GLIBS
11-12-2019
बीज निगम में प्रतिस्पर्धा के अभाव में कपड़े की थैली खरीदने का टेंडर रद्द

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य बीज एवं कृषि विकास निगम द्वारा वर्ष 2019-20 में कपड़े की थैली खरीदे जाने के लिए बुलाई गई निविदा को निरस्त कर दिया गया है। ऑनलाइन वित्तीय निविदा में तकनीकी बेड परीक्षण के दौरान सभी निविदा कर्ताओं के अपात्र पाए जाने पर निविदा को निरस्त करने का निर्णय लिया गया है। वर्ष 2019-20 में कपड़े की थैली क्रय किए जाने के लिए अब अल्पकालीन तृतीय निविदा चुनाव आचार संहिता समाप्त होने के बाद बुलाई जाएगी। अधिकारियों के अनुसार बीज निगम द्वारा वर्ष 2019 में सोयल टेस्टिंग इक्विपमेंट एसेसरी के लिए बुलाए गए टेंडर को भी पर्याप्त प्रतिस्पर्धा के अभाव में निरस्त कर दिया गया है। इसके अलावा डिजिटल सोयल टेस्टिंग लैब ऑनलाइन टेंडर को भी पर्याप्त प्रतिस्पर्धा के अभाव में निरस्त कर दिया गया।

 

07-12-2019
हज के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 17 तक

रायपुर। हज 2020 के लिए आवेदन की तिथि बढ़ा दी गई है। पहले आवेदन की अंतिम तिथि 5 दिसंबर थी, लेकिन अब आवेदन की अंतिम तिथि को बढ़कर 17 दिसंबर तक बढ़ाई गई है। आवेदन करता 17 दिसंबर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

29-11-2019
टिकट दलालों के ठिकानों पर कार्रवाई जारी,1 लाख से अधिक के टिकट बरामद

रायपुर। आरपीएफ की डिटेक्टिव विंग इन दिनों अनाधिकृत रूप से रेलवे आरक्षित टिकट दलालों के विरुद्ध कार्यवाही कर रही है। मुखबिर की सूचना पर दुर्ग शहर में गुरुवार को डिटेक्टिव विंग भिलाई की टीम ने अवैध ई टिकट दलाल के ठिकाने पर  दबिश दी। मौके से 103286.80 रुपए के 66 रेलवे आरक्षित टिकट बरामद किए गए। आरपीएफ के अनुसार डिटेक्टिव विंग भिलाई निरीक्षक निशा भोईर, सहा उप निरीक्षक नरेंद्र ,प्रधान आरक्षक  यू के मिश्रा की टीम ने के ऑनलाइन दुकान में दबिश दी। सागर महोबिया (27) निवासी शंकर नगर ,थाना मोहन नगर जिला दुर्ग को अवैध रूप से आईआरसीटीसी के पर्सनल आईडी का प्रयोग कर आरक्षित ई टिकट बनाने के आरोप में पकड़ा गया। आरोपी के कब्जे से 12 पर्सनल यूजर आईडी से बने  कुल  66 नग रेलवे आरक्षित टिकट बरामद किए गए, जिसकी कुल कीमत 103286.80 रुपए है। साथ ही 1 कंप्यूटर सेट, नगद 250 रुपए के साथ  गिरफ्तार कर आरोपी को उचित कानूनी कार्यवाही के लिए रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट  दुर्ग को सुपुर्द किया गया। आरोपी के खिलाफ धारा 143 रेलवे एक्ट  के तहत जुर्म पंजीबद्ध किया गया है।

बता दें कि रेलवे टिकट दलालों के ठिकानों पर रेलवे पुलिस की दबिश से हड़कंप मचा हुआ है। गत दिवस टीम ने एक अवैध रेलवे- ई-टिकट दलाल को 19 नग रेलवे-ई-टिकट कीमती 40,890 रुपए  के सहित पकड़ कर रेलवे सुरक्षा बल भाटापारा को सुपुर्द किया। इसी तरह  डिटेक्टिव विंग रेलवे सुरक्षा बल भिलाई ने एक अवैध रेलवे- ई-टिकट दलाल को  39 नग रेलवे-ई-टिकट  कीमती 40086.52 रुपए सहित पकड़ कर धारा 143 रेलवे अधिनियम के तहत कार्यवाही की। डिटेक्टिव विंग रेलवे सुरक्षा बल रायपुर ने एक अवैध रेलवे- ई-टिकट दलाल को 121 नग रेलवे-ई-टिकट  कुल  कीमत 378152.73 रुपए व 4 काउंटर टिकट कीमत 20040 रुपए  कुल कीमत 398,192.73 के टिकट सहित पकड़ा था। इसी तरह गोलबाजार क्षेत्र से टिकट दलाल के कब्जे से 43 नग रेलवे आरक्षित -ई -तत्काल/सामान्य टिकट मूल्य 111206 रुपए जब्त किया गया, जिसमें (2 नग लाइव टिकट कीमत 6337 रुपए ) एक नग कम्प्यूटर सेट कीमत 45000 रुपए को मौके पर जब्त किया गया था। 

19-11-2019
आज से आम लोगों के लिए खुलेगा व्यापार मेला, जानिए पूरी जानकारी

नई दिल्ली। प्रगति मैदान में चल रहे 39वें अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में मंगलवार से आम लोग भी प्रवेश कर सकेंगे। गुरुवार से शुरू मेला सोमवार तक व्यापारी वर्ग के लिए खुला था। 19 से 27 नवंबर तक यह आम लोगों के लिए होगा। प्रगति मैदान में निर्माण कार्य के चलते जगह कम है, इसलिए मेले में समय से जाने में ही फायदा है। यह सुबह 9:30 से शाम 7:30 तक खुला रहेगा। प्रवेश प्रगति मैदान मेट्रो स्टेशन के नजदीक गेट नंबर-10 और भैरो मंदिर के समीप गेट नंबर-1 से मिलेगा। मेले को देखते हुए आसपास में वाहन पार्किंग के दाम बढ़ा दिए गए हैं, इसलिए मेट्रो या डीटीसी बस का इस्तेमाल फायदेमंद रहेगा। मेले में गेट नंबर-10 से प्रवेश करते हैं तो सबसे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से लगाया गया स्वास्थ्य शिविर मिलेगा। यहां चिकित्सीय जांच और डॉक्टर की सलाह निशुल्क है। इसके बाद विभिन्न राज्यों के पवेलियन हैं। उत्तर प्रदेश के पवेलियन में लखनवी कढ़ाई, भदोही के कारपेट, बरेली के डिजाइनदार कपड़े, अलीगढ़ के ताले आदि मिलेंगे। इसके बाद गुजरात, राजस्थान, गोवा आदि के पवेलियन हैं। हॉल नंबर 7 से 12 में तमाम तरह के सामान उपलब्ध हैं।

प्रवेश शुल्क : शनिवार और रविवार को छोड़कर प्रति व्यक्ति 60 और प्रति बच्चा 40 रुपये प्रवेश शुल्क है। शनिवार और रविवार को यह दोगुना होगा। प्रवेश टिकट मेट्रो स्टेशन पर या ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं।

वाहन पार्किंग : मेले में जाने के लिए गेट नंबर-10 के पास प्रगति मैदान मेट्रो स्टेशन और गेट नंबर-1 की पार्किंग भैरो मंदिर के पास रखी गई है। मेट्रो स्टेशन की पार्किंग में दोपहिया वाहन का पूरे दिन के लिए 90 रुपये शुल्क है। भैरो मंदिर की पार्किंग में 50 रुपये प्रति घंटा पार्किंग है।

साथ में थैला जरूर ले जाएं : मेले को प्लास्टिकमुक्त रखा गया है। इसलिए जाते वक्त साथ में थैला जरूर लेकर जाएं। अन्यथा इसे मेले से ही खरीदना होगा।

डिजिटल पेमेंट की सुविधा : मेले में कई दुकानों पर पेमेंट डिजिटल वॉलेट और क्रेडिट व डेबिट कार्ड से लिया जा रहा है। कुछ जगहों पर एटीएम भी लगाए गए हैं। हालांकि कैश साथ में रखना खरीदारी को ज्यादा आसान बना सकता है।

सीमित है प्रवेश : मेले में लगभग 20 हजार आगंतुकों को ही रहने की इजाजत है। इसलिए आईटीपीओ प्रबंधन की ओर से पहले आओ की अपील की जा रही है।

 

16-11-2019
नगरीय निकाय चुनावों में ऑनलाइन निर्देशन पत्र भर सकेंगे उम्मीदवार  

रायपुर। आगामी नगरीय निकायों के चुनाव में पार्षद पद के उम्मीदवार ऑनलाइन नाम निर्देशन पत्र भर सकेंगे। ऑनलाइन सॉफ्टवेयर ओनो (ONNO) के माध्यम से नाम निर्देशन पत्र प्राप्त की व्यवस्था स्थापित करने वाले राज्यों में अब छत्तीसगढ़ भी शामिल हो गया हैं। ऑनलाइन नाम निर्देशन पत्र भरने तथा निर्वाचन से जुड़े अन्य महत्वपूर्ण विषयों की जानकारी देने के लिए आज रायपुर में जिलों के उप जिला निर्वाचन अधिकारियों और मास्टर्स ट्रेनर्स के प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। प्रशिक्षण में राज्य निर्वाचन आयुक्त ठाकुर रामसिंह तथा राज्य निर्वाचन आयोग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।प्रशिक्षण में राज्य निर्वाचन आयुक्त ठाकुर ने कहा कि इस सॉफ्टवेयर के कारण रिटर्निंग अधिकारी संबंधित उम्मीदवार का नाम निर्देशन पत्र पहले ही ऑनलाइन देखकर प्रारम्भिक जांच कर सकेगा ।

इससे अंतिम तिथि को अधिक संख्या में आने वाले नाम निर्देशन पत्र के कारण होने वाली कठिनाई से बचा जा सकेगा । उन्होंने निर्देश दिए कि नाम निर्देशन पत्र भरने में कोई असुविधा न हो इसके लिए जिले में स्थित लोक सेवा केंद्र , जोन कार्यालय , नगर निगम , नगर पालिका और अन्य सुविधाजनक स्थानों पर कंप्यूटर के साथ डाटा एंट्री ऑपरेटर की व्यवस्था कराने के निर्देश दिये । प्रशिक्षण के दौरान नगरपालिका नियमों में हाल ही में हुए संशोधनों की जानकारी देते हुए उनके अनुरूप चुनाव प्रक्रिया संचालित करने की जानकारी दी गयी। प्रशिक्षण के दौरान पार्षद पद के लिये निर्वाचन व्यय सीमा तय होने के कारण अभ्यर्थियों के व्यय लेखा की जांच के लिए निर्वाचक व्यय संपरीक्षक की नियुक्ति और उनके कार्यों के संबंध में भी जानकारी दी ।

25-10-2019
‘कन्या सुमंगला योजना’ की हुई शुरुआत, बेटियों को मिलेगी 15 हजार की प्रोत्साहन राशि

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को सभी जिलों के लिए ‘कन्या सुमंगला योजना’ की शुरुआत कर दी है। धनतेरस के अवसर पर उन्होंने बालिकाओं को लिए 1200 करोड़ रुपये की इस योजना की शुरूआत की। इससे हर जिले की करीब 500 बालिकाओं को इसका लाभ मिलेगा। इसके साथ ही हर परिवार से अधिकतम दो बेटियों को इस योजना का लाभ मिल सकता है। महिला कल्याण विभाग की ओर से लोकभवन में आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री ने योजना व पोर्टल को लॉन्च किया। कुछ लाभार्थियों के खाते में ऑनलाइन प्रोत्साहन राशि भी भेजी गई और सीएम लाभार्थियों को पंजीकरण प्रमाण पत्र भी सौंपेंगे। कन्या भ्रूण हत्या जैसी कुप्रथा को समाप्त करने और परिवार नियोजन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इस योजना की शुरुआत की गई है।

योजना में लाभार्थियों को बेटी के जन्म लेने से लेकर उसके स्नातक पास होने तक सरकार प्रोत्साहन स्वरूप छह चरणों में कुल 15 हजार रुपये की राशि प्रदान करेगी। जिलों में होने वाले कार्यक्रमों में प्रभारी मंत्री के अलावा सांसद, विधायक, महापौर, जिला पंचायत अध्यक्ष और नगर पालिका परिषद व नगर पंचायतों के अध्यक्षों समेत अन्य जनप्रतिनिधियों को भी बुलाया गया। योजना के ऑनलाइन पोर्टल पर अब तक 2.82 लाख आवेदकों ने पंजीकरण हो चुका है और 1.45 लाख आवेदकों का ऑनलाइन फॉर्म जमा हो चुके हैं। वहीं अमेंठी में एक दिवसीय दौरे पर पहुंचे प्रभारी मंत्री मोहसिन रजा ने कन्या सुमंगला योजना का जिले में शुभारंभ किया। इस दौरान जिलाधिकारी प्रशांत शर्मा व प्रभारी मंत्री द्वारा पात्र लाभार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित किए गए।

13-10-2019
ऑनलाइन बस का टिकट बुक करते 1 लाख 60 हजार रुपए पार

रायपुर।  मोबाइल फोन से ऑनलाइन बस का टिकट बुक करने के दौरान युवक के खाते से 1 लाख 60 हजार रुपए ट्रांजेक्शन हो गए। जानकारी के अनुसार नया मंगल बाजार गुढिय़ारी निवासी गोविंदा कुमार देवांगन (23) पिता छोटे लाल देवांगन ने गुढिय़ारी थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी है कि वह गुढिय़ारी में विजय कम्प्यूटर के नाम से सेंटर चलाता है। 11अक्टूबर को नितिन गुप्ता पिता किशनचंद गुप्ता पता श्यामसुन्दर काम्प्लेक्स महावीर स्कूल रोड थाना गुढिय़ारी ने  मोबाइल नं. 8770993087 से काल कर कहा कि आनलाइन बस टिकट कांकेर रोडवेज  में भुवनेश्वर से रायपुर बुक करना है। इसके बाद वह काल करके कहा कि आप टिकट बुक मत कीजिए, आपको एक नम्बर से काल आएगा और उसमें से बीस रुपए कटेगा। टिकट बुक होने के बाद व्हाट्सएप कर दूंगा। उसके बाद मेरे मोबाइल नं 83199830020 पर मोबाइल नंबर  8927811281 से काल आया जिस पर सामने वाले ने कहा कि एक एसएमएस आएगा। उसको 9223011112 फारवर्ड करने कहा। मैंने वह एसएमएस  9212304242 में फरवर्ड किया। उसके बाद मेरे नम्बर में 3: 52 बजे पर लिंक आया। आरोपी के कहने पर ओपन कर दिया। उसके बाद मोबाइल नंबर 8927811281 से काल कर लाइन में बने रहने कहा कि तुम्हारा टिकट बुक हो रहा है। कुछ मिनट इंतजार करने के बाद आरोपी पर शक होने पर काल काटकर अपना एकाउन्ट चेक किया तब पता चला कि एकाउन्ट खाता नं 50200026691996 बैंक एचडीएफसी से अस्सी हजार रुपए  तथा खाता नंबर 33511147972 बैंक स्टेट बैंक आफ इंडिया से  अस्सी हजार रुपए कुल 1 लाख 60 हजार रुपए खाते से निकल गया है। आरोपी को काल करने पर उसका नंबर कवरेज क्षेत्र से बाहर बता रहा है। नितिन गुप्ता व उनके साथ जुड़े हुए सभी नंबरों एवं एसएमएस से जुड़े लोगों ने धोखाधड़ी की। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस ने मोबाइल नंबर के आधार पर आरोपी नितिन गुप्ता के खिलाफ धारा 420 के तहत ठगी का मामला दर्ज कर लिया है।

08-10-2019
वारंटी अवधि में मोबाइल में आई खराबी, जिला उपभोक्ता फोरम ने लगाया 34 हजार हर्जाना

दुर्ग। मोबाइल खरीदे जाने के 4 महीने में ही वारंटी अवधि के दौरान उसमें आई तकनीकी समस्या और मैन्युफैक्चरिंग डिफेक्ट के लिए सर्विस सेंटर एवं निर्माता कंपनी को जिला उपभोक्ता फोरम दुर्ग के अध्यक्ष लवकेश प्रताप सिंह बघेल, सदस्य राजेन्द्र पाध्ये और लता चंद्राकर ने व्यवसायिक कदाचरण एवं सेवा में निम्नता का जिम्मेदार माना और  34000 रुपए का हर्जाना लगाया। परिवाद के मुताबिक नेहरू नगर भिलाई निवासी जयप्रकाश सिन्हा ने 5 जून 2016 को लीमाल डॉट कॉम के माध्यम से लिको कंपनी का मोबाइल ऑनलाइन खरीदा था। इस मोबाइल को पुणे स्थित सप्लायर वोरा एंड वोरा टेक्नोलॉजीस द्वारा परिवादी को ऑनलाइन बेचा गया था। मोबाइल पर 12 महीने की वारंटी दी गई थी, मोबाइल में खराबी आने पर परिवादी ने मोबाइल को भिलाई स्थित सर्विस सेंटर प्रिशा कम्युनिकेशन में 24 अक्टूबर 2016 को दिखाया जिसे कि सर्विस सेंटर द्वारा ठीक करके देने के लिए रख लिया गया और परिवादी को जॉब सीट प्रदान कर 30 अक्टूबर 2016 तक मोबाइल बना कर देने को कहा परंतु मोबाइल नहीं बनाया गया।

प्रकरण में पुणे का सप्लायर दुकानदार एवं निर्माता कंपनी अनुपस्थित रही लेकिन भिलाई स्थित सर्विस सेंटर प्रिशा कम्युनिकेशन ने प्रकरण में उपस्थित होकर यह बचाव लिया कि परिवादी के मोबाइल का जॉब कार्ड बनाया गया था और मोबाइल का मेन बोर्ड खराब था परंतु परिवादी द्वारा नये मोबाइल की मांग की जा रही थी, जिस पर सर्विस सेंटर द्वारा कंपनी में कई बार ईमेल कर परिवादी के पक्ष में कंपनी के निर्देश व आदेश का इंतजार किया जाता रहा और परिवादी की समस्या का समाधान करने का हरसंभव प्रयास किया गया। जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष लवकेश प्रताप सिंह बघेल, सदस्य राजेन्द्र पाध्ये एवं लता चंद्राकर ने सर्विस सेंटर के जवाब एवं प्रकरण में पेश दस्तावेजों के आधार पर यह पाया कि सर्विस सेंटर द्वारा स्वयं ही इस बात की स्वीकारोक्ति की गई है कि परिवादी के मोबाइल का मेन बोर्ड खराब था।  

इससे यह प्रमाणित हुआ कि परिवादी के मोबाइल में खरीदी पश्चात वारंटी अवधि में ही गंभीर तकनीकी एवं निर्माणगत त्रुटि की समस्या आई थी। जिला उपभोक्ता फोरम ने यह अभिनिर्धारित किया कि खरीदने के 4 महीने में ही मोबाइल में गंभीर त्रुटि आ गई, जिसे अनावेदकगण ठीक करने में सक्षम नही थे इसके कारण उस प्रोडक्ट पर अविश्वास कर उसे रिप्लेस किए जाने या उसकी संपूर्ण कीमत की वापसी की मांग परिवादी ने की है तो यह अनुचित नहीं है, इस कारण फोरम ने परिवादी को मोबाइल की संपूर्ण कीमत पाने का हकदार माना। जिला उपभोक्ता फोरम ने परिवादी को मानसिक वेदना की क्षतिपूर्ति स्वरूप रु. 10000 अदा किए जाने का भी आदेश दिया,जिसके संबंध में फोरम ने कहा कि त्रुटिपूर्ण मोबाइल के कारण परिवादी के मोबाइल खरीदने के प्रयोजन की पूर्ति नहीं हो पायी एवं मोबाइल के लिए परिवादी परेशान रहा इसलिए वह मानसिक क्षतिपूर्ति पाने का हकदार है। इस प्रकार जिला उपभोक्ता फोरम द्वारा मोबाइल की कीमत  22999 रुपए, मानसिक क्षतिपूर्ति स्वरूप 10000 रुपए तथा वाद व्यय के रूप में  1000 रुपए कुल मिलाकर राशि 33999 रुपए अनावेदकगण पर हर्जाना लगाते हुए एक माह के भीतर 6 प्रतिशत वार्षिक ब्याज सहित परिवादी को अदा करने का आदेश दिया गया।

 

12-09-2019
स्पा सेंटर में संचालित सेक्स रैकेट का भड़ाफोड़, ऑनलाइन होता था देह व्यापार

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को स्पा सेंटर में संचालित एक बड़े सेक्स रैकेट को पुलिस ने पकड़ा है। यह कार्रवाई दिल्ली महिला आयोग और दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने संयुक्त रूप से की है। उक्त स्पा सेंटर बुराड़ी में चल रहा था, जहां ऑनलाइन देह व्यापार का सौदा होता था। महिला आयोग ने स्पा सेंटर से चार लड़कियों को बचाया। इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। जानकारी के अनुसार दिल्ली महिला आयोग ने गुरुवार को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के साथ मिलकर बुराड़ी स्थित एक स्पा सेंटर का निरीक्षण किया और वहां चल रहे सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया। दिल्ली महिला आयोग के पास एक शिकायत आई थी, जिसमें एक वेबसाइट के बारे में बताया गया था। इस शिकायत के बाद कार्रवाई की गई।

दिल्ली महिला आयोग को मिली शिकायत में कहा गया था कि बुराड़ी में एक स्पा में सेक्स रैकेट चल रहा है। वेबसाइट पर लड़कियों की फोटो और रेट डाल रखे थे। जब महिला आयोग ने जगह का निरीक्षण कराया तो पता चला कि बहुत बड़ा रैकट है और स्पा में बाउंसर और तहख़ाने हैं। वहां तीन फ्लोर पर छोटे-छोटे तहखाने जैसे कमरे बने मिले, जहां पर बिस्तर थे। वहां से कंडोम और अश्लील मेनू कार्ड मिले। तीन लड़कों ने बताया कि वे कस्टमर हैं और वहां सेक्स रैकट चल रहा है। चार लड़कियां, तीन कस्टमर और इस रैकेट को चलाने वाले तीन व्यक्तियों को पुलिस कर्मी थाने ले गए। बुराड़ी पुलिस इस मामले में एफआईआर दर्ज की है और आगे की कार्रवाई में जुटी है। 

08-09-2019
अंबेडकर अस्पताल में अब तीन अत्याधुनिक एक्स-रे जांच मशीन की सुविधा : मंत्री टीएस सिंहदेव

रायपुर। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री टीएस सिंहदेव ने रविवार को डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति चिकित्सालय में स्थित क्षेत्रीय कैंसर संस्थान में डीआर यानी डिजिटल रेडियोग्राफी सिस्टम की नई मशीन का लोकार्पण किया। लोकार्पण के बाद एक मरीज का एक्स रे इस अत्याधुनिक मशीन से किया। 1.5 करोड़ की लागत से स्थापित डीआर सिस्टम मशीन से मरीजों का उच्च गुणवत्तापरक डिजिटल एक्स-रे अपेक्षाकृत कम समय में किया जा सकेगा। इससे 1 घंटे में करीब 100 एक्स-रे लिया जा सकता है। मरीज का एक्स-रे करने के बाद कम्प्यूटर स्क्रीन पर इमेज तुरंत दिखाई देगी, जिससे समय की बचत होगी। मीडिया से चर्चा करते हुए मंत्री सिंहदेव ने कहा कि इस अत्याधुनिक मशीन से 1 घंटे में करीब 100 एक्स-रे लिया जा सकता है। आज स्थापित अत्याधुनिक मशीन डिजिटल एक्स-रे से शरीर के अंगों की छवि बहुत कम समय में प्राप्त की जा सकती है। यह मशीन मरीजों के तुरंत जांच और इलाज में बेहतर साबित होगी। इस मशीन को मिलाकर कुल तीन अत्याधुनिक एक्स-रे जांच मशीन की सुविधा यहां उपलब्ध हो गई है। इससे मरीजों को बिना परेशानी के तत्परता से जांच की सुविधा उपलब्ध होगी। साथ ही ऑनलाइन इस मशीन से कही भी सलाह ली जा सकेगी। प्रदेश में लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए सरकार की ओर से हर संभव पहल की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि लगभग डेढ़ करोड़ रुपए की लागत से स्थापित डीआर सिस्टम मशीन मरीजों का एक्स-रे करने के बाद कम्प्यूटर स्क्रीन पर इमेज तुरंत दिखाई देने लगती है। यह मशीन मरीजों की जांच एवं इलाज में अत्यंत लाभदायक सिद्ध होगी। डीआर सिस्टम से एक्स-रे करने में बहुत ही कम समय लगता है। इसमें इमेजिंग प्लेट की आवश्यकता नहीं होती है। यह एक्स-रे के जरिये शरीर के अंगों की छवि प्राप्त करने का एक आधुनिक तरीका है जो पारंपरिक एनालॉग इलेक्ट्रॉनिक फिल्म के स्थान पर डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक सेंसर और डिजिटल कैप्चरिंग डिवाइस का उपयोग करता है। इससे एक्स-रे फिल्म तुरंत प्राप्त होती है। पारंपरिक एक्स-रे सिस्टम के मुकाबले डीआर सिस्टम की प्रोसेसिंग स्पीड अधिक होती है। इसमें छवियों का तुरंत रिव्यू किया जा सकता है। इसके लिए एनालॉग फिल्म, कैसेट, डार्करूम और रासायनिक प्रकियाओं द्वारा विकसित केमिकल की जरूरत नहीं पड़ती। जब मरीज का एक्स-रे किया जाता है तो मशीन में लगा रिसेप्टर (संग्राहक) इमेज को कैप्चर करता है और व्यू-स्टेशन के सॉफ्टवेयर में स्थानांतरित करता है। इससे डिजिटल इमेज प्राप्त होती है। इस प्रक्रिया से प्राप्त डिजिटल छवि को संबंधित वर्क-स्टेशनों में वितरित किया जा सकता है, जिससे जांच और इलाज की गति व दक्षता बढ़ जाती है। डिजिटल रेडियोग्राफी सिस्टम की नई मशीन के लोकार्पण के दौरान विधायक सत्यनारायण शर्मा ,विधायक बृजमोहन अग्रवाल, विधायक कुलदीप जुनेजा, विधायक विकास उपाध्याय और नगर निगम रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे उपस्थित थे। इसी तरह क्षेत्रीय कैंसर के संचालक एवं विभागाध्यक्ष डॉ. विवेक चौधरी सहित विभाग के डॉक्टर, स्टाफ बड़ी संख्या में मौजूद थे।

 

 

 

 

03-07-2019
जन चौपाल में मिले आवेदनों के निराकरण की जानकारी आवेदक को दी जाएगी मोबाइल पर

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को अपने शासकीय आवास पर जन चौपाल की शुरूआत कर दी। जन चौपाल में मुख्यमंत्री सीधे जनता की समस्याओं से अवगत हुए और सम्बंधित विभाग के अधिकारी को निराकरण के निर्देश दिए। जनचौपाल की शुरुआत करने के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एक सॉफ्टवेयर का भी शुरुआत की। इसके माध्यम से प्रदेशवासी अपना आवेदन मुख्यमंत्री को ऑनलाइन भेज सकते हैं। आज के जनचौपाल में आर्थिक सहायता, नामांतरण, मुआवजा, मुख्यमंत्री पेंशन योजना के तहत हितग्राहियों को पेंशन प्रदान करने जैसे आवेदन मुख्यमंत्री को मिले। मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान कहा कि जनता ने विश्वास जताया है। जनचौपाल के माध्यम से जनता की समस्याओं का निराकरण किया जाएगा। जनचौपाल में पूरे प्रदेश भर के जनता की जो समस्याए है उनका निराकरण किया जाएगा।

15 दिनों के भीतर आवेंदनो का होगा निराकरण

जनचौपाल में मिले आवेदनो का 15 दिनों के अंदर निराकरण किया जाएगा। जिन आवेदनो का निराकरण 15 दिनों के अंदर नहीं होगा उनका परीक्षण कराया जाएगा। निराकरण होने वाले आवेदनो कि सूचना आवेदक को उनके मोबाइल में मैसेज भेजकर एवं लिखित में आवेदन भेजकर दी जाएगी।

मुख्यमंत्री को पहला आवेदन आर्थिक सहायता के लिए मिला

जन चौपाल में आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को हीरापुर निवासी 60 वर्षीय कमला बाई ने किडनी की बीमारी के उपचार के लिए आर्थिक सहायता के लिए आवेदन दिया। मुख्यमंत्री ने तत्काल कमला बाई के उपचार के लिए 20 हजार रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृति की। कमला बाई का पुत्र हीरापुर में चाट ठेला का व्यवसाय करता है।

प्राप्त आवेंदनो के लिए बनाए गए 9 काउंटर

काउंटर क्रमांक 1 आर्थिक सहायता, मुख्यमंत्री सचिवालय, काउंटर क्रमांक 2 प्राधिकरण, काउंटर 3 विकास, काउंटर 4 नगर निगम, काउंटर 5 कलेक्टर, काउंटर 6, काउंटर क्रमांक 7 मुख्यमंत्री निवास, काउंटर 8 संजीवनी एवं बाल हृदय योजना, काउंटर 9 शुगर सिकलिंग जांच के साथ साथ मेकाहारा के वरिष्ठ चिकित्सको की एक काउंटर बनाई गई है।

आर्थिक सहायता, नामांतरण, जमीन विवाद के मामले अधिक

जनचौपाल में आज आर्थिक सहायता, नामांतरण, ज़मीन विवाद के मामले और मुआवजा से सम्बंधित आवेदन अधिक आये।

पाटन क्षेत्र से आये अधिक आवेदन

जनचौपाल में मुख्यमंत्री के गृह जिले पाटन क्षेत्र से बहुतायत में लोग आज अपनी समस्या लेकर जनचौपाल में पहुँचे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804