GLIBS
12-10-2019
पीएम मोदी और चिनफिंग ने माना दुनिया में आतंकवाद की चुनौतियों से निपटना महत्वपूर्ण

चेन्नई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच बैठक समाप्त हो गई है। विदेश सचिव विजय गोखले ने शनिवार को बैठक के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि पीएम मोदी और चिनफिंग ने इस बात पर सहमति जताई कि दुनिया में आतंकवाद और कट्टरता की चुनौतियों से निपटना महत्वपूर्ण है। गोखले ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा,'दोनों नेताओं ने इस बात पर सहमति जताई है कि दुनिया में आतंकवाद और कट्टरता की चुनौतियों से निपटना जरुरी है। दोनों ऐसे देशों के नेता हैं, जो न केवल क्षेत्रों और आबादी के मामले में बड़े हैं, बल्कि विविधता के मामले में भी बड़े हैं।'
उन्होंने कहा, 'चर्चाएं बहुत खुली और सौहार्दपूर्ण थीं। कट्टरता दोनों के लिए एक प्रमुख चिंता का विषय है और दोनों इस चुनौती का मिलकर सामना करेंगे। गोखले ने कहा,'दोनों नेताओं ने व्यापार पर भी चर्चा की। यह मुद्दा भी बेहद जरुरी था। राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पीएम मोदी की बात सुनने के बाद आश्वासन दिया कि चीन इस संबंध में ईमानदारी से कदम उठाने और व्यापार में नुकसान को कम करने को लेकर गंभीरता से चर्चा करने के लिए तैयार है।' इसके अलावा दोनों नेताओं ने अर्थव्यवस्था से संबंधित मामलों पर भी चर्चा की। दोनों नेताओं ने एक साथ पांच घंटे बिताए। गोखले ने बताया कि भारत और चीन ने बड़े स्तर पर व्यापार, निवेश और सेवाओं पर चर्चा करने के लिए एक नया मैकेनिजम स्थापित करने का निर्णय लिया है। बता दें कि दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे तक बैठक हुई।
दो दिवसीय भारत-चीन अनौपचारिक शिखर सम्मेलन को समाप्त करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को चेन्नई हवाई अड्डे से दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। वहीं, कुछ देर पहले चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग भी अपने नेपाल दौरे के लिए चेनई से रवाना हो गए हैं। गोखले ने बताया कि प्रधानमंत्री ने चीन में तीसरे अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के लिए राष्ट्रपति शी के निमंत्रण को भी स्वीकार किया है।

08-10-2019
तेज हुई व्यापारिक जंग, अमेरिका ने किया चीन की 28 संस्थाओं को ब्लैक लिस्ट

 नई दिल्ली। अमेरिकी वाणिज्य मंत्रालय ने चीन के अशांत शिनजियांग क्षेत्र में उइगर मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों को निशाना बनाने तथा उनके साथ दुर्व्यवहार करने के मामले में चीन की 28 संस्थाओं को ब्लैक लिस्ट में डाला दिया। अमेरिका के वाणिज्य मंत्री विल्बर रोस ने इस फैसले की घोषणा की। इससे ये संस्थाएं अब अमेरिकी सामान नहीं खरीद पाएंगी। माना जा रहा है कि इससे दोनों देशों के बीच व्यापारिक जंग और तेज होने जा रही है। रॉस ने कहा कि अमेरिका ‘चीन के भीतर जातीय अल्पसंख्यकों के क्रूर दमन को बर्दाश्त नहीं करता है और ना ही करेगा।’ अमेरिकी फेडरल रजिस्टर में अद्यतन की गई जानकारी के अनुसार काली सूची में डाली कई संस्थाओं में वीडियो निगरानी कम्पनी ‘हिकविजन’, कृत्रिम मेधा कम्पनियां ‘मेग्वी टेक्नोलॉजी’ और ‘सेंस टाइम’ शामिल हैं।
एशियन इकॉनोमिक सेंटर फॉर स्ट्रेटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज के वरिष्ठ सलाहकार मैथ्यू गुडमैन ने कहा, ‘मुझे लगता है कि इस सप्ताह यह चर्चाओं को जटिल बनाने वाला है। समय चीनियों के लिए चिंताजनक होने वाला है। द वॉल स्ट्रीट जनरल में छपी एक खबर के मुताबिक ब्लैक लिस्ट में जिन संस्थानों को शामिल किया गया है उनमें हिकविजन के अलावा मेगवी टेक्नोलॉजी, सेंस टाइम ग्रुप लिमिटेड शामिल हैं। जानकारी के मुताबिक अमेरिका चीनी कंपनी डाहुआ टेक्नोलॉजी कंपनी, जियामी मिया पिको सूचना कंपनी, यितु टेक्नोलॉजीज एंड यिक्सिन साइंस एंड टेक्नोलॉजी कंपनी, कॉमर्स डिपार्टमेंट के साथ-साथ झिंजियांग पब्लिक सिक्योरिटी ब्यूरो और 19 मातहत संस्थाओं इस सूची में शामिल करेगा। एक दस्तावेज में कहा गया कि नई नीतियों को इस सप्ताह के आखिर तक प्रभावी रूप से लागू किया जाएगा।।

 

30-09-2019
ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण, मारक क्षमता अचूक

नई दिल्ली। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने सोमवार को ओडिशा तट से जमीन पर मार करने वाली ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया। खास बात ये है कि यह ऐसी क्रूज मिसाइल है, जिसे थल, जल और हवा से दागा जा सकता है। इसकी मारक क्षमता अचूक है। आपको बता दें कि 8.4 मीटर लंबी और 0.6 मीटर चौड़ी यह मिसाइल 300 किलोग्राम वजन तक विस्फोटक ले जाने में सक्षम है। मिसाइल का वजन तीन हजार किलोग्राम है और 350 किलोमीटर तक मार करने में सक्षम है। यह आवाज की गति से भी 2.8 गुना तेज गति से मार करती है। वर्तमान में चीन और पाकिस्तान के पास अभी तक ऐसी मिसाइल नहीं है जिसे जमीन, समुद्र और आसमान तीनों जगहों से दागा जा सके। वर्तमान में भारत और रूस इस मिसाइल की मारक दूरी बढ़ाने के साथ इसे हाइपरसोनिक गति पर उड़ाने पर भी काम कर रहे हैं।

आने वाले दिनों में भारत और रूस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की रेंज को 290 किलोमीटर से बढ़ाकर 600 किलोमीटर करने की दिशा में काम करेंगे। इससे न केवल पूरा पाकिस्तान इस मिसाइल की जद में होगा बल्कि कोई भी टारगेट पलभर में इस मिसाइल से तबाह किया जा सकेगा। ब्रह्मोस कम दूरी की रैमजेट इंजन युक्त, सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है। इसे पनडुब्बी से, पानी के जहाज से, लड़ाकू विमान से या जमीन से दागा जा सकता है। ब्रह्मोस मिसाइल को दिन अथवा रात तथा हर मौसम में दागा जा सकता है। इस मिसाइल की मारक क्षमता अचूक होती है।

28-09-2019
आईएनएस खंडेरी नौसेना में शामिल, नहीं आएगी दुश्मनों के पकड़ में

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह नौसेना के लिए तीन परियोजनाओं का शुभारंभ करने मुंबई पहुंचे, जहां उन्होंने स्कॉर्पियन क्लास की पनडुब्बी आईएनएस खंडेरी को हरी झंडी दिखा कर नौसेना में कमीशन कर दिया। अत्याधुनिक तकनीक और फीचरों वाली यह पनडुब्बी चीन, पाकिस्तान या अन्य किसी भी देश के रडार की पकड़ में नहीं आएगी। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह होगी कि यह किसी भी रडार की पकड़ में नहीं आएंगी। यह स्टेल्थ और एयर इंडिपेंडेंट प्रॉपल्शन जैसे कई तरह की तकनीकों और अत्याधुनिक फीचरों से लैस है जिससे इसका पता लगाना दुश्मनों के लिए आसान नहीं होगा। यह टॉरपीडो और ट्यूब लॉन्च्ड एंटी-शिप मिसाइल से हमला करने में सक्षम है। युद्ध की स्थिति में यह पनडुब्बी हर तरह की अड़चनों से सुरक्षित और बड़ी आसानी से दुश्मनों को चकमा देकर बाहर निकल सकती है। इसके अलावा इससे जमीन पर भी आसानी से हमला किया जा सकता है। इस पनडुब्बी का इस्तेमाल हर तरह के वॉरफेयर, ऐंटी-सबमरीन वॉरफेयर और इंटेलिजेंस के काम में भी किया जा सकता है। यह हमला टॉरपीडो से भी किया जा सकता है और ट्यूब-लॉन्च पोत विरोधी मिसाइलों से भी। रडार से बच निकलने की क्षमता इसे अन्य कई पनडुब्बियों की तुलना में अभेद्य बनाएगी। खंडेरी पनडुब्बी हर तरह के मौसम और युद्धक्षेत्र में संचालन कर सकती है। नौसैन्य कार्यबल के अन्य घटकों के साथ इसके अंतर्संचालन को संभव बनाने के लिए और संचार उपलब्ध बनाए गए हैं। यह किसी भी अन्य पनडुब्बियों द्वारा अंजाम दिए जाने वाले विभिन्न प्रकार के अभियानों को अंजाम दे सकती है। इन अभियानों में सतह-रोधी युद्धक क्षमता, पनडुब्बी-रोधी युद्धक क्षमता, खुफिया जानकारी जुटाना, क्षेत्र की निगरानी करना शामिल हैं। इनमें रडार से बच निकलने की इसकी उत्कृष्ट क्षमता और सधा हुआ वार कर दुश्मन पर जोरदार हमला करने की योग्यता शामिल है। भारतीय नौसेना ने समुद्र में स्कॉर्पियन श्रेणी की दूसरी पनडुब्बी आईएनएस खंडेरी को शामिल करने से इनकार कर दिया था। नौसेना को समुद्र में यूजर ट्रायल के दौरान इस पनडुब्बी के इंजन से ज्यादा आवाज आने की शिकायत थी। इस कारण खंडेरी को देरी से नौसेना में कमीशन किया जा रहा है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मुंबई में शनिवार को स्कॉर्पियन क्लास की दूसरी पनडुब्बी आईएनएस खंडेरी को नौसेना में कमीशन किया। इसके अलावा  पी-17ए सीरीज का पहला युद्धपोत आईएनएस नीलगिरि को भी लॉन्च किया गया। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने मुंबई में आईएनएस खंडेरी को नौसेना में शामिल करने के दौरान कहा कि यह बेहद गर्व की बात है कि भारत उन चुनिंदा देशों में है जो अपनी पनडुब्बियों का निर्माण खुद कर सकता है। उन्होंने कहा कि हमारे क्षेत्र में जो भी शांति भंग करेगा भारतीय नौसेना उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी। उन्होंने कहा कि कुछ ऐसी ताकतें हैं जो भारत के तटीय क्षेत्र में मुंबई जैसे हमले दोबारा करना चाहती है, हम ऐसा होने नहीं देंगे।

18-09-2019
थलसेना, वायुसेना ने चीनी सीमा से लगे ईस्टर्न लद्दाख में किया युद्ध अभ्यास

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना और सेना के जवानों ने बीते कल ईस्टर्न लद्दाख के इलाके में जमकर युद्ध का अभ्यास किया। इस अभ्यास सत्र में सेना और वायुसेना की कई टुकड़ियां शामिल थी। चीन के साथ सटे लद्दाख के इस हिस्से के साथ भारतीय सेना के जवानों की इस एक्सरसाइज़ का रणनीतिक रूप से काफी महत्व है। ऐसा पहली बार हुआ है जब भारतीय सेना के जवानों ने इस हिस्से में किसी तरह की एक्सरसाइज़ को अंजाम दिया है। नॉर्थन कमांड के लेफ्टिनेंट जनरल रणवीर सिंह भी इस अभ्यास के गवाह बने। रिपोर्ट के अनुसार इसका वीडियो भी जारी किया गया है। बता दें कि चीनी सेना लगातार इस हिस्से में घुसपैठ करने की कोशिश करती रही है, कई बार यहां दोनों सेना के जवान आमने-सामने भी हुए हैं। अभ्यास के दौरान भारतीय सेना के जवानों ने आधुनिक तकनीक के हथियारों और सामग्री का उपयोग किया।

 

 

04-09-2019
भाजपा सांसद ने कहा- अरुणाचल की सीमा के अंदर घुस चुका है चीन   

नई दिल्ली। अरुणाचल प्रदेश के चगलगाम में एक नदी के ऊपर चीन द्वारा पुल बनाए जाने को लेकर बुधवार को भाजपा सांसद तापिर गाओ ने कहा कि मैकमोहन रेखा चगलगाम से करीब 100 किलोमीटर की दूरी पर है। ऐसे में अगर चाइना चगलगाम से 25 किलोमीटर की दूरी पर भी पुल का निर्माण करता है तो इसका मतलब है कि वह हमारी सीमा से 60-70 किलोमीटर अंदर घुस चुका है। सांसद तापिर गाओ ने कहा कि मैं इसके लिए सेना पर या उस इलाके में गश्त करने वाली टीमों पर उंगली नहीं उठा रहा हूं, क्योंकि उन इलाकों में पेट्रोलिंग करने के लिए सड़कें ही नहीं हैं तो सुरक्षा बल वहां का जायजा कैसे लेंगे? सरकार पर भरोसा जताते हुए भाजपा सांसद ने कहा कि मुझे सरकार पर विश्वास है। मैं चाहता हूं कि सरकार इस मामले का संज्ञान ले। मैं खुद भी इस पर काम करूंगा। उन्होंने कहा कि इन इलाकों में सड़कें बनाने की सख्त जरूरत है।

26-07-2019
अंतरिक्ष अभियानों में चीन ले सकता है भारत की मदद

नई दिल्ली। चीन ने भारत के साथ अंतरिक्ष के क्षेत्र में मिलकर काम करने की पेशकश की है। ऐसा भारत की अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के चंद्रयान-2 की सफल लॉन्चिंग के तुरंत बाद हुआ है। हाल ही प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत की अंतरिक्ष में खोज का अभियान अंतरराष्ट्रीय स्पेस कॉर्पोरेशन और चीन के साथ मिलकर अंतरिक्ष में चल रही खोजों को और मजबूत बना सकता है। साथ ही चीन और भारत के एक-दूसरे पर विश्वास से भविष्य की तकनीकों के विकास में भी आर्थिक आदान-प्रदान और आपसी भरोसे को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। हालांकि सरकारी चीनी मीडिया  द ग्लोबल टाइम्स  की रिपोर्ट में चीन को कई सारी एहतियात बरतने को भी कहा गया है। इसमें कहा गया है कि अगर भारत भटक जाता है और उसकी महत्वाकांक्षाएं बढ़ जाती हैं तो यह भारत और चीन के बीच अंतरिक्ष के हथियारों की दौड़ में भी बदल सकता है। बता दें कि वर्तमान में दोनों देशों का अंतरिक्ष के क्षेत्र में कोई भी आपसी सहयोग नहीं है।

 

 

20-07-2019
इंडोनेशिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट: चीन की खिलाड़ी को परास्त कर फाइनल में पहुंचीं पीवी सिंधू  

नई दिल्ली। भारत की बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने इंडोनेशिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में फाइनल
में स्थान बना लिया है। उन्होंने चीन की चेन यू फेई को शनिवार को 21-19, 21-10 से हराया और इंडोनेशिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के फाइनल में अपनी जगह बनाई। विश्व रैंकिंग में पांचवें नंबर की भारतीय खिलाड़ी ने तीसरी रैंकिंग की चीनी खिलाड़ी से यह मुकाबला 46 मिनट में जीता। पी.वी सिंधु ने वल्र्ड नंबर-2 जापान की नोजोमी ओकुहारा को 21-14, 21-7 से हराकर इंडोनेशिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में प्रवेश किया था। पांचवीं सीड सिंधु ने शुक्रवार को खेले गए महिला एकल के क्वार्टर फाइनल मैच में ओकुहारा को 44 मिनट में मात दी थी।  बता दें कि सिंधु का इस साल का यह पहला फाइनल मुकाबला है। उन्होंने पिछले साल के आखिर में वल्र्ड टूर फाइनल में खिताब जीता था। 

18-06-2019
चीन में भूकंप से 11 लोगों की मौत, 122 घायल

बीजिंग। चीन के सिचुआन प्रांत में सोमवार को आये भूकंप से 11 लोगों की मौत हो गयी और 122 अन्य लोग घायल हो गये।

चीन के भूकंप नेटवर्क केन्द्र (सीईएनसी) के अनुसार रात 10 बजकर 55 मिनट पर आये भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.0 दर्ज की गयी।

सीईएनसी के अनुसार भूकंप का केन्द्र 28.43 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 104 .90 डिग्री पूर्वी देशांतर में जमीन से 16 किलोमीटर की गहराई में स्थित था।

सीईएनसी की रिपोर्ट के अनुसार चानिंग काउंटी में मंगलवार को सुबह 07:34 बजे 5.3 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किये गये। सीईएनसी की प्रारंभिक रिपोर्ट में कहा गया कि भूकंप का केन्द्र का 28.37 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 104.89 डिग्री पूर्वी देशांतर पर दर्ज किया गया। आपातकालीन प्रबंधन मंत्रालय के आपातकालीन विभाग ने राहत और बचाव कार्य के लिए प्रभावित क्षेत्र में राहत कर्मियों के दल को भेजा है।

13-05-2019
अब चीन भी 1 जून से अमेरिकी सामानों पर लगाएगा टैरिफ

पेइचिंग। अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार बढ़ता ही जा रहा है। अमेरिका द्वारा 200 अरब डॉलर की वैल्यू वाले चाइनीज गुड्स पर इंपोर्ट ड्यूटी 10 फीसदी से बढ़ाकर 25 फीसदी करने का चीन ने करारा जवाब देते हुए सोमवार को कहा है कि वह 1 जून से 60 अरब डॉलर की वैल्यू के अमेरिकी प्रोडक्ट्स पर शुल्क लगाएगा। चीन के कैबिनेट टैरिफ पॉलिसी कमीशन ऑफ द स्टेट काउंसिल के एक बयान के अनुसार चीन अमेरिकी सामानों पर 5 फीसदी से लेकर 25 फीसदी तक शुल्क लगाएगा। मिनिस्ट्री ने एक बयान में कहा कि चीन 5,140 अमेरिकी उत्पादों पर शुल्क लगाएगा। ज्ञात हो कि 13 मई को ट्रंप ने चेतावनी दी थी कि अगर चीन अमेरिकी उत्पादों पर शुल्क लगाता है तो चीन के साथ ट्रेड वार और बुरे स्तर पर जा सकता है। इससे पहले, 10 मई को दोनों देशों के बीच ट्रेड डील की बातचीत टूट गई थी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 200 अरब डॉलर के चीनी उत्पादों पर 25 फीसदी का शुल्क लगाया था। साथ ही ट्रंप ने अन्य 300 अरब डॉलर के चीनी उत्पादों पर इंपोर्ट शुल्क लगाने की प्रक्रिया शुरू करने का आदेश दे दिया है। 

  

08-05-2019
अमेरिका और चीन के बीच  'ट्रेड वॉर' से शेयर बाजार धड़ाम

मुंबई। अमेरिका और चीन के बीच जारी 'ट्रेड वॉर' से दुनियाभर के निवेशकों में घबराहट है। इसका असर घरेलू शेयर बाजार पर भी दिख रहा है। घरेलू शेयर बाजार में जारी गिरावट थमने का नाम नहीं ले रही है। दुनियाभर के बाजारों में जारी गिरावट के चलते बीएसई का प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स सेंसेक्स लगातार छठे दिन गिरावट के साथ बंद हुआ है। व्यापार विशेषज्ञों के अनुसार बुधवार के सत्र में एशियाई बाजार के बाद यूरोपीय बाजारों में भी बिकावाली का दौर जारी है। बता दें कि बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 487अंक की कमजोरी के साथ 37789 पर बंद हुआ है। वहीं एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी करीब 138 अंक लुढ़ककर 11359 पर बंद हुआ है। मई महीने की शुरुआत बेहद निराशाजनक रही है। इस दौरान बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों के शेयरों की वैल्यूएशन 1,52,09,721.43 करोड़ से गिरकर 1,47,43,074.21 करोड़ रुपए पर आ गई है। ऐसे में निवेशकों को कुल 4.66 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। वहीं, निफ्टी 6 हफ्ते के निचले स्तर पर पहुंच गया है। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स करीब 1 फीसदी टूटकर 14,383.19 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं स्मॉलकैप इंडेक्स 1.21 फीसदी कमजोरी के साथ 14,129.34 के स्तर पर बंद हुआ है। तेल-गैस शेयरों में भी आज दबाव रहा। बीएसई का तेल-गैस इंडेक्स आज 1.36 फीसदी टूटकर बंद हुआ है। निफ्टी का पीएसयू बैंक इंडेक्स 1.4 फीसदी और प्राइवेट बैंक इंडेक्स 0.93 फीसदी की कमजोरी के साथ बंद हुए हैं। बैंक शेयरों में बिकवाली के चलते बैंक निफ्टी 1 फीसदी टूटकर 28,994.40 के स्तर पर बंद हुआ है। सेंसेक्स आज 480 अंक से ज्यादा फिसला है।  दुनिया के बड़े निवेशक वॉरेन बफे का कहना है कि अगर अमेरिका की चीन पर 25 फीसदी टैरिफ लगाने की धमकी सच साबित हुई तो ये पूरी दुनिया के लिए खराब होगा। ट्रेड वॉर का मसला सुलझने में ही सबकी भलाई है। ट्रेड वॉर पूरी दुनिया के लिए बुरा होगा। टैरिफ पर तोल-मोल खतरनाक है। चीन की तरक्की पूरी दुनिया के लिए अच्छी है। दोनों देशों की फिक्र जायज है। उम्मीद है कि अमेरिका चीन ट्रेड का मुद्दा सुलझा लेंगे। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804