GLIBS
22-01-2021
सीएम भूपेश बघेल दिल्ली रवाना, कहा- राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए एक मात्र उम्मीदवार

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दिल्ली दौर पर रवाना हो गए हैं। इससे पहले उन्होंने मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ही कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए एक मात्र उम्मीदवार हैं। उन्हें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष पद स्वीकार लेना चाहिए।  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नई दिल्ली प्रवास के दौरान पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात करेंगे। बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 के बाद राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। उसके बाद वापस सोनिया गांधी ने अध्यक्ष पद पर कमान संभाली थी। कांग्रेस में लंबे वक्त से कयास लगाए जा रहे हैं कि राहुल की फिर अध्यक्ष पद पर ताजपोशी हो सकती है। हालांकि कई बार गांधी परिवार से अलग अध्यक्ष बनाने की आवाज भी पार्टी में उठी है। शुक्रवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में अध्यक्ष पद का चुनाव इसी साल मई में होने का ऐलान किया गया है। इस साल होने वाले विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस पार्टी संगठन का चुनाव करेगी, जिसमें अध्यक्ष पद का चुनाव सबसे अहम है।

 

22-01-2021
छत्तीसगढ़ की खुशबू और स्वाद दुनिया में फैलेगा कहा भूपेश बघेल ने, गोयल फूड के एक्सपोर्ट प्रोडक्ट को दिखाई हरी झंडी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के खाद्य प्रोसेसिंग उद्योग गोयल ग्रुप की ओर से निर्मित फ्रोजन फूड प्रोडक्ट ‘‘गोल्ड‘‘ की विदेश में जाने वाली पहली कन्साइनमेंट को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।  इस अवसर पर मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि यह अत्यंत हर्ष की बात है कि छत्तीसगढ़ का स्वाद अब विदेश में भी चखा जाएगा। राज्य के बाहर देश-विदेश में भी  छत्तीसगढ़ की माटी की सौंधी महक और स्वाद का जादू और अधिक छाएगा। उन्होंने कहा कि इसकी शुरुआत ठीक छः महीने पूर्व कोरोना संकटकाल में हुई थी और इतने कम समय में एक नया उत्पाद छत्तीसगढ़ से देश के बाहर न्यूजीलैंड भेजा जा रहा है, मैं इसके लिए गोयल ग्रुप ऑफ कंपनी को शुभकामनाएं देता हूँ । इससे छत्तीसगढ़ का नाम देश और विदेश में और अधिक रौशन होगा, यह हमारे लिए गर्व की बात है।

मुख्यमंत्री बघेल ने इस अवसर पर कम्पनी के चेयरमैन सुरेश गोयल सहित ग्रुप से जुड़े सभी लोगों को शुभकामनाएं दी। गोयल समूह के मैनेजिंग डायरेक्टर राजेन्द्र गोयल ने बताया कि मुख्यमंत्री बघेल के हाथों 9 जून को छत्तीसगढ़ की पहली फ्रोजन फूड इकाई का शुभारंभ किया गया। कोरोना संकट के दौर में प्रारंभ हुये इस इकाई ने हजारों लोगों को रोजगार दिया है, जिसमें लगभग 60 प्रतिशत महिलाएं हैं। उन्होंने बताया कि बहुत जल्द छत्तीसगढ़ की माटी की महक लिए गोल्ड की यह फ्रोजन फूड रेंज अमेरिका, कैनेडा, मालदीव, रशिया, मॉरिशस समेत मिडिल ईस्ट के बाजारों में भी अपनी पहचान बनाएगा। इस उत्पाद को  FSSAI, USFDA, HALAL, FSSC 20-2000, BRCGS जैसे राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों से लायसेंस प्राप्त होने के साथ ही फूड ऑडिट, क्वालिटी और सेफ्टी स्टैंडर्ड को भी ए-ग्रेड मिला है ।

20-01-2021
शहीद गैंदसिंह का बलिदान अविस्मरणीयः भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल छुरिया विकासखंड के ग्राम गोड़लवाही में अखिल भारतीय हलबा-हलबी आदिवासी समाज महासभा बालोद द्वारा आयोजित शहीद शिरोमणि गैंदसिंह की श्रद्धांजलि समारोह में शामिल हुए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शहीद गैंदसिंह को नमन करते हुए श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि शहीद गैंदसिंह ने 1824 ईसवी में परलकोट में अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह किया और 20 जनवरी 1825 को अंग्रेजों से लड़ते हुए शहीद हुए। मुख्यमंत्री ने शहीद गैंदसिंह के बलिदान को अक्षुण्य रखने के लिए राजनांदगांव में प्रतिमा स्थापित करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे पुरखों के बलिदान को आने वाली पीढ़ी को बताना होगा। छŸासगढ़ की प्राचीन परम्परा और संस्कृति को अक्षुण्य रखने के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। आदिवासी परम्परा एवं संस्कृति के संरक्षण के लिए नवा रायपुर में 10 एकड़ भूमि में संग्रहालय एवं शोधपीठ का निर्माण किया जाएगा। वहीं देवगुड़ी एवं घोटुल के संरक्षण के लिए भी कार्य किये जा रहे हैं। हरेली, करमा, तीजा, विश्व आदिवासी दिवस, भक्त माता कर्मा जयंती के लिए अवकाश घोषित किया गया है, ताकि हमारी पहचान बरकरार रहे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस अवसर पर गोड़लवाही में आश्रम, छात्रावास एवं स्कूल के निर्माण करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य में कोदो-कुटकी का भी समर्थन मूल्य घोषित किए जाने का निर्णय लिया गया है, इससे राजनांदगांव सहित आदिवासी अंचल के किसान बड़े पैमाने पर कोदो-कुटकी की खेती करते हैं उन्हें इसका लाभ होगा। उन्होंने कहा कि वनांचल के लोगों की माली हालत बेहतर बने इसके लिए इमारती वृक्षों की जगह फलदार वृक्षों के रोपण कराया जा रहा है, ताकि आम, आंवला, ईमली, चिरौंजी, हर्रा-बहर्रा आदि का व्यापक पैमाने पर उत्पादन हो। जिससे वनों के आस-पास रहने वाले लोगों को इसका लाभ मिले। लघु वनोपज से वैल्यूएडिशन का काम भी शुरू कर रहे हैं, ताकि हमारे वनोपज संग्राहकों को ज्यादा लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में 30 रूपए समर्थन मूल्य में महुए की खरीदी करने से वनवासियों को आर्थिक रूप से संबल मिला। कार्यक्रम में संसदीय सचिव कुंवर सिंह निषाद, अध्यक्ष पिछड़ा वर्ग विकास प्राधिकरण दलेश्वर साहू, अध्यक्ष जिला पंचायत गीता साहू, महापौर हेमा देशमुख, अन्य जनप्रतिनिधि एवं कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा एवं पुलिस अधीक्षक डी. श्रवण उपस्थित थे।

 

 

20-01-2021
बदल रही तकदीर किसानों की,बस्तर के भैंसगांव के किसान महादेव भी हुए मालामाल भूपेश बघेल है तो सब सम्भव है

जगदलपुर/ रायपुर। राज्य में सत्ता संभालने के बाद से भूपेश बघेल सरकार किसानों के उत्थान के लिए और आर्थिक उन्नति के लिए लगातार प्रयास करते आ रही है। उसकी योजनाओं का  किसान भरपूर लाभ उठा रहे हैं जिसके परिणाम अब सामने आते जा रहे हैं। ऐसे ही एक किसान हैं बस्तर जिले के बस्तर विकासखंड के गांव भैंसगांव के महादेव। वे 19 सालो से परंपरागत वर्षा आधारित खेती कर रहे थे। महादेव को कृषि विभाग के मैदानी अधिकारियों ने संपर्क कर समय-समय पर तकनीकी सलाह दी। महादेव ने उन तकनीकी सलाह का पालन किया। वैज्ञानिक  तरीके से खेती की ओर भरपूर उत्पादन भी लिया। अब महादेव को कम कम लागत में अधिकतम लाभ मिल रहा है। महादेव ने कृषि विभाग द्वारा संचालित किसान समृद्धि योजना के अनुदान पर नलकूप भी खुदवाया है। 2019 में 1 एकड़ में महादेव ने धान की खेती की और उस पर उसे 120000 की शुद्ध आय प्राप्त हुई, महादेव बेहद खुश है।महादेव ने इस साल कतार पद्धति से धान लगाया था जिसमें उसे 180000  की शुद्ध आय प्राप्त हुई। महादेव वर्तमान में 2 एकड़ में मटर गोभी और अन्य सब्जियों की फसल ले रहा है। जिससे उसे अतिरिक्त आय की प्राप्ति होगी। महादेव ने गोधन न्याय योजना के तहत 20 क्विंटल गोबर भी बेचा।कुल मिलाकर देखा जाए तो महादेव की जिंदगी अब खुशहाल नजर आ रही है। उसकी तकदीर बदलती नजर आ रही है। और वह कह रहा है कि ये भूपेश बघेल की सरकार है भूपेश है तो सब संभव है।

 

20-01-2021
मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना का गरियाबंद के 14 हाट बाजारों में हजारों आदिवासियों ग्रामीणों ने लाभ उठाया

गरियाबंद/रायपुर। पूरे प्रदेश में दूरस्थ दुर्गम और पहुंच विहीन इलाकों में रहने वालों को स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सके इसलिए भूपेश बघेल ने हाट बाजार क्लीनिक योजना की शुरुआत की थी। मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना को हर क्षेत्र में अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है और गरियाबंद के भी दुर्गम दुरूह और पहुंच विहीन इलाको में भी इसका फायदा लोगों ने उठाया है। गरियाबंद जिले में 14 हाट बाजार चिन्हित किए गए थे। इसमें छुरा विकासखंड में नागझर,फूलझर गाड़ाघाट चुरकीदादर बीजापाल और गरियाबंद विकासखंड में पोटिया,ओड़, रावणडिग्गी,आमदी व मैनपुर विकासखंड में भूतबेड़ा, जुगाड़, कोकड़ी, गरीबा, चिखली में हाट बाजार क्लीनिक का संचालन हो रहा है। कोविड से पहले जिले में 45669 मरीजों की जांच कर उन 39122 मरीजों को दवाइयां दी गई थी। और अभी भी यह सिलसिला जारी है। दुर्गम दुरूह क्षेत्र के आदिवासी ग्रामीण हाट बाजार पहुंचकर अपनी खरीदारी तो करते ही हैं साथ ही वे हाट बाजार क्लीनिक का फायदा उठाने से नहीं चूक रहे हैं। ये भूपेश बघेल सरकार है कहने वाली नहीं करके दिखाने वाली सरकार है।

20-01-2021
एमएसपी पर धान बेचने वाले नेता कर रहे आंदोलन : भूपेश बघेल

रायपुर। धान खरीदी मुद्दे पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बीजेपी के आंदोलन पर निशाना साधा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि बीजेपी नेता पुरंदेश्वरी को खुश करने के लिए आंदोलन कर रहे हैं। बता दें कि डी.पुरंदेश्वरी छत्तीसगढ़ में बीजेपी की प्रभारी नेता हैं। भूपेश बघेल ने आगे कहा कि केंद्रीय मंत्री कहते हैं कि निजी मंडी में फसल बेचने से आय बढ़ेगी, ऐसे में छत्तीसगढ़ के बीजेपी नेता केंद्र के कानून के पक्ष में नहीं हैं, इसलिए एमएसपी पर धान बेच रहे हैं। सीएम भूपेश बघेल ने भाजपा नेताओं के आंदोलन पर कहा कि धान बेचने वाले भाजपा नेता आंदोलन कर रहे हैं, भाजपा नेता नैतिकता के आधार पर आंदोलन न करें। 

19-01-2021
भूपेश बघेल ने अमर शहीद गैंदसिंह के शहादत दिवस पर उन्हें नमन किया

=रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने देश की आजादी के लिए बलिदान देने वाले अमर शहीद गैंदसिंह को उनके शहादत दिवस 20 जनवरी पर नमन किया है। छत्तीसगढ़ के इस महान सपूत को 20 जनवरी सन् 1825 को परलकोट के महल के सामने फांसी दी गई थी। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि शहीद गैंदसिंह ने अंग्रेजों के शोषण के विरूद्ध आवाज उठाई और बस्तर के आदिवासियों के अधिकारों के लिए संघर्ष किया। बस्तर के अबूझमाड़ में क्रांति की मशाल जलाने वाले शहीद गैंदसिंह को उनकी पुण्यतिथि पर गर्व और सम्मान के साथ याद किया जाता है। ऐसे वीर सपूत को छत्तीसगढ़ और पूरा देश नमन करता है। उनका बलिदान युगों तक याद किया जाएगा।

 

19-01-2021
भूपेश बघेल 20 जनवरी को रायपुर, बालोद और राजनांदगांव जिले के कार्यक्रमों में होंगे शामिल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 20 जनवरी को राजधानी रायपुर, बालोद और राजनांदगांव जिले में आयोजित कार्यक्रमों में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री बघेल पूर्वान्ह 11.30 बजे अपने निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में खाद्य प्रौद्योगिकी महाविद्यालय रायपुर सहित 5 उद्यानिकी महाविद्यालयों साजा (बेमेतरा जिला), अर्जुन्दा (बालोद जिला), धमतरी, जशपुर और लोरमी (मुंगेली जिला) और नवीन कृषि विज्ञान केन्द्र कोण्डागांव का शुभारंभ करेंगे। बघेल इस अवसर पर प्रदेश के कृषि महाविद्यालयों, कृषि विज्ञान केन्द्रों और नवीन कृषि महाविद्यालयों में 109 करोड़ 77 लाख रूपए की लागत के अधोसंरचना विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास करेंगे। मुख्यमंत्री इनमें से 46 करोड़ 67 लाख रूपए की लागत के कार्यों का लोकार्पण और 63 करोड़ 10 लाख रूपए की लागत के कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास करेंगे।

इन कार्यों में कृषि महाविद्यालयों के भवन, बालक-बालिका छात्रावास, अनुसंधान केन्द्र, हाइटेक नर्सरी, सीड प्रोसेसिंग भवन, हैचरी, कृषि विज्ञान केन्द्रों में प्रशासनिक भवन और कृषक छात्रावास निर्माण के कार्य शामिल हैं। बघेल इस अवसर पर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा तैयार किए गए डिजिटल कृषि पंचांग और कृषि दर्शिका-2021 का विमोचन भी करेंगे।  बघेल रायपुर से दोपहर 1.15 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा रवाना होकर 1.40 बजे बालोद जिले के डौंडी विकासखण्ड स्थित ग्राम ठेमाबुजुर्ग पहुचेंगे और वहां गैंदसिंह शहादत दिवस तथा अखिल भारतीय हल्बा-हल्बी आदिवासी समाज महासभा के कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री 3.25 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा राजनांदगांव जिले के छुरिया विकासखण्ड के ग्राम गोडलवाही पहुंचेंगे और वहां अखिल भारतीय हल्बा-हल्बी आदिवासी समाज महासभा के कार्यक्रम में शामिल होंगे। बघेल शाम 5.15 बजे रायपुर लौटेंगे।

 

 

19-01-2021
देश और विदेश में पसंदीदा निवेश स्थल के रूप में पहचान बना रहा है छत्तीसगढ़ः भूपेश बघेल

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने असम प्रवास के दौरान  गुवाहाटी में छत्तीसगढ़ में विनिर्माण और संबद्ध क्षेत्रों में पूंजी निवेश को बढ़ावा देने के लिए उत्तर पूर्व क्षेत्र के विभिन्न औद्योगिक संगठनों और उद्योगों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ की नई उद्योग और व्यापार अनुकूल नीतियों के कारण राज्य की अर्थव्यवस्था कृषि, लोहा, इस्पात, सीमेंट और थर्मल पावर जैसे संपन्न कोर सेक्टर उद्योगों और छोटे और मध्यम श्रेणी के उद्योगों के प्रारंभ होने के कारण काफी बढ़ी है। पीएचडी चौम्बर ऑफ कॉमर्स के प्रतिनिधियों ने उत्तर पूर्व क्षेत्र के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, छम्त्।ड।ब् (उत्तर पूर्वी क्षेत्रीय कृषि विपणन कॉर्पोरेशन) मनोज कुमार दास और उप निदेशक, पीएचडी चौम्बर उत्तर पूर्व क्षेत्र एसके हजारिका के नेतृत्व में मुख्यमंत्री बघेल से मुलाकात की और छत्तीसगढ़ में पूंजी निवेश की संभावनाओं पर विचार-विमर्श किया। मुलाकात के दौरान आईआईएम कलकत्ता इनोवेशन पार्क इनक्यूबेटर के मुख्य परिचालन अधिकारी  प्रांजल कोंवर बताया कि वे पहले से ही 36 आईएनसी (छत्तीसगढ़ राज्य इनक्यूबेटर) के साथ काम कर रहे हैं। ग्रीन वैली राइस टेक प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक आशीष कुमार बजाज ने भी कई क्षेत्रों में छत्तीसगढ़ में निवेश करने में अपनी रुचि दिखाई। भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के प्रतिनिधियों ने उत्तर पूर्व परिषद के सह अध्यक्ष अभिजीत बरूआ और सीआईआई के निदेशक शांता सरमा के नेतृत्व में मुख्यमंत्री से मुलाकात की।

इस दौरान मुख्यमंत्री बघेल ने छत्तीसगढ़ में उद्योग और व्यापार को बढ़ावा देने की राज्य सरकार की नीति और पूंजी निवेश आकर्षित करने के लिए भविष्य की योजना पर प्रकाश डाला। फेडरेशन ऑफ इंडस्ट्री एण्ड कॉमर्स और नॉर्थ ईस्टर्न रीजन के निदेशक बिस्वजीत हजारिका, भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) के प्रतिनिधि और बीएमजी इन्फॉरमेटिक्स के सह-संस्थापक जॉयदीप गुप्ता और मोनोजीत भट्टाचार्जी ने भी गुवाहाटी में मुख्यमंत्री से मुलाकात की। बघेल ने सभी प्रतिनिधियों के साथ विस्तार से चर्चा की। उन्होंने छत्तीसगढ़ की क्षमताओं, संसाधनों और संभावनाओं पर प्रकाश डाला। बघेल ने अपने संबोधन के दौरान छत्तीसगढ़ नई औद्योगिक नीति 2019-24 की प्रमुख विशेषताओं के बारे में बताया, जो समावेशी आर्थिक विकास पर केंद्रित है। बघेल ने राज्य में निवेश के प्राथमिकता वाले क्षेत्रों जैसे कि खाद्य प्रसंस्करण, इथेनॉल, रत्न और आभूषण, लघु वनोपज आदि के बारे में प्रकाश डाला। उन्होंने छत्तीसगढ़ की भूमि दरों और पट्टे के किराए में राज्य सरकार द्वारा दी गई रियायतों के बारे में भी जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ ने पिछले दो सालों में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए कई प्रगतिशील कदम उठाए हैं, जिससे भारत में सबसे पसंदीदा निवेश स्थलों के रूप में छत्तीसगढ़ भी उभरा है। बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के प्राकृतिक संसाधनों में वेल्यू एडीशन और विभिन्न प्रकार के उद्योगों के प्रारंभ होने से विकास की नई संभावनाएं निर्मित हुई है। उद्योग और व्यापार जगत में नवाचार और प्रौद्योगिकी के बढ़ते उपयोग से छत्तीसगढ़ ने भारत में पसंदीदा व्यावसायिक स्थल के रूप में विशेष पहचान बनाई है। सीएम बघेल ने निवेशकों को यह भी बताया कि छत्तीसगढ़ में अनुकूल कारोबारी माहौल है। उन्होने निवेशकों को छत्तीसगढ़ आने और राज्य में व्यापार के अवसरों का पता लगाने के लिए आमंत्रित किया।

 

18-01-2021
भूपेश बघेल पहुंचे कामाख्या मंदिर,छत्तीसगढ़ की खुशहाली और असम में कांग्रेस का परचम लहराने की पूजा

रायपुर गुवाहटी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दो दिवसीय असम दौरे पर हैं। वे सोमवार दोपहर गुवाहाटी पहुंचने के बाद एयरपोर्ट से सीधे विश्व प्रसिद्ध मां कामाख्या मंदिर दर्शन करने पहुंचे। उन्होंने मां कामाख्या का दर्शन कर छत्तीसगढ़ की खुशहाली के लिए कामना की। साथ ही  असम चुनाव में कांग्रेस का परचम लहराने का आशीर्वाद लिया। मुख्यमंत्री के साथ असम के प्रभारी सचिव व भूपेश सरकार में संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, असम कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन वोरा, सांसद प्रद्युत बोरदोलोई, रायपुर से साथ आए रामगोपाल अग्रवाल,विजय भाटिया,महाराष्ट्र से राष्ट्रीय सचिव व असम प्रभारी पृथ्वीराज साठे सहित असम प्रदेश कांग्रेस के कई नेता मौजूद थे।

17-01-2021
छत्तीसगढ़ मनवा कुर्मी क्षत्रिय समाज के सम्मेलन में शामिल हुए भूपेश बघेल,कॉलेज और सामुदायिक भवन निर्माण की दी मंजूरी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रविवार को बलौदाबाजार जिले के ग्राम वटगन में पलारी राज छत्तीसगढ़ मनवा कुर्मी क्षत्रिय समाज के 75वें राजअधिवेशन में शामिल हुए। उन्होंने समाज के पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित कर सम्मेलन का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री बघेल ने ग्राम वटगन में संचालित शासकीय महाविद्यालय के भवन निर्माण और कुर्मी समाज के सामुदायिक भवन बनाने के लिए 35 लाख रुपए की स्वीकृति की घोषणा की है। उन्होंने प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को समाज की ओर से सम्मानित भी किया। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि भारत सरकार की अनुमति से ही राज्य सरकारें धान खरीदी का कार्य करती हैं। केन्द्र सरकार से फिलहाल केवल 24 लाख मीटरिक टन चावल लेने की अनुमति मिली है। जबकि 60 लाख मीटरिक टन चावल लिया जाना प्रस्तावित किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि टीका आने के बाद कोरोना बीमारी से अंतिम लड़ाई की शुरूआत हो चुकी है। फरवरी महीने के अंत तक आम जनता को टीके लगने शुरू हो जाने की संभावना जताई गई है। फिर भी इस जानलेवा बीमारी से बचाव के लिए घोषित उपायों का पालन करते रहना जरूरी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2 रुपए किलो पर गोबर खरीदी का कार्य केवल छत्तीसगढ़ में हो रहा है। देश और दुनिया में कहीं पर भी गोबर खरीदी नहीं होती हैं। लोग इसे अजूबा समझ कर प्रक्रिया को समझने छत्तीसगढ़ पहुंच रहे हैं। समारोह को सांसद छाया वर्मा ने भी सम्बोधित किया। कुर्मी क्षत्रिय समाज के केन्द्रीय अध्यक्ष डॉ. रामकुमार सिरमौर ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने कहा कि ग्राम विकास और स्वराज के महात्मा गांधी के सपने को मुख्यमंत्री श्री बघेल आगे बढ़ा रहे हैं। सम्मेलन की अध्यक्षता कुर्मी समाज के केन्द्रीय अध्यक्ष डॉ. रामकुमार सिरमौर ने की। इस दौरान राज्यसभा सांसद छाया वर्मा, संसदीय सचिव शकुंतला साहू, जिला पंचायत अध्यक्ष राकेश वर्मा, छत्तीसगढ़ राज्य कृषक कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुरेन्द्र शर्मा और छत्तीसगढ़ राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरिश देवांगन, पूर्व विधायक जनकराम वर्मा विशेष रूप से उपस्थित थे। कलेक्टर सुनील कुमार जैन,एसपी आईके एलेसेला सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण और कुर्मी समाज के राजप्रधान और पदाधिकारी उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804