GLIBS
14-08-2020
Video: फुटकर सब्जी एवं फल विक्रेता पहुंचे कलेक्ट्रेट,समय सीमा बढ़ाने की रखी मांग

दुर्ग। दुर्ग शहर में सैकड़ों की संख्या में पसरा एवं फेरी लगाकर सब्जी बेचने वाले व फल व्यवसायियों ने शुक्रवार को कलेक्टर ऑफिस पहुंचकर कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा इसमें उन्होंने मांग की कि उनके द्वारा प्रशासन के द्वारा जो उनके लिए निर्धारित समय सुबह 5 से 12 बजे तक है उसे बढ़ाते हुए शाम 5:00 बजे तक किया जाए। अपनी समस्याओं को रखते हुए पूर्व पार्षद एवं सब्जी व्यापारी रामाशंकर ने बताया कि उन लोगों का टाइम,जो शासन ने निर्धारित किया है उस टाइम में उनका सामान लाने और ट्रैवलिंग में ही समय निकल जाता है। बेचने का टाइम नहीं बचता है,जिसके बाद दूसरे दिन कच्चा माल होने से सड़ गल जाता है। इससे उन्हें आर्थिक नुकसान हो रहा है। उनकी शासन और प्रशासन से मांग है कि उनका सब्जी बेचने का समय शाम 5 बजे तक किया जाए।

10-08-2020
शिवरीनारायण में कोरोना ने दी दस्तक, प्रशासन ने किया क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित

जांजगीर चाम्पा। शिवरीनारायण में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। वार्ड नं 2 में एक व्यक्ति की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है,जिसका इलाज रायपुर के निजी अस्पताल में चल रहा है। आला अधिकारी मौके पर पहुंच कर कंटेंमेंट जोन घोषित कर दिए हैं। वहाँ पर रहने वाले और मरीज के संपर्क में आने वाले सभी लोगों की कोरोना टेस्ट की तैयारी की जा रही हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने नगर के सभी लोगों से अपील किया है कि अनावश्यक बाहर न घूमे, मास्क लगाए और सैनिटाइज का उपयोग करते रहे और सुरक्षित रहे।

 

07-08-2020
बांगो बांध के दो और गेट खोले गए, अब तीन गेट से छोड़ा जा रहा 14 हजार क्यूसेक पानी

कोरबा। बांगो बांध के दो और गेट अभी खोले गए है। अब तीन गेटों से पानी छोड़ जा रहा है। अभी कुछ देर पहले गेट नंबर 5 और गेट नंबर 7 भी खोला गया। सुबह गेट नंबर 6 भी खोला गया था। तीनो गेटों से लगभग साढ़े 14 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। बिजली संयंत्र के लिए 9 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। बांगो बांध से अब लगभग साढ़े 23 हजार क्यूसेक पानी का डिस्चार्ज किया गया है। निचले इलाकों पर प्रशासन  पैनी नजर रखी है। जल भराव की संभावना वाले इलाको में प्रशासन के कर्मचारी मुस्तैद कर दिए गए है।  इसके लिए जिले के कलेक्टर ने पहले से ही अलर्ट जारी कर दिया था। इसकी वजह से नदी किनारे की 41 बस्तियों में मुनादी कराकर लोगों को सुरक्षित स्थान पर जाने कहा गया है। प्रशासन की ओर से बताया गया है कि हसदेव बराज से पानी छोड़े जाने की स्थिति में कोरबा जिले के बांगो,लेपरा,नुनिया कछार,कोनकोना,  पौडी उपरोड़ा,चर्रा,पाराघाट,छिनमेर,सिरकी कला, केरा,पाथा,सिलियारीपारा, तिलसाभाटा, हथमल, छिर्रापारा, डुग्गुपारा, नापारा, लोरीडांड, टुंगमुंडा, तिलाईडांड, नवागांव, झोरा, कोरी घाट, पोडीखड़ा, डोंगाघाट, धनगांव लोटलोटा, नर्मदा और कछार, झाबू, सोनगुडा, नवागांव, स्याही मुंडा, जेलगांव, चारपारा, खेलरभावना, बलरामपुर, भलप्रहरी, जोगीपाली, कोहडिया, राताखार, ईमलीडुग्गू, कुदुरमाल, बरीडीह, मोहरा, देवरी, चीचोली, कटबितला, झीका, ढिटोली और बिचोली में हसदेव का पानी घुस सकता है। जांजगीर-चांपा जिले के 2 गांव चांपा और देवरी भी संभावित गांव में शामिल है| जिला प्रशासन ने स्थानीय ग्रामीण और मछुआरों से भी अपील की है कि वह पानी छोड़े जाने की स्थिति में नदी में ना जाए।  

 

28-07-2020
प्रशासनिक सक्रियता के चलते युद्धस्तर की तैयारी पर खड़ा हुआ कोविड कंट्रोल सिस्टम,संकट से निपटने तैयार

दुर्ग। कोविड जैसी असाधारण विपदा से लड़ने के लिए प्रशासन ने भी असाधारण रूप से रिस्पांस किया है। पूरी रणनीति के साथ युद्धस्तर से की गई तैयारी से दुर्ग न केवल कोरोना से लड़ने में सक्षम है अपितु आगे किसी भी संकट से निपटने के लिए भी पूरी तरह से तैयार है। लाकडाउन के खुलने के पश्चात तेजी से बढ़े संक्रमण की स्थिति को देखते हुए प्रशासन ने संकट से निपटने के लिए सभी मोर्चों पर व्यापक तैयारियां की हैं। इसके लिए जिला प्रशासन ने सात सूत्र निर्धारित किए थे। जिस पर तेजी से काम हो रहा है। इन पर तेजी से काम हुआ है और अब स्थिति यह है कि संकट से निपटने के लिए पूरा तंत्र खड़ा है। सक्रिय है और तेजी से काम कर रहा है।

पहले सौ टेस्ट होते थे अब ग्यारह सौ

 सबसे पहले संक्रमण को थामने के लिए ज्यादा टेस्टिंग करना लक्ष्य था। इस पर कमाल का काम हुआ। पहले जिले में टेस्टिंग की क्षमता सौ थी। इसे बढ़ाना प्रमुख लक्ष्य था। इस पर काम हुआ और लगभग ग्यारह गुना प्रगति हुई। पहले सौ टेस्ट होते थे। जून महीने से टेस्टिंग बढ़ाई गई ग्यारह सौ टेस्ट हर दिन हो रहे हैं। इसके लिए अधोसंरचना खड़ी करने भरपूर मेहनत की गई। इसके लिए लैब टेस्टिंग जरूरी थी। 30 लैब टेक्निीशियन की नियुक्ति की गई। टेस्टिंग के लिए 2 ट्रू नाट मशीन लगाई गई। रात दिन टेस्टिंग पर काम हुआ।

ढाई लाख घरों में हुआ सर्वे

अब तक का सबसे बड़ा अभियान सर्वे को लेकर चलाया गया। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं नगरीय निकाय के कर्मचारियों ने, शिक्षा विभाग के कर्मचारियों ने इस दिशा में महती कार्य किया। इसके लिए दो सौ दल बनाये गए। ढाई लाख घरों में सर्वे किया गया। इन सबका डाटा बेस बनाया गया। सर्वे में डाटा बेस के माध्यम से बाद में भी फोन में लगातार संपर्क किया गया। सर्वे के पश्चात फीवर वाले केस चिन्हांकित कर बारह सौ सैंपल लिये गए।

होम क्वारंटीन के लिए लगाये गए दल

होम क्वारंटीन के 4 हजार लोगों की मानिटरिंग के लिए भी दल लगाये गए। इनकी रिपोर्ट हर दिन नोडल अधिकारी लेते रहे। इसके साथ ही 160 लोग पेड क्वारंटीन में हैं जिनकी मानिटरिंग भी की गई।

इलाज के लिए अभी 1550 बेड के अस्पताल की सुविधा, इतने ही बेड किये जा रहे तैयार

पूरे जिले में 1550 बेड के अस्पताल तैयार हैं। इसके साथ ही 1550 बेड और तैयार किये जा रहे हैं। कंट्रोल रूम की स्थापना भी की गई है। भारत सरकार के आरोग्य सेतु पोर्टल से संभावित संक्रमितों की सूची बनाकर उन्हें काल किया जा रहा है।

अतिरिक्त मैनपावर भी लगाया गया

इस विपदा से निपटने के लिए बड़ा वर्कफोस जिला प्रशासन द्वारा लगाया गया है। कोविड के संक्रमण को रोकने रूटीन स्टाफ के अलावा 20 डाक्टर, 5 स्टाफ नर्स एवं 25 सफाई कर्मियों की अतिरिक्त नियुक्ति की गई है। कलेक्टर ने हेल्थ डिपार्टमेंट को निर्देश दिये हैं कि कोरोना संक्रमण को रोकने किसी भी तरह से दक्ष मैनपावर की कमी नहीं होनी चाहिए।

लिस और प्रशासन का बड़ा अमला लॉकडाउन की मानिटरिंग के लिए लगाया

पुलिस और निगम प्रशासन का बड़ा अमला लॉकडाउन की मानिटरिंग में लगा है। इससे लॉकडाउन पूरी तरह सफल रहा है। बेवजह निकलने वालों पर नियमतः कार्रवाई की जा रही है।

सभी के फीडबैक से हो रहा काम

कोरोना संक्रमण से निपटने जनसामान्य से, विभिन्न सामाजिक राजनीतिक, आर्थिक संगठनों से अच्छे फीडबैक मिले हैं। जिला प्रशासन लगातार इनके संपर्क में है। सभी के फीडबैक से एवं समन्वय से दुर्ग जिले में लॉक डाउन अब तक सफल रहा है और कोरोना की बड़ी विपदा के बावजूद जिला इसे नियंत्रित करने की दिशा में सक्रियता से कार्य कर रहा है।

 

24-07-2020
Video: मुख्य मार्ग कि हालत दयनीय, बारिश में राहगीरों का चलना हुआ दूभर

रायगढ़। जिले के विकासखण्ड घरघोडा के कारगिल चौक से छाल की ओर जाने वाली मुख्य मार्ग कि हालत दयनीय हो गई है। इसमें आवागमन करने वाले राहगीरों के पसीने छूटने लगे हैं। सड़क में बरसात के दिनों में बड़े-बड़े गड्ढे हो जाते हैं और उसमें पानी इकट्ठा हो जाने से कीचड़ हो जाता है। इससे आने-जाने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़त है। इस संबंध में रहवासियों ने कहा की इस सड़क के बारे में कई बार स्थानीय प्रशासन से निर्माण के लिए आवेदन किया गया है पर प्रशासन के कान में जूँ तक नहीं रेंगती। आए दिन इस सड़क पर दुर्घटनाएं होते रहती है।

 

23-07-2020
रिसाली निगम क्षेत्र में प्रशासन व निगम प्रशासन का सख्त पहरा,अपर कलेक्टर व निगम आयुक्त सड़क पर उतरे

रिसाली। दुर्ग जिले में कोरोना वायरस बढ़ते प्रकोप के बीच दुर्ग कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे के निर्देश के तहत वायरस के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के निर्देशो का पालन कराने अपर कलेक्टर व निगम आयुक्त प्रकाश कुमार सर्वे निगम अधिकारियों के साथ रिसाली निगम क्षेत्र के चौक चौराहों, व्यवसायिक स्थलों का जायजा लिया। सार्वजनिक जगहों का आज अल सुबह ही भ्रमण कर लॉकडाउन की स्थिति का सघन निरीक्षण कर मातहतों को उचित दिशा निर्देश दिये एवं लॉकडाउन का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश भी दिये। इस दौरान निगम आयुक्त सर्वे ने निगम के नोडल अधिकारी रमाकांत साहू के साथ स्टेशन मरोदा में बनी ओव्हरब्रीज के नीचे सब्जी विक्रेताओं को लॉकडाउन की महत्ता को बताते हुए मास्क पहनने व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की समझाइश भी दिये। आज निगम क्षेत्र के सभी वार्डो में पुलिस प्रशासन सहित रिसाली निगम के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने चौक चौराहों पर खड़े होकर राहगिरों पर सख्ती दिखाते हुए दाण्डिक शुल्क वसूल किया गया व घर से बाहर न निकलने की चेतावनी देते हुए वापस घर भेजा गया। इस दौरान पुलिस प्रशासन भी निगम क्षेत्र में लॉकडाउन के नियमों का पालन कराने गंभीरता दिखाई।

इस दौरान निगम की उडऩदस्ता टीम द्वारा 4800 रू. का दाण्डिक शुल्क वसूल किया गया। वहीं पुलिस प्रशासन द्वारा 1400 रू. का चालान काटा गया। निगम की उडऩदस्ता टीम आज लॉकडाउन के पहले दिन सुबह से ही सक्रियता दिखाते हुए मार्निंग वॉक करने वालों पर विशेष निगरानी रखते हुए राहगिरों के साथ साथ दुकानदारों व फुटकर सब्जी विक्रेताओं से बिना मास्क पहने एवं समाजिक दूरी का पालन नही करने पर कड़ी कार्यवाही करते हुए जुर्माना वसूल किया गया। निरीक्षण के दौरान निगम के कार्यपालन अभियंता आर.के.साहू एवं उपअभियंता हिमांशु कावड़े रिसाली व रूआबांधा क्षेत्र में लॉकडाउन का पालन कराने सक्रियता दिखाई। स्टेशन मरोदा, टंकी मरोदा व नेवई वार्डो में राजस्व निरीक्षक अनिल मेश्राम सहित रमेशर निषाद, विनोद शुक्ला और पुलिस प्रशासन से केएल गौर, खेमू साहू, शमीम आदी ने लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराते नजर आये। 

 

21-07-2020
श्रद्धालु इस साल नहीं कर पाएंगे बाबा बर्फानी के दर्शन, कोरोना महामारी के कारण अमरनाथ यात्रा रद्द

जम्मू। जम्मू-कश्मीर प्रशासन और अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने इस साल होने वाली अमरनाथ यात्रा को रद्द करने का फैसला किया है। जम्मू-कश्मीर में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए उन्होंने इस साल वार्षिक अमरनाथ यात्रा को रद करने का फैसला लिया है। अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से शुरू होने वाली थी। 42 दिन तक चलने वाली इस यात्रा के पहली ही जम्मू कश्मीर प्रशासन ने केवल 15 दिनों का कर दिया गया था। जम्मू कश्मीर में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल ने मंगलवार को इस मुद्दे पर बैठक बुलाई थी। इस बैठक में राज्य के मौजूदा हालातों को लेकर चर्चा हुई। इस दौरान तय किया गया कि अमरनाथ यात्रा शुरू होने के कारण राज्य में कोरोना संक्रमण के मामलों में वृद्धि हो सकती है। हालांकि इस साल की अमरनाथ यात्रा के लिए तैयारियां सरकार की ओर से पहले ही पूरी कर ली गईं थी। इस साल की अमरनाथ यात्रा 23 जून से शुरू होने वाली थी लेकिन कोरोना के लॉकडाउन के चलते इसे देरी से और सीमित समय के लिए शुरू करने का फैसला लिया गया था। लेकिन अब यात्रा को रद्द कर दिया गया है। इससे पहले जून में श्राइन बोर्ड ने केवल बालटाल के रास्ते से यात्रा के संचालन का फैसला किया था और पारंपरिक पहलगाम के रास्ते तैयारी पूरी ना होने के कारण यात्रा को स्थगित रखने का फैसला लिया था। साथ ही जम्मू कश्मीर प्रशासन ने यात्रियों के लिए एक अलग कोविड अस्पताल का भी इंतजाम किया था। उधर श्रीनगर में मंगलवार को भगवान शिव की पवित्र चांदी की छड़ी (छड़ी मुबारक) को श्रवण शुक्ल पक्ष प्रतिपदा के अवसर पर देवी को श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए शहर में प्राचीन शारिका भवानी मंदिर लाया गया। दक्षिण कश्मीर के हिमालय पर्वतों में अमरनाथ गुफा मंदिर के लिए वार्षिक तीर्थ यात्रा से जुड़ी सदियों पुरानी परंपराओं के अनुसार चांदी की छड़ी को लाया गया। इस दौरान की गयी पूजा-अर्चना में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण कुछ ही साधुओं ने भाग लिया। यह पूजा करीब एक घंटे से अधिक चली।

 

 

20-07-2020
समाज की मुख्य धारा में जोड़ने के लिए आत्मसमर्पित नक्सलियों को प्रशासन ने दिया निःशुल्क ट्रैक्टर

दंतेवाड़ा। प्रशासन द्वारा नक्सलियों को आत्मसमर्पण कर समाज की मुख्य धारा में जोड़ने के लिए एक और पहल की गई। जिस भी गांव से 10 से ज्यादा नक्सली आत्मसमर्पण कर रहे हैं उन्हें गाँव मे रह कर खेती करने के लिए कृषि उपकरण दिया जा रहा है। इस योजना का नाम "जय लय्योर जय कम्माई" है जिसका हिंदी अर्थ है "नवजवान अब खेती करेंगे"।  इसी योजना के तहत आज प्रशासन द्वारा बड़े गुडरा के आत्मसमर्पित नक्सलियों को ट्रैक्टर दिया गया। आत्मसर्पित नक्सलियों का (स्व सहायता समूह) बनाया गया और उन्हें ट्रैक्टर दिया गया।

18-07-2020
मंगलबाजार कंटेनमेंट जोन पहुंचे अधिकारी, पैदल निरीक्षण कर दी समझाइश

रायपुर। मंगलबाजार कंटेनमेंट जोन में प्रशासन की ओर से सख्त कदम उठाए जा रहे हैं। शनिवार को जिला प्रशासन के निर्देश पर जोन क्रमांक-5 के इंसीडेंट कमांडर संदीप अग्रवाल, सीएसपी पुरानी बस्ती मनीष ध्रुव, जोन कमिश्नर चंदन शर्मा सहित स्वास्थ्य अमले ने कंटेनमेंट जोन मंगलबाजार का पैदल निरीक्षण किया। साथ ही सभी नागरिकों को घर पर रहने की समझाइश दी। इस क्षेत्र की सभी दुकानें भी बंद कराई गई। नगर निगम की ओर से कंटेनमेंट जोन में नियमित रूप से सैनिटाइजेशन और सफाई और आवश्यक प्रबन्ध किए गए हैं। नगर निगम इस पूरे क्षेत्र की कांटेक्ट ट्रेसिंग के लिए हाईटेक तरीके उपयोग में ला रहा है। साथ ही घर-घर जाकर सर्वेक्षण कर संभावित मरीजों की पड़ताल भी की जा रही है।

16-07-2020
पूर्व नपं अध्यक्ष के मकान पर चला बुलडोजर, मामला अवैध अतिक्रमण का

 कांकेर। जिले के पखांजूर नगर पंचायत के पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष असीम राय के घर पर प्रशासन ने अतिक्रमण हटाने के नाम पर बुलडोजर चला दिया। बता दें कि प्रशासन द्वारा एक दिन पहले ही पूर्व अध्यक्ष असीम राय को इस अतिक्रमण के संबध में नोटिस दिया गया था और एक दिन में ही सुनवाई पूरी कर 24 घंटे पूरे होते ही अतिक्रमण भी हटा दिया गया। वहीं प्रशासन की इस कार्यवाही को पूर्व अध्यक्ष ने राजनैतिक दुर्भावना की कार्यवाही बताते हुए कहा की शासकीय रिक्त भूमि के पटटे देने का विरोध किया था,जिसके चलते उन्हें प्रशासन द्वारा टारगेट किया जा रहा है। इस मकान को भाजपा नेता द्वारा कुछ वर्ष पूर्व खरीदा गया था पर इस जमीन का पटटा नहीं था। वर्ष 2011 में पखांजूर के तात्कालिक तहसीलदार ने नियम कायदों को दर किनार कर इस जमीन का पटटा दे दिया था पर वर्ष 2014 में पखांजूर तहसीलदार द्वारा इन फर्जी पटटों की शिकायत के बाद कांकेर कलेक्टर ने वर्ष 2011 में जारी समस्त पटटे निरस्त कर दिए थे और इस भूमि से अतिक्रमण हटाने का आदेश दिया था। इसी आदेश के परिपालन में आज प्रशासन ने इस कार्यवाही को अंजाम दिया है। इस आदेश के परिपालन में पखांजूर तहसीलदार ने 14 जुलाई को असीम राय को नोटिस जारी किया और  15 जुलाई को सुनवाई का मौका दिया और 24 घण्टा में ही पूरी सुनवाई कर अतिक्रमण हटाने का नोटिस जारी कर दिया। उसके बाद दरवाजे में नोटिस चस्पा कर दिया। गुरुवार को प्रशासन के अधिकारी दल बल के साथ पहुंचे और अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही कर दी। प्रशासन ने इस अतिक्रमण हटाने के लिए रात से ही तैयारी शुरू कर दी थी और 15 जुलाई की शाम ही जेसीबी और पोकलैंड को मंगवा लिया गया था।

 

13-07-2020
शिवराज कैबिनेट में कामकाज का बंटवारा, सिंधिया के करीबियों को मिला ये विभाग...देखें सूची

रायपुर/भोपाल। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने नए मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कर दिया है। मध्य प्रदेश मंत्रिमंडल के विस्तार के ग्यारह दिनों बाद विभागों का बंटवारा किया गया है। प्रशासनिक दृष्टिकोण से अति-महत्वपूर्ण सामान्य प्रशासन, जनसंपर्क, विमानन और नर्मदा घाटी विकास विभाग सीएम शिवराज ने स्वयं के पास रखे हैं। वहीं भाजपा की सरकार बनाने में अहम भूमिका​ निभाने वाले राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे से आए तुलसीराम सिलावट जल संसाधन विभाग की जिम्मेदारी सौंपी है। बता दें कि कमल नाथ सरकार में भी सिलावट के पास यही विभाग था। 2 जुलाई को सीएम शिवराज के मंत्रिमंडल में प्रवेश करने वाले 28 नए मंत्रियों में 20 कैबिनेट रैंक के और आठ राज्य मंत्री शामिल हैं।

सीएम शिवराज सिंह चौहान- सामान्य प्रशासन, जनसंपर्क, नर्मदा घाटी विकास, विमानन और ऐसे समस्त विभाग जो किसी अन्य मंत्री को न सौंपे गए हो।
नरोत्तम मिश्रा- गृह, जेल, संसदीय कार्य और विधि।
गोपाल भार्गव- लोक निर्माण, कुटीर और ग्रामोद्योग।
तुलसी राम सिलावट- जल संसाधन, मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विकास।
विजय शाज- वन विभाग।
जगदीश देवड़ा- वाणिज्यिक कर, वित्त, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी।
बिसाहू लाल सिंह- खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, उपभोक्ता संरक्षण।
यशोधरा राजे सिंधिया- युवा एवं कल्याण, तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार।
भूपेंद्र सिंह- नगरीय विकास एवं आवास।
मीना कुमारी मांडवे- आदिम जाति कल्याण, अनुसूचिता जाति कल्याण।
कमल पटेल- किसान कल्याण एवं कृषि विकास।
एंदल सिंह कंषाना- लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी।
गोविंद सिंह राजपूत- राजस्व एवं परिवहन।
बृजेंद्र प्रताप सिंह- खनिज साधन और श्रम।
विश्वास सारंग- चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास।
इमरती देवी- महिला एवं बाल विकास विभाग।
डॉ. प्रभुराम चौधरी- लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण।
महेंद्र सिंह सिसौदिया- पंचायत और ग्रामीण विकास।
प्रद्युम्न सिंह तोमर- उर्जा।
प्रेम सिंह पटेल- पशुपालन, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण।
ओम प्रकाश सकलेचा- सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी।
उषा ठाकुर- पर्यटन, संस्कृति एवं अध्यात्म।
अरविंद भदौरिया- सहकारिता एवं लोकसेवा प्रबंधन।
डॉ. मोहन यादव- उच्च शिक्षा।
हरदीप सिंह डंग- नवीन एवं नवकरणीय उर्जा, पर्यावरण।
राजवर्धन सिंह प्रेम सिंह दत्तीगांव- औद्योगिकी निति एवं निवेश प्रोत्साहन।

राज्यमंत्री 
भारत सिंह कुशवाह- उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण (स्वतंत्र प्रभार), नर्मदा घाटी विकास।
इंदर सिंह परमार- स्कूली शिक्षा(स्वतंत्र प्रभार), सामान्य प्रशासन।
रामलेखावन पटेल- पिछड़ा वर्ग अल्पसंख्यक कल्याण(स्वतंत्र प्रभार), विमुक्त घुम्मकड़ एवं अर्द्धघुम्मकड़ जनजाति कल्याण(स्वतंत्र प्रभार), पंचायत एवं ग्रामीण विकास।
राम किशोर कांवरे- आयुक्त(स्वतंत्र प्रभार), जल संसाधन विभाग।
बृजेंद्र सिंह यादव- लोक स्वास्थ्य एवं यांत्रिकी।
गिर्राज दंड़ौतिया- किसान कल्याण एवं कृषि विकास।
सुरेश धाकड़- लोक निर्माण विभाग।
ओपीएस भदौरिया- नगरीय विकास एवं आवास।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804