GLIBS
13-08-2020
बीजापुर में नक्सलियों ने काटी सड़क, सीआरपीएफ के जवानों ने संभाला मोर्चा

बीजापुर। सुरक्षाबलों की कार्रवाई से बैकफुट पर गए नक्सलियों में बौखलाहट देखी जा रही है। देर रात नक्सलियों ने आवापल्ली बासागुड़ा मार्ग पर 15 मीटर तक सड़क को काट दिया। बताया गया कि बासगुड़ा थाना इलाके में इस मार्ग पर तिम्मापुर के नजदीक दुर्गा मंदिर के पास से सड़क को काटा गया है। जानकारी मिलते ही सीआरपीएफ के जवान तुरंत मौके पर पहुंचे हैं। मोर्चा संभाल कर आवागमन बहाल करने की कोशिश की जा रही है।

12-08-2020
सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में मार गिराए 4 नक्सली, हथियार भी बरामद

सुकमा। जगरगुंडा के जंगल में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है। मुठभेड़ में 4 नक्सलियों को ढ़ेर कर दिया गया है। एसपी शलभ सिन्हा ने इसकी पुष्टि की है। बताया गया कि सुकमा डीआरजी, कोबरा 201 और सीआरपीएफ के जवान संयुक्त ऑपरेशन में निकले थे। जैसे ही जगरगुंडा के जंगल में अंदर की ओर घुसे मुठभेड़ शुरु हो गई। 4 नक्सलियों को ढ़ेर करने के बाद मौके से थ्री नॉट थ्री समेत 4 हथियार बरामद किए गए हैं।

30-07-2020
दंतेवाड़ा के अरनपुर से एक इनामी नक्सली गिरफ्तार

दंतेवाड़ा। नक्सलियों की ओर से शहीदी सप्ताह मनाए जाने की सूचना पर निकली संयुक्त संर्चिंग पार्टी ने एक लाख के इनामी नक्सली को गिरफ्तार किया है। अरनपुर क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम अरनपुर के सरपंचपारा, बण्डीपारा, कोंडापारा में माओवादियों के 28 जुलाई से 3 अगस्त तक शहीदी सप्ताह मनाए जाने की सूचना पर थाना अरनपुर का बल, डीआरजी दंतेवाड़ा, सीआरपीएफ 111 बटालियन ए/ई कंपनी की संयुक्त पुलिस पार्टी सर्चिंग पर निकली थी। इस दौरान ग्राम बण्डीपारा के जंगल में पुलिस पार्टी को देख कर माओवादी भागने लगे। घेराबंदी कर एक माओवादी केएएमएस अध्यक्ष पोदिये मंडावी उर्फ लक्ष्मी उर्फ कोसी उम्र 25 वर्ष निवासी ध्रुवापारा को गिरफ्तार किया गया। छत्तीसगढ़ शासन के नई इनामी पॉलिसी के तहत गिरफ्तार माओवादी पर एक लाख रुपए का इनाम था।

12-07-2020
सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर

नई दिल्ली। सोपोर इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच रविवार को हुई मुठभेड़ में दो आतंकी मारे गए। फिलहाल मुठभेड़ जारी थी,जिसमें दो से तीन आतंकी घिरे हुए हैं।फिलहाल सुरक्षाबलों ने इलाके को घेर लिया हुआ है। पुलिस की एक संयुक्त टीम, सेना की 22 आरआर और सीआरपीएफ ने तलाशी अभियान शुरू किया। जैसे ही संयुक्त दल ने संदिग्ध स्थान का घेराव किया, छिपे हुए आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी की। संयुक्त दल द्वारा जवाबी कार्रवाई की गई है। पुलिस अधिकारी के अनुसार सुरक्षाबलों ने आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद सोपोर शहर के रेबन इलाके में मध्यरात्रि के आसपास घेराबंदी की और तलाश अभियान चलाया। पुलिस, सीआरपीएफ और सेना की 22-आरआर की संयुक्त टीम इस आप्रेशन को अंजाम दे रही हैं। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि सुरक्षाबलों ने आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद सोपोर शहर के रेबन इलाके में मध्यरात्रि के आसपास घेराबंदी की और तलाश अभियान चलाया। उन्होंने बताया कि तलाशी अभियान रविवार तड़के करीब चार बजे उस समय मुठभेड़ में तब्दील हो गई जब वहां छिपे आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों पर गोलियां चलानी शुरू कर दी।

12-07-2020
पेड़ लगाओ जीवन बचाओ अभियान के तहत सीआरपीएफ ने लगाए 530 पौधें

बीजापुर। जिले के भैरमगढ़ में तैनात 199 वाहिनी सीआरपीएफ ने पौधरोपण अभियान चलाया गया। अभियान में 530 पौधों का रोपण किया गया। इसमें 120 पौधे केशकुतुल, 100 ग्राम पिनकोंडा, 100 ग्राम कर्रेमारका, 100 ग्राम फूलगट्टा तथा 110 ग्राम पातुरपारा में लगाए गए   जिसमें सीताफल, अमरुद, नींबू, आंवला, साम्भर स्टिक, काजू, पपीता इत्यादि पौधें लगाए गए। सीआरपीएफ सुरक्षा के साथ-साथ पर्यावरण बचाने के लिए भी अच्छा काम कर रही है। इस वर्ष अब तक 4500 से अधिक पौधे इस वाहिनी के द्वारा लगाए जा चुके हैं। यह अभियान  सुनील कुमार रंजन द्वितीय कमान अधिकारी 199 बटालियन सीआरपीएफ के दिशानिर्देशों के अनुरूप अलग-अलग गांवों में चलाया गया। पौधारोपण के मौके पर द्वितीय कमान अधिकारी ने जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि वृक्षों के अभाव में आज का वातावरण प्रदूषित होता जा रहा है।

इसका प्रभाव सभी जीव धारियों पर पड़ रहा है। वृक्ष वायु के प्राकृतिक शोधक होते हैं। यह वायु के हानिकारक कार्बन डाइऑक्साइड का शोषण करके लाभदायक ऑक्सीजन छोड़ते हैं ।ऑक्सीजन ही जीवन है और जीवधारी उसे लेकर जीवित रहते हैं। इसलिए पौधरोपण मानव समाज का सांस्कृतिक दायित्व है। पौधरोपण और उनके संरक्षण से सृष्टि को भावी विनाश से बचाया जा सकता है। वृक्षों के बिना धरती पर जीवन की कल्पना करना असंभव है। वृक्ष धरती का अमूल्य संपदा के समान है। वृक्षों के कारण ही मनुष्य को अपनी आधारभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के संसाधन प्राप्त होते हैं। अतः पृथ्वी पर वृक्षों की पर्याप्त संख्या में होना बहुत आवश्यक है। इस कार्यक्रम के माध्यम से आम लोगों से भी अपील किया गया कि सभी लोग अपने अपने हाथों से एक-एक पौधा लगावें, ताकि वृक्षों के अभाव में वातावरण प्रदूषित होने से रोका जा सके। इस कार्यक्रम में बटालियन के द्वितीय कमान सुनील कुमार रंजन, अरुण कुमार तिवारी, उप कमांडेंट, सुमन कुमार, उप कमांडेंट, सीटी अनल, सहायक कमांडेंट, नवीन कुमार, सहायक कमांडेंट गालिब मुस्तफा चौधरी, सहायक कमांडेंट कपिल खाण्डल सहायक कमांडेंट अनिल कुमार सहायक कमांडेंट, अधीनस्थ अधिकारी व जवानों ने एक साथ मिलकर पौधारोपण किया।

04-07-2020
पत्रकार साई रेड्डी की हत्या में शामिल पांच लाख के इनामी नक्सली सहित दो ने किया समर्पण

बीजापुर। बीजापुर बस्तर रेंज में पुलिस द्वारा चलाये जा रहे नक्सली उन्मूलन अभियान व शासन की पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर बस्तर आईजी पी.सुंदर राज,डीआईजी सीआरपीएफ कोमल सिंह,बीजापुर कलेक्टर रितेश अग्रवाल व बीजापुर एसपी कमलोचन कश्यप के समक्ष पांच लाख के इनामी सहित दो नक्सलियों ने नक्सली विचार धारा से तंग आकर व शासन की पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर समर्पण कर दिया। समर्पण पश्चात दोनों नक्सलियों को दस दस हजार रुपये प्रोत्साहन राशि प्रदाय किया गया। जिले में लगातार पुलिस द्वारा जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान से अब पुलिस को सफलता भी मिलने लगी है। स्थानीय नक्सलियों का धीरे धीरे बाहर के नक्सलियों से मोह भंग होने लगा है। इसी का परिणाम है कि जगरगुंडा-बासागुड़ा एरिया कमेटी सदस्य एवं जनताना सरकार अध्यक्ष पांच लाख के इनामी नक्सली मड़कम देवा उर्फ माडा ने पुलिस के समक्ष समर्पण करते हुए नक्सल गतिविधियों से तौबा कर लिया है। मड़कम देवा 1995 से नक्सली संगठन में शामिल होकर कार्य कर रहा था। इसके ऊपर विस्फोट, आगजनी,पत्रकार साई रेड्डी की हत्या, अपहरण, पुलिस पार्टी पर हमला जैसे कई गम्भीर अपराध थाने में दर्ज है। जिले में मड़कम देवा के खिलाफ अलग अलग थानों में 32 स्थाई वारंट लम्बित है।

वही कुछ दिनों पूर्व पेद्दाकवाली में सन्दिग्ध अवस्था मे मिली महिला सुमित्रा चेपा,जो नक्सली संगठन में कम्पनी नम्बर 1 की प्लाटून नम्बर 3 की सक्रिय सदस्य थी। सुमित्रा बुखार व खांसी के चलते कोरोना के शक व बटालियन में कोरोना ना फैले इसीलिए बड़े लीडरों द्वारा बटालियन से बाहर कर घर भेज दिया गया था। सुमित्रा चेपा के उपचार और कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट के बाद पुलिस ने पूछताछ की। तब सुमित्रा ने खुद को नक्सली होना और प्लाटून 3 की सदस्य बताया। सुमित्रा ने भी पुलिस के सामने समर्पण कर दिया है। सुमित्रा पर भी दन्तेवाड़ा और सुकमा जिले में गम्भीर अपराध दर्ज है। इस दौरान आईजी बस्तर पी.सुंदराजन, डीआईजी सीआरपीएफ कोमल सिंह,कलेक्टर रितेश अग्रवाल, एसपी कमलोचन कश्यप,सीआरपीएफ 170 बन के कमांडेंट आलोक भटाचार्य,कमांडेंट 168बन विनय चौधरी,कमांडेंट 85बन यादव सहित जिला बल और सीआरपीएफ के अधिकारी उपस्थित रहे।

 

03-07-2020
सीआरपीएफ जवानों की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव

गीदम। दंतेवाड़ा जिले में कोरोना की रफ्तार लगातार बढ़ती जा रही है। दंतेवाड़ा जिले के जावंगा स्थित क्वारेंटाइन सेंटर में सीआरपीएफ के 9 जवानों के सैंपल 29 जून को भेजा गए थे। इनमें से 5 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं। कोरोना संक्रमित जवानों को 108 से मेकाज कोविड हॉस्पिटल भेजने की तैयारी की जा रही है। खबर की पुष्टि सीईओ जिला पंचायत अश्विन देवांगन ने की है। स्वास्थ्य विभाग के मेडिकल बुलेटिन के अनुसार प्रदेश में अब एक्टिव मरीजों की संख्या 637 हो गई है।

 

28-06-2020
सीआरपीएफ जवान की रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव

दंतेवाड़ा। सीआरपीएफ का एक जवान हरियाणा से छत्तीसगढ़ आया था। जवान का कोरोना टेस्ट कराया गया,जो पॉजिटव निकला। 11 जून को पहुंचे जवान को क्वारेंटाइन सेंटर में रखा गया था। गीदम तहसीलदार प्रीति दुर्गंम ने बताया 24 जून को जवान का सैंपल लिया गया था,जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। दंतेवाड़ा कलेक्टर दीपक सोनी के द्वारा अधिकारिक पुष्टि की गई है।

27-06-2020
Video: सीआरपीएफ की 62वीं बटालियन ने किया पौधरोपण, डीआईजी की अगुवाई में रोपे 650 पौधे

अम्बिकापुर।  पर्यावरण सन्तुलन और वनक्षेत्र बढ़ाने के उद्देश्य से सीआरपीएफ ने पौधरोपण कार्यक्रम की शुरुआत  की है। सीआरपीएफ के द्वारा पूरे देश में 22 लाख से ज्यादा पौधे लगाए जा रहे हैं। छत्तीसगढ़ में भी 1 लाख 22 हजार 5 सौ पेड़ लगाए जाएंगे। अम्बिकापुर के केपी में सीआरपीएफ की 62 वीं बटालियन के कैम्प में पौधरोपण किया गया। इस इस दौरान विभिन्न प्रजाति के 650 पौधे लगाए गए। इस मौके पर सीआरपीएफ के डीआईजी रायपुर सुब्रत कुमार मिश्रा की उपस्थिति में बड़ी संख्या में पौधरोपण किया गया। डीआईजी मिश्रा ने बताया कि सीआरपीएफ के द्वारा कई वर्षों से पौधरोपण किया जा रहा है। इसके पीछे पर्यावरण और परिवेश को स्वच्छ  और हरा-भरा बनाने का उद्देश्य है। उन्होनें बताया कि सरगुजा में अब तक 4 हजार पौधे लगाए जा चुके हैं। यह मानवता के लिए एक अच्छा कार्य है। जब पूरे प्रदेश में लगातार वनक्षेत्रफल में कमी देखी जा रही है। ऐसे में सीआरपीएफ के द्वारा चलाई जा रही यह मुहिम निश्चित तौर पर वनक्षेत्र को बढ़ाने और पर्यावरण के संरक्षण और संवर्धन की दिशा में महत्वपूर्ण साबित हो सकती है। कार्यक्रम में डीआईजी सुब्रत कुमार मिश्रा, 62वीं बटालियन के कमांडर मनीष कुमार मीणा,आर एन चौधरी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजेश निर्वाल, सहायक कमांडेंट रामाराव और सीआरपीएफ के जवान मौजूद रहे।

21-06-2020
जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, तीन आंतकी ढेर

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता मिली है। श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच रविवार को मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए हैं। अधिकारी ने बताया कि प्राधिकारियों ने शहर में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं एहतियातन निलंबित कर दी गई थी। उन्होंने बताया कि शहर के व्यावसायिक क्षेत्रों के अधिकतर हिस्सों में लोगों के आवागमन पर प्रतिबंध लगाया गया है। इस ऑपरेशन को सीआरपीएफ(क्विक एक्शन टीम), सीआरपीएफ की 115वीं व 28वीं बटालियन और जम्मू-कश्मीर पुलिस अंजाम दिया। मारे गए आतंकियों की शिनाख्त की जा रही है साथ ही इलाके में अभी तलाशी अभियान चल रहा है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि शहर के जूनिमार इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी के आधार पर सुरक्षा बलों ने रविवार सुबह इलाके को घेर लिया और तलाशी अभियान शुरू किया।

उन्होंने बताया कि सुरक्षा बल इलाके में आतंकवादियों की तलाश कर रहे थे, तभी आतंकवादियों ने उन पर गोलियां चला दीं। उन्होंने बताया कि सुरक्षा बलों ने जवाबी कार्रवाई की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ में तीनो आतंकवादियों को मार गिराया। बता दें कि एक महीने में श्रीनगर में यह दूसरा एनकाउंटर है। मई में सुरक्षाबलों ने श्रीनगर के नवा कदल इलाके में एक घंटे तक चली गोलीबारी के बाद एक कश्मीरी अलगाववादी नेता के बेटे सहित हिजबुल मुजाहिद्दीन के दो आतंकवादियों को मार गिराया था। 19 मई को नवा कदल इलाके में 12 घंटे तक सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच चली मुठभेड़ में एक दर्जन से अधिक घर भी क्षतिग्रस्त हो गए थे।

18-06-2020
सीआरपीएफ ने हॉस्पिटल के माध्यम से नक्सल प्रभावित इलाके के ग्रामीणों में बांटी दवाइयाँ

धमतरी। कोरोना संक्रमण पर रोकथाम के लिए बोरई सीआरपीएफ द्वारा लगातार बेहतर प्रयास किया जा रहा है। सम्पूर्ण लॉक डाउन की घोषणा होने से लेकर अब तक लोगों के बीच लगातार अपील की जा रही है कि कोरोना संक्रमण को फैलने से कैसे रोका जा सकता है। पूर्व में भी कमाण्डेन्ट अमीरुल हसन अंसारी के मार्गदर्शन में जन कल्याण कार्यक्रम के तहत नक्सल प्रभावित इलाके के ग्रामीणों में मास्क, सैनीटाइजर सहित अन्य राहत सामग्री वितरण किया जा चुका है। वहीं आज बोरई पी एच सी के माध्यम से लोगो में जरुरी दवाइयाँ वितरण किया गया और अपील की गई है कि मास्क, सैनीटाइजर का उपयोग करें और समय समय पर हैण्डवाश करते रहे।

साथ ही सामाजिक दूरी बनाये रखे और बिना किस ठोस कारण के घर से बाहर ना निकले घर पर रहकर सुरक्षित रहे। सीआरपीएफ के इस सराहनीय पहल की इलाके में खूब सराहना हो रही है। वही सरपंच ने कहा कि सीआरपीएफ के लोगो का हम इलाके के ग्रामीणों को लगातार सहयोग मिलता रहता है। कोरोनो संकट काल और लॉक डाउन में संक्रमण से बचने उनके द्वारा बेहतर से बेहतर प्रयास किया जा रहा है। उनकी यह पहल काफी सराहनीय है। इस मौके पर बोरई सीआरपीएफ कैम्प के सहायक कमांडेंट योगेश कुमार समेत स्टाफ, सरपंच किरण भोयर समेत डॉक्टर संजू साहू समेत स्टाफ मौजूद रहे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804