GLIBS
05-04-2020
जीवन बीमा के पालिसीधारकों के लिए खुशखबरी,प्रीमियम पटाने के लिए मिला 30 दिन का और समय

नई दिल्ली। भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) ने जीवन बीमा पॉलिसीधारकों को प्रीमियम भुगतान के लिए 30 दिन का और समय दे दिया है। कोरोना वायरस महामारी की वजह से देश में लागू लॉकडाउन के मद्देनजर नियामक ने यह कदम उठाया है। ऐसे जीवन बीमा पॉलिसीधारक जिनके नवीकरण की तारीख मार्च और अप्रैल में पड़ती है, उन्हें प्रीमियम भुगतान के लिए 30 दिन का अतिरिक्त समय दिया गया है।इरडा स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों और तीसरा पक्ष मोटर बीमा के नवीकरण प्रीमियम का भुगतान करने के पहले ही अतिरिक्त समय दे चुका है। जीवन बीमा कंपनियों और जीवन बीमा परिषद ने नियामक से प्रीमियम भुगतान के लिए अतिरिक्त समय देने की मांग की थी। नियामक ने निर्देश जारी कर पॉलिसीधारकों को प्रीमियम भुगतान के लिए 30 दिन का अतिरिक्त समय दिया है।बीमा कंपनियों और परिषद ने इस बात को लेकर चिंता जताई थी कि तीन सप्ताह की राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन सामाजिक दूरी बनाए रखने की सलाह के मद्देनजर पॉलिसीधारकों को प्रीमियम के भुगतान में दिक्कत आ रही है। नियामक ने कहा कि जहां यूनिट से जुड़ी पॉलिसियां 31 मई, 2020 तक परिपक्व हो रही हैं और कोष मूल्य का भुगतान एकमुश्त करने की जरूरत है, बीमा कंपनियां संबद्ध प्रावधानों के तहत ‘निपटान विकल्प’ की पेशकश कर सकती हैं।

 

05-04-2020
कोरोना से डरे अमेरिका ने भारत से मांगी मदद, डोनाल्ड ट्रम्प ने प्रधानमंत्री मोदी से की बात

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण अमेरिका में इन दिनों हाहाकार मचा हुआ है। तीन लाख से भी ज्यादा संक्रमित मामले सामने आने के बाद अमेरिका ने भारत से मदद मांगी है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उन्होंने पीएम मोदी से कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टैबलेट्स की मांग की है। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि 'मैंने सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की। उन्होंने काफी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टैबलेट्स बनवाई हैं। भारत इस पर गंभीरता से काम कर रहा है।' अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि वह भी इन टैबलेट्स का सेवन करेंगे। उन्होंने कहा कि 'संभव है कि मैं भी इसे लूं। हालांकि इसके लिए मुझे पहले डॉक्टर्स से बात करनी होगी।' उन्होंने आगे कहा कि मैं सराहना करूंगा कि अगर भारत हमारे द्वारा ऑर्डर की गईं टैबलेट्स की खेप को जारी करेगा। उन्होंने कहा कि 'भारत ने काफी संख्या में यह टैबलेट्स बनाई हैं। उन्हें अपने अरब से अधिक लोगों के लिए इसकी जरूरत है।' 

03-04-2020
कोरोना वायरस के 336 नए मामले आए सामने, अब तक 2301 लोग संक्रमित,56 मरीजों की मौत : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के हालात को लेकर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन करते हुए बताया कि देश में कल से लेकर आज तक कोरोना वायरस के 336 नए मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि इस जानलेवा वायरस से अब तक 2301 लोग संक्रमित हो चुके है और 56 लोगों की मौत हुई है। संयुक्त सचिव ने बताया कि इन 56 मौतों में से 12 मौतें कल हुई हैं। इस जानलेवा वायरस से अब तक 157 मरीज पूरी तरह ठीक हुए है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मरीजों और उनके परिवारों से अपील की है कि वे डॉक्टरों की राह में कोई बाधा न खड़ी करें। उन्होंने डॉक्टरों और चिकित्सा कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार पर भी चिंता व्यक्त की है। तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों के संक्रमित होने पर जानकारी देते हुए सचिव ने कहा कि पिछले दो दिनों में तब्लीगी जमात से जुड़े 647 मामले पॉजिटिव पाए गए हैं। ये सभी मामले देश के 14 राज्यों से सामने आए है। जिनमें अंडमान और निकोबार, असम, दिल्ली, हिमाचल, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड और यूपी में इससे जुड़े मामलों की पुष्टि हुई।


सचिव ने कहा कि पिछले 24 घंटे में हुए 12 मौतों में कुछ मौतें तब्लीगी जमात से जुड़ी हुई थी। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के जोखिम का आकलन करने में लोगों की मदद के लिए 30 लाख से अधिक लोग सरकार के मोबाइल ऐप डाउनलोड कर चुके हैं।
गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकारों को स्वास्थ्य सेवा और श्रमिकों पर हमले के मामलों में सख्त कार्रवाई करने और चिकित्सा उन्मूलन के लिए सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए लिखा है।
उन्होंने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय के नियंत्रण कक्ष में सात हेल्पलाइन नंबर थे। अब, हमने दो और हेल्पलाइन नंबर शुरू किए हैं, जिसमें से 1930 (पूरे भारत के लिए टोल फ्री नंबर) और 1944 (पूर्वोत्तर के लिए समर्पित नंबर) शामिल हैं। वही, इस संवाददाता सम्मेलन में भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने जानकारी दी कि देश में कोविड-19 की जांच के लिए 182 लैब है, जिनमें से 130 लैब सरकार द्वारा संचालित की जा रही है। उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटे में 8,000 नमूनों की जांच की गई है। 

 

02-04-2020
शॉर्ट वीडियो ऐप लाईकी के कोविड-19 समर्पित डैशबोर्ड पर पाएं डब्लूएचओ द्वारा एकत्रित डेटा

नई दिल्ली। कोविड-19 की महामारी के चलते पूरे देश में लॉकडाऊन चल रहा है और हम अपने घरों में रहने को मजबूर हैं। इस वजह से समाचार पत्रों का सर्कुलेशन कम हो गया है तथा समाचार मिलने में परेशानी आ रही है। मौजूदा स्थिति में अग्रणी शॉर्ट वीडियो प्लेटफॉर्म लाईकी ने एक समर्पित डैशबोर्ड ‘फाईट कोरोना’ प्रस्तुत किया है, जिस पर कोरोना महामारी से सम्बंधित नवीनतम व विश्वसनीय डेटा उपलब्ध है।

बीगो टेक्नॉलॉजी पीटीई लिमिटेड के शॉर्ट वीडियो प्लेटफॉर्म, लाईकी ने एक एच5 पेज लॉन्च किया है, जिस पर कोरोनावायस पर विस्तृत डेटा, जैसे नए मामलों की संख्या, कुल मामले, ठीक हुए मरीज एवं इससे होने वाली मौतों की संख्या का विवरण मिलेगा। यह डैशबोर्ड में भारत के सभी राज्यों, केंद्रशासित प्रदेशों एवं विभिन्न देशो का विवरण प्रदान करता है। यद्यपि अन्य प्लेटफॉर्म्स पर भी इस तरह का डेटा दिया जा रहा है, लेकिन लाईकी डैशबोर्ड की खासियत यह है कि इसके आंकड़े केंद्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय तथा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) से लिए गए हैं। आंकड़ों के अलावा इस डैशबोर्ड पर प्रतिष्ठित मीडिया संगठनों द्वारा इस महामारी के बारे में दी गई खबरें भी मौजूद हैं। इनके अलावा इस सेक्शन में लाईकीयर्स के वीडियो हैं, जो इस वायरस की रोकथाम के लिए बरती जाने वाली सावधानियों एवं न किए जाने योग्य बातों के बारे में बताते हैं। इसमें कोविड-19 के खिलाफ फैली भ्रांतियों को तोड़ने के प्रयास भी किए गए हैं।

इस अभियान के बारे में लाईकी के प्रवक्ता, माईक ओंग ने कहा, कोविड-19 ने मानवता पर एक बड़ा संकट उत्पन्न कर दिया है। इस पर एक समर्पित सेक्शन प्रस्तुत करने का विचार लोगों को विश्वसनीय व उपयोगी जानकारी प्रदान करने के लिए आया। लाईकी युवाओं के बीच लोकप्रिय सोशल मीडिया ऐप्स में से एक है। हम अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।इस शॉर्ट वीडियो ऐप पर कोरोना से संबंधित काफी हैशटैग्स हैं, जो इस प्लेटफॉर्म के ट्रेंड में भी शुमार हैं। इस तरह का ट्रेंड होता हुआ एक हैशटैग #FightCorona है, जिसे 102 मिलियन से ज्यादा व्यू मिल चुके हैं। एक अन्य हैशटैग #CoronaFactAndRumours का उद्देश्य विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर फल रही भ्रांतियों को तोड़ना है। यह महामारी 185 देशों में फैल चुकी है तथा सबसे ज्यादा विकसित देश, जैसे अमेरिका और इटली इससे सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। भारत में भी स्थिति गंभीर है तथा सरकार ने कोरोना से लड़ाई के लिए पूरे देश में 21 दिन के लॉकडाऊन की घोषणा की है।

02-04-2020
प्रधानमंत्री 3 अप्रैल सुबह 9 बजे देशवासियों को वीडियो संदेश से करेंगे संबोधित

नई दिल्ली। देश में लॉकडाउन है और कोरोना के नए मामलों सामने आ रहे है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शुक्रवार की सुबह 9 बजे वीडियो संदेश देंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है। बता दें लॉक डाउन का आज नौवां दिन है। पूरे देश में लोग अपने घरों में हैं। इधर पिछले दिनों कोरोना वायरस के मामले तेजी से समाने आए हैं। अब तक 50 लोग इस खतरनाक वायरस की वजह से जान गंवा चुके हैं। गौरतलब है कि पीएम मोदी ने 24 मार्च को राष्ट्र के नाम संबोधन में कोरोना वायरस के चलते देश को 21 दिनों तक लॉकडाउन करने का ऐलान किया था। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि था कि जो जहां हैं, वहीं रहें। 

 

02-04-2020
भारत में कोरोना से अब तक 50 की मौत, संक्रमितों की संख्या हुई 1965 

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ के संक्रमण से अब तक 50 लोगों की मौत हो चुकी है और संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1965 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस का प्रकोप देश के 29 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में फैल चुका है और अब तक इसके 1965 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इनमें 49 विदेशी मरीज भी शामिल हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण से देशभर में अब तक 50 लोगों की मौत हुई है जबकि 151 लोग स्वस्थ हो चुके हैं।

महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, तेलंगाना, गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और दिल्ली में संक्रमण के सबसे अधिक मामले सामने आए हैं। दिल्ली में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 152 हो गई है। कोरोना महामारी से महाराष्ट्र में 13, गुजरात और मध्य प्रदेश में छह-छह, पंजाब में चार, कर्नाटक, तेलंगाना, और पश्चिम बंगाल में तीन-तीन, दिल्ली, केरल, जम्मू-कश्मीर एवं उत्तर प्रदेश में दो-दो, बिहार, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है।

01-04-2020
शेयर बाजार में आई गिरावट, लाल निशान के साथ खुला मार्केट

नई दिल्ली। शेयर बाजार बुधवार को लाल निशान के साथ खुला। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 36 अंकों की गिरावट के साथ खुला। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी दबाव के साथ खुला। सेंसेक्स आज 29505 के स्तर पर खुला, जो मंगलवार को 29,468.49 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी बुधवार को 8,584.10 के स्तर पर खुला। शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 487.03 अंक यानी 1.65% के नुकसान के साथ 28,981.46 के स्तर पर था। निफ्टी भी 102.60 अंक फिसलकर 8,495.15  के स्तर पर आ गया है। शुरुआती कारोबार में एलएंडटी, इंडसइंड बैंक, एचडीएफसी, पावर ग्रिड, ब्रिटानिया, सिप्ला और अल्ट्राटेक सीमेंट के शेयर हरे निशान पर थे। वहीं कोटक महिंद्रा बैंक, अडाणी पोर्ट्स, एसबीआई, ओएनजीसी, बीपीसीएल, ग्रासिम, टेक महिंद्रा, रिलायंस और एचसीएल टेक लाल निशान पर थे।

01-04-2020
लगातार दूसरे महीने सस्ती हुई रसोई गैस

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों में जारी गिरावट के बीच देश में रसोई गैस लगातार दूसरे महीने सस्ती हुई है। देश की सबसे बड़ी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 14.2 किलोग्राम के बिना सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर की कीमत एक अप्रैल से 61.50 रुपये घटाकर 744 रुपए कर दी गई है। मार्च में इसकी कीमत 805.50 रुपए थी। सब्सिडी वाले घरेलू रसोई गैस सिलेंडर के दाम में इसके अनुरूप कर का हिस्सा कम हो जाएगा। कोलकाता में सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत 65 रुपये घटकर 744.50 रुपए, मुंबई में 62 रुपए घटकर 714.50 रुपए और चेन्नई में 64.50 रुपए घटकर 761.50 रुपए रह गई है।

30-03-2020
रिलायंस इंडस्ट्रीज देगी पीएम केयर्स फंड में 500 करोड़ रुपए का योगदान

नई दिल्ली। निजी क्षेत्र की प्रमुख कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) कोरोना वायरस महामारी से निपटने में सरकार की मदद के लिये पीएम-केयर्स फंड में 500 करोड़ रुपए का योगदान देगी। कंपनी ने सोमवार (30 मार्च) को एक बयान में यह जानकारी दी। इसके अलावा कंपनी महाराष्ट्र और गुजरात मुख्यमंत्री राहत कोष में 5-5 करोड़ रुपए का योगदान देगी। रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कहा, “हमें विश्वास है कि भारत कोरोनो वायरस की आपदा पर जल्द से जल्द विजय प्राप्त कर लेगा। रिलायंस इंडस्ट्रीज की पूरी टीम संकट की इस घड़ी में देश के साथ है और कोविड-19 के खिलाफ इस लड़ाई को जीतने के लिए सब कुछ करेगी।

 

29-03-2020
राहुल गांधी ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र, मजदूरों के पलायन को लेकर की चिंता जाहिर

नई दिल्ली। कोरोना वायरस को लेकर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। तीन पन्नों के पत्र में राहुल ने लॉकडाउन का समर्थन किया है। पत्र में उन्होंने मजदूरों के पलायन को लेकर चिंता जाहिर की है। राहुल ने कहा कि हम सभी इस संकट के समय वायरस के खिलाफ सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदम में सहयोग देने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि भारत की परिस्थिति अलग है। हमें दूसरे देशों की लॉकडाउन रणनीति से इतर कदम उठाने होंगे। राहुल ने कहा कि हमारे देश में दिहाड़ी पर काम करने वाले गरीब लोगों की संख्या ज्यादा है इसलिए हम आर्थिक गतिविधियों को बंद नहीं कर सकते। पूरी तरह से आर्थिक बंदी के कारण कोविड-19 वायरस से होने वाली मृत्यु दर बढ़ जाएगी।

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि वे 'राष्ट्रव्यापी देशबंदी का हमारे लोगों, हमारे समाज और हमारी अर्थव्यवस्था पर पड़े संभावित प्रभाव' पर दोबारा विचार करें। उन्होंने कहा कि 'अचानक हुई देशबंदी से दहशत और भ्रम की स्थिति पैदा हो गई' जिसके कारण बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घर वापस जाने की कोशिश कर रहे हैं। राहुल ने पत्र में लिखा है कि हमारे यहां रोज की कमाई पर निर्भर रहने वाले गरीब लोगों की संख्या काफी ज्यादा है। इसलिए एकतरफा कार्रवाई करके सभी आर्थिक गतिविधियों को बंद नहीं कर सकते हैं। आर्थिक गतिविधियों को बंद कर देने से कोविड-19 की तबाही और बढ़ जाएगी।

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी से आग्रह किया कि वे सामाजिक सुरक्षा जाल को मजबूत करें और गरीब मजदूरों की मदद और उन्हें आश्रय देने के लिए सार्वजनिक संसाधनों का उपयोग करें। उन्होंने सरकार द्वारा घोषित किए गए वित्तीय पैकेज को एक अच्छा पहला कदम बताते हुए उसके जल्द से क्रियान्वयन का आह्वान किया। उन्होंने वायरस के प्रभाव और आर्थिक बंदी से प्रमुख वित्तीय और रणनीतिक संस्थानों के आसपास रक्षात्मक दीवार स्थापित करने का सुझाव दिया। राहुल ने कहा कि हमारी प्राथमिकता बुजुर्गों और इस वायरस से ज्यादा खतरा झेल रहे कमजोर लोगों को बचाने और उन्हें आइसोलेट करने की होनी चाहिए। सरकार की तरफ से अचानक लॉकडाउन की घोषमा करने से दहशत और भ्रम की स्थिति पैदा हुई। हजारों प्रवासी मजदूर अपने किराए के घरों को छोड़ने को मजबूर हो गए हैं क्योंकि अब वे किराया नहीं दे सकते। इसलिए सरकार तुरंत कदम उठाए और उन्हें किराया देने के लिए रकम मुहैया कराए। लॉकडाउन की वजह से हजारों प्रवासी मजदूर पैदल अपने घरों की तरफ निकल पड़े हैं और अलग-अलग राज्यों की सीमाओं पर फंस गए हैं। हमें उनसे बात करके, उन्हें विश्वास में लेकर समय पर कदम उठाने की आवश्यकता है।

 

29-03-2020
प्रधानमंत्री मोदी का रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' ​हो रहा प्रसारित

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा की तरह इस रविवार यानि आज मन की बात कर रहे हैं। लेकिन इस बार यह वैश्विक महामारी कोरोना वायरस पर केंद्रित होगी। इस संबंध में प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करके जानकारी दी है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट में कहा है कि मन की बात के नए एपिसोड को कोरोना वायरस महामारी पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी का रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' हर माह के आखिरी रविवार को प्रसारित किया जाता है। इसमें प्रधानमंत्री ताजा मामलों पर अपनी बात रखते हैं।

28-03-2020
बिजली राहत पैकेज का ऐलान, बकाया बिल पर नहीं कटेगा कनेक्शन

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते देश में 21 दिनों का लॉकडाउन किया गया है। लॉकडाउन के चलते सरकार लोगों और राज्यों को कई तरह की रियायतें दे रही है। सरकार ने बिजली के बिल जमा करने में छूट दी है। केंद्रीय बिजली मंत्रालय ने बिजली क्षेत्र के लिए जो राहत पैकेज की घोषणा की। इसके तहत राज्यों को बकाया जमा करने के लिए तीन महीने की छूट दी गई है। वहीं उपभोक्ता को तीन महीने तक बिल जमा करने की रियायत मिली है।
शनिवार को केंद्रीय पावर मंत्री आरके सिंह ने बिजली क्षेत्र के लिए जो राहत पैकेज की घोषणा करते हुए कहा कि, राज्य सरकार के अधीन काम करने वाली बिजली वितरण कंपनियों को अगले तीन महीने तक उनके द्वारा खरीदी गई बिजली का तुरंत भुगतान करने से छूट है। यही नहीं, बाद भी उनकी बिजली खरीद के लिए जमा की जाने वाली सुरक्षा राशि में 50 फीसदी की राहत दी गई है। राजकुमार सिंह ने कहा कि राज्य सरकार के अधीन काम करने वाली बिजली वितरण कंपनियों को अगले तीन महीने तक उनके द्वारा खरीदी गई बिजली का तुरंत भुगतान करने से छूट है। यही नहीं बाद भी उनकी बिजली खरीद के लिए जमा की जाने वाली सुरक्षा राशि में 50 फीसदी की राहत दी गई है। लॉकडाउन की वजह से अगर आप बिजली का बिल भरने नहीं भर पा रहे तो डरने की कोई बात नहीं है। सरकारें अगले तीन महीने तक किसी ग्राहक की बिजली नहीं काटेंगी। यही नहीं, तीन महीने की देरी से बिल का भुगतान करने पर कोई जुर्माना भी नहीं लगायें। इसके लिए केंद्रीय बिजली मंत्रालय की तरफ से सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव को पत्र भेजा जा रहा है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804