GLIBS
30-03-2020
VIDEO: किरोड़ीमल नगर से पैदल आ रहे 35 मजदूरों को जिला पंचायत सदस्य ने तम्बू लगवा कर दिया आशियाना

रायगढ़। खरसिया पुलीस अनुविभाग अंतर्गत भूपदेवपुर थाना क्षेत्र में खरसिया कोंडतराई रेलवे फाटक के पास मध्यप्रदेश के रीवा के रहने वाले 35 मजदूर वर्गीय लोग किरोड़ीमलनगर से पैदल चलते हुए आ रहे थे। जिला पंचायत सदस्य दिलीप पटेल ने उन्हें देखकर रोका और केबिनेट मंत्री उमेश पटेल के निर्देश अनुसार उन 35 लोगो को लाकर कोंडतराई रेलवे फाटक के पास अस्थाई तम्बू लगवाकर ठहरने की व्यवस्था के साथ ही सभी की चाय, नास्ता, सहित यहां रहते तक भोजन की भी व्यवस्था भी की गई है। इसके बाद दिलीप पटेल ने भूपदेवपुर थाना के एसआई कमल पटेल को भी सूचना देकर बुलाया गया।

भूपदेवपुर पुलिस के एसआई कमल पटेल के द्वारा स्थानीय जनप्रतिनिधि की वहीं ठहरने की व्यवस्था को देखकर अपने उच्चाधिकारियों को इस बात की विधिवत सूचना भी दे दी गई है,और आगे इन 35 लोगों की क्या ब्यवस्था की जानी है। आपदा की इस कठिन घडी में जहाँ भूपदेवपुर रेलवे फाटक के सामने मैदान में इस समूह के लोगों को ठहराया गया है। वहां एक मात्र पीने के पानी की व्यवस्था रेलवे का बोरिंग ही है। लेकिन रेलवे फाटक में कार्यरत कर्मचारि ने अपने बोरिंग से इस समूह के लोगों को पानी देने से साफ इंकार कर दिया है।

21-03-2020
Breaking : 22 मार्च को दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के तीनों मंडलों में 171 ट्रेने रहेगी रद्द, देखिए सूची...

रायपुर। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के दौरान दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के तीनों मंडलों में कुल 171 ट्रेन रद्द रहेगी। इसमें 28 मेल/एक्सप्रेस शामिल है। इसी तरह बची 143 ट्रेनों में 64 मेमू, 29 डेमू और अन्य 28 गाड़ियां शामिल है। रेलवे के मुताबिक लोकल ट्रेनों को शनिवार रात 12 बजे से तो मेल/एक्सप्रेस तड़के 4 बजे से बंद किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के आह्वान के समर्थन में रेलवे ने देशभर में 24 घंटे तक ट्रेन सेवा बंद रखने का फैसला किया है। 

20-03-2020
Breaking : जनता कर्फ्यू का असर रेलवे पर, देशभर में 22 मार्च को नहीं चलेगी एक भी ट्रेन

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के आह्वान का असर रेलवे पर भी देखने को मिल रहा है। 22 मार्च को देशभर में एक भी ट्रेन नहीं चलेगी। 24 घंटे तक ट्रेन सेवा बंद रखने का फैसला किया गया है। 2400 ट्रेनों की आवाजाही बंद रहेगी, 21-22 मार्च की दरमियानी रात से ट्रेन नहीं चलेगी। रायपुर रेल मंडल के डॉ. विपीन वैष्णव मंडल वाणिज्य प्रबंधक ने कहा कि जो लंबी दूरी की ट्रेने आज शुक्रवार रात अपने गंतव्य के लिए रवाना होगी और गंतव्य में 22 मार्च की सुबह पहुँचने वाली होगी तो इसे रद्द नहीं किया जाएगा।


 

19-03-2020
कोविड-19 की रोकथाम के लिए रेलवे ने जारी की एडवाइजरी,टिकटों की रियायती बुकिंग पर लगाई रोक

रायपुर। रेलवे ने कोरोना वायरस (कोविड-19) को फैलने से रोकने के लिए अतिरिक्त उपायों की घोषणा की है। वरिष्ठ नागरिकों, मरीजों, छात्रों और दिव्यांगजन श्रेणी के लिए अनारक्षित और आरक्षित खंड को छोड़कर सभी टिकटों की रियायती बुकिंग को 20 मार्च तक रोक दिया गया है। रेलगाड़ियों में अधिक भीड़ को रोकने के लिए अब तक 155 जोड़ी कम बुकिंग वाली रेलगाड़ियों को 31 मार्च तक रद्द कर दिया गया है। रेलवे ने दक्षिणी, उत्तरी-पूर्वी और पूर्वी क्षेत्रों में शैक्षिक संस्थानों को अचानक बंद करने के कारण उत्तरी भाग में फंसे छात्रों के लिए अपने घरों में वापसी की सुविधा दी है। यात्रियों को गैर जरूरी रेल यात्रा से बचने की सलाह दी जा रही है। यात्रा शुरू करते समय यात्री को बुखार लग रहा हो तो रेलवे स्टाफ से चिकित्सा देखभाल और आगे की सहायता के लिए संपर्क कर सकता है।

कोविड-19 के प्रसार के मद्देनजर रेलवे स्टेशनों पर अनावश्यक भीड़ से बचने के लिए मंडल रेल प्रबंधकों (डीआरएम) को निर्देश दिया गया है कि वे रेलवे स्टेशनों पर स्थिति की समीक्षा करें तथा जहाँ भी आवश्यक हो प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत को बढ़ाकर 50 रुपये कर दें। जनता को जागरूक करने के लिए रेलवे स्टेशनों और रेलगाड़ियों की सार्वजनिक घोषणा प्रणाली (पीए सिस्टम) पर नियमित घोषणा की जा रही है। इसमें बार-बार हाथ धोने से हाथ साफ रहते हैं। छींकते और खांसते समय मुंह से सामाजिक दूरी बनाए रखें। यदि किसी को बुखार हो रहा हो तो सावधानी बरतें (यात्रा न करें तथा डॉक्टर के पास शीघ्र जाएं)। सार्वजनिक स्थान और रेलवे परिसर में कहीं भी नहीं थूकें। भीड़भाड़ से बचें और उपनगरीय रेलगाड़ियों सहित अन्य रेलगाड़ियों में यात्रियों के बीच दूरियां सुनिश्चित रखें। 
 

17-03-2020
यात्रीगण कृपया ध्यान दें, रेलवे ने राजधानी और दुरंतों सहित 22 एक्सप्रेस गाड़ियों को किया रद्द

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का असर रेलवे की सेवाओं पर भी पड़ा है। मध्य रेलवे ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए 31 मार्च तक 22 रेलगाड़ियों को रद्द करने का फैसला किया है। मध्य रेलवे की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक 17 मार्च से लेकर 31 मार्च तक 22 रेलगाड़ियों का संचालन नहीं किया जाएगा। जिन रेलगाड़ियों का संचालन बंद किया गया है उनमें मुंबई से पुणे के बीच चलने वाली 11007 दक्कन एक्सप्रेस और पुणे से मुंबई के बीच चलने वाली 11008 डेक्कन एक्सप्रेस शामिल हैं। इस रेलगाड़ी के पुणे से मुंबई और मुंबई से पुणे के बीच 17 से 31 मार्च के दौरान  15 चक्कर निर्धारित थे लेकिन अब यह रद्द हो चुकी है।

इनके अलावा मुंबई से नागपुर और नागपुर से मुंबई के बीच चलने वाली 11201 तथा 11202 अजनी एक्सप्रेस, मुंबई से नागपुर और नागपुर से मुंबई के बीच चलने वाली 11401 तथा 11402 नंदीग्राम एक्सप्रेस, पुणे से अमरावती और अमरावती से पुणे के बीच चलने वाली 11405 तथा 11406 अमरावती एक्सप्रेस, पुणे से नागपुर और नागपुर से पुणे के बीच चलने वाली 11417 तथा 11418 हमसफर,मुंबई से मनमाड़ और मनमाड़ से मुंबई के बीच चलने वाली 12117 तथा 12118 मनमाड़ एक्सप्रेस, मुंबई से पुणे और  पुणे से मुंबई के बीच चलने वाली 12125 तथा 12126 प्रगति एक्सप्रेस और भूसावल से नागपुर और नागपुर से भूसावल के बीच चलने 22111 तथा 22112 भूसावल नागपुर इंटरसिटी शामिल है।
कोरोना वायरस को देखते हुए हजरत निजामुद्दीन से मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिलन और छत्रपति शिवाजी टर्मिनल से निजामुद्दीन के बीच चलने वाली 22222 तथा 22221 राजधानी एक्सप्रेस गाड़ी को भी 17 से 31 मार्च के दौरान नहीं चलाने का फैसला किया गया है। हावड़ा से मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल और छत्रपति शिवाजी टर्मिनल से हावड़ा के बीच चलने वाली 12262 तथा 12261 दुरंतों एक्सप्रेस भी इस अवधि के दौरान नहीं चलेगी। गुलबर्गा से हैदराबाद के बीच चलने वाली 11307 तथा 11308 इंटरसिटी को भी इस अवधि के दौरान बंद रखने का फैसला हुआ है।

06-03-2020
VIDEO: एक बारिश से पोखर में तब्दील हुआ रोड, सुध नहीं ले रहे जिम्मेदार अधिकारी

जांजगीर चांपा। चांपा रेलवे परिक्षेत्र जो कि राष्ट्रीय राजमार्ग 49 पर व्यवस्थित है। इन दिनों चांपा रेलवे का माल गोदाम का आसपास का एरिया थोड़ी सी बूंदाबांदी होने के बाद पोखर में तब्दील हो गया है। यूं तो यह राष्ट्रीय राजमार्ग के एरिया में छोटे-बड़े अनगिनत गड्ढे पहले से बने हुए हैं ऊपर से थोड़ी सी बरसात होने पर यह लबालब पानी से भर गया है। इसके चलते राहगीरों को गंभीर परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं महिलाओं तथा बच्चों पर आफत आन पड़ी है। दरसअल चांपा रेलवे परिक्षेत्र जो कि राष्ट्रीय राजमार्ग 49 पर बने चांपा रेलवे का माल गोदाम का आसपास का एरिया रोड इन दिनों काफी खराब स्थिति में है। वहीं शिकायत के बावजूद भी कोई ध्यान जिम्मेदार नही दे रहे है जिस पर आसपास के निवासियों ने आक्रोश व्यक्त करते हुए बताया कि सूखे दिनों में वे गंभीर धूल मिट्टी से परेशान होते हैं और थोड़ी सी बरसात होने पर यह क्षेत्र गंदा पानी से लबालब भर गया है।

 

04-03-2020
महिला यात्रियों का रेलवे रखता है विशेष ध्यान, मिल रही ये सुविधाएं....

रायपुर। रेलवे की ओर से महिला यात्रियों को विशेष सुविधाएं दी जा रही है। माहिला कोच नीचे की बर्थ का कोटा, महिला कोटा, किराए में रियायत जैसी सुविधाएं प्रदान करने के साथ-साथ आरक्षण केंद्र और टिकट काउंटर पर विशेष व्यवस्थाएं की जाती है। शिव प्रसाद पंवार,वरिष्ठ प्रचार निरीक्षक (जनसंपर्क विभाग) रायपुर रेल मंडल ने कहा कि स्टेशनों पर भी महिलाओं के लिए विशेष व्यवस्थाएं रहती हैं। इनमें महिलाओं के लिए अलग वेटिंग हॉल,बेबी फीडिंग कॉर्नर, सैनिटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन कुछ विशेष ट्रेनों में महिलाओं के लिए अलग से कोच,महिलाओं के स्वयं यात्रा करने पर आरक्षित और अनारक्षित टिकट लेने के लिए महिलाओं के लिए अलग काउंटर की व्यवस्था की जाती है।

रायपुर रेल मंडल की ओर से सभी मेल,एक्सप्रेस ट्रेनों में 45 वर्ष या अधिक आयु की महिला यात्रियों व गर्भवती महिलाओं के लिए शयनयान श्रेणी में प्रत्येक डिब्बे में नीचे की 6 सीटें, एसी के कोच में नीचे की 3 बर्थ  का संयुक्त कोटा होता है। महिला कोटा कुछ ट्रेनों में शयनयान श्रेणी में 6 बर्थ  का कोटा महिलाओं के लिए चयनित किया रहता है,जिसमें केवल महिला यात्रियों के यात्रा करने पर या अकेले या महिला समूह में यात्रा करने पर आरक्षण की सुविधा मिलती है। किराए में रियायत वरिष्ठ नागरिक महिला यात्रियों को 58 वर्ष आयु होने पर सभी मेल,एक्सप्रेस,पैसेंजर गाड़ियों के मूल किराए में 50 प्रतिशत की रियायत का प्रावधान है। यात्रा के दौरान उन्हें अपनी आयु का प्रमाण पत्र रखना होता है। गर्भवती महिलाओं के लिए भी रेलवे द्वारा लोअर बर्थ का प्रावधान दिया गया है। डॉक्टर द्वारा प्रमाणित सर्टिफिकेट लगाने पर लोअर बर्थ दी जाती है। स्टेशनों पर कैटरिंग यूनिट में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत कोटा आरक्षित रहता है महिलाएं कैटरिंग यूनिट में स्टाल इत्यादि आवंटित करवा सकती है।

 

01-03-2020
आरटीआई में हुआ खुलासा, तीन साल में चलती ट्रेन में बड़े दुष्कर्म के मामले

नई दिल्ली। रेलवे में साल 2017 और 2019 के बीच रेलवे परिसर और चलती ट्रेनों में 165 से अधिक बलात्कार के मामले सामने आये। यह जानकारी आरटीआई के एक जवाब में सामने आई है। बलात्कार के मामलों की संख्या 2017 में 51 से कम होकर 2019 में 44 हो गई लेकिन 2018 में ऐसे मामलों में वृद्धि हुई थी जब ये बढ़कर 70 हो गए थे। नीमच के सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौर के सवाल पर आये जवाब के अनुसार 2017-2019 के दौरान रेलवे परिसर में बलात्कार के 136 मामले और चलती ट्रेनों में 29 मामले हुए जो कुल मिलाकर 165 होते हैं।

2018 में बलात्कार के 70 मामलों में से 59 मामले रेलवे परिसर में जबकि 11 ट्रेनों में हुए। 2017 में बलात्कार के 51 मामलों में से 41 रेलवे परिसर में जबकि 10 चलती ट्रेनों में सामने आये। महिलाओं के खिलाफ बलात्कार के अलावा अपराध के 1672 मामले हुए हैं, जिसमें से 802 रेलवे परिसर में जबकि 870 ट्रेनों में हुए। इन तीन वर्षों के दौरान रेलवे परिसर और ट्रेनों में अपहरण के 771 मामले, लूटपाट के 4718 मामले, हत्या के प्रयास के 213 मामले और 542 हत्या के मामले हुए हैं। रेलवे में पुलिसिंग राज्य का विषय है।

अपराध की रोकथाम, मामले दर्ज करना, उनकी जांच एवं रेलवे परिसरों और चलती ट्रेनों में कानून एवं व्यवस्था बनाये रखना राज्य सरकारों की जिम्मेदारी होती है, जिसका निर्वहन वे राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) या जिला पुलिस के जरिये करती हैं। रेलवे ने महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाये हैं। रेलवे में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में मंत्रालय ने पिछले महीने राज्यसभा को सूचित किया था कि जोखिम वाले और पहचान किये गए मार्गों या खंडों में औसतन 2200 ट्रेनों में रेलवे सुरक्षा बल सुरक्षा प्रदान करता है जबकि 2200 ट्रेनों में प्रतिदिन विभिन्न राज्यों में जीआरपी द्वारा सुरक्षा प्रदान की जाती है।

 

29-02-2020
अंडरब्रिज निर्माण कार्य को पुनः शुरू कराने के संबंध में सीएम और लोकनिर्माण मंत्री को सौंपा ज्ञापन

रायपुर। राजधानी के गुढ़ियारी क्षेत्र में संत कबीरदास वार्ड में गोगांव और बड़ा अशोक नगर के बीच रेलवे फाटक का काम रुका हुआ है। इसको लेकर रुके हुए अंडर ब्रिज निर्माण कार्य को पुनः प्रारंभ कराने के संबंध में लोकनिर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को ज्ञापन सौंपा गया। इसको लेकर वहां के स्थाई निवासी बंटी कटरेे ने बताया कि हम संत कबीरदास वार्ड क्रमांक 3 के निवासी हैं। हमारे वार्ड में ना कोई शमशान है ना कोई अस्पताल। उन्होंने बताया के हमारे वार्ड में किसी भी कार्य के लिए हमें कोटा स्थित शमशान घाट में या अशोक नगर स्थित श्मशान घाट में जाना पड़ता है और यदि कोई दुर्घटना हो जाए तो प्राथमिक उपचार के लिए मेकाहारा में जाना पड़ता है। इस रेलवे फाटक से गुजरने के दौरान हमें 15 मिनट, आधा घंटा तक रुकना पड़ता है, जिसके कारण शव यात्रा यही विराम देना पड़ता है। उन्होंने बताया कि बहुत से स्कूल अशोक नगर गुढ़ियारी में है। यहां जाने के लिए बच्चों के साथ पालक एवं विद्यार्थी आधे घंटे पहले अपने घर से शाला प्रस्थान करना पड़ता है क्योंकि पास में रेलवे फाटक होने के कारण धीमी गति से गुजरती है,जिससे 15 मिनट लगता है। 

 

26-02-2020
यात्रीगण कृपया ध्यान दें- नॉन इंटरलाकिंग कार्य के कारण ट्रेनें रहेंगी रद्द

रायपुर। ईस्ट कोस्ट रेलवे के सम्बलपुर रेल मंडल में निर्माण कार्य के कारण ट्रेनों का परिचालन प्रभावित होगा। केसिंगा रेलवे स्टेशन यार्ड का रिमॉडलिंग का कार्य और  टिटलागढ़-थेरूबाली सेक्शन में तीसरी रेलवे लाइन परियोजना का कार्य के लिए इस खण्ड पर 29 फरवरी से 3 मार्च तक नॉन इंटरलाकिंग का कार्य किया जाएगा।  इस नॉन इंटरलाकिंग कार्य के कारण दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे से चलने वाली और आने वाली कुछ एक्सप्रेस गाड़ियों का परिचालन प्रभावित होगा।
रेलवे के अनुसार रद्द होने वाली गाड़ियों में  28 फरवरी से 2 मार्च तक 58529/58530 दुर्ग- विशाखापटनम- दुर्ग एक्सप्रेस रद्द रहेगी । 29 फरवरी से 2 मार्च तक रायपुर से चलने वाली 58207 रायपुर-जुनागड़ रोड पैसेंजर टिटलागढ़ जुनागड़ रोड के बीच रद्द रहेगी। 1 से 3 मार्च तक जुनागड़ रोड से चलने वाली 58208 जुनागड़ रोड-रायपुर पैसेंजर टिटलागढ़ और जुनागड़ रोड के बीच रद्द रहेगी 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804