GLIBS
02-04-2020
पीएम नरेन्द्र मोदी की भूपेश बघेल से वीडियो कान्फ्रेंसिंग में चर्चा, प्रदेश के हालात की ली जानकारी

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना से बचाव के लिए लागू लॉक डाउन के संबंध में वीडियो कान्फ्रेंसिंग कर सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात की। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ आयोजित वीडियो कान्फ्रेंस में शामिल हुआ, जिसमें प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना से बचाव के लिए लागू लॉक डाउन के संबंध में जानकारी ली। भूपेश बघेल ने बताया कि इस दौरान उन्होंने छत्तीसगढ़ में कोरोना के बचाव और नियंत्रण की ताजा स्थिति और लॉक डाउन के दौरान आम जनता और जरूरतमंद लोगों को राहत देने के उपायों की विस्तृत जानकारी दी। मुख्य सचिव आरपी मंडल, पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, स्वास्थ्य विभाग की सचिव निहारिका बारिक सिंह इस अवसर पर उपस्थित थे।

01-04-2020
भूपेश बघेल ने राज्य के मेहमानों का जाना हाल, सुविधाओं को लिया जायजा, जानिए कैसी रही अतिथियों से मुलाकात...

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को राजधानी के लाभांडी में लॉकडाउन के दौरान जरुरतमंद और बेसहारा लोगों के लिए बनाए गए आश्रय स्थल का जायजा लिया। सारी व्यवस्थाओं की जानकारी ली। आश्रय स्थल पर रूके लोगों से मुख्यमंत्री बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में इस वक्त रूका हुआ बाहर का कोई भी व्यक्ति हमारा मेहमान है। किसी को परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है। सभी आवश्यकताओं की पूर्ति हम करेंगे। बता दें कि लॉक डाउन की स्थिति में देश के विभिन्न हिस्सों के जो लोग रायपुर में फंसे हैं, उनके लिए जिला प्रशासन ने लाभांडी में कोरोना राहत शिविर-आश्रय स्थल बनाया है । इस शिविर में 12 राज्यों और 17 जिलों के भटक रहे 205 लोगों को आश्रय, भोजन और सुविधा दी गई है।
 
मेहमानों ने सीएम को बताई आपबीती :

मुख्यमंत्री ने बुधवार को एक-एक व्यक्ति से मुलाकात की। सभी को भरोसा दिलाया कि उन्हें किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी। वे निश्चिंता से रहें और अपने घर -परिवार को भी अपनी कुशलता की जानकारी दें। मुख्यमंत्री से बातचीत के दौरान झारखंड के बलदेव राणा ने बताया कि वे और उनके साथी महाराष्ट्र से लौट रहे थे। उत्तर प्रदेश के देवरिया के रामनाथ शर्मा नौकरी की तलाश में छत्तीसगढ में भटक रहे थे। मध्यप्रदेश के पिपरिया के साधु रामदास त्यागी राजिम मेला के बाद से यहां थे। महाराष्ट्र के गौतम मजदूरी कर रहे थे। गोंदिया के श्रीकांत ट्रासपोर्ट लाइन में होने के कारण यहां फंसे थे और हरियाणा के रामू परिवार की दो महिलाओं और दो बच्चों के साथ यहां पेशी में आए थे। आश्रय प्राप्त सभी ने मुख्यमंत्री को भोजन, चिकित्सा, रूकने सहित जरूरी सुविधाएं के लिए धन्यवाद दिया।


 


मुख्यमंत्री ने अन्य राज्यों के सीएम से भी की बात :  

मुख्यमंत्री बघेल ने बताया कि उन्होंने झारखंड सहित विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की है। आश्वस्त किया कि उनके राज्यों के लोग छत्तीसगढ़ में अच्छे से रहेंगे। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ के मजदूरों और नागरिकों के भी उनके राज्यों मे फंसे होने की स्थिति में हर संभव सहयोग देने का आग्रह भी किया है। यह भी कहा कि ऐसे ही आश्रय शिविर राज्य के सभी जिलों में बनाए गए हैं। मुख्यमंत्री के मुलाकात और अवलोकन के दौरान जिले के वरिष्ठ अधिकारी ,स्वयंसेवी संगठन के लोग और स्थानीय पार्षद भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने उन्हें इस नेक और मानवता के काम में दिन-रात लगकर सेवा करने के लिए साधुवाद दिया। किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की। रूके नागरिकों मे सबसे अधिक नागरिक मध्यप्रदेश के 27 और झारखंड के 19 हैं। जिले मे सबसे अधिक बलौदाबाजार के 18 और दुर्ग के 13 है। छत्तीसगढ़ के 121 और रायपुर जिले के 40 हैं।

01-04-2020
भूपेश बघेल ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, कहा- केन्द्रीय वित्तमंत्री की घोषणा सराहनीय लेकिन श्रमिक वर्ग अब भी वंचित...

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर 26 मार्च को केन्द्रीय वित्तमंत्री की ओर से आमजन को सहायता पहुंचाने के लिए की गयी घोषणाओं की सराहना की है। इसके साथ ही भूपेश बघेल ने कुछ सुझाव भी दिए हैं। उन्होंने कहा कि इससे समाज के बड़े तबके को राहत मिली है। केन्द्र सरकार की सकारात्मक पहल को निरंतर जारी रखने की आवश्यकता है, क्योंकि अभी भी समाज का एक बड़ा वर्ग उन घोषणाओं से लाभ प्राप्त करने में अभी भी वंचित है। विशेष तौर पर मनरेगा योजना के तहत आने वाले भूमिहीन मजदूर और असंगठित क्षेत्र के कामगार, वर्तमान परिस्थितियों में इनका जीवन-यापन दूभर होना तय है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दिए सुझाव :
उन्होंने कहा कि इन घोषणाओं के संदर्भ में मेरे कुछ सुझाव हैं जैसे मनरेगा और असंगठित क्षेत्र के कामगारों को आगामी तीन माह तक प्रतिमाह एक हजार की राशि उनके खातों में अंतरित की जाए। सभी जन-धन खाता धारकों को 750 रुपए प्रतिमाह की राशि आगामी 3 माह तक उनके खातों में अंतरित की जाए। इसमें महिला, पुरूष, जीरो बैलेन्स अथवा अप्रचलित खाते सभी शामिल हो।संगठित क्षेत्र के कामगार जो 15 हजार रुपए प्रतिमाह से कम कमाते हैं की भविष्य निधि की तीन माह की सम्पूर्ण राशि बिना शर्त केन्द्र सरकार दे। यदि उपरोक्त सुझाव के अनुरूप स्वीकृति दी जाती है तभी हम कोरोना के खिलाफ छेड़ी गयी जंग जीतने में सफल हो सकते है अन्यथा लाखों परिवारों के लिए जीवन का संकट उत्पन्न होना निश्चित है।मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में लिखा है कि छत्तीसगढ़ में 21 मार्च से कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन किया गया है। जिससे राज्य में कोरोना पीड़ितों की संख्या सीमित रखने में सहायता मिली है। एम्स रायपुर का अमला और राज्य शासन के सभी अधिकारी आपदा के इस समय में आम जनता को सभी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने के लिए पूरी मुस्तैदी के साथ मोर्चा सम्हाले हुए है।

01-04-2020
भूपेश बघेल ने दी दुर्गाष्टमी की बधाई, कहा-सबके आरोग्य के लिए करें प्रार्थना

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नवरात्रि पर्व पर दुर्गाष्टमी की बधाई दी है। उन्होंने सभी को घर पर रहकर सभी के स्वस्थ्य के लिए प्रार्थना करने कहा है। भूपेश बघेल ने ट्वीट कर कहा कि सभी प्रदेशवासियों को नवरात्रि के पावन पर्व दुर्गाष्टमी की बधाई और ढेरों शुभकामनाएं। माँ दुर्गा हम सभी को बल, बुद्धि, सुख, शांति, समृद्धि, सम्पन्नता एवं बुराई के खिलाफ लड़ने की शक्ति प्रदान करें। हम सब लोग अपने घर पर रहकर ही मां दुर्गा से सबके आरोग्य के लिए प्रार्थना करें।

31-03-2020
तेजप्रताप ने भूपेश बघेल से मांगी बिहार में फंसे मजदूरों के लिए मदद, सीएम ने कहा बेफिक्र रहें

रायपुर। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने रायगढ़ एनटीपीसी में फंसे मजदूरों के लिए सहायता मांगी है। बघेल ने तेज प्रताप को आश्वस्त किया है कि वे बेफिक्र रहें और कहा है कि उनकी अधिकारियों से बात हो गई है। दिक्कत की कोई बात नहीं है। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में दूसरे प्रदेशों के मजदूर और काम करने वाले फंसे हुए हैं। सरकार की तरफ से उनका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। सीएम बघेल ने प्रदेश में फंसे एवं दूसरे प्रदेशों में फंसे छत्तीसगढ़ के मजदूरों को भी जहां हैं वहीं रहने के निर्देश दिए हैं।

30-03-2020
भूपेश बघेल ने महापौरों से व्यवस्थाओं की ली जानकारी, लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराने सहित दिए जरुरी दिशा निर्देश....

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने फोन पर प्रदेश के नगर निगमों के महापौरों से नगरीय क्षेत्रों में लॉकडाउन के दौरान किए जा रहे कार्यों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का कड़ाई से पालन हो और साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने नगर निगम चरौदा की महापौर चंद्रकला मांडले, दुर्ग के धीरज बाकलीवाल, अंबिकापुर के डॉ. अजय तिर्की, रायगढ़ के जानकी काटजू, चिरमिरी के कंचन जायसवाल, कोरबा के राजकिशोर प्रसाद, बिलासपुर के रामशरण यादव, बिरगांव की अंबिका यादव और धमतरी के महापौर विजय देवांगन से चर्चा की।मुख्यमंत्री ने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में लॉक डाउन का कडाई से पालन किया जाए। नगरीय क्षेत्रों में आवश्वक सेवाएं सतत रूप से बनी रहे। इस दौरान साफ-सफाई और स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें। समय-समय पर आवश्यक सेवाओं से जुड़े कार्यालयों को सेनेटाइज्ड किया जाए।

आवश्यक सेवाओं की आपर्ति के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाए। गरीब परिवारों को लॉक डाउन के दौरान किसी प्रकार की दिक्कत न हो। उन्हें राशन आदि समय पर मिले।मुख्यमंत्री ने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में पानी, बिजली और सफाई से जुड़े कर्मचारी 24 घंटे उपलब्ध रहें। नगरीय क्षेत्रों में कंट्रोल रूम भी नियमित रूप से कार्यरत रहें। असहाय और जरूरत मंदों को राशन की दिक्कत नहीं होनी चाहिए। राशन और किराना दुकान, मेडिकल, सब्जी और दूध आदि की दुकाने तय समय सीमा तक खुले। गरीब और जरूरत मंदों की सहायता के लिए स्वंय सेवी संगठनों की मदद ली जाए। नगरीय क्षेत्रों में अस्पतालों में चिकित्सक और स्टाफ की उपस्थिति देख ली जाए। अस्पतालों में जरूरी सुविधाओं और साफ-सफाई सुनिश्चित की जाए। राशन के लिए घर पहुंच सेवाएं संचालित की जाए।

 

30-03-2020
लॉक डाउन में जरुरी वस्तुओं के दाम जानने निकले भूपेश बघेल,खाद्यान्न आपूर्ति कंट्रोल रूम का भी लिया जायजा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोमवार को राजधानी के विभिन्न इलाकों में पहुंचे। उन्होंने लॉकडाउन  के दौरान जरुरी वस्तुओं, खाद्यान्न और सब्जियों की उपलब्धता और दाम की जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने रावणभाटा इलाके के सब्जी विक्रेताओं और खरीददारों से बातचीत की। उनसे सब्जी के दाम और विक्रय की जानकारी ली। इसके बाद मुख्यमंत्री बूढातालाब के पास इंडोर स्टेडियम पहुंचे। यहां जरुरतमंदोें के लिए खाद्यान्न आपूर्ति के लिए 24 घंटे सेवा दे रहे कंट्रोल रूम और फूड सप्लाई सेल का जायजा लिया। सेल की व्यवस्थाओं और सेवा में जुटे करीब 140 स्वयंसेवी संगठन और 5 हजार वालेंटियर्स के कार्य को मुख्यमंत्री ने सराहा।मुख्यमंत्री ने अंतर्राज्यीय बस स्टैंड परिसर के सब्जी बाजार में विक्रेताओं से बातचीत की। उन्होने खरीददारों और विक्रेताओं से सब्जियों के दाम जाने। सब्जी विक्रेताओं ने कहा कि साइंस कॉलेज मैदान में थोक मार्केट लगा है। वहां से सब्जियां लाकर बेचते हैं। मंडी में आलू, प्याज करीब 30 रुपए किलो है और सब्जियों के दाम भी कम हो गए हैं। उल्लेखनीय है कि रायपुर के टिकरापारा, संतोषी नगर,नंदी चौक और भांटागांव के अव्यवस्थित और भीड़-भाड़ वाले बाजारों को बंद कर नया अंतर्राज्यीय बस स्टैंड परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन कर बाजार लगाया गया है।

इसी तरह इंडोर स्टेडियम में बने कंट्रोल रूम के अधिकारियों- कर्मचारियों ने सीएम को बताया कि सूचना मिलते ही भोजन आदि की व्यवस्थाएं की जा रही है। दानदाताओं से मिल रही राशन सामग्री के किट भी तैयार किए जा रहे हैं,जिन्हें जरुरतमंद लोगों और श्रमिकों को वितरित किया जाएगा। राष्ट्रीय आजीविका मिशन के अंतर्गत सेल्फ हेल्प ग्रुप की ओर से मास्क तैयार किए जा रहे है। इन्हें भी वितरित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मंगलवार से राशन दुकानों से 2 माह के चावल का वितरण शुरू कर दिया जाएगा।मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ से बाहर गए श्रमिकों से अपील की है कि वे जहां है,वही रहे। उनके लिए सभी व्यवस्थाएं स्थानीय जिला प्रशासन के माध्यम से की जाएगी। सीएम ने प्रदेशवासियों से भी अपील की कि वे लॉकडाउन का पालन करें और अपने घरों मे ही रहे। उन्हें सभी आवश्यक सामाग्रियां उपलब्धा होते रहेगी।निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री ने कलेक्टर डॉ.एस.भारतीदासन और एसपी मो.आरिफ शेख, नगर निगम रायपुर के कमिश्नर सौरभ कुमार,जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ.गौरव सिंह से व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली।

अधिकारियो ने बताया कि भिक्षुकों,बेसहारा, जरुरतमंद,दिहाड़ी मजदूरों,मंदबुद्धियों और रोजी-रोटी के लिए बाहर नहीं जा पा रहे व्यक्तियों के लिए स्पेशल फूड सेल की स्थापना की गई है। भोजन पहुंचाने बड़ा नेटवर्क तैयार कर शहर के हर छोर तक अपनी पहुंच बनाई गई है। सबसे बड़ी बात है की इस कार्य में स्वयंसेवी संस्थाएं, सेवाभावी संगठन और नागरिक भी सामने आकर मदद कर रहे है। नगर निगम के सभी 8 जोन में नियंत्रण कक्ष स्थापित किए हैं। ऐसे परिवारों को चिन्हित किया जा रहा है जिन्हें राशन कार्ड ना होने या खाद्यान्न लेने में असुविधा हो रही है। ऐसे परिवारों जिनके पास राशन कार्ड उपलब्ध नहीं है या किसी वजह से राशन प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे परिवारों की सहायता के लिए वर्तमान में 15,000 अनाज के पैकेट तैयार कराएं जा रहे हैं, जिससे उनकी जरुरतें पूरी हो सकें।

29-03-2020
लॉकडाउन में भूपेश बघेल की लोकवाणी कार्यक्रम का प्रसारण नहीं होगा

रायपुर। कोरोना संक्रमण के वैश्विक संकट के कारण आकाशवाणी, रायपुर भी पूर्णत: लॉकडाउन में है। इस कारण अप्रैल माह के दूसरे रविवार को  लोकवाणी (मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की बात-आपके साथ) का प्रसारण नहीं हो सकेगा। परिस्थितियों के अनुरूप मुख्यमंत्री बघेल अपने निवास से ही जनता के नाम संदेशों की रिकार्डिंग करवा रहे हैं। इसका विभिन्न उपलब्ध माध्यमों से प्रदेशव्यापी प्रसारण कराया जा रहा है।

28-03-2020
संकट के बीच मीडिया का कार्य सराहनीय, सुरक्षित रहें पत्रकार : भूपेश बघेल

रायपुर। कोरोना वायरस संक्रमण के इस दौर में मीडियाकर्मियों के कार्य की मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सराहना की है। उन्होंने कहा कि इस कोरोना-संकट के समय में हमारे मीडियाकर्मी खतरे के बीच भी जनता तक विश्वसनीय खबरें पहुंचाने की जिम्मेदारी निभा रहे हैं। आज मैं उन्हें सलाम करना चाहता हूँ, उनका कार्य बेहद सराहनीय है। वे सुरक्षित रहें, अपना एवं परिवार का ध्यान रखें। उनका प्रबंधन भी उनकी चिंता करें यह अपेक्षा है।

28-03-2020
कोरोना से लड़ाई में भूपेश बघेल की अपील, विधायक निधि से करें मदद

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम और आवश्यक व्यवस्थाओं के लिए विधायकों से मदद का आग्रह किया है। उन्होंने विधायक निधि से भी राशि प्रदान करने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण को रोकना हम सबकी आज सर्वोच्च प्राथमिकता है। इस संक्रामक रोग का फैलाव रोकने में आप सभी का सहयोग आवश्यक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण रोकने तथा अन्य जरूरी सहायता के लिए विधायक निधि से राशि स्वीकृत की जा सकती है। विधायकों के पास संक्रमण के संबंध में स्थानीय लोगों से जानकारी मिलती रहती है। ऐसी स्थिति में आपकी त्वरित सहायता और पहल से जरूरतमंद लोगों को राहत मिलेगी।

27-03-2020
भूपेश बघेल ने कहा - यह संकट का समय, सक्षम वर्ग से दान की अपील

रायपुर। कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार की ओर से हर संभव मदद की जा रही है। इस बीच मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने समाज के सक्षम वर्ग से दान की अपील की है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट कर कहा कि यह संकट का समय है। सरकार जो कुछ कर सकती है, कर रही है। लेकिन बहुत कुछ और है जो किया जा सकता है। प्रदेश के बहुत से सुधिजनों ने गरीब और जरुरतमंदों की सहायता करने की इच्छा जताई है। मैं समाज के सक्षम वर्ग से इस संकट के समय में दान की अपील करता हूं।

27-03-2020
भूपेश बघेल ने दादी जानकी के निधन पर दुख प्रकट किया

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ब्रम्हाकुमारी संस्थान की प्रमुख दादी जानकी के निधन पर गहरा दुख प्रकट किया है। उन्होंने कहा है कि दादी जानकी ने ब्रम्हकुमारी संस्थान के माध्यम से पूरे समाज को अध्यात्म के रास्ते पर आगे बढ़ाने में अतुलनीय योगदान दिया।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804