GLIBS
वंडरलैंड रिक्रिएशन पार्क का आवंटन निरस्त कर सकता है आरडीए

रायपुर। रायपुरा में संचालित वंडरलैंड रिक्रिशन पार्क का नियमित रुप से संचालन नहीं होने पर गुरुवार को रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव ने पंचामृत कंपनी कोलकाता को नोटिस देने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा भले ही कोलकाता की पंचामृत कंपनी की ओर कोई राशि बकाया नहीं है पर इसका यह मतलब नहीं है कि वह शहर में मनोरंजन के लिए आवंटित भूमि पर स्थापित रिक्रिएशन पार्क को रखरखाव के नाम पर अधिकांश समय तक बंद रखे। वंडरलैंड रिक्रिएशन पार्क लोगों के मनोरंजन के लिए बनाया गया है। कई बार इसकी शिकायतें मिली है । जब से यह शुरु हुआ है अधिकांश समय यह बंद रहा है तथा इसके संचालकों ने इस पर ध्यान नहीं दिया है। वंडरलैंड रिक्रिएशन पार्क का नियमित रुप से संचालन होना चाहिए। यहां अंतर्राष्ट्रीय स्तर का स्वीमिंग पूल भी इसीलिए बनाया गया है ताकि यहां की खेल प्रतिभाओं को राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मौका मिल सके। यदि कंपनी इसका संचालन नहीं कर सकती है तो रायपुर विकास प्राधिकरण उसका आवंटन निरस्त कर दूसरे को आवंटित कर देगा ताकि जनता को मनोरंजन की इस सुविधा का नियमित रुप से लाभ मिल सके।        

ईड्ब्लूएस और एलआईजी की गुणवत्ता और प्रगति बेहतर

इन्द्रप्रस्थ रायपुरा योजना के स्थल निरीक्षण के दौरान आरडीए अध्यक्ष के साथ उपाध्यक्ष गोवर्धनदास खंडेलवाल, मुख्य कार्यपालन अधिकारी एम.डी. कावरे,अतिरिक्त सीईओ एस.आर. दीवान, अधीक्षण अभियंता अनवर खान भी मौजूद थे। स्थल निरीक्षण के दौरान प्रधानमंत्री आवास योजना के अतंर्गत बन रहे 944 एलआईजी और 1472 ईड्ब्लूएस फ्लैट्स के निर्माण का भी अवलोकन किया गया। कार्य की गुणवत्ता तथा प्रगति पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए संजय श्रीवास्त्व ने इसे समय का ध्यान रखते हुए पूरा करने का निर्देश दिया।  इन्द्रप्रस्थ रायपुरा के फेज 2 में विकसित प्लॉट के लिए अधोसंरचना विकास की गति को उन्होंने और बढ़ाने को कहा।

22 से 30 नवंबर के बीच होगा तेंदुपत्ता बोनस वितरण, नए सदस्य बनाने चलेगा अभियान-भाजपा

रायपुर। भाजपा कार्यसमिति की बैठक के बाद भाजपा प्रवक्ता शिवरतन शर्मा, संजय श्रीवास्तव ने मीडिया को जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बैठक में प्रमुख रूप से प्लस 65 के लक्ष्य पर चर्चा हुई । वहीं राजनीतिक प्रस्ताव मंत्री अजय चंद्राकर ने रखा। उन्होंने कहा कि पार्टी ने ये तय किया है कि आने वाले 28,29, 30 अक्टूबर को जिला संगठन की बैठक होगी और उसके बाद 9, 10, 11 नवंबर को मंडलो की बैठक होगी इस बैठक में कार्यसमिति की बैठक में लिए गए निर्णयों की जानकारी देकर उसकी रूपरेखा बताई जाएगी । सरकार अब तेंदूपत्ता संग्राहकों को 22 से 30 नवंबर के मध्य बोनस का वितरण करेगी जो 1800 से बढ़ा कर 2400 किया गया है । जिस तरह धान का बोनस बांटा गया है । उसी तरह अब तेंदूपत्ता का भी बोनस बांटा जाएगा    

आजीवन सहयोग निधी के लिए लेंगे एक मुश्त राशि    

उन्होंने कहा कि आजीवन सहयोग निधि हर वर्ष लेने की बजाए हम अब एक मुश्त बड़ी राशि लेंगें और ये राशि नकद न लेकर चैक और बैंक ड्राफ्ट के माध्यम से ली जाएगी। इसके ब्याज से अब पार्टी का खर्च चलेगा । पार्टी में नए सदस्यों को जोड़ने के उद्देश्य से सदस्यता अभियान भी अब जारी रहेगा । हमारे यहां अभी 7 मोर्चे कार्यरत है आगामी समय मे महिला मोर्चा और युवामोर्चा का लोकसभा स्तर पर एक बड़ा सम्मेलन होगा जिसमें 50 हजार से अधिक कार्यकर्ताओं की भागीदारी भी होगी । अन्य मोर्चो और सक्रिय सदस्यों का सम्मेलन भी जिला स्तर पर होगा । इस प्रकार संगठन को मजबूत करने कार्यक्रम तय किये गए है                        
                    
 3 नवंबर को जिलों में राज्योत्सव

 उन्होंने कहा कि 3 नवंबर को सभी जिलों में राज्योत्सव भी मनाया जाएगा। प्रभारी मंत्रियों को निर्देश है कि प्रभार वाले जिलों में रात्रि विश्राम करें और कार्यकर्ता के घर भोजन भी करें। सभी प्रभारी मंत्री को मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने निर्देश दिए है कि सभी प्रभारी मंत्री अपने जिलों में जाये कार्यकर्ताओं की समस्या सुने। 31 अक्टूबर को रन फार यूनिटी के स्तर पर सरकार तो आयोजन करेगी हम भी एक आयोजन करने वाले है और उस आयोजन में भी हम बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेंगे।

गुजरात फतह करने के लिए शाह खेलेंगे कौन सा मास्टर स्ट्रोक पढ़िए ये खबर

रायपुर | मोदी के गुजरात दौरे के बारे में तो आपको खबर मिल ही रही है लेकिन glibs.in सबसे पहले आपको भाजपा का मास्टर प्लान बता रहा है | ये मास्टर प्लान अमित शाह ने गुजरात चुनाव जितने के लिए तैयार किया है | दरअसल गुजरात चुनाव को भारतीय जनता पार्टी हलके में बिलकुल नहीं ले रही है और लगातार चुनाव जितने गुजरात में मेहनत कर रही है | चुनाव जितने की इन्हीं रणनीतियों में से एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम आज गुजरात में होना है | जिसे नाम दिया गया है “ पन्ना प्रमुख सम्मेलन “ अमित शाह ने इस सम्मेलन के लिए पहले से भाजपा की गुजरात चुनाव सञ्चालन समिति और संगठन के साथ बैठ कर प्लानिंग की थी | इस सम्मेलन के तहत आज गुजरात में भाजपा के समर्पित कार्यकर्ता बड़ी संख्या में एक ही स्थान में एकत्रित होंगें | अमित शाह के इस कांसेप्ट के अनुसार गुजरात चुनाव में वोटर लिस्ट के अनुसार कार्यकर्ताओं को काम बांटा गया है | वोटर लिस्ट के हर पन्ने में लगभग 48 नाम होते है इस 48 नामों के पीछे एक कार्यकर्ता को नियुक्त किया गया है और उसे जिम्मेदारी दी गई है कि उन 48 मतदाताओं को भाजपा में वोट करवाना है उन्हें भाजपा के एजेंडें से वाकिफ करवाना है | यदि आंकड़ो पर नजर डालें तो इस तरह के 48000 पन्ने है | तो इस तरह की मास्टर प्लानिंग कर अमित शाह गुजरात में फिर से भाजपा का परचम लहराना चाहते है | गौरतलब है कि गुजरात में आज पीएम मोदी फिर दौरे पर जाने वाले हैं। बीतें एक महीने में यह उनका चौथा दौरा है। पीएम मोदी गांधीनगर में भाजपा की गुजरात गौरव यात्रा के समापन कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे और यहां एक रैली को भी संबोधित करेंगे | पीएम मोदी ने इस यात्रा से पहले रविवार को ट्वीट कर कहा कि दशकों तक भाजपा को आशीर्वाद देने के लिए वह गुजरात की जनता का नमन करते हैं। इतना ही नहीं प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में कहा, 'हम हमेशा पूरी ताकत और जोश के साथ प्रत्येक गुजराती के सपनों को साकार करेंगे।

संजय श्रीवास्तव को मिली बड़ी जिम्मेदारी

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव भी इन दिनों गुजरात में है | दरअसल संजय श्रीवास्तव को गुजरात चुनाव में प्रचार के लिए पार्टी की तरफ से विशेष जिम्मेदारी दी गई है | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के कार्यक्रमों की रुपरेखा तैयार करने वाली टीम में संजय भी शामिल है |

बढ़ा संजय का कद

गुजरात में भाजपा का चुनाव प्रचार कर रहे प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव का कद अब पार्टी में बढ़ गया है | संजय श्रीवास्तव एक युवा होने के साथ-साथ अच्छे वक्ता भी है यही कारण है कि उनकी बहुमुखी प्रतिभा होने के चलते अब संजय सीधे अमित शाह की चुनाव कैम्पेनिंग टीम का हिस्सा है | आने वाले समय में संजय को पार्टी बड़ी जिम्मेदारी भी दे सकती है |

RDA अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव बने glibs.in के गेस्ट एडिटर

रायपुर। RDA अध्यक्ष एवं भाजपा प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव मंगलवार को  GLIBS.IN के गेस्ट एडिटर (अतिथि संपादक) बने। उन्होंने glibs.in के पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि इस क्षेत्र में काम करने में काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है लेकिन जो चुनौती का सामना करता है वही आगे बढ़ता है। उन्होंने सभी को बधाई एवं शुभकमानाएं देते हुए नई तकनीक के साथ हो रहे पत्रकारिता को काफी प्रभावी बताया। इस दौरान संजय श्रीवास्तव ने  glibs.in की पूरी टीम से मुलाकात कर कामकाज की जानकारी ली। उन्होंने glibs.in में राजनीतिक, शिक्षा, स्वास्थ्य और आम जनता से जुड़ी खबरों की जमकर सराहना की।

आपको बता दें कि glibs.in ने एक नई परंपरा की शुरुआत की है। इसके जरिए सामाजिक, राजनीतिक और पत्रकारिता क्षेत्र के लोगों को बतौर गेस्ट एडिटर (अतिथि संपादक) के रूप में आमंत्रित किया जाता है। इसका उद्देश्य है कि ऐसे लोगों के नजरिए से खबरों को पेश किया जा सके। इसी कड़ी में मंगलवार को संजय श्रीवास्तव glibs.in में गेस्ट एडिटर बने। गेस्ट एडिटर संजय श्रीवास्तव करीब 1 बजे कार्यालय पहुंचे। इस मौके पर glibs.in  के डायरेक्टर शरद गोयल, एडिटर-इन-चीफ विशाल यादव और एडिटर प्रियंका कौशल ने उनका स्वागत किया। इस मौके पर सिटी चीफ सुखनंदन बंजारे, इनपुट हेड मनोज साहू, सीनियर रिपोर्टर पंकज शर्मा, श्रवण यदू, प्रदीप शर्मा, जसप्रीत कौर, कल्याणी, चंचल, टेक्नीकल हेड अशोक ठाकुर, भगत सिंह ठाकुर, भानू वर्मा, मनीष आडिल सहित glibs.in की पूरी टीम मौजूद रही।

विश्वेश्वरैया आधुनिक भारत के विश्वकर्माः संजय श्रीवास्तव

रायपुर । सिविल लाईन में शुक्रवार को समारोह का आयोजन कर भारतरत्न एम. विश्वेश्वरैया के जन्म दिन को अभियंता दिवस के रूप में मनाया गया। समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद भाजपा प्रदेश प्रवक्ता एवं आरडीए अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव ने एम. विश्वेश्वरैया के प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उनको नमन किया।

संजय श्रीवास्तव ने कहा कि अभियंता दिवस भारत में प्रत्येक वर्ष 15 सितम्बर को मनाया जाता है। इसी दिन भारत के महान् अभियंता और भारतरत्न प्राप्त मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म दिवस पर उनको याद किया जाता है। आज भी मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया को आधुनिक भारत के विश्वकर्मा के रूप में बड़े सम्मान के साथ स्मरण किया जाता है। अपने समय के बहुत बड़े इंजीनियर,वैज्ञानिक और निर्माता के रूप में देश की सेवा में अपना जीवन समर्पित करने वाले डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया को भारत ही नहीं,वरन विश्व की महान् प्रतिभाओं में गिना जाता है। एम. विश्वेश्वरैया का व्यक्तित्व एवं कृतत्व अभियंता समुदाय के लिए अनुकरणीय है एवं सदा प्रेरणा का श्रोत रहेगा। विश्वेश्वरैया को उनके कार्य दक्षता को देखते हुए उन्हें भारत के सर्वोच्च सम्मान भारतरत्न से सम्मानित किया गया था। जन हित में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा। उनके बताये रास्ते पर चलकर ही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि दी जा सकती है। आज के दिन हम सभी एक जगह एकत्रित हो विश्वेश्वरैया के बताये रास्ते पर चलने का संकल्प लेते हैं। हम उनके रास्ते पर चलकर ही देश को आगे बढ़ाने में सहयोग प्रदान कर सकते हैं।

उन्होने कहा कि एक सौ एक वर्ष का यशस्वी जीवन जीने वाले मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया सदैव भारतीय आकाश में अपना प्रकाश बिखेरते रहेंगे। भारत सरकार द्वारा 1968 ई. में डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की जन्म तिथि को अभियंता दिवस घोषित किया गया था। तब से हर वर्ष इस पुनीत अवसर पर सभी भारतीय अभियंता एकत्रित होकर उनकी प्रेरणादायिनी कृतित्व एवं आदर्शो के प्रति श्रद्धा-सुमन अर्पित कर अपने कार्य-कलापों का आत्म विमोचन करते हैं और इसे संकल्प दिवस के रूप में मनाने का प्रण लेते हैं। संकल्प अपने दायित्वों एवं कर्तव्यों का समर्पित भाव से निर्वहन करते हैं।
उन्होंने कहा कि भारत की आजादी के बाद नये भारत के निर्माण और विकास में प्रतिभावान इंजीनियरों ने भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। गांव एवं शहरों के समग्र विकास के लिए सड़कों, पुल-पुलियों और सिंचाई जलाशयों सहित अधोसंरचना निर्माण के अनेक कार्य हो रहे हैं। हमारे इंजीनियरों ने अपनी कुशलता से इन सभी निर्माण कार्यो को गति प्रदान की है। राज्य और देश के विकास में इंजीनियरों के इस योगदान के साथ-साथ अभियंता दिवस के इस मौके पर भारतरत्न मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की प्रेरणादायक जीवन गाथा को कभी भुलाया नहीं जा सकता ।

संजय श्रीवास्तव ने कहा कि दक्षिण भारत के मैसूर, कर्नाटक को एक विकसित एवं समृद्धशाली क्षेत्र बनाने में मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का अभूतपूर्व योगदान रहा है। तकरीबन 55 वर्ष पहले जब देश स्वंतत्र नहीं था, तब कृष्णराजसागर बांध, भद्रावती आयरन एंड स्टील वर्क्स, मैसूर संदल ऑयल एंड सोप फैक्टरी,मैसूर विश्वविद्यालय, बैंक ऑफ मैसूर समेत अन्य कई महान् उपलब्धियाँ मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया के कड़े प्रयास से ही संभव हो पाई। इसीलिए इन्हें कर्नाटक का भगीरथ भी कहते हैं। जब वह केवल 32 वर्ष के थे, उन्होंने सिंधु नदी से सुक्कुर कस्बे को पानी की पूर्ति भेजने का प्लान तैयार किया,जो सभी इंजीनियरों को पसंद आया। सरकार ने सिंचाई व्यवस्था को दुरुस्त करने के उपायों को ढूंढने के लिए समिति बनाई। इसके लिए विश्वेश्वरैया ने एक नए ब्लॉक सिस्टम को ईजाद किया। उन्होंने स्टील के दरवाजे बनाए,जो कि बांध से पानी के बहाव को रोकने में मदद करता था। उनके इस सिस्टम की प्रशंसा ब्रिटिश अधिकारियों ने मुक्तकंठ से की थी। आज यह प्रणाली पूरे विश्व में प्रयोग में लाई जा रही है। विश्वेश्वरैया ने मूसा व इसा नामक दो नदियों के पानी को बांधने के लिए भी प्लान तैयार किए। इसके बाद उन्हें मैसूर का चीफ इंजीनियर नियुक्त किया गया।
समारोह में मुख्य रूप से महापौर प्रमोद दुबे, अभियंता संघ के केपीएन सिंग, आरएन गुप्ता,एमएस भदौरिया, एके कुटारे,पीके खरे, श्री शर्मा, प्रमोद भास्कर, एसएन बाजपेयी, योगेश, गोपाल मेनन सहित बड़ी संख्या में अभियंता मौजूद थे।

Visitor No.