GLIBS
11-10-2019
नौकरी लगाने के नाम पर 15 लोगों से 50 लाख से ऊपर की ठगी, दो आरोपी गिरफ्तारी

अंबिकापुर। सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर आरोपियों द्वारा कई लोगों से 50 लाख की ठगी करने का मामला प्रकाश में आया है। प्रार्थी की प्राथमिक सूचना पर पुलिस हरकत में आई और  इस पूरे मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार उक्त आरोपियों द्वारा जिला पंचायत में चपरासी स्टेनो व ड्राइवर सहित अन्य पदों पर नौकरी दिलाने के नाम पर करीब 15 लोगों से  50 लाख रुपये से अधिक की ठगी कर चुके हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है पुलिस के द्वारा जारी किए गए विज्ञप्ति में बताया गया कि मणिपुर निवासी दिनेश प्रजापति ने सरगुजा रेंज आईजी के पास शिकायत आवेदन दिया था कि सती पारा निवासी ललित भगत के द्वारा जिला पंचायत में नौकरी लगाने के नाम पर 4 लाख रुपये ठगी किया गया है।

शिकायत के उपरांत सुमित यादव ललित भगत और राजेश हुजूर के खिलाफ धारा 420, 34 के तहत अपराध दर्ज कर पतासा जी की जा रही थी। मुखबिर की सूचना पर आरोपी सुमित यादव को घेराबंदी करके केदारपुर में पकड़ लिया गया। इन्हे हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर बताया कि ललिता भगत मुन्ना दास के साथ मिलकर लोगों को जिला पंचायत में चपरासी स्टेनो और ड्राइवर के पद पर नौकरी दिलाने के नाम से लोगों से पैसा लेकर आपस में बांट लेते थे जिला पंचायत के सहायक ग्रेड 3 पर पदस्थ मुन्ना दास के द्वारा नियुक्ति पत्र टाइप करके देता था वह सेल साइन करके लोगों को दिया जाता था। आरोपियों के द्वारा अब तक कुल 15 बेरोजगारों से जिला पंचायत में नौकरी लगाने के नाम पर कुल 50 लाख 60 हजार रुपये की ठगी कर ली गई है। पुलिस ने दो आरोपि सुमित यादव व मुन्ना दास को गिरफ्तार कर लिया जबकि अन्य आरोपी फरार हैं, जिनकी तलाश पुलिस कर रही है।

02-10-2019
नौकरी के नाम पर ठगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार

जांजगीर चाँपा। जिले के शिवरीनारायण थाना पुलिस को लंबे समय से फरार चल रहे ढाई लाख की ठगी करने वाले आरोपी मोहन श्रीवास को गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। मोहन श्रीवास लगभग दो वर्षों से फरार चल रहा था। मुखबिर की सूचना पर बीती रात कोरिया जिले के मनेन्द्रगढ़ के घोंघापाली से गिरफ्तार कर लिया गया है। मामला शिवरीनारायण का है, जहां प्रार्थी विजय सिंह ने 27 जुलाई 2017 को रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि मोहन श्रीवास के द्वारा जेल पहरी की नौकरी दिलाने का प्रलोभन देकर ढाई लाख रुपए की ठगी की गई। रिपोर्ट दर्ज होने के बाद से ही आरोपी मोहन श्रीवास लगभग दो साल से फरार चल रहा था। इसके बाद मुखबिर की सूचना पर कोरिया जिले के मनेन्द्रगढ़ से घोंघापाली गाँव से उसे गिरफ्तार किया गया। उसके खिलाफ धारा 420 के तहत कार्यवाही कर आरोपी को रिमांड पर भेज दिया गया है।

30-09-2019
ओटीपी पूछकर बैंक खाते से लाखों पार करने वाले गिरोह का पर्दाफाश  

कोरिया। अगर आपके फोन पर किसी अज्ञात नंबर से यह मैसेज आए कि हेलो सर आपका एटीएम ब्लॉक हो गया है आप अपना ओटीपी नंबर बता दीजिए तो भूलकर भी यह गलती न करें। किसी अनजान व्यक्ति को बैंक से जुड़ी कोई भी जानकारी न दें अन्यथा आप भी बड़ी ठगी का शिकार हो सकते हैं। कोरिया जिला मुख्यालय बैकुंठपुर के पुलिस कॉन्फ्रेंस हॉल में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ पंकज शुक्ला ने बताया कि थाना बैकुंठपुर क्षेत्र निवासी अब्दुल अली ने अपने पुत्र असलम अली को पैसा निकालने के लिए एटीएम भेजा था। उनका पुत्र पंजाब नेशनल बैंक के एटीएम से 5000 निकालने के प्रयास किया, लेकिन एटीएम से रकम नहीं निकली। तब अब्दुल ने इस बात की शिकायत बैंक में की। इसके बाद 26 अगस्त को उनके मोबाइल पर किसी का फोन आया और उसने अपने आप को पीएनबी का ब्रांच मैनेजर बताते हर अब्दुल की शिकायत का उल्लेख कर ओटीपी पूछ कर उसी के माध्यम से 1,62,500 की ठगी कर ली। इस मामले में पुलिस ने मामला दर्ज कर पड़ताल शुरू की। कोरिया पुलिस अधीक्षक विवेक शुक्ला के निर्देशन व साइबर क्राइम विशेषज्ञ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ पंकज शुक्ला के मार्गदर्शन में उप पुलिस अधीक्षक सोनिया उईके व कोतवाली थाना प्रभारी विलियम टोप्पो के नेतृत्व में विशेष टीम गठित कर झारखंड धनबाद के थाना क्षेत्र निरसा में भेजा गया। पुलिस टीम ने एक सप्ताह तक झारखंड में कैंप कर पतासाजी की। इस दौरान दो शातिर साइबर अपराधियों अभिजीत रविदास धनबाद और सूरज कुमार दास धनबाद को निरसा थाना स्टाफ  के सहयोग से घेराबंदी कर गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने आरोपियों के पास से 39,500 रुपए नगद, 14 मोबाइल, 1 लैपटॉप, 20 सिम, 1 पेटीएम कार्ड, 2 एटीम कार्ड, 1 डीएसएलआर कैमरा भी बरामद किया है। इस मामले को सुलझाने में अमर जायसवाल, सतेंद्र सिंह, सजल जायसवाल, रामायण सिंह, अरविंद कौल, अभिषेक द्विवेदी, पुष्कल सिन्हा व प्रिंस राय की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

 

30-09-2019
पैसे दोगुने करने का दिया लालच, ठगी का मामला दर्ज

रायपुर। रियल स्टेट में रुपए दोगुना करने का झांसा देकर वृध्द से धोखाधड़ी करने का मामला मंदिर हसौद थाने में दर्ज किया गया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार चंदखुरी बस्ती मंदिर हसौद थाना क्षेत्र निवासी खोरबाहरा राम साहू ने रिपोर्ट दर्ज करायी है कि विनायक होम्स एवं रियल स्टेट में रकम लगाने पर दोगुना राशि देने का प्रलोभन देकर घनश्याम वर्मा निवासी चंदखुरी ने प्रार्थी से 5 अगस्त 2013 में 6 लाख रुपये जमा कराकर उसमें से मात्र 1 लाख 60 हजार रुपये वापस दिए बाकी शेष रकम वापस न कर कंपनी को बंद कर दिया। आरोपी के खिलाफ न्यायालय मजिस्ट्रेट जेएमएफसी प्रवीण कुमार अग्रवाल रायपुर के आदेश पर आरोपी के खिलाफ धारा 420, 34 के तहत अपराध कायम किया गया है। 

 

30-09-2019
केबीसी में लकी विजेता के नाम पर ठगी की शिकार हुई महिला, ठग ने लगाया चूना...

नई दिल्ली। बिहार में शातिर ठग ने महिला को कौन बनेगा करोड़पति में लकी विजेता का झांसा देकर पैसे ठग लिए। जानकारी के अनुसार ठगों ने महिला को 35 लाख रुपये इनाम जीतने का झांसा दिया। बाद में इनकम टैक्स के नाम पर 61 हजार रुपये मांगे गए। महिला के पास रुपए नहीं थे तो उन्होंने सूदखोर से 10 पर्सेंट महीने के ब्याज पर रुपये लेकर ठगों के खाते में भेज दिया। फिर उनसे दोबारा 51 हजार रुपये की मांग की गई। महिला ने देने से मना किया तो ठगों ने मोबाइल नंबर बंद कर लिया। सेक्टर-39 थाने में केस दर्ज किया गया है। मूलरूप से समस्तीपुर (बिहार) निवासी कंचन देवी सेक्टर-45 के छलेरा में परिवार के साथ रहती हैं। कंचन एक डॉक्टर के यहां नर्स हैं। 27 सितंबर को उनके पास एक कॉल आई। कॉल करने वाले ने खुद को मदन कुमार बताया।

मदन ने कहा कि वह केबीसी से बोल रहा है। उनकी 35 लाख रुपये की लॉटरी लगी है। कॉल पर ही उसने कंचन से आधार कार्ड, बैंक खाता संख्या और गांव का पता आदि मांगा, जिसे उन्होंने वॉट्सऐप पर भेज दिया। बाद में इनकम टैक्स के तौर पर 61 हजार रुपये मांगे गए। महिला ने अपने गांव से ब्याज पर रुपये मंगवाकर ठगों के खाते में जमा करवा दिया। 28 सितंबर को दोबारा कॉल कर उन्हें अमिताभ बच्चन और मुकेश अंबानी से मिलाने की बात कही और 51 हजार रुपये फिर मांगे। इसके बाद कंचन रुपये देने से मना कर दिया। एएसआई सुधीर कुमार ने बताया कि साइबर सेल में जांच के लिए शिकायत भेजी गई है।

29-09-2019
पेट्रोल पंप के नाम पर महिला से हुई लाखों की ठगी, दो महिला आरोपी गिरफ्तार

जांजगीर चाम्पा। जिले की एक महिला को बिलासपुर रायपुर मुख्य मार्ग में शाकम्बरी इंडियन पेट्रोल पंप को लीज में देने के नाम पर लाखो की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। इस मामले में पुलिस ने ठगी करने वाले दो महिला आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है। दरअसल बिलासपुर, मुंगेली, और पश्चिम बंगाल के लगभग आधा दर्जन लोगों ने साजिश के तहत हसौद निवासी सुशीला सिन्हा के पास से बिलासपुर रायपुर शाकम्बरी इंडियन पेट्रोल पंप को लीज में देने के नाम पर धोखाधड़ी कर 20 से 22 लाख रूपये की ठगी की जिसकी शिकायत पीड़िता ने हसौद थाने में दर्ज कराई थी। इस पर कार्यवाही करते हुए सुचरिता वैष्णव जुनि लाईल खपरगंज बिलासपुर व चमन माथुर कबीर वार्ड मुंगेली को बिलासपुर सिविल लाईन से विधिवत गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर पेश किया गया जहां से जेल भेज दिया गया। वहीं मामले के अन्य आरोपी फरार बताये जा रहे हैं।

 

26-09-2019
इंश्योरेंस कंपनी का अधिकारी बताकर की ठगी, आरोपी गिरफ्तार

रायपुर। आनलाइन ठगी का एक मामला सामने आया है। मामला थाना सुहेला क्षेत्र का है। यहां प्रार्थी ओमप्रकाश को अज्ञात आरोपियों ने खुद को इंश्योरेंस कंपनी का अधिकारी बताकर ठगी की। आरोपियों ने एचडीएफसी बैंक में पूर्व से चल रहे इंश्योरेंस पॉलिसी के मेडिक्लेम एवं बोनस 9 लाख रूपया दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी की। ठगों ने प्रार्थी का आधारकार्ड, पासपोर्ट और पैनकार्ड वाट्सअप के माध्यम से मंगाकर जीएसटी रजिस्ट्रेशन शुल्क, आनलाइन पेमेंट के बहाने कुल 9 बार मे आरटीजीएस के माध्यम से अलग-अलग इंश्योरेंस कंपनी के खाते मे कुल 531998 रूपये को जमा करवाकर प्रार्थी के बिना सहमति एवं जानकारी के 9 अलग-अलग बीमा कंपनियों के पॉलिसी ब्रांड प्रार्थी को भेज दिया। बाद में आरोपियों द्वारा अलग-अलग नाम एवं मोबाइल नंबर से प्रार्थी को फोन कर पूर्व से लेकर अब तक सभी पॉलिसियों को कैंसिल कराकर रिफंड दिलाने का भरोसा एवं झांसा दिलाकर प्रार्थी से आरटीजीएस के माध्यम से अलग-अलग तिथियों में विभिन्न बैंको के खातों में 26,24,800 रूपया जमा करा लिए। पता चला तो लिखाई रिपार्ट आर्थिक क्षति पहुंचाते हुए 32 लाख ठग लिए।

जब प्रार्थी को अपने ठगे जाने का अहसास हुआ तो उसने सुहेला थाना पहुंच कर पूरे मामले की शिकायत दर्ज कराई, जिस पर से सुहेला पुलिस के द्वारा आरोपियों के फोन लोकेशन के आधार पर नोएडा जाकर लगातार 12 दिनों तक नोएडा में कैम्प कर आरोपियोें का दिल्ली,गाजियाबाद एवं नोएडा में लगातार पतासाजी कर प्रार्थी के साथ धोखाधड़ी कर एचडीएफसी बैंक के जिस खाता में रकम जमा कराया गया था। उस खाताधारक आरोपी आसिफ खान को बैंक खाते से मिली पते पर तलाश किया गया लेकिन आरोपी 2 साल पहले ही उक्त पते को छोड़ चुका था। लेकिन आरोपी आसीफ खान को बरोला सेक्टर 49 नोएडा से पकड़ लिया गया। आरोपी के पास से अपराध से संबधित पासबुक एवं एटीएम कार्ड को जब्त किया गया। मामले की जांच के दौरान ज्ञात हुआ कि अपराध करने वाले आरोपी का विस्तृत अंर्तराज्य नेटवर्क है, जिनमें एक टीम काम रही हैं और भोले-भाले लोगों को अपने जाल में फंसा कर ऑनलाइन ठगी का शिकार बनाते हैं। फिलहाल इस ठगी में शामिल अन्य आरोपियों की भी तलाश में पुलिस जुटी हुई है।

25-09-2019
एयरपोर्ट में भर्ती के विज्ञापन के नाम पर युवक से ठगी, पुलिस ने किया जुर्म दर्ज

दुर्ग। ग्राउंड स्टाफ के लिए एयरपोर्ट में भर्ती का विज्ञापन मोबाइल एप ओएलएक्स पर जारी किया था, जिसके झांसे में आकर एक युवक लगभग 50 हजार रुपए की रकम गंवा बैठा। ठगों ने अलग अलग जरूरतों का हवाला देकर युवक से किश्तों में रकम बैंक खाता में जमा करवाई थी। बाद में युवक को छल किए जाने का अहसास होने पर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई। शिकायत के आधार पर पुलिस ने उत्तर प्रदेश के मऊ निवासी तीन लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का जुर्म दर्ज किया है। ठगी का शिकार हुआ युवक शहर के आकाश नगर, सिकोलाभाठा निवासी प्रकाश परमार (23 वर्ष) है। प्रकाश ने अप्रैल 2018 में मोबाइल एप ओएलक्स पर रायपुर के विवेकानंद एयरपोर्ट पर ग्राउंड स्टाफ के लिए विभिन्न पदों के लिए भर्ती का विज्ञापन देखा था। इसमें दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क किए जाने पर व्यक्ति ने उसे अपना बायोडाटा जमा दिए गए ई-मेल भेजने कहा। बायोडाटा भेजने के कुछ दिनों बाद एक युवती का 3 अप्रैल 2018 को प्रकाश को फोन आया। युवती ने उसे यूनियन बैंक का अकांउट नंबर दिया और इस अकांउट में अरसद अली के नाम से आवश्यक फार्मेलिटी के लिए 4 हाजर रु. जमा कराने कहा।

इस पर विश्वास कर प्रकाश ने जिला पंचायत परिसर स्थित यूनियन बैंक की शाखा में जाकर रकम संबंधित खाता में जमा करवा दी। इसके कुछ दिनों बाद फिर फोन आया, फोन करने वाले व्यक्ति ने स्वयं को इंडिगों विभाग से संबंधित बताते हुए उसका चयन सुपरवाइजर पद के लिए किया जाना बताया और प्रशिक्षण के दौरान लैपटाप, मोबाइल, आईडी आदि उपलब्ध कराने के लिए 25 हजार 253 रु. पूर्व में दिए गए अकांउट में जमा करा कहा। इस रकम को भी प्रकाश ने जमा करवा दी। कुछ दिनों बाद उसे स्टाफ क्वाटर अलॉट किए जाने के लिए 15 हजार 200 रु. जमा कराने कहा गया, इस रकम को भी जमा करवा दिया गया। अंत में प्रकाश को फोन आया कि उसका पासपोर्ट नहीं है, नौकरी के लिए पासपोर्ट होना अनिवार्य है। यह पासपोर्ट इंडिगों द्वारा बनवाया जाएगा। इसके लिए उसे 5 हजार 300 रु. जमा कराने होंगे। यह रकम भी जमा करवा दी गई। बाद में प्रकाश द्वारा संबंधितों से संपर्क किए जाने पर संतोष जनक जवाब नहीं मिला और नियुक्ति के संबंध में कोई दस्तावेज नहीं मिलने पर उसे ठगी का शिकार होने का आभास हुआ। इसके बाद पुलिस में शिकायत की गई। पुलिस ने की गई शिकायत की जांच में सामने आया कि मोबाइल नंबर 9643286676 के धारक राजबहादुर, 9654779294 के धारक राजबीर सिंह तथा 8860341645 के धारक संजीव द्वारा इस वारदात को अंजाम दिया गया है। तीनों आरोपी उत्तप्रदेश के मऊ जिले के निवासी है। पुलिस ने तीन आरोपियों के खिलाफ दफा 420 का मामला दर्ज किया है। आगे की विवेचना जारी है।

 

22-09-2019
ज्यादा पैसे का प्रलोभन देकर ठगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार

कोरिया। ज्यादा पैसे का प्रलोभन देकर लोगों से ठगी कर फरार आरोपी को दो वर्ष बाद चिरमिरी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। जानकारी के अनुसार गेल्हापानी चिरमिरी निवासी आरोपी सौरभ कुमार दास ने विनर्स स्पोर्ट्स सिस्टम कंपनी का स्कीम बताते हुए कंपनी में जुडऩे एवं 8000 रुपए जमा करने पर प्रत्येक माह 2000 मिलने का झांसा देकर प्रार्थी गुलाम हबीब से नगदी रकम 85,000  गवाह बाबूलाल से 80, पुष्पा सारथी से 10,500,  सरोज सिंह 8500, शजो बेगम से 10,000  और पुनिया बाई से 8500  कुल 1 लाख रुपए की ठगी कर ली। इसके बाद वह फरार हो गया। थाना चिरमिरी में प्रार्थी गुलाम हबीब उर्फ  गुड्डू  पिता स्व. गुलाम नवी (65) निवासी गेल्हापानी चिरमिरी की रिपोर्ट पर अपराध क्रमांक 51/2018 धारा 420, भा.द.वि. पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। आरोपी को दो वर्ष बाद अथक प्रयास से गिरफ्तार किया गया। सम्पूर्ण कार्रवाई में थाना प्रभारी चिरमिरी विमलेश दुबे, सउनि हीरालाल कुजूर, आरक्षक चन्द्रसेन ठाकुर व गुलाल राजवाड़े की सराहनीय भूमिका रही। 

 

 

22-09-2019
पुलिस वाले बनकर महिला से की ठगी, हजारों के जेवर लेकर हुए चंपत

रायगढ़। कोतवाली थाना क्षेत्र में एक महिला ठगी का शिकार हो गई। पीड़िता निर्मला साहू पति बाबूराम साहू उम्र 54 साल ने बताया कि रविवार को मॉर्निंग वॉक के लिए निकली थी। दो अज्ञात व्यक्तियों ने मुझे रोक कर बोला हम पुलिस वाले हैं और अपना आई कार्ड दिखाए। व्यक्तियों ने कहा आप इस तरह जेवर पहन कर घूम रहीं हो वह ठीक नहीं है। उसे उतार कर रख लो नहीं तो जुर्माना लग जाएगा। उन्होंने चेन और अंगूठी मांगी। उन लोगों के कहने पर मैंने सोने के चेन एवं दो अंगूठी को उतार कर दे दी। फिर वे लोग चेन और अंगूठी कागज में लपेट कर मेरी साड़ी के पल्लू में बांध दिए और मोटर साइकिल से चले गये। जब घर पहुंची और अपने साड़ी के पल्लू को खोलकर देखा तो उसमें मेरा चैन व अंगूठी नहीं था। मेरे पल्लू में कागज से बंधा हुआ ईट का टुकड़ा निकला। पीड़िता ने बताया कि मेरी चेन और अंगूठी पुरानी है। चेन का वजन लगभग 2 तोला कीमत 40 हजार एवं दो नग अंगूठी का वजन लगभग 7 ग्राम रहा होगा,जिसकी कीमत 10 हजार होगी। पीड़िता ने टोटल 50 हजार ठगी की शिकायत दर्ज करवाई है। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने दो अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध धारा 420 भादवि 34पचब के तहत रिपोर्ट दर्ज की है।

16-09-2019
9.8 करोड़ का ड्राफ्ट लेकर बैंक पहुंचे युवक, अधिकारियों के उड़े होश

नई दिल्ली। दिल्ली स्थित पंजाब नेशनल बैंक की एक शाखा के अधिकारी उस वक्त हैरत में पड़ गए जब तीन युवक उनके पास एक 9.8 करोड़ का ड्राफ्ट लेकर पहुंचे। ड्राफ्ट एवरेस्ट बैंक ने जारी किया था जो नेपाल में पंजाब नेशनल बैंक का सहयोगी है। हालांकि पुलिस और बैंक की जांच में यह पाया गया कि यह एक ठगी थी और ड्राफ्ट भी जाली था। आरोपियों की पहचान यश सक्सेना, देवेंद्र सिंह मालवीय और राजीव उपाध्याय के रूप में हुई है जो भोपाल के रहने वाले हैं। तीन आरोपियों में से दो एक बैंक के सेल्स स्टाफ हैं जो इस बात को लेकर आश्वस्त थे कि जब तक बैंक उनकी जालसाजी पकड़ेगी तब तक वह उसे कैश करा चुके होंगे। आरोपी लोगों के ड्राफ्ट क्लियर कराने और प्लॉट आदि के लिए लोन लेने में उनकी मदद करते रहे हैं। पूछताछ के दौरान सक्सेना और मालवीय ने बताया कि उन्होंने तीसरे आरोपी उपाध्याय की रेस्त्रां खोलने के लिए लोन लेने में भी मदद की थी। इसी के बाद तीनों दोस्त बन गए थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804