GLIBS
07-01-2021
शिवसेना कर रही बेरोजगार किसान मोर्चा की तैयारी, प्रदेश कार्यालय से जारी हुआ बैनर

जगदलपुर। प्रदेश कार्यालय पर शिवसेना प्रदेश प्रमुख व अन्य पदाधिकारियों की उपस्थिति में महाराष्ट्र राज्य के देवरी से छत्तीसगढ़ राज्य के राजधानी तक आगामी 18 से 20 जनवरी 2021 तक आयोजित होने वाली बेरोजगार किसान मोर्चा के बैनर का विमोचन किया गया। बता देंकि शिवसेना छत्तीसगढ़ इकाई द्वारा नगरनार स्टील प्लांट के निजीकरण के निर्णय के विरोध पर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से बस्तर के नगरनार स्टील प्लांट तक लग्नहग 320 किलोमीटर की लंबी यात्रा करते हुए हजारों शिवसैनिकों ने प्रदेश प्रमुख धनंजय परिहार के नेतृत्व में नगरनार मोर्चा के नाम से पिछले माह तीन दिवसीय यात्रा निकाली थी।

राज्य व केंद्र सरकार की विफल नीतियों के बीच परेशान छत्तीसगढ़ के युवाओं और अन्न दाताओं की समस्याओं पर निराकरण की मांग के लिए आगामी 18 जनवरी से 20 जनवरी 2021 तक महाराष्ट्र राज्य के देवरी तालुका से छत्तीसगढ़ राज्य के राजधानी रायपुर तक विशाल बेरोजगार किसान मोर्चा निकालने की तैयारी है। यह जानकारी शिवसेना के बस्तर इकाई के जिलाध्यक्ष अरुण पाण्डेय् ने जारी कि है।

 

31-12-2020
मुख्यमंत्री का नगरनार स्टील प्लांट खरीदने का बयान ना जाए खाली, पूर्व की घोषणाएं अब तक धरातल में नहीं उतरी: शिवसेना

रायपुर। छत्तीसगढ़ में जब से नगरनार स्थित एनएमडीसी प्लांट के निजीकरण की बात सामने आयी है तब से जनता में आक्रोश देखने को मिल रहा है। बता दें की आदिवासियों की जमीन को केंद्र ने सरकारी प्लांट बनेगा बताकर इस्तेमाल किया और अब निजीकरण कर आदिवासियों के साथ अन्याय करती नज़र आ रही है। निजीकरण का विरोध छत्तीसगढ़ शिवसेना द्वारा भी किया गया था। विरोध के बाद छत्तीसगढ़ के मुखिया भूपेश बघेल का बयान सामने आया,जिसमें उन्होंने कहा है की अगर केंद्र सरकार नगरनार के स्टील प्लांट को निजीकरण करती है तो हम नगरनार इस्पात संयंत्र को खरीद लेंगे। इस बायान पर शिवसेना के प्रदेश महासचिव ने कहा की मुख्यमंत्री का यह बयान स्वागत योग्य है किंतु मुख्यमंत्री की यह घोषणा खाली नहीं होनी चाहिए क्योंकि इसके पूर्व भी उनके द्वारा कई घोषणाएं की गई है,जो आज दिनांक तक धरातल पर नहीं उतर रही है।

30-12-2020
ना ट्रेड लाइसेंस, ना राज्य सरकार की अनुमति,वर्षों से  विक्रय कर रहें बस्तर के वाहन कारोबारी: शिवसेना

जगदलपुर। शिवसेना के बस्तर जिलाध्यक्ष अरूण कुमार पाण्डेय् ने बस्तर अंचल में दो पहिया वाहन विक्रेताओं पर नियम विरुद्ध वाहन बेचने का आरोप लगाते हुए आरटीओ विभाग के कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा है कि आख़िर बिना ट्रेड लाइसेंस के लंबे अरसे से वाहन विक्रेता विभिन्न जिलों में कारोबार करते आ रहे हैं। तब बस्तर अंचल के सातों जिलों के आरटीओ अधिकारी अब तक आंख मूंदे क्यों बैठे हुए हैं, अब तक किसी भी आरटीओ अधिकारी ने अपने ज़िले के नियम विरुद्ध तरीक़े से वाहन विक्रय कर रहे कारोबारी पर कोई कार्यवाही क्यों नही किया है। गौरतलब हो कि मोटरयान अधिनियम 1994 के नियम के प्रावधान के तहत किसी राज्य में वाहन बिक्री के लिए संबंधित राज्य सरकार से इसकी अनुमति लेना आवश्यक है लेकिन छत्तीसगढ़ के बस्तर अंचल में ऐसा नही किया जा रहा है। कुछ कंपनी के डीलर्स को नियमों को ताक में रखकर काम करना ही अपनी उपलब्धता समझते हैं तो कुछ डीलर्स केंद्रीय मोटरयान अधिनियम 1989 की धारा 126 के तहत वाहन बिक्री की अनुमति उन्हें है, ऐसा समझकर व्यवसाय करते आ रहे हैं। लेकिन वास्तविकता यह है कि काउंटर चला रहे वाहन विक्रेताओं के पास राज्य सरकार से इसकी अनुमति नही है और वे इसे जरूरी भी नहीं समझ रहे हैं। बस्तर अंचल में कुछ एक कंपनी के ही डीलर्स दो या तीन ज़िलों में हैं बाकी एक कंपनी के एक ही डीलर्स हैं, जो कि बस्तर के सभी सात जिलों में लंबे अरसे से अपनी वाहन बेचते आ रहे हैं।

जहां के नाम पर इन्हें डीलर घोषित किया जाता है उस ज़िला के अतिरिक्त ये वाहन कारोबारी अन्य जिलों में जहां इनकी डीलरशिप नही है वहां भी स्वयं या थर्ड पार्टी से समझौता करके अपनी दुकान सजा कर वर्षों से बेधड़क वाहनों की बिक्री करते आ रहे हैं। बस्तर अंचल के जगदलपुर, कोंडागांव और कांकेर में डीलर्स होते हुए भी वहां के आरटीओ अधिकारियों की लापरवाही के चलते आज तक बस्तर के इन दो पहिया वाहन विक्रेताओं पर किसी तरह की कार्यवाही नही जा रही है। इसके अतिरिक्त डीलर्स ना होने के बावजूद सुकमा, नारायणपुर, बीजापुर और दंतेवाड़ा ज़िले में भी धड़ल्ले से वाहन विक्रय होते ही आ रही है। लेकिन अब तक वहां के आरटीओ अधिकारियों ने भी कोई कार्यवाही इस विषय पर करना अपना कर्तव्य नही समझा है।शिवसेना के जिलाध्यक्ष अरूण कुमार पाण्डेय् ने कहा है कि आरटीओ अधिकारियों को तत्काल इस विषय को संज्ञान में लेते हुए सभी जिलों के नियम विरुद्ध कार्य कर रहें वाहन डीलरों के ऑनलाइन पोर्टल को निरस्त कर देना चाहिए जिससे कि वे आगे नियम विरुद्ध तरीक़े से इस स्थानों पर वाहन की बिक्री ना सकें। उन्होंने आगे कहा कि आरटीओ अधिकारी अगर मामले को संज्ञान में लाने के बावजूद भी कार्यवाही नही करते तब शिवसेना उनके विभाग के ख़िलाफ़ आंदोलन करने के लिए बाध्य होगी।

 

06-12-2020
डामरीकरण के लिए शिवसैनिकों ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

 जांजगीर-चांपा। सड़क डामरीकरण के संबंध में शिवसेना जिलाध्यक्ष ओकार सिंह गहलोत के नेतृत्व में शिवसैनिकों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान शिवसैनिकों ने बाइक रैली निकालकर नारेबाजी की। ज्ञापन में बताया है कि चाम्पा के बेरियर चौक से भोजपुर होते हुए गठोली चौक तक सड़क बेहद खराब हो गई है। सड़क में हजारों की संख्या में लोग प्रतिदिन आवागमन करते हैं। बड़े-बड़े गड्ढे और धूल के कारण लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लोगों के हित के लिए इस रोड का डामरीकरण करना आवश्यक है। शिवसैनिकों ने कलेक्टर से कहा कि इस समस्या को गंभीरता से लेते हुए सड़क का डामरीकरण किया जाए। इस दौरान जिला महासचिव चंदन धीवर, जिला महासचिव शुभम सिंह राजपूत, जिलासचिव दिलेश्वर विश्वकर्मा, जिला उपाध्यक्ष दिलीप साहू, ब्लॉक प्रभारी मालखरौदा वेद प्रकाश पटेल, ब्लॉक प्रभारी अकलतरा देवनारायण साहू, ब्लॉक प्रभारी जैजैपुर हीरालाल पात्रे, राकेश यादव, रामेश्वर सोनवानी, राजकुमार सारथी, केदारनाथ बरेठ, गौरीशंकर पाणी, निकेश बरेठ सहित शिवसैनिक उपस्थित थे।

04-12-2020
महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में भाजपा को लगा झटका, 6 में से एक सीट पर मिली जीत

मुंबई। महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में भाजपा को बड़ा झटका लगा है। 6 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को सिर्फ एक सीट पर जीत मिल सकी है जबकि उसके प्रतिद्वंद्वी शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन ने 4 सीट पर जीत दर्ज की है।एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार के खाते में जाते दिख रही है। पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि विधान परिषद चुनाव के नतीजे हमारी उम्मीद के मुताबिक नहीं रहे।फड़नवीस ने कहा कि महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव का परिणाम हमारे उम्मीदों के अनुरूप नहीं रहा। हम ज्यादा सीटें जीतने की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन हम सिर्फ एक सीट जीत सके। हमने महा विकास अघाड़ी (शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन) की ताकत को आकलन करने में गलती की।
महाराष्ट्र में महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार का हिस्सा राकांपा ने शुक्रवार को औरंगाबाद अैर पुणे स्नातक निर्वाचन क्षेत्रों में जीत दर्ज कर ली है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के सतीश चव्हाण ने औरंगाबाद संभाग के स्नातक निर्वाचन क्षेत्र में भाजपा उम्मीदवार शिरीष बोरलकर को मात दी।राज्य चुनाव आयोग ने बताया कि चव्हाण को 1,16,638 और बोरलकर को 58,743 वोट मिले।

वहीं पुणे संभाग के स्नातक निर्वाचन क्षेत्र में राकांपा के अरुण लाड ने भाजपा उम्मीदवार संग्राम देशमुख को 48,824 मतों से मात दी। लाड को 1,22,145 और देशमुख को 73,321 मिले।राज्य में पुणे संभाग स्नातक सीट, नागपुर संभाग स्नातक सीट, औरंगाबाद संभाग स्नातक सीट, अमरावती संभाग शिक्षक सीट, पुणे संभाग शिक्षक सीट और धुले-नंदूरबार स्थानीय निकाय निर्वाचन सीट के लिए चुनाव हुआ था। इनमें से धुले-नंदूरबार सीट इसके निवर्तमान विधान परिषद सदस्य अंबरीश पटेल के कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल होने के चलते रिक्त हुई है जबकि अन्य पांच सीटों के सदस्यों का कार्यकाल 19 जुलाई को पूरा हो चुका है। भाजपा की टिकट पर अंबरीश ने धुले-नंदूरबार सीट पर जीत ली है। अन्य दो सीटों पर एमवीए आगे चल रहा है। मुम्बई में राकांपा प्रमुख शरद पवार ने पत्रकारों से कहा कि यह नतीजे पिछले एक साल में एमवीए सरकार के प्रदर्शन को दर्शाते हैं। 

 

03-12-2020
शिवसेना ने किया पार्टी का विस्तार, राजधानी के कोटा में बनाई वार्ड इकाई

रायपुर। पश्चिम विधानसभा के अन्तर्गत राजधानी के वार्ड क्र.23 कोटा में गुरूवार को शिवसेना का गठन किया गया। इसमें युवाओं को पार्टी के सिद्धांत, उद्देश्य और क्रियाकलापों से अवगत कराया गया। विगत दिनों शिवसेना नेता विक्की शर्मा ने पार्टी में वापसी की, जिसके बाद उन्हें प्रदेश प्रवक्ता पदभार सौंपा गया। पार्टी प्रमुख के आदेशानुसार संगठन को हर वार्ड,गली मोहल्ले में मजबूत करने के लिए पार्टी के पदाधिकारियों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। बता दें कि दिसंबर 2020 के दूसरे या तीसरे हफ्ते में बस्तर के नगरनार में शिवसेना बड़े प्रदर्शन की तैयारी में है। इसी कड़ी में पश्चिम विधानसभा के कोटा के वार्ड क्र. 23 में शिवसेना का गठन किया गया।

इस दौरान मुख्य रूप से जिला महासचिव हिमांशु शर्मा, राहुल सोनवानी, पश्चिम विधानसभा प्रभारी कैलाश साहू, धरसींवा विधानसभा अध्यक्ष चन्द्रकान्त वर्मा, उत्तर विधानसभा अध्यक्ष विक्की निर्मलकर, उपाध्यक्ष विक्की निषाद, सचिव रेवा ठाकुर और सूरज गुप्ता उपस्थित  थे।

 

02-12-2020
हृदय में तकलीफ के कारण संजय राउत अस्पताल में भर्ती

मुंबई। शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत को हृदय में तकलीफ होने के बाद मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। बताया जा रहा है कि वे पहले से हृदय संबंधित रोग से जूझ रहे हैं और कुछ दिन पहले ही डॉक्टर ने उनका एंजियोप्लास्टी किया था।
इस बार भी हृदय में तकलीफ होने के बाद वे अस्पताल में भर्ती हुए हैं और डॉक्टर ने एक बार फिर से उन्हें एंजियोप्लास्टी की सलाह दी है। हार्ट स्पेशलिस्ट डॉ.मैथ्यू उनका इलाज करेंगे। बता दें कि संजय राउत शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता होने के साथ ही पार्टी के राज्यसभा सांसद भी हैं। उन्हें उद्धव ठाकरे का बेहद खास माना जाता है। वह राज्य की हर समस्या को प्रमुखता से उठाने वालों में शुमार हैं। संजय राउत इन दिनों मुंबई की फिल्म सिटी को यूपी ले जाने के मामले से लेकर लव जिहाद और अभिनेत्री कंगना रणौत से हुई जुबानी जंग की वजह से चर्चा में हैं।

 

 

01-12-2020
उर्मिला मातोंडकर शामिल हुईं शिवसेना में, मातोश्री में उद्धव ठाकरे ने दिलाई सदस्यता  

मुंबई। अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर औपचारिक तौर पर शिवसेना में शामिल हो गईं है। मंगलवार को उर्मिला ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास मातोश्री में शिवसेना की सदस्यता ली। इस दौरान सीएम उद्धव ठाकरे, उनकी पत्नी सहित पार्टी के नेता मौजूद थे। उर्मिला ने पिछले साल लोकसभा चुनावों में हार के बाद कांग्रेस छोड़ दी थी। अब वो शिवसेना के साथ अपनी राजनीति की दूसरी पारी शुरू कर रहीं है। बता दें कि उर्मिला ने पिछले साल मुंबई नॉर्थ से चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गई थी। कांग्रेस से मोहभंग होने के बाद उन्होंने अब शिवसेना को दामन थामा है। 

 

04-11-2020
हिन्दू देवी-देवताओं के चित्र वाले पटाखों पर प्रतिबंध को लेकर शिवसेना ने सौंपा ज्ञापन

रायपुर। हिन्दू देवी-देवताओं के चित्र वाले पटाखों पर प्रतिबंध लगाने और लगातार शहर में बढ़ती चाकूबाजी की घटना पर रोक लगाने को लेकर शिवसेना ने एसएसपी को ज्ञापन सौंपा। हर वर्ष दीपावली में हिन्दू देवी देवताओं के चित्र वाले पटाखों की बिक्री होती है। इससे हिन्दूओं कि धार्मिक भावनाओ को ठेस पहुँचती है। शिवसेना प्रति वर्ष ज्ञापन के माध्यम से जिला प्रशासन को उक्त मुद्दे पर अवगत कराते आ रही है। फिर भी बाजार में हिन्दू देवी-देवताओं के चित्र वाले पटाखों की बिक्री होती है। शिवसेना ने शासन से मांग की है कि हिन्दू देवी-देवताओ के चित्र वाले पटाखों की बिक्री पर भी प्रतिबन्ध लगाया जाये। शिवसेना ने कहा है की अगर इस वर्ष भी कोई कार्रवाई नहीं की गई तो वे अपने तरीके से कार्रवाई करेगी,जिसकी जिम्मेदार जिला प्रशासन की होगी।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804