GLIBS
02-07-2020
ग्लोबल वार्मिंग को देखते हुए मनुष्यता बचाने असाधारण कदम उठाने का है वक्त : आरपी मंडल

रायपुर। वो ही शहर है वो ही रास्ते, वो ही घर है और वो ही लान भी, मगर उस दरीचे से पूछना, वो दरख्त अनार का क्या हुआ, बशीर बद्र की इस गजल में वो पीड़ा छिपी है जो निजी रूप से पेड़ों के हमारे जीवन में घटती जगह की चिंता दिखाती है। अपने घरों को हमने कांक्रीट में बदल दिया है और इस तरह सारे शहर कांक्रीट के जंगल में बदल रहे हैं। पौधारोपण का अभियान बहुत कुछ शासकीय स्तर पर हो रहा है अथवा उन लोगों द्वारा किया जा रहा है, जो पर्यावरण प्रेमी हैं। यह अभियान इससे भी आगे जाए। इस व्यापक उद्देश्य से जिला प्रशासन दुर्ग ने 6 जुलाई को पौधरोपण महाभियान का आह्वान जिले के नागरिकों से किया है।

मुख्य सचिव आरपी मंडल रजिस्ट्री कार्यालय दुर्ग के भवन के लिए जमीन चिन्हांकित करने अभी हाल ही में वहां गए थे। उन्हें उस भूमि में एक पेड़ दिखा। उन्होंने कहा कि भवन बने, लेकिन ये पेड़ न कटे। क्योंकि हम लोग यहां पेड़ सहेजने के लिए कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पेड़ को ग्लास के माध्यम से पैसेज दिया जाए। ग्लोबल वार्मिंग को देखते हुए मनुष्यता को बचाने के लिए असाधारण कदम उठाने का वक्त है और शासन के साथ ही आम जनता को भी बराबरी से इस दिशा में कार्य करना होगा। बशीर बद्र की यह गजल फिर याद आती है, कोई फूल धूप की पत्तियों में हरे रिबन से बंधा हुआ वो गजल का लहजा नया नया, न सुना हुआ न कहा हुआ। इस सुंदरता को सहेजना है और रोज अपने दरीचों से देखना है, तो 6 जुलाई को एक पौधा अवश्य लगायें। प्रकृति को सहेजने की इस लड़ाई में जब तक आम आदमी की व्यापक भागीदारी नहीं होगी, तब तक हरियाली के विस्तृत दायरे की कल्पना करना भी कठिन है। घरों में जब पौधे पहुंचेंगे और हर नागरिक इसे बचाने और सहेजने की शपथ लेगा तो निश्चित ही आने वाली पीढ़ी को हरीतिमा से भरे शहर का तोहफा मिलेगा। पौधारोपण को लेकर पिछले साल भी वन विभाग ने एक पहल की थी जिसमें पौधों के इच्छुक नागरिकों को घर पहुंचाकर पौधे दिये गए थे।

इस बार भी यह कार्य किया जा रहा है। कोई कार्य मिशन के रूप में और उत्सव के रूप में होता है तो इसके और भी बड़े और शुभ परिणाम सामने आते हैं। छह जुलाई को ऐसे ही परिणाम आने की उम्मीद है। घरों के लिए फलदार पौधे वितरित किये जाने की योजना है। कहीं आम के पौधे दिये जाएंगे। कहीं अमरूद के पौधे और कहीं जामुन के पौधे। कोई अच्छा कार्य होता है, तो उसे अंग्रेजी में फ्रूटफुल कहते हैं। हिंदी में कहते हैं कि यह फलदायी कार्य हुआ। जो लोग पौधे ले जाएंगे, उन्हें न केवल अपने परिवार के लिए कुछ ही सालों में फलदायी पेड़ों से फल मिलेंगे अपितु उससे भी बढ़कर उनका घर हरीतिमा से पूर्ण और सुंदर  होगा। किसी घर को सुंदर दिखाना है तो सबसे न्यूनतम निवेश में होने वाला कार्य यही है कि कोई सुंदर सा पेड़ लगा दो। अगर आप आम का पेड़ लगा देंगे तो आम्रमंजरियों की खूबसूरती और खुशबू से आपका घर महक उठेगा। अगर आप गुलमोहर का पेड़ घर में लगा देंगे तो इसकी सुंदरता से घर गुलजार हो जाएगा। शहरों में तो अब यह भी देखने को मिलता है कि घर का विस्तार करना है और कोई पेड़ आ गया तो इसके लिए पैसेज खोल देते हैं, लेकिन पेड़ नहीं काटते।

25-06-2020
नवविवाहिता से रेप के मामले में तीन आरोपी गिरफ्तार

रायपुर/कोरबा। नवविवाहिता का अपहरण कर तीन दिन तक उसके साथ रेप करने का मामला सामने आया है। वारदात के मुख्य आरोपी समेत अपहरण में सहयोग करने वाले दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। घटना एक महीने पहले की है। दरअसल पसान थाना क्षेत्र में 21 वर्षीय पीड़िता बीते 19 मई को देर रात लघुशंका के लिए घर से बाहर निकली थी। इस दौरान वहां पहुंचे गांव के ही भैयालाल ने अपने साथी हरिदयाल पोर्ते की मदद से उसका अपहरण कर लिया। साथ लाए गमछा से महिला का मुंह बांधकर उसे उठाकर जंगल की ओर ले जाकर भैयालाल ने दुष्कर्म किया। इसके बाद भैयालाल व हरिदयाल ने मिलकर महिला को गांव के मुख्य सड़क तक लाया, जहां एक और आरोपी शिवशंकर बाइक लेकर मौजूद था। बाइक पर महिला को जबरन बैठाया और वहां से करीब 7 किलोमीटर दूर खड़गवां थाना क्षेत्र के ग्राम कारीछापर स्थित एक मकान में ले गए।

भैयालाल ने जान से मारने की धमकी देकर महिला के साथ दो दिन तक दुष्कर्म किया। पीड़िता के मुताबिक उसने किसी तरह अपने भाई और पिता से संपर्क किया और वे कारीछापर स्थित उक्त मकान में पहुंचे, जिन्हें देखकर तीनों आरोपी भाग निकले। पीड़िता ने अपने पिता व भाई के साथ मंगलवार को थाना पहुंचकर घटना की रिपोर्ट दर्ज कराई। शिकायत में बताया गया है कि दुष्कर्म की वारदात को भैयालाल ने तीन दिन तक अंजाम दिया, जबकि हरिदयाल और शिवशंकर ने महिला का अपहरण और निगरानी करने में मदद की। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 376, 366, 504, 34 के तहत मामला दर्ज कर सभी को गिरफ्तार कर लिया है।

22-06-2020
जंगल में संदिग्ध हालात में मिला शव,पुलिस जांच में जुटी

धमतरी। कसपुर के जंगल में संदिग्ध हालात में शव मिलने से सनसनी फ़ैल गई है। हत्या है या आत्महत्या मामले की जांच के बाद ही कुछ कहा जा पाएगा। मिली जानकारी के अनुसार बोराई थाना क्षेत्र के अंतर्गत कसपुर के जंगल में एक अज्ञात शव मिलने से सनसनी फैल गई। इसके बाद पुलिस ने जब शव देखा तो कपड़ों से शव की पहचान की गई। बताया जा रहा है कि यह शव हरीश नेताम 20 वर्ष कसपुर का है,जो बोरवेल का काम करता था। कुछ दिनों पहले  ही आया था और आने के बाद क्वॉरेंटाइन में रखा गया था। क्वॉरेंटाइन से रिलीज करने के बाद वह बगैर कुछ बताएं घर से निकला हुआ था। इसकी तलाश सप्ताह भर से की जा रही थी। आज सोमवार को शव को जंगल में देखा गया तब पुलिस ने उसके परिजनों को सूचना दी और शव को पंचनामा करके पीएम के लिए भेज दिया। हालांकि युवक की मौत कैसे हुई है यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। पुलिस इस संदिग्ध मामले की जांच कर रही है।

 

22-06-2020
बेसहारा महिला ने घाटी हनुमान मंदिर के पास नवजात शिशु को दिया जन्म

दंतेवाड़ा। थाना प्रभारी मारदुम के माध्यम से पता चला कि बारसूर-चित्रकोट मार्ग पर बारसूर से 13KM दूर स्थित घाटी हनुमान मंदिर के पास एक महिला ने नवजात शिशु को जन्म दिया है जो बेसहारा है। सूचना मिलने पर एसपी, एडिशनल एसपी और एसडीओपी को जानकारी दी गई एवं उचित मार्गदर्शन प्राप्त कर बारसूर थाना प्रभारी एसएस सोड़ी और बारसूर हॉस्पिटल स्टॉफ एम्बुलेंस लेकर वहां पहुंचा और घनघोर जंगल में नाजुक स्थिति में पड़ी महिला एवं बच्चे को लेकर बारसूर अस्पताल में पहुँचाया गया। महिला ने शुक्रवार रात को बच्चे को जन्म दिया और इसके बाद उसे दो दिन तक जंगल में गुजारना पड़ा। महिला का नाम यशोदा बघेल उम्र 30 साल निवासी जगदलपुर बताया जा रहा है।

17-06-2020
सांस लेने में कठिनाई होने की वजह से हुई हाथी की मौत: वनमण्डलाधिकारी

धमतरी। वनमण्डल परिक्षेत्र धमतरी के तहत गंगरेल डूबान क्षेत्र में गत 10 दिनों से आए हाथी झुण्ड की निगरानी वन अमले द्वारा गश्त कर नियमित रूप से की जा रही है। वनमण्डलाधिकारी अमिताभ बाजपेयी ने बताया कि रात्रि 10 बजे ग्राम उरपुटी में हाथी आने की सूचना मिलने पर परिक्षेत्र सहायक मोंगरागहन एवं स्टाफ द्वारा हाथियों के दल को ग्राम से भगाया गया तथा जंगल की ओर हाथियों के चले जाने के बाद अन्यत्र जंगल में गश्त किया गया। उन्होंने बताया कि 16 जून को सुबह लगभग सवा पांच बजे वन अमले को सूचना मिली कि, ग्राम मोंगरी के पास दलदल में हाथी का बच्चा फंस गया है। सुबह 6 बजे वन अमला पहुंचा तो हाथी का बच्चा मोंगरी गांव के पास दलदल में फंसा हुआ मृत पाया गया। बताया गया है कि मृत हाथी की उम्र लगभग तीन वर्ष होने का अनुमान है।मृत हाथी के पोस्टमार्टम के लिए उप संचालक, उदंती-सीतानदी टायगर रिजर्व, गरियाबंद से डाॅ.सोमेश कुमारी जोशी, वन्यजीव पशु चिकित्सा अधिकारी को सूचित कर बुलाया गया। इसके साथ ही उप संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं, धमतरी की टीम की उपस्थिति में मृत हाथी का पोस्टामार्टम किया गया। पोस्टमार्टम में नर हाथी की सांस लेने में कठिनाई ( Respiratory Distress ) की वजह से मृत्यु होना पाया गया। नियमानुसार मृत हाथी को मौके पर मोंगरी के ग्रामीणों की उपस्थिति में पंचनामा तैयार कर मृत हाथी के शव को दफनाया गया।

11-06-2020
जंगल में जुआ खेलते जुआरियों को घेराबंदी करके पकड़ा, नगदी सहित बाइक जब्त

कोण्डागांव। जुआ खेलते जुआरियों को पुलिस ने घेराबंदी करके धर दबोचा। गुरुवार को पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली की ग्राम केरावाही के जंगल में जुआरी पैसा का दांव लगाकर जुआ खेल रहे हैं। सूचना पर अनुविभागीय अधिकारी पुलिस के नेतृत्व में टीम गठित कर घटना स्थल की घेराबंदी की गई। यहां पर दिलीप कोर्राम उम्र 33 वर्ष, आरीफ उम्र 40 वर्ष, अमित सोनानी उम्र 29 वर्ष,  हरीश दास मानिकपुरी उम्र 26 वर्ष,संजय चौहान उम्र 32 वर्ष को पुलिस ने घेराबंदी कर पकड़ा।इनके कब्जे से 64800/- रूपये नगदी व ताश की 52 पत्ती और बाइक जब्त की गई। आरोपियों के विरूद्ध जुआ एक्ट के तहत अपराध दर्ज किया गया, साथ ही सभी आरोपियों के विरूद्ध प्रतिबंधात्मक कार्यवाही की गई। 

 

05-06-2020
प्रशासन के निर्देशों को दरकिनार कर वन विभाग ने आयोजित किया प्रशिक्षण कैम्प, भूल गए सोशल डिस्टेंस...

कोरबा। कोरोना वायरस संक्रमण के रोकथाम को लेकर केन्द्र सरकार द्वारा देशभर में लगातार पाँचवें चरण का लॉक डाउन लगाया गया है। ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आने से जनमानस को बचाया जा सके। उक्त संक्रमण से बचाव के लिए किसी भी प्रकार के भीड़ इकट्ठी होने वाले कार्यक्रम, समारोह, जलसा, बैठकें आदि का आयोजन करने पर पूर्णतः रोक लगाई गई है। इन सबके बीच शासन-प्रशासन के दिशा-निर्देशों को धत्ता बताते हुए और बेखौफ होकर जंगल के भीतर वन अधिकारियों-कर्मचारियों के भारी उपस्थिति में विभागीय प्रशिक्षण कैम्प आयोजित किया गया। जहाँ शाकाहारी के साथ मांसाहारी भोजन पार्टी का भी लुफ्त उठाया गया।  

वनमंडल कटघोरा अंतर्गत वन परिक्षेत्र पाली जहाँ बीते 4 जून बुधवार को चैतुरगढ़ क्षेत्र में जेमरा के समीप रतखंडी जाने वाले मुख्यमार्ग से लगभग एक किलोमीटर दूर भीतर जंगल में वन विभाग द्वारा नरवा, गरुवा, घुरवा, बारी के नाम पर प्रशिक्षण कैम्प आयोजित किया गया था। इसमें स्वयं डीएफओ के अलावा एसडीओ सहित जटगा, चैतमा एवं पाली परिक्षेत्राधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित हुए थे। इनकी संख्या लगभग 70 से 80 में थी। जहाँ बकायदा टेंट लगा कर शाकाहारी के साथ मांसाहारी भोजन पार्टी का भी जमकर लुफ्त उठाया गया जिसके बाद शाम को सभी वापस लौटे।

विदित हो कि इन दिनों पूरा देश कोरोना वायरस के भयावह संक्रमण से बचने जंग लड़ रहा है और लोग मास्क का उपयोग के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए भीड़भाड़ से भी बच रहे हैं। ऐसे में दूर जंगल के भीतर प्रशिक्षण कैम्प के नाम पर भीड़ इकट्ठी किया जाना समझ से परे है। एक तरफ वर्तमान संकट की इस घड़ी में हरएक व्यक्ति शासन, प्रशासन के दिशा-निर्देशों का बखूबी पालन करते हुए एहतियात बरत रहा है। जबकि जवाबदार प्रशासनिक नौकरशाह द्वारा ही अपने प्राथमिक कर्तव्य एवं शासकीय आदेश को दरकिनार कर प्रशिक्षण कैम्प आयोजित कर भोजन पार्टी का मजा लेते हुए पाया गया। उक्त पूरे मामले में जब प्रतिक्रया जानने पाली परिक्षेत्राधिकारी प्रहलाद यादव से संपर्क किया गया लेकिन उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

04-06-2020
गजराजों ने किया धमतरी का रुख, ग्रामीणों को सचेत रहने वन विभाग ने कराई मुनादी

धमतरी। जिले के मगरलोड क्षेत्र के उत्तर सिंगपुर वन परिक्षेत्र में 21 हाथियों का दल ग्राम मोहेरा, जलकुंभी, हतबंद, अमलीडीह परसाबुड़ा, रेंगाडीह, राजाडेरा के आसपास देखा गया है। ज्ञात हो कि हाथियों ने गरियाबंद क्षेत्र में उत्पात मचाने के बाद मगरलोड क्षेत्र के जंगल में प्रवेश कर चुके हैं। मगरलोड विकासखंड के ग्रामीण दहशत में हैं। वन विभाग के उच्च अधिकारी गांव में पहुंचकर ग्रामीणों को सचेत कर रहे हैं कि हाथियों का दल गांव में धावा ना बोल दे। डीएफओ अमिताभ बाजपेई ने बताया कि हर गांव में मुनादी कर दी गई है और लोगों को सचेत किया जा रहा है। 21 जंगली हाथियों के झुंड कर्मचारियों द्वारा देखा गया है और लगातार सतर्कता बरती जा रही है। वन अधिकारी कर्मचारी दिन-रात इन हाथियों की जाने की दिशा को चौबीसों घंटे नजर में रख रहे हैं।

04-06-2020
पुलिस पार्टी को नुकसान पहुंचाने आईईडी लगाते एक मिलिशिया सदस्य गिरफ्तार

बीजापुर। बीजापुर जिले में इन दिनों पुलिस के द्वारा नक्सलियों के विरुद्ध चलाये जाने वाली ऑपरेशन मे आज बीजपुर पुलिस ने मिलिशिया सदस्य लक्ष्मण पूनम उम्र 20 वर्ष को आईडी लगाते हुए गिरफ्तार किया। बीजापुर एसपी कमलोचन कश्यप ने प्रेस नोट जारी कर बताया कि यह पूरा ऑपरेशन पुलिस महानिरीक्षक बस्तर सुन्दरराज पी के कुशल मार्गदर्शन में चलाया जा रहा है। इसमें नक्सली विरोधी अभियान के तहत बुधवार को जिलाबल एवं छसबल की संयुक्त पार्टी एरिया डोमिनेशन एवं नक्सली आरोपियों एवं स्थाई वारंट की तलाश में नीलावाया कोण्डापाल की ओर रवाना हुई थी।

कोंडापाल के जंगल से मिलिशिया सदस्य लक्ष्मण पूनम पुलिस पार्टी को नुकसान पहुंचाने के लिए आईडी लगा रहा था। आईईडी लगाने की बात लक्ष्मण पूनम ने काबुल कर ली है। उसके पास से 1 नग आईईडी टिफिन बम, इलेक्ट्रिक स्विच, इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, वायर, इलेक्ट्रिक स्विच, नीला कलर का पिट्ठू जिसमें दैनिक उपयोगी की सामग्री थी जिसे पुलिस ने अपने कब्जे मे ली। आरोपी ने 5 वर्षों से जनमिलिशिया सदस्य के रूप में कार्य करने की बात कबूली, जिसे विधिवत गिरफ्तार कर उपरांत रिमांड पर न्यायालय बीजापुर पेश कीया गया।

02-06-2020
एक ही दिन पुलिस ने दो जगह मारा छापा, जुआ खेलते 11 गिरफ्तार 

राजनांदगांव। खैरागढ़ में 1 लाख 15 हजार का जुआ पकड़ने के बाद पुलिस चौकी चिचोला को सूचना मिली कि चिचोला बंजारी के जंगल में कुछ लोग ताश पत्ती पैसा लगाकर खेल रहे हैं। पुलिस ने दबिश देकर जुआ खेल रहे 11 जुआरी पकड़े जिनसे 2 लाख 2 हजार 600 रुपए जब्त किया गया। 11 नग मोबाइल भी जब्त किए गए। एक ही दिन में पुलिस द्वारा दो जगह कार्यवाही करने से जुआरियों में हड़कंप मच गया है।

01-06-2020
तेन्दूपत्ता संग्रहण के जरिये जिले के 30 हजार 640 वनवासियों एवं ग्रामीणों को मिला आय का साधन

कोरिया। प्रदेश में तेन्दूपत्ता संग्रहण की शुरूआत हो चुकी है। चिलचिलाती धूप में जंगल के बीच जाकर पत्ते तोड़ना, लाकर उन पत्तों को सुखाना, बंडल बनाना और फिर विक्रय करना ये पूरी प्रक्रिया बेहद थका देने वाली होती है, पर अंत में जब इस अथक मेहनत से कमाई राशि हाथों में आती है तो सब दर्द-थकान मिट जाती है। छत्तीसगढ़ शासन द्वारा वनवासियों एवं ग्रामीणों को तेन्दूपत्ता का उचित दाम प्रदाय किया जा रहा है,जिससे इस संकट के समय में उन्हें आर्थिक परेशानियों से राहत मिली है।जब चारों ओर कोरोना संक्रमण के कारण पैदा हुई विषम परिस्थितियों में आर्थिक जनजीवन सुस्त हो गया है, ऐसे में तेन्दूपत्ता संग्रहण वनवासियों एवं ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए आय का बढ़िया साधन बना है। कोरिया वनमंडल अधिकारी  राजेश चंदेले ने बताया कि कोरिया जिले में कुल 17 संग्रहण समितियों के द्वारा तेन्दूपत्ता संग्रहण का कार्य किया जा रहा है। जिले में अब तक 20905.75 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण किया जा चुका है। तेन्दूपत्ता संग्रहण के जरिये जिले के 30 हजार 640 वनवासियों एवं ग्रामीणों को रोजगार एवं आय का साधन मिला है। जिले के तेन्दूपत्ता संग्राहकों को अब तक 1 करोड़ 46 लाख 65 हजार 360 रूपये की राशि का भुगतान किया जा चुका है।तेन्दूपत्ता का संग्रहण करते हुए कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के उपायों एवं सावधानियों के बारे में उन्होंने कहा कि तेन्दूपत्ता तोड़ाई के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है। संग्राहकों को सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में जानकारी दी गई है। जिसका पालन करते हुए संग्राहक तेन्दूपत्ता तोड़ाई का काम कर रहे हैं। इसके साथ ही मास्क पहनने एवं यथासंभव बार-बार हाथ धोने की भी जानकारी दी गई है।

 

30-05-2020
जंगल में खेल रहे थे जुआ, पुलिस ने रेड मारकर जुआरियों को धर दबोचा

कोरबा। जंगल में जुआ खेलते जुआरियों को पुलिस ने धर दबोचा हैैै। जिले में बालको नगर क्षेत्र में बालको थाना अंतर्गत शनिवार को मुखबिर से सूचना मिली की धनगावं जंगल में कुछ जुआरी ताशपत्ती से रूपयों का दांव लगाकर जुआ खेल रहे हैं। सूचना पर बालको थाना का स्टाफ धनगांव जंगल रवाना हुआ। घटना स्थल पर जुआरियों को जुआ खेलते रंगेहाथ पकड़ा। रेड की कार्यवाही में जुआरी राजाराम कश्यप, कमल नारायण, विष्णु आंडे, विदेशी दास, जयलाल सिहं,सत्यम सोनी को पकड़ा। इसमें कुछ जुआरी भागने में कामयाब रहे। जुआरियों के पास से 18800 रूपये व ताश पत्ती बरामद की। जुआरियों को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804