GLIBS
कैसे होगा आज कर्नाटक विधानसभा में फ्लोर टेस्ट

नई दिल्ली। शनिवार की शाम को 4बजे कर्नाटक विधान सभा में फ्लोर टेस्ट होगा। इसी के जरिए ये बात साफ हो जाएगी कि येदियुरप्पा की सरकार रहेगी या फिर राज्यपाल को किसी दूसरे दल को मौका देना होगा। इसकी तैयारियां पूरी हो गई हैं। विधान सभा की सुरक्षा में 2 सौ मार्शल तैनात किए गए हैं। ऐसे में ये जानना जरूरी हो जाता है कि आखिर ये फ्लोर टेस्ट क्या है? और इसकी प्रक्रिया क्या-क्या होती है?

क्या होता है फ्लोर टेस्ट : 

राज्य में सत्तारुढ़ बीजेपी की सरकार को अब बहुमत साबित करना होगा।  अमूमन राज्यपाल राज्य में सरकार बनाने वाली पार्टी को बहुमत साबित करने की बात तब कहते हैं जब उन्हें पता हो कि सरकार बनाने वाली पार्टी के पास पर्याप्त बहुमत नहीं हो। फ्लोर टेस्ट के जरिए यह फैसला लिया जाता है कि वर्तमान सरकार या मुख्यमंत्री के पास पर्याप्त बहुमत है या नहीं।  चुने हुए विधायक अपने मत के जरिए सरकार के भविष्य का फैसला करते हैं। 

फ्लोर टेस्ट सदन में चलने वाली एक पारदर्शी प्रक्रिया है और इसमें राज्यपाल का किसी भी तरह से कोई हस्तक्षेप नहीं होता।  सत्ता पर काबिज पार्टी के लिए यह बेहद जरुरी होता है कि वह फ्लोर टेस्ट में बहुमत साबित करे। 

प्रोटेम स्पीकर लेंगे फैसला :

 सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि यह पूरी प्रक्रिया प्रोटेम स्पीकर की निगरानी में आयोजित की जाए।  साथ ही वह फ्लोर टेस्ट से संबंधित सभी फैसले भी लेंगे।  हालांकि कांग्रेस और जेडीएस विधायक केजी बोपैया को प्रोटेम स्पीकर बनाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं। 

नवनिर्वाचित विधायकों के शपथ लेने के बाद प्रोटेम स्पीकर के पास दो विकल्प होंगे।  पहला यह कि फ्लोर टेस्ट कराने का फैसला लें और बहुमत के लिए वोटिंग कराने का निर्देश दे।  या फिर वो पहले सदन के स्पीकर को निर्वाचित करें।वोटिंग होने की सूरत में पहले विधायकों की ओर से ध्वनि मत लिया जाएगा।  इसके बाद कोरम बेल बजेगी।  फिर सदन में मौजूद सभी विधायकों को पक्ष और विपक्ष में बंटने को कहा जाएगा। विधायक सदन में बने हां या नहीं वाले लॉबी की ओर रुख करते हैं।  इसके बाद पक्ष-विपक्ष में बंटे विधायकों की गिनती की जाएगी।  फिर स्पीकर परिणाम की घोषणा करेंगे। 

क्या है वर्तमान स्थिति :

कर्नाटक विधानसभा चुनाव की 222 सीटों पर आए नतीजों में बीजेपी को 104 सीटें मिली, और यह संख्या बहुमत से 8 कम है।  दूसरी ओर, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 37, बसपा को 1 और अन्य को 2 सीटें मिली हैं।  कुमारस्वामी ने 2 सीटों पर जीत हासिल की है, इसलिए सभी विधायकों के उपस्थित रहने पर बहुमत के लिए 111 विधायक चाहिए। 

येदियुरप्पा को सरकार बनाने का न्योता, राज्यपाल ने बहुमत साबित करने 15 दिन का दिया समय

बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणामों के बाद पैदा हुए राजनीतिक संकट पर राज्यपाल वजूभाई वाला ने निर्णय ले लिया है। राज्यपाल ने बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा को सरकार बनाने का न्योता दिया है। कर्नाटक से बीजेपी विधायक सुरेश कुमार के मुताबिक गुरुवार सुबह 09.30 बजे येदियुरप्पा मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। हालांकि राजभवन ने शपथ ग्रहण को लेकर अभी तक कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी है। राज्यपाल ने येदियुरप्पा को विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया है। बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता दिए जाने की खबर मिलने के बाद से कांग्रेस खेमे में हड़कंप मच गया। कांग्रेस नेता पी चिदंबरम और कपिल सिब्बल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके राज्यपाल द्वारा उठाए गए इस कदम को गलत बताया और कहा कि बीजेपी लोकतंत्र की हत्या कर रही है। 

ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस अब इस मामले में कानून के जानकारों की राय लेकर अगल कदम उठाने की तैयारी में है। बता दें कि कर्नाटक विधानसभा में बहुमत के लिए 112 सीटों की आवश्यकता है. लेकिन बीजेपी को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली है. सबसे बड़ा दल होने के नाते बीजेपी नेता येदियुरप्पा ने राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश किया था। वहीं कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन देते हुए बहुमत का दावा किया है। कांग्रेस जेडीएस के कुमारस्वामी को सीएम बनाने पर सहमत है और आज कुमारस्वामी ने जेडीएस और कांग्रेस विधायकों के साथ राज्यपाल से मुलाकात की थी।

कांग्रेस और जेडीएस अपने विधायकों के साथ पहुंचे राजभवन, सरकार बनाने का दावा

बंगलुरू। कर्नाटक विधानसभा चुनावों में त्रिशंकु विधानसभा के नतीजे के बाद अब सभी की निगाहें कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला पर टिक गई हैं। कांग्रेस-जेडीएस लगातार बहुमत का दावा कर रही है, वहीं बीजेपी कह रही है कि वह सबसे बड़ी पार्टी है। सभी की नज़रें अब राजभवन पर टिकी हैं। कांग्रेस और जेडीएस राज्यपाल वजुभाई वाला के सामने अपने विधायकों की परेड करवाएगी। कांग्रेस और जेडीएस अपने विधायकों के साथ राजभवन पहुंच गए हैं। आपको बता दें कि कर्नाटक में 222 सीटों पर मतदान हुआ था, इस हिसाब से बहुमत के लिए 112 विधायकों का समर्थन ही चाहिए।

जेडीएस विधायकों को 100 करोड़ का आॅफर, प्रकाश जावड़ेकर ने कहा ख्याली पुलाव 

बेंगलुरु। जेडीएस के नेता एच डी कुमारास्वामी ने भारतीय जनता पार्टी पर विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप लगाते हुए कहा है कि उनके दल के विधायकों को 100 करोड़ रुपए और कैबिनेट पद की पेशकश की गई है।  इस पर पलटवार करते हुए मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कुमार स्वामी व कांग्रेस नेता ख्याली पुलाव पका रहे हैं। भाजपा तोड़फोड़ की राजनीति पर विश्वास नहीं करती है। 

बता दें कि जद (एस) के नवनिर्वाचित विधायकों की आज यहां बैठक हुई जिसमें कुमारास्वामी को पार्टी के विधायक दल का नेता चुना गया। नेता चुने जाने के बाद कुमारास्वामी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भाजपा से गठबंधन का कोई प्रश्न ही नहीं है और उसने हमेशा जद(एस) के वोटों को बांटने का प्रयास किया है। 

कर्नाटक विधानसभा के कल आए नतीजों में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने के बाद 78 सीटें जीतने वाली कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन देने की घोषणा की है। उधर 104 विधायकों के साथ सबसे बड़े दल के रुप में उभरी भाजपा भी राज्य में सरकार बनाने के लिए प्रयासरत है। 

104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनी भाजपा,  सत्ता की चाबी जेएसडी के हाथों में 

बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनाव में भाजपा 104 सीटें हासिल कर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में सामने आई है। चुनाव में किसी को बहुमत नहीं  मिला। यानी साफ है कर्नाटक में गठबंधन की सरकार बनेगी। अब कर्नाटक के सत्ता की चाबी जेएसडी के हाथों में आ गई है।  कांग्रेस ने जेएसडी को मुख्यमंत्री पद देने के साथ ही समर्थन देने का ऐलान कर दिया है। वहीं भाजपा ने राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने बहुमत साबित करने के लिए दो दिन का समय मांगा है। 

भाजपा की सरकार अब दो ही शर्ताें में बनते दिख रही है। पहला गठबंधन और दूसरा विपक्षी दलों के विधायकों में तोड़फोड़ कर ही भाजपा हारी बाजी को जीत सकती है। बता दें कि चुनावी परिणाम के अनुसार भाजपा को 104, कांग्रेस को 78, जेएसडी को 38 सीटें मिली है। कांग्रेस और जेएसडी को मिलाकर 116 सीटें हो रही हैं जिसके साथ आसानी से सरकार बनाई जा सकती है। 

बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता 

कर्नाटक के ही पूर्व मुख्यमंत्री एसआर बोम्मई बनाम केंद्र सरकार का एक अहम मामला कर्नाटक के संदर्भ में एक नजीर बन सकता है। आमतौर पर राज्यपाल इस निर्देश का पालन करते हुए सबसे बड़े दल को सरकार बनाने का न्योता देते आए हैं। 

कांग्रेस-जेडीएस को भी मिल सकता है अवसर 

 सिद्धारमैया इस्तीफा दे चुके हैं और कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन देते हुए सीएम पद का आॅफर दे दिया है। जेडीएस के कुमारस्वामी ने इस आॅफर को स्वीकार राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा कर चुके हैं।  हाल में गोवा, मेघालय और मणिपुर विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद कांग्रेस की बजाय चुनाव के बाद बने गठबंधन को सरकार बनाने के न्योता मिला था। अब यह फैसला राज्यपाल के विवेकाधिकार में है कि वे किसे सरकार बनाने का न्यौता देते हैं।  

भाजपा के विजय रथ को छत्तीसगढ़ में रोकेंगे- भूपेश

रायपुर। कर्नाटक चुनाव के आ रहे चुनावी रुझान में भाजपा की बढ़त पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के रथ को हम छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में  रोकेंगे और यहीं से कांग्रेस की जीत की शुरूआत होगी। बता दें कि कर्नाटक में कांग्रेस को करारी शिकस्त मिली है। स्वयं मुख्यमंत्री सिद्धारमैया चामुडेश्वरी से चुनाव हार गए हैं।

बता दें कि कर्नाटक बिता दें कि कर्नाटक विधानसभा में 224 सीटों में से 222 सीटों पर चुनाव हुआ। दो सीटों पर चुनाव स्थगित किया गया है। आज मतगणना में भाजपा बड़ी पार्टी बनकर उभर चुकी है। चुनावी रुझानों के साथ ही पूरे देश में भाजपा कार्यकर्ताओं में खुशी लहर है। वहीं कांग्रेसी खेमे में निराश है। 

टीएस सिंहदेव बोले- निराशाजनक परिणाम, आत्मचिंतन की जरुरत 

रायपुर। विधानसभा नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने कर्नाटक चुनाव में आ रहे परिणामों को लेकर कहा कि यह अप्रत्याशित परिणाम है।  यह हमारे लिए निरााशजनक परिणाम है। इस पर आत्मचिंतन की जरुरत है। कर्नाटक में हर पांच साल में सरकार बदलने की परिपाटी रही है। कांग्रेस ने वहां बहुत काम  किया लेकिन क्या कमी रह गई, इसकी समीक्षा की जरुरत है। चुनावों में हार हो या जीत हर परिणाम हमें सीख देती  है। 

बता दें कि कर्नाटक बिता दें कि कर्नाटक विधानसभा में 224 सीटों में से 222 सीटों पर चुनाव हुआ। दो सीटों पर चुनाव स्थगित किया गया है। आज मतगणना में भाजपा बड़ी पार्टी बनकर उभर चुकी है। चुनावी रुझानों के साथ ही पूरे देश में भाजपा कार्यकर्ताओं में खुशी लहर है। वहीं कांग्रेसी खेमे में निराश है। 

भाजपा को बहुमत, आज शाम 6 बजे संसदीय बोर्ड की बैठक, अमित 3 बजे लेंगे प्रेस कांफ्रेंस  

नई दिल्ली। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के रुझानों में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिल गया है। कांग्रेस दूसरे स्थान पर है। रुझानों से साफ हो गया है कि कर्नाटक में इस बार भाजपा की सरकार बनेगी। इसे लेकर भाजपा में खुशी की लहर है। आज शाम 6 बजे भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक रखी गई है। वहीं दोपहर तीन बजे अमित शाह प्रेस कांफे्रंस करेंगे।  बता दें कि भाजपा में एक बार फिर  येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बना सकती है।

संसदीय बोर्ड की बैठक में मुख्यमंत्री कौन होगा, इस पर मुहर लगाया जाएगा। वहीं उप मुख्यमंत्री भी बनया जा सकता है। बता दें कि कर्नाटक विधानसभा में 224 सीटों में से 222 सीटों पर चुनाव हुआ। दो सीटों पर चुनाव स्थगित किया गया है। आज मतगणना में भाजपा बड़ी पार्टी बनकर उभर चुकी है। चुनावी रुझानों के साथ ही पूरे देश में भाजपा कार्यकर्ताओं में खुशी लहर है। पार्टी दफ्तर कार्यकताओं ने मिठाई बांटना शुरू कर दिया है। कई जगहों पर ढोल नगाड़े बजने शुरू हो गए है।  

Loading
Advertise, Call Now - +91 76111 07804
Visitor No.