GLIBS
24-03-2021
जेठालाल और अंगूरी भाभी से मिलवाने के नाम पर लाखों की ठगी,शिकायत दर्ज

रायपुर। राजधानी से ठगी का एक अनोखा मामला सामने आया है। आरोपी ने तारक मेहता का उल्टा चश्मा के जेठालाल और अंगूरी भाभी से मिलवाने का झांसा देकर लाखों की ठगी को अंजाम दिया है। पीड़ितों के शिकायत पर पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया है। मिली जानकारी के अनुसार कुछ दिनों पहले अलग-अलग जगहों पर यात्राएं कराने के नाम लाखों रुपयों की ठगी करने का मामला सामने आया था। इस पूरे मामले में पीड़ितों की शिकायत पर आरोपी रोहित वाजपाई के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच की जा रही थी। ठगी के मामले में एक सप्ताह बाद पीड़ितों ने एक और शिकायत दर्ज कराई है। पीड़ितों का कहना है कि आरोपियों ने जेठालाल और अंगूरी भाभी से मिलवाने का झांसा देकर 6 लाख 50 हजार रुपयों की धोखाधड़ी की है। शिकायत के बाद पुलिस टीम द्वारा मकान मालिक को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। जानकारी है कि आरोपी रोहित वाजपाई ने मकान मालिक के खाते में भी ठगी के रकम जमा कराई थी। फिलहाल इस पूरे मामले में जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

 

23-03-2021
कार बेचने के नाम पर पिता-पुत्र ने ठगे दो लाख रुपए, मामला दर्ज

रायपुर। कार बेचने के नाम पर ठगी करने का मामला सामने आया है। आरोपी पिता-पुत्र ने एक युवक को कार बेचने के नाम पर 2 लाख का चुना लगाया। पीड़ित ने आमानाका थाना में शिकायत दर्ज कराई है। मिली जानकारी के अनुसार टाटीबंध निवासी राजवीर सिंह भामरा ने अपने मित्र देवेंद्र सिंह बल के पिता जसवंत सिंह के नाम से पंजीकृत क्रेटा हुंडई कार को लेने इच्छा जताई थी। इसलिए देवेंद्र सिंह ने उसकी मुलाकात अपने पिता से करवाई। इसके बाद जसवंत सिंह कार को 8 लाख रुपए में बेचने के लिए सहमत हो गए। इसके लिए राजवीर ने एडवांस 2 लाख रुपए दे दिए। इस पर उसे कार सौंप दिया गया। कुछ दिन बाद गाड़ी की आवश्यकता है करके आरोपी देवेंद्र राजवीर से गाड़ी की मांग किया।

चूंकि देवेंद्र उसका मित्र था इसलिए उसने गाड़ी दे दी। लेकिन जब उसके बाद पीड़ित राजवीर उससे वाहन मांगा तो वह टालमटोल करता रहा। फिर प्रार्थी ने आरटीओ से पता करने पर यह जानकारी मिली कि आरोपी ने उसी कार को किसी साबिर खान नामक व्यक्ति को बेच दिया है। इस तरह आरोपियों ने राजवीर से पैसे लेने के बाद भी उस कार को किसी दूसरे को बेच कर धोखाधड़ी की घटना को अंजाम दिया है। पुलिस ने देवेंद्र और उसके पिता जसवंत के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। थाना प्रभारी भरत बरेठ का कहना है कि 8 लाख में गाड़ी का सौदा आरोपियों ने किया था। इसके लिए प्रार्थी ने 2 लाख दिए भी थे, लेकिन उस कार को आरोपियों ने किसी दूसरे को बेच दिया। फिलहाल आरोपी पिता-पुत्र फरार है।

17-03-2021
सौतेले बेटे ने किया मां के साथ दुष्कर्म, गिरफ्तार

रायपुर। सौतेले बेटे ने अपनी मां के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया है। मामले की रिपोर्ट देवेन्द्रनगर थाने में दर्ज की गई है। सूत्रों से ​मिली जानकारी के मुताबिक 45 वर्षीय पीड़िता ने थाने में शिकायत दर्ज कराई है कि त्रिमुर्तिनगर निवासी चित्रसेन कुम्हार उसका सौतेला बेटा है। आरोपी ने 12-13 मार्च की रात घर में घुसकर जबरिया से दुष्कर्म किया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ काउसलिंग के बाद धारा 376, 451 के तहत जुर्म दर्ज कर, उसे हिरासत में ले लिया है।

05-03-2021
मोदी आर्मी की पहल लाई रंग,मानसिक पीड़ित महिला को पहुंचाया घर

दुर्ग। मोदी आर्मी संगठन ने मानवीय फर्ज निभाते हुए घर से बिना बताए निकली और मानसिक तनाव में चल रही महिला को उनके परिजनों को सुपुर्द किया। दरअसल कसारीडीह स्थित एक ऑफिस के पास किसी अज्ञात व्यक्ति ने एक महिला को छोड़ा था। घंटों अकेले और परेशान महिला को देख मानवता का परिचय देते हुए पूर्व पार्षद संजय सिंह ने महिला का हालचाल जाना और यहां आने का कारण जानना चाहा। महिला की स्थिति किसी भी सवाल के जवाब देने की नही थी,वह कभी नैनीताल तो कभी आंध्रा की बात करती रही,यह सब देख संजय सिंह ने मोदी आर्मी के प्रदेश अध्यक्ष वरुण जोशी से संपर्क कर सारी घटना से अवगत कराया। वरुण जोशी ने भोजन पानी की व्यवस्था कर, महिला के परिजनों की तलाश जारी की। महिला आंध्रा का नाम ले रही थी इसलिए आंध्रा पुलिस से संपर्क किया। वहां बात बनी नही इसपर दुर्ग पुलिस अधीक्षक प्रशांत ठाकुर से संपर्क मामले से अवगत करा कर गंभीरता दर्शाई। ठाकुर ने तत्काल दुर्ग सीएसपी  विवेक शुक्ला  से संपर्क करने कहा और अपनी शत प्रतिशत सहयोग देने की बात कही।

सीएसपी शुक्ला ने मोहन नगर थाने में तैनात महिला पुलिस से मिलकर सहायता लेने की बात कही। मोहन नगर थाने में तैनात मोनिका गुप्ता ने उस महिला की फोटो को सोशल मीडिया में फोटो वायरल करवाया। इसका असर भी बेहद सुखद जनक रहा,मोनिका गुप्ता  के प्रयास से महिला के परिजनों की खबर भी लग गई। वह लोग उन्हें लेने मोहन नगर थाने पहुंचे तब परिजनों ने बताया उनका उपचार चल रहा है। उक्त महिला का घर तालपुरी स्थित सेक्टर 8 है। महिला के परिजनों ने इस प्रयास के लिए कांग्रेस नेता संजय सिंह  पुलिस अधीक्षक दुर्ग साथ ही मोहन नगर तैनात महिला कांस्टेबल मोनिका गुप्ता का आभार व्यक्त किया। मोदी आर्मी के इस पहल के लिए हृदय से धन्यवाद व्यक्त किया। चूंकि मामला मोहन नगर पुलिस तक आ चुका था इसलिए कानूनी जांच पड़ताल कर पुलिस ने उक्त महिला को परिजनों को सुपुर्द किया। मोदी आर्मी के प्रदेश अध्यक्ष वरुण जोशी ने कहा यह हमारे लिए बहुत ही गर्व की बात है की दुर्ग पुलिस महिला सुरक्षा के लिए तत्पर है। इसके लिए में पुलिस अधीक्षक प्रशांत ठाकुर और मोनिका गुप्ता को साधुवाद देता हूं।

 

24-02-2021
फाइनेंसर पीड़ित संघ के प्रतिनिधियों ने की पुलिस मुख्यालय में उच्च अधिकारियों से मुलाकात

दुर्ग। अधिवक्ता और सामाजिक कार्यकर्ता सतीश त्रिपाठी ने कुछ फाइनेंस कंपनियों के पीड़ित पक्षकारों के साथ पुलिस मुख्यालय रायपुर में डीजीपी अवस्थी से मुलाकात का समय लिया था। साथ ही अन्य कई वरिष्ठ पुलिस पदाधिकारियों से भी बैठक निश्चित हुई थी। विधानसभा सत्र के कारण डीजीपी अवस्थी से मुलाकात आगे बढ़ गई जबकि अन्य कई पुलिस प्रमुखों से फाइनेंसर पीड़ित संघ के लोगों ने मुलाकात की। पुलिस मुख्यालय में विशेष डायरेक्टर जनरल आरके विज और अन्य अधिकारियों से मुलाकात और बात हुई। सतीश त्रिपाठी ने बताया कि उन्होंने पुलिस मुख्यालय में इस बात की पूर्व में भी सूचना दी थी कि पूरे प्रदेश में एनबीएफसी के माध्यम से चोलामंडलम जैसी कंपनियां भयंकर आर्थिक शोषण और अत्याचार कर रही हैं। बीते कुछ वर्षों का अगर रिकॉर्ड निकाला जाए तो 1000 करोड़ रुपए से ऊपर का फ्रॉड इस कंपनी के द्वारा छत्तीसगढ़ में ही गाड़ियों के फाइनेंस के नाम पर किया गया है। इन मामलों में वाहन की जब्ती के संबंध में फाइनेंस कंपनियों के कर्मचारी संबंधित थानों के पुलिस कर्मचारियों के सहयोग से गाड़ियों की जब्ती करवा रहे हैं।

फाइनेंस कंपनियों के कर्मचारी फर्जी और झूठे कोर्ट के आदेश दिखाकर पुलिस विभाग को गुमराह कर रहे हैं। सामान्य पुलिसकर्मी इन बातों को नहीं समझ रहा है और डीजीपी अवस्थी के जून माह 2020 के आदेश की अवहेलना की जा रही है। स्वयं डीजीपी ने समस्त पुलिस अधिकारियों और थानों के प्रमुख लोगों को इस बात के स्पष्ट आदेश दिए थे कि कोई भी कर्मचारी वाहन जब्त करने के मामलों में कंपनियों का सहयोगी नहीं दिखना चाहिए। ऐसी स्थिति पर संबंधित थानेदार और उनके कर्मचारियों पर कार्यवाही की जाएगी। लेकिन दुर्ग जिले में इस मामले में अपराधिक गतिविधियां कायम है। विशेष डायरेक्टर जनरल आरके विज ने पूरे मामले में खेद व्यक्त करते हुए कहा कि अपराधिक मामलों में तत्काल एफआईआर दर्ज करवाना पीड़ितों का अधिकार है। यदि थानेदार इस मामले में कोताही बरतेंगे तो यह मामला गंभीर हो जाता है। किसी भी स्थिति में प्राइवेट कंपनी के कर्मचारियों के साथ मिलकर वाहन खिंचवाने के काम में पुलिस  की संलिप्तता गलत है। विज ने इस संबंध में आगे की कार्यवाही के लिए त्रिपाठी से शिकायत प्रस्तुत करने कहा है।


वरिष्ठ समाजसेवी और नेता वीरेंद्र पांडे ने इस संबंध मैं रायपुर में आंदोलन किए जाने की बात कही है। मार्च महीने में एक बड़ा आंदोलन छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में होगा। इस संबंध में कंपनियों के अपराधिक आचरण और पुलिस कर्मचारियों की मिलीभगत पर उन्होंने खेद व्यक्त किया है। पुलिस मुख्यालय में अधिवक्ता सतीश कुमार त्रिपाठी के साथ दीपक चनपुरिया, आरपी पाठक, थनेंद्र साहू, जामुल से रामचरण साहू आदि लोगों ने पुलिस अधिकारियों से मुलाकात की।

23-02-2021
नक्सल पीड़ित परिवार को बस किराए में मिलेगी 50 प्रतिशत की छूट

रायपुर/दंतेवाड़ा। जिले के नक्सल पीडि़त परिवारों तथा आत्मसमर्पित नक्सलियों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के उद्देश्य से पर्याप्त सुरक्षा एवं पुनर्वास से संबंधित कार्य योजना को कार्यान्वित करने एवं समीक्षा करने के लिए पुनर्वास समिति की बैठक हुई। इसमें छत्तीसगढ़ में निवासरत नक्सल पीडि़त परिवार को प्रदेश के अंदर संचालित बसों को यात्री किराये में 50 प्रतिशत छूट की पात्रता होगी। नक्सल हिंसा में मृतकों में टिकनपाल के शामसिंह ताती, मडक़ामीरास के भीमे मरकाम, काड़े मंडावी को 5-5 लाख रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई। पुनर्वास समिति की बैठक में नक्सली हिंसा से मृत व्यक्ति के बच्चों को 25 वर्ष की उम्र तक उनकी शिक्षा एवं पुनर्वास के लिए 14 बच्चों को वित्तीय सहायता दी गई।

नक्सली हिंसा में मृत व्यक्ति के परिवार को पुनर्वास कार्य योजना के तहत आवश्यक सुविधा दिए जाने पर चर्चा की गई। डीईओ राजेश कर्मा, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास आशीष बैनर्जी  को निर्देश दिया गया। पीडि़त परिवार में ऐसे कम उम्र के बच्चे, जो 18 वर्ष से कम के हो और अध्ययनरत हो उन्हें समीप के आश्रम में रहने की सुविधा एवं छात्रवृत्ति ठीक उसी प्रकार उपलब्ध करायी जाएगी, जैसे अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के बच्चों को उपलब्ध करायी जाती है। जिपं सीईओ अश्वनी देवांगन को निर्देश दिए गए। ग्रामीण विकास विभाग की आवास एवं स्वरोजगार संबंधी विभिन्न प्रचलित योजनाओं के अन्तर्गत पात्रता प्राथमिकता देते हुए सहायता दी जाए। इस दौरान दंतेवाड़ा कलेक्टर दीपक सोनी एवं एसपी अभिषेक पल्लव व अन्य अधिकारी मौजूद थे।

 

05-02-2021
ट्रिपल मर्डर पीड़ित पहाड़ी कोरवा परिवार को जिला प्रशासन ने राशन के साथ पहुंचाई 25 हजार की सहायता राशि

कोरबा। ट्रिपल मर्डर पीड़ित पहाड़ी कोरवा परिवार के प्रति संवेदनशीलता दिखाते हुए कलेक्टर किरण कौशल के निर्देश पर जिला प्रशासन की तरफ से एसडीएम गढ़-उपरोड़ा गांव पहुंचे और शोकाकुल परिवार से मुलाकात की। एसडीएम आशीष देवांगन ने इस दुःख की घड़ी में परिवार के सदस्यों को ढांढस बंधाया और कलेक्टर किरण कौशल तथा जिला प्रशासन की तरफ से गहरी संवेदना व्यक्त की। इसके साथ ही एसडीएम ने प्रशासन की तरफ से पहाड़ी कोरवा परिवार को राशन चांवल, तेल, मसाला, आलू, बच्चो के लिए बिस्किट और नमकीन सहित 25 हजार रूपए की आर्थिक सहायता भी दी। इसके साथ ही ठंड से बचने के लिए चार कंबल भी पीड़ित परिवार को दिए। देवांगन ने पीड़ित परिवार के सभी सदस्यों से कहा कि दुःख की इस घड़ी में पूरा प्रशासन उनके साथ खड़ा है। किसी भी प्रकार की समस्या या आवश्यकता होने पर वे सीधे उन्हें अवगत करा सकते हैं। इस दौरान क्षेत्र के नायब तहसीलदार सोनू अग्रवाल और जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जीके मिश्रा भी मौजूद रहे।
जिला प्रशासन की तरफ से एसडीएम देवांगन ने पीड़ित परिवार को आश्वस्त किया कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। एसडीएम ने पीड़ित परिवार की मुखिया को सामाजिक सुरक्षा पेंशन शुरू करने के लिए प्रकरण तैयार करने के निर्देश जनपद पंचायत के सीईओ को दिए। इसके साथ ही उन्होंने सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के तहत पीड़ित पहाड़ी कोरवा परिवार को दी जा सकने वाली सभी शासकीय सहायताओं के लिए भी प्रकरण जल्द से जल्द तैयार कर स्वीकृत करने के निर्देश भी दिए।

 

02-02-2021
किसान समूह के खाते से फर्जी तरीके से निकले गए हजारों रूपए,पुलिस जुटी जांच में

कुरूद। किसान समूह के खाते से फर्जी तरीके से पैसे निकालने का मामला सामने आया है। कुरूद के ग्राम सिवनी कला के किसान समूह के खाते से अज्ञात व्यक्ति द्वारा फर्जी तरीके से हजारों रुपए निकाल लिए गए। पीड़ित किसान समूह ने बताया कि 20 जून से लेकर 30 जुलाई 2020 तक अज्ञात व्यक्ति द्वारा खाते से कुल 33 हजार 500 रुपए की राशि निकाली गई। अज्ञात व्यक्ति ने तीन से चार बार खाते से पैसा निकाला है। पैसे की धोखाधड़ी समूह को तब पता चला जब वह पैसा निकालने बैंक पहुंचे थे। बैंक में जब जाकर किसान समूह द्वारा पैसा निकालने गया तब उन्हें पता चला कि समूह के खाते से हजारों रुपए किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा निकाल लिए गए है। इसकी लिखित रिपोर्ट मंगलवार को कुरूद थाना में की।

कुरूद थाना प्रभारी ने बताया कि सिवनी कला ग्राम के किसान समूह के खाते से हजारों रुपए निकालने का मामला सामने आया है। इस पर शिकायत दर्ज़ कर आगे की जांच की जाएगी। शिकायतकर्ता में चंद्रहास साहू, विजय चंद्राकर, गणेशु राम निर्मलकर, जितेश्वर पटेल, जितेंद्र तारक, टीकम पटेल, द्वारिका तारक कौशिक तारक, ठगेश्वर तारक, कुशल तारक, गुलाल पाल, ऐस कुमार, किशन लाल, ढेलू पटेल, टिकेंद्र साहू, फलेश्वर राव, सहित किसान समूह के 23 किसान मौजूद रहे।

दीपक साहू की रिपोर्ट

02-01-2021
आपदा पीड़ित 5 परिवार को 20 लाख रुपए की आर्थिक सहायता मंजूर

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से आपदा से पीड़ितों को जिला कलेक्टर के माध्यम से आर्थिक अनुदान सहायता स्वीकृत की जाती है। ऐसी ही प्रकरणों में जांजगीर-चांपा जिले में 5 प्रकरणों में 20 लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत जांजगीर-चांपा जिले की शिवरीनारायण तहसील के ग्राम करौद के गौरव वर्मा की पानी में डूबने से मृत्यु हो जाने पर मृतक के परिजनों को चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। इसी प्रकार से डभरा तहसील के ग्राम गोपालपुर के नरसिंह उराव, सक्ती तहसील के ग्राम चैराबरपाली के देवचरण की, मालखरौदा तहसील के ग्राम मिरौनी के युवयराज मरार और शिवरीनारायण तहसील के ग्राम मोहतरा के आशीष पटेल की सांप काटने से मृत्यु होने पर पीड़ित परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है।

 

18-12-2020
अधेड़ ने खाया कीटनाशक, इलाज के दौरान मौत

अंबिकापुर। 52 वर्षीय अधेड ने अपने घर में जहर का सेवन कर लिया। इसकी जानकारी परिजनों को लगते ही पीड़ित को अंबिकापुर मेडिकल कालेज अस्पताल में भर्ती कराया। यहां इलाज के दौरान शुक्रवार को मौत हो गई। पुलिस ने मर्ग क़ायम करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। प्राप्त जानकारी के अनुसार अंबिकापुर थाना अंतर्गत ग्राम मानिक प्रकाशपुर के नीमपारा निवासी 52 वर्षीय चंद्रभूषण ने गुरूवार को अपने घर पर कीटनाशक दवा का सेवन कर लिया। इससे उसकी हालत खराब होने लगी। घरवालों को जैसे ही इसकी जानकारी हुई, उन्होंने चंद्रभूषण को अंबिकापुर मेडिकल कालेज अस्पताल में भर्ती कराया।

इलाज के दौरान शख्स की मौत हो गई । सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चंद्रभूषण आदतन शराबी था और कई बार उसने आत्महत्या करने का असफल कोशिश भी की थी। मामले में पुलिस ने मर्ग क़ायम करते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा । अधेड़ ने किस कारण से आत्महत्या की इसका कारण पता नहीं चल पाया। पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने का इंतजार है।

20-11-2020
कांग्रेस मौत पर कर रही राजनीति, पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद के साथ ही न्याय की दिशा में ठोस पहल की जाए : कौशिक

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता व प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम के बयान पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में हर किसी को अपनी बातें कहने का अधिकार है लेकिन तथ्य अलोकतांत्रिक नहीं होने चाहिए। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और ज़िम्मेदार जनप्रतिनिधि के नाते मरकाम को कोई बात भी बोलने से पहले मन में मंथन जरूर करना चाहिए। कौशिक ने सवाल किया कि एक परिवार के लोगों की प्रतिकूल परिस्थितियों संदिग्ध मौत हो जाती है और उस पर प्रतिपक्ष कुछ बोले तो वह कार्य घृणित कैसे हो सकता है? नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि सत्तापक्ष को आइना दिखाने का काम ही प्रतिपक्ष का दायित्व है। ऐसे में केन्द्री में पीड़ित परिवार का दुख जानने भाजपा का प्रतिनिधिमंडल जाता है तो उन्हें किस बात की पीड़ा होती है? यदि उनको पीड़ा होती, तो वे पीड़ित परिवार का हाल-चाल जानने ज़रूर जाते। लेकिन इसकी ज़रूरत न समझकर वे केवल सियासी बयानबाजी में व्यस्त हैं। कौशिक ने कहा कि पीड़ित परिवार से मिलने का समय भी सरकार के पास नहीं है। इस सरकार के पास संवेदना के नाम पर कुछ भी नहीं बचा है। और, जब प्रतिपक्ष के दबाव के चलते प्रदेश सरकार को जवाब देना होता है तो कांग्रेस के नेता इस तरह की अतार्किक बातें कहकर भ्रम फैलाने का काम करते हैं। कौशिक ने कहा कि क्या किसी के दुख के पल में शामिल होना घृणित कार्य है, कांग्रेस को यह स्पष्ट करना चाहिये। इस तरह किसी एक ही परिवार के पांच सदस्यों की मौत पर तो कांग्रेस ही राजनीति कर रही है, साथ ही अपनी ज़िम्मेदारी से भागकर बचना चाहती है। कौशिक ने मांग की है कि पीड़ित परिवार को तत्काल आर्थिक मदद के साथ ही न्याय दिलाने की दिशा में ठोस पहल की जाए।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804