GLIBS
11-06-2020
फर्जी सीआईडी अफसर बनकर ठगी करने वाले बंटी-बबली गिरफ्तार

बिलासपुर/ रायपुर। सीपत पुलिस ने ग्रामीणों की सतर्कता से गांव में फर्जी सीआईडी अधिकारी बनकर मास्क नहीं लगाने और सोशल डिस्टेंसिग का पालन नहीं करने पर जेल भेजने की धमकी देकर अवैध वसूली करने वाले ठग बंटी व बबली को रंगे‌ हाथ गिरफ्तार किया है।सीपत थाना क्षेत्र के ग्राम करमा निवासी शिव कुमार साहू गांव में किराना दुकान चलाता है। गुरुवार की सुबह 11 बजे दुकान में था, उसी समय सफेद रंग के स्कार्पियो क्रमांक सीजी 10 यू वी 1636 में एक पुरूष व महिला आए। दोनों ने शिव कुमार को मास्क नहीं लगाने तथा सोशल डिस्टेसिंग का पालन नही करने पर साथ में थाना चलने, जेल भेजने की धमकी दी। दुकानदार द्वारा गलती हो गई कहने पर 2 हजार रुपए जुर्माना भरने पर छोड़ने की बात कही। शिव कुमार ने डर कर दो हजार रुपए उन्हें दिये।

इसके बाद दोनों ने गांव के अन्य दुकानदारों से भी अवैध वसूली की। दोनों स्वयं को सीआईडी अधिकारी बता रहे थे। गांव के एक युवक को संदेह होने सीपत टीआई को फोन कर इस संबंध में जानकारी दी। सूचना मिलते ही पुलिस ने गांव पहुँच कर दोनों को हिरासत में ले लिया। पूछताछ में युवक ने अपना नाम आशीष पांडेय व नूपुर शर्मा निवासी बिलासपुर होना बताया है। पुलिस ने उन दोनों को और साथ में वाहन चालक देवव्रत मरावी को हिरासत में ले लिया है। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है।

09-06-2020
लालच के चक्कर में गवाएं साढ़े दस लाख रुपए...

रायपुर। तीन व्यापारियों से लाखों की ठगी का मामला सामने आया है। मिली जानकारी के अनुसार कृषि विज्ञान केंद्र व सहायता समूह में पार्टनर बनाने व नौकरी लगाने के नाम पर साढ़े 10 लाख की ठगी की घटना को अंजाम दिया गया है। पुलिस ने मामले में धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर लिया है। बता दें कि कोतवाली थाना क्षेत्र निवासी गुरमीत सिंह, कृष्ण कुमार बघेल और नंदकुमार साहू की मुलाकात 2017-18 में मोपका क्षेत्र निवासी तरुणी सारथी से हुई। स्वयं को हंसवाहिनी महिला मंडल स्व सहायता समूह की संचालिका बताया और तीनों व्यवसायियों को साथ में बतौर पार्टनर काम करके समूह के माध्यम से लाभ अर्जित करने की बात कहीं।

साथ ही महिला ने उन्हें कृषि विज्ञान केंद्र में पार्टनरशिप व नौकरी दिलाने का भी विश्वास दिलाया। बड़े-बड़े अफसरों से भी जान पहचान है कहने पर तीनों व्यापारी म​हिला के झांसे में आ गए और उन्होंने महिला का ऑफर स्वीकार कर लिया। इस बीच तीनों ने मिलकर करीब 10 लाख 68 हज़ार रुपए जुटाए और महिला को दे दिए। लेकिन डेढ़ साल गुजर जाने के बाद भी किसी प्रकार का कोई लाभ नहीं मिलने और न ही रकम वापस करने के बाद ठगी का एहसास हुआ। पीड़ितों ने मामले की शिकायत पुलिस से की। कोतवाली पुलिस ने शिकायत के आधार पर आरोपी महिला तरुणी सारथी के खिलाफ धारा 120 बी और 420 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।

14-05-2020
नौकरी के नाम पर युवकों से ठगी, एक गिरफ्तार एक फरार 

राजनांदगांव। प्रार्थी देवेश वर्मा पिता ललित वर्मा उम्र 25 वर्ष निवासी बरबसपुर थाना घुमका ने रिपोर्ट करवाई है कि उसके और अन्य आठ साथियों का आरोपी आकाश यादव निवासी स्टेशन पारा ने टाइपिंग कंपनी में काम दिलाने को लेकर सिक्योरिटी अमाउंट ले लिया। उसके बदले में टाइपिंग करने वाले को 9000 तथा नान टाइपिंग स्टाफ को 6000 रुपये वेतन देने का आश्वासन दिया। प्रत्येक को पांच कैंडिडेट जोड़ने का निर्देश देकर चैनल बनाकर और कैंडिडेट जुड़वाया।

इसके बाद लगभग 9 लोगों से और उनके अन्य कैंडिडेट का सिक्योरिटी मनी लगभग 40 लाख रुपए जमा करने के बाद वेतन देना बंद कर दिया और फरार हो गया। आरोपी आकाश यादव ने चिखली में एक सुसाइड नोट भी छोड़ा जिसमें गुम इंसान पंजीबद्ध कर जांच में लिया गया है। आरोपी आकाश यादव का पार्टनर शाहरुख खान गौरी नगर राजनांदगांव इस के अकाउंट में एनईएफटी के माध्यम से 1 लाख 40 हजार प्रार्थीओं ने जमा किया था को सहयोगी के रूप में बुधवार को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया मामले का मुख्य आरोपी आकाश यादव फरार है, जिसकी सरगर्मी से तलाश की जा रही है।

09-05-2020
चौकी प्रभारी ने कहा था- 40 हजार दे दो, मामला खत्म कर दूंगा, न काम हुआ न रुपए लौटाए

कवर्धा। चाकूबाजी में गिरफ्तार आरोपी दुर्गेश साहू के पिता गंगाधर साहू ने दशरंगपुर चौकी प्रभारी मानसिंग पर ठगी का आरोप लगाया है। मामले की लिखित शिकायत पुलिस कप्तान केएल ध्रुव से की गई है। शिकायतकर्ता गंगाधर उमरावनगर जिला बेमेतरा का रहने वाला है। बताया कि उसका बेटा दुर्गेश साहू 21 फरवरी को चाकूबाजी के मामले में पकड़ा गया था। घटना के दूसरे यानी 22 फरवरी को सूचना मिलने पर वह अपने पिता व साला के साथ दशरंगपुर चौकी पहुंचा। आरोप है कि चौकी प्रभारी मानसिंग ने मामला खत्म करने के लिए 40 हजार रुपए की मांग की। बेटे को बचाने व कोर्ट-कचहरी के चक्कर में फंसने से बचने के लिए गंगाधर ने पैसे दे दिए। 6 मई को कोर्ट में उसके बेटे की पेशी थी। पेशी के पहले मेडिकल जांच के लिए पैसे लगेंगे करके पुलिस ने 3 हजार रुपए और ले लिया। लेकिन कोर्ट में पेशी के बाद उसके बेटे को जेल भेज दिया गया। अब शिकायतकर्ता गंगाधार ने एसपी से लिखित में शिकायत कर चौकी प्रभारी से रुपए वापस दिलाने मांग कर रहे हैं।

19-04-2020
ईमेल, वाट्सएप हैक कर 53 हजार रुपए की ठगी, एफआईआर दर्ज

महासमुन्द। स्थानीय क्लबपारा निवासी एक युवक का वाट्सएस, ईमेल आईडी हैक कर दोस्तों को बिमार होने का मैसेज भेज कर एक अज्ञात व्यक्ति ने 53 हजार रुपए की ठगी करने का मामला प्रकाश में आया है। बहरहाल थाने में मामला दर्ज कराये जाने की जानकारी मिल रही है। सुत्रों से मिली जानकारी अनुसार शैलेन्द्र सिंह बैंस पिता नरेन्द्र बैस 40 साल क्लब पारा निवासी युवक का अज्ञात व्यक्ति ने वाट्सपेस और ईमेल आईडी हैक कर लिया और शैलेन्द्र सिंह बैस के मित्र योगेश चन्द्राकर और गणेश चौहान को मैसेज भेजा की वह गंभीर रूप से बिमार हो गया है और उसे तत्काल पैसे की जरूरत है।

मैसेज पढ़ कर शैलेन्द्र सिंह बैस के मित्र ने गुगल पे से ऑनलाइन 6 बार 45 हजार रुपए अज्ञात व्यक्ति के बताये खाते पर ट्रांसर्फर कर दिया और गणेश चौहान ने भी इसी तरह मैसेज पढ़ कर बताये हुए खाता क्रमांक 918740819036 में गुगल पे के माध्यम से ही 8 हजार रुपए राशि ट्रांसर्फर कर दिया। इस तरह अज्ञात व्यक्ति ने ऑनलाइन धोखाधड़ी करते हुए दोनों युवक योगेश चन्द्राकर और गणेश चौहान से 53 हजार रुपए राशि की ठगी कर ली है। बहरहाल ठगी का शिकार हुए लोगों द्वारा सिटी कोतवाली में मामले की शिकायत कराने पहुंचने की जानकारी मिली है।

03-04-2020
ठगी के वारदात को अंजाम देने वाला चौथा आरोपी गिरफ्तार,पांचवे की तलाश कर रही पुलिस

रायपुर। ठगी की वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। नंदन स्टील फैक्ट्री के सुपरवाइजर धीरेंद्र मिश्रा से सुंदरनगर मेन रोड पर दिनदहाड़े 26 लाख 50 हजार ठगी कर फरार आरोपी हेमंत सिंह यादव पुलिस के हत्थे चढ़ गया। आरोपी की गिरफ्तारी विधानसभा क्षेत्र से की गई। वारदात को अंजाम देने वाले एक अन्य आरोपी हरीश सेन की खोजबीन में पुलिस जुटी हुई है। गौरतलब है कि नवंबर 2019 में क्राइम ब्रांच अधिकारी बनकर नंदन स्टील के सुपरवाइजर धीरेंद्र मिश्रा को सुंदरनगर मुख्य मार्ग पर दो अज्ञात बाइक सवारों को रोककर जांच के बहाने 26 लाख 50 लाख रुपए से भरे बैग लेकर आरोपी भाग निकले थे। तफ्तीश के दौरान ठगी में शामिल अंकित मिश्रा को पुलिस ने उत्तरप्रदेश के नैनी और चन्द्रशेखर तल्लोली को बडोदरा,गुजरात से गिरफ्तार किया था। आरोपियों ने पूछताछ में खुलासा किया था

कि इस पूरे घटनाक्रम का प्लान नंदन स्टील के कैशियर आनंद सिंह ठाकुर ने बनाया था। उसी के कहने पर पांच लोगों ने मिलकर ठगी की वारदात को अंजाम दिया था। इतना ही नहीं अंकित ने ठगी के पैसों से पार्षद चुनाव लड़ने का प्लान बनाया था। पुलिस ने अंकित मिश्रा,चंद्रशेखर तल्लोली,आनंद सिंह ठाकुर को नकद 8 लाख रुपये के साथ गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था जबकि हेमंत सिंह यादव व हरीश सेन फरार थे। दोनों बदमाशों के पास ही 18 लाख रुपए थे। गुरूवार को विधानसभा इलाके में हेमंत के आने की सूचना पर पुलिस ने उसे धर दबोचा।  

 

12-03-2020
पेटीएम का केवायसी बंद होने का झांसा देकर शिक्षिका से ठगी, मामला दर्ज 

रायपुर। बिलासपुर में पेटीएम का केवायसी बंद होने का झांसा देकर ठगी करने का मामला सामने आया है। बता दें कि ब्रिलियन्ट पब्लिक स्कूल की शिक्षिका के बैंक खाते से 50 हजार रुपए निकाल लिए। मामले की रिपोर्ट पर सरकंडा पुलिस ने ठग के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया है। शिक्षिका का खाता बैंक ऑफ बड़ौदा की शाखा में है। कोतवाली पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के जूनी लाइन की निवासी ज्योति पांडेय ब्रिलयन्ट पब्लिक स्कूल में शिक्षिका है। उनका बैंक ऑफ बड़ौदा के राजकिशोर नगर शाखा में खाता है। 7 मार्च को उनके पति सचिन के पास अनजान नंबर से फोन आया। फोन करने वाले ने खुद को पेटीएम अधिकारी बताते हुए कहा कि आप के एटीएम का केवायसी नंबर अगले 12 घंटे में बंद हो जायेगा, अपडेट करने की जानकारी देते हुए एटीएम नंबर की जानकारी ली।

02-03-2020
3 वर्षों से खाते से होता रहा राशि का आहरण, 57 बार एटीएम से साढ़े चार लाख निकाले, ठगी का मामला दर्ज

कांकेर। भानुप्रतापपुर थाना में साढ़े चार लाख रुपयों की ठगी का मामला सामने आया है। वहीं इस बड़ी ठगी में चौकाने वाली बात यह रही कि लगभग 3 वर्ष के लंबे अंतराल में खाताधारक के पैसे फर्जी तरीके से आहरित किए जाते रहे और उसे भनक तक नहीं लगी। ग्राम संबलपुर सरईपारा की निर्मला मंडावी पति ललित मंडावी उम्र 36 वर्ष ने सोमवार को भानुप्रतापपुर थाना आकर रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसके खाते से वर्ष 2016 से लेकर जुलाई 2019 तक कुल 4 लाख 57 हजार की बड़ी राशि फर्जी तरीके से निकाली गई है। निर्मला ने दो-तीन दिन पहले जब अपने पासबुक में एंट्री करवाई तब उसे इस फर्जीवाड़े का पता चला। निर्मला ने जब पूछताछ की तो बैंक वालों ने बताया कि सारी रकम भानुप्रतापपुर बस स्टैंड के एटीएम से 57 बार में एटीएम का उपयोग कर निकाली गई है। निर्मला के अनुसार उसका मोबाइल नंबर उसके एसबीआई के खाते से जुड़ा हुआ है और जब भी वह खुद अपने खाते से रकम निकालती थी तो बाकायदा इसका मैसेज भी उसके फोन में आता था। परंतु 57 अनाधिकृत निकासी का उसके पास एक भी मैसेज नहीं आया। निर्मला के अनुसार वह इस खाते का अधिक प्रयोग नहीं करती थी और जो भी लेनदेन था, वह मोबाइल के माध्यम से ही कर लेती थी। इसलिए उसे इस धोखाधड़ी की जानकारी नहीं हो पाई। फिलहाल पुलिस इस मामले की तह तक जाने की कोशिश में जुट गई है तथा सीसीटीवी के फुटेज व अन्य जानकारियां जुटाने में लगी हुई है। पुलिस के द्वारा अज्ञात अपराधी के खिलाफ धारा 420 के तहत मामला पंजीबद्ध कर लिया गया है।

 

02-03-2020
नौकरी का लालच देकर लाखों की ठगी, आरोपी गिरफ्तार पहुंचा जेल

रायपुर। शहर में नौकरी लगाने के नाम पर लाखों रूपए की ठगी का मामला सामने आया है। मिली जानकारी के अनुसार पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में सहायक विस्तार अधिकारी के पद पर नौकरी लगवाने के नाम पर 4 लाख 20 हजार रुपए की ठगी की गई है। कृष्णानगर निवासी नरेन्द्र देवांगन साल 2017-18 में आयोजित पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में सहायक विस्तार अधिकारी के पद पर परीक्षा में शामिल हुआ था। उसके परिचित खमतराई निवासी बी. ईश्वर राव ने विभाग में रसूख होने का हवाला देकर नाम चयन सूची में डलवाने का भरोसा हासिल कर लाखों रूपए ले लिए जिसके बाद चयन सूची में नाम नहीं आने पर पीड़ित ने पद के लिए दी रकम के वापसी की मांग की। जिसे लौटाने से आरोपी ने इंकार कर दिया है। इसके कारण पीड़ित ने रायपुर एसएसपी आरिफ शेख के समक्ष लिखित शिकायत दर्ज कराई है। जांच में शिकायत सही पाये जाने पर गंज थाने में धोखाधड़ी का अपराध दर्ज किया गया है। पुलिस ने आरोपी बी ईश्वर राव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

 

 

02-03-2020
नौकरी लगवाने  के नाम पर वसूले 58 हजार रु., पुलिस ने दर्ज किया मामला

दुर्ग। अच्छी कंपनी मैं नौकरी दिलाने का झांसा देकर युवक से 58 हजार 700 रु. की ठगी किए जाने का मामला सामने आया है। पीड़ित ने शिकायत दर्ज कराई थी कि सीमेंट कंपनी का फर्जी ज्वांइनिंग लेटर देकर उसके साथ ठगी की गई। इस मामले में ने आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध पंजीबद्ध कर लिया है। मामला सुपेला थाना क्षेत्र का है। बीईसी कंपनी में कार्यरत सुनील कुमार नेवारे के मोबाइल पर अल्ट्राचेक सिमेंट कंपनी में बेहतर जॉब का ऑफर आया था। जिस पर विश्वास कर सुनील ने मैसेज के मोबाइल नंबर धारक अभिनव सिंग से संपर्क किया। अभिनव ने बेहतर सुविधाओं के साथ मीमेंट कंपनी में जॉब दिलाने का विश्वास सुनील को दिलाया और प्रोसेसिंग फीस के रुप में किश्तों में 58 हजार 700 रु. की रकम जमा करा ली। यह रकम सुनील ने किसी बेबी परवीन के खाते में गुगल पे के माध्यम से जमा की थी। रकम जमा होने के बाद सुनील को कंपनी का ज्वाइनिंग लेटर दिया गया। इस लेटर को कंपनी में लेकर जाने पर उसके फर्जी होने की जानकारी सामने आई। वहीं अभिनव से रकम वापसी की मांग किए जाने पर उसने रकम वापस करने से इंकार कर दिया। इसके बाद मामले की शिकायत पुलिस में की गई। शिकायत के आधार पर पुलिस ने अभिनव सिंग के खिलाफ दफा 420 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर प्रकरण को विवेचना में ले लिया है।

19-02-2020
ऑनलाइन मोबाइल मंगाया था एसईसीएल कर्मी ने,खोलकर देखा तो निकला कुछ और....

कोरबा। शहर के एक एसईसीएल कर्मी को ऑनलाइन मोबाइल मंगाना भारी पड़ गया। जब उसने मंगाए गए सामान का पैकेट खोलकर देखा तो उसमें से दूसरे सामानों के अलावा पत्थर के टुकड़े निकले। दीपका कॉलोनी निवासी अशोक कुमार कश्यप ठगी का शिकार हो गया। अशोक कुमार कश्यप के मोबाइल पर कुछ दिनों पहले एक अंजान व्यक्ति का कॉल आया। इसमें उसे ऑफर के तहत कंपनी से ऑनलाइन  मे सस्ते दर पर मोबाइल उपलब्ध कराने की बात कही गई थी। इस बात से सस्ते मोबाइल मिलने के झांसे में आकर अशोक कुमार ने 42 सौ रुपए बताए हुए पते पर पोस्ट ऑफिस में जाकर पैसा जमा कराकर  पार्सल अपने हाथ में लिया। घर में जाकर उसने पार्सल खोला तो उसके होश उड़ गए। दरअसल पार्सल में मोबाइल की जगह एक बेल्ट और दो सस्ते पर्स तथा ईंट पत्थर निकले। जब अशोक कुमार को अपने ठगे जाने का एहसास हुआ तो उसने संबंधित मोबाइल नंबर पर फोन किया। लेकिन उसे कोई जवाब नहीं मिला। अशोक कुमार अपनी शिकायत लेकर एसपी कार्यालय पहुंचा और उसने मामले की लिखित शिकायत की।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804