GLIBS
13-04-2018
क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज में बड़ी सेंध, 438 बिटकॉइन की चोरी

नई दिल्ली। भारत में बिटकॉइन की बड़ी चोरी हुई है। बिटकॉइन के एक बड़े एक्सचेंज से 438 बिटकॉइन चोरी हो गए हैं। इनकी कीमत करीब 20 करोड़ रुपए है। ये देश में क्रिप्टोकरेंसी की सबसे बड़ी चोरी बताई जा रही है। दिल्ली स्थित एक क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज ने सायबर सेल में शिकायत करवाई है की उसके सीएसओ अमिताभ सक्सेना ने कंपनी के वॉलेट से ये चोरी की है। एक्सचेंज ने सरकार से मांग की है कि उसका पासपोर्ट जब्त कर लिया जाए। कंपनी को डर है कि वो देश से बाहर भाग सकता है। सायबर सेल ने आईपीसी की धारा और आईटी एक्ट के सेक्शन 66 के तहत मामला दर्ज किया है। इस एक्सचेंज के पूरे देश में करीब 2 लाख यूजर्स हैं।

आॅनलाइन लीक हो गया कंपनी का पासवर्ड

एक्सचेंज को पता चला कि जो बिटकॉइन आॅफलाइन स्टोर किए गए थे वो गायब हो गए। बाद में पता चला कि कंपनी का पासवर्ड आॅनलाइन लीक हो गया। इस कारण सिस्टम हैक हो गया। कंपनी ने हैकर्स को ट्रैक करने की कोशिश की लेकिन डेटा लॉग डिलीट कर दिए गए थे। इससे ये पता नहीं चल सका की बिटकॉइन कहां ट्रांसफर किए गए। इसके बाद कंपनी की वेबसाइट बंद है।गुरुवार को कंपनी ने इस बात की वेबसाइट पर संदेश देकर पुष्टि की। कंपनी के फाउंडर और सीईओ मोहित कालरा ने कहा कि आरोपी कंपनी का अंदरूनी आदमी ही है। उनके मुताबिक प्राइवेट की आॅनलाइन एक्सपोर्ट नहीं की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर फंड रिकवर नहीं हुआ तो कंपनी अपनी जेब से ग्राहकों को पैसा देगी। पुलिस ने कहा की कंपनी के सर्वर जब्त कर लिए गए हैं।

भारत में नहीं है मान्यता

क्रिप्टोकरेंसी डिजिटल करेंसी है हाल ही में बिटकॉइन के भाव में बड़ी तेजी के कारण निवेशक इसकी तरफ आकर्षित हुए थे।भारत में बिटकॉइन या क्रिप्टोकरेंसी को रिजर्व बैंक या सरकार की मान्यता नहीं है। इनको भारत में कोई रेगुलेट नहीं करता। इनकी कानूनी मान्यता नहीं होने के कारण कुछ भी होने पर कानून किसी तरह की मदद नहीं कर सकता है। इसको गोल्ड की तरह रिडीम भी नहीं किया जा सकता। भारत में बिटकॉइन, नेमकॉइन, लाइटकॉइन और पीपीकॉइन जैसी कई क्रिप्टोकरेंसी हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804
Visitor No.