GLIBS
03-02-2020
कोरोना वायरस से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया अलर्ट

बीजापुर। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने कोरोना वायरस से बचाव को लेकर एडवाइजरी जारी कर लोगों से कोरोना वायरस से बचाव के लिए एहतियात बरतने एवं अफवाहों से बचने की सलाह दी है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ बीआर पुजारी ने बताया कि यह विषाणुओं का समूह है, जिससे सामान्यतः जानवरों को बीमारियों होती है, परन्तु कभी-कभी ये मनुष्यों में भी संक्रमण करता है। हाल ही में चीन के हुबई राज्य के वुहान शहर में एक नए प्रकार के वायरस (कोरोना वायरस) के कारण निमोनिया के बहुत से प्रकरण पाए गए है। केरल राज्य के थिसुर जिले में कोरोना वायरस से प्रभावित पहले सकारात्मक प्रकरण की पुष्टि हुई है। अभी हमारे जिले में इसके रोगी नहीं है परंतु हम अलर्ट है इस प्रकार के मामले आने पर सैंपल की जांच  के लिए मरीज का रक्त नमूना भेजने एवं मरीज के उपचार की व्यवस्था जिला चिकित्सालय बीजापुर में की गई है। अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए कोई टीका नहीं बना है।

लक्षण तथा बचाव के उपाय
इसके लक्षण आम फ्लू की तरह ही होते है जिसके कारण इसकी पहचान कर पाना मुश्किल है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बुखार के साथ जुखाम, सिरदर्द गले में खराश जैसी समस्याएं उत्पन्न होती है। यह रोग सवंमित व्यक्ति के खासने या छिकने पर हवा के माध्यम से सवंमित व्यक्ति के निकट संपर्क जैसे छुने या हाथ या हाथ मिलाने से सवंमित सामग्रियों के संपर्क में आने बाद आंख या नाक को छुने से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। अतः सवंमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आने से बचें अपने हाथ साबुन से समय समय पर धोते रहे सामान्य सर्दी बुखार गले में खराश अथवा सिरदर्द होने से चिकित्सकीय सलाह लेने की अपील की।

जिले में बहुत से लोग उच्च शिक्षा अथवा व्यवसायिक कार्यो से विदेश यात्रा करते है, वे सभी यात्री जिन्होंने 01 जनवरी 2020 के बाद चीन थाईलैंड, मकाउ, सिंगापुर, आस्ट्रेलिया, ताइवान, अमेरिका, जापान, मलेशिया, फ्रांस, वियतनाम, कम्बोडिया, कनाडा नेपाल या श्रीलंका की यात्रा की हो और उनमें बुखार सर्दी या सांस लेने में तकलीफ होने के लक्षण दिखाई दे अथवा यात्रा से वापस आने के 28 दिवस के भीतर भी उपरोक्त लक्षण उत्पन्न होते है तो वे तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में  जाकर अपनी जांच अवश्य कराने की अपील की। कोरोना वायरस के संबंध में अधिक जानकारी के लिए राज्य सर्विलेस इकाई छत्तीसगढ़ के लैडलाइन नम्बर 0771-223509 अथववा  मोबाइल नम्बर 9713373165 या टोल फ्री नम्बर 104 पर संपर्क कर सकते है। जिला स्तर पर भी अधिक जानकारी हेतु सीएमएचओं डॉ बी.आर. पुजारी मोबाईल नम्बर 7587192565, 9399823803 अथवा जिला सर्विलेस अधिकारी डॉ पी विजय  मोबाईल नम्बर 9491177538, 6260780416 पर संपर्क कर सकते है। 

 

20-08-2019
जाकिर नाइक के खिलाफ कार्रवाई, मलेशिया में धार्मिक उपदेश देने पर लगा प्रतिबंध 

नई दिल्ली। विवादास्पद इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक की मुश्किलें लगातार बढ़ती ही जा रही है। मलेशिया सरकार ने भड़काऊ बयान देने के कारण जाकिर नाइक के भाषणों पर रोक लगा दी है। उसे किसी भी प्रकार के भाषण देने की अनुमति नहीं है। मलेशिया पुलिस का कहना है कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर जाकिर नाइक के उपदेश देने पर प्रतिबंध लगाया गया है।
इससे पहले, सोमवार को उनसे 10 घंटे तक पूछताछ हुई। इसी बीच इस पूरे मसले पर जाकिर नाइक ने माफी मांगी है। जाकिर ने अपने बयान में कहा, ‘मैं हमेशा से शांति का समर्थक रहा हूं। पूरी दुनिया में शांति फैलाना मेरा मिशन रहा है। दुर्भाग्य से मेरे आलोचक मेरे इस मिशन को रोकने का प्रयास कर रहे हैं। आपने पिछले कुछ दिनों में देखा होगा कि मुझ पर देश में धार्मिक नस्लीय जहर फैलाने के आरोप लगाए जा रहे हैं और मेरे आलोचक कुछ सिलेक्टिव बातों को उठा रहे हैं। आज मैंने पुलिस के सामने अपना पक्ष रखा है।”
जाकिर ने कहा, “मैं इस बात से भी दुखी हूं कि इस पूरे प्रकरण से गैर-मुस्लिम लोग मुझे रेसिस्ट समझ रहे हैं। मुझे भी इस बात की चिंता है क्योंकि बिना संदर्भ की बातों से मेरे धार्मिक उपदेश न सुनने वाला भी दुखी है। नस्लीयता एक बुराई है, मैं इसके खिलाफ हूं।
जाकिर नाईक पहले भी अपने विवादित बयानों को लेकर खबरों में बना रहा है। भारत से भागने के बाद से जाकिर नाइक मलेशिया में रह रहा है। जाकिर पर मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोप है।

12-06-2019
भारत ने मलेशिया से फिर कहा कि जाकिर नाईक को सौंप दे

नई दिल्ली। भारत ने फिर से मलेशिया से जाकिर नाईक को भारत प्रत्यर्पित किए जाने की मांग की है। जाकिर नाईक ने अभी मलेशिया में शरण ली हुई है। भारत सरकार ने ऐसे में मलेशिया की सरकार से जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण की औपचारिक मांग की है। विदेश मंत्रालय का कहना है कि भारत इस मामले को आगे भी मलेशिया के सामने उठाता रहेगा। इससे पहले मलेशिया के प्रधानमंत्री ने कहा था कि जाकिर नाईक को भारत में न्याय नहीं मिलेगा। मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने कहा कि मलेशिया के पास यह अधिकार है कि यदि नाइक के साथ न्यायसंगत व्यवहार होता नहीं दिख रहा है तो हम उसका प्रत्यर्पण नहीं करेंगे। जाकिर नाईक ने भी कुछ समय पहले कहा था कि भारत सरकार प्रवर्तन निदेशालय पर विवादित इस्लामिक उपदेशक के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किए जाने का दबाव बना रही है। उसने यह भी कहा था कि भारत सरकार उसे व्यापक तौर पर फंसाने की कोशिश कर रही है। उसने यह दावा भी किया था कि उसके खिलाफ न रेड कॉर्नर नोटिस जारी हुआ है और न होगा। बता दें कि जाकिर नाईक ने 2016 में भारत छोड़ दिया था। भारत में ईडी ने जाकिर नाईक और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में चार्जशीट दायर कर दी है। इससे पहले ईडी ने जाकिर नाईक के खिलाफ 22 दिसंबर, 2016 में नाईक के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804