GLIBS
04-07-2020
जिले में अब तक 323 मिलीमीटर औसत वर्षा

रायपुर/धमतरी। जिले में अब तक 322.8 मिलीमीटर औसत वर्षा रिकॉर्ड की गई है। कलेक्टोरेट की भू-अभिलेख शाखा से प्राप्त जानकारी के अनुसार एक जून से अब तक हुई वर्षा में सर्वाधिक 442.8 मिलीमीटर धमतरी तहसील में तथा सबसे कम 269.8 मिमी मगरलोड तहसील में दर्ज की गई है। इसी तरह नगरी तहसील में 289.32 तथा कुरूद में 289.1 मिलीमीटर वर्षा आंकी गई है। इसी तरह पिछले 24 घण्टे में जिले में 68.2 मिलीमीटर वर्षा हुई। धमतरी तहसील में 29.6 मिमी, मगरलोड में 14.2, कुरूद में 14 तथा नगरी में 10.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। यानी पिछले 24 घण्टे में 17.1 मिमी औसत मिमी वर्षा रिकॉर्ड की गई है।

 

02-07-2020
राज्य भर में जून महीने में अब तक हो चुकी है 289 मिमी वर्षा दर्ज 

रायपुर। राज्य भर में अब तक जून महीने में 289 मिमी वर्षा दर्ज हुई है। कंट्रोल रूम के मुताबिक 1 जून से अब तक 289.0 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। राज्य के विभिन्न जिलों में आज सुबह रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार सरगुजा में 5.7 मिमी, सूरजपुर में 3.1 मिमी, बलरामपुर में 1.1 मिमी, जशपुर में 1.5 मिमी, कोरिया में 1.0 मिमी, गरियाबंद में 1.4 मिमी, महासमुन्द में 6.8 मिमी, धमतरी में 1.4 मिमी, बिलासपुर में 5.7 मिमी, मुंगेली में 4.3 मिमी, रायगढ़ में 0.5 मिमी, जांजगीर-चांपा में 0.5 मिमी और कोरबा में 5.5 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही में 0.2 मिमी, राजनांदगांव में 1.2 मिमी, बस्तर में 13.2 मिमी, कोण्डागांव में 32.0 मिमी, कांकेर में 6.8 मिमी, नारायणपुर में 42.6 मिमी, दंतेवाड़ा में 8.4 मिमी, सुकमा में 7.3 मिमी और बीजापुर में 5.9 मिमी, औसत वर्षा आज रिकार्ड की गई।

01-07-2020
प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ बारिश के आसार

रायपुर। प्रदेश में अगले 24 घंटे के दौरान एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ भारी वर्षा के साथ कहीं-कहीं वज्रपात होने की संभावना है। प्रदेश में कुछ स्थानों पर बारिश के आसार है। प्रदेश के इन इलाकों में हो सकती है बारिश कांकेर, नारायणपुर, कोंडागांव, बीजापुर, सुकमा, दंतेवाड़ा, कबीरधाम, बेमेतरा, बिलासपुर, जांजगीर, रायगढ़, राजनांदगांव, दुर्ग, रायपुर, बलौदा बाजार, महासमुंद, बालोद, धमतरी और बस्तर जिलों में एक-दो स्थानों पर मौसम अपना तेवर दिखा सकता है। अगले 24 घंटे में प्रदेश के एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ भारी वर्षा तथा कहीं-कहीं वज्रपात होने की भी संभावना जताई है।

29-06-2020
बारिश को देखते हुए कलेक्टर ने की तैयारियों की मानिटरिंग, अलर्ट रहने के दिए निर्देश

दुर्ग। कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेंद्र भूरे ने सोमवार को मानसून को लेकर सतर्कता की तैयारियों को लेकर बैठक ली। उन्होंने कहा कि इस बार काफी बारिश होने की संभावना है। इस बात की पूरी आशंका है कि नालों में उफान आए। इसलिए प्रशासनिक अमला पूरी तरह मुस्तैद रहे। एक बार माकड्रिल कर ले कि किस प्रकार आपदा की स्थिति में लोगों को सुरक्षित जगहों तक पहुंचाया जाएगा। उनके खाने पीने और जीवनरक्षक दवाओं के इंतजाम किस तरह होगा, यह माकड्रिल के दौरान देख लें। उन्होंने सभी एसडीएम से पूछा कि किन जगहों पर बाढ़ की आशंका होती है। पिछले साल के बारे में भी उन्होंने जानकारी ली। उन्होंने कहा कि राजस्व अमला, निगम अमले और फूड विभाग के साथ इस संबंध में आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित कर लें। उन्होंने कहा कि भवनों का चिन्हांकन कर इनकी जानकारी दी जाए। साथ ही उन्होंने सीएमएचओ से पूछा कि स्नेक बाइट आदि की आशंका मानसून के दौरान होती है। इसके लिए एंटी वेनम है या नहीं। सीएमएचओ ने बताया कि इसका पर्याप्त स्टाक अभी है। उन्होंने कहा कि बारिश के दौरान संक्रामक रोग भी फैलते हैं। ऐसे क्षेत्रों में क्लोरिनिकरण का काम भी सतत रूप से हो, इस संबंध में उन्होंने पीएचई के अधिकारियों को निर्देशित किया। होमगार्ड के अधिकारियों को उन्होंने गोताखोरों के बारे में पूछा। पिछले साल कहां जरूरत पड़ी थी इस बारे में जानकारी भी ली। अधिकारियों ने बताया कि पिछले बार पाटन में एक व्यक्ति सिकोला में फंसा था। कलेक्टर ने कहा कि इस बार बारिश काफी ज्यादा होने की उम्मीद है। इसके साथ ही पहले ही जलस्रोत में पानी पर्याप्त है। ऐसी स्थिति में इस बात की आशंका है कि बाढ़ का खतरा बना रहे। ऐसे में कंट्रोल रूम में अधिकारी सक्रिय रूप से नजर रखें। इसकी नियमित रिपोर्ट जिला मुख्यालय में देते रहें। उन्होंने रेन गेज के बारे में जानकारी ली। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि रेन गेज पर नजर रखें। यह न केवल बारिश की स्थिति बताता है अपितु इससे बीमा प्रकरणों का संबंध भी होता है। कलेक्टर ने मानसून के दौरान सभी ब्लाकों में बिजली की स्थिति के बारे में भी पूछा। उन्होंने कहा कि कहीं भी लोड शेडिंग की स्थिति नहीं होनी चाहिए। यदि ऐसी स्थिति तकनीकी कारणों से उत्पन्न हो तो इसे त्वरित रूप से ठीक कर लें। धमधा क्षेत्र में बिजली जाने की समस्या पर उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों से इस संबंध में त्वरित कार्रवाई के निर्देश दिए।

 

29-06-2020
मौसम का मिजाज बदला, सूरज की लुकाछिपी जारी

रायपुर। प्रदेश में सूरज की लु​काछिपी जारी है। बदलते मौसम के मिजाज के कारण आसमान में काले काले बादलों का मंडराना जारी है। रातभर हुई बारिश के बाद सुबह से ही तेज धूप ​देखने को मिला। लेकिन वातावरण में नमी छाई रही। मौसम के बदलते तेवर के कारण आने-जाने वालों के साथ-साथ सब्जी बेचने वालों की भी मुश्किलें बढ़ गई है। रिमझिम बारिश व मंद-मंद ठंडी हवा बहने से मौसम पूरी तरह सुहाना हो गया। इधर किसानों का कहना है कि तेज बारिश से खलिहान में रखे फसलों को नुकसान होगा। ग्रामीण इलाकों में भी खराब सड़कों पर पानी भर जाने से लोग परेशान हैं।

28-06-2020
वार्ड क्रमांक 40 में आरसीसी रोड व नाली निर्माण के लिए महापौर ने किया भूमि पूजन

रायपुर/बिलासपुर। शहर के सभी क्षेत्रों में साफ-सफाई से लेकर टूटी हुई नालियों और खराब सड़कों को सुधारने का काम किया जा रहा है। ताकि बारिश में शहरवासियों को परेशानी का सामना न करना पड़ें। इसके लिए महापौर रामशरण यादव प्रतिदिन शहर के अलग-अलग वार्ड का भ्रमण कर वहां के नागरिकों से समस्या की जानकारी लेकर उसके निराकरण करने में जुटे हुए है।

इसी कड़ी में आज वार्ड क्रमांक-40 महाराणा प्रताप नगर में अधोसंरचना मद से लगभग 35.90 लाख की लागत से 350 मीटर आर.सी.सी. सड़क एवं 50 मीटर आर.सी.सी.नाली निर्माण कार्य का महापौर रामशरण यादव द्बारा भूमि पूजन किया गया। इस दौरान राजेश शुक्ला, अजय यादव, भरत कश्यप एमआईसी सदस्य, वार्ड पार्षद उमेश चंद्र कुमार, साईं भास्कर पार्षद, आनंद डोरस, योगेश बोले, कुंजा गोरख, चित्रकांत केसरी, अनिल गोरख, उपयंत्री भूषण पैकरा न्य वार्डवासी उपस्थित रहे।

27-06-2020
सर्पदंश से 6 वर्षीय बच्ची की मौत

लखनपुर। बारिश होने के साथ ही क्षेत्र में सर्प दंश का ग्राफ बढ़ने लगा है। लखनपुर क्षेत्र में लगातार करीब सात आठ लोगों को जहरीले सांपों का शिकार होना पड़ा है। 6 वर्षीय बच्ची नीलम राजवाड़े घर कमरे में खेल रही थी। इसी बीच उसे करैत सांप ने काट लिया। परिजनों ने प्राथमिक उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लखनपुर लाया,जहां डॉक्टरों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया। उक्त जानकारी स्वास्थ्य केंद्र के बीएमओ डॉ. पीएस केरकेट्टा ने दीे। सर्पदंश के मामले में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टरों का कहना है की गंभीर सर्पदंश के मरीजों को अंबिकापुर जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया जाता है ताकि उनको समुचित उपचार मिल सके जबकि आसपास के लोगों का कहना है कि लखनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सर्पदंश उपचार का भरपूर व्यवस्था हो तथा जरूरतमंदों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र  में ही इलाज मिल सके जिला रेफर करने की नौबत ना आए।  

 

25-06-2020
Video: बांगो का जल स्तर बढ़ा, खोले गए दर्री बराज के गेट

कोरबा। बारिश के बाद कुछ ही दिनों में हसदेव नदी पर बना विद्युत परियोजना बांगो डैम लबालब हो गया है। यहां की विद्युत इकाई भी शुरू हो चुकी है। वही यहां से हर दिन बड़ी मात्रा में पानी छोड़ा जा रहा। वाटर रिलीजिंग से अब जिले के दर्री बराज पर भी दबाव बढ़ गया था, लिहाजा जलसंसाधन विभाग ने यहां के दो गेट खोल दिये। दर्री से हजारों क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है,जिससे डैम के तटीय इलाकों में खतरा बढ़ गया है। विभाग ने मछुआरों और दूसरे लोगों को नदी के तटीय इलाकों से दूर रहने की हिदायत दी है।

 

 

24-06-2020
प्रदेश में जून माह में अब तक 247.3 मिलीमीटर औसत वर्षा रिकार्ड,नारायणपुर में सर्वाधिक  

रायपुर। छत्तीसगढ़ में अच्छी बारिश हो रही है। जून माह में अब तक 247.3 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है। राजस्व आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में आज 24 जून को सुबह 3.3 मिमी. औसत वर्षा रिकार्ड हुई है। राज्य में 1 जून से अब तक कुल 247.3 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। आज सर्वाधिक 10.9 मिमी औसत वर्षा नारायणपुर जिले में दर्ज की गई। सबसे कम दंतेवाड़ा और कांकेर जिले में 0.0 मिमी औसत वर्षा रिकार्ड हुई। इसके अलावा कोरिया में 8.7 मिमी, बीजापुर में 8.6 मिमी, रायपुर 6.9 मिमी, बिलासपुर में 6.1 मिली, मिमी, गरियाबंद में 6.0 मिमी और गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 5.4 औसत वर्षा दर्ज हुई है। राज्य बाढ़ नियंत्रण कक्ष से प्राप्त जानकारी के मुताबिक सरगुजा में 1.5 मिमी, सूरजपुर में 4.0 मिमी, बलरामपुर में 0.3 मिमी, जशपुर में 1.3 मिमी, बलौदाबाजार में 0.5 मिमी, महासमुंद में 0.9 मिमी, धमतरी में 1.3 मिमी, मुंगेली में 3.7 मिमी, रायगढ़ में 1.0 मिमी, जांजगीर-चांपा में 2.4 मिमी और कोरबा में 2.3 मिमी औसत वर्षा रिकार्ड हुई है।  इसी तरह दुर्ग में 3.5 मिमी, कबीरधाम में 1.4 मिमी, राजनांदगांव में 2.2 मिमी, बालोद में 1.4 मिमी, बस्तर में 4.2 मिमी, कोण्डागांव में 2.8 मिमी और सुकमा में 3.9 मिमी औसत वर्षा रिकार्ड हुई है।

24-06-2020
शिवनाथ नदी का बढ़ा जलस्तर, जान जोखिम में डाल पुल पार कर रहे लोग

राजनांदगांव। बालोद मार्ग पर स्थित मोहारा में शिवनाथ का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है। जैसे ही ऊपरी हिस्से चौकी, मोहला, मानपुर में बारिश होती है जलस्तर तेजी से बढ़ता है। इस बारे मे पूरी जानकारी होते हुए भी प्रशासन की लापरवाही समझ से परे है। देख सकते हैं कि कैसे एक बोलेरो वाहन चालक जान पर खेल कर पुल पार कर रहा है और इसे रोकने वाला कोई नहीं।

23-06-2020
कोसा नाला की सफाई, 40 ट्रक जलकुंभी निकली,कलेक्टर पहुंचे सफाई व्यवस्था के निरीक्षण के लिए

दुर्ग। बारिश की वजह से नालों में जाम की स्थिति होने की वजह से शहरवासियों को किसी तरह की परेशानी नहीं आए, इस के लिए कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेंद्र भूरे ने नगर निगम के अधिकारियों को विशेष निर्देश दिए थे। इस संबंध में सभी निगमों में नालों की साफ-सफाई का व्यापक कार्य किया जा रहा है। मंगलवार शाम कलेक्टर स्वयं इसके निरीक्षण के लिए निकले। कलेक्टर ने कोसा नाला की सफाई का जायजा लिया। निगम आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी ने  बताया कि अब तक 40 ट्रक जलकुंभी निकाली जा चुकी है। जलकुंभी का प्रसार इस बार तेजी से हुआ। जलकुंभी निकल जाने से नाले का सामान्य प्रवाह स्थापित हो गया है। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर ने शंकर नाला, कोसा नाला आदि सभी महत्वपूर्ण नालों की साफ-सफाई का खुद अवलोकन किया। उन्होंने स्वयं निरीक्षण कर यहां सफाई की स्थिति का जायजा लिया। कलेक्टर ने कहा कि ड्रेनेज सिस्टम पुख्ता होना चाहिए। कहीं भी वाटर लागिंग की समस्या नहीं होनी चाहिए। तेज बारिश होने पर वाटर लागिंग की स्थिति में तुरंत कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिन निचले इलाकों में पूर्व में पानी जमा होता हो, वहां पर विशेष निगरानी रखे। कलेक्टर ने आज भिलाई के डेंगू प्रभावित इलाकों का भी निरीक्षण किया। वहां उन्होंने निगम अमले एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यों की जानकारी ली। साथ ही लोगों से भी मिले। उन्होंने लोगों से कहा कि डेंगू का पानी चूंकि साफ जल में ठहरता है। अब मानसून आ गया है तो इस बात की आशंका है कि डेंगू के लार्वा पनपेंगे। इसलिए जागरूक रहें। जहां जलजमाव की आशंका बनती है। उसे ठीक कराते रहें। निगम के अमले को भी उन्होंने युद्धस्तर पर अलर्ट रहने के निर्देश दिए। उन्होंने सतत रूप से टैमीफास की दवा के वितरण के निर्देश भी दिए। कलेक्टर ने कहा कि पूरी तरह सतर्क रहकर डेंगू की आशंका को पूरी तरह टाला जा सकता है। निगम कमिश्नर ने बताया कि इस संबंध में लगी टीमें लगातार काम कर रही हैं तथा फागिंग एवं अन्य सभी व्यवस्थाओं की पूरी मानिटरिंग कराई जा रही हैं। कलेक्टर ने भिलाई निगम में निर्माण कार्यों का भी अवलोकन किया तथा इस संबंध में जरूरी निर्देश अधिकारियों को दिए।


 

 
23-06-2020
नदी-नाले उफान पर, बस्तर के कई इलाकों में टूटा संपर्क

रायपुर। प्रदेश में मानसून सक्रिय हो गया है। साथ ही बारिश का सिलसिला सुबह 10 बजे तक  शुरू रहा। राजधानी समेत मध्य छत्तीसगढ के विभिन्न इलाकों में पिछले 24 घंटों से लगातार बारिश हो रही है। इसी के साथ तापमान में भी तेजी से गिरावट दर्ज की गई है। लगातार बारिश के कारण नदी-नाले लबालब हो गए हैं। बस्तर के कई इलाकों में संपर्क बाधित हो गया है। लगातार 24 घंटों से हो रही बारिश के कारण कई नाले उफान पर है। नाले के किनारे स्थित ​बस्तियों में पानी भर गया है। इसके साथ ही लोगों के घरों के अंदर भी पानी भर गया है। दूसरी तरफ यह बारिश खेतों में खरीफ की फसल के लिए लाभकारी साबित होती है।

सूखे नाले और नदियों में पानी अपने ऊफान में आने के लिए बेताब हैं। हालांकि मौसम विभाग ने भारी वर्षा के लिए यलो अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक 25 तारीख तक अच्छी बारिश के आसार है। राजधानी के कई इलाकों में जलभराव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। वहीं नालियों की समय पर साफ-सफाई नहीं होने का असर भी दिखा। दर्जनों कॉलोनियों में नालियां ओवरफ्लो हो गई। दुर्ग में शिवनाथ नदी का जल स्तर भी बढ़ गया है। धमतरी में भी इसी तरह के हालात हैं। महानदी तट से लगे इलाकों में कई जगहों पर बाढ़ जैसा नजारा दिख रहा है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804