GLIBS
18-02-2020
प्रसव के 12 घंटे बाद नहीं पहुंचे डॉक्टर, महिला की मौत, बच्चा सुरक्षित

दंतेवाड़ा। प्रसव के 12 घंटे बाद भी महिला को सही उपचार नहीं मिलने के कारण महिला की  मौत हो गई पर बच्चा सुरक्षित है। मामला उप स्वास्थ्य केंद्र कटेकल्याण का है। परिजनों का कहना है कि प्रसव के 12 घंटे बाद भी डॉक्टर नहीं पहुंचे। इसके कारण महिला की हालत बिगड़ने लगी और पेट में दर्द उठा और नर्सों द्वारा उपचार किया गया और कुछ ही देर बाद महिला की मौत हो गई। परिजनों ने कहा कि अगर समय रहते ही डॉक्टर आ जाते और उपचार हो जाता तो महिला की जान बच सकती थी। मगर डॉक्टर के समय पर उपलब्ध नहीं होने पर महिला की मौत हो गई। महिला की मौत होने के बाद भी उप स्वास्थ्य केंद्र की ओर से एंबुलेंस तक उपलब्ध नहीं कराई गई। परिजनों ने किराए की पिकअप करके महिला के पार्थिव शरीर को जिला अस्पताल पीएम के लिए पहुंचाया। घटना की सूचना जिला पंचायत अध्यक्ष तूलिका कर्मा को मिली तो उन्होंने तत्काल 5000 की राशि मृतक परिवार को पहुंचाई। उन्होंने परिजनों को विश्वास दिलाया कि इसके जिम्मेदार लोगों को नहीं बख्शा जाएगा। मामले को लेकर समाजसेविका सोनी परिजनों के साथ जिला कलेक्टर से मिलने कलेक्ट्रेट पहुंची। उन्होंने परिजनों को आश्वासन दिलाया कि जिम्मेदार लोगों को नहीं बख्शा जाएगा। जरूरत पड़ी तो इनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई जाएगी।

15-02-2020
ग्रामीणों को थमा दिया भारी बिजली बिल, जिला पंचायत सदस्य ने सौंपा एई को ज्ञापन

बेमेतरा। शनिवार को रांका बिजली विभाग द्वारा ग्रामीणों को भारी भरकम बिजली बिल भेजने के खिलाफ बड़ा प्रदर्शन हुआ। जिला पंचायत सदस्य राहुल टिकरिहा के नेतृत्व में हुए प्रदर्शन में एई और नायब तहसीलदार को ग्रामीणों के साथ ज्ञापन सौंपा गया। राहुल टिकरिहा ने कहा कि मामले में शीघ्र कार्यवाही की मांग की गई है।  बिजली रीडिंग कंपनी की गलती को देखते हुए उसके खिलाफ एफआईआर करने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा गया है। बताया गया कि कुछ रीडर पर  एफआईआर करने के आदेश विभाग की ओर से दिये गए हैं। और एक माह लगातार जांच कर नया बिल जारी करने का आश्वाशन दिया गया है। 

14-02-2020
जानिए किस वजह से गुजरात के गर्ल्स हॉस्टल में 68 लड़कियों के उतरवाए गए कपड़े...

नई दिल्ली। गुजरात के भुज के एक गर्ल्स हॉस्टल से शर्मनाक मामला समाने आया है। दरअसल, गर्ल्स हॉस्टल के बाहर सैनिटरी पैड मिलने के बाद 68 लड़कियों के पीरियड्स चेक करने के लिए उनके कपड़े उतरवाए गए। बताया जा रहा है कि हॉस्टल प्रबंधन को शक था कि लड़कियों को पीरियड हुआ है, जिसकी जांच के लिए हॉस्टल में मौजूद 68 छात्राओं के इनरवियर उतरवा कर जांच की गई है। वहीं मामले को लेकर छात्राओं में रोष है तो छात्राओं के माता-पिता इस मामले में एफआईआर दर्ज कराने की तैयारी में है। वहीं कॉलेज प्रशासन इस मामले को दबाने की कोशिश में लगा हुआ है।  

मामला भुज के सहजानंद गर्ल्स कॉलेज का है, जहां हॉस्टल के वार्डन ने वॉशरूम में छात्राओं के पीरियड्स की जांच करने के लिए लड़कियों के कपड़े और इनरवियर तक उतरवाकर जांच की। इस मामले में कॉलेज की डीन दर्शना ढोलकिया ने कहा कि यह मामला हॉस्टल का है और इसका यूनिवर्सिटी/कॉलेज से कोई लेना-देना नहीं है। जो कुछ भी हुआ है वह लड़कियों की अनुमति से हुआ है। किसी ने भी इसके लिए लड़कियों को मजबूर नहीं किया। उन्होंने बताया कि इस मामले की जांच के लिए एक समिति का गठन किया गया है। यह विवाद तब शुरू हुआ जब हॉस्टल के गार्डन में इस्तेमाल किया हुआ सैनिटरी पैड मिला। इसके बाद वॉर्डन को शक हुआ कि यह हॉस्टल की किसी लड़की ने ऐसा किया होगा और पैड को इस्तेमाल करने के बाद वॉशरूम की खिड़की से फेंक दिया होगा। यह पता लगाने के लिए आखिर ऐसा किस लड़की ने किया है वॉर्डन ने वॉशरूम में लड़कियों के कपड़े उतरवाकर चेकिंग की।

09-02-2020
वारंटी को छोड़ने महिला टीआई को धमकी, आरटीआई एक्टिविस्ट और भाजपा नेता पर एफआईआर

रायपुर। राजधानी की महिला टीआई को धमकी देने के मामले में रायपुर पुलिस ने अपराध कायम किया है। आरटीआई एक्टिविस्ट और कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विवि में कबीर शोध पीठ के अध्यक्ष कुणाल शुक्ला और भाजपा नेता गौरीशंकर श्रीवास के खिलाफ डीडी नगर थाना प्रभारी मंजूलता राठौर की शिकायत पर एफआईआर दर्ज की गई है। आरोप है कि थाने में टीआई मंजूलता राठौर को दोनों ने गिरफ्तार वारंटी को छोड़ने धमकी दी। मामले में शिकायत दर्ज हो चुकी है। पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है। धारा 189, 353, 506 के तहत अपराध कायम किया गया है।

07-02-2020
दिल्ली विधानसभा चुनाव : थमा प्रचार-प्रसार का शोर, आज रहेगा सोशल मीडिया पर जोर

नई दिल्ली। विधानसभा का चुनावी शोर अब थमा गया है। इसके साथ ही सभी पार्टियां सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर मतदाताओं को लुभाने की कोशिश में रहेंगी। 672 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला कल होगा। दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों पर 8 फरवरी को मतदान होना है। 6 जनवरी को चुनाव की घोषणा होते ही दिल्ली में आदर्श आचार संहिता लगी हुई है। 14 से 21 जनवरी तक नामांकन प्रक्रिया पूरी होने के साथ ही प्रत्याशियों ने प्रचार शुरू कर दिया। भाजपा ने केन्द्रीय कैबिनेट से लेकर मुख्यमंत्री तक को मैदान में उतार दिया। नेताओं के सियासी बोल पर चुनाव आयोग को भी सख्त कार्रवाई करनी पड़ी। इस बार दिल्ली विधानसभा चुनाव में भड़काऊ बयानबाजी के चलते सबसे ज्यादा कार्रवाई हुई। भाजपा प्रत्याशी कपिल मिश्रा, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और सांसद प्रवेश वर्मा पर दो से चार दिन तक प्रतिबंध लगाया गया। आचार संहिता का उल्लंघन करने पर सबसे ज्यादा 31 एफआईआर आम आदमी पार्टी के खिलाफ दर्ज हुई हैं, जबकि नौ और छह एफआईआर क्रमश: भाजपा व कांग्रेस के खिलाफ दर्ज हुई। दिल्ली मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय ने 11 जिलों में 21 स्ट्रांग रूम फाइनल कर लिए हैं। यहां मतदान के बाद ईवीएम रखी जाएगी। निष्पक्ष एवं भयमुक्त चुनाव के लिए 22 व्यय पर्यवेक्षक, 28 सामान्य पर्यवेक्षक और 11 पुलिस पर्यवेक्षकों को नियुक्त किए गए हैं। 516 इलाकों में 3841 संवेदनशील और अति संवेदनशील बूथों की पहचान हो चुकी है। यहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए है। दिल्ली चुनाव कार्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पहली बार दिल्ली के चुनाव में बूथ प्रबंधन के लिए बूथ एप की शुरूआत होगी। यह दिल्ली में 11 विधानसभाओं और विधानसभा संख्या 38 के कुछ मतदान बूथों पर कार्य करेगा।

31-01-2020
विस्फोटक लाइसेंस बगैर ही धड़ल्ले से चल रहा गैस का कारोबार : अनिल दुबे

रायपुर। राजधानी के सिलतरा क्षेत्र में एलपीजी गैस कंपनी की शिकायत डीजीपी डीएम अवस्थी और एसएसपी आरिफ शेख से की गई है। छत्तीसगढ़ समाज पार्टी का आरोप है कि गैस कंपनी विस्फोटक लाइसेंस के बगैर ही सिलेंडरों का कारोबार चला रही है। विस्फोटक लाइसेंस नहीं होने कारण सुरक्षा के कड़े इंतजाम भी नहीं हैं। भविष्य में बड़ा हादसा होने की आशंका भी पार्टी ने व्यक्त की है। छसपा के अध्यक्ष अनिल दुबे ने अफसरों से लिखित शिकायत कर कहा है कि सिलतरा में बने गैस प्लांट में गैस रिफिलिंग और स्टोर करने का काम धड़ल्ले से जारी है। दुबे ने गैस कंपनी के मालिकों पर त्वरित कार्यवाही करते हुए एफआईआर दर्ज करने की मांग की है।

28-01-2020
बिल्डर खनूजा मामले में हाइकोर्ट ने शासन से मांगा जवाब, फैसला सुरक्षित

रायपुर। इन दिनों चर्चा में रह रहे बिलासपुर के बिल्डर हरदीप खनूजा की याचिका पर सोमवार को जस्टिस संजय के अग्रवाल की एकल पीठ में सुनवाई हुई। मामले की सुनवाई करते हुए राज्य शासन को नोटिस जारी कर जवाब पेश करने के निर्देश हाईकोर्ट ने दिए हैं। कोर्ट ने सुनवाई के लिए 24 फरवरी को अगली तिथि तय की है। याचिकाकर्ता के एक मामले में अपने खिलाफ दायर की गई एफआईआर को रद्द करने की गुहार लगाई है। इस पर कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा है। याचिकाकर्ता खनूजा ने सुप्रीम कोर्ट के वकील संदीप श्रीवास्तव के माध्यम से याचिका दायर कर कहा है कि बिलासपुर जिले के तत्कालीन एसपी आरिफ शेख ने उसके खिलाफ दुर्भावनावश कार्रवाई की है। एफआईआर को रद्द करने की गुहार लगाई है। याचिकाकर्ता ने कोर्ट के समक्ष खुलासा किया है कि पुलिस ने माना है कि एफआईआर करने में त्रुटि हुई है। याचिका के अनुसार जिले के तत्कालीन एसपी आरिफ शेख ने उन्हें भगोड़ा घोषित कर वर्ष 2018 में कुछ इस तरह का विज्ञापन भी पुलिस द्वारा जारी किया गया। जिसके कारण उनके सामाजिक प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचा है। संबंधित मामले में उन्हें भगोड़ा घोषित किए जाने संबंधी आदेश को रद्द कर 5 करोड़ का मुआवजा राशि मानहानि के माध्यम से मांगा है।

25-01-2020
जामिया हिंसा का एक और आरोपी को एसआईटी ने किया गिरफ्तार, कोर्ट ने भेजा न्यायिक हिरासत में

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा की एसआईटी ने जामिया नगर में 15 दिसंबर को हुई हिंसा के मामले में एक और आरोपी मोहम्मद फुरकान (22) को गिरफ्तार किया है। फुरकान सीसीटीवी फुटेज में हाथ में केन लिए दिखा था। गिरफ्तारी के विरोध में अमानतुल्ला खान ने समर्थकों के साथ जामिया नगर थाने में हंगामा किया था। साकेत कोर्ट की मुख्य महानगर दंडाधिकारी गुरमोहिना कौर की कोर्ट में फुरकान को शुक्रवार शाम पेश किया गया। कोर्ट ने उसे तीन दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा है। पुलिस ने उसका रिमांड नहीं मांगा था। एसआईटी प्रमुख डीसीपी राजेश देव ने बताया कि दिल्ली में सीएए के विरोध में हुई हिंसा में यह 102वीं गिरफ्तारी है। जगह-जगह हुई हिंसा में दिल्ली पुलिस ने कुल 10 एफआईआर दर्ज की थीं। इनमें भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर समेत 102 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। मोहम्मद फुरकान इलेक्ट्रीशियन है। वह हिंसा वाले दिन माता मंदिर रोड पर एक कोठी के सीसीटीवी कैमरों में दिखा था। फुटेज में वह हाथ में प्लास्टिक की केन लिए इधर-उधर आता-जाता दिखा है। इस फुटेज से फोटो बनाकर स्थानीय लोगों से पहचान कराई गई थी। पुलिस को आशंका है कि उसके हाथ की केन में ज्वलनशील पदार्थ था और उसने बस में आग लगाई। माता मंदिर रोड पर दो बसों में आगजनी की गई थी।

बताया जा रहा है कि फुरकान को गुरूवार की शाम जामिया नगर थाने बुलवाया गया था। वहां से एसआईटी उसे गिरफ्तार करके ले गई। इसके बाद अमानतुल्ला खान समेत कुछ लोगों ने थाने में हंगामा किया। वहीं, एसआईटी के अधिकारियों का दावा है कि फुरकान को जामिया नगर मेट्रो स्टेशन के पास से ही गिरफ्तार किया गया है। डीसीपी राजेश देव ने कहा कि सबूत मिलने के बाद ही किसी के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

हिंसा में शामिल नहीं था बेटा

फुरकान के पिता मो. नईम का कहना है कि उनका बेटा हिंसा में शामिल नहीं था। उसे शक के आधार पर गिरफ्तार किया गया है। उनके मुताबिक, फुरकान प्रदर्शन में मौजूद जरूर था, लेकिन उसके खिलाफ कोई सबूत नहीं है। बेटे से मिलने के लिए मो. नईम वकील आलमदार हुसैन नकवी के साथ चाणक्यपुरी स्थित अपराध शाखा के कार्यालय पहुंचे। वकील ने दावा किया कि एक छोटी सी बहस के कारण फुरकान को गिरफ्तार किया गया है। उसका पिछला रिकॉर्ड ठीक है।

दो एफआईआर में 16 गिरफ्तारी हुईं

दक्षिण-पूर्व जिले के जामिया नगर इलाके में सीएए के खिलाफ हुई हिंसा में एफआईआर जामिया नगर व एनएफसी थाने में दर्ज हैं। पुलिस ने जामिया नगर हिंसा मामले में 8 व एनएफसी की एफआईआर में नौ आरोपियों को गिरफ्तार किया है। असद मोहम्मद को दोनों एफआईआर में गिरफ्तार किया गया है।

23-01-2020
टीचर ने करवाया बच्ची से 450 बार उठक-बैठक, छात्रा की तबीयत बिगड़ी

ठाणे।  होमवर्क पूरा नहीं करने पर टीचर ने अपनी 8 साल की छात्रा को 450 बार उठक-बैठक करने की सजा सुना दी। मासूम छात्रा ने पिटाई के डर से सजा पूरी की लेकिन उसकी तबियत खराब हो गई। ठीक से चल न पाने और पैरों में सूजन आने के बाद छात्रा को अस्पताल ले जाना पड़ा, जहां डॉक्टरों ने उसका उपचार किया। बच्ची की मां ने आरोपी टीचर के खिलाफ पुलिस में शिकायत की और केस दर्ज कराया। सब इंस्पेक्टर ने बताया कि बच्ची की मां ने अपनी शिकायत में ट्यूशन टीचर के खिलाफ आरोप लगाए हैं। बच्ची की मां ने बताया कि जब बेटी ट्यूशन पढ़कर घर लौटी तो वह ठीक से चल नहीं पा रही थी।

पुलिस ने दर्ज की एफआईआर बच्ची की मां के मुताबिक छात्रा के दोनों पैरों में सूजन थी। वजह पूछने पर मासूम बच्ची ने बताया कि टीचर ने उससे 450 बार उठक-बैठक करवाई है। मां ने बताया कि बीते महीने भी आरोपी टीचर लता ने उनकी बेटी के कपड़े उतारकर छड़ी से पिटाई की थी। पुलिस ने आरोपी टीचर के खिलाफ धारा 324 और जुवेलाइन जस्टिस की अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है, हालांकि अभी टीचर को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

 

23-01-2020
पूर्व क्रिकेटर मो. अजहरुद्दीन समेत तीन लोगों के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर, धोखाधड़ी का है आरोप

नई दिल्ली। पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद अजहरुद्दीन समेत तीन लोगों के खिलाफ एक ट्रैवल एजेंट मोहम्मद शादाब से 20 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने का आरोप लगा है। इस मामले में औरंगाबाद में एफआईआर दर्ज की गई है। बुधवार को पुलिस ने बताया कि इस मामले की जांच जारी है। यह मामला 'दानिश टूर एंड ट्रैवल्स' के मालिक मोहम्मद शादाब की शिकायत पर दर्ज किया गया है। शिकायत के मुताबिक 9 नवंबर से 12 नवंबर, 2019 के बीच अविक्कल ने अजहरुद्दीन और खुद के लिए कई विदेशी शहरों के लिए टिकट बुक किए और रद्द कराए थे। शादाब बंद हो चुकी जेट एयरवेज के पूर्व एक्जीक्यूटिव भी हैं। इस मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी एडी नागरे ने बताया कि प्रथम सूचना के आधार पर मुजीब खान, जो औरंगाबाद के रहने वाले हैं, सुधीश अविक्कल (केरल) और मोहम्मद अजहरुद्दीन (हैदराबाद) के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। फिलहाल किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है। अविक्कल की ओर से अजहरुद्दीन के निजी सचिव मुजीब खान ने शादाब को टिकट के पैसे बाद में देने के लिए कहा था। लेकिन इसके बावजूद उन्हें अभी तक टिकट के पैसे नहीं मिले हैं।

22-01-2020
कलेक्टर के खिलाफ एफआईआर कराएंगे भाजपा नेता

गुना। राजगढ़ कलेक्टर के खिलाफ भाजपा के वरिष्ठ नेता एफआईआर कराएंगे। इसमें सीएए के समर्थन में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ हाथापाई मामले में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता बुधवार को ब्यावरा कलेक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराएंगे। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय, गोपाल भार्गव ब्यावरा पहुंचेंगे। इसमें सभी नेता आमसभा को संबोधित करेंगे।

 

18-01-2020
बिलासपुर मामले में राज्यपाल से न्यायिक मजिस्ट्रेट या सीबीआई से जांच कराने की मांग : जोगी

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और अमित जोगी के खिलाफ बिलासपुर सिविल लाइन थाना में दर्ज एफआईआर की जांच राज्य पुलिस से नहीं बल्कि सीबीआई या न्यायिक मजिस्ट्रेट से करवाने के संबंध में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के एक प्रतिनिधि मंडल ने शनिवार को राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा है। इस संबंध में अजीत जोगी ने सागौन बंगले में पत्रकारवार्ता कर कहा कि जोगी परिवार को फर्जी मामलों में फंसाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया है कि पिछले 16 वर्षों से भाजपा और कांग्रेस ने एक ही परिवार को प्रताड़ित किया है, क्योंकि वे नहीं चाहते कि छत्तीसगढ़ में छत्तीसगढ़ियों में अपने अधिकारों के प्रति जागरूकता आए और छत्तीसगढ़ सही मायने में सुराज कायम हो सके। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती रमन सरकार ने भी मुझे और और अमित जोगी पर फर्जी हत्या, सीडी, चिट्टी, जाति और डकैती को लेकर फंसाया गया। वर्तमान भूपेश सरकार द्वारा फिर से फर्जी सीडी, जाति और जन्म स्थान और तिथि जैसे बेतुके मामले दर्ज करा उन्हें उलझाने और फंसाने की अनेकों नाकाम कोशिशें होती रही हैं। अजीत जोगी ने कहा कि बिलासपुर में घटना के दौरान हममें से कोई उपस्थित नहीं था, अज्ञात कारणों से आत्महत्या कर ली, उसको किसी ने डांटा ना मारा न ही चोट के निशान उसके शरीर पर पाए गए। फिर भी हम पर आत्महत्या करने के लिए प्रेरित करने का आरोप लगा।  हमें एफआईआर की कॉपी उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया है कि बिलासपुर में कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और कार्यकारी अध्यक्ष के दबाव में 17 जनवरी की देर रात 2 बजे बिलासपर के सिविल लाइन थाने में बिना किसी प्रमाण और प्रारम्भिक जांच के, मात्र एक शिकायत को आधार बताकर एफआईआर क्रमांक 31/2020 दर्ज कर दी गई। उन्होंने कहा कि विश्वस्त सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि सत्ता पार्टी के नेता, बिलासपुर के पुलिस कप्तान से मिलीभगत करके बयान लेने, साक्ष्य जुटाने और पोस्टमार्टम जैसी विवेचना की गंभीर प्रक्रियाओं को गैर कानूनी रूप से प्रभावित करने के दुष्प्रयास में भिड़ चुके हैं।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804