GLIBS
21-04-2021
फसल दावा बीमा में 9338 किसानों को मिले 19.64 करोड़ रुपए, कंट्रोल रूम से होगा समस्याओं का समाधान 

कवर्धा। जिले में फसल दावा बीमा के अंतर्गत 9338 किसानों को 19.64 करोड़ रुपए दिया गया है। किसानों के समस्याओं के निदान के लिए कंट्रोल रूम की स्थापना भी की गई है। दरअसल वर्ष 2020 खरीफ फसल के तहत किसानों ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए दावा किया था। इसमें 9338 किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत 19.64 करोड़ रुपए के बीमा राशि का भुगतान किया गया है। कृषि विभाग के संचालक मोरध्वज डड़सेना ने बताया कि किसानों की बीमा संबंधी समस्या को दूर करने कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है। कंट्रोल रूम की निगरानी की जिम्मेदारी एसआर साहू वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी को बनाया गया है। वही उप संचालक कार्यालय में महेंद्र कौशिक ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी मोबाइल नंबर 9389184204 और विनोद कुमार डहरिया ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी मोबाइल नंबर 9685053837 को किसानों की समस्या दूर करने की जिम्मेदारी दी गई है।

16-04-2021
कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को मौसम आधारित खेती करने दी सलाह, दिए विभिन्न उपयोगी सुझाव

रायपुर। राज्य के कृषि मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने प्रदेश के किसानों को मौसम आधारित कृषि की सलाह दी है। ग्रीष्मकालीन धान, दलहन, तिलहन, मूंगफली, गन्ना फसल और सब्जियों में होने वाले रोग-ब्याधि के नियंत्रण और फसलों के देखभाल के बारे में कई उपयोगी सुझाव दिए हैं। कृषि वैज्ञानिकों ने कहा है कि वर्तमान समय में ग्रीष्मकालीन धान पुष्पन अवस्था में है। आने वाले दिनों में हल्के बादल छाए रहने की संभावना को ध्यान में रखते हुए धान की फसल में तना छेदक कीट का प्रकोप बढ़ सकता है। इसकी सतत निगरानी व आवश्कतानुसार सिंचाई करें। ग्रीष्मकालीन धान की फसल में तना छेदक कीट के नियंत्रण के लिए रायनेक्सीपार 20 प्रतिशत एससी150 ग्राम प्रति हेक्टेयर या फिपरोनिल 5 प्रतिशत 1 लीटर प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव करें। उन्होंने कहा है कि दलहन फसलों में आने वाले दिनों में हल्के बादल छाए रहने की संभावना को ध्यान में रखते हुए थ्रिप्स कीट की उपस्थिति की जांच करें। तिलहन फसलों में आवश्यकता के अनुसार सिंचाई करें। मूंगफल्ली के फसल फल्ली बनने की अवस्था में है, इसके लिए निश्चित अंतराल में सिंचाई करें।

गन्ना फसल कल्ले बनने की अवस्था में है, गन्ने की फसल में आवश्यकता अनरूप सिंचाई करें। सब्जी की बेल वाली फसलों को मचान-सहारे को ठीक करें। कुंदरू एवं परवल में उर्वरक दें। वर्तमान में वाष्पन की दर 7-10 मिमी प्रतिदिन के आसपास है। इसके कारण रबी फसलों जैसे धान, मूंगफली व साग-सब्जियों की जल मांग में वृद्धि होगी। अत: किसानों को सलाह दी जाती है कि फसलों में सिंचाई के अंतराल को कम करें, जिससे मृदा में पर्याप्त नमी बनी रहे। पौधों को अधिक तापमान के कारण पढ़ने वाले प्रतिकूल प्रभाव को कम किया जा सके। गर्मी मौसम में उत्पादन होने वाली साग-सब्जी की फसलों की भी सतत निगरानी रखें। आवश्कतानुसार उपयुक्त सिचाई करें। ग्रीष्मकालीन शकरकंद की रोपाई भी शुरू करने की सलाह किसानों को दी गई है। कृषि वैज्ञानिकों ने बताया है कि फल-फूल आम, अनार व नीबूं पेड़ों में थाला बनाकर प्रत्येक 4-5 दिन में हल्की सिंचाई करें। अप्रैल व मई के महीने में फलदार वृक्ष रोपण के लिए गड्डा खोदकर छोड़ दें। बारिश के बाद रोपाई करें। केला व पपीता के पौधे में सप्ताह में एक बार पानी अवश्य दें। टपक सिंचाई पद्धति में सिंचाई समय बढ़ाएं।

 

 

16-04-2021
साजिशपूर्ण तरीके से आंदोलनकारी किसानों के टैंट में आग लगाना कायराना हरकत है : शत्रुहन साहू

रायपुर। संयुक्त किसान मोर्चा के कानूनी सलाहकार अधिवक्ता शत्रुहन साहू ने सिंघु बॉर्डर पर कुंडली के आसपास आंदोलनकारी किसानों के टैंटों में साजिशपूर्ण तरीके से आग लगाने की घटना को कायराना और घटिया हरकत बताकर निंदा की है। उन्होंने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य की कानूनी गारंटी और तीनों दमनकारी किसान विरोधी कृषि कानून की वापसी को लेकर विगत 141 दिनों से अनवरत जारी किसान आंदोलन को और किसानों को बर्बाद करने के लिए आमदा भारतीय जनता पार्टी और केंद्र की मोदी सरकार के इशारे पर शुरू से ही बदनाम कर खत्म करने की साजिश की जा रही है। ऐसे ही लोग आंदोलनकारियो की टैंटों पर आग लगाकर भय का वातावरण पैदा करना चाहते हैं। इस दुर्घटना में कई टैंट- झोपड़ियां जलकर खाक हो गई। इस घटना को गंभीरता से लेना चाहिए और ऐसी घृणित षडयंत्रों को विफल करने किसान आंदोलन को हर तरह से चौकसी बरतनी होगी। ताकि आंदोलन पर कोई आंच न आ सके।

खासकर ऐसे समय में जब संयुक्त किसान मोर्चा संसद कूच की रणनीति पर विचार कर रही हो। संयुक्त राष्ट्रीय किसान मोर्चा के टिकेश्वर साहू, निशांत भट्ट, रामविशाल साहू, अशफाक हाशमी, सनत निर्मलकर, रसूल खान, दिग्विजय साहू, सतवंत महिलांग ने कहा कि पिछले 5 माह से किसान आंदोलन अनुशासन और शान्ति के साथ चल रहा है, जिसमे अब तक 370 किसान अपना बलिदान दे चुके हैं। इस आंदोलन को छात्र, युवा, महिलाएं, मजदूर, कर्मचारी, कारोबारी सभी का अभूतपूर्व समर्थन, सहयोग और योगदान मिल रहा है,जो अपने आप में ऐतहासिक है। दूर-दूर तक भी इस किसान आंदोलन का कोई विरोधी नहीं है। लेकिन भाड़े के शरारती तत्वों का इस्तेमाल कर इस तरह की कायराना घटिया हरकत केवल वे ही करा सकते हैं जो किसान आंदोलन कुचलना चाहते है।

15-04-2021
किसान लॉकडाउन से त्रस्त, खेतों में खराब हो रहे सब्जी और फल 

रायपुर। कोरोना संक्रमण के रोकथाम के लिए प्रदेश के लगभग सभी जिलों में लॉकडाउन लगाया गया है। लेकिन लॉकडाउन का दूसरा साइड भी देखना जरुरी है। किसान भले ही घर से बाहर नहीं निकल रहे हो लेकिन खेतों से सब्जी और फलों को निकालना जरुरी है। ऐसा इसलिए क्योंकि लाकडाउन के कारण किसान सब्जी की बिक्री नहीं कर पा रहे हैं और सब्जियों के खेत में ही खराब होने का खतरा बन गया है। दरअसल लॉकडाउन में इस बार सब्जी बिक्री की अनुमति नहीं दी गई है। अलग-अलग इलाकों में सब्जी की बम्पर पैदावार होती है। इस बार भी किसानों ने करेला, खीरा, गोभी, टमाटर, के अलावा फूलों की खेती की है। लेकिन इस बार किसानों की सब्जियों को कोई लेने वाला ही नहीं है और किसान बाहर जाकर सब्जी की बिक्री भी नहीं कर पा रहे हैं। यही हाल फूलों की खेती करने वाले लोगों का है। क्योंकि नवरात्र के समय फूलों की मांग ज्यादा होती है और फिर इसके बाद शादी का सीजन शुरू हो जाता है। लेकिन इस बार नवरात्र के शुरू होते ही लॉकडाउन लग गया है, जिससे तैयार फूल खेतों में ही सुख रहे हैं। इसके अलावा लॉकडाउन के कारण शादी समारोह भी फीके पड़ गए हैं।

13-04-2021
मत्स्य उत्पादन और विक्रय कर किसान दे रहे बच्चों को उच्च शिक्षा

पखांजूर। मछली उत्पादकता के लिए कांकेर जिला में अब तक 1600 तालाब निर्माण कराया जा चुका है। कांकेर जिला का परलकोट क्षेत्र मछली उत्पादन में अग्रणी है। इस क्षेत्र में ऐसे भी किसान है,जो मत्स्य उत्पादन और विक्रय कर अपने बच्चों को उच्च शिक्षा दे रहे हैं। जगदीश विश्वास ने बताया कि हमें काफी सहयोग अनुदान की तौर पर मिला है। किसान महानन्द,हरि,किरण ने मत्स्य विभाग का धन्यवाद देते हुए बताया कि शासन का योजनाएं हितकारी है। मत्स्य पालन विभाग के सहायक संचालक एमएल नेताम ने बताया पारदर्शिता के साथ विभाग काम कर रहा है। नेताम ने बताया कि बीते पांच वर्षो के दौरान जितने भी नए तालाब मछली पालन के लिए बनाए गए लगभग सभी तालाब में मछली पालन हो रहा है। किसी भी तालाब में पानी की समस्या नहीं है। उन्होंने बताया कि परलकोट क्षेत्र में हजारों किसान मछली पालन कर लाभान्वित हुए हैं।
पीयूष मंडल की रिपोर्ट 

 

05-04-2021
वोल्टेज की समस्या दूर नही होने पर थाना के सामने किसान करेंगे चक्काजाम

कोंडागांव। लो वोल्टेज की समस्या से परेशान सैकड़ों की संख्या में किसानों व भाजपा के पदाधिकारियों ने आज सोमवार को बैठक लिया। इसके पश्चात तहसील कार्यालय पहुंच कर कलेक्टर के नाम पर नायब तहसीलदार व विद्युत कार्यपालन यंत्री के नाम पर सहायक कनिष्ठ अभियंता के माध्यम से ज्ञापन सौपा। कर दिनों के भीतर समस्या का निराकरण न होने पर केशकाल थाना के सामने चक्काजाम करने की बात की है । 

बता दें कि केशकाल व बड़ेराजपुर ब्लॉक में लो वोल्टेज की समस्या से किसान परेशान हैं। पानी की समस्या से कई किसानों द्वारा खेतों में लगाई गई फसलें नष्ट होने के कगार पर हैं। इससे आक्रोशित किसानों ने विश्रामपुरी तहसीलदार के माध्यम से कलेक्टर को ज्ञापन सौंप कर जल्द से जल्द समस्या का निराकरण करने की मांग की थी।

24-03-2021
विकास उपाध्याय ने डॉ. रमन पर कसा तंज, पूछा- क्या बताएंगे असम की जनता को? कैसे रमन राज में किसान आत्महत्या करते रहे?

रायपुर। असम में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर चुनावी सरगर्मीयां तेज हो गई है। कांग्रेस के बाद भाजपा भी असम में एक्टिव हो गई है। बुधवार को भी छत्तीसगढ़ के दिग्गज नेता असम में चुनावी सभाएं करेंगे। पूर्व सीएम रमन सिंह भी आज तीन सभा करेंगे। रमन सिंह के सभा को लेकर असम प्रभारी सचिव विकास उपाध्याय ने तंज कसा है। विकास उपाध्याय ने रमन सिंह से पूछा कि क्या बताएंगे असम की जनता को? कैसे रमन राज में किसान आत्महत्या करते रहे? कैसे गरीब और गरीब होता गया? कैसे जनता से किए वादे कभी पूरे नहीं किए? असम की जनता को ठगना मुश्किल है सिंह साहब। बता दें कि रमन सिंह आज दोपहर 1 बजे असम के बरसोला आमसभा को संबोधित करेंगे। इसके बाद 3 बजे हरिगांव, तेजपुर में आमसभा में शामिल होंगे। आमसभा के बाद शाम 5 बजे तेजपुर टाउन रोड में रोड शो करेंगे। बता दें कि असम में कल पहले चरण का चुनाव प्रचार खत्म होगा।

22-03-2021
Video: विकास तिवारी ने कहा- भाजपा अपने वादे की राशि कब केन्द्र सरकार से किसानों को दिलाएगी?

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के बयान पर कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने पलटवार किया है। विकास ने कहा है कि प्रदेश भाजपा सरकार ने वादा किया था कि किसानों को धान समर्थन मूल्य 2100 रुपए देंगे, जो कभी दिया नहीं। 300 रुपए बोनस तीन साल का मिला नहीं। भाजपा नेता इन राशियों को ब्याज सहित प्रदेश के 18 लाख 38 हजार किसानों के खातों में कब सीधा ट्रांसफर केंद्र की भाजपा सरकार से करवाएंगे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804