GLIBS
15-10-2019
लखनपुर में चुनावी कोलाहल शुरू, होने लगी सरगर्मी तेज

लखनपुर। नगरीय चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आती जा रही है, सियासी गलियारों में दावेदार चेहरों की चर्चा गहराने लगी है। नगर के 15 वार्डों में अध्यक्ष, पार्षद पद उम्मीदवारों के नामों का जिक्र सरेआम होने लगा है। हाल ऐसा है कि अप्रत्यक्ष रूप से अध्यक्ष चुने जाने की शासन की मंशा ने दावेदारों के पेशानी पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं। अभी जबकि अटकलों पर ही बात टिकी हुई है, शासन ने अपना फरमान जारी नहीं किया है। पूर्व में जो उत्साह अध्यक्ष दावेदारों के चेहरों पर झलक रहा था वह हल्का व फीका पडऩे लगा है। यदि दलीय अध्यक्ष पार्षद पद की बात करें तो कांग्रेस-भाजपा के दावेदारों में खासकर कांग्रेस से दो अध्यक्ष पद के दावेदारों की चर्चा जोर पकडऩे लगी है। वहीं भाजपा के दावेदारों में तीन अध्यक्ष पद के दावेदारों का नाम नगरवासियों के जुबान पर आने लगा है । अप्रत्यक्ष रूप से पार्षदों द्वारा अध्यक्ष का चुनाव किए जाने को लेकर भी खासा कोलाहल मचा हुआ है। अध्यक्ष व पार्षद के दावेदार वार्ड भ्रमण कर मतदाताओं को रिझाने में लगे हुए हैं। कांग्रेस एवं भाजपा के दावेदार अपने-अपने चिर परिचितों के समक्ष लुभावनी लच्छेदार बातों से वोट बटोरने के फार्मूले इस्तेमाल करने में लगे हुए हैं । मतदाताओं की सूची जारी होने के पश्चात चर्चाओं का बाजार और गर्म होने की संभावना है। फिलहाल मतदाताओं एवं दावेदारों की अपनी-अपनी ख्वाहिशें हैं। यह तो वक्त ही मुकर्रर करेगा कि राजयोग किसका कितना प्रबल है। चुनाव के नतीजे आने तक चर्चा होती रहती है, होती रहेगी।

 

14-10-2019
महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव : 9 हजार से अधिक मतदान केंद्रों से होगा सीधा वेब प्रसारण

 

नई दिल्ली। 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग होनी है। अगले हफ्ते होने वाली वोटिंग के लिए चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लिया है। चुनाव आयोग महाराष्ट्र में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान 9,000 से अधिक मतदान केंद्रों से सीधा वेब प्रसारण (वेबकास्टिंग) करेगा। वेब प्रसारण में चुनाव आयोग ने संवेदनशील मतदान केंद्र को भी शामिल करने का फैसला किया है। एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राज्य में पहली बार वीवीपीएटी (मतदान पर्ची) मशीनों का भी इस्तेमाल किया जाएगा।

24 अक्टूबर को आएंगे नतीजे

चुनाव अधिकारी ने बताया कि चुनाव आयोग उपद्रवियों को मतदान केंद्रों पर गड़बड़ी करने से रोकने के लिए वेब प्रसारण कर रहा है। चुनाव आयोग का मानना है कि इस कदम से पारदर्शिता में भी बढ़ोतरी होगी। चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा कि महाराष्ट्र में 9,673 मतदान केंद्रों से सीधा वेब प्रसारण होगा। राज्य की 288 विधानसभा सीटों के लिए 21 अक्टूबर को 96,661 मतदान केंद्रों पर चुनाव कराए जाएंगे। अधिकारी ने बताया कि पारदर्शिता बढ़ाने के लिए कुल 1,35,021 वीवीपीएटी मशीनों का उपयोग किया जाएगा। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में मुख्य मुकाबला एनडीए और यूपीए के बीच है। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे।

14-10-2019
अब प्रदेश में मेयर और अध्यक्ष चुनेंगे पार्षद, सीएम ने गठित की मंत्रियों की समिति

रायपुर। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आने के बाद से से ही बहुत से नियमों में बदलाव हुए है। इन्ही बदलाव के बीच मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एक और नियम में बदलाव करते हुए घोषणा की है कि अब छत्तीसगढ़ में भी पार्षद ही महापौर, पालिकाध्यक्ष तथा नपं अध्यक्ष का चुनाव करेंगे। इस घोषणा के बाद चुनाव प्रक्रिया में में बदलाव के लिए सीएम बघेल ने तीन मंत्रियों की उपसमिति गठित की है। मंत्रिमंडलीय उपसमिति 15 अक्टूबर तक अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी। समिति की अनुशंसा के आधार पर फैसला लिया जाएगा।

सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि अप्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली में कोई खराबी नहीं है। जिला पंचायत में इसी तरह से चुनाव होते हैं। इसके लिए तीन मंत्रियों की मंत्रिमंडलीय उपसमिति गठित की है। उन्होंने कहा कि अंतिम निर्णय तीन मंत्रियों रविन्द्र चैबे, मो. अकबर और शिव डहरिया की उपसमिति की रिपोर्ट के बाद ही हो पाएगा। सीएम बघेल महापौर अथवा अध्यक्ष के सीधे निर्वाचन प्रक्रिया को बदलने के संकेत पहले ही दे चुके हैं। अब मंत्रियों की समिति की रिपोर्ट के आधार पर कैबिनेट में इस पर फैसला लिया जाएगा। इसके बाद प्रदेश सरकार अध्यादेश लाएगी। गौरतलब है कि अविभाजित मध्यप्रदेश में 1994 में महापौर-अध्यक्षों का निर्वाचन पार्षदों के जरिए होता था। इसके बाद व्यवस्था बदली और फिर 1999 में महापौर और अध्यक्ष के सीधे चुनाव होने लगे।

 

12-10-2019
छत्तीसगढ़ की जनता अब शायद सीधे नहीं चुन पाएगी अपना महापौर, मुख्यमंत्री ने कहा ये...

रायपुर। छत्तीसगढ़ की जनता अब अपने महापौर को सीधे तौर पर चुनने से वंचित हो सकती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बयान के बाद से संभावना यह है कि छत्तीसगढ़ में अप्रत्यक्ष प्रणाली से महापौर चुनाव होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि अप्रत्यक्ष प्रणाली के संबंध में सरकार की ओर से एक उप समिति बनाई गई है जिसमें 3 कैबिनेट मंत्री शामिल हैं। उपसमिति की जो भी सिफारिश होगी उसके आधार पर ही फैसला लिया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि अप्रत्यक्ष प्रणाली में कोई खराब नहीं है। पार्षद यदि महापौर चुनेंगे तो बेहतर समन्वय से काम होगा।

 

11-10-2019
चित्रकोट उपचुनाव का आगाज सीएम भूपेश बघेल जगदलपुर रवाना

रायपुर। छत्तीसगढ़ में दंतेवाड़ा विधानसभा उपचुनाव में जीत का परचम लहराने के बाद कांग्रेसजनों में काफी उत्साह है। चित्रकोट उपचुनाव की तिथि जैसे जैसे नजदीक आ रही है। कार्यकर्ताओं का जोश दोगुना होता नजर आ रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल उपचुनाव में प्रचार का आगाज करने शुक्रवार को जगदलपुर रवाना हो गए हैं। उन्होंने कहा कि चित्रकोट की सीट भी महत्वपूर्ण है और कांग्रेस के सभी सिपाही इस सीट को जीतने के लिए पूरी लगने से मेहनत कर रहे हैं। वहीं डॉ. रमन सिंह के कांग्रेस को अंतिम वक्त में राम की याद आने के बयान पर पलटवार करते हुए सीएम भूपेश ने कहा कि भाजपा को सिर्फ चुनाव के समय राम की याद आती है।

वोट के लिए वो राम के नाम का इस्तेमाल करते हैं। भाजपा और आरएसएस के राष्ट्रवाद को उत्तेजक राष्ट्रवाद बताते हुए कहा कि यह विदेशों से आया है। गांधी जी का राष्ट्रवाद गम्भीर राष्ट्रवाद है, जिसे कांग्रेस मानती है। ज्ञात हो कि दंतेवाड़ा का किला फतह करने के बाद कांग्रेसजनों में जोरदार उत्साह देखा जा रहा है। दंतेवाड़ा उपचुनाव में कांग्रेस को मिली जीत ने कार्यकर्ताओं का हौसल कई गुना बढ़ा दिया है। वहीं दूसरी ओर 90 सीट वाले छत्तीसगढ़ विधानसभा में कांग्रेस को एकतरफा जीत मिली थी। छत्तीसगढ़ में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने पूर्ण बहुमत हासिल करते हुए 68 सीटों पर जीत हासिल की थी। दंतेवाड़ा उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार श्रीमती देवती कर्मा की जीत ने कांग्रेस के खाते में एक और महत्वपूर्ण उपलब्धि जोड़ दिया था। इस तरह वर्तमान में कांग्रेस के खाते में छत्तीसगढ़ की कुल 90 विधानसभा सीट में से 69 में कब्जा है, वहीं चित्रकोट उपचुनाव में भी कांग्रेस को पूरी उम्मीद है कि जीत का सेहरा कांग्रेस संगठन के सिर पर ही सजेगा। 

 

09-10-2019
जेल में बंद निर्दोष आदिवासियों की रिहाई के लिए प्रदर्शन कर रहे आदिवासी

दंतेवाड़ा। जेल में बंद निर्दोष आदिवासियों के लिए नकुलनार खेल ग्राउंड में आदिवासी हजारों की संख्या में इक्क्ठे होकर प्रदर्शन कर रहे। प्रदर्शनकारी आदिवासी सरकार के चुनावी वादों की पोल भी खोलेंगे। बता दें कि चुनाव से पहले सरकार ने वादा किया था कि निर्दोष आदिवासियों को छोड़ दिया जाएगा जो कि अभी तक नहीं छूटे हैं।

02-10-2019
डिग्री कॉलेज में नवनियुक्त पदाधिकारियों को दिलाई गई पद की शपथ

रायगढ़। प्रदेश के काॅलेजों में छात्रसंघ के चुनाव अब नहीं होंगे, जिसके कारण अब मनोनयन के आधार पर छात्रसंघ का गठन काॅलेजों में प्रारंभ हो गया है। रायगढ़ शहर के काॅलेजों में मनोनयन के आधार पर छात्रसंघ के गठन के तहत चक्रधरनगर स्थित सेठ किरोड़ीमल कला एवं विज्ञान महाविद्यालय यानी कि डिग्री काॅलेज में मेरिट छात्रों द्वारा एनएसयूआई को समर्थन दिए जाने के बाद वहां इस छात्र संगठन का परचम लहरा गया है। काॅलेज परिसर में खुशियां मनाते एनएसयूआई छात्र नेताओं में उत्साह है। काॅलेज के सभागार में आयोजित किए गए शपथ ग्रहण समारोह में एनएसयूआई को समर्थन देने वाले सभी मेरिट स्टूडेंट्स को पद के हिसाब से दायित्वों के निर्वहन के लिए काॅलेज के प्राचार्य ने शपथ दिलाई। यहां आयोजित किए गए कार्यक्रम में काॅलेज के पैनल संघ के सभी पदों के साथ ही कक्षा प्रतिनिधियों को भी शपथ दिलाई गई। सभागार में काॅलेज के फैकल्टीस के साथ ही छात्र नेताओं और स्टूडेंट्स उपस्थित थे। इधर डिग्री काॅलेज में एनएसयूआई को मिली आशातीत जीत के बाद एनएसयूआई नेताओं ने भी सभी मेरिट स्टूडेंट्स का फूल मालाओं से सत्कार कर उनके समर्थन के लिए अभिवादन भी दिया और बधाई देकर काॅलेज के विकास में सहयोगी बनने की आस जताई है।

30-09-2019
सब्जी बेचने वाले के बेटे को भाजपा ने बनाया अपना उम्मीदवार

लखनऊ। हमीरपुर उपचुनाव के बाद भारतीय जनता पार्टी ने बाकी बची 10 सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं। इनमें सबसे ज्यादा चर्चा मऊ की घोसी सीट की हो रही है। ऐसा इसलिए क्योंकि बीजपी ने इस सीट से सब्जी बेचने वाले के बेटे को अपना उम्मीदवार बनाया है। घोसी सीट से बीजेपी के प्रत्याशी विजय राजभर हैं। विजय राजभर को फागू चौहान के बेटे का टिकट काटकर उम्मीदवार बनाया गया है। बीजेपी से टिकट मिलने पर विजय राजभर ने कहा, ''संगठन ने मुझे एक बड़ी जिम्मेदारी दी है, मेरे पिता मुंशी पुरा के पास फुटपाथ पर सब्जियां बेचते हैं, मैं पूरी कोशिश करूंगा कि उम्मीदों पर खरा उतरूं।"

पार्टी नेताओं ने घोसी विधानसभा सीट के विधायक फागू चौहान को बिहार राज्य का राज्यपाल बनाए जाने का उदाहरण देते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने उपचुनाव में पंडित दिनदयाल उपाध्याय के सपनों को साकार करते हुए सब्जी बेचने वाले के बेटे को अपना उम्मीदवार बनाया है। पंडित दिनदयाल उपाध्याय का सपना था कि समाज के अंतिम व्यक्ति को भी देश के उच्च पदों और समाज की मुख्यधारा से जोड़ा जाए। विजय राजभर मऊ में पार्टी के नगर अध्यक्ष के तौर पर सक्रिय भूमिका निभाते आए हैं। वो नगपालिका क्षेत्र के चुनाव में सहादतपुर से वार्ड मेंबर भी चुने गए थे। भारतीय जनता पार्टी से बेटे को टिकट मिलने की खुशी पिता नंद लाल के चेहरे पर साफ दिखाई दे रही है। लोग खुशी से फूले नहीं समा रहे। विजय राजभर के पिता ने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद दिया है। इसके साथ ही उन्होंने अपने बेटे को जीत का आशीर्वाद भी दिया। उत्तर प्रदेश की लखनऊ कैंट, बाराबंकी की जैदपुर, चित्रकूट की मानिकपुर, सहारनपुर की गंगोह, अलीगढ़ की इगलास, रामपुर, कानपुर की गोविंदनगर, बहराइच की बलहा, प्रतापगढ़, मऊ की घोसी और अंबेडकरनगर की जलालपुर विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं।

 

29-09-2019
आदित्य ठाकरे लड़ेंगे मुंबई की वर्ली सीट से विधानसभा चुनाव

मुंबई। महाराष्ट्र में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान हो गया है। रिपोर्ट के अनुसार शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे और युवा सेना चीफ आदित्य ठाकरे मुंबई की वर्ली सीट से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे।
अगर आदित्य ठाकरे चुनावी मैदान में उतर रहे हैं वह ठाकरे परिवार के पहले सदस्य होंगे, जो चुनाव लड़ रहे है। अब तक ठाकरे परिवार में से किसी ने भी चुनाव नहीं लड़ा है। ज्ञात हो कि महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग होनी है। जबकि 24 अक्टूबर को चुनाव के नतीजे आएंगे। चुनाव  के लिए नामांकन पत्र भरने की आखिरी तारीख 4 अक्टूबर को होगी। वही नाम वापस लेने की तारीख 7 अक्टूबर रखी गई है।

 

29-09-2019
कांग्रेस सचिव रवि पांडेय ने किया राशन कार्ड वितरण

जांजगीर चांपा। नवागढ़ ब्लाक के ग्राम पंचायत कुथुर में रविवार को छत्तीसगढ़ कांग्रेस के सचिव रवि पांडे ने लगभग 250 महिलाओं को राशन कार्ड अपने हाथों से वितरण किया। उनका कहना है कि हमारी सरकार हर काम को करने में खरी उतर रही है और वह अपने किए हुए वादे को बड़े ही निष्ठा पूर्वक निभा रही है। जिसके परिणाम हमें दंतेवाड़ा उपचुनाव में देखने को मिला। जनता ने हमें हमारे काम की सौगात इस चुनाव मे दिया है। हमारी पार्टी को भारी बहुमत से विजई बनाया इसके लिए हम सदा जनता के आभारी रहेंगे तथा जनता के काम को करने के लिए तत्पर हम तैयार रहें

29-09-2019
एक देश एक चुनाव के एजेंडे पर तेजी से बढ़ रही मोदी सरकार, जाने कब होगा एलान

नई दिल्ली। मोदी सरकार देश में एक साथ चुनाव कराने के अपने कोर एजेंडे की ओर तेजी से बढ़ रही है। संभावना है कि अगले वर्ष नवंबर तक राज्यसभा में एनडीए का बहुमत होने के बाद सरकार एक साथ चुनाव कराने के लिए आवश्यक संविधान संशोधन को पारित करने पर आगे बढ़ेगी। सरकार 2022 में आजादी की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर पूरे देश में 2023 में एक साथ चुनावों की घोषणा करने की संभावना बन सकती है। इसके लिए लोकसभा का कार्यकाल दो वर्ष कम किया जाएगा तथा विधानसभाओं का कार्यकाल कम या ज्यादा करने की बात होगी। एनडीए सरकार को सामान्य बहुमत राज्यसभा में अगले साल नवंबर में मिल जाएगा।

क्योंकि राज्यसभा की लगभग 55 सीटें असम, महाराष्ट्र, झारखंड, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल, उत्तराखंड सीटें वर्ष 2020 अप्रैल में खाली हो रही हैं। अकेले यूपी से 10 सीटें हैं और एक को छोड़ ये सभी सीटें भाजपा द्वारा जीते जाने की संभावना है क्योंकि भाजपा की प्रदेश में दो तिहाई बहुमत (309 सीटें) की सरकार है। भाजपा का जोर पार्टी के स्तर पर बहुमत लेने का है, मगर इसमें उसे वर्ष 2021-22 तक इंतजार करना होगा। अगले साल भाजपा असम, ओडिशा, हिमाचल और उत्तराखंड से भी कुछ सीटें हासिल कर सकती है। कुछ राज्यसभा सीटें वह मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में खोएगी। सरकारों को स्थायित्व देने के लिए दल बदल कानून को भी सरकार को देखना पड़ेगा। सदस्यों को एक दल से दूसरे दल में आना जाना उदार करना होगा। एकसाथ चुनाव कराने को जहां मानव संसाधनों और कोष की भारी बचत होगी, वहीं कुछ दिक्कतें भी सामने आएंगी। जैसे, मिलीजुली सरकार बनने पर कोई दल समर्थन वापस लेता है और सरकार को अल्पमत में ले आता है तो क्या होगा। हालांकि इसे मुद्दे का हल समर्थन वापस लेने वाले दल पर वैकल्पिक सरकार बनाने की शर्त रख कर किया जा सकता है। या राज्य को राष्ट्रपति शासन के अधीन रखा जा सकता है या वहां दोबारा चुनाव करवाए जा सकते हैं जो बचे हुए कार्यकाल के लिए होंगे।  

Advertise, Call Now - +91 76111 07804