GLIBS
11-09-2020
शहर में फिर दो दिनों से पानी सप्लाई बंद होने पर भाजपा पार्षदों ने प्रदर्शन की दी चेतावनी

दुर्ग। पानी सप्लाई प्रभावित होने की सूचना के विपरित दो दिनों नल नहीं खुलने के कारण  भाजपा पार्षदों ने महापौर पर हमला बोला। भाजपा पार्षदों ने कहा है कि जनता के प्रति उदासीनता व उनके द्वारा पद के अनुरूप कार्य करने के बजाय व्यवसायिक सोच के चलते आज शहर की जनता बार बार पानी के लिए परेशान हो रही है। इस संबध में भाजपा पार्षद दल नेता अजय वर्मा,गायत्री साहू,देवनारायण चंद्राकर,चन्द्रशेखर चंद्राकर,नरेंद्र बंजारे,कांशीराम कोसरेे,नरेश तेजवानी,लीना दिनेश देवांगन,चमेली साहू,मनीष साहू, ओमप्रकाश सेन,अजित वैद्य,हेमा शर्मा,पुष्पा गुलाब वर्मा,शशि साहू,कुमारी साहू ने संयुक्त रूप से कहा है कि महापौर के कार्यकाल में जनता प्रत्येक सप्ताह पानी समस्या से जूझती है। आलम यह है कि कई बार एक एक हप्ता नलों में पानी नहीं आता और भाजपा द्वारा विरोध करने पर इनका दोष पूर्व के कार्यकाल में मढ़ दिया जाता है। भाजपा पार्षदों ने कहा कि वास्तविकता यह है कि पूर्व में चंद्रिका चंद्राकर कार्यकाल में ही केंद्र की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार द्वारा अमृत मिशन योजना के तहत दिए 147 करोड़ की राशि से शहर के प्रत्येक वार्डो में में घर घर तक पानी पहुंचाने पाइप लाइन बिछाने का कार्य चालू हो गया था।

जो पूर्ण नियोजित ढंग से तेजी से चल रहा था। उसी प्रकार रायपुर नाका स्थित 24 एमएलडी पुराने फिल्टर प्लांट का रिनेवशन करने जिसमें 25 साल पुराने मोटर पंप,विद्युत ट्रांसफार्मर व पैनल बोर्ड जैसे बड़े मशीनरी कार्यों की भी राशि स्वीकृत थी। इसे चरणबद्ध ढंग से पूरा किया जाना था। किंतु निगम चुनाव के बाद सत्ता बदलते ही महापौर के अनुभवहीनता और अपने चहेते को ठेका का लाभ देने के सोच के चलते सारे कार्य विलम्ब होता चला जा रहा है। इसका एक उदाहरण शहर की जनता तब देखा जब विगत 6 माह पूर्व खरीदी होकर पड़े ट्रांसफार्मर को तब लगाया गया था जब पुराने ट्रांसफार्मर पूरी तरह जल गए और इसके कारण शहर में पहली बार 10 दिनों तक पानी सप्लाई बुरी तरह प्रभावित हुई। उसी प्रकार आज 24 एमएलडी फिल्टर प्लांट में लगे 25 साल पुराने पैनल बोर्ड को तब बदलने कि याद आई जब वह पूरी तरह बैठ गया और इसके लिए निगम ने बकायदा सूचना जारी कर 24 लाख की लागत से लगने वाले पैनल बोर्ड के लिए 8 घंटे का समय लगने व एक पाली में शहर में पानी सप्लाई बंद रहने की सूचना जारी किया था किंतु 48 घंटे बीतने व दो दिनों से पानी सप्लाई नहीं होने से जनता फिर पानी के लिए त्राहि त्रहिं कर रही है। भाजपा पार्षदों ने निरंतर हो रहे जल संकट व वर्तमान में फिल्टर प्लांट में लगभग 24 लाख की लागत से लगाई जा रही पैनल बोर्ड कार्य के 8 घंटे में पूर्ण नहीं होने व चालू नहीं होने पर सवाल खड़ा करते हुए कहा है कि जिस ठेकेदार ने आठ घंटे में उक्त कार्य पूरा करने की बात कही थी वह कम्पनी की लगने वाले सामान सही क्वालिटी का है कि नहीं यह सोच का विषय है जबकि पूर्व में जो पैनल बोर्ड लगाई गई थी वह एक नामी व टिकाऊ कंपनी कम्पनी का था जो लंबे समय तक चला किंतु वर्तमान में लगाई जा रही पैनल बोर्ड दूसरी कम्पनी का है और इसकी गुणवत्ता का मापदंड भी संदेहास्पद है इस प्रकार निगम की पूरी व्यवस्था व कार्य व्यवसायिक सोच के चलते प्रभावित होती प्रतीत हो रही है।भाजपा पार्षदों लगातार पानी संकट होने पर कड़ा आक्रोश प्रकट करते हुए निगम प्रशासन को चेतावनी दी है कि यदि 24 घंटे के अंदर शहर में पानी सप्लाई सामान्य नहीं हुई तो प्रदर्शन व आंदोलन करने पर बाध्य होंगे।

 

25-08-2020
तीन पार्षदों ने भिलाई निगम परिसीमन को हाईकोर्ट में दी चुनौती, अगली सुनवाई 11 सितंबर को

भिलाई। नगर निगम के परिसीमन पर विवाद शुरू हो गया है। परिसीमन का मामला अब बिलासपुर हाईकोर्ट में चला गया है। गौरतलब है कि निगम का परिसीमन हुए महीना भर भी ठीक से नहीं बीता कि निगम के विपक्षी पार्षद वशिष्ठ नारायण मिश्र, पीयूष मिश्रा व सेक्टर 8 की महिला पार्षद शाहिन अख्तर ने परिसीमन को लेकर याचिका दायर कर दी है। उक्त याचिका स्वीकार कर ली गई है। बिलासपुर उच्च न्यायालय के जस्टिस पीएस कोशी ने आज दोनों पक्षों को सुना। जस्टिस ने निगम को इस मामले में 10 दिनों के भीतर जवाब पेश करने को कहा है। याचिकाकर्ता के वकील अनिमेश वर्मा ने बताया कि 11 सितम्बर को परिसीमन के विषय पर बहस होगी।

याचिकाकर्ता का कहना है की छत्तीसगढ़ शासन, कलेक्टर दुर्ग व भिलाई नगर निगम द्वारा परिसीमन के प्रारंभिक प्रस्ताव में अमूल चूल परिवर्तन कर आनन-फानन में अंतिम परिसीमन का प्रकाशन भी कर दिया गया जो प्रारंभिक प्रकाशन के विपरीत है। नये वार्ड बिना किसी प्रस्ताव के बना दिया गया है जबकि पूर्व में प्रस्तावित वार्डो को विलोपित कर दिया गया है। विपक्षी पार्षदों ने अपने वकील के माध्यम से दायर याचिका में निगम परिसीमन को अवैधानिक एवं नियम विरुद्ध बताते हुए निरस्त करने की प्रार्थना की है। याचिका कर्ताओं ने परिसीमन को निरस्त कर  निगम भिलाई का परिसीमन नये सिरे से करवा कर नये परिसीमन के आधार पर भिलाई निगम का चुनाव करंवाए जाये। मामले में अगली सुनवाई 11 सितंबर निर्धारित की गई है।

24-08-2020
कुरूद नगर पंचायत में विपक्ष का हुआ गठन,भानू चंद्राकर को बनाया गया विपक्षी दल का नेता  

धमतरी/कुरूद। नगर पंचायत कुरुद में आज विपक्ष की ओर से पार्षद मित्रों की पहल पर सदन के अंदर और सदन के बाहर कुरूद नगर क्षेत्र में नगरवासियों की जनसमस्या,विकास कार्यों के लिए आवाज़ उठाने, नगर पंचायत की गतिविधियों को सकारात्मक बनाने के लिए शासकीय परंपराओं को निभाने के लिए विपक्ष का गठन किया गया। इसमें नगर पंचायत पार्षद राघवेन्द्र सोनी एवं तुमेश्वरी ध्रुव ने शासकीय विभागों मे पत्राचार करने मीडिया को निकाय के गतिविधियों के बारे मे अधिकृत जानकारी देने एवं पूरे 15 वार्डों मे नगर की समस्याओं को नगर पंचायत कार्यालय एवं संबंधित विभागों तक पहुँचाने के लिए पार्षद भानू चंद्राकर को विपक्षी दल के नेता के रूप में ज़िम्मेदारी सौंपी गई।

इस अवसर पर भानु चंद्राकर ने सभी कुरूद नगरवासियों एवं पार्षद मित्रों को नई ज़िम्मेदारी देने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि मैं वचन देता हूँ कि नगर मे पारदर्शिता और सकारात्मक गतिविधि चलाने के लिये मज़बूत विपक्ष के रूप में काम करूंगा। इस अवसर पर सांसद प्रतिनिधि मूलचंद सिन्हा,विधायक प्रतिनिधि कृष्णकांत साहू,भाजपा कार्यकर्ता भारत ठाकुर उपस्थित थे।

11-08-2020
रमसागरी तालाब का टो-वाल ढहा,अब धंसकने लगा पाथवे

धमतरी। रमसगरी गार्डन में लाखों की लागत से बना टो-वाल ढह गया,वहां रोजाना सैकड़ों लोग सैर करने आते है। टो-वाल ढहने से मिट्टी का कटाव हो रहा,जिससे हादसे का खतरा बना हुआ है। हालांकि निगम के इंजीनियरों का कहना है कि जल्द ही उक्त रास्ते को बंद कर दिया जाएगा। इस समस्या को देखते हुए निगम नेता प्रतिपक्ष नरेंद्र रोहरा रमसगरी गार्डन पहुंचे। कहा कि तत्काल गार्डन को घूमने के लिए बंद करना चाहिए क्योंकि टो-वाल गिरने के बाद पाथवे धंसकने लगा है कभी भी जनहानि हो सकती है। तालाब में पानी आने के कारण चारों तरफ से बाउंड्री गिर रही है। अधिकारी तत्काल इस ओर ध्यान दे अन्यथा जनहानि होने की पूरी आशंका है। आज भाजपा पार्षद दल द्वारा निरीक्षण किया गया और इस सम्बन्ध में निगम आयुक्त से इस संबंध में चर्चा की गयी।

10-08-2020
सफाई कामगार सड़क हादसे में मौत, नगर पालिका ने दी पत्नी को अनुग्रह राशि

महासमुंद। नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश चंद्राकर एवं सभापति तथा पार्षदों ने पालिका के नियमित सफाई कामगार दिनेश सोनवानी की मृत्यु पर दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धाजंलि दी। इस दौरान पालिका अध्यक्ष ने मृतक की पत्नी रेवती सोनवानी को मृत्यु उपरांत दी जाने वाली 50 हजार रुपए नगद अनुग्रह राशि प्रदाय किया गया। 7 अगस्त को दिनेश अपनी बाइक से बागबाहरा से महासमुंद की ओर आ रहे थे, मोटर सायकल दुर्घटनाग्रस्त हो जाने से सोनवानी के सिर पर गंभीर चोट लगने से इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। श्रद्धाजंलि सभा में सभापति राजेन्द्र चंद्राकर, मनीष शर्मा, पार्षद महेन्द्र जैन, मीना वर्मा, उर्मिला साहू, कमला बरिहा, हेमलता यादव, डमरूधर मांझी, रिंकू चंद्राकर, राहुल चंद्राकर, गोलू मदनकार, ईश्वरी साहू, दिलीप चंद्राकर, विजय श्रीवास्तव, सीताराम तेलक सहित कर्मचारी उपस्थित थे।

 

 

08-08-2020
प्रशासन की कार्यवाही का विरोध, पार्षद ने की विधायक से शिकायत

रायगढ़। शहर के वार्ड नंबर 6 स्थित दीनदयाल कॉलोनी के डनसेना गली में प्रशासन द्वारा तोड़फोड़ की कार्यवाही ने अब तूल पकड़ लिया है। क्षेत्रीय पार्षद संजय देवांगन ने इस प्रशासनिक कार्रवाई को सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन और जनहित के ख़िलाफ़ बताते हुए विधायक से शिकायत भी की। दरअसल 152 प्रतिशत स्कीम के तहत ज़मीन को नीलाम करने प्रशासन ने दीनदयाल कॉलोनी के कुछ गरीबों के मकान और दीवारों को ढहा दिया है और मोहल्लेवासियों के साथ क्षेत्रीय पार्षद इसके विरोध में हैं। यही कारण है कि पार्षद ने इस मामले की शिकायत विधायक से करते हुए बरसात में गरीबों को बेघरबार नहीं होने देने की फरियाद की। पार्षद की मानें तो बिना किसी पूर्व नोटिस के प्रशासन जिस तरह गरीबों के घरों को तोड़ रही है, वह सही नहीं है और इससे भूपेश सरकार की बदनामी हो रही है।

विधायक ने महापौर के साथ अपने निवास में फरियाद लेकर पहुंचे पार्षद की शिकायतों को बड़ी संजीदगी से सुना और आश्वस्त भी किया कि जब राज्य शासन की योजनानुसार सरकारी भूमि में काबिज़ लोगों को 152 प्रतिशत योजना के तहत जमीन बेच रही है, ऐसे में ऐन बरसात के समय दीनदयाल कॉलोनी में तोड़फोड़ प्रशासन की अंडर स्टैंडिंग से हुई होगी। विधायक ने साफ शब्दों में यहां तक कह दिया कि किसी भी गरीब के आशियाने को टूटने नहीं दिया जाएगा।दीनदयाल कॉलोनी में जिन लोगों का मकान टूटा है, उनकी मानें तो वे निगम प्रशासन को नियत समय पर बकायदा टैक्स भी पटा रहे हैं, जिसकी पावती भी सबूत के तौर पर उनके पास है। ऐसे में बिना किसी पूर्व सूचना के अचानक जेसीबी से उनके मकानों को तोड़ने की कार्रवाई इनके गले नहीं उतर रही। बहरहाल, इस मामले में अब विधायक के हस्तक्षेप के बाद दीनदयाल कॉलोनी के बाशिंदों को आस इस बात की जरूर बंधने लगी कि इनको अपने घर से बेघर नहीं होना पड़ेगा।

 

02-08-2020
उत्तरप्रदेश की शिक्षामंत्री कमलरानी वरुण का निधन, दो सप्ताह पहले हुई थी कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि

कानपुर। यूपी के घाटमपुर की विधायक एवं प्रदेश की प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमलरानी वरुण का निधन रविवार को कोरोना के कारण हो गया। वह दो सप्ताह पहले उनके कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई थी। लखनऊ के पीजीआई में उनका इलाज चल रहा था।  सूचना मिलते ही सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता लखनऊ के लिए रवाना हो गए। बीते वर्ष प्रदेश की योगी कैबिनेट के विस्तार में घाटमपुर से विधायक कमलरानी को शामिल किया गया था। कमलरानी ने 1977 से राजनीति की शुरुआत की। वर्ष 1989 में वह भाजपा के टिकट पर कानपुर के द्वारिकापुरी वार्ड से चुनाव लड़कर विजयी रहीं। इसके बाद वह इसी सीट से वर्ष 1996 में दोबारा पार्षद हुईं लेकिन इस बार भाजपा ने उन पर बड़ा दांव आजमाया और उन्हे घाटमपुर लोकसभा से टिकट दे दिया गया पार्टी के विश्वास पर खरी उतरी कमलरानी इस सीट से सांसद हुई। वर्ष 1998 में वह फिर से इस सीट से सांसद चुनी गईं लेकिन 1999 में वह इस सीट से महज 585 वोटों से चुनाव हार गईं। बतौर सांसद उन्होंने महिला  शक्तीकरण, पर्यटन मंत्रालय, संसदीय सलाहाकर समितियों में काम किया। वर्ष 2012 में कमलरानी ने घाटमपुर के बजाए कानपुर देहात की रसूलाबाद सीट से विधान सभा का चुनाव लड़ीं लेकिन वह जीत नही सकीं।,

इस बीच पति के निधन के बाद वह एक बार फिर से घाटमपुर की राजनीति में सक्रिय हुईं तो तमाम दावेदारों को किनारे हटाकर भाजपा ने एक बार फिर से कमलरानी पर ही दांव लगाया और फिर से कमलरानी पार्टी की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए भारी मतों से घाटमपुर से विधायक चुनी गईं। उनकी इसी मेहनत व पार्टी के विश्वास का नतीजा है था कि बीते वर्ष अगस्त माह में उन्हे कैबिनेट मंत्री बनाकर प्रदेश के प्राविधिक शिक्षा का कार्यभार दिया गया। 17 जुलाई को अस्वस्थ होने के कारण उन्होंने अपनी कोरोना जांच लखनऊ के सिटी हास्पिटल में कराई। 18 जुलाई की रिपोर्ट में वह कोरोना संक्रमित पाई गयी तो उन्हे पीजीआई अस्पताल में भर्ती कराया गया। जारी इलाज के बीच शनिवार को उनकी हालत बिगड़ी और रविवार सुबह करीब पौने दस बजे उनका निधन हो गया।

 

 

12-07-2020
Video : वरिष्ठ पार्षद ने की निगम के अधिकारी के पद स्थापन पर रोक लगाने की मांग

दुर्ग। वरिष्ठ पार्षद मदन जैन ने रविवार को दुर्ग नगर निगम के मुख्य राजस्व अधिकारी  चद्रकांत शर्मा दुर्ग नगरपालिका निगम को नगरपालिका सहसपुर लोहारा में पदस्थापित किए जाने की कार्यवाही पर रोक लगाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि इस कार्यवाही को किए जाने के लिए आधारभूत आवश्यक तथ्यों को आधार बनाकर विचार नहीं किया गया है। वह यह की चद्रकांत शर्मा मुख्य राजस्व अधिकारी दुर्ग नगरपालिका निगम के विरूद्ध शिकायत प्रकरण लंबित है। उल्लेखनीय है कि चद्रकांत शर्मा मुख्य राजस्व अधिकारी दुर्ग के विरूद्ध दुर्ग नगर निगम में जो शिकायत प्रकरण कार्यवाही प्रक्रिया में हैं। उनमें भ्रष्टाचार और गबन जैसे आरोप है व आरोपों के प्रकरणों के निराकरण कार्यवाही नहीं किए जाने कि स्थिति में चद्रकांत शर्मा मुख्य राजस्व अधिकारी दुर्ग को किसी भी प्रकार का शासकीय प्राधिकार प्रदान किया जाना विधि सम्मत प्रतीत नहीं होता है। अतः  संदर्भित आदेश निरस्त कर दुर्ग नगर निगम में चद्रकांत शर्मा मुख्य राजस्व अधिकारी दुर्ग के विरूद्ध सभी शिकायत प्रकरणों पर प्रावधानित कार्यवाही किया जाए। जैन ने मांग की है कि जब तक चंद्रकांत शर्मा के ऊपर लगे मामलों का निपटारा ना हो जाए उनके स्थानांतरण के आदेश को तत्काल स्थगित किया जाए और न्यायोचित कार्यवाही करेंगे।

12-07-2020
नेता प्रतिपक्ष रीकेश सेन की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद सारे पार्षद हुए क्वॉरेंटाइन से फ्री

भिलाई। कोरोना वायरस के चलते भिलाई नगर निगम की राजनीति में भूचाल लाने वाले क्वारेंटाइन हुए सारे पार्षद मुक्त हो गए। नेता प्रतिपक्ष रिकेश सेन की की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद सारे पार्षद क्वारेंटाइन से फ्री हो गए। बता दें कि भाजपा पार्षद दल के नेता के ससुराल पक्ष में रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने के बाद जिला स्वास्थ्य महकमा ने उस पार्षद के संपर्क में आने वाले सारे पार्षदों के घर पर क्वारेंटाइन का नोटिस चिपका दिया था। यहा तक कि जिला स्वास्थ्य महकमा ने सांसद को भी क्वारेंटाइन किया है। इसे लेकर पार्षद खासे भड़क गए थे। इस पूरे मामले को लेकर भाजपा पार्षद ने भाजपा पार्षद दल के नेता के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने साफ कहा कि अब कोई भी भाजपा पार्षद को नेता नहीं मानता अब फैसला संगठन करेगा।

07-07-2020
एमआईसी सदस्य से गाली-गलौज, जान से मारने की धमकी

रायपुर। रामकृष्ण परमहंस वार्ड-20 के पार्षद और वर्तमान में एमआईसी का सदस्य श्रीकुमार मेनन ने रिपोर्ट कराई है कि उन्हें अंबेडकर चौक के शैलेष बड़गे ने गाली-गलौच कर जान से मारने की धमकी दी है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक सुबह 6 बजे घर में वॉक करते समय अम्बेडकर चौक पहाड़ीपारा निवासी शैलेष बड़गे एक्टिवा से कही जा रहा था। तभी अचानक घर के सामने रूककर कम्युनिटी हाल खाली कराने के नाम पर जबरिया बहस करते हुए उनसे गाली-गलौज की।
इतना ही नहीं भविष्य में जान से मारने की धमकी दी।

02-07-2020
जब 23 घंटे बाद 220 केवी लाइन के टॉवर से नीचे उतरा युवक, जानकर हैरान रह जाएंगे चढ़ने का कारण...

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में बिजली टॉवर पर चढ़े युवक की 23 घंटे से चल रही नौटंकी उसके नीचे उतरने के साथ खत्म हुई। पार्षद की कार में घर जाने और सुरक्षा में पुलिस सिपाहियों की मांग के बाद वह टॉवर से नीचे उतरा। पुलिस को इस दौरान काफी मशक्कत करनी पड़ी। बिजली विभाग के जेई ने आरोपी युवक के खिलाफ केस दर्ज कराया है। आखिर क्यों चढ़ा युवक बिजली के टॉवर पर यह जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे। बता दें कि कटघर के बल्देवपुरी बसंत विहार का रहने वाला मनोज उर्फ सागर मंगलवार सुबह दस बजे मुरादाबाद से रामपुर जाने वाली 220 केवी लाइन के टावर पर चढ़ गया था। सुबह से शाम और शाम से रात तक युवक को नीचे उतारने का प्रयास किया गया, लेकिन युवक नीचे नहीं उतरा। बुधवार सुबह फिर से मनोज को नीचे उतारने का प्रयास किया गया।

उसने टावर पर ही खाना खाया और पानी पिया। इसके बाद उसने कहा कि तब नीचे उतरेगा जब क्षेत्रीय पार्षद रानी सैनी आएंगी। इसके बाद रानी सैनी भी आ गर्इं इसके बाद मनोज ने कार और सुरक्षा में दो सिपाही भेजने की मांग रखी। उसने कहा कि भीड़ मेरे साथ मारपीट कर सकती है। युवक पौने दस बजे नीचे उतरा और पार्षद के साथ उनकी कार में बैठ गया। इसके बाद पुलिस उसे थाने ले गई। सीओ कटघर पूनम सिरोही ने बताया कि युवक के खिलाफ बिजली विभाग के अवर अभियंता निहाल सिंह ने कटघर थाने में बिजली पोल पर चढ़कर विद्युत आपूर्ति बाधित कर सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने की धाराओं में केस दर्ज कराया है। पुलिस ने उसका चालान कर दिया है। 
यह था पूरा मामला : 
कटघर थाना प्रभारी गजेंद्र सिंह ने बताया कि जांच में सामने आया है कि मनोज उर्फ सागर के पिता रामौतार ने अपने मकान का सौदा उसी मोहल्ले में रहने वाले एक व्यक्ति से कर दिया था। जांच में ये भी बात सामने आई है कि 50 हजार रुपये एडवांस में दिए थे। मनोज पचास हजार रुपये खर्च कर चुका थ। अब बैनामा करने में भी आनाकानी करने लगा था। मंगलवार को मकान खरीदने वाला व्यक्ति उसके घर पहुंचा और बैनामा कराने के लिए कहा तो वह टावर पर चढ़ गया था। एडवांस में 50 हजार रुपये दिए थे तब ही शपथ पत्र पर अंगूठा लगवाया गया था। मनोज ने पांच विभाग के दस अधिकारी और पचास कर्मियों को करीब चौबीस घंटे खूब छकाया। मंगलवार दोपहर करीब तीन बजे टावर पर उसके लिए पानी की बोतल रखी गई थी। शायद पानी पीने आएगा। हुआ भी कुछ ऐसा ही पानी की बोतल लेने नीचे आया। तब पुलिस कर्मी इधर-उधर छिप गए थे, लेकिन पानी की बोतल उठाने के बाद वह दोबारा ऊपर चढ़ गया था।

पुलिस, प्रशासनिक, नगर निगम, बिजली विभाग और दमकल विभाग के दस अधिकारी और पचास कर्मी युवक को नीचे उतारने में लगे रहे, लेकिन वह नीचे नहीं उतरा था। बुधवार को नीचे आया।सवा 23 घंटे टावर पर गुजारने के बाद नीचे उतरे युवक मनोज ने कहा कि उसने अपने मकान का कोई सौदा नहीं किया था। मेरे पिता ने ही सौदा किया होगा। मैंने कोई पैसा खर्च नहीं किया है। मुझे बार-बार परेशान किया जा रहा था। इसलिए टावर पर चढ़ गया था। बिजली विभाग अवर अभियंता निहाल सिंह की ओर से मनोज उर्फ सागर के खिलाफ केस दर्ज किया है। उस पर आरोप है कि वह टावर चढ़ गया था। जिसकी वजह मुरादाबाद रामपुर 220 केवी लाइन बाधित हो गई थी। मनोज के खिलाफ बिजली आपूर्ति बाधित कर सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने में चालान किया गया है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804