GLIBS
01-08-2019
लोकनिर्माण विभाग के इंजीनियर को लोकायुक्त टीम ने रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ा 

इंदौर। लोकनिर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री धर्मेंद्र जायसवाल को 3 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों लोकायुक्त की टीम ने गिरफ्तार किया है। लोकायुक्त टीम ने कार्यपालन यंत्री के सरकारी बंगले पर यह कार्रवाई की। कार्यपालन यंत्री (ईई) धर्मेंद्र जायसवाल ने सड़क निर्माण करने वाले ठेकेदार से 50 लाख का भुगतान करने के एवज में रिश्वत मांगी थी। रिश्वत की रकम लेते ही लोकायुक्त की टीम ने कार्यपालन यंत्री को गिरफ्तार कर लिया।

जानकारी के मुताबिक लोकायुक्त पुलिस को यह शिकायत मिली थी कि लोकनिर्माण विभाग के संभाग क्रमांक 1 के कार्यपालन यंत्री धर्मेंद्र जायसवाल के द्वारा चिराग कंस्ट्रक्शन कंपनी के ठेकेदार महरुद्दीन खान से 50 लाख का बिल मंजूर करने के लिए साढ़े तीन लाख रिश्वत की मांग की। ठेकेदार ने लोकायुक्त एसपी एसएस सराफ को शिकायत की थी कि जायसवाल सड़क के भुगतान के लिए उसे पांच महीने से चक्कर लगवा रहा है। वह बिना कमीशन लिए भुगतान करने को तैयार नहीं। इस पर लोकायुक्त पुलिस ने योजना बनाकर ठेकेदार को तीन लाख रुपए लेकर सरकारी बंगले पर भेजा। ठेकेदार वहां पहुंचा और उसने इंजीनियर को 3 लाख की राशि रिश्वत के रूप में दी। तभी रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त टीम ने रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया।

 

03-07-2019
इंजीनियर भाईयों के आवासों पर लोकायुक्त की रेड, मिले एक करोड़ नगद, चल,अचल संपति के दस्तावेज

सागर। आय से अधिक संपत्ति मामले में जिले में लोकायुक्त टीम ने हाउसिंग बोर्ड के दो इंजीनियर भाईयों के ठिकानों पर बुधवार को छापेमार कार्रवाई की। टीम को जांच में दोनों स्थानों से लाखों रुपए के सोने-चांदी की ज्वेलरी,आवासीय भूखंड और कृषि भूमि संबंधी दस्तावेज और एक करोड़ रुपए नगद मिले है। जांच में बड़ा खुलासा होने की संभावना है। 
जानकारी के अनुसार, सागर लोकायुक्त ने आय से अधिक संपत्ति मामले में हाउसिंग बोर्ड के दो इंजीनियर के भोपाल और सागर के ठिकानों में एक साथ दबिश दी है। टीम ने आरके पांडेय और एनके पांडेय के घर छापा मारा है। लोकायुक्त पुलिस को इंजीनियऱ भाइयों के पास पुलिस हाउसिंग में रहते हुए आय से अधिक संपत्ति जुटाने की शिकायत मिली थी। इससे पहले भी इंजीनियर आरके पांडेय रिश्वत लेते ट्रैप हो चुके हैं। 
एसपी यादव के अनुसार दोनों स्थानों से करीब लाखों रुपए नकद, लाखों रुपए के सोने-चांदी की ज्वेलरी के साथ ही आवासीय भूखंड और कृषि भूमि संबंधी दस्तावेज मिले हैं, जिनकी कीमत भी करोड़ों में हो सकती है। दोनों इंजीनियर भाइयों के सागर व भोपाल स्थित आवासों पर कार्रवाई चल रही है और भी चल-अचल संपत्ति का पता चलने की संभावना है। यहां आय से अधिक करोड़ों रुपए की संपत्ति निकल सकती है। 

 

29-06-2019
लोकायुक्त टीम ने रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ा पटवारी को

रीवा। कृषि भूमि के सीमांकन के लिए रिश्वत की मांग करने वाले पटवारी को लोकायुक्त पुलिस ने गिरफ्तार किया गया। रीवा जिले के जवा तहसील मुख्यालय के पटवारी प्रदीप मिश्रा को शनिवार को लोकायुक्त पुलिस ने पांच हजार रुपए की रिश्वत लेते रगें हाथों गिरफ्तार कर लिया। शिकायतकर्ता प्रधान लाल सोनकर की शिकायत पर लोकायुक्त ने पटवारी प्रदीप मिश्रा को उसके जवा स्थित किराए के मकान में रिश्वत के साथ पकड़। मिली जानकारी के अनुसार आरोपी पटवारी ने चांदी गांव निवासी प्रधानलाल सोनकर से उनकी कृषि भूमि के सीमांकन के लिए दस हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। बाद में सौदा पांच हजार रुपए में तय हुआ था। लोकायुक्त की 20 सदस्यीय टीम ने यह कार्रवाई की है। शिकायतकर्ता प्रधानलाल सोनकर का कहना है मैं अपने खेत के सीमांकन के लिये 10 माह से पटवारी के रूम का चक्कर लगा रहा था लेकिन पटवारी प्रदीप मिश्रा पैसे के चक्कर में आज कल करते हुए आज दिनांक तक सीमांकन के लिए तैयार नही हुए। तब परेशान होकर मैंने उनसे बात की कि सर कब और कैसे होगा तो उन्होंने कहा कि दस हजार रूपये दे तो काम हो जायेगा, तब हमने अपनी मजबूरी बताते हुए निवेदन किया तब कही जाकर 5 हजार रूपये में सीमांकन के लिए तैयार हुए। इसकी शिकायत मैंने लोकायुक्त में की, जिसके बाद आज लोकायक्त ने पटवारी को रंगेहाथ पकड़ लिया।

 

13-06-2019
जमीन सीमांकन के लिए आरआई ने मांगी रिश्वत, लोकायुक्त टीम ने रंगेहाथ पकड़ा

रीवा। एक राजस्व निरीक्षक को रिश्वत लेते लोकायुक्त टीम रंगे हाथों पकड़ा है। रीवा में आरआई जमीन के सीमांकन कार्यवाही करने के एवज में पांच हजार की रिश्वत मांग रहा था। इसे रीवा लोकायुक्त टीम ने रंगेहाथों पकड़ा और गिरफ्तार किया है। मिली जानकारी के अनुसार शिकायतकर्ता गंगासागर पाण्डेय निवासी ग्राम खरपटा तहसील जिला रीवा ने इस संबंध में लोकायुक्त को शिकायत की थी|

उन्होंने अपनी शिकायत में कहा था कि राजस्व निरीक्षक ने पैतृक जमीन के सीमांकन के लिए रिश्वत की मांग की है। लोकायुक्त ने शिकायत की तस्दीक करने के बाद गुरुवार को कार्रवाई की और शासकीय भवन में स्थित कार्यालय में 5 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए राजस्व निरीक्षक अतरैला रामशिरोमणि तिवारी को पकड़ा। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804