GLIBS
22-04-2021
सीएम भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मांगी ये जानकारियां 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां मांगी है। पत्र में सीएम ने पूछा है कि भारत सरकार की ओर से राज्य को माहवार प्रदाय की जाने वाली वैक्सीन संख्या कितनी है। सीरम इंस्टीटयूट एवं भारत बायोटेक की ओर से राज्य को माहवार उपलब्ध कराई जाने वाली अनुमानित संख्या पूछा है। सीरम इंस्टिट्यूट एवं भारत बायोटेक की ओर से केंद्र और राज्य को उपलब्ध कराइ जाने वाली वैक्सीन की दरें कितनी है। केंद्र और राज्य सरकारों से समान दरें ली जाएं क्यांेकि को-वैक्सीन भारत सरकार के सहयोग से विकसित की गई है। इसलिए भारत बायोटेक की ओर से सीरम की तुलना में कम दरों पर वैक्सीन की आपूर्ति की जाएं।

22-04-2021
सीएम भूपेश बघेल ने कहा, रेमडेसिविर इंजेक्शन अस्पतालों को ही दिए जाए

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नगर निगम के महापौर और निगम आयुक्त की वर्चुअल बैठक में महापौर निधि और पार्षद निधि को कोरोना संक्रमण के नियंत्रण एवं उपचार की व्यवस्था में खर्च करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों से कोरोना नियंत्रण एवं उपचार की व्यवस्था में आवश्यक सहयोग ले। राज्य के सभी नगर निगम में लॉकडाउन के दौरान सभी वार्ड एवं कॉलोनियों में सब्जी के साथ -साथ फल की डोर टू डोर उपलब्धता सुनिश्चित कराएं। सीएम बघेल ने कहा है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन अस्पतालों को ही प्रदाय किए जाए। नगर निगम को उनकी डिमांड के अनुसार इलेक्ट्रिक शवदाह गृह की स्थापना की तत्काल मंजूरी दी जाएगी। लक्षण वाले मरीजों को तत्काल दवाओं के किट प्रदाय किए जाएं। ग्रामीण क्षेत्रों में भी कोरोना लक्षण वाले मरीजों की पहचान कर दवाइयां दी जानी चाहिए। मई और जून माह का राशन एक साथ उपभोक्ताओं को निशुल्क मिलेगा।

राजनीतिक दल और दानदाताओं के सहयोग से जरूरतमंदों को सूखा राशन एवं गर्म भोजन की व्यवस्था की जानी चाहिए। 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोरोना वैक्सीनेशन के क्रियान्वयन के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की कमेटी बनाने के निर्देश। मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए राज्य की सीमाओं को तत्काल सील किए जाने के निर्देश दिए। बिना कोरोना टेस्टिंग कोई भी व्यक्ति राज्य की सीमा में प्रवेश नहीं कर सकेगा। बाहर से आने वाले श्रमिकांे एवं लोगों की कोरोना टेस्टिंग की व्यवस्था के निर्देश दिए। रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, एवम राज्य के सीमावर्ती चेक पोस्ट पर कोरोना टेस्टिंग टीम तैनात करने के निर्देश दिए हंै। साथ ही राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज में अव्यवस्था की शिकायत को लेकर अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य को आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए।

22-04-2021
Breaking : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की महापौर और आयुक्तो के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राज्य के नगरीय निकाय क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की रोकथाम की व्यवस्था और टीकाकरण की प्रगति की वीडियो कॉन्फ्रेंस से समीक्षा कर रहे हैं। वीडियो कांफ्रेंस में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया, मुख्य सचिव अमिताभ जैन, स्वास्थ्य विभाग की अपर मुख्य सचिव रेणु पिल्लै, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी, नगरीय प्रशासन विभाग की सचिव अलरमेलमंगई डी. और विभिन्न नगर निगमों के महापौर एवं आयुक्त शामिल हैं।

21-04-2021
अपने नागरिकों की जीवन रक्षा के लिए हम हरसंभव कदम उठाएंगे: भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने घोषणा की है कि प्रदेश में 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को निशुल्क कोरोना वैक्सीन लगाया जाएगा। 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के कोरोना के टीकाकरण का भुगतान राज्य सरकार करेगी। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि अपने नागरिकों की जीवन रक्षा के लिए हम हरसंभव कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से अनुरोध किया गया है कि छत्तीसगढ़ में पर्याप्त संख्या में वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित करें। बघेल ने कोविड टीकाकरण के लिए पात्र सभी हितग्राहियों से अपील की है कि उन्होंने अगर अब तक टीकाकरण नहीं कराया है तो जरूर करा लें, जिससे वे संक्रमण से होने वाली गम्भीर बीमारी से बच सकें। उल्लेखनीय है कि 45 वर्ष से अधिक आयु समूह को कोविड 19 वैक्सीन की प्रथम डोज देने में छत्तीसगढ़ राज्य का स्थान पूरे देश में चैथा है। यदि साठ वर्ष और उससे अधिक आयुवर्ग की बात करें तो छत्तीसगढ़ पूरे देश में लद्दाख, राजस्थान, सिक्किम और त्रिपुरा के बाद पाँचवें स्थान पर है। 88 प्रतिशत हेल्थ केयर वर्कर, 92 प्रतिशत फ्रंट लाइन वर्कर को भी वैक्सीन की पहली खुराक दी जा चुकी है। छत्तीसगढ़ में अब तक 51 लाख 25 हजार 640 कोरोना वैक्सीन की डोज का उपयोग किया गया है। प्रदेश में अब तक पहला और दूसरा डोज मिलाकर कुल 50 लाख 55 हजार 698 डोज लगाए जा चुके हैं।

21-04-2021
Breaking : ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदने के लिए रायपुर जिले को एक करोड़ रुपए की स्वीकृति

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रायपुर में ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति निरंतर बनाए रखने के लिए कलेक्टर को एक करोड़ रुपए की राशि की स्वीकृति प्रदान की हैं। स्वीकृत राशि का उपयोग नए ऑक्सिजन सिलेंडर क्रय करने में किया जाएगा। रायपुर में कोरोना संक्रमित मरीज़ों की संख्या में वृद्धि के कारण ऑक्सीजन की बढ़ती मांग को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया हैं।

20-04-2021
समितियों में शेष बचे धान का हो निराकरण: भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को राजधानी स्थित अपने निवास कार्यालय में आयोजित बैठक में राज्य में खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में उपार्जित धान के निराकरण और कस्टम मिलिंग की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने इस दौरान समितियों में शेष धान के त्वरित निराकरण के लिए आवश्यक निर्देश दिए। साथ ही समितियों में निराकरण के लिए शेष धान के उचित रख-रखाव के लिए भी निर्देशित किया। गौरतलब है कि खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में उपार्जित कुल 92 लाख मीट्रिक टन धान में से 47.37 लाख मीट्रिक टन धान डी.ओ. के माध्यम से मिलर्स को प्रदाय किया जा चुका है तथा 19.68 लाख मीट्रिक टन धान टी ओ के माध्यम से संग्रहण केन्द्रों को प्रदाय किया गया है। आज तक नीलामी के माध्यम से 4.59 लाख मीट्रिक टन धान का विक्रय किया जा चुका है। इस तरह समितियों में वर्तमान में  20.36 लाख मीट्रिक टन धान निराकरण के लिए शेष है। इस दौरान  मुख्य सचिव अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी तथा मार्कफेड के प्रबंध संचालक अंकित आनंद उपस्थित थे।

20-04-2021
भूपेश बघेल ने ली बैठक, बस्तर संभाग में कोरोना की स्थिति और नियंत्रण के उपायों की समीक्षा की

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को अपने निवास कार्यालय से वर्चुअल बैठक ली। उन्होंने बस्तर संभाग के 7 जिलों कांकेर, कोंडागांव, बस्तर, बीजापुर, नारायणपुर, सुकमा और दंतेवाड़ा में कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति और उससे नियंत्रण के उपायों की समीक्षा की। उन्होंने बैठक में सभी जिलों में ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड, वेंटिलेटर बेड की उपलब्धता, ऑक्सीजन की सप्लाई चेन, ऑक्सीजन सिलेंडरों की उपलब्धता और रोटेशन, मेडिकल स्टाफ की उपलब्धता, रेमडेसिविर और अन्य आवश्यक दवाइयों की उपलब्धताऔर सीएसआर मद, औद्योगिक क्षेत्र और सामाजिक संगठनों के सहयोग से किए जा रहे कार्यों की समीक्षा की। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, मुख्य सचिव अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य रेणु जी. पिल्ले, अपर मुुख्य सचिव गृह  सुब्रत साहू, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी, बस्तर संभाग के कमिश्नर, आईजी, कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक शामिल हुए।

18-04-2021
भूपेश बघेल ने 10 जिलों की समीक्षा कर कलेक्टरों दिए निर्देश, कहा-मरीजों के इलाज के लिए हो हर आवश्यक व्यवस्था

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार रात अहम बैठक ली। उन्होंने वर्चुअल बैठक में 10 जिलों में कोरोना के नियंत्रण व इलाज  के प्रबंध के संबंध में चर्चा की। इनमें रायपुर, दुर्ग, बेमेतरा, राजनांदगांव, बिलासपुर, जांजगीर-चांपा, रायगढ़, बलौदाबाजार, जशपुर और कोरबा जिले में आॅक्सीजन बेड ,आॅक्सीजन सिलेंडर की उपलब्धता, मरीजों के इलाज, रेमडेसिविर इंजेक्शन सहित आवश्यक दवाइयों की उपलब्धता, सीएसआर मद व अन्य मदों से आवश्यक उपकरणों की व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने सभी कलेक्टरों को अपने-अपने जिलों में आॅक्सीजन सिलेंडर की निरंतर आपूर्ति व आवश्यक दवाइयों के भंडारण, खदान और औद्योगिक क्षेत्रों में सघन टेस्टिंग अभियान चलाने के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि वायरस के दूसरे स्ट्रेन से ज्यादा तेजी से संक्रमण हो रहा है। मरीजों को ठीक होने में भी ज्यादा समय लग रहा है। इसे ध्यान में रखते हुए जिलों में मरीजों की तत्परता से इलाज सुविधा के लिए हर आवश्यक व्यवस्था तय करें। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने सभी जिलों में आवश्यकतानुसार सभी व्यवस्थाएं तय करने के निर्देश दिए। उन्होंने राज्य में कोविड-19 के संक्रमण की स्थिति और वैक्सीनेशन की प्रगति के संबंध में जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सामाजिक संगठन, उद्योगपति और व्यापार जगत के लोग भी संकट के इस समय में प्रशासन के साथ सहयोग कर रहे हैं। हम लोग लगातार उनके संपर्क में हैं, कलेक्टर भी समय-समय पर विभिन्न वर्गों के लोगों से संवाद स्थापित करते रहें। यह भी ध्यान रखा जाए कि आम जनता की आवश्यक जरूरतों की पूर्ति में कोई व्यवधान न आने पाए।  उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को टेस्टिंग किट सहित जरूरी मेडिकल उपकरणों, आॅक्सीजन सिलेंडर, रेमडेसिविर सहित आवश्यक दवाओं की उपलब्धता को निरंतर बनाए रखने के निर्देश दिए। आवश्यक दवाइयों की कालाबाजारी पर सख्ती से रोक लगाने कहा। सभी जिलों में जरूरत के अनुसार मेडिकल स्टॉफ की भर्ती तत्काल करने के निर्देश दिए। बैठक में मुख्य सचिव अमिताभ जैन और मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी मुख्यमंत्री निवास में उपस्थित थे। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य रेणु जी. पिल्ले, अपर मुख्य सचिव गृह सुब्रत साहू, संबंधित जिले के आईजी, सभी जिलों के कलेक्टर, एसपी बैठक में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्मय से जुड़े।

 

18-04-2021
भूपेश बघेल ने कहा -एयरपोर्ट,रेलवे स्टेशनों,बस स्टैंडों और अंतर्राज्यीय सीमाओं पर यात्रियों की हो कड़ाई से जांच

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नेरविवार को अपने निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल बैठक में प्रदेश के 10 जिलों में कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति, उनकी रोकथाम के उपायों और मरीजों के इलाज के लिए किए गए प्रबंधों की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने सभी कलेक्टरों से एयरपोर्ट के साथ-साथ रेलवे स्टेशनों,बस स्टैंडों और अंतर्राज्यीय सीमाओं पर बाहर से आने वाले यात्रियों की कड़ाई से टेस्टिंग करने के निर्देश दिए। साथ ही उन्हें आवश्यकतानुसार क्वारेंटाइन सेंटर, आइसोलेशन में रखने और अस्पताल भेजने की व्यवस्था के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए चिकित्सा स्टॉफ सहित शासन-प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी, विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधि बड़ी मेहनत के साथ काम कर रहे हैं। ऐसे में यह जरूरी है कि बाहर से आने वाले प्रवासी लोगों की चेकपाइंट पर टेस्टिंग कर संक्रमित लोगों को चिन्हाकित कर उनके इलाज की समुचित व्यवस्था की जाए, ताकि इन लोगों से संक्रमण न फैलने पाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा संक्रमण के मामले आ रहे हैं, वहां गांवों में हर व्यक्ति की जांच के लिए विशेष अभियान चलाकर टेस्टिंग कर, उन्हें अलग रखने और उनकी मॉनीटरिंग की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। क्वारेंटाइन और होम आइसोलेशन वालों को टेलीमेडिसिन के माध्यम से सलाह देने की व्यवस्था की जाए। इसके लिए कंट्रोल रूम को सक्रिय किया जाए।
उन्होंने लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि चैक-चैराहों में भीड़ एकत्रित न हो। सभी जिलों से लगने वाले अंतर्राज्यीय बार्डर सील किए जाएं। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि दुष्प्रचार करने वालों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाए। यह तय किया जाए कि हेल्थ वर्कर और फ्रंटलाइन वर्कर संक्रमण से बचने के लिए कोविड-19 की गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करें। साथ ही हेल्थ वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और सामाजिक संगठनों द्वारा किए जा रहे सराहनीय कार्यों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। इससे नकारात्मकता का माहौल न बनने पाए, इसका विशेष ध्यान रखें।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804