GLIBS
05-12-2019
एनआईसीएल चिटफंड कंपनी के 3 डायरेक्टर सहित 6 को पुलिस ने किया गिरफ्तार

सूरजपुर। गत् 18 फरवरी 2016 को ग्राम कोतका, थाना उदयपुर निवासी फुलमति पति रामशरण ने थाना सूरजपुर में रिपोर्ट दर्ज कराई कि करीब 2 वर्ष पूर्व एनआईसीएल कंपनी के अभिकर्ता एवं एजेंट के द्वारा 80 हजार रूपए जमा करने के नाम से लेकर बाउंड के दस्तावेज देकर 1 वर्ष बाद 92 हजार 8 सौ रूपये मिलने की जानकारी दी गई। समयावधि पूर्ण होने पर राशि एवं उसका ब्याज सहित वापस करने के लिए बोले जाने पर टालमटोल किया गया। आवेदिका की रिपोर्ट पर थाना सूरजपुर में अपराध क्रमांक 79/16 धारा 420, 120बी, 34 भादवि, इनामी चिट और धन परिचालन स्कीम पाबंदी अधिनियम 1978 की धारा 4, 5, 6, छ.ग. निपेक्षकोेें के हितों का संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा 10 के तहत् मामला पंजीबद्व कर विवेचना में लिया गया। दूसरा मामले में गत 4/04/2017 को ग्राम सोहागपुर, चौकी करंजी निवासी अन्नूलाल राजवाड़े ने थाना में रिपोर्ट दर्ज कराया कि वर्ष 2014 में स्टेट बैंक के सामने स्थित एनआईसीएल कंपनी का शाखा प्रबंधक विनोद टाडेकर, अभिकर्ता व कंपनी के संचालक के द्वारा राशि दो गुना एवं प्रतिमाह ब्याज की राशि मिलने का झांसा देकर 8 लाख रूपये जमा कराकर आउण्ड के पेपर दिया गया, प्रार्थी को 15 माह तक ब्याज की राशि मिली। जुलाई 2015 में एनआईसीएल कंपनी की शाखा बंद कर राशि लेकर भाग जाने की रिपोर्ट पर थाना सूरजपुर में अपराध क्रमांक 146/19 धारा 420, 120बी, 34 भादवि इनामी चिटफंड और धन परिचालन स्कीम पाबंदी अधिनियम 1978 की धारा 4,5,6 व छग के निक्षेपकों के हितों का संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा 10 के तहत् मामला पंजीबद्ध किया गया।

तीसरा मामले में गत 28/02/16 को इंदिरा कालोनी भटगांव निवासी देवीचरण मलार ने थाना भटगांव में रिपोर्ट दर्ज कराई कि ग्राम अनरोखा का संतोष पाटले एनआईसीएल चिटफंड कम्पनी का एजेंट बताकर पैसा दुगना करने का झांसा देकर 7080 रूपये लेकर धोखाधड़ी की गई और कंपनी भी बंद हो गई है कि रिपोर्ट पर थाना भटगांव में अपराध क्रमांक 24/16 धारा 420,34 भादवि,इनामी चिट और धन परिचालन स्कीम पाबंदी अधिनियम 1978 की धारा 4,5,6 के तहत् मामला पंजीबद्ध किया गया। चौथे मामले में इंदिरा कालोनी भटगांव निवासी रामानंद सोनी ने रिपोर्ट दर्ज कराया कि एनआईसीएल कंपनी के एजेंट प्रसन्न राजवाड़े के द्वारा पैसा दुगना करने का झांसा देकर किश्त में 13275 रूपये लेकर धोखाधड़ी की गई रिपोर्ट पर थाना भटगांव में अपराध क्रमांक 23/16 धारा 420, 34 भादवि, इनामी चिट और धन परिचालन स्कीम पाबंदी अधिनियम 1978 की धारा 4,5,6 के तहत् मामला पंजीबद्ध किया गया।

भटगांव में पंजीबद्ध दोनों मामलों में पुलिस ने प्रसन्न राजवाड़े व विजय कुमार राजवाड़े तथा संतोष पाटले एवं बदुलाराम रजक को गिरफ्तार कर इनके विरूद्ध पूर्व में अभियोग पत्र न्यायालय सूरजपुर में पेश किया गया था। इन चारों मामलों की विवेचना के दौरान हितग्राहियों के द्वारा एनआईसीएल चिटफंड कंपनी में जमा राशि के दस्तावेज प्राप्त किए गए। जांच के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि एनआईसीएल कंपनी के डायरेक्टर क्रमशः अभिषेक सिंह चौहान,आशीष सिंह चौहान, प्रबल प्रताप सिंह यादव, निरंजन सक्सेना, हरीश शर्मा, लखन सोनी एवं फूलसिंह चौधरी को थाना बालोगीर जिला भुवनेश्वर ओडिसा में धारा 420,120बी,34 भादवि, इनामी चिट और धन परिचालन स्कीम पाबंदी अधिनियम 1978 की धारा 4,5,6 के मामले में गिरफ्तार किया गया था, जो विशेष जेल भुवनेश्वर ओडिसा में निरूद्ध है।

पुलिस अधीक्षक सूरजपुर राजेश कुकरेजा के मार्गदर्शन में थाना सूरजपुर की पुलिस ने न्यायालय सूरजपुर को इन जानकारियों से अवगत कराया,जो न्यायालय के द्वारा इन आरोपियों का प्रोडक्शन वारंट जारी किया गया। आरोपीगण लम्बे समय से जेल में निरूद्ध थे और पूर्व में कई प्रोडेक्शन वारंट तामील कराने के बावजूद भी आरोपियों को संख्याधिक दूरी व सुरक्षागत् कारणों से नहीं भेजा जा रहा था,जिस कारण इनकी गिरफ्तारी नहीं हो पा रही थी। पुलिस अधीक्षक सूरजपुर कुकरेजा ने धोखाधड़ी व चिटफण्ड के मामले को गंभीरता से लेते हुए भुवनेश्वर के जेल अधीक्षक सहित वहां के अधिकारियों से समन्वय स्थापित करते हुए आईजी सरगुजा केसी अग्रवाल से पुलिस टीम को दिगर राज्य जाने की अनुमति प्राप्त कर थाना सूरजपुर की एक बड़ी पुलिस टीम बनाकर प्रोडक्शन वारंट सहित भुवनेश्वर रवाना किया।

सूरजपुर की पुलिस टीम भुवनेश्वर के स्पेशल सीजेएम सीबीआई कोर्ट पहुंची और प्रोडक्शन वारंट से न्यायालय को अवगत कराया,जिस पर कोर्ट द्वारा उक्त आरोपियों को न्यायालय सूरजपुर में उपस्थित करने के लिए पुलिस टीम के साथ रवाना करने के निर्देश जेल अधीक्षक भुवनेश्वर आडिसा को दिए। पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन में थाना सूरजपुर की पुलिस टीम ने परिश्रम व सूझबूझ के साथ भुवनेश्वर के जेल से आरोपी कालापीपल मण्डी, थाना कालापीपल, जिला शाजापुर मध्यप्रदेश निवासी अभिषेक सिंह चौहान पिता आनंद सिंह चौहान, आशिष सिंह चौहान पिता आनंद सिंह चौहान, हरीश शर्मा पिता अशोक शर्मा, लखन सोनी पिता जगदीश सोनी, सातभाई कोठी लश्कर, थाना माधोगंज, जिला ग्वालियर मध्यप्रदेश निवासी प्रबल प्रताप सिंह यादव पिता बंधन सिंह यादव एवं घंटी कालोनी नेहरूनगर भोपाल मध्यप्रदेश निवासी निरंजन सक्सेना पिता अशोक सक्सेना को प्रोडक्शन वारंट में लेकर सूरजपुर पहुंची और न्यायालय सूरजपुर के समक्ष इन्हें पेश कर गिरफ्तारी की अनुमति लेकर इन आरोपियों की विधिवत् गिरफ्तार किया।

आरोपियों की चल-अचल सम्पत्ति का ब्यौरा खंगाल रही पुलिस

पुलिस इन आरोपियों की चल-अचल सम्पत्ति की जानकारी के संबंध में पूछताछ कर रही है। साथ ही सीबीआई भुवनेश्वर उड़ीसा से भी इनकी अचल सम्पत्ति की जानकारी प्राप्त की जा रही है। धोखाधड़ी सहित चिटफण्ड कंपनी के विरूद्व लंबित मामले के निराकरण सहित आवश्यक कार्यवाही के लिए पुलिस महानिदेशक छत्तीसगढ़ डीएम अवस्थी के द्वारा भी लगातार ऐसे मामलों के जल्द निराकरण के मार्गदर्शन पुलिस अधीक्षक सूरजपुर राजेश कुकरेजा को दी जाती रही। इसके अलावा अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक सीआईडी अशोक जुनेजा एवं पुलिस उप महानिरीक्षक सीआईडी सुशीलचंद द्धिवेदी के मार्गदर्शन भी प्राप्त होते रहे। इन मामलों की पुलिस मुख्यालय स्तर पर समीक्षा की जाती रही।

5 जिलों में भी पंजीबद्ध है मामले

अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार एनआईसीएल कंपनी के विरूद्ध 5 जिलों रायपुर, बेमेतरा, कांकेर, बलौदाबाजार एवं बिलासपुर में भी अपराध पंजीबद्ध है। इन जिलों के पुलिस अधीक्षकों इसके बारे में अवगत कराया गया है ताकि संबंधित थाना के पुलिस अधिकारी आकर न्यायालय से अनुमति प्राप्त कर विधिवत् इनकी गिरफ्तारी कर ऐसे लंबित मामलों का निराकरण कर सके। मामले में एक आरोपी फूलसिंह चौधरी पिता गंगाप्रसाद चौधरी निवासी तीन दौनिया रायगढ़ को हाईकोर्ट ओडिसा के द्वारा अंतरिम जमानत पर छोड़ा गया था, जो तारीख समाप्ति के बाद भी वापस नहीं आया, जिस कारण इसका प्रोडक्शन वारंट प्राप्त नहीं हो सका। मामले में फरार फूलसिंह चैधरी की पतासाजी की जा रही है।

23-11-2019
चिटफंड कंपनियों के विरूद्ध 403 प्रकरण दर्ज, निवेशकों के धन वापसी की प्रक्रिया शुरू

रायपुर। चिटफंड कंपनियों के मालिकों के विरूद्ध कार्रवाई के साथ ही इन कंपनियों से धोखाधड़ी के शिकार लोगों की धन वापसी की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। राज्य में अनियमित वित्तीय (चिटफंड) कंपनियों के विरूद्ध 403 प्रकरणों दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। बिलासपुर सिविल लाइन में दर्ज प्रकरण में 2 लाख 80 हजार रूपए की राशि वापस कर दी गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा चिटफंड कंपनियों के प्रबंधकों और संचालकों के विरूद्ध अभियान चलाकर कार्रवाई करने और इन कम्पनियों के एजेन्टों और अभिकर्ताओं के विरूद्ध दर्ज प्रकरणों की वापस लेने के निर्देश दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आयोजित शनिवार को कैबिनेट की बैठक में अनियमित वित्तीय (चिटफंड) कंपनियों के विरूद्ध दर्ज प्रकरणों की समीक्षा गई और अधिकारियों को दर्ज प्ररकणों पर तेजी से कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2015 से अक्टूबर 2019 तक दर्ज किए प्रकरणों में छत्तीसगढ़ के निक्षेपकों के हितों का संरक्षण अधिनियम 2005 एवं नियम 2005 के तहत 248, ईनामी चिट और धन परिचालन स्कीम पाबंदी अधिनियम 1978 के तहत 65 और भारतीय दण्ड विधान की धारा के तहत 90 प्रकरण शामिल हैं। इन दर्ज किए गए प्रकरणों में डायरेक्टर के विरूद्ध 379, पदाधिकारियों के विरूद्ध 148 प्रकरण शामिल हैं। धन वापसी की प्रक्रिया में कुल 154 प्रकरणों में संपत्ति का चिन्हांकन किया गया है तथा इन प्रकरणों में कुर्की की कार्रवाई की जा रही है।

20-11-2019
स्वास्थ्य सचिव ने डेंगू पीडि़त मरीजों से की मुलाकात, स्वास्थ्य सुविधाओं की ली जानकारी

रायगढ़। 1997 बैच की आईएएस अधिकारी निहारिका बारीक स्वास्थ्य विभाग के सचिव की जिम्मेदारी सम्हालने के बाद पहली बार रायगढ़ दौरे पर पहुंची हैं। बता दें कि शहर में डेंगू के पांव पसारने के बाद लगातार विभाग के उच्चाधिकारियों का दौरा रायगढ़ जिले में हो रहा है। मंगलवार को डायरेक्टर नीरज कुमार बंसोड़ ने डेंगू प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और स्वास्थ्य विभाग व नगर निगम की बैठक भी ली। आज स्वास्थ्य सचिव का रायगढ़ आगमन भी डेंगू को लेकर ही है। डेंगू के मरीजों की सख्या बढऩे के बाद जिला प्रशासन द्वारा किए जा रहे कार्यों की हकीकत जानने स्वयं स्वास्थ्य सचिव रायगढ़ पहुंची हैं। उन्होंने रायगढ़ पहुंचते ही जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया व डेंगू प्रभावित चिकित्सारत मरीजों से मिल कर उपचार सम्बन्धी जानकारी ली।

जिला चिकित्सालय की व्यवस्थाओं का निरीक्षण करते हुए जिला चिकित्सालय केडॉक्टरों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। सचिव निहारिका बारीक के साथ जिला कलेक्टर यशवंत कुमार व सीएमएचओ डीएन केसरी भी उपस्थित थे। स्वास्थ्य सचिव ने जिला चिकित्सालय में दवाइयों की मात्रा व स्टोर के सम्बंध में भी व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने जिला चिकित्सालय में इलाज कराने आई गर्भवती महिलाओं से चर्चा कर उन्हें मिलने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी ली। स्वास्थ्य सचिव ने आज कलेक्ट्रेट में अंतर्विभागीय बैठक भी ली जिसमें कलेक्टर सहित सभी विभागीय डॉक्टर्स के साथ चर्चा कर डेंगू के नियंत्रण पर कर रहे प्रयासों की जानकारी ली व जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने की शासन की मंशा से अवगत कराया।

16-11-2019
रिलायंस कम्युनिकेशंस के निदेशक पद से अनिल अंबानी ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली। अनिल अंबानी ने रिलायंस कम्युनिकेशंस के डायरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया है। छाया वीरानी, रायना करणी, मंजरी काकर और सुरेश रंगाचर ने भी निदेशक के पद से अपना इस्तीफा दे दिया है। कंपनी की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, अनिल अंबानी, छाया वीरानी, मंजरी काकर ने 15 नवंबर को इस्तीफा दिया है। वहीं रायना करणी 14 नवंबर को तो सुरेश रंगाचर 13 नवंबर को रिजाइन कर चुके हैं। रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) की हालत काफी समय से अच्छी नहीं है। कंपनी कर्ज के बोझ तले दबी हुई है और दिवाला प्रक्रिया में चल रही है। इस साल जुलाई-सितंबर की तिमाही में 30,142 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। अनिल अंबानी के स्वामित्व वाली आरकॉम के वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 30,142 करोड़ रुपए का घाटा होने के बाद अब कंपनी का कुल मिलाकर घाटा 1,04,108 करोड़ रुपए के पार हो गया है। सुप्रीम कोर्ट के साविधिक बकाए पर फैसले के मद्देनजर देनदारियों के लिए प्रावधान की वजह से कंपनी का घाटा इतनी ऊंचाई पर पहुंच गया है। उच्चतम न्यायालय के दूरसंचार कंपनियों के सालाना समायोजित सकल राजस्व की गणना पर फैसले के मद्देनजर कंपनी ने 28,314 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। आरकॉम की कुल देनदारियों में 23,327 करोड़ रुपए का लाइसेंस शुल्क और 4,987 करोड़ रुपए का स्पेक्ट्रम इस्तेमाल शुल्क शामिल है। आरकॉम और उसकी अनुषंगियों ने 1,210 करोड़ रुपए के ब्याज और 458 करोड़ रुपए के विदेशी विनिमय उतार-चढ़ाव के लिए प्रावधान नहीं किया है।

08-11-2019
नॉलेज वर्ल्ड स्कूल की मान्यता पर मचा बवाल, डायरेक्टर से मिलने की जिद में अड़े छात्रों के परिजन

रायगढ़। शहर में स्थित नॉलेज वर्ल्ड स्कूल में पढ़ने वाले लगभग 60 छात्रों के अभिभावक स्कूल परिसर पहुंचकर नॉलेज वर्ल्ड स्कूल के डायरेक्टर से मिलने की जिद करने लगे, दरअसल इस जिद की वजह बहुत ही खास थी, अभिभावकों के अनुसार पिछले कई महीनों से वे जब भी स्कूल के डायरेक्टर से मिलने की बात कहते हैं तो स्कूल के प्रिंसिपल उन्हें सही जानकारी नहीं दे पाते हैं। जिन बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए अभिभावकों ने बच्चों को नॉलेज जब स्कूल में पढ़ने भेजा था दरअसल उस स्कूल के डायरेक्टर कहीं लापता हो चुके हैं। अभिभावकों को अब अपने भविष्य बच्चों के भविष्य की चिंता सताने लगी है। अभिभावकों का कहना है कि हमारे बच्चे जिस विद्यालय में अध्ययनरत हैं उसकी मान्यता ही नहीं है जिसकी जानकारी हमें मिलते ही हमने डायरेक्टर से मिलने की बात कही लेकिन प्रिंसिपल द्वारा हमें बताया गया कि डायरेक्टर कहां हैं इसकी खबर उन्हें खुद नहीं हैं।

अभिभावकों ने यह भी आरोप लगाया कि स्कूल के प्रिंसिपल के पास भी स्कूल की मान्यता संबंधित किसी भी प्रकार का कोई दस्तावेज उपलब्ध नहीं है। जब इस बात की खबर मीडिया को लगी तब मीडिया कर्मी नॉलेज वर्ल्ड स्कूल पहुंचे जहां पर स्कूल प्रिंसिपल सुनील यादव ने बताया कि नॉलेज वर्ल्ड स्कूल के डायरेक्टर उनके मित्र थे और मित्रतावश उनका आना-जाना विद्यालय परिसर में रहता था। स्कूल के डायरेक्टर के कहने पर ही वे प्रिंसिपल का पदभार संभाले हुए हैं। स्कूल की मान्यता संबंधित किसी भी प्रकार का कोई दस्तावेज उनके पास उपलब्ध नहीं है प्रिंसिपल सुनील यादव ने बताया कि विद्यालय की मान्यता संबंधी जानकारी उन्होंने शिक्षा विभाग को दी है आगे जो भी विभाग निर्देशित करेगा वैसा हम करेंगे। यहां पर प्रश्न ये उठता है कि शहर के मध्य स्थित नॉलेज वर्ल्ड स्कूल जिसमें दर्जनों छात्र अध्ययनरत हैं उसकी मान्यता है या नहीं इस बात की जानकारी भी अभिभावकों को नहीं है। सभी अभिभावकों ने जिला कलेक्टर से मिलकर स्कूल मैनेजमेंट की शिकायत करने की बात कही है।

06-11-2019
फिल्म लालसिंह चड्ढा का पोस्टर रिलीज, इस दिन होगी रिलीज...

मुंबई। अभिनेता आमिर खान की बहुप्रतीक्षित फिल्म लालसिंह चड्ढा का मोशन पोस्टर रिलीज हो गया है। आमिर खान ने अपने ट्विटर हैंडल पर फिल्म का मोशन पोस्टर पोस्ट किया है। फिल्म 2020 में क्रिसमस पर रिलीज होगी। ट्विटर पर इसे शेयर करते हुए आमिर खान ने कैप्शन में एक लाइन लिखी है - क्या पता हम में है कहानी, या है कहानी में हम। ये फिल्म हॉलीवुड फिल्म फॉरेस्ट गंप का रीमेक बताई जा रही है। फॉरेस्ट गंप 1994 में रिलीज हुई थी। इसे संयोग कहें या कुछ और कि उस फिल्म की शुरूआत भी कुछ इस तरह होती है जैसे आमिर खान की फिल्म के मोशन पोस्टर में दिख रहा है। फिल्म में हीरोइन करीना कपूर खान हैं। फिल्म के डायरेक्टर अद्वैत चंदन हैं और आमिर इसे अपने ही प्रोडक्शन हाउस के तले बना रहे हैं। आमिर ने इस फिल्म के लिए अपना वजन काफी कम किया।

 

06-11-2019
अमिताभ, आयुष्मान की फिल्म गुलाबो सिताबो के कुछ अंश होंगे रीशूट

मुंबई। महानायक अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना फिल्म गुलाबो सिताबो के कुछ हिस्सों की शूटिंग फिर से करेंगे। फिल्मकार शूजीत सरकार इन दिनों फिल्म गुलाबो सिताबो बना रहे हैं। फिल्म में अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना की मुख्य भूमिका है। माना जा रहा है कि इस फिल्म के कुछ अंशों को एक बार फिर शूट किया जाएगा। फिल्म के 40 प्रतिशत हिस्से को रीशूट किया जाएगा।

कुछ तकनीकी समस्या की वजह से ऐसा करना पड़ रहा है। अमिताभ जल्द ही आयुष्मान के साथ इस फिल्म के कुछ हिस्सों की शूटिंग शुरु करेंगे। हालांकि अब भी इस फिल्म की री-शूटिंग को लेकर असल वजह सामने नहीं आई है लेकिन एक्टर्स ने फिल्म के कुछ सीन्स के लिए डायरेक्टर को डेट्स दे दी हैं। यह फिल्म 28 फरवरी 2020 को रिलीज होगी।

01-11-2019
स्कूल खोलने के नाम पर महिला के दस लाख रूपए का गबन, उपभोक्ता फोरम ने दिए 18 लाख रूपए वापस देने का आदेश  

रायगढ़। स्कूल खोलने में हिस्सेदारी देने की बात कहते हुए ग्रामीण महिला से दस लाख रूपए लेने के बाद शर्तों के मुताबिक उसका लाभांश न देने एवं जमा राशि को भी वापस देने से मुकर जाने वाले रायुपर के इंडिया इंटरनेशनल स्कूल के डायरेक्टर को उपभोक्ता फोरम ने लगभग 18 लाख रूपए आवेदिका को देने का आदेश जारी किया है। रायगढ़ जिले के धर्मजयगढ़ तहसील के अंतर्गत ग्राम छाल नावापारा निवासी लीलावती नायक ने जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोषण फोरम में आवेदन देते हुए बताया था कि वर्ष 2016 में एक समाचार पत्र में विज्ञापन प्रकाशित हुआ था जिसमें इंडिया इन्टरनेशनल स्कूल कविलाश नगर भनपुरी रायपुर के डायरेक्टर यशवंत सिन्हा के हवाले से बताया गया था कि शिक्षा क्रान्ति योजना के तहत पुरे भारत में इन्टरनेशनल स्कूल शुरू किया जाना है। उक्त अभियान में विशेष स्कूल के लिए एक लाख रूपए से लेकर दस लाख रूपए तक निवेश कर प्रतिमाह 60 हजार रूपए लाईफ टाईम राशि प्राप्त कर सकते हैं। राशि निवेश किये जाने के एक वर्ष बाद मुल राशि कभी भी प्राप्त कर सकते हैं। वर्ष 2020 तक 5 हजार स्कूल खोले जाने का लक्ष्य बताया गया था।

17-10-2019
पीएमसी घोटाला : पुलिस कस्टडी में भेजे गए पूर्व डायरेक्टर, पूर्व एमडी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत

नई दिल्ली। पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक के पूर्व एमडी जॉय थॉमस तथा पूर्व डायरेक्टर एस.सुरजीत सिंह अरोड़ा को गुरुवार को मंबई की एस्प्लेनेड कोर्ट में पेश किया गया। जहां कोर्ट ने पूर्व एमडी जॉय थॉमस को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा तथा साथ ही पूर्व डायरेक्टर एस. सुरजीत सिंह अरोड़ा को 22 अक्तूबर तक पुलिस कस्टडी में भेजा दिया है। इससे पहले मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) की विशेष जांच टीम ने बुधवार को सुरजीत सिंह से पूछताछ की थी। इस पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। पीएमसी बैंक के पूर्व चेयरमैन वारयाम सिंह, प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस और एचडीआईएल के मालिक राकेश और सारंग वाधवन को भी गिरफ्तार किया गया था।

पीएमसी बैंक में घोटाले का पर्दाफाश होने के बाद भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बैंक पर कई प्रतिबंध लगा रखे हैं। इसके तहत बैंक से छह महीने की अवधि में 40 हजार रुपये तक ही धन निकाले जाने की सीमा निर्धारित किए जाने के बाद से करीब 15 लाख ग्राहक परेशान हैं। पहले यह सीमा एक हजार रुपयेे थी, जिसे बढ़ाकर 40 हजार रुपये कर दी गई। 

25-09-2019
रानू मंडल की जिदंगी पर बनेगी फिल्म, इस एक्ट्रेस को ऑफर किया गया रोल...

मुंबई। सुर कोकिला लता मंगेशकर के गाने एक प्यार का नगमा है ने रानू मंडल की किस्मत को रातोंरात बदल दिया। कोलकाता के रेलवे स्टेशन पर गाने वाली रानू की जिंदगी आज पूरी तरह से बदल गई है। उनका पहला गाना ‘तेरी मेरी कहानी’ को लोगों का जबरदस्त रिस्पॉन्स मिला ओर रानू के किस्मत की गाड़ी निकल पड़ी। अब रानू की जिंदगी से इंस्पायरड फिल्म मेकर ऋषिकेश मंडल उनके जीवन पर बायोपिक फिल्म बनाने की प्लानिंग कर रहे हैं। रानू की बायोपिक फिल्म के लिए साउथ की जानी- मानी एक्ट्रेस सुदीप्ता चक्रवर्ती को अप्रोच किया गया है। इस बात को कफंर्म करते हुए सुदीप्ता चक्रवर्ती ने बताया कि, ‘मुझे फिल्म ऑफर हुई है। हालांकि, अभी मुझे फिल्म की स्क्रिप्ट मिलनी बाकी है। स्क्रिप्ट पढ़ने के बाद ही मैं तय करूंगी कि मुझे ये फिल्म करनी है या नहीं।’ फिल्म का नाम, ‘प्लेटफॉर्म सिंगर रानू मंडल’ रखा गया है। फिल्म में रानू की रेलवे स्टेशन से बॉलीवुड में कदम रखने तक की जर्नी को दिखाया जाएगा।

फिल्म डायरेक्टर ऋषिकेश मंडल ने कहा, ‘सुदीप्ता चक्रवर्ती को फिल्म के लिए अप्रोच किया गया है। लेकिन उन्होंने अभी जवाब नहीं दिया है। मुझे लगता है कि अगर इस कैरेक्टर को बेहतर तरीके से कोई दर्शा सकता है तो वो सुदीप्ता हैं।’ ऋषिकेश ने कहा सुदीप्ता फिल्म करने के लिए तैयार हो जाती हैं तो फिल्म की बाकी की कास्ट भी जल्दी फाइनल हो जाएगी। फिल्म की शूटिंग अक्टूबर के आखिरी में शुरू हो सकती है। इस फिल्म का कुछ हिस्सा रानू के होमटाउन में शूट होगा, जबकि कुछ मुंबई में। फिल्म को शुभोजित मंडल प्रोड्यूस करेंगे। ये फिल्म अगले साल फरवरी में रिलीज की जाएगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804