GLIBS
24-09-2018
Registry of Plots : रायपुर में छोटे प्लाट्स की रजिस्ट्री बंद 
छोटी-मोटी गलतियां निकाल कर किया जाता है परेशान
16-09-2018
Theft : लोगो का भविष्य और राशिफल बताने वाले पंडित के भाग्य में चोरो ने लगाया ताला, पढ़े पूरी खबर

रायपुर।  राजधानी सहित पूरे प्रदेश में ज्योतिष शास्त्र एवं राशिफल के लिए विख्यात पंडित प्रिया शरण त्रिपाठी के घर पर कल रात चोरों ने जमकर उत्पात मचाया है । मजे की बात यह है कि चोर जिस कमरे में चोरी की घटना को अंजाम दे रहे थे पंडित प्रिया शरण त्रिपाठी और उनकी पत्नी वही सोए हुए थे। 

लेकिन उन्हें चोरी की भनक तक नहीं लगी चोर अपने साथ कमरे में रखे सारे जेवरात लेकर चले गए हैं जिसका जिसकी कीमत का आकलन अब तक नहीं किया गया। पंडित प्रिया शरण त्रिपाठी और उनकी पत्नी तारा त्रिपाठी सुबह उठे तब उन्हें चोरी की जानकारी हुई पूरे घर के सामान बिखरे हुए थे और अलमीरा का ताला टूटा था। संभवतः दोनों को चोरों ने बेहोशी का स्प्रे दे दिया था इसके कारण उन्हें घटना की जानकारी नहीं हो पाई है । पंडित प्रिया शरण त्रिपाठी ने बताया कि चोर के घर से दो सोने की चैन, चूडिया, अंगूठी कान की बालियां एवं चांदी के भगवान के जेवर और नकदी ले गए हैं।

इसकी कीमत का आंकलन अभी नहीं किया जा सका  है उन्होंने बताया कि चोरो ने उनके पूरे जीवन भर कि कमाई पर हाथ साफ़ कर दिया । उन्होंने बताया कि उनका घर सीसीटीवी से लैस है इसमें एक लड़का तार काटकर घर में घुसते दिख रहा है । उसने घर में लगभग एक घंटे तक उत्पात मचाया है इस दरमियान दोनों पति पत्नी बिस्तर पर ही सोये हुए थे । उन्हें ज़रा भी चोर के कमरे में होने का एहसास नहीं हुआ ।फिलहाल उन्होंने अभी पुलिस को सूचना नहीं दे है । त्रिपाठी ने बताया कि चोरी की घटना की जानकारी सुबह होने के बाद वे अपने दिनचर्या के मुताबिक़ सारे कामकाज निपटा रहे थे  । अभी उन्होंने सीसीटीवी खंगालना शुरू किया तब उन्हें चोर घर में प्रवेश करते दिख रहा है  । 

14-09-2018
Traffic Police : ट्रैफिक पुलिस ने 600 वाहनों पर कार्रवाई कर वसूले 1 लाख 88 हजार 800

रायपुर। राजधानी के ट्रैफिक पुलिस ने यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले 600 वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई  कर 1 लाख 88 हजार 800 रूपए समन शुल्क की वसूली की। बता दे कि यातायात व्यवस्था को सुगम बनाए के लिए ट्रैफिक पुलिस ने नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ सख्ती बरतते हुए चालानी कार्यवाही शुरू कर दी है। इस दौरान 13 सितंबर की देर रात तक ट्रैफिक पुलिस ने रॉग साईड, संकेत उल्लंघन, दोपहिया में तीन सवारी, गलत रजिस्ट्रेशन व नो पार्किंग वाहन चालकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई  की है।

जिसमें संकेत उल्लंघन-36, लापरवाहीपूर्वक वाहन चलाना-1, मोबाईल से बात करने वाहन चलाना-15, ओव्हरस्पीड वाहन-2 शराब सेवन-1 नो पार्किंग में-188, दोपहिया में तीन सवारी-184, बिना हेलमेट-12, आड़ी तिरछी नंबर-42,  बिना परमिट-2, प्रतिबंधित क्षेत्र में वाहन-1, बिना लायसेंस के वाहन-16, बिना पाल्यूशन जांच के वाहन चलाना-19 व अन्य धाराओं पर उल्लंघन करने पर 81 वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई की है। इस तरह ट्रैफिक पुलिस ने कुल 600 वाहन चालकों से 1 लाख 88 हजार 800 वसूले है।

 

 

12-09-2018
Municipal Corporation : राजधानी के पॉश कॉलोनियों में सुअरों का आतंक, नगर निगम बेसुध 

रायपुर। राजधानी की सड़कों में आवारा मवेशियों और कुत्तों का भय नहीं, बल्कि  कई पॉश कॉलोनियों में सुअरों का भी जबर्दस्त आतंक मचा हुआ है। मुख्यमंत्री  निवास के समीप  जल विहार कॉलोनी, श्याम नगर समेत शहर के अन्य कॉलोनियों  में सुअरों से लोग परेशान हैं। इनकी रोकथाम के लिए नगर निगम प्रशासन भी कोई  कार्रवाई नहीं कर रहा है। इसके कारण गंदगी फैल रही है व सुअर पालने वाले यहां  खाली प्लाट्स का दुरुपयोग कर रहे हैं। इससे बीमारी फैलने की आशंका है। 

बता दें कि यही समस्या भिलाई में है। वहां नगर निगम ने सुअरों के खिलाफ अभियान चलाकर उन्हें पकड़ रही है और उन्हें शहर से बाहर छोड़ रही है। बता दें कि शहर में नगर निगम अमला आवारा मवेशियों और कुत्तों को पकड़ने समय-समय पर कार्रवाई करती है लेकिन सुअरों को लेकर आज तक कोई अभियान नहीं चलाया है।  लिहाजा शहर के आवासीय इलाकों में तेजी से सुअर पालन बढ़ गया है। कई दफे ऐसे वाकये हुए हैं जब सुअरों ने लोगों पर हमला कर नुकसान पहुंचाने की कोशिश की है। सुअरों की वजह से स्थानीय लोगों का जीना मुहाल हो गया है। आलम ये है कि इन आवारा पशुओं की वजह से लोग खौफजदा हैं और अपने घरों से बाहर निकलने से भी घबरा रहे हैं। वहीं कॉलोनी की साफ सड़कों पर भी इन जानवरों के द्वारा जगह-जगह गंदगी फैलाई जा रही है। 

12-09-2018
Farmer Union : 14 से पदयात्रा शुरू करेंगे किसान, 17 को राजधानी में भरेंगे हुंकार

राजनांदगांव।  किसान संघ के बैनर तले जिले के सैकड़ों किसान,14 को पदयात्रा शुरू करेंगे। यह यात्रा 17 को राजधानी पहुंचेगी। जहां विशाल आमसभा आयोजित की जाएगी। इसी दिन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को ज्ञापन भी सौंपा जाएगा। किसान संघ के नेता सुदेश टीकम, मदन साहू, चंदू साहू आदि नेताओं ने आज इस कार्यक्रम की घोषणा की। उन्होंने बताया कि यह पदयात्रा जिले के सभी गांवों में फसल बीमा का भुगतान करने, वर्ष 2014-16 तक का धान बोनस देने, किसानों को कर्जमुक्त करने, चना की खरीदी न करने से किसानों को हुए नुकसान की 7000 रुपए प्रति एकड़ की दर से भुगतान करने और वनाधिकार कानून के तहत वन भूमि पर काबिज आदिवासियों को व्यक्तिगत व सामुदायिक पट्टे देने आदि मांगों को पूरा करने के लिए की जा रही है। 

किसान नेताओं ने बताया कि छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन और उससे जुड़े घटक संगठनों का इस पदयात्रा को पूरा समर्थन है। किसान नेताओं ने कहा कि भाजपा की रमन सरकार ने अपने चुनावी वादों को पूरा करने के बजाए किसानों के साथ छल ही किया है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ किसानों के बजाये बीमा कंपनियों को ही हुआ है। किसानों की कर्जमुक्ति के लिए इस सरकार के पास पैसे नहीं है, लेकिन कॉपोर्रेट कंपनियों के बैंकिंग कर्ज के 4 लाख करोड़ रुपए बट्टे-खाते में डाल दिए गए हैं। 

 

09-09-2018
Accused Arrested: समता कॉलोनी गोलीकांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

रायपुर। राजधानी के समता कालोनी में किट प्लाई कम्पनी के मैनेजर की गोली मारकर हत्या करने के मामले में शामिल आरोपी को पुलिस ने कलकत्ता से ग्रिफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपी के पास से पिस्टल जब्त किया है।

बता दे कि पकड़े गए आरोपी का नाम अभिलेख सिंह उर्फ छोटू उर्फ अभिलेश (34) निवासी पश्चिम बंगाल है। बताया जाता है कि मृतक अजय कुमार प्लाई इंडस्ट्रीज कम्पनी रायपुर का ब्रांच मैनेजर था और समता कालोनी स्थित ऑफिस में बैठता था। 29 दिसम्बर 2016 को अजय अपने दोस्त एस. सूर्यप्रकाश के साथ ऑफिस में बैठा था तभी सुबह करीब सवा 11 बजे दो व्यक्ति आये और अजय को बाहर बुलाकर गोली मार दिया और भाग निकले। जिससे अजय के दोस्त एस. सूर्यप्रकाश ने इसकी सूचना पुलिस को दी।

अजय ने मृत्यु पूर्व अपने बयान में अभिलेख सिंह और उसके दोस्त पर गोली मारने का आरोप लगाया था। मामले में पुलिस ने छानबीन के दौरान झारखंड से दो आरोपी सैय्यद मोहम्मद इमरान (25) और सरफराज खान (27)को ग्रिफ्तार किया था। पूछताछ में दोनों आरोपी ने बताया कि छोटू उर्फ अभिलेख सिंह के कहने पर अजय सिंह व इमरान को रायपुर भेजा था। अभिलेख और अजय पूर्व से परिचित थे। अभिलेख ने मुझसे कहा कि रायपुर जाकर एक व्यक्ति की हत्या करना है। जिसके एवज में लाखों रुपये देने की बात कही। सरफराज व इमरान की ग्रिफ्तारी के बाद अजय व अभिलेख फरार चल रहे थे और अपना नाम व पता ठिकाना बदलकर रह रहे थे। अभिलेख के बारे में जानकारी मिलने पर पुलिस के टीम ने कलकत्ता जाकर आरोपी को ग्रिफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपी के पास से पिस्टल जब्त किया है। मामले में शामिल अन्य आरोपी की तलाश जारी है।

07-09-2018
Crime Branch: रायपुर में हो रही 22 तरीकों से आॅनलाइन ठगी, क्राइम ब्रांच ने 85 पीड़ितों को वापस दिलाया पैसा 

रायपुर। राजधानी में आॅनलाइन ठगी की वारदात बढ़ गई है। डिजिटल जमाने में अब बैंक खातों में रखी रकम के लिए खतरा बढ़ गया है। कैशलेस सिस्टम होने के बाद हाईटेक तरीके से ठगी की वारदातें हो रही है। राज्य में 2-3 माह में ही आॅनलाइन ठगी समेत साइबर क्राइम के 100 से ज्यादा मामले सामने आए है। लेकिन पिछले साल से इस बार आॅनलाइन ठगी के अपराध में कमी आई है।

बता दें कि हाईटेक ठगी के मामले में पुलिस ने जांच की तो जानकारी मिली की अब तक 22 तरीके से पूरे राज्य में ठगी की वारदात को अंजाम दिया जा रहा है। ठगों ने हर वारदात में ट्रेंड बदलकर झांसा दिया। आॅनलाइन ठगी के मामलों में जामताड़ा के बाद बिहार, दिल्ली और मुंबई के गिरोहों ने राज्य में अपनी पैठ जमाई है। हालांकि पिछले साल की अपेक्षा वर्ष 2018 में आॅनलाइन ठगी के मामले में थोड़ी कमी आई है। बता दें कि बीते वर्ष 2017 में आॅनलाइन ठगी के कुल 61 मामले सामने आए हैं वहीं जनवरी 2018 से अब तक आॅनलाइन ठगी की कुल 15 मामले ही दर्ज हुए है। 

पढ़े-लिखे लोग ही हो रहे आॅनलाईन ठगी के शिकार

आॅनलाइन ठगी के जाल में अक्सर 80 प्रतिशत पढ़े लिखे युवा, महिला व बुजुर्ग लोग ही फंसे है। नोटबंदी के बाद से आॅनलाईन लेन-देन बढ़ने के साथ जालसाजी के मामले भी बढ़े है। साइबर सेल के अनुसार अधिकांश मामलों में आरोपी फर्जी बैंक कर्मी बनकर, कार्ड की क्लोनिंग, एटीएम ब्लॉक करने का डर दिखाकर चंद सेंकड में खाते से पैसा खाली कर देते है। कुछ  ऐसे भी मामले है। जब आरोपी कार्ड क्लोनिंग कर खाते के रुपए निकाल लेते है। इसके अलावा फेसबुक या अन्य सोशल मीडिया पर अश्लील फोटो पोस्ट करने के भी मामले आए है। इंटरनेट के जरिए चैटिंग कर लोगों से भी ठगी करने का मामला भी साईबर सेल में आया है। 

ये सावधानियां रखे

1. कार्ड स्वैप खुद करें, दूसरे को ना दें, कार्ड का रंग जरूर याद रखे इससे कोई कार्ड बदल नहीं सकता।

2. क्रेडिट और डेबिट कार्ड की जानकारी किसी से शेयर ना करें, ई-मेल पर आएं और मैसेज पर क्लिक न करें।

3. एटीएम बूथ में पैसे निकालते वक्त किसी का सहयोग ना लेंऔर ओटीपी की जानकारी किसी से शेयर ना करे।

4. फेसबुक पर अज्ञात को दोस्त ना बनाएं वहीं भुगतान के वक्त क्रेडिट व डेबिट कार्ड का पिन नंबर छिपाकर एंटर करें।

आॅनलाईन ठगी के 22 तरीके है, जिनसे आम आदमी आसानी से ठगों के झांसे में फंस जाता है और में क्षतिपूर्ति भी ज्यादातर मामलों में नहीं हो पाती है। इसकी मुख्य वजह ठगी करने वाले राशि का उपयोग कर लेते हैं। अभी हाल ही में जनवरी 2018 से जुलाई 2018 तक क्राइमब्रांच ने आॅनलाइन ठगी के शिकार हुए करीब 85 लोगों को उनका पैसा वापस दिलाया है। जिसमें कुल 13 लाख 91 हजार 869 रूपए है। 

इन तरीकों से हो रही है ठगी

1. एटीएम बदलने- खुद को बैंक अधिकारी बताकर अज्ञात नंबर में फोन लगाते हैं और एटीएम ब्लॉक होने का झांसा देकर ठगी करते है।

2. ब्लॉक होने का दावा- कार्ड किसी कारण से ब्लॉक है कहते हुए खाता नंबर व एटीएम कार्ड का नंबर लेकर करते है ठग।

3. बीमा पॉलिसी की किस्त- कई बार बीमा पॉलिसी की जानकारी लेकर पॉलिसी की नंबर व खाता नंबर लेकर करते है ठगी।

4. फेसबुक में फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर खुद को विदेशी नागरिक बताकर लेते है झांसे में

5. कंसल्टेंसी कंपनी- नौकरी लगाने में मान्यता प्रापत कंसलटेंसी एजेंसी और अधिकारी बताकर उगाही करना और नौकरी की गारंटी देना।

6. डिस्काऊंट का बहाना,  विदेशी वीजा का बहाना,  पहचान कौन,  इंश्योरेंस के नाम पर, कार्ड का क्लोनिंग,  शादी का हवाला, रिकार्ड पाइंट का तर्क,  टावर लगाना,  आधार लिंक नहीं होने जैसे कई  बहाने बनाकर लोगों से ठगी की जा रही है। 

पढ़े लिखे लोग लोग ज्यादा शिकार 

अधिकतर पढ़े लिखे लोग आॅनलाइन ठगी के शिकार होते हैं।  कई मामलों में हमने पीड़ितों को वापस पैसे दिलाएं है। इसके अलावा पिछले साल से इस साल आॅनलाइन ठगी के मामले में कमी आई है।

 अभिषेक माहेश्वरी, डीएसपी क्राइम ब्रांच 

05-09-2018
Crime Record : राजधानी में मटकी फोड़ कार्यक्रम में अलग-अलग थाना क्षेत्र में हुई मारपीट

रायपुर। राजधानी में कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर होने वाले मटकी फोड़ कार्यक्रम के दौरान शहर के अलग-अलग थाना क्षेत्रों में मारपीट का मामला सामने आया है। मामले में पुलिस ने अपराधियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया है।

बता दें कि सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस हमेशा सतर्क रहने का दावा करती है। वहीं शहर के गली मोहल्लों में मामूली बात पर मारपीट व चाकू चल जाता है। इसी तरह शहर में मटकी फोड़ के दौरान मारपीट के तीन मामले शहर के थानों में दर्ज हुए हैं।

केस-1गुढ़यारी थाना में मटकी फोड़ के दौरान मामूली बात पर किशोर से मारपीट का मामला।

केस-2 राजेंद्र नगर थाना के आदर्श नगर में मटकी फोड़ कार्यक्रम के दौरान आरोपी भोला राव ने शंकर कोशले से किया मारपीट।

केस-3 गंज थाना के फाफाडीह के पास मटकी फोड़ कार्यक्रम के दौरान ट्रक चालक से मारपीट कर  ट्रक में तोड़फोड़।

04-09-2018
Missing Man: तीन दिनों से लापता युवक का शव नाली में मिला, मिर्गी बीमारी से पीड़ित था मृतक

रायपुर। राजधानी के उरला थाना क्षेत्र स्थित हीरा उद्योग के पास नाली में आज सुबह एक युवक का शव मिला। सूचना पर मौके में पहुंची पुलिस ने पंचनामा कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

बता दे कि आज सुबह पुलिस को सूचना मिली की हीरा उद्योग के पास नाली में एक युवक का शव पड़ा हुआ है। मौके में पहुंची पुलिस ने देखा की शव दो-तीन दिन पुराना है और फुल गया है। जिससे पुलिस ने पंचनामा कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

उसी समय युवक की गुमशुदगी की शिकायत करने पहुुंचे परिजन ने शव की शिनाख्ती सुखदेव बंजारे (19) के रूप में की। बताया जाता है कि मृतक सुखदेव हीरापुर अछोली का रहने वाला था। मृतक के दादा आंबेडकर अस्पताल में भर्ती है। जिससे परिजन सुखदेव के तरफ ध्यान नहीं दिए। सुखदेव 1 सितंबर से लापता था। आज जब परिजन थाने में शिकायत करने पहुंचे तो देखा की शव सुखदेव की है। परिजनों ने बताया कि मृतक मिरगी बीमारी से पीडि़त था। सुखदेव के परिवार में उसकी मां, बहन व दादा है। मां किसी फैक्ट्री में मजदूरी कर अपने परिवार का पेट पाल रही थी। बहरहाल पुलिस मामले में मर्ग कायम कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

04-09-2018
CCTV : शहर में आपराधिक वारदातों पर नजर रखने लगेंगे 804 कैमरे

रायपुर। राजधानी में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर व स्मार्ट सिटी बनाने की कवायद चल रही है। जिसमें निगम में 57 प्रमुख चौक चौराहों पर व पुलिस विभाग ने जनसहयोग के मदद से 164 प्रमुख चौक चौराहों पर सीसीटीवी कैमरा लगा रहे है। वहीं कैमरे की मॉनिटरिंग करने के लिए दो स्थानों पर हाईटेक कंट्रोल रूम बना रहे है।

बता दे कि राजधानी को स्मार्ट सिटी बनाने व सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए शहर के प्रमुख चौक चौराहों में कैमरा लगाने का काम चल रहा है। वहीं कुछ चौक में कैमरा लग चुका है। कैमरा लगने से शहर में अपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगने की संभावना है। बताया जाता है कि पूर्व में अपराधी घटना को अंजाम देकर फरार हो जाता था और उसकी पहचान भी नहीं हो पाती  थी। लेकिन शहर में कैमरा लगने से सीसीटीवी कैमरा की मदद से अपराधी की आसानी से पहचान की जा सकती  है। इस संदर्भ में जब यातायात विभाग के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक वर्मा से बात की तो उन्होंने बताया कि शहर की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए शहर के छोटे बड़े चौक चौराहों पर पुलिस विभाग एवं जन सहयोग की मदद से 164 स्थानों पर 544 कैमरा लगाया गया है। वहीं स्मार्ट सिटी के तहत 57 प्रमुख चौक चौराहों पर 260 कैमरा लगाने का कार्य जारी है। ये सभी कैमरा सिग्नल वाले चौकों पर लगाया जा रहा है। शासन ने जनता की सुविधा के लिए एवं यातायात को सुगम बनाने के लिए चौक चौराहों पर सिग्नल भी लगाया जा रहा है।

मॉनिटरिंग करने के लिए दो स्थानों पर हाईटेक कंट्रोल रूम-

राजधानी में लगाए जा रहे कैमरों को कंट्रोल करने के लिए शहर में दो जगहों पर कंट्रोल रूम का स्थापना कर रहे है। एक तो पुराना बस स्टेण्ड में स्थित मल्टी लेवल पार्किंग भवन के ऊपर हाईटेक कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। जहां से शहर में लगे सीसीटीवी कैमरा में कैद तस्वीरों की 24 घंटे निगरानी की जाएगी। इससे शहर में दिनभर के गतिविधि को कंट्रोल रूम में लगे बड़े स्क्रीन पर देखी जाएगी। इसके साथ ही कालीबाड़ी पुलिस थाना में कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। इन दोनों स्थानों से शहर के सभी सीसीटीवी कैमरा की निगरानी होगी। शहर में दिनभर में होने वाली गतिविधि सहित अपराधिक घटनाओं पर नजर रखी जाएगी।

04-09-2018
City Crime: राजधानी से हो रही हर दिन नाबालिक लड़कियां गायब, पुलिस जांच में जुटी

रायपुर। राजधानी के थानों में रोज नाबालिग लड़की व लड़को के गायब होने के मामले दर्ज हो रहे हैं। पुलिस सभी मामलों में अपहरण का अपराध दर्ज कर जांच में लिया है। मंगलवार को भी एक 17 वर्षीय लड़की के गायब होने की खबर सामने आई है। बता दें कि शहर के थानों में रोज नाबालिग लड़की व लड़को के गायब होने का अपराध दर्ज हो रहा है। जिसमें सबसे अधिक मामले नाबालिक लड़की के हैं। जिनकी उम्र करीब 16 से 17 वर्ष के आसपास की है। इसी तरह आज भी उरला थाना क्षेत्र के चोखड़िया तालाब के पास से एक 17 वर्षीय लड़की गायब हो गयी है। वहीं डीडीनगर थाना क्षेत्र के चंगोराभाठा से 16 वर्षीय लड़की और गुढ़यारी क्षेत्र से 12 वर्षीय लड़के की गायब होने का अपराध दर्ज है। बीते सप्ताह में देखे जाए तो शहर के थानों में नाबालिग लड़की के गायब होने के आधा दर्जन अपराध दर्ज हैं। पुलिस ने सभी मामलों में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ अपराध दर्ज कर जांच में जुट गई है। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804
Visitor No.