GLIBS
24-11-2019
बसपा प्रमुख मायावती ने चार पूर्व विधायकों को पार्टी से किया निष्कासित

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बसपा प्रमुख मायावती ने बड़ी कार्रवाई करते हुए चार पूर्व विधायकों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। बस्ती के जिलाध्यक्ष संजय धूसिया ने खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि सभी नेता हाईकमान के रडार पर थे। मायावती ने चार पूर्व विधायकों को पार्टी से निष्कासित कर दिया है। जिन विधायकों को निष्कासित किया गया है उनमें सदर सीट से दो बार विधायक रहे जितेन्द्र चौधरी, महदेवा सीट से विधायक रहे दूधराम, रुधौली से विधायक रहे राजेन्द्र चौधरी और कप्तानगंज के विधायक व पूर्व मंत्री रहे राम प्रसाद चौधरी शामिल हैं। जिला अध्यक्ष ने बताया कि इन चारों को अनुशासनहीनता और पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने की शिकायत के बाद निकाला गया है। बता दें कि मायावती ने यूपी में बीएसपी का पूरा संगठन बदल दिया है। राज्य के उन्होंने चार भाग में बांट दिया है। हर हिस्से को सेक्टर का नाम दिया गया है। हर सेक्टर की ज़िम्मेदारी दो बड़े नेताओं को दी गई हैं। 

 

10-11-2019
बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने पूर्व मंत्री-विधायक समेत 7 नेताओं को पार्टी से निकाला

आगरा। बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमों मायावती ने बड़ी कार्रवाई की है। उन्होंने आगरा के पूर्व एमएलसी सुनील चितौड़, पूर्व मंत्री नारायण सिंह सुमन, पूर्व विधायक कालीचरण सुमन, पूर्व विधायक वीरू सुमन समेत तीन पूर्व जिला अध्यक्षों को पार्टी से निष्कासित कर दिया है। यह कार्रवाई अनुशासनहीनता के कारण की गई है। इस कार्रवाई से बसपा में खलबली मच गई है। बता दें कि 9 नवबंर को मेरठ की मेयर सुनीता वर्मा और उनके पति और पूर्व विधायक योगेश वर्मा को भी पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने पर हुई कार्रवाई दरअसल, यह कार्रवाई लोकसभा चुनाव 2019 के बाद पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल पाए जाने पर की गई है। बसपा सुप्रीमो मायावती की इस कड़ी कार्रवाई के बाद आगरा के बीएसपी यूनिट में हलचल मच गई है। बीएसपी के जिला अध्यक्ष संतोष कुमार आनंद की तरफ से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, पूर्व विधान परिषद सदस्य सुनील कुमार चित्तौड़, पूर्व मंत्री नारायण सिंह सुमन, उनके पुत्र पूर्व एमएलसी स्वदेश कुमार ऊर्फ वीरू सुमन, पूर्व विधायक कालीचरण सुमन, पूर्व जिलाध्यक्ष भारतेंदु अरुण, मलखान सिंह व्यास, विक्रम सिंह को पार्टी से निष्कासित किया है। हाईकमान ने की कार्रवाई बसपा जिलाध्यक्ष संतोष कुमार आनंद की ओर से जारी पत्र के अनुसार ये सभी नेता पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त थे। पार्टी हित को देखते हुए हाईकमान ने इन नेताओं पर कार्रवाई की है। बता दें कि आगरा के विधायक रह चुके और बसपा सरकार में उद्यान मंत्री का पद संभाल चुके नारायण सिंह सुमन और उनके पुत्र पूर्व एमएलसी वीरू सुमन को वर्ष 2016 में भी बसपा से निष्कासित किया गया था। लोकसभा चुनाव 2019 के बाद जून माह में पिता-पुत्र की बसपा में घर वापसी हुई थी, लेकिन ज्यादा दिन बसपा में टिक नहीं पाए।

 

29-08-2019
दलित छात्रों को अलग बैठाकर देते हैं मिड डे मील, मायावती ने कहा- सख्त कार्रवाई करे सरकार 

लखनऊ। यूपी के बलिया में दलित छात्रों  को अलग बैठाकर भोजन कराने के मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती ने सरकार से सख्त कार्रवाई करने की मांग की है। मायावती ने ट्वीट कर कहा कि सरकारी स्कूल में दलित छात्रों को अलग बैठाकर भोजन कराने की खबर अति दु:खद व अति निन्दनीय है। बीएसपी की मांग है कि ऐसे घिनौने जातिवादी भेदभाव के दोषियों के खिलाफ  राज्य सरकार तुरंत सख्त कानूनी कार्रवाई करे ताकि दूसरों को इससे सबक मिले व इसकी पुनरावृति न हो। बता दें कि बलिया के रामपुर इलाके में स्थित एक प्राइमरी स्कूल में बच्चों के अंदर छुआछूत की प्रवृत्ति देखने को मिली। स्कूल के कुछ बच्चे अपने घरों से थालियां ला रहे हैं और एससी-एसटी बच्चों से अलग बैठकर मिड डे मील खा रहे हैं। छोटे बच्चों में इस तरह की भावना चौंकाने वाली है। तस्वीरें सामने आने के बाद स्कूल के प्रधानाचार्य का कहना है कि कुछ बच्चे समझाने के बावजूद ऐसा कर रहे हैं। अलग थाली में अन्य बच्चों से दूर बैठकर खाना खाने के सवाल पर एक बच्चे ने कहा कि कोई भी स्कूल की थालियों में खाना खा लेता है। इसलिए हम घर अपनी थाली लेकर आते हैं। मामले में प्रधानाचार्य पी गुप्ता ने बताया कि हम बच्चों को एक साथ बैठने और खाने को कहते हैं, लेकिन हमारे हटते ही बच्चे दूर चले जाते हैं। हो सकता है ऐसा उनके घरों में बताया गया हो। हमने छात्रों को बहुत समझाने की कोशिश की कि सभी एक समान हैं, लेकिन अपर कास्ट के बच्चे हमेशा कोशिश करते हैं कि वे लोअर कास्ट के बच्चों से दूर रहें।

 

28-08-2019
बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनीं गईं मायावती, उपचुनाव प्रत्याशियों का किया ऐलान

नई दिल्ली। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष एक बार फिर मायावती को चुना गया है। लखनऊ में आयोजित केन्द्रीय कार्यकारिणी की बैठक में यह फैसला लिया गया। बसपा सुप्रीमो मायावती ने 28 अगस्त को जोनल व मंडल प्रभारियों की बैठक बुलाई थी। इसमें संगठन विस्तार और भाईचारा कमेटियों के गठन के बारे में चर्चा होनी थी। इसके साथ ही विधानसभा उपचुनाव की तैयारियों के बारे में भी समीक्षा होनी थी। बसपा सुप्रीमो ने उपचुनाव वाले क्षेत्रों में सबसे पहले विधानसभा, सेक्टर गठन के साथ ही भाईचारा कमेटी बनाने का निर्देश दिया है। बैठक में विधानसभा उपचुनाव के प्रत्याशियों के नामों की घोषणा की गई। बताया जा रहा है कि मायावती अब नए सिरे से राष्ट्रीय कार्यकारिणी घोषित करेंगी। बैठक में यह तय किया गया कि बसपा विधानसभा उपचुनाव में सभी 13 सीटों पर लड़ेगी। 

 

18-08-2019
देश में आर्थिक मंदी का खतरा, व्यापारी वर्ग परेशान, केंद्र गंभीरता से ले: बसपा प्रमुख मायावती

लखनऊ। उत्तरप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा अध्यक्ष मायावती ने एक बार फिर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। मायावती ने कहा कि देश में आर्थिक मंदी का खतरा है और व्यापारी वर्ग परेशान है। उन्होंने केंद्र सरकार को इसे गंभीरता से लेने की सलाह दी है। मायावती ने ट्वीट कर लिखा, "देश में व्यापक बेरोजगारी, गरीबी, महंगाई, अशिक्षा, स्वास्थ्य, तनाव, हिंसा आदि की चिन्ताओं के बीच अब आर्थिक मंदी का खतरा है, जिससे देश पीड़ित है। व्यापारी वर्ग भी काफी दुखी व परेशान हैं। छटनी आदि के उपायों के बाद वे आत्महत्या तक को मजबूर हो रहे हैं। केंद्र इसे पूरी गंभीरता से लें।

इससे पहले मायावती ने एक ट्वीट में लिखा, "राजस्थान में कांग्रेस सरकार की घोर लापरवाही व निष्क्रियता के कारण बहुचर्चित पहलू खान मॉब लिंचिंग मामले में सभी छह आरोपी निचली अदालत से बरी हो गए। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के मामले में वहां की सरकार अगर सतर्क रहती तो क्या यह संभव था? शायद कभी नहीं। मायावती ने कहा कि सरकार को जम्मू-कश्मीर के लोगों को विश्वास दिलाना चाहिए कि वह उनकी भलाई के लिए काम कर रही है। उन्होंने अनुच्छेद 370 के प्रावधान हटाए जाने के बाद उत्पन्न हालात की तरफ इशारा करते हुए कहा "जहां तक जम्मू-कश्मीर की बात है, तो वहां के लोगों को इस बात का एहसास होना चाहिए कि सरकार उनके हित और भलाई के लिए काम कर रही है, जैसा कि दावा किया जा रहा है।

06-08-2019
केन्द्र सरकार के फैसले का सही लाभ अब मिलेगा जम्मू कश्मीर के लोगों को: मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी(बसपा) अध्यक्ष मायावती ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त करने के फैसले का स्वागत करते हुये कहा कि केन्द्र सरकार के इस फैसले का सही लाभ अब जम्मू कश्मीर के लोगों को मिलेगा। सुश्री मायावती ने ट्वीटकर कहा संविधान की सामाजिक, आर्थिक व राजनैतिक न्याय की मंशा को देश भर में लागू करने हेतु जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा सम्बंधी धारा 370 व 35ए को हटाने की माँग काफी लम्बे समय से थी। अब बीएसपी उम्मीद करती है कि इस सम्बंध में केन्द्र सरकार के फैसले का सही लाभ वहाँ के लोगों को आगे मिलेगा।
उन्होंने एक अन्य ट्वीट कर कहा कि जम्मू-कश्मीर के लेह-लद्दाख को अलग से केन्द्र शासित क्षेत्र घोषित करने से खासकर वहाँ के बौद्ध समुदाय के लोगों की बहुत पुरानी माँग अब पूरी हुई है। केंद्र सरकार के इस फैसले से पूरे देश में विशेषकर बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के बौद्ध अनुयाई काफी खुश हैं।

मायावती ने ट्वीटकर कहा जम्मू-कश्मीर के लेह-लद्दाख को अलग से केन्द्र शासित क्षेत्र घोषित किए जाने से खासकर वहाँ के बौद्ध समुदाय के लोगों की बहुत पुरानी माँग अब पूरी हुई है, जिसका भी बीएसपी स्वागत करती है। इससे पूरे देश में विशेषकर बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के बौद्ध अनुयाई काफी खुश हैं।

गौरतलब है कि राज्यसभा में बसपा सांसद सतीश मिश्रा अनुच्छेद 370 को बेअसर करने वाले प्रस्ताव का समर्थन किया था। मिश्रा ने कहा था कि अब अन्य राज्यों की तरह जम्मू कश्मीर में भी दलित और पिछड़े वर्ग के समुदायों को आरक्षण का लाभ मिलेगा इसलिए उनकी पार्टी इसका समर्थन करती है।

30-07-2019
उन्नाव कांड पर अखिलेश, प्रियंका और मायावती ने योगी सरकार को लिया निशाने पर

लखनऊ। उन्नाव कांड पर सियासत गरम है। विपक्ष भारतीय जनता पार्टी पर लगातार हमलावर हो रहा है। मंगलवार को कांग्रेस ने इस मामले को लोकसभा में उठाया। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव पीडि़त परिवार से मिलने पहुंचे। यहां उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ को सीधे निशाने पर लिया।  वहीं प्रियंका गांधी और मायावती ने भी सरकार पर मिलीभगत होने का आरोप लगाया है।  डेप्युटी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा भी पीडि़त परिवार से मिलने पहुंचे और घटना पर सफाई दी। 

केजीएमयू पहुंचे अखिलेश यादव ने कहा कि घटना ने उत्तर प्रदेश ही नहीं, देश की माताओं बहनों को हिला दिया है। बेटी न्याय मांगने के लिए जा रही है तो उसे न्याय नहीं मिल रहा है।  अखिलेश ने कहा कि वकील और पीडि़ता जीवन के लिए लड़ रहे हैं। जीवन बचेगा या नहीं पता नहीं। बीजेपी के लोगों को नहीं भूलना चाहिए की इसी प्रदेश ने उन्हें पीएम नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद दिया है। योगी मुख्यमंत्री हैं उनके कार्यकाल में ऐसा हो रहा है। होम मिनिस्टर लखनऊ में मौजूद थे, तब यह घटना हुई। योगी के कार्यकाल में यह हो रहा है। कौन जिम्मेदार है? कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भी बीजेपी सरकार पर निशाना साधा है। प्रियंका ने ट्वीट किया कि हम क्यों कुलदीप सेंगर जैसे लोगों के हाथ में सत्ता की ताकत और संरक्षण देते हैं और क्यों पीडि़तों को अकेले लडऩे के लिए छोड़ देते हैं? प्रियंका ने यह भी मांग की कि अभी भी देर नहीं हुई है। भगवान के खातिर पीएम नरेंद्र मोदी को इस अपराधी और उसके भाई को सत्ता से बाहर कर देना चाहिए। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने बीजेपी पर हमला साधते हुए ट्वीट किया कि स्थानीय बीजेपी सांसद साक्षी महाराज द्वारा जेल में रेप आरोपी बीजेपी विधायक से मिलना यह प्रमाणित करता है कि गैंगरेप आरोपियों को लगातार सत्ताधारी बीजेपी का संरक्षण मिल रहा है, जो इंसाफ  का गला घोटने जैसा है। सुप्रीम कोर्ट को इसका संज्ञान अवश्य लेना चाहिए। पीडि़त परिवार से मिलने पहुंचे डेप्युटी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि जिन धाराओं में पीडि़त परिवार चाहता था उन धाराओं में केस दर्ज कर लिया गया है। पीडि़ता के चाचा इस सरकार से पहले के मामले में जेल हैं। इलाज का खर्चा सरकार उठा रही है। वहीं विधायक पर कार्रवाई करने के मामले में डेप्युटी सीएम ने कहा कि कुलदीप सिंह सेंगर को पार्टी से पहले ही निलंबित किया जा चुका है। उधर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय का घेराव करने सैकड़ों कांग्रेसी कार्यकर्ता पहुंचे। इस दौरान पुलिस ने उन्हें रोकने का प्रयास किया और इसके लिए बल का प्रयोग करना पड़ा। रोके जाने पर भी जब कांग्रेस कार्यकर्ता नहीं रुके तो उन्हें हिरासत में ले लिया गया। 

 

 

24-07-2019
भाजपा ने सत्ता और धनबल का इस्तेमाल करके कर्नाटक में गिरायी सरकार : मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी(बसपा) अध्यक्ष मायावती ने आरोप लगाया है कि भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने सत्ता और धनबल का इस्तेमाल करके कर्नाटक में सरकार गिरायी है। सुश्रीयावती ने बुधवार को ट्वीट करके कहा कर्नाटक में बीजेपी ने संवैधानिक मयार्दाओं को ताक पर रखने के साथ-साथ जिस प्रकार से सत्ता व धनबल का इस्तेमाल करके विपक्ष की सरकार को गिराने का काम किया है वह भी लोकतंत्र के इतिहास में काले अध्याय के रूप में दर्ज रहेगा। इसकी जितनी भी निन्दा की जाए वह कम है।

बसपा अध्यक्ष ने कर्नाटक में विश्वास मत के दौरान अनुपस्थित रहे पार्टी के इकलौते विधायक एन महेश को निष्कासित कर दिया है। सुश्री मायावती ने मंगलवार रात ट्वीट में कहा कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार के समर्थन में वोट देने के पार्टी हाईकमान के निर्देश का उल्लंघन करके बीएसपी विधायक एन महेश आज विश्वास मत में अनुपस्थित रहे जो अनुशासनहीनता है। इसे पार्टी ने अति गंभीरता से लिया है और इसलिए महेश को तत्काल प्रभाव से पार्टी से निष्कासित कर दिया गया।'

20-07-2019
विफलता छिपाने के लिए लिया जा रहा है धारा 144 का सहारा : मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने कानून व्यवस्था को लेकर उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर हमला बोलते हुये कहा कि राज्य सरकार अपनी विफलता छिपाने के लिये धारा 144 का सहारा लेकर सोनभद्र नही जाने दे रही है।
सुश्री मायावती ने शनिवार को ट्वीट कर कहा यूपी सरकार जान-माल की सुरक्षा व जनहित के मामलें में अपनी विफलता को छिपाने के लिए धारा 144 का सहारा लेकर किसी को सोनभद्र जाने नहीं दे रही है। फिर भी उचित समय पर वहाँ जाकर पीड़ितों की यथासंभव मदद कराने का बीएसपी विधानमण्डल दल को निर्देश। सरकारी लापरवाही इस नरसंहार का मुख्य कारण। बसपा अध्यक्ष ने कहा कि देश में आये दिन आदिवासी समाज पर हो रहे अत्याचार के लिए केन्द्र में रही कांग्रेस व अब भाजपा सरकार बराबर की जिम्मेदार हैं। जो भी पार्टी सत्ता से बाहर रहती है वह इनका शोषण होने पर घड़ियाली आंसू बहाती है।

उन्होंने बसपा अध्यक्ष ने एक अन्य ट्वीट में कहा यूपी के सोनभद्र में आदिवासी समाज का उत्पीड़न व शोषण, उनकी जमीन से बेदखली व अब नरसंहार स्टेट बीजेपी सरकार की कानून-व्यवस्था के मामले में फेल होने का पक्का प्रमाण। यूपी ही नहीं देश की जनता भी इन सबसे अति-चिन्तित जबकि बीएसपी की सरकार में एसटी तबके के हितों का भी खास ख्याल रखा गया।

19-07-2019
खुद को हरिश्चन्द्र बताने वाले अपनी गिरेबान में झांक कर देखें : मायावती

लखनऊ। भाई आनंद कुमार के खिलाफ आयकर विभाग की कार्रवाई से बौखलायी बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लोग और रिश्तेदार रातों-रात धन्ना सेठ बन जाते है और यदि वंचित वर्ग अपने कारोबार को आगे बढ़ता है तो उन्हे तकलीफ होती है। सुश्री मायावती ने शुक्रवार को यहां जारी बयान में कहा भाजपा के लोग एवं इनके रिश्तेनाते रातों-रात धन्नासेठ बन जाते हैं तो वे उसे जायज ठहराते हैं और यदि हमारे इन वंचित वर्गों में से कुछ लोग अपने खुद के कारोबार करने के मामले में थोड़ा भी आगे बढ़ते है तो तब फिर इन्हें काफी ज्यादा तकलीफ होती है और फिर वे सत्ता व सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करके अपना इनसे जातिवादी द्वेष निकालते हैं। 

उन्होने कहा कि जातिवादी मानसिकता वाले भाजपा के लोगों को चाहिये कि वे इस मामले में कुछ भी उंगुली उठाने से पहले खुद भी अपने गिरेबान में झांककर देखे तो यह ज्यादा बेहतर होगा और फिर भी यदि वे अपने आपको ‘हरिश्चन्द्र’ मानकर चलते हैं तो फिर वे एक बार यहां सभी की यह जरूर जांच करवा लें कि राजनीति में आने के पहले उनके तथा उनके परिवार वालों के पास कितनी सम्पत्ति थी और अब कितनी है ताकि देश के सामने दूध का दूध व पानी का पानी साफ हो जाये। बसपा अध्यक्ष ने कहा कि चुनाव के दौरान लगभग दो हजार करोड़ से ज्यादा धन भाजपा के बैंक खाते में आया है, उसका भी खुलासा देश के सामने करने की जरूरत है। क्या यह बीजेपी की बेनामी सम्पत्ति नहीं है। बीजेपी ने ईवीएम के साथ-साथ इसी धन के प्रभाव से गरीबों व मजलूमों आदि का वोट खरीद कर चुनाव जीता, जो कोई लुकी-छिपी बात नहीं है बल्कि जग-जाहिर सत्य है।

19-07-2019
भाई पर कार्रवाई के अगले दिन मायावती का हमला, 'गरीबों के वोट खरीद बीजेपी सत्ता में बैठी'

नई दिल्ली। आयकर विभाग की मायावती के भाई और भाई के नोएडा स्थित 400 करोड़ रुपये के प्लॉट को लेकर की गई कार्रवाई के अगले दिन बसपा सुप्रीमो ने बीजेपी पर हमला बोला। मायावती ने बीजेपी पर पलटवार करते हुए कहा कि चुनाव के दौरान दो हजार करोड़ रुपये की संपत्ति बीजेपी वालों के खातों में गई है। उसी पैसे से उन्होंने गरीबों के वोट खरीदकर सत्ता में बैठे हैं। मायावती ने कहा कि बीजेपी ने ईवीएम पर भी धांधली की है। मायावती ने कहा, 'मैं पूछना चाहती हूं कि जब से बीजेपी सत्ता में आई है तब से पूरे देश में अरबों रुपये की संपत्ति पार्टी दफ्तर के लिए खरीदी है। यह पैसे कहां से आया है। क्या यह बेनामी संपत्ति नहीं है। इसका भी खुलासा होना चाहिए। मायावती ने कहा कि दलित, आदिवासी आदि को इनसे घबराना नहीं चाहिए। अगर किसी के साथ भी ज्यादती होगी तो हमारी पार्टी पीछे नहीं हटेगी और उन्हें इंसाफ दिलाएगी।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि बीजेपी सरकार ने साफ किया है कि रेलवे और अन्य विभागों को निजी हाथों में देंगे। इससे साफ जाहिर होता है कि बीजेपी आरक्षण को खत्म करने में लगी है। मायावती ने कहा कि चुनाव के दौरान जो पैसे आए, उसका खुलासा नहीं किया गया है। इससे पहले मायावती ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि वह विपक्षी पार्टियों को निशाना बना रही है। मायावती ने गुरुवार रात एक ट्वीट में कहा था कि बीजेपी केन्द्र की सत्ता का अब भी दुरुपयोग कर अपने विपक्षियों को षड्यंत्र के तहत जबरन फर्जी मामलों में फंसाकर उन्हें प्रताड़ित कर रही है। इसी क्रम में अब मेरे भाई-बहनों आदि को भी जबर्दस्ती परेशान किया जा रहा है, जो अति-निन्दनीय है, लेकिन इससे बसपा डरने और झुकने वाली नहीं है। उन्होंने दूसरे ट्वीट में कहा,''ऐसी ही घिनौनी हरकत इसी पार्टी की सरकार ने सन् 2003 में भी आयकर और सीबीआई आदि के जरिए हमारे विरूद्ध की थी, जो सर्वविदित है, जिसमें फिर हमें अन्त में काफी संघर्ष के बाद उच्चतम न्यायलय में न्याय मिला।

18-07-2019
मायावती के भाई पर आयकर विभाग की बड़ी कार्रवाई, 400 करोड़ का बेनामी प्लॉट जब्त

नई दिल्ली। आयकर विभाग ने बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती के भाई और पार्टी उपाध्यक्ष आनंद कुमार और उनकी पत्नी के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। आयकर विभाग ने 400 करोड़ रुपये के एक बेनामी प्लॉट को जब्त किया है। यह प्लॉट दिल्ली से सटे नोएडा में है। दरअसल, मायावती के भाई आनंद कुमार की संपत्ति की जांच आयकर विभाग कर रहा था। आयकर विभाग को इस जांच में पता चला कि आनंद कुमार के पास नोएडा में 28328 स्क्वायर मीटर का एक बेनामी प्लॉट है। सात एकड़ में फैले इस प्लॉट की कीमत करीब 400 करोड़ रुपये है।

आनंद कुमार और उनकी पत्नी विचित्र लता के इस बेनामी प्लॉट को जब्त करने का आदेश 16 जुलाई को विभाग की दिल्ली स्थित बेनामी निषेध इकाई (बीपीयू) ने जारी किया था। इसके बाद आज यानी 18 जुलाई को आयकर विभाग ने प्लॉट को जब्त कर लिया है। आयकर विभाग के सूत्रों का दावा है कि आनंद कुमार की कुछ और बेनामी संपत्तियों की जानकारी उनके पास है, जिसे भविष्य में जब्त किया जा सकता है। आनंद कुमार के खिलाफ हुई इस कार्रवाई की आंच मायावती तक पहुंच सकती है। इस मामले की जांच आयकर विभाग के अलावा प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) भी कर रही है।

आनंद कुमार की संपत्ति में 18 हजार फीसदी का इजाफा
आयकर विभाग के मुताबिक, मायावती के भाई आनंद कुमार की 1,300 करोड़ रुपये की संपत्ति की जांच चल रही है। आयकर विभाग ने अपनी जांच में आरोप लगाया कि आनंद कुमार की संपत्ति में 2007 से 2014 तक 18,000 फीसदी की वृद्धि हुई है। उनकी संपत्ति 7.1 करोड़ रुपये से बढ़कर 1,300 करोड़ रुपये हो गई। 12 कंपनियां आयकर विभाग की जांच के दायरे में है, जिसमें आनंद कुमार निदेशक हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804