क्वारेंटाइन सेंटर बनाए गए थे। कोरोना काल में प्रदेश लौटे 6 लाख 80 हजार 665 लोग इन सेंटरों में सफलतापूर्वक क्वारेंटाइन अवधि पूरी कर अपने घर पहुंच चुके हैं। इन लोगों ने खुद के एवं अन्य ग्रामीणों के स्वास्थ्य की सुरक्षा की दृष्टि से क्वारेंटाइन अवधि पूर्ण करने के बाद अगले दस दिनों तक होम-क्वारेंटाइन में रहने के निर्देशों का भी गंभीरता से पालन किया है।

गांवों में स्थापित क्वारेंटाइन सेंटरों का संचालन एवं नियंत्रण संबंधित जिला प्रशासन द्वारा किया गया। इनके संचालन में ग्राम पंचायतों, जनपद पंचायतों और जिला पंचायतों ने भी सक्रिय भागीदारी निभाई। ग्राम पंचायतों में स्थापित क्वारेंटाइन सेंटरों में रहने वाले प्रवासी मजदूरों को आवास और भोजन सहित सभी बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराई गई थीं। अस्थायी शौचालयों, पुरूषों एवं महिलाओं के लिए अलग-अलग स्नानगृहों, स्वच्छ पेयजल, लाइट एवं पंखों की भी वहां व्यवस्था की गई थी। लोगों के मनोरंजन के लिए टेलीविजन एवं रेडियो के इंतजाम के साथ अनेक रचनात्मक गतिविधियां भी वहां संचालित की जा रही थीं। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने योग और प्राणायाम का भी अभ्यास कराया गया। वृक्षारोपण, पेंटिंग, खेलकूद, पठन-पाठन जैसी गतिविधियों के माध्यम से भी उनकी मानसिक सेहत का ध्यान रखा गया।



क्वारेंटाइन सेंटरों में बेहतर साफ-सफाई के साथ कोरोना संक्रमण से बचाव के दिशा-निर्देशों के पालन पर भी जोर दिया गया था। बार-बार हाथ धोने के लिए साबुन और पानी के साथ ही हैंड-सेनिटाइजर भी उपलब्ध कराया गया था। मुंह ढंकने के लिए मास्क एवं गमछा भी दिया गया। कोरोना संक्रमित व्यक्ति के मिलने जैसी आपात स्थिति के लिए स्थानीय प्रशासन द्वारा प्रत्येक सेंटर में एक कमरा पृथक से आइसोलेशन के लिए सुरक्षित रखा गया था। स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से क्वारेंटाइन सेंटरों में रह रहे लोगों के स्वास्थ्य की लगातार निगरानी की गई। अस्वस्थ लोगों को इलाज और दवाईयां भी मुहैया कराई गईं। संक्रमण की संभावना और लक्षण वाले व्यक्तियों के तत्काल सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया।  
 पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव के निर्देश पर विभाग द्वारा प्रवासी श्रमिकों के लिए मनरेगा के तहत जॉब-कार्ड बनाकर रोजगार दिए जाने के साथ ही उन्हें अन्य योजनाओं के माध्यम से भी रोजगार उपलब्ध कराने त्वरित कदम उठाए गए हैं। स्थानीय प्रशासन द्वारा मजदूरों की स्किल-मैपिंग कर औद्योगिक, भवन निर्माण और अन्य क्षेत्रों में उन्हें काम दिलाने के लिए भी गंभीर प्रयास किए जा रहे हैं।







 

08-10-2020
पंचायत प्रतिनिधियों का भाजपा छोड़ कांग्रेस में प्रवेश,वन मंत्री मो.अकबर ने गमछा पहनाकर किया स्वागत

कवर्धा। भाजपा के पंचायत प्रतिनिधियों का कांग्रेस प्रवेश करने का सिलसिला जारी है। गुरुवार को कुछ और पंचायत प्रतिनिधियों ने वन मंत्री मो.अकबर के शासकीय निवास स्थित कार्यालय में पहुंचकर उनके समक्ष भाजपा छोड़कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया। भाजपा से कांग्रेस में आने वालों में बोड़ला जनपद पंचायत सदस्य बिस्तन बाई मेरावी, ग्राम पंचायत बेंदा के उपसरपंच  बहल सिंह व बृजलाल मेरावी (ग्राम बेंदा) शामिल है। कांग्रेस प्रवेश करने वाले पंचायत प्रतिनिधियों का केबिनेट मंत्री मो.अकबर ने कांग्रेस के चुनाव चिन्ह वाले गमछा पहनाकर स्वागत किया। कांग्रेस प्रवेश के अवसर पर इन लोगों ने कहा कि वे मंत्री मो. अकबर की कार्यशैली के प्रशंसक है। मो. अकबर सदैव क्षेत्र के विकास के लिए लगातार कार्य करते रहते हैं।
इस अवसर पर गौठान समिति ग्राम बेंदा के अध्यक्ष, महेश कुमार मेरावी, सरपंच प्रतिनिधि निक्की खान, संजय लिखाटे इस्लाहुद्दीन, अनिरूध्द पनारिया (ग्राम चिल्फी घाटी),  प्रेमसिंह नायक (ग्राम बोक्करखार) एवं बली बैगा (ग्राम साल्हेवारा) आदि उपस्थित थे।

 

03-09-2020
पंचायत भवन निर्माण में लापरवाही पर सचिव निलंबित

जांजगीर-चांपा। गुरूवार को जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी तीर्थराज अग्रवाल ने बम्हनीडीह जनपद पंचायत में चल रहे निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया। इस दौरान ग्राम पंचायत मौहाडीह में बन रहे नवीन ग्राम पंचायत भवन निर्माण को लेकर मौके पर लापरवाही बरतने, कार्य को समय पर पूर्ण नहीं करने और निर्माण कार्य में रूचि नहीं लेने पर मौहाडीह पंचायत सचिव शंकरलाल यादव को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। साथ ही तकनीकी सहायक  प्रदीप मिश्रा एवं प्रभारी रोजगार सहायक रोशनी दिवाकर की सेवा समाप्ति करने के निर्देश मौके पर दिए। जिपं सीईओ अग्रवाल ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) एवं 14 वें वित्त के संयुक्त अभिसरण से ग्राम पंचायत मौहाडीह,नीयापाठ, भंवरमाल एवं भागोडीह में नवीन पंचायत भवन निर्माण किया जा रहा है।

जिपं सीईओ अग्रवाल ने मौहाडीह पहुंचकर नवीन पंचायत भवन का निरीक्षण किया। नवीन पंचायत भवन का निर्माण कार्य 15 सितम्बर तक पूर्ण होेना था, लेकिन मौके पर भवन के कॉलम का भराव नहीं होने, अपने पदीय कर्तव्य का निर्वहन उचित ढंग से नहीं करने पर जमकर संबंधित तकनीकी सहायक, सचिव, रोजगार सहायक को फटकार लगाई। उन्होंने मौके पर ही मौहाडीह सचिव को निलंबित करने के निर्देश दिए इस दौरान सचिव का मुख्यालय जनपद पंचायत बम्हनीडीह निर्धारित किया। साथ ही तकनीकी सहायक एवं रोजगार सहायक की सेवा समाप्ति करते हुए एक माह पूर्व सूचना देने कहा। इसके बाद उन्होंने नवीन ग्राम पंचायत भवन भंवरमाल, भागोडीह एवं सोनीयापाठ का भी निरीक्षण करते हुए तकनीकी सहायक, रोजगार सहायक, सचिव एवं संबंधित अधिकारियों को कार्य की गुणवत्ता सुधारने, लापरवाही पर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान जनपद पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी कुबेर उरेठी उपस्थित रहे। 

 

22-08-2020
लगातार बारिश के कारण गांव बना टापू, ग्रामीणों को नहीं मिल रही खाद्य सामग्री

बीजापुर। जिले में 10 दिनों से बारिश हो रही है। नदी से घिरे होने के कारण  कोटेर गांव टापू बन चुका है। गांव में कई घर भारी बरसात के चलते ढह चुके हैं और कई मवेशी नदी में बह गए। ग्रामीण राशन के लिए परेशान है। ग्रामीणों ने बताया कि अपनी परेशानी को लेकर पंचायत सचिव को कई बार फोन किया लेकिन उन्होंने कोई सुध नहीं ली और न ही किसी  प्रकार की राहत सामग्री एवं सहायता उपलब्ध करवाई।

सरपंच ज्योति ने बताया कि कोटेर गांव का राशन पिछले दस दिनों से रखा हुआ है लेकिन सचिव को कई बार कहने के बाद भी गांव तक पहुंचाने की व्यवस्था नहीं करवाई,जिसके चलते ग्रामीण परेशान है। कलेक्टर रितेश अग्रवाल ने कहा कि पूरे मामले की जानकारी मिली है। कोटेर में राशन नहीं पंहुचा है और कुछ ग्रामीण बीमार है। जानकारी मिलने के बाद एसडीएम हेमेंद्र भुआर्य,तहसीलदार अमिटनाथ योगी एवं टीम के माध्यम से जानकारी जुटाई जा रही है। जल्द ही नदी में नाव की व्यवस्था कर राशन गांव पहुंचाने के साथ बीमार ग्रामीणों को नाव से लाकर जिला अस्पताल में इलाज किया जायेगा।

19-08-2020
गुंडरदेही विधायक सहित उनके स्टाफ की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव

गुंडरदेही। गत दिनों हुए ब्लॉक स्तरीय सरपंच संघ के अध्यक्ष चुनाव के दौरान कोरोना पॉजिटिव सरपंच की उपस्थिति की वजह से संपर्क में आए गुंडरदेही विधायक कुंवर सिंह निषाद ने भी एहतियात के तौर पर कोरोना टेस्ट  करवाया। इसमें उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है। 17 अगस्त तक पूरे जिले में धारा 144 प्रभाव सील होने के बावजूद गुंडरदेही ब्लॉक में सरपंच संघ के चुनाव के लिए ब्लॉक के लगभग 117 पंचायतों के सरपंच तथा उनके कुछ रिश्तेदारों के शामिल होने से लगभग 300 लोगों की भीड़ एक जगह इकट्ठा हुई थी।

अच्छी खबर यह रही की जिस आयोजन में इतनी बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए थे उसमें एक महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जिन जिन सरपंचों ने कोरोना टेस्ट करवाया है अभी तक किसी के भी संक्रमित होने की खबर नहीं है। सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं संसदीय सचिव और उनके पूरे स्टाफ की भी रिपोर्ट निगेटिव आई है।

शब्बीर रिजवी की रिपोर्ट

07-08-2020
पंचायत की महिला पदाधिकारी के पति व रिश्तेदार हस्तक्षेप नहीं कर सकेंगे,सीईओ नुपूर राशि पन्ना का सख्त फरमान

रायपुर/मुंगेली। जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी नुपूर राशि पन्ना ने बताया कि पंचायत कार्यालय परिसर के भीतर महिला पंचायत पदाधिकारियों को पंचायत के किसी कार्य में उनके सगे संबंधी और रिश्तेदार हस्तक्षेप नहीं कर सकेंगे। हस्तक्षेप करने पर संबंधित महिला पंचायत पदाधिकारी के विरूद्ध पंचायत राज अधिनियम के तहत कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया कि पंचायतराज अधिनियम के तहत निर्वाचित महिला पंचायत पदाधिकारियों के पंचायत के कामकाज यथा नियोजन, क्रियान्वयन और नियत्रण आदि में स्वंय निर्णय लेने का अधिकार दिया गया है। प्रदेश में पंचायतीराज संस्थाओं में महिला पदाधिकारियों की भागीदारी के लिए 50 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया है। इस संबंध में उन्होने जिले के समस्त पंचायत सचिवो को उनके ग्राम पंचायत के संबंधित समस्त निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को अवगत कराने और पंचायतों में होने वाले सम्मेलन में महिला पदाधिकारियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश दिये है।

 

29-07-2020
मंडियों में धान अब नहीं होगा खराब,3442 चबूतरे बनकर तैयार,शेष को जल्द बनाने के निर्देश दिए टीएस सिंहदेव ने

रायपुर। प्रदेश में किसानों से उपार्जित धान को खराब होने से बचाने के लिए धान उपार्जन केंद्रों में निर्माणाधीन 4647 चबूतरों में से 3442 चबूतरों का निर्माण पूर्ण हो गया है। वहीं 1193 चबूतरों का निर्माण तेजी से पूर्णता की ओर है। पंचायत व ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव ने गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखते हुए स्वीकृत सभी चबूतरों का काम जल्द पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं, ताकि वर्तमान खरीफ मौसम के धान की खरीदी के समय इन पक्के चबूतरों का उपयोग किया जा सके। उल्लेखनीय है कि प्रदेश के सभी धान खरीदी केंद्रों में मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना), जिला खनिज न्यास निधि और चौदहवें वित्त आयोग के अभिसरण से पक्के चबूतरों का निर्माण किया जा रहा है। बालोद जिले में अब तक 297, बलौदाबाजार-भाटापारा में 475,बलरामपुर-रामानुजगंज में 48, बस्तर में 59, बेमेतरा में 187, बीजापुर में 57, बिलासपुर में 90, दंतेवाड़ा में 18, धमतरी में 112, दुर्ग में 33, गरियाबंद में 184, जांजगीर-चांपा में 425, कांकेर में 157, कबीरधाम में 176, कोंडागांव में 78, कोरबा में 108, कोरिया में 31, महासमुंद में 157, मुंगेली में 86, नारायणपुर में सात, रायगढ़ में 232, रायपुर में नौ, राजनांदगांव में 231, सुकमा में 38, सूरजपुर में 109 और सरगुजा में 38 चबूतरों का निर्माण पूरा हो गया है।

 

23-07-2020
बैकुंठपुर व शिवपुर-चरचा से परिसीमन के बाद पृथक की गई 9 पंचायतों के ऑनलाइन वर्क कोड जारी

 कोरिया। नगर पालिका परिषद बैकुंठपुर से नवीन परिसीमन के बाद पृथक की गई 7 ग्राम पंचायतें एवं नगर पालिका क्षेत्र शिवपुर-चरचा से 2 ग्राम पंचायतों सहित कुल 9 पंचायतों के ऑनलाइन वर्क कोड जनरेट हो गए हैं। अब इन 9 पंचायतों के ऑनलाइन जुड़ जाने से यहां मनरेगा तथा शासन की अन्य योजनाओं के तहत विकास कार्य शीघ्रता से संपन्न होंगे। उक्त आशय की जानकारी देते हुए कलेक्टर एसएन राठौर ने बताया कि जिले के बैकुंठपुर नगर पालिका क्षेत्र से लगे ग्राम ओड़गी, जामपारा, केनापारा, सागरपुर, रामपुर, जनकपुर और तलवापारा को नगरी निकाय से पृथक किया गया है। इसके साथ ही नगर पालिका क्षेत्र शिवपुर-चरचा से ग्राम खरवत व सरडी को पृथक किया गया है। नवीन परिसीमन बाद इन ग्राम पंचायतों के पुनर्गठन की कार्यवाही निर्वाचन के साथ पूर्ण करा ली गई है। तकनीकी दिक्कतों के कारण इन ग्राम पंचायतों के ऑनलाइन वर्क कोड नहीं निकल रहे थे। इसके संबंध में निरन्तर प्रयास किया जा रहा था। अब परिणामस्वरूप सभी 9 ग्राम पंचायतों के अलग-अलग कोड एमआईएस में जनरेट कर दिए गए हैं। अब इन पंचायतों के ऑनलाइन जुड़ जाने से पंचायतों के विकास कार्यों में तेजी आयेगी। गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले ग्रामवासियों को जल्द ही जॉब कार्ड भी निशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा। कलेक्टर ने बताया कि नवीन ग्राम पंचायतों में ग्राम पंचायत भवन सह पीडीएस भवन स्वीकृत किए जा रहे हैं। अधिकांश जगहों पर कार्य प्रारंभ करा दिया गया है। विधानसभा क्षेत्र बैकुंठपुर की विधायक एवं संसदीय सचिव अम्बिका सिंहदेव ने प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि यह निरंतर प्रयासों का परिणाम है। सभी सरपंच एवं ग्रामवासियों को बधाई। सभी 9 पंचायतों के ऑनलाइन जुड़ने अब यहां मनरेगा व अन्य रोजगार मूलक योजनाओं का लाभ जनता को मिलेगा तथा ग्राम विकास के जनहितकारी कार्य शीघ्रता से हो सकेंगे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804