GLIBS
05-07-2020
सोशल मीडिया पर दोस्ती पड़ी महंगी,शादी से पहले मेकअप कराने ब्यूटी पार्लर गई दुल्हन की सिरफिरे युवक ने की हत्या

भोपाल। मध्यप्रदेश के रतलाम जिले के जावरा कस्बे में शादी से पहले मेकअप कराने पहुंची दुल्हन की एक सिरफिरे ने धारदार हथियार से गर्दन पर प्रहार कर हत्या कर दी। हत्यारा युवती का सोशल मीडिया फ्रेंड बताया जा रहा है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार शाजापुर निवासी युवती की नागदा निवासी युवक के साथ रविवार को विवाह होने वाला था। युवती का परिवार जावरा पहुंचा था और शादी की तैयारियों में लगा था। दुल्हन वैवाहिक रस्म से पहले तैयार होने ब्यूटी पार्लर पहुंची। वहां एक युवक भी पहुंचा। उसने युवती को पार्लर के बाहर से फोन लगाया और सीधे अंदर जा पहुंचा।

उसके बाद कोई कुछ समझ पाता कि उससे पहले युवक ने युवती की गर्दन पर धारदार हथियार से प्रहार कर दिया। गंभीर रूप से घायल युवती की कुछ देर बाद मौत हो गई।जावरा क्षेत्र के नगर पुलिस अधीक्षक पीएस राणावत ने बताया कि युवती एक ब्यूटी पार्लर में मेकअप कराने आई थी, तभी एक युवक ने गला रेतकर हत्या कर दी। पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है। पुलिस केा आशंका है कि यह मामला प्रेम-प्रसंग से जुड़ा हुआ है।वहीं सूत्रों का कहना है कि युवती की किसी युवक से सोशल मीडिया पर दोस्ती हुई थी और उसके बाद दोनों की प्रगाढ़ता बढ़ी। जब युवती शादी करने जा रही थी तभी उस सिरफिरे आशिक ने उसकी जान ले ली।

02-07-2020
शादी का झांसा देकर नाबालिग से दुष्कर्म करने वाला आरोपी गिरफ्तार

धमतरी। शादी करने का प्रलोभन देकर दुष्कर्म करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मिली जानकारी के अनुसार थाना मगरलोड चौकी करेली बड़ी क्षेत्रांतर्गत 26 जून को एक नाबालिग के घर से बिना बताए कहीं चले जाने की रिपोर्ट परिवार वालों ने दर्ज कराई थी। परिजनों नाबालिग पुत्री को किसी अज्ञात व्यक्ति के द्वारा बहला-फुसलाकर अपहरण करने की भी शिकायत दर्ज कराई थी। इसी दौरान सूचना मिली कि अपहृत नाबालिग को ग्राम चंद्रसुर निवासी यशवंत निषाद बहला-फुसलाकर अपने साथ भगाकर घर में रखा है। इस पर पुलिस ने संदेही यशवंत निषाद के घर में दबिश देकर अपहृत नाबालिग बालिका एवं संदेही यशवंत निषाद को पकड़ा। इसे अभिरक्षा में लेकर पूछताछ की गई। यशवंत निषाद ने उक्त नाबालिग को अपने साथ भगाकर लाना तथा उसे अपने पास रखना बताया, जिस पर अपहृत नाबालिग बालिका को उसके कब्जे से बरामद कर नाबालिग से पूछताछ की गई। बालिका ने बताया कि शादी कर पत्नि बनाकर रखने का झांसा देकर बहला-फुसलाकर अपने साथ भगा कर लाया और दैहिक शोषण किया। पीड़िता के कथन एवं उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर मामले में धारा 366, 376 भादवि एवं लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम की धारा 6 जोड़ते हुए आरोपी यशवंत निषाद उम्र 21 वर्ष थाना मगरलोड को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश कर ज्युडिशियल रिमांड प्राप्त की गई। नाबालिग बालिका को उसके परिजनों को सुपुर्द किया गया है। मामले की जांच जारी है।

30-06-2020
शादी बनी संक्रमण का कारण, 100 से ज्यादा लोग पाए गए पॉजिटिव, दूल्हे की मौत

पटना। बिहार की राजधानी पटना में एक शादी समारोह ने कोरोना की चेन तैयार की दी, जिसे तोड़ने के लिए प्रशासन का काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। पालीगंज में एक शादी समारोह में भाग लेने वाले अब तक 100 से ज्यादा लोगों को संक्रमित पाया गया है। इस क्रम में दूल्हे की भी मौत हो गई है, जबकि हलवाई, नाई कोरेाना पॉजिटिव पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि सोमवार को एक साथ इस समारोह में भाग लेने वाले 79 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए। इससे पहले भी 24 से ज्यादा लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं। पटना से तकरीबन 50 किलोमीटर दूर पालीगंज के डीहपाली गांव के रहने वाले शख्स गुरुग्राम में सॉफ्टवेयर इंजीनियर का काम करते थे। शादी करने के लिए 12 मई को पटना अपने गांव डीहपाली आए थे। उनकी शादी 15 जून को हुई, जिसमें बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।

दो दिनों के बाद दूल्हे की मौत हो गई। इसकी भनक जब प्रशासन को हुई तब समारोह में भाग लेने वालों की कोरोना जांच प्रारंभ हुई। इस संक्रमण चेन से एक साथ 79 कोरोना संक्रमित मिले। समारोह में शामिल 369 लोगों की जांच में 79 संक्रमित पाए गए हैं। जबकि 24 पहले संक्रमित हो चुके हैं। इस समारोह में शामिल हुए 100 से ज्यादा लोग अब तक  क्रमित मिल चुके हैं। पालीगंज अनुमंडलीय स्वास्थ्य प्रबंधक प्रजित कुमार ने बताया कि कुछ मरीजों को बमेती, फुलवारीशरीफ भेजा गया है और अधिकांश को बिहटा भेजा गया है। पालीगंज के प्रखंड विकास पदाधिकारी चिरंजीव पांडेय ने मंगलवार को बताया कि कई मुहल्लों को सील किया जा रहा है।

 

21-06-2020
दैहिक शोषण का आरोपी कर रहा था दूसरी शादी, पुलिस ने मंडप से उठाया

अंबिकापुर। थाना उदयपुर क्षेत्र की रहने वाली एक युवती ने ग्राम थोर निवासी युवक अजय राजवाड़े पर शादी का झांसा देकर दैहिक शोषण करने का आरोप लगाया था। युवती ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी की युवक 4 साल से युवक उसका दैहिक शोषण कर रहा था। आरोपी अजय राजवाड़े इसी बीच बलरामपुर जिले के रेवतपुर में किसी दूसरी लड़की से शादी करने के लिए बारात लेकर गया हुआ था। इसकी जानकारी मिलने पर उदयपुर पुलिस रेवतपुर पहुंची और शादी स्थल से युवक को थाना लेकर आई। उदयपुर थाना में धारा 376 का अपराध पंजीबद्ध है आगे की कार्यवाही पुलिस द्वारा जारी है।  

 

21-06-2020
शादी के लिए नहीं मानी युवती तो युवक ने की मारपीट, जान से मारने की दी धमकी, एफआईआर दर्ज

महासमुन्द। शादी से इंकार करने पर युवती के साथ मारपीट कर जान से मारने की धमकी देने वाले युवक के खिलाफ पिथौरा पुलिस ने 294, 323, 506 दर्ज कर मामले को विवेचना में ले लिया है। पिथौरा पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पिथौरा थाना क्षेत्र वार्ड नं 4 की 20 वर्षीय युवती के साथ शुक्रवार रात युवक हिमांशु धरडे पहुंचा और युवती को शादी करने का ऑफर किया। युवती ने युवक के शादी के प्रस्ताव को मानने से इंकार कर दिया। इस पर गुस्साएं युवक ने युवती के साथ मारपीट कर जान से मारने की धमकी दी। साथ ही युवती का फोटो सोशल मीडिया में वायरल करने की धमकी दे कर युवक चला गया। शनिवार की सुबह युवती ने पिथौरा पुलिस में युवक के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। पुलिस ने युवती की रिपोर्ट पर आरोपी युवक के खिलाफ 294, 323, 506 का मामला दर्ज कर मामले को जांच में लिया है।

15-06-2020
Video: बाल विवाह रुकवा कर प्रशासन ने बेरंग लौटाई बारात

गरियाबंद। छुरा पुलिस, चाइल्ड लाइन और जिला बाल संरक्षण इकाई की संयुक्त टीम ने छुरा ब्लाक के ग्राम पंचायत पिपरहट्टा के देवगांव में बाल विवाह हो रोकने में सफलता हासिल की है। रविवार को विवाह की सारी तैयारियां हो चुकी थी। बारात पहुंच चुकी थी जिसे इस टीम ने युवती की उम्र कम पाए जाने के बाद बरात को बिना विवाह के वापस धमतरी मगरलोड भेज दिया। जानकारी के मुताबिक ग्राम देवगांव की नाबालिगयुवती का विवाह धमतरी जिले के मगरलोड थाना एक युवक के साथ तय था। इस दौरान शादी को लेकर तमाम तैयारिया पूरी हो चुकी थी।

रविवार दोपहर बारात पक्ष भी गांव पहुच चुका था। लेकिन शादी का कार्यक्रम विधिवत शुरू होता इसके पहले ही मुखबिर की सूचना पर महिला बाल विकास अधिकारी जगरानी एक्का के मार्गदर्शन में जिला बाल संरक्षण अधिकारी अनिल द्विवेदी, फणींद्र जयसवाल संरक्षण अधिकारी गैर संस्थागत कुलेश्वर साहू चाइल्डलाइन मेंबर पर पुलिस, चाइल्ड लाइन और जिला बाल संरक्षण इकाई की संयुक्त रेस्क्यू टीम मौके पर पहुँच गई। थाना प्रभारी राजेश जगत और चाइल्ड लाइन के काउंसलर तुलेश्वर साहू और जिला बाल संरक्षण इकाई के फरनिंद्रा जयसवाल व बलीराम ने दोनों पक्षों को समझाईश देते हुए बाल विवाह रूकवाया और बाराती पक्ष को वापस धमतरी रवाना किया।

इसके पहले उन्होंने दोनों पक्षों को बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम की जानकारी देते हुए बताया कि इस प्रकार का कृत्य कानून अपराध है। 18 वर्ष पूर्ण होने के बाद ही युवती तथा 21 वर्ष पूर्ण होने के बाद ही युवक का विवाह किया जा सकता है। जिला बाल संरक्षण अधिकारी अनिल द्विवेदी ने बताया कि बालिका की उम्र 17 वर्ष एक माह पाई गई है। पंचायत प्रतिनिधियों और ग्रामीणों की उपस्थिति में पंचनामा बनाकर बाल विवाह रोका गया। ग्रामीणों को समझाईश दी कि बाल विवाह का आयोजन ना करें, ऐसी सूचना पर तत्काल पुलिस व चाइल्ड लाइन को 1098 नंबर पर सुचित करे।

10-06-2020
लॉक डाउन के नियमों का उल्लंघन, दुल्हन के पिता पर केस दर्ज

रायपुर। बेटी की शादी में अधिक लोगों को बुलाना पिता को भारी पड़ गया। मामला गोबरा नवापारा के शीतलापारा का है। दुल्हन के पिता फागूराम सोनकर के खिलाफ लॉक डाउन नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में अपराध पंजीबद्ध किया गया है। बता दें कि शासन ने शादी समारोह के आयोजन की अनुमति भले ही दी है लेकिन वर-वधु पक्ष को समारोह में सीमित अधिकतम 50 लोगों के शामिल होने का नियम बनाया है। नियमों के उल्लंघन पर अपराध पंजीबद्ध किया जा रहा है। गोबरा नयापारा के पटवारी की रिपोर्ट पर दुल्हन के पिता के खिलाफ जुर्म दर्ज किया गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि गोबरा नवापारा में कोरोना के चार एक्टिव केस मिला है, जिसके कारण कंटेनमेंट जोन बनाकर बेरीकेटिंग किया गया है। जिस क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है, वहीं पर 9 जून को फागुराम सोनकर की बेटी की शादी थी।


एसडीएम और सीएमओ नगर पालिका की टीम, राजस्व अमला और पुलिस बल कंटेनमेंट जोन का भ्रमण कर रहे थे। इस टीम ने देखा कि शीतलापारा वार्ड क्रमांक 20 में फागुराम पिता घसिया राम सोनकर द्वारा अपनी पुत्री की शादी की जा रही है। दुर्ग निवासी चंद्रिका पिता फगुवा राम सोनकर से उसकी पुत्री की शादी हो रही थी। दुर्ग से बाराती 15 लोग आए थे। घर में रिश्तेदार 50 लोग शामिल हुए थे। निरीक्षण के समय वैवाहिक कार्यक्रम और भोज चल रहा था जिसमें लॉक डाउन नियमों का उल्लंघन करते हुए फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा था। विवाह स्थल कंटेनमेंट जोन के अंतर्गत होने के बावजूद जबरदस्ती बराती और दूसरे रिश्तेदार व पंडित, विडियोग्राफर बेरीकेट को पार करके शादी समारोह में शामिल हुए थे। लॉक डाउन के नियमों का उल्लंघन पाए जाने पर फगुराम सोनकर पिता घसिया राम सोनकर निवासी बगदेही वार्ड क्रमांक 20 गोबरा नवापारा के विरूद्ध भारतीय दण्ड सहिता की धारा 188, 269 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

22-05-2020
शादी और अंतिम संस्कार के लिए तहसीलदार से मिलेगी अनुमति, कलेक्टर ने दिए निर्देश

रायपुर। लॉक डाउन की अवधि में रायपुर जिले में शादी और अंतिम संस्कार के लिए तहसीलदार से अनुमति लेनी होगी। कलेक्टर डॉ.एस.भारतीदासन ने इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं। कलेक्टर ने तहसीलदारों को उनके क्षेत्र के संबंधित व्यक्तियों के आवेदन के लिए अधिकृत किया है। कलेक्टर ने निर्देश दिया है कि विवाह के लिए फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए एक समय में अधिकतम 10 व्यक्तियों को उपस्थित रहने की अनुमति दी जा सकती है। इसी तरह तहसीलदार अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए एक समय में अधिकतम 20 व्यक्तियों को अनुमति प्रदान कर सकते हैं।
कलेक्टर ने रायपुर तहसील के लिए अमित कुमार बेक, तिल्दा तहसील के लिए राकेश ध्रुव ,आरंग तहसील के लिए नरेंद्र कुमार बंजारा और अभनपुर तहसील के लिए शशिकांत कुर्रे को अधिकृत किया है।

 

18-05-2020
जानें लॉक डाउन 4.0 में शादी को लेकर क्या है सरकार का  आदेश, हो सकते हैं इतने लोग शामिल?

नई दिल्ली। देश में लॉक डाउन को 31 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है। सोमवार से लॉक डाउन 4.0 देश भर में प्रभावी हो गया है। लॉक डाउन 3.0 की मियाद रविवार 17 मई को खत्म हो चुकी है। बता दें कि लॉक डाउन 4.0 को लेकर केंद्र सरकार ने गाइडलाइंस भी जारी कर दी है। लॉक डाउन 4.0 में आर्थिक गतिविधियों को लेकर कई तरह छूट भी दी गई है, लेकिन स्कूल, कॉलेज, सिनेमाघर, मेट्रो, हवाई सेवा आदि पर प्रतिबंध पहले की तरह जारी रखा गया है।

शादी के आयोजनों में 50 लोग हो सकते हैं शामिल :

सरकार की गाइडलाइंस में शादी को लेकर कहा गया है कि इस पर रोक नहीं है, लेकिन 50 से अधिक लोग शादी समारोह में शामिल नहीं हो सकते हैं। वहीं अंतिम संस्कार में 20 से अधिक लोग शामिल नहीं हो सकते हैं। शादी और अंतिम संस्कार को लेकर लॉक डाउन 3 के नियम को ही जारी रखा गया है। गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि ”शादी से जुड़े समारोह का आयोजन सोशल डिस्टेंशिंग का पालन करते हुए किया जा सकता है। लेकिन अधिकतम 50 मेहमानों को ही शामिल होने की अनुमति होगी।” अंतिम संस्कार को लेकर भी गृह मंत्रालय ने कहा है कि अंतिम संस्कार में भी सोशल डिस्टेंशिंग का पालन सुनिश्चत करते हुए अधिकतम 20 लोग ही शामिल हो सकते हैं।

बाहर निकलने से पहले मास्क कवर लगाना अनिवार्य है। बार-बार साबुन से हाथ धोने या सैनिटाइज करने के अलावा दो गज की दूरी बनाए रखने की सलाह दी गई है। इसके अलावा सभी तरह के सामाजिक, राजनीतिक और धार्मिक समारोह पर प्रतिबंध को जारी रखा गया है। मंदिर, मस्जिद, चर्च सहति सभी प्रार्थना स्थलों को भी बंद रखने का आदेश दिया गया है। आवश्यक सेवाओं के अलावा अन्य सभी लोगों के लिए शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे के बीच देश भर में घरों से बाहर निकलने पर पाबंदी होगी। बता दें कि देश भर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 96,169 हो गई है, जिनमें 56,316 सक्रिय हैं, 36,824 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 3,029 लोगों की मौत हो चुकी है।

14-05-2020
शादी का झांसा देकर युवती से दुष्कर्म, आरोपी गिरफ्तार

रायपुर/बिलासपुर। शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने की शिकायत युवती ने दर्ज कराई थी। इस पर पुलिस ने आरोपी युवकों को गिरफ्तार कर लिया है। सरकण्डा क्षेत्र की युवती से नूतन कालोनी निवासी युवक ने पहले दोस्ती की और फिर शादी करने का झांसा देकर दुष्कर्म किया। युवती ने जब शादी के लिए दबाव बनाया तब युवक मुकर गया। युवती की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है।  

10-05-2020
मई महीने के दूसरे रविवार को ही क्यों मनाया जाता है मदर्स डे, आईए जानते है...

नई दिल्ली। मई महीने में दूसरे हफ्ते के रविवार को मदर्स डे के तौर पर मनाया जाता है। मां के लिए कोई एक दिन नहीं होता है, वो अलग बात है कि एक खास दिन को मां के नाम निश्चित कर दिया गया है। इस वर्ष ये खास दिन 10 मई यानी आज मनाया जा रहा है। अपनी हर तकलीफें एक तरफ कर बच्चों की हर खुशी का ध्यान रखने वाली मां के साथ इस खास दिन को बिताना चाहिए। मदर्स डे लोगों को अपनी भावनाओं को जाहिर करने का मौका देता है। ज्यादातर देशों में मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता है। लेकिन कई देशों में इस खास डे को अलग-अलग तारीखों पर भी मनाया जाता है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि इस खास दिन की शुरुआत कैसे हुई?

ऐसे हुई मदर्स डे की शुरुआत :

मदर्स डे को लेकर कई मान्यताएं हैं। कुछ का मानना है कि मदर्स डे के इस खास दिन की शुरुआत अमेरिका से हुई थी। वर्जिनिया में एना जार्विस नाम की महिला ने मदर्स डे की शुरुआत की। कहा जाता है कि एना अपनी मां से बहुत प्यार करती थी और उनसे बहुत प्रेरित थी। उन्होंने कभी शादी नहीं की और मां का निधन हो जाने के बाद उनके प्रति सम्मान दिखाने के लिए इस खास दिन की शुरुआत की। ईसाई समुदाय के लोग इस दिन को वर्जिन मेरी का दिन मानते हैं। यूरोप और ब्रिटेन में मदरिंग संडे भी मनाया जाता है। मां का सभी के जीवन में योगदान अतुलनीय है। फिर चाहे उसे ऑफिस और घर दोनों जगह में संतुलन क्यों ना बैठना पड़ा हो, मां ने कभी भी अपनी जिम्मेदारियों से मुंह नहीं मोड़ा है। 9 मई 1914 को अमेरिकी प्रेसिडेंट वुड्रो विल्सन ने एक कानून पारित किया था। इस कानून में लिखा था कि मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाएगा। इसी के बाद से भारत समेत कई देशों में ये खास दिन मई के दूसरे रविवार को मनाया जाने लगा। तो इस मदर्स डे के खास मौके पर अपनी मां के साथ समय बिताएं, वो सब करें जो व्यस्त होने के कारण आप नहीं कर पाते और मां को खास तोहफे देकर जरूर खुश करें।

07-05-2020
हो गई शादी पर नहीं पहुंचे पाए घर, विवाहित जोड़े को जाना पड़ा क्वारेंटाइन सेंटर में

कोरिया। मनेंद्रगढ़ निवासी सुनील गुप्ता को सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए शादी करने की प्रशासन से अनुमति मिल गई। किसी तरह शादी भी हो गई, दुल्हन मायके से विदा भी हुई पर ससुराल नहीं पहुंच पाई और दूल्हा अपने घर तक नहीं जा सका।मिली जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश के नरोजाबाद में हुई शादी के बाद जब विवाहित जोड़ा छत्तीसगढ़ के मनेंद्रगढ़ पहुंचा तो शहर की सीमा में तैनात पुलिस टीम ने उन्हें घर जाने की अनुमति नहीं होने की बात बताते हुए प्रशासन द्वारा बनाए गए क्वारेटाइन सेंटर में 14 दिन के लिए रहने की जानकारी दी।दरअसल सुनील गुप्ता की शादी 6 मई को सुमन से नरोजाबाद में हुई, जिसमें दोनों पक्ष को मिलाकर कुल 9 लोग शामिल हुए। सुनील एक गाड़ी में अपनी मां और छोटे भाई के साथ बारात लेकर गया था। जब वह अगले दिन अपनी दुल्हन को लेकर वापस लौटा तो वह विवाह के बाकी बचे रीति रिवाज पूरे करने घर तक नहीं पहुंच पाया। उसे अपनी दुल्हन के साथ 14 दिन के लिए क्वारेंटाइन में जाना पड़ा। जब इसकी जानकारी कोरिया कलेक्टर डोमन सिंह तक पहुंची तो उन्होंने तत्काल पूरे परिवार को होम क्वारेंटाइन करने निर्देश दिया। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804