GLIBS
14-02-2020
कसडोल की कांग्रेस विधायक ने ट्रेनी महिला आईपीएस को औकात दिखाने की बात कही, आईपीएस ने पलटकर कहा हम भी दिखा देंगे

बलौदाबाजार। कसडोल से कांग्रेस विधायक शकुंतला साहू और ट्रेनी आईपीएस अंकिता शर्मा के बीच बुधवार शाम को एक प्रदर्शन के दौरान जोरदार बहस हो गई। विधायक के औकात दिखाने के बयान पर ट्रेनी आईपीएस ने आपत्ति दर्ज कराई और कहा कि आपकी जितनी औकात है हम दिखा देंगे। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है कि ये विवाद सीमेंट प्लांट में घायल हुए मजदूर की मौत के बाद धरना देने के दौरान हुआ है। 10 फरवरी को स्थानीय सीमेंट प्लांट में काम के दौरान मजदूर कौशल साहू बुरी तरह घायल हो गया था। जिसे बाद में इलाज के लिए रायपुर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। घायल मजदूर की बुधवार दोपहर मौत हो गई। इसके बाद इस घटना ने राजनैतिक रंग ले लिया। जानकारी मिलने पर कसडोल विधायक शकुंतला साहू अपने समर्थकों के साथ सीमेंट कंपनी के गेट पर धरने पर बैठ गई। इस दौरान समर्थकों ने जमकर हंगामा किया। मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों को शांत करने की कोशिश की इस दौरान विधायक और ट्रेनी आईपीएस में बहस हो गई। 

12-02-2020
गरीबों के खिलाफ है भाजपा सरकार : प्रियंका गांधी

आजमगढ़। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा बुधवार को आजमगढ़ के बिलरियागंज में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन में घायल हुई महिलाओं से मिलने पहुंची। बीते दिनों इन महिलाओं के प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने आंसू गैस और लाठीचार्ज किया था। प्रियंका ने लाउड स्पीकर से प्रदर्शनकारियों को संबोधित किया और सीएए को संविधान के खिलाफ बताया। उन्होंने कहा कि आप सभी के साथ गलत किया गया है। हमें इस अन्याय के खिलाफ खड़ा होना होगा। प्रियंका ने कहा कि भाजपा की सरकार पूरी तरह से गरीब लोगों के खिलाफ है,जिन लोगों पर अत्याचार हुआ है और जो लोग जेल में बंद हैं उनको न्याय दिलाने की कोशिश हर संभव की जाएगी। बता दें, महिलाओं से बातचीत के दौरान आपबीती बताते हुए एक प्रदर्शनकारी की बच्ची रोने लगी तो प्रियंका ने उसे चॉकलेट देकर मनाया। बता दें कि बिलरियागंज कस्बे में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में 5 फरवरी को महिलाओं ने शाहीन बाग की तर्ज पर अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया था। पुलिस ने महिलाओं को हटाने के लिए आंसू गैस के गोले दागे गए थे। प्रदर्शनकारियों की तरफ से भी पुलिस पर पथराव किया गया था। लाठीचार्ज में कई महिलाएं घायल हुई थीं। पुलिस ने 19 लोगों को देशद्रोह समेत विभिन्न धाराओं में गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

 

11-02-2020
सीएए और एनआरसी के विरोध में हुआ प्रदर्शन

गुना। शहर के शास्त्री पार्क में मंगलवार को सीएए और एनआरसी के विरोध में प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन का आज 25वां दिन था। यहां हजारों की तादाद में लोगों ने प्रदर्शन किया। नारे लगाते हुए सीएए और एनआरसी कानून को वापस लेने की मांग की।

राकेश किरार की रिपोर्ट 

10-02-2020
रोजगार देने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने किया हाइवे जाम

दुर्ग। छत्तीसगढ़ी क्रांति सेना ने स्थानीय निवासियों को रोजगार नहीं दिए जाने के विरोध में  सोमवार को प्रदर्शन किया। लगभग एक घंटे तक प्रदर्शनकारियों ने अंजोरा बाइपास पर चक्का जाम भी किया। आंदोलन के मद्देनजर भारी पैमाने पर पुलिस बल मौके पर तैनात था। प्रशासनिक स्तर पर मांगों का निराकरण 15 दिन में किए जाने के आश्वासन के बाद प्रदर्शन समाप्त किया गया। क्रांति सेना ने बोरई रसमड़ा में संचालित उद्योगों में स्थानीय निवासियों को छोड़कर दीगर प्रांत के रहवासियों को नौकरी दिए जाने के विरोध में धुर्रा छंडाव आंदोलन का आव्हान किया था। आव्हान के तहत समीप क्षेत्रों के ग्रामीण आंदोलन में शामिल हुए थे। ग्रामीणों की मांग है कि उन्हें उद्योगों में नौकरी दी जाए। इसके अलावा जय बालाजी उद्योग से निकाले गए मजदूरों के लंबित मांगों का निराकरण शीघ्र किया जाए। इन मांगो पर 15 दिवस के अंदर विचार कर निराकरण किए जाने का आश्वासन एसडीएम खेमलाल वर्मा द्वारा दिए जाने के बाद प्रदर्शन समाप्त कर दिया गया।

 

10-02-2020
शाहीन बाग मामला: सुप्रीम कोर्ट सख्त, केंद्र और दिल्ली सरकार को दिया नोटिस

नई दिल्ली। शाहीन बाग प्रदर्शन में एक बच्चे की मौत पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को तल्ख टिप्पणी की। सुप्रीम कोर्ट ने प्रदर्शन में 4 महीने के बच्चे की मौत पर केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया है। बता दें कि शाहीन बाग प्रदर्शन में एक 4 महीने के बच्चे की सर्दी से मौत हो गई थी। प्रदर्शन में बच्चे की मौत होने पर शीर्ष अदालत ने खुद ही संज्ञान लिया था। शीर्ष अदालत ने वीरता पुरस्कार जीतने वाले एक बच्चे के पत्र लिखने के बाद यह संज्ञान लिया था।  


'हम किसी की आवाज नहीं दबा रहे'
चीफ जस्टिस एस ए बोबड़े ने कहा किसी बच्चे को स्कूल में पाकिस्तानी कहा गया, यह कोर्ट के समक्ष विषय नहीं है। सीजेआई ने कहा कि हम इस समय एनआरसी, एनपीए या किसी बच्चे को पाकिस्तानी कहने पर सुनवाई नहीं कर रही हैं। सीजेआई की अध्यक्षता वाली पीठ ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि अदालत मदरहुड का सम्मान करती है, लेकिन हमें बताएं कि क्या 4 महीने का कौन सा बच्चा खुद प्रोटेस्ट करना जाता है?

सीजेआई ने कहा, 'हम किसी की आवाज नहीं दबा रहे हैं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट में बेवजह की बहस नहीं करेंगे।' एससी ने केंद्र व दिल्ली सरकार को इस मामले पर नोटिस जारी करते हुए 4 सप्ताह में जवाब दाखिल करने को कहा है।

06-02-2020
राहुल गांधी पर बेतुका और स्तरहीन बयान दिया भाजपा नेता ने, जानिए क्या कहा...

रायपुर। एक ओर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर राहुल गांधी के बयान कि देश का बेरोजगार युवा डंडे से मार लगाएगा से राजनीतिक बवाल मचा हुआ है। वहीं दूसरी ओर छत्तीसगढ़ के रायपुर में राहुल गांधी के विरोध में प्रदर्शन के दौरान भाजपा नेता ने एक बेतुका बयान दे दिया। भाजपा नेता संजय श्रीवास्तव ने कहा कि पूरा देश शर्मसार हुआ है इनके कथन से। अपने नाना,परदादा के नाम से राजनीति कर रहे हैं, प्रधानमंत्री के लिए इन शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं। भाजपा का स्पष्ट मानना है मानसिक रूप से राहुल गांधी रोगी हो गए हैं। संजय श्रीवास्तव ने राहुल गांधी को मानसिक रूप से विक्षिप्त तक कह दिया। उन्होंने कहा कि इनका देश की राजनीति में कहीं कोई स्थान नहीं होना चाहिए। राजनीति में हमारी विचारधारा अलग है पर प्रधानमंत्री के लिए अपशब्दों का प्रयोग नहीं करते हैं। कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष से निवेदन है कि राहुल गांधी का मानसिक इलाज तत्काल कराएं।

ज्ञात हो कि राहुल गांधी ने दिल्ली में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि पीएम 6 महीने बाद घर से भी नहीं निकल पाएंगे। देश का बेरोजगार युवा उन्हें डंडे से मार लगाएगा। राहुल गांधी के इस बयान पर प्रधानमंत्री मोदी ने एतराज जताकर निंदा भी की थी। गुरुवार को रायपुर के आजाद चौक पर भारतीय जनता युवा मोर्चा ने राहुल गांधी का पुतला दहन किया। इस दौरान बड़ी संख्या में कार्यकर्ता वहां मौजूद थे। पुतलादहन के दौरान भाजयुमो कार्यकर्ताओं की पुलिस से झूमाझटकी भी हुई। नगर पुलिस अधीक्षक कोतवाली डीसी पटेल ने कहा कि भाजयुमो की ओर से राहुल गांधी के पुतलादहन की सूचना मिली थी। प्रदर्शनकारियों ने छीना-झपटी की थी। पुतलादहन करने परमिशन नहीं होती है। इसलिए मना किया गया था बावजूद इसके पुतलादहन किया गया है। आगे विधिवत कार्रवाई की जाएगी।

 

04-02-2020
शाहीन बाग़ का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, भाजपा नेता ने की तत्काल सुनवाई की मांग

नई दिल्ली। बीते दो महीनो से नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में शाहीन बाग़ में चल रहे प्रदर्शन का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुँच चूका है। शाहीन बाग़ से प्रदर्शकारियों को हटाने वाली याचिका पर तत्काल सुनवाई करने की मांग भाजपा नेता ने की है। वहीं, सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने संबंधी भाजपा नेता की याचिका पर सुनवाई की तारीख जानने के लिए मंगलवार को भाजपा नेता नंद किशोर गर्ग को संबद्ध अधिकारी के पास जाने को कहा।भाजपा नेता नंद किशोर गर्ग ने अदालत से दिल्ली और नोएडा को जोड़ने वाले अहम मार्ग पर नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन से लोगों को आ रही समस्या पर गौर करते हुए अपनी याचिका पर तत्काल सुनवाई करने का अनुरोध किया है। प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि आप याचिका का उल्लेख करने वाले अधिकारी के पास जाएं।

बता दें कि इससे पहले 35 छात्रों ने हाईकोर्ट में शाहीन बाग प्रदर्शन के खिलाफ याचिका दायर की थी। याचिका में कहा गया है कि प्रदर्शन के चलते बोर्ड परीक्षा की तैयारियों में काफी परेशानी आ रही है। बच्चों की इस याचिका पर फैसला सुनाते हुए हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया था कि कालिंदी कुंज-शाहीन बाग का जो रास्ता बंद है, पुलिस उस पर ध्यान देकर एक्शन ले ताकि छात्रों को परेशानी न हो। जस्टिस नवीन चावला ने मामले की सुनवाई करते हुए पुलिस को निर्देश दिया था कि सरिता विहार रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन बातों पर गौर करे और उसका समाधान करें। गौरतलब है कि फेडरेशन ने अदालत में याचिका डालकर कहा था कि बहुत से छात्र जो कालिंदी कुंज-शाहीन बाग रास्ते से होकर बोर्ड परीक्षा के लिए जाएंगे उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ेगा क्योंकि यह रास्ता 15 दिसंबर से बंद है। वकील अमरेश माथुर के जरिए दाखिल की गई इस याचिका में कहा गया था कि दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षा फरवरी और मार्च में होगी। ऐसे में सड़क नंबर 13 के बंद होने से मथुरा रोड पर भारी जाम लगता है जिससे छात्रों को स्कूल पहुंचने में देर होती है, ऐसे में छात्रों का भविष्य दांव पर लग सकता है।

 

04-02-2020
शाहीन बाग में ठंड से हुई मासूम की मौत, फिर भी प्रदर्शन के लिए लौटी माँ

नई दिल्ली। दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन जारी है। इन्हीं बीच एक चार महीने का मासूम मोहम्मद जहान भी शामिल था। जहान के गालों पर तिरंगा मां नाजिया के साथ हर रोज आता था। कभी इसकी गोद में, तो कभी उसकी गोद में खेलता रहता था। सीएए विरोधी प्रदर्शन के बीच इस मासूम की प्यारी सी मुस्कान सभी के चेहरों पर हंसी ला देती थी।
बीते हफ्ते ठंड लगने से चार महीने का मासूम मोहम्मद जहान चल बसा। सर्दी में भी मां के साथ खुले में प्रदर्शन की वजह से उसे ठंड लग गई। इस वजह से उसे जुकाम और सीने में जकड़न हो गई। अपनी आंखों के तारे को हमेशा के लिए अलविदा कहने के चंद दिनों के बाद ही मां फिर से शाहीन बाग लौट आई है। कहती है, 'यह लड़ाई मेरे बच्चों के भविष्य के लिए है।'

मोहम्मद जहान के मां-बाप बटला हाउस इलाके में छोटी सी झुग्गी में रहते हैं। घर में दो और बच्चे हैं। एक पांच साल की बेटी और एक साल का बेटा। मूल रूप से यूपी के बरेली के रहने वाले हैं। पिता कढ़ाई का काम करने के अलावा ई-रिक्शा भी चलाता है। मां भी परिवार चलाने के लिए कढ़ाई के काम में हाथ बंटाती है। 
अपने मासूम को खोने से दुखी नाजिया ने कहा कि उसके बेटे की 30 जनवरी की रात को प्रदर्शन से लौटने के बाद नींद में ही मौत हो गई। उस दर्दनाक रात का जिक्र करते हुए बताया, 'शाहीन बाग से देर रात एक बजे आई थी। बच्चों को सुलाने के बाद मैं भी सो गई। मगर सुबह देखा तो मोहम्मद जहान कोई हरकत नहीं कर रहा था।' अगले दिन अस्पताल लेकर गए, तो उसे मृत घोषित कर दिया। 

नाजिया 18 दिसंबर से रोज शाहीन बाग के प्रदर्शन में जाती थी। हालांकि डॉक्टरों ने मृत्यु प्रमाण पत्र पर मौत का कोई खास कारण नहीं लिखा है। नाजिया ने कहा कि वह फिर शाहीन बाग पहुंचेगी, लेकिन इस बार अपने बच्चों के बिना। 
 

02-02-2020
शाहीन बाग फायरिंग मामला: सोनम कपूर ने दी ट्वीट पर यह प्रतिक्रिया...

मुंबई। शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन के बीच शख्स द्वारा की गई फायरिंग के बाद पूरे देश में गुस्से का माहौल बन चुका है। इसको लेकर बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनम कपूर ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने सोशल मीडिया पर इसे बांटनेवाली राजनीति की उपज बताया है। सोनम ने अपने ट्विटर वॉल पर लिखा कि उन्होंने कभी सोचा नहीं था कि भारत में ऐसे गोलीबारी भी होगी। शाहीन बाग में फायरिंग से जुड़े एक खबर को शेयर करते हुए उन्होंने ने लिखा कि यह कुछ ऐसा है,जिसके बारे में मैंने कभी सोचा तक नहीं था कि ऐसा भारत में किया जाएगा। बांटनेवाली यह खतरनाक राजनीति बंद होनी चाहिए। यह घृणा को बढ़ावा देने का काम कर रही है। यदि आप हिंदू धर्म को मानते हैं तो समझिए कि यह धर्म कर्म और धर्म का है और यह दोनों में से कुछ नहीं है।
सोनम के इस ट्वीट पर कई प्रतिक्रियाएं भी आ रहीं हैं। लोगों ने इस ट्वीट के बाद उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया।

01-02-2020
जामिया के बाद शाहीन बाग़ में युवक ने चलाई गोली, पुलिस ने किया गिरफ्तार

नई दिल्ली। दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे नागरिकता संसोधित कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन में शनिवार को एक शख्स ने फायरिंग की है। गोली चलने के कारण वहां मौजूद लोगों के बीच अफरा-तफरी मच गई। हालांकि वहां मौजूद पुलिस ने गोली चलाने वाले शख्स को हिरासत में ले लिया है। इस संबंध में अभी तक पुलिस की तरफ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। गोली चलाने वाले शख्स की पहचान उजागर नहीं हुई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस शख्स ने प्रदर्शन स्थल पर लगाए गए पुलिस बैरिकेड के पास फायरिंग की थी। बता दें कि इससे पहले जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में 30 जनवरी को सीएए के खिलाफ छात्रों द्वारा राजघाट तक मार्च निकालने के दौरान एक नाबालिग ने भी भीड़ पर फायरिंग की थी। इस घटना में जामिया के एक छात्र के हाथ में गोली लगी थी। नाबालिग को जुवेनाइल एंड जस्टिस बोर्ड ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। वहीं पुलिस का कहना है कि उसकी उम्र की जांच के लिए बोर्ड बनाया जाए। गौरतलब है कि शाहीन बाग में बीते 49 दिन से सीएए के खिलाफ प्रदर्शन हो रहा है। इससे पहले 28 जनवरी को भी एक शख्स शाहीन बाग में हथियार के साथ गिरफ्तार हो चुका है। पकड़ा गया शख्स पिस्टल लहराते हुए मंच तक जा पहुंच था। हाथ में पिस्टल पकड़े शख्स ने प्रदर्शन कर रहे लोगों से चंद मिनटों में मंच खाली करने की चेतावनी दी थी। वहां मौजूद लोगों ने युवक को पकड़ कर मंच से बाहर हटाया था। पुलिस ने शख्स की पहचान मोहम्मद लुकमान के रूप में की थी।  

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804