GLIBS
22-10-2020
प्याज की उपलब्धता व बाजार भाव की निगरानी के लिए कलेक्टरों को चिट्ठी लिखी भूपेश बघेल ने

रायपुर। भूपेश बघेल के निर्देशानुसार प्याज की उपलब्धता व बाजार भाव की निगरानी के लिए सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश जारी किया गया। राज्य शासन के खाद्य नागरिक आपूर्ति व उपभोक्ता संरक्षण विभाग से सभी जिला कलेक्टरों को उनके जिले में प्याज की उपलब्धता तथा खुदरा बाजार मूल्य की निगरानी व पर्यवेक्षण के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं। जिला कलेक्टरों को जारी निर्देश में कहा गया है कि राज्य स्तरीय प्राईस मॉनिटरिंग सेल में जिलों से आवश्यक वस्तुओं के बाजार भाव के विश्लेषण से स्पष्ट हुआ है कि विगत 1 माह में प्याज के खुदरा बाजार मूल्य में अप्रत्याशित वृद्धि परिलक्षित हो रही है। सभी जिला कलेक्टर जिले में प्याज की उपलब्धता तथा खुदरा बाजार मूल्य की निगरानी एवं पर्यवेक्षण के लिए सतत कार्यवाही सुनिश्चित करें। खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग से जारी निर्देशों में कहा गया है कि प्याज के थोक व खुदरा व्यापारियों की तत्काल बैठक लेकर जिले में प्याज की उपलब्धता एवं मांग का आंकलन कर आवश्यकता अनुसार प्याज की आपूर्ति सुनिश्चित की जाए।

जिला स्तर पर प्याज की दैनिक आवक एवं खपत की नियमित समीक्षा की जाए। अन्य राज्यों से प्याज के आयात, परिवहन एवं भंडारण संबंधी कोई समस्या हो तो इसका तत्काल निराकरण किया जाए। थोक व्यापारियों के विक्रय स्थल पर प्रतिदिन प्याज का उपलब्ध स्टॉक एवं थोक विक्रय मूल्य की जानकारी अनिवार्य रूप से प्रदर्शित कराई जाए। कलेक्टरों को कहा गया है कि जिले में उपलब्ध प्याज के थोक एवं खुदरा बाजार भाव का प्रचार-प्रसार किया जाए, ताकि आम लोगों को इस संबंध में जानकारी उपलब्ध हो सके और खुदरा व्यापारी अनावश्यक अधिक मूल्य पर प्याज का विक्रय न कर सकें। इसके अतिरिक्त आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम 2020 की धारा 3 (क) के प्रावधानों के अंतर्गत कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत स्टाक लिमिट की आवश्यकता होने पर राज्य शासन को प्रस्ताव प्रेषित किया जाए। निर्देशों में यह भी स्पष्ट किया  है कि उपरोक्तानुसार कार्यवाही सुसंगत अधिनियमों के अंतर्गत सुनिश्चित की जाए।

21-10-2020
मोदी को सिर्फ धन्यवाद ही न दें भूपेश बघेल,दुष्प्रचार के लिए माफी भी मांगें: संजय श्रीवास्तव

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने मुख्यमंत्री की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर एथेनॉल उत्पादन की दर निर्धारित करने के लिए धन्यवाद देने का स्वागत किया है। श्रीवास्त ने कहा है कि शक्ति उपासना के अवसर पर मुख्यमंत्री बघेल को आई सदबुद्धि स्थायी हो। उन्होंने कहा है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री सिर्फ धन्यवाद ही न दें,बल्कि अब तक प्रधानमंत्री मोदी और केंद्र सरकार के खिलाफ छत्तीसगढ़ के साथ सौतेले व्यवहार का दुष्प्रचार करने के लिए माफी भी मांगें। केंद्र सरकार ने बिना किसी राजनीतिक पक्षपात के छत्तीसगढ़ को हर कदम पर उसकी अपेक्षा से अधिक ही सहायता मुहैया कराई है।श्रीवास्तव ने कटाक्ष किया है कि राहुल गांधी ने कभी एथेनॉल को लेकर भाजपा की केंद्र सरकार का मखौल यह कहकर उड़ाया था कि लोगों के पास खाने के लिए चावल नहीं है और भाजपा की सरकार चावल से एथेनॉल बनाने की सोच रही है।

अब इसी एथेनॉल के लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बघेल ने प्रधानमंत्री के धन्यवाद पत्र भेजा है। भाजपा की प्रार्थना है कि जो सद्बुद्धि मुख्यमंत्री बघेल को मिली है, वही सद्बुद्धि कांग्रेस नेता राहुल गांधी को मिले,ताकि अंध राजनीतिक विरोध से उबरकर वे भी सर्वकल्याणकारी राजनीतिक चिंतन से जुड़ें। कांग्रेस नेता केवल विरोध के लिए विरोध की संकीर्ण राजनीति से उबरकर और एक स्वस्थ व सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्र सरकार के खिलाफ कोरे दुष्प्रचार से बाज आएं। मौजूदा प्रदेश सरकार राजनीतिक प्रतिशोधवश शुरू से ही केंद्र सरकार के साथ टकराव की नीति पर चल रही है। अब उम्मीद की जानी चाहिए कि प्रदेश सरकार और कांग्रेस झूठ और दुष्प्रचार की राजनीति से उबरेंगे।

21-10-2020
भूपेश बघेल ने कहा- शहीद महेन्द्र कर्मा की इच्छानुरूप होगा बस्तर का विकास,4 से 5 बड़े स्टील प्लांट खोलने की दी सहमति

रायपुर। सरपंच संघ की मांग पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बस्तर अंचल के विकास और समृद्धि के लिए 4 से 5 बड़े स्टील प्लांट को खोलने की सहमति प्रदान की है। इससे स्थानीय युवाओं को रोजगार के बेहतर अवसर मिलेंगे। दंतेवाड़ा जिले से आए सरपंच संघ के प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को राजधानी रायपुर में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से उनके निवास कार्यालय में सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने क्षेत्र में उद्योग स्थापित करने के लिए ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री ने इस पर सहमति व्यक्त करते हुए कहा है कि शहीद महेन्द्र कर्मा की भी इच्छा थी कि दंतेवाड़ा सहित बस्तर अंचल में बड़े उद्योग लगे। उनकी इच्छानुरूप ही बस्तर का विकास किया जाएगा। सरपंच संघ की मांग पर राज्य सरकार की ओर से इस अंचल में 4 से 5 बड़े स्टील प्लांट खोलने के लिए आवश्यक पहल की जाएगी।प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री से गीदम विकासखंड के घोटपाल-हीरानार में उपलब्ध लगभग 500 एकड़ जमीन में उद्योग लगाने के संबंध में ज्ञापन सौंपा। उन्होंने बताया कि इसके लिए किसानों से जमीन लेने की आवश्यक्ता भी नहीं होगी।

प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से कहा कि बस्तर अंचल से लौह अयस्क बाहर भेजा जाता है। इस अंचल के दंतेवाड़ा, कांकेर, कोंडागांव सहित अन्य स्थानों में बड़े लगने से स्थानीय युवाओं को रोजगार मिलेगा वहीं इन उद्योगों के लगने से अन्य सहायक उद्योग धंधे भी प्रारंभ होंगे। इनमें बड़ी संख्या में स्थानीय युवाओं को रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि उद्योग लगने से यहां होटल और परिवहन व्यवसाय में भी बढ़ोतरी होगी। इसका फायदा भी स्थानीय लोगों को मिलेगा।    मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान सरपचों ने राज्य सरकार की ओर से आदिवासी समाज की आस्था के अनुरूप वनांचल क्षेत्रों में देवगुड़ी के संरक्षण और संवर्धन के लिए किए जा रहे प्रयासों की प्रशंसा की। सरपंच संघ की ओर से मुख्यमंत्री के प्रति आभार भी व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने चर्चा के दौरान गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन की भी जानकारी ली। सरपंचों ने बताया कि कोरोना संकट के समय गोबर विक्रय से मिली राशि ग्रामीणों के काम आई।

गोबर से पैसा मिलने से ग्रामीण खुश हैं। गोठानों में गोबर से वर्मी कम्पोस्ट बनाने का काम भी किया जा रहा है। गांवों में मध्यान्ह भोजन योजना के तहत सूखा राशन वितरण की जानकारी उन्होंने दी।सरपंच संघ के अध्यक्ष अनिल कर्मा ने बताया कि जिले के सभी ग्राम पंचायतों में गोठान निर्माण का कार्य चल रहा है। साथ ही गोधन न्याय योजना के अंतर्गत गोबर खरीदी और वर्मी कम्पोस्ट बनाने का कार्य भी शुरू कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत स्तर पर पुराने भवनों का जीर्णोद्धार कर स्थानीय युवाओं को कपड़ा दुकान, नाई की दुकान, पंचर रिपेयरिंग जैसे छोटे-छोटे रोजगार उपलब्ध कराने का भी कार्य किया जा रहा है। इस दौरान मोपलनार, बड़े सुरोखी, नांगुल और गोठपाल ग्राम पंचायत के सरपंच भी उपस्थित थे।

 

21-10-2020
भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री को किसानों के हित में निर्णय लेने लिखा पत्र, एथेनाॅल उत्पादन की दर तय करने दिया धन्यवाद

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर छत्तीसगढ़ सरकार प्रयासों के फलस्वरूप अधिशेष चावल से एथेनाॅल उत्पादन की दर 54 रुपए 87 पैसे प्रति लीटर निर्धारित करने के निर्णय के लिए धन्यवाद दिया है। साथ ही उन्होंने छत्तीसगढ़ के किसानों से खरीदे गए अधिशेष धान को सीधे एथेनाॅल संयत्रों को जैव ईधन उत्पादन की अनुमति प्रदान करने की मांग भी की है, जिससे राज्य में लगने वाले एथेनाॅल संयंत्रों को किसानों की ओर से सीधे धान का विक्रय किया जा सकेगा।मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को पत्र में लिखा है - छत्तीसगढ़ शासन की ओर से राष्ट्रीय जैव नीति 2018 और उसके लक्ष्य की पूर्ति की दिशा में जैव ईंधन के उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य में उत्पादित अतिरिक्त धान से बायो-एथेनाॅल उत्पादन की अनुमति के लिए विगत 18 माह से लगातार प्रयास किए गए।

राज्य शासन के इन प्रयासों के फलस्वरूप आपके ओर से लिए गए निर्णय के लिए अनुसार तेल वितरण कंपनियों की ओर से अधिशेष चाॅवल (एफसीआई के गोदाम के माध्यम से प्राप्त) से एथेनाॅल उत्पादन की दर 54 रुपए 87 पैसे प्रति लीटर निर्धारित की गई है। इस निर्णय के लिए आपको कोटि-कोटि धन्यवाद। मुख्यमंत्री ने लिखा है कि- राज्य शासन की मांग है कि राज्य के किसानो से खरीदे गए अतिशेष धान को सीधे एथेनाॅल संयत्रोें को जैव ईधन उत्पादन के लिए अनुमति प्रदान की जाए, इससे राज्य में लगने वाले एथेनाॅल संयत्रों को किसानों की ओर से सीधे धान का विक्रय किया जा सकेगा। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा है कि अतिशेष धान से सीधे एथेनाॅल उत्पादन की अनुमति राज्य के किसानो की आर्थिक उन्नति के लिए अत्यंत सहायक सिद्ध होगी।

19-10-2020
भूपेश बघेल ने कहा- माटीपुत्र ठाकुर प्यारेलाल सिंह के विचार मूल्य हमेशा हमें प्रेरित करेंगे

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में श्रमिक आंदोलन के सूत्रधार और सहकारिता के प्रणेता ठाकुर प्यारेलाल सिंह को नमन किया है। ठाकुर प्यारेलाल सिंह की पुण्यतिथि 20 अक्टूबर को है। मुखयमंत्री बघेल ने ठाकुर प्यारेलाल सिंह के योगदान को याद किया है। उन्होंने कहा है कि छत्तीसगढ़ में स्वतंत्रता संग्राम को आगे ले जाने के साथ ही यहां जनजागरण में स्व. ठाकुर प्यारेलाल सिंह का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उन्होंने छत्तीसगढ़ में छात्रों को संगठित कर राष्ट्रीय आंदोलन की ओर मोड़ा। राजनांदगांव में मिल मजदूरों को अधिकार दिलाने के लिए उन्होंने संघर्ष किया और उनका हक दिलाया। लोगों को शोषण और अत्याचार से मुक्त कराने की दिशा में भी वह सक्रिय रहे। उनके नेतृत्व में छत्तीसगढ़ में बुनकर संगठित हुए और छत्तीसगढ़ बनुकर संघ की स्थापना हुई।  मुख्यमंत्री बघेल ने कहा ऐसे सेवाभावी माटीपुत्र ठाकुर प्यारेलाल के विचार मूल्य हमेशा हमें प्रेरित करते रहेंगे।

 

17-10-2020
नीट में छत्तीसगढ़ के विद्यार्थियों के शानदार प्रदर्शन पर भूपेश बघेल खुश,की सभी को सुनहरे भविष्य की कामना

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अखिल भारतीय स्तर पर चिकित्सा स्नातक में राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (नीट) में विद्यार्थियों के शानदार प्रदर्शन पर प्रसन्नता जताई है। उन्होंने इस परीक्षा में सफल रहे विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए उन्हें बधाई एव शुभकामनाएं दी हैं। नीट परीक्षा में प्रयास आवासीय विद्यालयों के 166 विद्यार्थियों में सफलता प्राप्त की है। चिकित्सा स्नातक में राष्ट्रीय पात्रता एवं प्रवेश परीक्षा (नीट) का परिणाम 16 अक्टूबर को जारी हुआ। आदिम जाति कल्याण मंत्री डॉ.प्रेमसाय सिंह टेकाम, विभाग के सचिव डीडी सिंह और संचालक शम्मी आबिदी ने सभी सफल विद्यार्थियों को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी।

उल्लेखनीय है कि चिकित्सा स्नातक में राष्ट्रीय पात्रता एवं प्रवेश परीक्षा (नीट) में 367 विद्यार्थी शामिल हुए, इनमें से 166 विद्यार्थी सफल हुए हैं। सफल विद्यार्थियों में सर्वाधिक 38 बालिकाएं प्रयास कन्या आवासीय विद्यालय रायपुर की हैं। इसके अलावा प्रयास आवासीय विद्यालय दुर्ग के 33, प्रयास आवासीय विद्यालय बस्तर के 26, प्रयास आवासीय विद्यालय बिलासपुर के 24, प्रयास बालक आवासीय विद्यालय रायपुर के 19, प्रयास आवासीय विद्यालय अंबिकापुर के 17 और प्रयास आवासीय विद्यालय कांकेर के 9 विद्यार्थी परीक्षा में सफल हुए हैं।

16-10-2020
भूपेश बघेल ने महाराजा अग्रसेन जयंती पर प्रदेशवासियों को दी बधाई

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने महाराजा अग्रसेन जयंती की सभी प्रदेशवासियों विशेषकर अग्रवाल समाज को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। बघेल ने अपने शुभकामना संदेश में कहा है कि लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था,आर्थिक समरूपता और सामाजिक समानता महाराजा अग्रसेन के आदर्श मूल्य रहे। बघेल ने कहा कि महाराजा अग्रसेन के बताए गए अहिंसा के मार्ग पर चलकर सभी समाज को समृद्ध और सशक्त बनाने का संकल्प लें साथ ही समाज में आपसी प्रेम और सदभाव का वातावरण बनाएं।

 

16-10-2020
नवरात्रि आराधना के साथ नारी शक्ति के सम्मान का पर्व है :भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को शारदीय नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। इस अवसर पर उन्होंने सबके जीवन में सुख,समृद्धि और खुशहाली की प्रार्थना की है। नवरात्रि की पूर्व संध्या पर जारी अपने बधाई संदेश में बघेल ने कहा है कि शक्ति उपासना के इस पर्व में 9 दिनों तक पूरी श्रद्धा और भक्ति-भाव के साथ शक्ति स्वरूपा देवी दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है,श्रद्धालु व्रत रखते हैं और कन्या पूजन किया जाता है। उन्होंने कहा कि देवी को शक्ति, नारी, मां, बुद्धि और लक्ष्मी का स्वरूप माना गया है। नवरात्रि आराधना के साथ नारी शक्ति के सम्मान का पर्व है। इस अवसर पर हम सभी महिलाओं के मान-सम्मान,गौरव को बनाए रखने और उनके विरूद्ध हिंसा के विरोध का संकल्प लें। बघेल ने कहा कि त्यौहार के दिनों में हम सभी को कोरोना संक्रमण के प्रति अधिक सावधान होने की जरूरत है। उन्होंने सभी प्रदेशवासियों से अपील की है कि अधिक भीड़-भाड़ से बचें और कोरोना से बचाव के लिए जारी सभी दिशा निर्देशों का पूरी तरह पालन करें।

 

14-10-2020
भूपेश बघेल ने कहा-महिलाओं पर अपराधों के मामलों में कोताही नहीं होगी बर्दाश्त,लापरवाह अधिकारियों पर होगी कार्रवाई

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि महिलाओं के विरुद्ध घटित अपराधों के मामले में लापरवाही बरतने वाले पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने बुधवार को अपने निवास कार्यालय में गृह विभाग की समीक्षा बैठक ली। उन्होंने  निर्देश दिए हैं कि ऐसे अधिकारियों-कर्मचारियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। बैठक में गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिए कि महिला अपराधों की रोकथाम के लिए राज्य स्तर पर सतत मॉनिटरिंग और समीक्षा की जाए। इसके लिए एसओपी बनाई जाए और पुलिस मुख्यालय सीधे महिलाओं के विरूद्ध गंभीर अपराधों की समीक्षा करें। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में इन अपराधों की रोकथाम के लिए विशेष जांच दल का गठन भी किया जाए। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने बैठक में बताया कि सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से महिलाओं के विरुद्ध अपराधों पर अंकुश रखने और ऐसे मामलों की तत्परता से जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। राज्य में महिलाओं पर घटित कुल अपराधों में वर्ष 2019 की तुलना में वर्ष 2020 में कमी आई है।

मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ पुलिस की ओर से वरिष्ठ नागरिकों की सहायता के लिए प्रारंभ किए जा रहे समर्पण अभियान के लिए बैठक में सहमति प्रदान की। पुलिस महानिदेशक अवस्थी ने इस अभियान के संबंध में बताया कि ऐसे वरिष्ठ नागरिक जो अकेले रहते हैं, उन्हें इस अभियान से जोड़ा जाएगा। कम्युनिटी पुलिसिंग के माध्यम से ऐसे वरिष्ठ नागरिकों को कोरोना काल में महामारी से सुरक्षा के लिए आवश्यक सुविधाएं, उनकी समस्याओं के त्वरित निदान सहित उन्हें आवश्यक वस्तुएं और सेवाएं उपलब्ध कराने का कार्य किया जाएगा। इस अभियान से जोड़ने के लिए वरिष्ठ नागरिक थाने में आवेदन देकर या पुलिस मुख्यालय से जारी वाट्सएप नंबर तथा ई-मेल एड्रेस पर आवेदन देकर समर्पण सदस्यता प्राप्त कर सकेंगे। प्रथम चरण में यह अभियान रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर जिलों में शुरू किया जाएगा। समीक्षा के दौरान बताया गया कि एकीकृत इमरजेंसी रिस्पोन्स सिस्टम डायल 112 के तहत पुलिस सहायता, अग्निशमन, मेडिकल इमरजेंसी, महिला सहायता, स्मार्ट सिटी सर्विलेंस की सुविधाएं 11 जिलों में दी जा रही हैं। इस सेवा के तहत लगभग दो साल में 53 लाख कॉल प्राप्त हुए।

इनमें से साढ़े नौ लाख लोगों को पुलिस सहायता दी गई, लगभग साढ़े चार लाख लोगों को अपातकालीन चिकित्सा सेवा, 8 हजार लोगों को अग्नि शमन सेवा, 2 लाख सड़क दुर्घटना के मामलों में सहायता उपलब्ध कराई गई। संकट में फंसे छह हजार बच्चों को बचाया गया। आत्महत्या के 14 हजार प्रयासों को रोका गया, 72 हजार महिलाओं को सहायता दी गई। शहरी क्षेत्रों में कॉल आने के औसतन 16 मिनट के अंदर और ग्रामीण क्षेत्रों में 28 मिनट के अंतर्गत जरूरतमंदों को सहायता उपलब्ध कराई गई। बैठक में अपर मुख्य सचिव गृह सुब्रत साहू, संचालक लोक अभियोजन प्रदीप गुप्ता, रायपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक डॉ.आनंद छाबड़ा, उप पुलिस महानिरीक्षक सुशील द्विवेदी, मुख्यमंत्री सचिवालय की उप सचिव सौम्या चौरसिया सहित पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

 

13-10-2020
भूपेश बघेल ने कहा-विकास से ही बस्तर की समस्याओं का समाधान,उद्योगों में निवेश करने किया आव्हान

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि बस्तर अंचल के विकास से ही बस्तर की समस्याओं का समाधान होगा। उन्होंने उद्योगपतियों से बस्तर में स्टील सहित खाद्य और लघुवनोपज प्रसंस्करण उद्योगों में निवेश करने का आव्हान किया। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि स्टील सेक्टर के उद्योगों के लिए रॉ मटेरियल की कमी नहीं होने दी जाएगी। बस्तर अंचल में उद्योगों की स्थापना के लिए पर्याप्त शासकीय भूमि उपलब्ध है। राज्य सरकार की ओर से स्टील सेक्टर के लिए दी गई छूट का लाभ अधिक से अधिक उद्योगपति उठाएं। इस मौके पर उद्योग मंत्री कवासी लखमा और राज्य खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष राम गोपाल अग्रवाल भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री बघेल मंगलवार को यहां अपने निवास कार्यालय में छत्तीसगढ़ स्टील एवं स्पंज आयरन उत्पादन संघ के प्रतिनिधि मंडल से चर्चा कर रहे थे। प्रतिनिधिमंडल ने प्रदेश में स्टील उद्योगों के लिए सबसे अच्छी नीति लागू करने के लिए मुख्यमंत्री को बधाई और शुभकामनाएं दी। इस नीति से नए निवेश आकर्षित करने में मदद मिलेगी। संघ के प्रतिनिधियों ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से स्टील उद्योगों को प्रतिस्पर्धा में टिके रहने के लिए ऊर्जा प्रभार में दी गई छूट से इस सेक्टर के लगभग 85 प्रतिशत उद्योगों को सुरक्षा मिली है। उन्होंने लॉकडाउन के दौरान उद्योगों के संचालन के लिए दी गई छूट के लिए भी मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट किया। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि 8 अक्टूबर का दिन आने वाले समय में स्टील डे के रूप में याद किया जाएगा। स्टील उद्योगों में नई घोषणा से नया उत्साह आया है। स्टील उद्योगों का जीएसटी वृद्धि अहम योगदान है। पिछले 10 सालों में प्रदेश में कोई नया स्टील उद्योग नहीं आया है।

स्टील उद्योगों को दी गई रियायतों के फलस्वरूप राज्य में नई इकाईयां स्थापित होंगी।  मुख्यमंत्री ने स्टील उद्योग के साथ-साथ बस्तर की स्थानीय कृषि और लघु वनोपज प्रसंस्करण उद्योगों में भी निवेश का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि इससे बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा। उद्योगों के लिए जिस ट्रेड में कुशल लोगों की आवश्यकता होगी, उस ट्रेड में स्थानीय युवाओं को प्रशिक्षण देने की व्यवस्था भी की जाएगी। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान छत्तीसगढ़ के उद्योगपतियों ने श्रमिकों के रहने का इंतजाम किया। श्रमिकों के यहां रूकने के कारण ही अप्रैल माह के अंतिम सप्ताह में उद्योगों में उत्पादन की गतिविधियां प्रारंभ हो गई। लौह अयस्क और कोयला उत्पादन का काम चलता रहा है, इस कारण उद्योगों को रॉ मटेरियल की कमी नहीं हुई। राज्य सरकार, जिला प्रशासन और उद्योगपतियों के अच्छे समन्वय के कारण प्रदेश में उद्योगों के पहिए नही थमें। इस दौरान स्टील एण्ड स्पंज आयरन उत्पादन संघ के विजय कुमार,कैलाश अग्रवाल, उमेश अग्रवाल, अनिल नचरानी,दीपक गुप्ता, प्रदीप टंडन सहित अनेक पदाधिकारी उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804