GLIBS
14-01-2021
प्रदेश सरकार की वादा खिलाफी के विरोध में भाजपा ने किया प्रदर्शन,राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन

बीजापुर। बारदानों की कमी के कारण समय पर धान का उठाव नहीं होने से किसानों को हो रही परेशानी और समितियों में व्याप्त अव्यवस्थाओं को दूर कर सभी किसानों का शत प्रतिशत धान खरीदने की मांग को लेकर भाजपाइयों द्वारा बुधवार को विधानसभा स्तरीय आंदोलन का आह्वान किया गया था।इसी के तहत बीजापुर विधानसभा क्षेत्र के भैरमगढ़ में भाजपा कार्यकर्ताओं ने विशाल धरना प्रदर्शन किया और राज्य की कांग्रेस सरकार के खिलाफ नारे लगाए। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने प्रदेश सरकार की विफलताओं को गिनाया। छत्तीशगढ़ के पूर्व मंत्री महेश गागड़ा एवं भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार के अलावा वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने संबोधित किया।अपने संबोधन में भाजपाइयों ने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार किसानों के साथ छलावा कर रही है।

जन घोषणा पत्र के वादों के अनुरूप किसानों के हित में कोई निर्णय नहीं लिया जा रहा है। गौरतलब है कि समितियों में व्याप्त अव्यवस्थाओं को दूर कर सभी किसानों का शत प्रतिशत धान खरीदने की मांग समेत अपने 6 मांगो को लेकर भाजपाइयों द्वारा जिला प्रशासन को राज्यपाल के नाम ज्ञापन भी सौंपा गया। कार्यक्रम में पूर्व वन मंत्री महेश गागड़ा,भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार,जिला उपाध्यक्ष जग्गू तेलाम,जिला महामंत्री हरीश निषाद, मंडल उपाध्यक्ष चिन्नाराम तेलम एवं पूर्व जनपद सदस्य बलदेव उरसा मौजूद थे।

 

14-01-2021
राज्यपाल का बुलावा आते ही सहायक प्राध्यापक परीक्षा के अभ्यर्थियों के खिले चेहरे

रायपुर। राजभवन पहुंचे सहायक प्राध्यापक भर्ती परीक्षा के अभ्यर्थियों के लिए वह खुशी का क्षण था, जब वे अपनी मांगों को लेकर राज्यपाल से मिले। बगैर प्रक्रिया का पालन कर पहुंचे अभ्यर्थियों को ज्ञापन देकर ही लौटना पड़ा। इस बात का राज्यपाल को पता चलते ही उन्होंने तत्काल मुलाकात की अनुमति दी। सभी को अंदर बुलाया और उनकी समस्याओं को सुना। राज्यपाल ने शासन स्तर पर समाधान करने का आश्वासन दिया। राज्यपाल ने कहा कि पिछले दिनों उच्च शिक्षा विभाग के अधिकारियों को उन्होंने  सभी रिक्त पदों पर भर्ती करने का निर्देश दिए हैं। इसमें शिक्षकों के साथ गैर शिक्षकीय पद भी शामिल है। अतः इस संबंध में जल्द से जल्द प्रक्रियाओं को पूर्ण करने को कहा गया है। आपके समस्याओं का यथासंभव समाधान किया जाएगा। अभ्यर्थियों ने कहा कि उन्हें राजभवन आने से पहले यह अपेक्षा नहीं थी कि इतनी आसानी से और बड़े ही सहज ढंग से राज्यपाल के समक्ष अपनी बात रखने का अवसर मिलेगा। जब हम आए थे तब हमारा मन बोझिल और दुखी था, परन्तु अब शांत मन और प्रसन्न होकर वापस जा रहे हैं। इसके लिए सभी ने राज्यपाल को धन्यवाद दिया। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग की ओर से सहायक प्राध्यापक भर्ती परीक्षा 4 से 6 मई 2020 को होनी थी। वैश्विक महामारी कोरोना के कारण 5 से 8 नवंबर 2020 हुई। वैश्विक महामारी कोरोना के कारण भर्ती परीक्षा स्थगित रही।

उन्होंने कहा कि इस बीच न्यायालयीन प्रक्रिया और सेट-2018, नेट-2018, नेट-2019 व सेट-2019 के परिणाम आ जाने व स्थानीय लोगों के मांग पर उन्हें भी भर्ती परीक्षा में सम्मिलित होने का अवसर दिया गया। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के नोटिफिकेशन दिनांक 13-6-2018 में 1-7-2021 से सहायक प्राध्यापक के लिए पीएचडी अनिवार्य अर्हता होने का उल्लेख है। छात्रहित को ध्यान रखते हुए छत्तीसगढ़ लोग सेवा आयोग द्वारा दिनांक 5-9-2020 के सूचना पत्र में इनका उल्लेख करते हुए सेट-2019 उत्तीर्ण होने वालो को पुनः आवेदन का अवसर प्रदान किया गया था। छत्तीसगढ़ में शासकीय विश्वविद्यालयों में पीएचडी के लिए सीमित सीटें हैं। निजी विश्वविद्यालयों से पीएचडी करना काफी खर्चीला है, जिससे छत्तीसगढ़ के कमजोर तबके से आने वाले होनहार विद्यार्थियों को तुरंत पीएचडी करने में कठिनाई का सामना करना पड़ेगा। प्रतिनिधिमण्डल ने बताया कि छत्तीसगढ़ निर्माण के बाद अभी तक छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग की ओर से सहायक प्राध्यापक भर्ती परीक्षा केवल दो बार ही आयोजित की जा सकी है। तीसरी सहायक प्राध्यापक भर्ती परीक्षा के लिए आवेदन विज्ञापित समयावधि पश्चात भी विभिन्न कारणों से अवसर दिये जाने से आवेदन व परीक्षा तिथि के बीच ही लगभग दो वर्ष हो चुका है, जबकि भर्ती प्रक्रिया अभी जारी है। प्रतिनिधिमण्डल ने सहायक प्राध्यापक के संभावित रिक्त पदों को सहायक प्राध्यापक भर्ती परीक्षा-2019 के विज्ञापन में ही समायोजित कर परीक्षा आयोजित करने का आग्रह किया।

14-01-2021
जीवन में समय का बड़ा महत्व, समयबद्ध काम करने वाले जरूर होते हैं सफल

रायपुर। जीवन में समय का बहुत महत्व होता है। जो अपने दिनचर्या में समयबद्ध होकर काम करता है, वह अवश्य सफल होता है। यदि कोई लक्ष्य प्राप्त करना हो तो दिन में एक टाइम टेबल बनाकर निश्चित समय पर अपना कार्य पूर्ण करें। ऐसे गुण किसी व्यक्ति के जीवन में अनुशासन की भावना से आते हैं। जेसीआई इंडिया जैसे संस्था युवाओं में नेतृत्व और अनुशासन का भाव विकसित करते हैं। ऐसे संस्थाओं में संपूर्ण व्यक्तित्व का विकास होता है। ये बातें राज्यपाल अनुसुईया उइके ने राजभवन में जेसीआई सुपर चैप्टर रायपुर के प्रतिनिधिमण्डल से मुलाकात के दौरान कही। राज्यपाल ने कहा कि वे स्वयं ऐसी कुछ संस्थाओं से जुड़ी हुई थी। इसके कारण ही समाज सेवा करने की भावना जागी और राज्यपाल जैसा महत्वपूर्ण दायित्व संभालने का मौका प्राप्त हुआ। राज्यपाल ने एक जेसीआई के युवा सदस्य के सवाल का उत्तर देते हुए कहा कि इस कोरोना काल में आदिवासी क्षेत्र में अपने बच्चों को या युवाओं को तकनीकी रूप से कार्य करने का मार्गदर्शन प्रदान करें। राज्यपाल से जूनियर चेम्बर इंटरनेशनल ने सदस्यों और नवनिर्वाचित पदाधिकारियों ने मुलाकात की। राज्यपाल ने उन्हें नई जिम्मेदारियों के लिए शुभकामनाएं दी।

 

05-01-2021
राज्यपाल से आदिवासी बुढ़ालपेन पोड़दगुमा गोंडवाना विकास समिति के प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके से राजभवन में सुरजुराम उइके के नेतृत्व में आदिवासी बुढ़ालपेन पोड़दगुमा गोंडवाना विकास समिति के प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की। उन्होंने राज्यपाल को उइके गोत्र के कांकेर जिले के अंतागढ़ में ग्राम-टेमरूपानी में आयोजित वार्षिक जात्रा कार्यक्रम में शामिल होने का आमंत्रण दिया। राज्यपाल ने कहा कि यह सराहनीय है। आप लोग अपनी पंरपरा से जुड़े हुए हैं। सुरजुराम ने जो जानकारी दी, बड़ी ज्ञानवर्धक है। ऐसे आयोजन हमेशा होना चाहिए, इससे नई पीढ़ी को अपनी परंपराओं की जानकारी मिलती है। हमारा आदिवासी समाज सदैव प्रकृति पूजक रहा है। उनके हर एक परंपराओं, पूजा स्थलों और धार्मिक संस्कारों में प्रकृति से जुड़ाव मिलता है। वे प्रकृति को संरक्षण प्रदान करते रहे हैं। यही कारण है कि प्रकृति भी उनका ध्यान रखती है। यह देखने में आया है कि इस कोरोना काल में आदिवासी क्षेत्र के गांव अपेक्षाकृत कम प्रभावित रहे हैं। इस दौरान मनेश राम उइके, चंदन सिंह उइके, हरिसिंह उइके, मंगल सिंह उइके, सेवकराम उइके,गोदावरी उइके, सरोजबाला उइके और अन्य प्रतिनिधि उपस्थित थे।

05-01-2021
राज्यपाल से मिला पहाड़ी कोरवा समाज का प्रतिनिधिमंडल,धनुष बाण भेंट किया

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके से राजभवन में पहाड़ी कोरवा समाज के प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की।  पहाड़ी कोरवा के समस्याओं से अवगत कराया। प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल को अपना पारंपरिक अस्त्र धनुष बाण भेंट किया। इस दौरान प्रेमसाय,  प्रबल प्रताप सिंह जूदेव और अन्य प्रतिनिधि उपस्थित थे।

03-01-2021
राज्यपाल अनुसुईया ऊइके ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के भाई अशोक सिंह को  श्रद्धांजलि दी

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके आज निरंजन धर्मशाला में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के बड़े भाई स्व.अशोक सिंह की श्रद्धांजलि सभा में शामिल हुई। उन्होंने अशोक सिंह के छायाचित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह, उनके परिजन व गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

 

21-12-2020
वरिष्ठ कांग्रेस नेता मोतीलाल वोरा को प्रदेश भाजपा परिवार ने दी श्रद्धांजलि,पढिए किसने क्या कहा...

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश इकाई ने अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री व उत्तरप्रदेश के राज्यपाल रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा के निधन पर शोक व्यक्त कर अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है। प्रदेश भाजपा-परिवार ने मोतीलाल वोरा के निधन को छत्तीसगढ़ व देश के राजनीतिक परिदृश्य से एक कद्दावर राजनेता का अवसान कहा और इसे अपूरणीय क्षति बताया है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि राजनीतिक असहमतियों के बावजूद स्व. वोरा का भारतीय राजनीति में सम्मानपूर्ण स्थान था। जनहित के प्रति संकल्पित व समर्पित राजनेता के रूप में वे अजातशत्रु थे। छत्तीसगढ़ के राजनीतिक आयाम को नित-नई दिशा देने और छत्तीसगढ़ के सर्वांगीण विकास के लिए उनका योगदान सदैव स्मरणीय रहेगा। साय ने परमपिता परमेश्वर से स्व. वोरा की आत्मा की चिरशांति की प्रार्थना करते हुए वोरा-परिवार को इस गहन शोक की बेला में ढांढ़स बंधाया है।

भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री सौदान सिंह ने स्व. वोरा को छत्तीसगढ़ की राजनीति का दिग्दर्शक बताया। उन्होंने कहा कि अपने आचरण व कार्यों से उन्होंने राजनीतिक आदर्शों व मूल्यों के जो प्रतिमान गढ़े हैं। हम सब उनके समर्पण और निष्ठा की सीख लेकर अपनी सच्ची श्रद्धांजलि दे सकते हैं।

भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री पवन साय ने कहा कि स्व.वोरा के निधन से भारतीय राजनीति में आई रिक्तता की भरपाई संभव नहीं है। स्व. वोरा एक कुशल संगठनकर्ता और प्रशासनिक सूझबूझ के धनी थे। राजनीतिक मतभेदों से परे स्व. वोरा सभी दलों के साथ समन्वय और सौहार्द्र रखते थे और सभी राजनीतिक दलों के नेता व कार्यकर्ता उनका हृदय से सम्मान करते थे।

भाजपा के प्रदेश महामंत्री नारायण चंदेल, भूपेंद्रसिंह सवन्नी व किरण देव के साथ ही भाजयुमो, किसान मोर्चा, महिला मोर्चा, अजा मोर्चा, अजजा मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा समेत समस्त प्रकोष्ठों के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने भी स्व. मोतीलाल वोरा के निधन को छत्तीसगढ़ की अपूरणीय क्षति बताते हुए अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है।

20-12-2020
राज्यपाल ने पंडित सुंदरलाल शर्मा और ठाकुर प्यारेलाल सिंह को किया नमन

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी ठाकुर प्यारेलाल सिंह की जयंती पर उन्हें नमन किया है। राज्यपाल ने कहा कि ठाकुर प्यारे लाल सिंह छत्तीसगढ़ में सहकारिता आंदोलन के प्रणेता थे। उनके किए गए सामाजिक एकता और उत्थान के कार्य नई पीढ़ी को प्रेरणा देते रहेंगे। राज्यपाल ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं साहित्यकार पंडित सुंदरलाल शर्मा की जयंती पर उन्हें नमन किया है। राज्यपाल ने कहा है कि पंडित सुंदरलाल शर्मा ने देश की आजादी के लिए राष्ट्रीय आंदोलन में भागीदारी निभाई। उन्होंने समाज में छुआछुत की भावना दूर करने और अनुसूचित जाति के कल्याण के लिए महत्वपूर्ण कार्य किए। इसके साथ ही पं. सुंदरलाल शर्मा ने छत्तीसगढ़ी में महत्वपूर्ण साहित्य की रचना कर छत्तीसगढ़ी भाषा की अभिवृद्धि में भी अमूल्य योगदान दिया है।

 

 

18-12-2020
इंडियन रेडक्राॅस सोसायटी पुरस्कार: राज्यपाल ने श्रेष्ठ जिला श्रेणी अंतर्गत बालोद जिले को प्रदान किया तृतीय पुरस्कार

रायपुर\बालोद। इंडियन रेडाक्राॅस सोसायटी के माध्यम से जिलों में सम्पूर्ण वर्ष में की जाने वाली सम्पूर्ण गतिविधियों के लिए, विगत महिनों में नोवल कोविड-19 संक्रमण के रोकथाम के लिए किए गए प्रयासों, लाॅकडाउन के दौरान प्रभावित लोगों के लिए किए गए मानवता और सहायता के परिप्रेक्ष्य में राजभवन और इंडियन रेडक्राॅस सोसायटी राज्य शाखा के माध्यम से श्रेष्ठ जिला श्रेणी अंतर्गत जिलो को चयनित कर पुरष्कारों की घोषणा की गई। जिसमें तृतीय पुरस्कार के लिए बालोद जिले को चयनित किया गया। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने शुक्रवार राजभवन में आयोजित समारोह में बालोद कलेक्टर के प्रतिनिधि के रूप में शामिल डिप्टी कलेक्टर अभिषेक दीवान को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया है। इस अवसर पर जिला शिक्षा अधिकारी आरएल ठाकुर उपस्थित थे।  

 

 

16-12-2020
राज्यपाल ने डॉ. पंडित चैतन्य गोस्वामी को दी श्रद्धांजलि 

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने राजनांदगांव जिले के डोंगरगांव निवासी आयुर्वेदाचार्य, आध्यात्मिक व्यक्तित्व, बनारस विश्वविद्यालय के संस्थापक सदस्य और महामना मदनमोहन मालवीय के शिष्य 109 वर्षीय डॉ. पंडित चैतन्य गोस्वामी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। राज्यपाल ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है और उनके शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है।

14-12-2020
Breaking: डॉ. आरपी दुबे सीवी रमन विश्वविद्यालय के कुलपति नियुक्त

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने डॉ. सीवी रमन विश्वविद्यालय कोटा, बिलासपुर के कुलपति पद पर प्रोफेसर डॉ. आरपी दुबे को नियुक्त किया है। डॉ. दुबे का कार्यकाल, उपलब्धियां और सेवा शर्ते विश्वविद्यालय अधिनियम एवं परिनियम में निहित प्रावधान अनुसार होंगी। उनकी नियुक्ति छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय(स्थापना एवं संचालन) अधिनियम, 2005 (क्रमांक 13 सन 2005) की धारा 17 की उपधारा (1) में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए की गई है।

 

12-12-2020
राज्यपाल अनुसुईया उइके से मिले निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग के अध्यक्ष डॉ.शिववरण शुक्ल

 रायपुर। छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग के अध्यक्ष डॉ.शिववरण शुक्ल ने  राज्यपाल अनुसुईया उइके से सौजन्य मुलाकात की। राज्यपाल ने शाल व श्रीफल देकर उनका सम्मान किया और उन्हें प्रतीक चिन्ह भेंट की। डॉ.शुक्ल ने राज्यपाल को बताया कि आने वाले समय में समस्त निजी विश्वविद्यालयों की वर्चुअल बैठक ली जाएगी, जिसमें कोरोना काल में उनके द्वारा की गई गतिविधियों और उनके भविष्य की कार्ययोजना की समीक्षा की जाएगी। उल्लेखनीय है कि इस बैठक में राज्यपाल उइके भी शामिल होंगी और अपना संबोधन देंगी। इस अवसर पर आयोग के सचिव रामजी द्विवेदी व आयोग की प्रशासनिक सदस्य रेणु देशमुख भी उपस्थित थीं।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804