GLIBS
20-08-2019
जन्माष्टमी उत्सव में गौ रत्न सम्मान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को

रायपुर। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्सव विकास समिति के तत्वाधान में दही हांडी लूट प्रतियोगिता के 11 वर्ष के आयोजन में विशेष तैयारी की जा रही है। जन्माष्टमी के अवसर पर समिति की ओर से विभिन्न पुरस्कारों की घोषणा की जाती है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को गोवर्धन गौ रक्षा के क्षेत्र में नरवा गरवा घुरवा बारी योजना को क्रियान्वित करने के लिए गौ रत्न सम्मान दिया जाएगा। समिति संयोजक माधव यादव ने उक्त जानकारी दी। 
माधव यादव ने बताया कि इस बार प्रतियोगिता में शामिल होने अन्य राज्यों से भी टीम आ रही है, जिसमें जबलपुर से 100 सदस्य टीम मटके फोडऩे आ रही है। उन्होंने अपना पंजीयन करा लिया है। इसके अलावा लड़कियों, महिलाओं और लड़कों की गोविंदा मंडली 37 टीमों ने भी अपना पंजीयन करा लिया है। प्रतियोगिता के अवसर पर छत्तीसगढ़ी कला संस्कृति को प्रदर्शित करते यादव नृत्य दल, शौर्य प्रदर्शन अखाड़ा दल अपनी विशेष प्रस्तुति देंगे।
प्रतियोगिता के अवसर पर उद्घाटन सत्र के मुख्यअतिथि छत्तीसगढ़ शासन के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कार्यक्रम की अध्यक्षता कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव और छत्तीसगढ़ प्रभारी चंदन यादव करेंगे। इसके अलावा महापौर प्रमोद दुबे, विधायक विकास उपाध्याय, विधायक राम कुमार यादव, विधायक सत्यनारायण शर्मा, विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे। पुरस्कार वितरण समारोह के मुख्य अतिथि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह होंगे तथा अध्यक्षता विधायक बृजमोहन अग्रवाल करेंगे।
प्रतिवर्ष विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वालों को पुरस्कृत किया जाता है इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ गौरव का सम्मान इस बार फोटोजर्नलिस्ट गोकुल सोनी को दिया जा रहा है तो दूसरी ओर पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय काम करने हेतु पत्रकार दामू अंबाडारे को दिया जाएगा। अन्य को कृष्ण मित्र सम्मान, छत्तीसगढ़ गौरव सम्मान, कृष्ण बलराम शौर्य सम्मान दिया जाएगा।
जानकारी देते हुए संयोजक माधव लाल यादव ने बताया कि इस बार खाली रथ लेकर भगवान श्रीकृष्ण को लेने सभी महिला पुरुष गोपाल मंदिर सदर बाजार जाएंगे। वहां से भगवान से आग्रह करेंगे कि वे रथ में बैठकर चले और दही हांडी प्रतियोगिता करें। इस हेतु बाजे गाजे के साथ सभी नर्तक दल और सदस्य चलेंगे। रात्रि के समय ठीक 12 बजे थाना सिटी कोतवाली में भगवान श्रीकृष्ण का बंदी गृह में जन्म उत्सव मनाया जाएगा।

 

16-08-2019
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मां दंतेश्वरी से प्रदेश की सुख-समृद्धि के लिए मांगा आशीर्वाद

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जिला मुख्यालय दंतेवाड़ा में मां दंतेश्वरी मंदिर पहुंच कर पूजा-अर्चना की और प्रदेश की सुख-समृद्धि और खुशहाली के लिए आशीर्वाद मांगा। इस अवसर पर उद्योग मंत्री कवासी लखमा, स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेम साय सिंह टेकाम, सांसद दीपक बैज, विधायक मोहन मरकाम भी उनके साथ थे।

 

13-08-2019
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रायपुर में करेंगे ध्वजारोहण, ध्वजारोहण के लिए जनप्रतिनिधि नामांकित

रायपुर। राज्य शासन द्वारा 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर जिला मुख्यालयों में राष्ट्रीय ध्वज फहराने और मुख्यमंत्री संदेश के वाचन के लिए जनप्रतिनिधियों को नामांकित किया गया है। रायपुर जिले में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ध्वजारोहण करेंगे। जिला दुर्ग में विधानसभा अध्यक्ष डाॅ. चरणदास महंत, बिलासपुर में गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, जांजगीर-चांपा में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, रायगढ़ में कृषिमंत्री रविन्द्र चैबे मुख्यअतिथि होंगे। राजनांदगांव में वन मंत्री मो. अकबर, कबीरधाम में महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया, कोरबा में स्कूल शिक्षा मंत्री डाॅ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, धमतरी में आबकारी मंत्री कवासी लखमा, सरगुजा में नगरीय प्रशासन मंत्री डाॅ.शिवकुमार डहरिया,जशपुर में खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, बलरामपुर में उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, कांकेर में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरू रूद्रकुमार जिले के मुख्य अतिथि होंगे। इसी प्रकार कोरिया में सांसद ज्योत्सना महंत, बस्तर में सांसद दीपक बैज, बीजापुर में अध्यक्ष बस्तर विकास प्राधिकरण लखेश्वर बघेल, बलौदाबाजार-भाटापारा में अध्यक्ष मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण लालजीत सिंह राठिया,सूरजपुर में सरगुजा क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष खेलसाय सिंह, नारायणपुर में बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विक्रम मंडावी, सुकमा में बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष संतराम नेताम, मुंगेली में सरगुजा क्षेत्र विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष गुलाब कमरो, गरियाबंद में मध्यक्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण की उपाध्यक्ष डाॅ. लक्ष्मी ध्रुव, बेमेतरा में सरगुजा क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष बृहस्पत सिंह, महासमुंद में मध्यक्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष पुरूषोत्तम कवर, कोण्डागांव में विधायक धनेन्द्र साहू, बालोद में विधायक संगीता सिन्हा, दंतेवाड़ा में विधायक मनोज सिंह मण्डावी जिले के लिए मुख्य अतिथि होंगे।

 

11-08-2019
चालीहा महोत्सव में शामिल हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज भिलाई 3 स्थित पदुम नगर में आयोजित चालीहा महोत्सव में हिस्सा लिया। उन्होंने समाज के व्रतधारियों के साथ अखंड कीर्तन में हिस्सा लिया। चालीहा महोत्सव के दौरान सिंधी समाज के लोग 40 दिनों तक व्रत रखते हैं तथा निरंतर जाप का आयोजन होता है। मुख्यमंत्री ने समाज के सदस्यों को चालीहा महोत्सव की शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि कीर्तन के इस कार्यक्रम में आकर बहुत अच्छा लग रहा है। चालीहा महोत्सव के दौरान निरंतर जाप होता रहता है। ऐसे आध्यात्मिक माहौल से आत्मिक विकास का मार्ग प्रशस्त होता है।

 

11-08-2019
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की लोकवाणी सुनकर किसानों का बढ़ेगा मनोबल : सांसद छाया वर्मा

रायपुर। सांसद छाया वर्मा ने लोकवाणी को अच्छी पहल बताते हुए कहा कि आज की लोकवाणी सुनकर किसानों का मनोबल जरूर बढ़ा होगा। मुख्यमंत्री संचार के सबसे सशक्त और लोकप्रिय माध्यम रेडियों से जनता से संवाद कर रहे हैं। शासन की प्राथमिकताओं और योजनाओं के बारे में लोगों को बता रहे हैं। रेडियो पर जनता के सवालों के जवाब देकर वे न केवल उनकी जिज्ञासा शांत कर रहे हैं, बल्कि लोकतंत्र में जवाबदेह सरकार की भूमिका को भी रेखांकित कर रहे हैं। 
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने उन्नत व जैविक खेती, नरवा, गरवा, घुरवा, बारी के संरक्षण-संवर्धन और सरकार द्वारा किसानों को उपलब्ध कराई जा रही सुविधाओं के बारे में आज जो जानकारी दी है, उन्हें सुनकर किसान जरूर लाभान्वित होंगे। लोकवाणी में यह सुनकर कि कम बारिश के कारण किसान अपने को असहाय न समझे, सरकार हर परिस्थिति में उनके साथ खड़ी है, किसानों का मनोबल जरूर बढ़ा होगा।

लोकवाणी के पहले प्रसारण पर महापौर प्रमोद दुबे ने कहा कि मुख्यमंत्री इस कार्यक्रम के जरिए सरकार की योजनाओं को लक्षित लोगों तक पहुंचा रहे हैं, जिससे कि वे योजनाओं के बारे में पूरी तरह से वाकिफ हों और उनका पूरा लाभ ले सकें। यह सही मायनों में लोक के लिए वाणी है। पिछले सात महीनों में सरकार ने अनेक नई योजनाएं शुरू की हैं। उनमें से कुछ योजनाओं के बारे में आज मुख्यमंत्री ने विस्तार से जानकारी दी है। गांवों, ग्रामीणों, खेती और किसानों की मजबूती के लिए सरकार द्वारा जो गंभीर प्रयास किए जा रहे हैं, उसकी झलक लोकवाणी में भी दिखी है।

बता दें कि आकाशवाणी के सभी केन्द्रों और निजी एफएम चैनलों द्वारा रविवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मासिक रेडियो वार्ता लोकवाणी की पहली कड़ी का प्रसारण किया गया। राज्यसभा सांसद छाया वर्मा और रायपुर नगर निगम के महापौर प्रमोद दुबे ने तेलीबांधा तालाब स्थित मरीन ड्राइव में आम नागरिकों के साथ लोकवाणी सुना। रायपुर नगर निगम के आयुक्त शिव अनंत तायल, अपर कलेक्टर विनीत नंदनवार और लोक गायक दिलीप षड़ंगी ने भी यहां लोगों के साथ मुख्यमंत्री की रेडियोवार्ता सुनी। 

 

08-08-2019
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने महंत लक्ष्मीनारायण दास की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन किए

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल गुरुवार को महंत लक्ष्मीनारायण दास कॉलेज में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर आयोजित भाषण प्रतियोगिता के कार्यक्रम में शामिल हुए। राजीव गांधी स्टडी सर्किल और महंत कॉलेज द्वारा यह भाषण प्रतियोगिता 21वीं सदी में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सिद्धांतों की प्रासंगिकता विषय पर आयोजित की गई । कार्यक्रम में विधायक विकास उपाध्याय, रायपुर नगर निगम के महापौर प्रमोद दुबे ,पूर्व लोकसभा सांसद करुणा शुक्ला, पार्षद और एमआईसी के सदस्य एजाज देवर विशेष अतिथि के रूप में इस अवसर पर उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने महाविद्यालय के विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू और राजीव गांधी को याद किया और उनके सिद्धान्तों पर प्रकाश डाला।

 

07-08-2019
गोस्वामी तुलसीदास ने करोड़ों लोगों को दिखाया कल्याण का मार्ग : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि गोस्वामी तुलसीदास ने रामचरित मानस के माध्यम से करोड़ों लोगों को कल्याण का रास्ता दिखाया। मुख्यमंत्री बुधवार को दुर्ग जिले के ग्राम महुदा (विकासखंड-पाटन) में मानस संघ द्वारा आयोजित जिला स्तरीय तुलसीदास जयंती समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने गोस्वामी तुलसीदास का पुण्य स्मरण करते हुए कहा कि जब मैंने अमृतलाल नागर की पुस्तक मानस के राजहंस पढ़ी तो मुझे महसूस हुआ कि कितनी तकलीफों के बीच गोस्वामी तुलसीदास ने राम चरित मानस की रचना की। यह हमें गोस्वामी तुलसीदास की बड़ी देन है। जितना हम गोस्वामी तुलसीदास के जीवन को गहराई से समझेंगे, हम अपने लिए भी और लोक कल्याण के लिए भी मार्ग प्रशस्त करेंगे।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि कितने ही दिनों गोस्वामी जी ने बेघर और बिना खाये पीए गुजारे लेकिन लोक कल्याण के अपने प्रिय उद्देश्य को नहीं छोड़ा। मानस केवल आध्यात्मिक ग्रंथ ही नहीं एक उत्तम व्यवस्था का आदर्श भी हमारे सामने रखती है। छोटे-छोटे दोहों में कितनी सुंदर बातें कहीं गई हैं। मुखिया कैसा होना चाहिए। पुत्र के क्या कर्तव्य हैं। मित्र के क्या कर्तव्य हैं। हम इसे अपने आचरण में उतारे तो हमारा जीवन बहुत समृद्ध हो जाएगा। मुख्यमंत्री ने अपने बचपन के दिनों की यादों को भी साझा किया। उन्होंने बताया कि गांव में रात का खाना जल्दी खा लेते थे। फिर मानस गान शुरू होता था। फिर बुजुर्ग लोग इसकी टीका करते थे। वो जिज्ञासाएं भी पूछते इस तरह से श्रवण के साथ ही इसे आचरण के रूप में भी उतारने लोग संकल्पित होते थे। यह हमारे छत्तीसगढ़ की संस्कृति का हिस्सा था लेकिन इसमें कुछ कमजोरी आई है। मुझे छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध कवि मीर अली मीर की वो कविता याद आती है नंदा जाहि का रे। इसमें आशंका जताई गई है कि छत्तीसगढ़ की सुंदर सांस्कृतिक परंपराएं, लोक जीवन कहीं विलुप्त न हो जाये। हमने इन 6 महीनों में इसे सहेजने की विनम्र कोशिश की है। उन्होंने कहा कि इस बार हरेली में हम सब खूब गेड़ी चढ़े, खूब आनंद आया। हरेली पर अवकाश घोषित हुआ। तीजा में, कर्मा जयंती में, विश्व आदिवासी दिवस पर अवकाश घोषित किया गया। इसके साथ ही किसान भाइयों के लिए कर्ज माफी की गई। 2500 रुपये में धान खरीदी की गई। नरवा, गरुवा, घुरूवा, बाड़ी योजना के माध्यम से ग्रामीण विकास की सशक्त पहल की गई है। इसके सफल क्रियान्वयन के लिए आपकी सजग भागीदारी आवश्यक है। जितना बेहतर इसका क्रियान्वयन आप लोग करेंगे। उतना ही बेहतर ग्रामीण विकास होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जैविक खाद के उपयोग से न केवल फसल की लागत कम होगी अपितु ये सतत विकास के लिए भी बड़ा कदम होगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने मानस संघ से जुड़े विशिष्ट लोगों का सम्मान भी किया। इस अवसर पर ग्रामीण जन बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

 

03-08-2019
सच करेंगे सुविकसित, सुपोषित और स्वस्थ छत्तीसगढ़ का सपना : भूपेश बघेल

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि उनकी सरकार छत्तीसगढ़ को कुपोषण के चक्र से मुक्त कराकर सुविकसित, सुपोषित और स्वस्थ राज्य बनाने का सपना सच करने के लिये कटिबद्ध है। बघेल शनिवार को नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कुपोषण संगोष्ठी के उद्घाटन सत्र को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने यह भी कहा कि कुपोषण के खिलाफ लड़ाई में स्त्री-पुरुषों के बीच की गैर बराबरी एक बड़ी बाधा है। पोषण आहार के मामले में इस गैरबराबरी को भी दूर करना होगा। संगोष्ठी में बस्तर के सांसद दीपक बैज और राज्य सभा सदस्य छाया वर्मा भी उपस्थित थीं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें प्रसन्नता है कि जाति-धर्म जैसे समाज को बांटने वाले मुद्दों के बजाय हम सुपोषण पर चर्चा करने के लिये इक_ा हुए हैं। उन्होंने कहा कि आज हमें चांद से ज्यादा जरुरत अपनी धरती पर ही जीवन खोजने की है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ और देश में कुपोषण की स्थिति चिंताजनक है और हमने पिछले छह महीने में न्यूट्रीशन गैप को समाप्त करने के लिये कई कदम उठाये हैं । उन्होंने कहा कि हमारी महत्वाकांक्षी नरवा, गुरवा, घुरवा, बाड़ी योजना में बाड़ी अर्थात किचन गार्डन की बात इसीलिए की है ताकि लोगों को उनके घर में ही पौष्टिक भोजन मिले और कुपोषण को दूर करने का इंतजाम घर में ही हो सके। हमने हरेली के परंपरागत त्यौहार को सार्वजनिक अवकाश देकर उसे स्थानीय व्यंजनों से जोड़ा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान बाजार के अभाव में फल सब्जियों की खेती न छोड़ दें, इसलिए हमने हर ब्लाक में फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगाने की भी योजना बनाई है। उन्होंने कहा कि हम छत्तीसगढ़ में यूनिवर्सल स्वास्थ्य योजना लागू करने की दिशा में भी कार्य कर रहे हैं। किसानों को हमने कर्ज से मुक्त किया और उन्हें उपज का सही दाम भी दिया जिससे वे अपने परिवार के लिये पौष्टिक भोजन का भी इंतजाम कर सकें और उनकी आर्थिक सेहत भी सुधरे। हमने डीएमएफ को गैरजरूरी निर्माण के बजाय शिक्षा और सुपोषण से जोड़ा ।

मुख्यमंत्री ने बताया कि मिड डे मील में अंडा एक बड़ी जरूरत हैं, अंडे की पौष्टिकता निर्विवाद हैं, हमने इसे छत्तीसगढ़ में प्रारंभ किया और जनता का भरपूर साथ मिला। हमने उन बच्चों के लिये भी वैकल्पिक इंतजाम किये जो अंडा नहीं खाते हैं ।बघेल ने कहा कि कुपोषण के खिलाफ लड़ाई के कई आयाम हैं, अगर गैरबराबरी चुनौती हैं तो गरीबी, पौष्टिकता के ज्ञान  और राजनीतिक इरादों का अभाव भी बड़ी चुनौती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में हम कुपोषण के खिलाफ लड़ाई को अगले चरण में ले जा रहे हैं। हमारा लक्ष्य है कि हम भूख पर विजय पाएं और सुपोषित छत्तीसगढ़ का निर्माण करें और मुझे पूरा विश्वास है कि हम अपना लक्ष्य हासिल करेंगे। विज्ञान भवन में आयोजित इस संगोष्ठी में पोषण के क्षेत्र में कार्य करने वाली अनेक अंतराष्ट्रीय और राष्ट्रीय संस्थाओं के विशेषज्ञ उपस्थित थे ।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804