GLIBS
10-11-2020
मरवाही उपचुनाव : 13वें राउंड में कांग्रेस की बढ़त 22 हजार के पार,बीजेपी को 28485 मत

रायपुर। मरवाही उपचुनाव की जारी मतगणना के कुल 21 चक्र में से 13पूरे हो चुके हैं। 13वें राउंड तक की गिनती में कांग्रेस 22851 मतों से आगे चल रही है। डॉ. केके ध्रुव (कांग्रेस) को 51336 मत और  डॉ. गंभीर सिंह (बीजेपी) को 28485 मत मिले हैं। इस तरह से कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. केके ध्रुव भाजपा प्रत्याशी डॉ. गंभीर सिंह से 22851 मतों से आगे चल रहे हैं। इसी तरह 13वें राउंड तक डॉ. उर्मिला सिंह मार्को को 1428,पुष्पा खेलन कोर्चे को 450,बीर सिंह नागेश को 1176,रितु पन्द्राम को 4836, लक्ष्मण पोर्ते को 536,सोनमति सलाम को 1309 और नोटा के पक्ष में 2359 मत पड़े। इससे पहले 12वें राउंड तक की गिनती में कांग्रेस 20311 मतों से आगे चल रही थी। डॉ. केके ध्रुव (कांग्रेस) को 47221 मत और  डॉ. गंभीर सिंह (बीजेपी) को 26910 मत मिले। इस तरह 12वें राउंड में कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. केके ध्रुव भाजपा प्रत्याशी डॉ. गंभीर सिंह से 20311 मतों से आगे थे।

10-11-2020
Breaking : छठवें राउंड तक कांग्रेस 14676 मतों से आगे, बीजेपी को 11507 वोट

रायपुर। मरवाही उपचुनाव की जारी मतगणना में छठवें राउंड तक कांग्रेस लीड पर है। जैसे जैसे मतगणना के राउंड बढ़ते जा रहे हैं कांग्रेस की लीड भी बढ़ रही है। छठवें राउंड तक की गिनती में कांग्रेस 14676 मतों से आगे है। डॉ. केके ध्रुव (कांग्रेस) को 26183 वोट और डॉ. गंभीर सिंह (बीजेपी) को 11507 वोट मिले हैं। डॉ. केके ध्रुव (कांग्रेस) 14676 मतों से आगे चल रहे हैं।

10-11-2020
मध्यप्रदेश उपचुनाव : सरकार बनाएं रखने के लिए शिवराज सिंह को 9 सीटों पर जीत की जरूरत

रायपुर/भोपाल। मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के लिए मतों की गणना जारी है। शुरुआती रूझानों की बात करे तो भाजपा 19 सीटों पर आगे चल रही है। वहीं कांग्रेस 8 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। सत्ता में बने रहने के लिए सीएम शिवराज को 9 सीटों पर जीत दर्ज करनी होगी। मध्यप्रदेश में इससे पहले इतनी सीटों पर उपचुनाव नहीं हुए हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत कांग्रेस के तत्कालीन 22 विधायकों ने कांग्रेस को झटका देते हुए बीजेपी का दामन थाम लिया था, जिसके कारण कमल नाथ सरकार गिरी और उपचुनाव की नौबत आई। इन 28 विधानसभा सीटों में से 27 सीटों पर कांग्रेस का कब्जा था।
 

10-11-2020
Breaking : चौथे राउंड की गिनती में कांग्रेस 9746 मतों से आगे

रायपुर। मरवाही उपचुनाव की जारी मतगणना में चौथे राउंड में कांग्रेस 9746 मतों से आगे चल रही है। कांग्रेस के डॉ. केके ध्रुव (कांग्रेस) के 17961 और डॉ. गंभीर सिंह (बीजेपी) 8215 मत हैं। डॉ. केके ध्रुव (कांग्रेस) 9746 मतों से आगे हैं।

 

10-11-2020
मरवाही उपचुनाव : तीसरे राउंड की गिनती में कांग्रेस 6437 मतों से आगे, दूसरे में भी लीड थी बरकरार

रायपुर। मरवाही उपचुनाव के लिए जारी मतगणना में तीसरे राउंड में कांग्रेस 6437 मतों से आगे है। डॉ. केके ध्रुव (कांग्रेस) 12971, डॉ. गंभीर सिंह (बीजेपी) 6534। डॉ. केके ध्रुव (कांग्रेस) 6437 मतों से आगे चल रहे हैं। इससे पहले मिली जानकारी में दूसरा चक्र पूरा होने पर पहले चक्र की तरह दूसरे में भी कांग्रेस ने लीड बनाई हुई थी। कांग्रेस के केके ध्रुव को 8520, बीजेपी के डॉ. गंभीर सिंह को 4846, इसी तरह डॉ. उर्मिला सिंह मार्को को 211,पुष्पा खेलन कोर्चे को 53,बीर सिंह नागेश को 49,रितु पन्द्राम को 744, लक्ष्मण पोर्ते को 94,सोनमति सलाम को 195 और नोटा के पक्ष में 139 मत पड़े।

 

10-11-2020
मरवाही उपचुनाव : पहले चरण की मतगणना में कांग्रेस को लीड, दूसरा चरण शुरू

रायपुर। मरवाही उपचुनाव की जारी मतगणना में पहले चरण में कांग्रेस की बढ़त है। 21 चक्रों में होने वाली मतगणना के पहले चक्र की गिनती हो चुकी है। इसमें कांग्रेस के केके ध्रुव को 4135, बीजेपी के डॉ. गंभीर सिंह को 2375 इसी तरह डॉ. उर्मिला सिंह मार्को को 114, पुष्पा खेलन कोर्चे को 30, बीर सिंह नागेश को 29, रितु पन्द्राम को 187, लक्ष्मण पोर्ते को 372, सोनमति सलाम को 69 और नोटा के पक्ष में 139 मत मिले हैं।

10-11-2020
मरवाही उपचुनाव की मतगणना जारी, कांग्रेस 2 हजार से अधिक मतों से आगे

रायपुर। मरवाही विधानसभा सीट के हुए उपचुनाव के लिए मंगलवार को मतगणना जारी है। मरवाही के चुनावी समर में उतरे 8 प्रत्याशियों में किसके सिर ताज सजेगा इसका फैसला आज हो जाएगा। कांग्रेस के डॉ. केके ध्रुव और बीजेपी के डॉ. गंभीर सिंह के बीच कड़ा मुकाबला रहेगा। हालांकि अभी मरवाही विधानसभा सीट के लिए वोटों की गिनती जारी है। शुरुआती गिनती में कांग्रेस के केके ध्रुव 2 हजार से ज्यादा वोटों से आगे चल रहे हैं। बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निधन के बाद यह सीट खाली हुई थी। बीते 3 नवंबर को मरवाही उप निर्वाचन के लिए हुए मतदान में कुल 1 लाख 48 हजार 772 मतदाताओं ने यानी 77.89% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। इनमें 79.69% पुरुष, 76.20% महिलाएं और 75% तृतीय लिंग के मतदाता शामिल हैं।

31-10-2020
भूपेश बघेल ने कहा-बीजेपी और जेसीसीजे का रिश्ता वर्षों पुराना, आज खुलकर स्वीकार किए

रायपुर। मरवाही उपचुनाव में जेसीसीजे के भाजपा को समर्थन देने के ऐलान के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसे वर्षों का रिश्ता बताया है। मुख्यमंत्री ने मनेंद्रगढ़ में पत्रकारों से चर्चा की। मीडिया से चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि दोनों पार्टियों के मध्य सांठगांठ वर्षों पुरानी है। आज खुलकर सामने आ गई है। पहली बार अमित जोगी और डॉ. रमन सिंह ने इस बात को खुलकर स्वीकार कर रहे हैं। बता दें कि शुक्रवार को जेसीसीजे नेता धर्मजीत सिंह की डॉ. रमन सिंह से बंद कमरे में चर्चा हुई थी। आज सुबह ही जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के अध्यक्ष अमित जोगी ने मरवाही उप चुनाव में भाजपा को समर्थन देने का ऐलान किया है। साथ ही जनता से भी कांग्रेस के विरुद्ध मतदान की अपील की है।

29-10-2020
जम्मू-कश्मीर: भाजयुमो के तीन नेताओं की आतंकवादियों ने गोली मारकर की हत्या

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में गुरुवार को आतंकवादियों ने भारतीय जनता युवा मोर्चा  के तीन नेताओं की गोली मारकर हत्या कर दी। कुलगाम के वाईके पोरा में आतकंवादियों ने फिदा हुसैन इट्टू, उमेर राशिद बेग और उमेर हनान पर गोलियां चलाईं। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कहा है कि तीनों को पास के अस्पताल में ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित किया गया। पुलिस ने कहा है कि इस मामले में संबंधित कानूनों के तहत केस दर्ज कर लिया गया है और जांच शुरू कर दी गई है। इलाके को घेर लिया गया है और आतंकवादियों की तलाश की जा रही है। फिदा हुसैन इट्टू भारतीय जनता युवा मोर्चा के कुलगाम जिला महासचिव थे। उमेर राशिद बेग कुलगाम जिले में भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला कार्यकारिणी सदस्य थे। उमेर हनान भी भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला महासचिव थे। पार्टी ने कहा कि हमले के जिम्मेदार लोगों को छोड़ा नहीं जाएगा। जम्मू-कश्मीर बीजेपी ने ट्वीट में कहा, ''यह हीन कार्य आतंकवादियों की हताशा को दर्शाता है। ईश्वर दिवंगत आत्माओं को शांति प्रदान करे और उनके परिवारों को यह दुख सहने की ताकत दे। हमारी हार्दिक संवेदनाएं उनके परिवारों के साथ हैं।''

21-09-2020
 राज्यसभा के 8 सांसद एक सप्ताह के लिए निलंबित, विपक्ष ने दिया धरना

नई दिल्‍ली। राज्‍यसभा में रविवार को हुए हंगामे का असर सोमवार की कार्यवाही पर पड़ा। संसदीय कार्य राज्यमंत्री वी.मुरलीधरन विपक्ष के 8 सदस्‍यों को बाकी सत्र के लिए निलंबित करने का प्रस्‍ताव पेश किया। यह प्रस्‍ताव ध्‍वनिमत से पारित हो गया। निलंबित किए गए सदस्यों में तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन और डोला सेन, कांगेस के राजीव सातव, सैयद नजीर हुसैन और रिपुन बोरा, आप के संजय सिंह, माकपा के केके रागेश और इलामारम करीम शामिल हैं। इसके बाद भी ये सांसद सदन से बाहर नहीं गए और हंगामा होता रहा। कई बार कार्रवाई स्‍थगित होने के बाद, आखिरकार सदन को मंगलवार तक के लिए स्‍थगित करना पड़ा। इसके बाद निलंबित किए सांसदों ने अपनी-अपनी पार्टी के अन्‍य सदस्‍यों के साथ गांधी प्रतिमा पर धरना दिया। वहीं, बीजेपी ने विपक्षी सांसदों के व्‍यवहार को 'गुंडागर्दी' करार दिया है।

अपने सांसदों के निलंबन से विपक्षी दल बेहद आक्रामक हो गए हैं। तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि ऐसी कार्यवाही सरकार की ‘‘निरंकुश मानसिकता’’ दर्शाती है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और पार्टी की मुखिया ममता बनर्जी ने भाजपा पर लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगाते हुए कहा कि वह संसद और सड़क दोनों जगह ‘फासीवादी’ सरकार से लड़ेंगी। राज्यसभा में टीएमसी के मुख्य सचेतक सुखेंदु शेखर रॉय ने उच्च सदन चलाने के तरीके पर सवाल उठाया। रॉय ने यह भी कहा कि ‘लोकतंत्र के इस मंदिर’ में इस कार्यवाही की सभी खेमों को निंदा करनी चाहिए।सोमवार सुबह जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने सांसदों को आइना दिखाने की कोशिश की। उन्‍होंने कहा, "एक दिन पहले उच्च सदन में कुछ विपक्षी सदस्यों का आचरण दुखद, अस्वीकार्य और निंदनीय है।"

03-09-2020
केन्द्र को कोरोना केस के साथ रिकवरी और डेथ रेट को भी प्रमुखता से शुरू से ही बताना था : विकास उपाध्याय 

रायपुर। संसदीय सचिव व विधायक विकास उपाध्याय ने मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा है कि, सरकार जिस तरह से अपनी प्राथमिकता में बदलाव लाई है, इस वजह से लोगों में दहशत का माहौल निर्मित हुआ है। शुरू में केन्द्र सरकार संक्रमण के मामले बताकर डर पैदा करते रही और अब जब लग रहा है कि, अर्थव्यवस्था को बचाना जरूरी है, जो वाकई में जरूरी भी है, तो रिकवरी रेट और डेथ रेट कम होने की बात पर केंद्रित हो गई है। जबकि होना यह चाहिए था कि, संक्रमण के मामलों के साथ-साथ उसकी रिकवरी रेट और डेथ रेट को भी उतनी ही प्रमुखता से शुरू में ही बताना चाहिए था। उपाध्याय ने कहा है कि,जिस गति से भारत में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं, इससे साफ जाहिर है मोदी सरकार इसे रोक पाने पूरी तरह असफल हुई है। उन्होंने कहा है कि, पिछले 5 दिनों में एक दिन में सबसे ज्यादा संक्रमण के मामलों में भारत पूरे विश्व में पहले स्थान पर पहुंच चुका है। एक दिन में सबसे अधिक संक्रमण के मामले अब तक किसी भी देश में भारत के आंकड़े के बराबर नहीं पहुंचे हैं। उन्होंने आशंका जाहिर की है कि, आने वाले दिनों में कुल संक्रमण के मामले में भी भारत पहले स्थान पर न पहुंच जाए, जो आज पूरे विश्व में तीसरे स्थान पर है।

विकास ने कहा है कि, छत्तीसगढ़ में बीजेपी के तमाम नेता अपने घरों में बैठकर सिर्फ आरोप प्रत्यारोप में लगे हुए हैं। जबकि उनकी भी मानवीय दृष्टिकोण से ये जिम्मेदारी बनती है कि, जनता के बीच जाएं और जागरुकता लाएं। अन्य राज्यों के आंकड़े बता कर घर बैठे राजनीति करने से कुछ नहीं होना है। छत्तीसगढ़ में देश भर से सबसे ज्यादा मजदूर अपने घरों में लौटे हैं। छत्तीसगढ़ में संक्रमण की मुख्य वजह भी यही है। बावजूद भूपेश सरकार पूरे दम खम के साथ इसका डट कर मुकाबला कर रही है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804