GLIBS
18-09-2020
रायपुर में कोरोना हॉटस्पाट बन चुके हैं कई इलाकें, देखिए इलाकों के नाम,बेवजह ना जाने कलेक्टर ने की अपील

रायपुर। कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने कोरोना संक्रमण के रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए जिले और शहर में किए जा रहे जोनवार कार्यों की समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने आम नागरिकों से अपील की है कि, वे  रायपुर शहर के कोरोना संक्रमण क्षेत्र वाले हॉटस्पाट इलाकों में अनावश्यक  न जाएं। उन्होंने कहा है कि, शहर के सभी जोन में जिला प्रशासन और सामाजिक संगठनों के सहयोग से निशुल्क आयुर्वेदिक काढ़ा का वितरण किया जा रहा है, जो कि कोरोना से बचाव में सहायक साबित हो सकता है। शरीर की प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाने में भी असरकारक हो सकता है। आम नागरिक इस निशुल्क आयुर्वेदिक काढ़ा का सेवन अवश्य करें। कलेक्टर डॉ. भारतीदासन ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में इंसिडेंट कमांडर और जोन आयुक्त की बैठक ली। इस दौरान उन्होंने जिले में कोरोना से बचाव और रोकथाम की दिशा में कड़े कदम उठाने के निर्देश दिए। उन्होंने जोन आयुक्तों को निर्देशित किया कि ,कोरोना की दवाई का पर्याप्त भण्डारण हो, इसके वितरण में किसी प्रकार की लापरवाही न हो। इसी तरह यह भी ध्यान रखें कि होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को दवाई की कोई कमी न हो।

इन कोरोना हॉटस्पाट क्षेत्रों में जाने से बचें लोग :
कलेक्टर डॉ. भारतीदासन ने कोरोना हॉटस्पाट क्षेत्र में आने वाले रायपुर शहर के जोन क्रमांक 1- संतोषी नगर, डब्ल्यूआरएस कॉलोनी, खमतराई, शिवानंद नगर सेक्टर 1, 2, झंडा चौक,  जोन क्रमांक 2- देवेन्द्र नगर सेक्टर 1, 2 , पारस नगर, गुढ़ियारी, साहू पारा, मंगल बाजार, जवाहर नगर, राठौर चौक, तेलघानी नाका, नहर पारा। जोन क्रमांक 3- आदर्श नगर, एलआईसी कॉलोनी, अशोका रतन, लोधी पारा, राजीव नगर, खपरा भट्टी, राजा तालाब, न्यू शांति नगर। जोन क्रमांक 4- कंकाली पारा, ब्राम्हण पारा, आजाद चौक ,कोतवाली चौक ब्रिटल चौक छोटापारा, पंडरी, नूरानी चौक। जोन क्रमांक 5- अश्वनी नगर, कुशालपुर, लाखेनगर, चंगोरा भाठा, शिव नगर, डंगनिया, सुंदर नगर, डीडी नगर, रोहनीपुरम। जोन क्रमांक 6- मठपुरैना, दुर्गा पारा, दावदा कॉलोनी, संतोषी नगर, शैलेन्द्र नगर, टैगोर नगर।  जोन क्रमांक 7- भाठागांव ढेबर सिटी, साईं मंदिर, पुलिस लाइन, जनता कॉलोनी, टिकरापारा संजय नगर।  जोनक्रमांक 7 आमानाका, कुकुरबेडा, कोटा, समता कॉलोनी, चौबे कॉलोनी। जोन क्रमांक 8- कबीर नगर, रोटरी नगर, टाटीबंध, अयप्पा मंदिर, शिव मंदिर। जोन क्रमांक 9- मोवा, एकता चौक, दुबे कॉलोनी, शिव नगर, खम्हारडीह, गायत्री नगर। जोन क्रमांक 10- अमलीडीह महावीर नगर के क्षेत्रों में अनावश्यक जाने से बचने की अपील की है। कलेक्टर ने कहा कि, इन हॉटस्पॉट क्षेत्रों में सर्विलांस दलों की ओर से घर-घर जाकर स्वास्थ्य की जानकारी ली जा रही है। विशेष रूप से सैनेटाइजेशन का कार्य भी किया जा रहा है। उन्होंने आम नागरिकों से कोरोना संक्रमण के रोकथाम और नियंत्रण के लिए शासन की ओर से जारी आदेशों का पालन करने की अपील भी की है।


 

आम नागरिक निशुल्क काढ़ा का उठाएं लाभ :

कलेक्टर डॉ. भारतीदासन ने कहा है कि, कोरोना संक्रमण के रोकथाम और नियंत्रण के लिए शहर के सभी जोन में जिला प्रशासन व सामाजिक संगठनों के सहयोग से 41 स्थानों पर निशुल्क आयुर्वेदिक काढ़ा का वितरण किया जा रहा है। यह काढ़ा कोरोना से बचाव में सहायक साबित होने के साथ-साथ शरीर की प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाने में भी असरकारक है। आम नागरिक इस निशुल्क आयुर्वेदिक काढ़ा का सेवन अवश्य करें। काढ़ा का यह वितरण चौक-चौराहों, सड़क किनारे लगने वाले चाय दुकानों सहित महत्त्वपूर्ण स्थानों में स्थाई के साथ चलित वाहनों से भी किया जा रहा है।



 

आपातकालीन सेवा के लिए आमजन जारी नंबर पर करें संपर्क :

कलेक्टर डॉ. भारतीदासन ने कोविड-19 संक्रमण के रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए आपातकालीन सेवा के लिए जिला प्रशासन द्वारा जारी हेल्प लाइन  नंबर पर आमजनों को संपर्क करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि दवाएं, स्वास्थ्य जांच, परिवहन व किसी भी तरह की आपात स्थितियों के लिए जारी नंबर पर संपर्क किया जा सकता है। होम आइसोलेशन सहायता के लिए 75661-00283,कलेक्टर कार्यालय आपातकालीन सहायता केंद्र 0771-2445785 और दक्ष कमांड सेंटर आपातकालीन सहायता केंद्र 0771-4320202 में आमजन संपर्क कर सकते हैं।

 

18-09-2020
कलेक्टर ने कहा, होम आइसोलेशन की अनुमति आसानी से मिले,शिकायत की जांच के लिए टीम गठित करने के निर्देश

जांजगीर-चांपा। कलेक्टर यशवंत कुमार ने शुक्रवार को जिला कार्यालय में कोविड -19 की रोकथाम एवं प्रबंधन से संबंधित जिला स्तरीय आधिकारियों की बैठक मे कहा कि लक्षणरहित कोरोना संक्रमित मरीजों को मेडिसिनकिट के साथ ही होम आइसोलेशन के लिए प्रोत्साहित किया जाए। होम आसोलेशन की अनुमति सरलता से और आसानी से मिलनी चाहिए। किसी भी मरीज को अनुमति के लिए दिक्कत ना हो इसका ध्यान रखें। कलेक्टर ने होम आइसोलेशन के लिए पैसे मांगने की एक शिकायत को गंभीरता से लेते हुए कहा कि ऐसी शिकायत की कड़ाई से जांच होगी। सही पाये जाने पर जिम्मेदार के खिलाफ बर्खास्तगी जैसी कड़ी कार्यवाही की जाएगी। साथ ही थाने में एफआईआर भी दर्ज कराया जाएगा।  शिकायत की जांच के लिए टीम गठित कर मरीजो से टेलीफोन से जानकारी लेने के लिए  जिला पंचायत सीईओ तीर्थराज अग्रवाल को निर्देशित किया। साथ ही काॅल रिकार्ड सुलभ सदर्भ के लिए रखने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने सीएमएचओ से कहा कि सभी आवश्यक दवाईयों का स्टाक पर्याप्त मात्रा मे उपलब्ध रहे,यह सुनिश्चित करें। किसी भी स्वास्थ्य केन्द्र में दवाईयों की कमी नहीं होनी चाहिए। आवश्यकता अनुसार लोकल खरीदी की अनुमति दी जाएगी। कलेक्टर ने कहा कि मानसिक रूप से अस्वस्थ मरीजों के परामर्श के लिए  मनोचिकित्सक की  ड्यूटी लगाने के लिए सीएमएचओ को निर्देशित किया। ताकि मानसिक रूप से अस्वस्थ मरीज को वीडियो काॅल या वाईस काॅल के माध्यम से तनाव मुक्त करने के लिए परामर्श किया जा सके।  परामर्श का रिकार्ड संधारित करने के निर्देश भी दिए गए। बैठक मे अपर कलेक्टर लीना कोसम, जिला पंचायत सीईओ तीर्थराज अग्रवाल, सीएमएचओ डाॅ. एसआर बंजारे, डिप्टी कलेक्टर करूण डहरिया सहित अधिकारी मौजूद थे। 

 

18-09-2020
नौकरी लगाने के नाम पर 23 लाख की ठगी,कार भेजकर सरपंच को बुलाया था रायपुर

रायपुर। सरपंच को अपर कलेक्टर के नाम से सरकारी नौकरी लगाने की बात कहकर झांसे में लेकर 23 लाख 65 हजार रुपए ठगी किए जाने की रिपोर्ट पण्डरी थाने में दर्ज की गई है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सिकरीमा थाना फरसाबहार जशपुर निवासी सर्वेश्वर साय ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि प्रार्थी वर्तमान में ग्राम सिकिरमा थाना फरसाबहार जशपुर का सरपंच है। अप्रैल 2020 में पीडि़त के मोबाइल फोन पर कॉल कर स्वयं को अपर कलेक्टर बताते हुए छग राज्य के विभिन्न जिलों के लिए 1380 पद स्वीकृत हुआ है,जिसमें अंबिकापुर, बलरामपुर, सरगुजा एवं जश्पुर जिले में डाटा एंट्री आपरेटर, क्लर्क, भृत्य एवं वाहन चालक का पद पर सीधी भर्ती किया जाना है। स्वयं को अपर कलेक्टर बताये जाने से पीड़ित उसकी बातों में आकर अपने घरवालों एवं दोस्तों से सलाह करके पत्नी,बहनों एवं अन्य रिश्तेदारों को भृत्य एवं क्लर्क पद के लिए तथा डाटा एंट्री आपरेटर के लिए एक व्यक्ति एवं दो व्याख्याताओं के ट्रांसफर कराने के नाम पर फोन पर फर्जी अधिकारी से बात की।

अधिकारी ने बताया कि उपरोक्त रकम तुम्हें रायपुर में देना है और आने जाने के लिये कार बुक करा दी। पीड़ित ने बताया कि संपूर्ण राशि की व्यवस्था नहीं है तब उनके कहने पर कि जितना नकद है उतना ले आओ एवं शेष राशि के लिये एटीएम कार्ड ले आना कहने पर 13 जून की शाम सिकिरमा से रायपुर के लिए निकला एवं 14 जून को रायपुर पहुंचने पर मोवा ब्रिज के आगे एफसीआई रोड में आने को कहा, वहां पहुंचने पर अपने भतीजे को भेज रहा हूं  पैसे दे देना कहने पर उसे 9 लाख,20 हजार रुपए व बाकी रकम एटीएम से निकाल लेने की बात कहकर पिन कोड बताते हुए दे दिया। पैसा एवं एटीएम कार्ड देते समय ठग स्वयं नही आया। उसने कॉल करके कहा कि सभी लोगों की भर्ती हो जाएंगी कहकर कुल 23,65,207.75/- ले लिए। बाद में कॉल करने पर मंत्रालय जाने की बात कहकर गुमराह किया। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस ने मोबाइल नंबर के आधार पर आरोपी के खिलाफ 420 के तहत अपराध कायम कर मामला दर्ज कर लिया है। 

 

18-09-2020
कलेक्टर ने कहा, किसान पंजीयन में केवल धान फसल का रकबा दर्ज होगा, गिरदावरी का काम समय पर करें पूरा

जांजगीर-चांपा। कलेक्टर यशवंत कुमार ने जांजगीर तहसील के ग्राम कुलीपोटा में चल रहे गिरदावरी कार्य का निरीक्षण किया। कलेक्टर ने कहा कि गिरदावरी में केवल धान फसल वाले रकबे को ही दर्ज किया जाएगा। इस संबंध में राज्य सरकार के निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाए। अनुपयोगी, बंजर भूमि, पड़त भूमि, निकटवर्ती नदी नालों की भूमि, निजी तालाब, डबरी की भूमि, कृषि उपयोग के लिए बनाए गए कच्चे-पक्के शेड, मेड़ आदि की भूमि को पंजीयन में से कम किया जाएगा। उद्यानिकी तथा धान से पृथक अन्य फसलों के रकबों को किसी भी स्थिति में धान के रकबे के रूप में पंजीयन नहीं होगा। किसान पंजीयन का कार्य राजस्व दस्तावेज के अनुसार किया जाता है। राजस्व विभाग की जिम्मेदारी है कि गिरदावरी का काम समय पर पूरा करें। निरीक्षण के दौरान अपर कलेक्टर लीना कोसम, एसडीएम मेनका प्रधान सहित राजस्व विभाग के मैदानी अमले उपस्थित थे।

 

17-09-2020
कलेक्टर ने कहा, नदी क्षेत्र में अवैध उत्खनन से संबंधित न होकर मामला उभयपक्षों में मारपीट का प्रतीत हो रहा

धमतरी। कुरूद विकासखण्ड के ग्राम मंदरौद के रेत उत्खनन क्षेत्र में गत रात्रि घटित मारपीट के मामले में कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने तत्काल संज्ञान में लिया है। उन्होंने अनुविभागीय अधिकारी कुरूद से घटना के संबंध में प्रतिवेदन मांगा। इसके आधार पर उन्होंने यह स्पष्ट किया कि रेत उत्खनन एवं भण्डारण क्षेत्र में घटित मारपीट की घटना प्रथम दृष्टया दो उभयपक्षों के बीच विवाद के परिणामस्वरूप प्रतीत हो रहा है, न कि अवैध उत्खनन का। पूरे प्रकरण के संबंध में पुलिस द्वारा विवेचना की जा रही है। इस संबंध में कलेक्टर ने बताया कि अशोक पवार ग्राम मंदरौद पटवारी हल्का नंबर 53 खसरा क्रमांक 1720 का भाग 0.86 हेक्टेयर क्षेत्र में अस्थायी अनुज्ञा भण्डारण की अनुमति प्रदान की गई है। उक्त स्थल में अशोक पवार के चौकीदार एवं उसके परिवार तथा 12-15 लोगों के मध्य विवाद हुआ। अनुविभागीय दण्डाधिकारी कुरूद के माध्यम से घटनाक्रम के संबंध में प्रतिवेदन लिया गया। थाना कुरूद के प्राथमिकी क्रमांक 0497 तथा मनीष पवार के आवेदन पत्र का अवलोकन किया गया। इससे स्पष्ट नहीं होता है कि उभयपक्षों के मध्य मारपीट की घटना के लिए कौन जिम्मेदार है ? इस संबंध में पुलिस उभयपक्षों का बयान लेकर पृथक से विवेचना कर रही है।

अनुविभागीय अधिकारी राजस्व कुरूद से प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर घटनाक्रम के अवलोकन से स्पष्ट है कि तथाकथित मारपीट अशोक पवार के अस्थायी भण्डारण के लिए अनुमति प्राप्त भण्डारण क्षेत्र में हुई। जब यह घटना हुई, तब नदी क्षेत्र में उत्खनन की कार्रवाई नहीं हो रही थी, न ही नदी क्षेत्र से किसी वाहन को जब्त किया। छत्तीसगढ़ खनिज (खनन, परिवहन तथा भण्डारण) नियम 2009 के कण्डिका 3 के तहत भण्डारण क्षेत्र के जांच के लिए प्राधिकृत अधिकारी नियुक्त किए गए हैं, इनसे इतर व्यक्ति/अधिकारी भण्डारण क्षेत्र में अवैध प्रवेश नहीं कर सकता है, यदि किसी व्यक्ति को शिकायत है तो सक्षम प्राधिकारी को सूचना दे सकता है। इस घटनाक्रम के अवलोकन से स्पष्ट है कि अशोक पवार के मंदरौद स्थित अस्थायी अनुज्ञा भण्डारण क्षेत्र में कुछ अज्ञात लोगों द्वारा नियम विरूद्ध प्रवेश किया गया, जिससे यह घटना घटित हुई। प्रथम दृष्ट्या स्पष्ट है कि यह मामला अवैध उत्खनन से संबंधित न होकर दो पक्षों की मारपीट से संबंधित है, जिसकी विवेचना पुलिस के द्वारा की जा रही है। कलेक्टर ने कहा है कि जांच के उपरांत दोषियों के विरूद्ध नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

क्या हैं मामला

बीते दिन जिला पंचायत में बैठक के बाद अध्यक्ष कांति सोनवानी, उपाध्यक्ष निशु चंद्राकर, सदस्य तारणी नीलम चंद्राकर, सुमन संतोष साहू, कुसुमलता साहू, मनोज साक्षी और सभापति मीना बंजारे, यतीन्द्र बंजारे रेत खदानों के निरीक्षण में निकले थे। कुरूद क्षेत्र के ग्राम गाड़ाडीह मन्दरौद के पास एक जगह पर दो तीन हाइवा रेत खाली हो रही थी। इसे देख जिला पंचायत सदस्य यतीन्द्र बंजारे ने वहां मौजूद लोगों से पूछताछ की। इसके बाद वह लोग आक्रोशित हो गये और लाठी डंडे रॉड से मारपीट शुरू कर दिये। खास बात इस मारपीट की घटना में 3-4 महिलायें भी शामिल थीं और जिला पंचायत अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारियों के सामने यह मारपीट की घटना हुई। जिनके बीच बचाव के बाद फिर मामला शांत हुआ। ईधर घटना के बाद जिला पंचायत सदस्य यतीन्द्र बंजारे ने कुरूद थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई है। इस सम्बंध में कुरूद थाना प्रभारी गगन वाजपेयी ने बताया कि रिपोर्ट के आधार पर आरोपियों पर 294, 323, 506, 147, 148, 149 3 (1) द 3 (1) स 3 (2) vए के तहत अपराध दर्ज किया गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि रेत भंडारण स्थल में जिला पंचायत सदस्यों के साथ मारपीट करने वालो में नरेंद्र साहू, धर्मेंद्र साहू, कांता निर्मलकर, फूलसिंह दिवान, रोहित राय व कुछ अन्य महिलाएं भी शामिल हैं। पुलिस अपराध दर्ज कर आगे जांच कार्यवाही में जुटी हुई है।

 

17-09-2020
Breaking: जिले में 20 से 30 सितंबर तक लगेगा लॉक डाउन

दुर्ग। जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन ने 20 से 30 सितंबर तक लॉक डाउन का निर्णय लिया है। इस संबंध में जनप्रतिनिधियों, सामाजिक संगठनों, व्यापारिक संगठनों की ओर से भी आग्रह किया गया था। स्थितियों पर विचार कर जिला प्रशासन ने लॉक डाउन लगाने का निर्णय किया है। कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने सभी नागरिकों से आह्वान किया है कि लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन करें। इस समय असावधानी बरती गई तो कोरोना संक्रमण की स्थिति को नियंत्रित करने में गंभीर परेशानी हो सकती है। कलेक्टर ने कहा है कि लॉक डाउन का उद्देश्य कोरोना संक्रमण को रोकना है। इस समय नागरिकों की भी बड़ी जिम्मेदारी है कि वे संयम का परिचय देते हुए लॉक डाउन को सफल बनायें ताकि जिले को संक्रमण से मुक्त करने की बड़ी लड़ाई में सफलता मिल सके।

 

17-09-2020
आपदा पीड़ित परिवारों को 4-4 लाख रुपए की आर्थिक सहायता मंजूर 

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने प्राकृतिक आपदा से मृतकों के परिजनों को जिला कलेक्टर के माध्यम से आर्थिक अनुदान सहायता मंजूर की है। रायगढ़ जिले के तहसील लैलूंगा के ग्राम पोतरा निवासी संजय कुमार की मृत्यु पानी में डूबने से हो गई थी। इसी तरह तहसील बरमकेला के ग्राम बीजामाला के निवासी बेणुधर की मृत्यु दीवाल धसकने से हो गई थी। दोनों मृतकों के परिजनों को राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के प्रावधानों के तहत चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है।

16-09-2020
प्राकृतिक आपदा से पीड़ितों के लिए चार-चार लाख मुआवजा मंज़ूर

रायपुर। सरकार प्राकृतिक आपदा से पीड़ितों को लगतार सहायता पहुँचाती है इसी कड़ी में कोरिया जिले में प्राकृतिक आपदा से पीड़ितों को 12 प्रकरणों में कलेक्टर ने 48 लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की है। कोरिया जिले के विकासखंड खड़गवां के ग्राम शिवपुर के बिजेन्द्र की मृत्यु सांप के काटने से होने पर, ग्राम कटकोना की अंजलि की मृत्यु पानी में डूबने से, ग्राम कोचका के सहदेव सिंह की मृत्यु सर्पदंश से होने पर, ग्राम सड़का के नरेन्द्र सिंह की मृत्यु तालाब में डूबने से, ग्राम डूमरा बहरा की कली कुमारी की मृत्यु नाले में डूबने के कारण मृतकों के पीड़ित परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है।

इसी तरह से ग्राम बैमा के मनोहर की मृत्यु तालाब में डूबने, ग्राम सलका की फुलमत की मृत्यु नाले में डूबने से, ग्राम ठग्गांव की सुकवरिया की मृत्यु डबरी में डूबने से, ग्राम कटकोना के राजेश्वर की मृत्यु सांप के काटने से होने पर, ग्राम दुबछोला के शिवलाल की मृत्यु सांप काटने से, ग्राम बेजरीडाड के संदीप की मृत्यु डबरी में डूबने से व ग्राम फुनगा के असमान सिंह की मृत्यु सांप के काटने से हो जाने पर मृतकों के पीड़ित परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गयी है।

16-09-2020
कमिश्नर ने कलेक्टरों से कहा- मिल रही कई शिकायतें,इलाज के नाम पर अधिक वसूली होने पर पीड़ित परिवार को राशि वापस दिलाएं 

रायपुर। कमिश्नर रायपुर जीआर चुरेंद्र ने संभाग के सभी जिलों के कलेक्टरों को पत्र लिखकर सुझाव दिया है। उन्होंने कहा है कि, जिला, विकासखंड और अन्य स्तर पर जो भी निजी अस्पताल संचालित है, उनसे सेवा भावना के साथ इलाज का न्यूनतम चार्ज लिए जाने के लिए प्रेरित करें। समुचित कार्यवाही करें, जिससे आम जनता व कोविड बीमारी से पीड़ित परिवारों को राहत मिले। कमिश्नर ने अपने पत्र में ध्यान आकर्षित करते हुए लिखा है कि, जनता व प्रतिनिधियों की ओर से यह शिकायत आ रही है कि कोरोना संक्रमण काल के दौरान निजी अस्पतालों में भी मरीजों का इलाज हो रहा है,लेकिन कोविड टेस्ट के नाम पर विभिन्न बीमारियों से ग्रस्त मरीजों के त्वरित इलाज में विलंब हो रहा,इससे कई बार गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों का निधन भी हो जाता है। निजी अस्पताल संचालकों की ओर से समुचित प्रशासनिक नियंत्रण के अभाव में विभिन्न प्रकार के बीमारियों और कोविड के इलाज के नाम पर बड़ी राशि वसूलने की  शिकायत भी आ रही है।

कमिश्नर ने पत्र में कहा है कि, जिले के अंतर्गत जिन निजी अस्पतालों में कोविड -19 के मरीजों को उपचार करने की सुविधा दी गई है, ऐसे सभी अस्पतालों का सूचीकरण, उनकी ओर से मरीजों के किए जा रहे उपचार या लिए जा रहे उपचार राशि की जानकारी प्रतिदिन लेने की व्यवस्था बनाई जाए। मरीजों के परिवार से भी संपर्क कर इसकी पुष्टि की जाए। यदि कोविड 19 के बीमारी के इलाज के नाम पर अधिक राशि का वसूली की जानकारी प्राप्त होती है, तो वह राशि मरीज के परिवार को वापस कराई जाए। कश्मिर ने कहा है कि, सेवानिवृत्त हो चुके पेंशनधारी ,वरिष्ठ नागरिकों को भी सस्ता - सुलभ इलाज निजी या शासकीय अस्पतालों से कराए जाने की व्यवस्था करें। इसके लिए कलेक्टर की अध्यक्षता में निजी अस्पताल के संचालकों की प्रथम बैठक भी आयोजित करने को कहा है। इससे औचित्यपूर्ण दर पर निजी अस्पतालों से मरीजों की उपचार की व्यवस्था बनाई जाए। कमिश्नर ने कहा है कि, इसके लिए बनाई गई व्यवस्था को क्रियान्वित करने के दृष्टि से जिले स्तर पर एक टीम गठित किया जए, जिसका अध्यक्ष अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी या मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत को रखा जाए। उन्होंने कहा है कि, यह समिति समय -समय पर निजी अस्पतालों में मरीजों के उपचार गतिविधियों का आकलन करने निरीक्षण करेंगें, साथ ही निजी अस्पतालों के संचालकों की आवश्यकतानुसार मासिक बैठक लेकर समीक्षा करेंगें। मरीजों का औचित्यपूर्ण दर पर इलाज की व्यवस्था बनाएंगे। इसी तरह की समिति विकासखंड मुख्यालय या अन्य नगरीय क्षेत्र के लिए भी गठित कराकर कार्य कराने के निर्देश दिए हैं। पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804