GLIBS
09-11-2020
पंजीयन कार्यालय रायपुर,बिलासपुर,दुर्ग और सरगुजा में 10 से 13 नवम्बर तक ज्यादा समय तक होगी रजिस्ट्री

रायपुर। राज्य शासन ने रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग और सरगुजा जिले में आमजनों की सुविधा के लिए 10 से 13 नवम्बर तक पंजीयन कार्यालयों की कार्य अवधि में आधे घंटे की वृद्धि की गई है। महानिरीक्षक पंजीयन तथा अधीक्षक मुद्रांक धर्मेश साहू ने बताया कि पंजीयन कार्यालयों का कार्यालयीन समय 10.30 से 6 बजे तक रहेेगा। इस कार्यालयीन अवधि में लोग दस्तावेजों का पंजीयन करा सकते हैं।

 

07-11-2020
गलीचा बुनकरों की समस्याओं को सुना अमरजीत भगत ने, पारिश्रमिक राशि बढ़ाई

रायपुर। खाद्य एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने शनिवार को सरगुजा जिले के मैनपाट के कमलेश्वरपुर में छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास वोर्ड द्वारा संचालित शबरी एम्पोरियम तथा गलीचा निर्माण का निरीक्षण किया। उन्होंने गलीचा बुनकरों की समस्याओं को सुना तथा उनकी मांग पर 10 प्रतिशत तक पारिश्रमिक में वृद्धि करने के निर्देश विभाग के अधिकारियों को दिए। मंत्री भगत ने निरीक्षण के दौरान गलीचा बुनकरों से रूबरू हुए और उनका हाल-चाल पूछा तथा गलीचा निर्माण में लगने वाले पारिश्रमिक समय एवं मिलने वाले पारिश्रमिक की जानकारी ली। बुनकरों ने बताया कि गलीचे निर्माण में मेहनत के अनुसार कम पारिश्रमिक मिल रही है जिसे बढ़ाया जाए। मंत्री भगत ने कहा कि मैनपाट का गलीचा देश-विदेश में प्रसिद्ध है। इसकी महत्ता को बनाए रखने के लिए गलीचा बुनाई केन्द्र को जीवित रखना होगा। उन्होंने कहा कि जब स्थानीय स्तर पर ही लोगों को गलीचा बुनाई का काम मिलेगा तो बनारस जाने की नौबत नहीं आएगी। इस बात को ध्यान में रखते हुए बुनकरों के पारिश्रमिक के साथ सुविधाएं बढ़ाने की जरूरत है।

हस्तशिल्प बोर्ड के प्रबंधक राजेन्द्र राजवाडे ने बताया कि वर्तमान में गलीचा बुनाई केन्द्र मैनपाट में 10 बुनकरों के द्वारा गलीचा निर्माण का काम किया जा रहा है। बुनकरों के रहने के लिए निर्माण केन्द्र में ही आवास की व्यवस्था की गई है। यहां तीन बाई छः, चार बाई छः तथा छः बाई नौ साईज के गलीचे का निर्माण किया जा रहा है। अम्बिकापुर से फिनिशिंग होने के बाद रायपुर भेजा जाता है। निरीक्षण के दौरान ग्रामोद्योग विभाग के संचालक सुधाकर खलखो मौजूद थे।

 

05-11-2020
प्रदेश में प्रयास विद्यालय की प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए 8563 विद्यार्थी

रायपुर। आदिम जाति एवं अनुसूचित जनजाति विभाग की ओर से प्रदेश में संचालित 9 प्रयास आवासीय विद्यालयों में कक्षा 9वीं में प्रवेश के लिए हुई परीक्षा में 8563 परीक्षार्थी शामिल हुए। यह प्रवेश परीक्षा गुरुवार को राज्य के 22 जिलों के 74 केन्द्रों में हुई। इस परीक्षा के माध्यम से चयनित विद्यार्थियों को प्रयास आवासीय विद्यालय में प्रवेश दिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि रायपुर में बालक एवं बालिकाओं के लिए पृथक-पृथक प्रयास आवासीय विद्यालय संचालित हैं। राज्य के दुर्ग, बिलासपुर, सरगुजा, बस्तर, कांकेर, कोरबा एवं जशपुर में भी प्रयास विद्यालय है। इन विद्यालयों में कक्षा 9वीं में प्रवेश परीक्षा के माध्यम से 1100 विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा। इनमें 600 बालक और 500 बालिकाएं शामिल है। प्रवेश परीक्षा के आयोजन के दौरान सभी केन्द्रों में कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन किया गया।

04-11-2020
महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रोत्साहित करें: राज्यपाल

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके बुधवार को राजभवन में छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय, भिलाई द्वारा महिला सशक्तिकरण विषय पर आयोजित वेबिनार में शामिल हुई। उन्होंने वेबीनार को संबोधित करते हुए कहा कि महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। जो महिला सशक्त होकर समाज में जगह बना चुकी हैं उन्हें हमारी बेटियों को आगे बढ़ने की प्रेरणा देनी चाहिए। राज्यपाल ने कहा कि भारत वह देश है, जहां पर माता हमेशा पूज्यनीय रही हैं, समय के साथ कई कुरीतियां भी भारतीय समाज में आ गई, लेकिन जब भारत स्वतंत्र हुआ तो शिक्षा के प्रसार के साथ जागरूकता आई और सामाजिक कुरीतियों को दूर करने का प्रयास किया जाने लगा। महिलाओं के कल्याण के लिए शासन द्वारा अलग विभाग बनाया गया, जिसके माध्यम से कई कल्याणकारी योजनाएं चलाई जाने लगी। फलस्वरूप कई महिलाएं स्वप्रेरणा से सामने आने लगी। आज महिलाएं सभी क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं।
हम छत्तीसगढ़ की बात करें तो बस्तर से लेकर सरगुजा तक महिलाएं आगे आ रही हैं और स्व-सहायता समूह बनाकर अच्छा कार्य कर रही हैं इससे वे आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बन रहे हैं। बस्तर अंचल दंतेवाड़ा के बालूद ग्राम की महिलाएं नई दिशा स्व-सहायता समूह के माध्यम से आर्थिक सहायता प्राप्त कर छोटे-छोटे व्यवसाय कर रही हैं और जैविक खेती भी कर रही हैं। सरगुजा के अंबिकापुर शहर में स्व-सहायता समूह के माध्यम से महिलाएं डोर-टू-डोर जाकर कचरा एकत्रित कर रही हैं और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा प्रारंभ किए गए स्वच्छता मिशन में योगदान दे रही हैं। साथ ही उत्तरी छत्तीसगढ़ के अंतिम छोर के बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के ग्राम चांगरो की महिलाएं स्व-सहायता समूह के माध्यम से जीरा फूल धान की खेती कर रही हैं और मिनी राईस मिल का संचालन भी कर रही हैं। इन समूह द्वारा उत्पादित जीरा फूल चावल की मांग दूर-दूर तक है।
यह हमारी महिला सशक्तिकरण की पहचान है कि फुलबासन यादव को टीवी शो कौन बनेगा करोड़पति में शामिल होने का अवसर मिला। राज्यपाल ने महिलाओं के प्रति हो रहे अपराध पर समाज को जागृत होने का आग्रह करते हुए कहा कि सबसे पहले परिवार में बच्चों को महिलाओं के प्रति सम्मान की शिक्षा देनी चाहिए। यदि उसके मन में बचपन से ऐसी भावनाएं आ जाए तो महिलाओं के प्रति अपराध में काफी कमी आ सकती है। इस अवसर पर स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय, भिलाई के कुलपति डॉ. एमके वर्मा, सांसद छाया वर्मा, छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष  किरणमयी नायक, लोकसभा सांसद ज्योत्सना महंत तथा प्राध्यापकगण उपस्थित थे।

23-10-2020
प्रदेश में अब तक 1291.6 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज, सर्वाधिक बीजापुर में और न्यूनतम सरगुजा में

रायपुर। प्रदेश के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के बनाए गए राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से जानकारी प्राप्त हुई है। जानकारी के अनुसार प्रदेश में 1 जून से अब तक कुल 1291.6 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। इसमें प्रदेश में सर्वाधिक बीजापुर जिले में 2462.7 मि.मी. और सबसे कम सरगुजा में 922.6 मि.मी. औसत वर्षा अब तक पाई गई है। राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के अनुसार 1 जून से अब तक रायपुर में 1081.7 मि.मी., जशपुर में 1435.0 मि.मी., सूरजपुर में 1401.8 मि.मी., बलरामपुर में 1183.2 मि.मी. कोरिया में 1126.7 मि.मी., बलौदाबाजार में 1106.6 मि.मी., गरियाबंद में 1281.4 मि.मी., महासमुन्द में 1321.2 मि.मी., धमतरी में 1172.6 मि.मी., बिलासपुर में 1302.1 मि.मी., मुंगेली में 945.4 मि.मी., रायगढ़ में 1253.0 मि.मी., जांजगीर-चांपा में 1394.1 मि.मी. तथा कोरबा में 1414.1 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 1093.3 मि.मी., दुर्ग में 1039.4 मि.मी., कबीरधाम में 1010.9 मि.मी., राजनांदगांव में 962.4 मि.मी., बालोद में 1074.8 मि.मी., बेमेतरा में 1103.3 मि.मी., बस्तर में 1523.7 मि.मी., कोण्डागांव में 1568.4 मि.मी., कांकेर में 1072.3 मि.मी., नारायणपुर में 1533.3 मि.मी., दंतेवाड़ा में 1706.6 मि.मी. तथा सुकमा में 1673.0 मि.मी औसत दर्ज की गई है।

09-10-2020
प्रदेश में अब तक 1260.5 मिमी औसत वर्षा दर्ज

रायपुर। प्रदेश के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष में संकलित जानकारी के अनुसार प्रदेश में एक जून से अब तक कुल 1260.5 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। प्रदेश में सर्वाधिक बीजापुर जिले में 2309.2 मि.मी. और सबसे कम सरगुजा में 896.5 मि.मी. औसत वर्षा अब तक रिकार्ड की गई है। राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के अनुसार एक जून से अब तक सूरजपुर में 1386.4 मि.मी., बलरामपुर में 1177.7 मि.मी., जशपुर में 1408 मि.मी., कोरिया में 1112.7 मि.मी., रायपुर में 1074.7 मि.मी., बलौदाबाजार में 1097.9 मि.मी., गरियाबंद में 1251.4 मि.मी., महासमुन्द में 1314.4 मि.मी., धमतरी में 1162.5 मि.मी., बिलासपुर में 1299.8 मि.मी., मुंगेली में 941.4 मि.मी., रायगढ़ में 1243.8 मि.मी., जांजगीर-चांपा में 1379.1 मि.मी. तथा कोरबा में 1397.2 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज की गई है।

इसी प्रकार गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 1080 मि.मी., दुर्ग में 1016.6 मि.मी., कबीरधाम में 1006.8 मि.मी., राजनांदगांव में 946.5 मि.मी., बालोद में 1058.6 मि.मी., बेमेतरा में 1100.7 मि.मी., बस्तर में 1429.2 मि.मी., कोण्डागांव में 1539.1 मि.मी., कांकेर में 1047.9 मि.मी., नारायणपुर में 1450.1 मि.मी., दंतेवाड़ा में 1608.7 मि.मी. तथा सुकमा में 1557.6 मि मी  औसत दर्ज की गई है। राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष द्वारा संकलित की गई जानकारी के अनुसार प्रदेश के विभिन्न जिलों में आज 09 अक्टूबर को सुबह रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार सरगुजा में 12.3 मि.मी., सूरजपुर में 16.8 मि.मी, बलरामपुर में 28.5 मि.मी, जशपुर में 3.1 मि.मी, कोरिया में 5.1 मि.मी., रायपुर में 0.6 मि.मी., बलौदाबाजार में 3.0 मि.मी., गरियाबंद में 4.3 मि.मी., महासमुन्द में 1.6 मि.मी, बिलासपुर में 1.2 मि.मी, रायगढ़ में 0.2 मि.मी, जांजगीर चांपा में 4.7 मि.मी., कोरबा में 20.0 मि.मी, दुर्ग में 0.7 मि.मी., कबीरधाम में 0.2 मि.मी, राजनांदगांव में 4.9 मि.मी, बेमेतरा में 0.6 मि.मी., बस्तर में 1.4 कोंडागांव में 3.3 मि.मी., कांकेर में 8.9 मि.मी., नारायणपुर 1.1 मि.मी., दंतेवाड़ा में 2.8 मि.मी., सुकमा में 2.0 मि.मी., और बीजापुर में 5.7 मि.मी., औसत वर्षा दर्ज की गई।

06-10-2020
Video: सरगुजा का कालीन देश-विदेश में बिके इसके लिए किए जा रहे प्रयास : भूपेश बघेल

अंबिकापुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को अपने निवास कार्यालय वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सरगुजा जिले को 154 करोड़ 63 लाख रूपए के विकास एवं निर्माण कार्याें की सौगात दी। मुख्यमंत्री ने कहा है कि सरगुजा ने स्वच्छता एवं नवाचार के क्षेत्र में सराहनीय कार्य किया है। सरगुजावासियों ने अपने उल्लेखनीय कार्याें से छत्तीसगढ़ को गौरवान्वित किया है। स्वच्छता के क्षेत्र में सरगुजा जिले के कार्याें की सराहना करते हुए इसके लिए सरगुजा प्रशासन, नगर निगम तथा पार्षदों और सरगुजावासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर सरगुजा जिले में 2 पुल एवं 4 ग्रामीण सड़कों के निर्माण की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर उत्कृष्ट कार्य के लिए बैंक सखी को भी प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सरगुजा जिले के प्रभारी मंत्री एवं नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया ने की। कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टी.एस. सिंह देव, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत भी ऑनलाइन शामिल हुए।
   
 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सरगुजा जिले के विकास की रफ्तार को तेज करने का संकल्प दोहराते हुए कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता और रोजगार को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार प्रयासरत है। उन्होंने सरगुजा जिला प्रशासन एवं नगर निगम प्रशासन की प्राथमिकता वाली योजनाओं के क्रियान्वयन में और तेजी लाने की बात कही। उन्होंने कहा मैनपाट में कालीन बुनाई की शुरूआत कर स्थानीय लोगों को रोजगार मुहैया कराने के प्रयासों की सराहना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां कालीन का व्यावसायिक उत्पादन हो और यहां की कालीन देश-विदेश में बिके, इसके लिए प्रयास किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ देश का ऐसा पहला राज्य है जहां बिजली से संबंधित 90 प्रतिशत से अधिक सुविधाओं का लाभ उपभोक्ता घर बैठे मोर बिजली एप के माध्यम से उठा सकता है। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ राज्य वन औषधि पादप विकास बोर्ड के अध्यक्ष  बालकृष्ण पाठक, श्रम कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष शफी अहमद, बीस सूत्रीय कार्यक्रम कार्यान्वयन समिति के उपाध्यक्ष अजय अग्रवाल, छत्तीसगढ़ खाद्य आयोग के अध्यक्ष गुरूप्रीत सिंह बाबरा, महापौर डॉ. अजय तिर्की, जिला पंचायत अध्यक्ष मधु सिंह एवं उपाध्यक्ष राकेश गुप्ता सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थेे।

 

01-10-2020
छत्तीसगढ़ में जून माह से अब तक 1210.3 मिमी. औसत वर्षा दर्ज, सबसे कम सरगुजा में हुई बारिश  

रायपुर। प्रदेश में 1 जून से अब तक कुल 1210.3 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। प्रदेश में सर्वाधिक बीजापुर जिले में 2274.2 मिमी. और सबसे कम सरगुजा में 821.6 मिमी. औसत वर्षा अब तक रिकार्ड की गई है। राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के अनुसार 1 जून से अब तक सूरजपुर में 1306.7 मिमी., बलरामपुर में 1074.9 मिमी., जशपुर में 1292.3 मिमी., कोरिया में 1042.9 मिमी., रायपुर में 1042.1 मिमी., बलौदाबाजार में 1063.5 मिमी., गरियाबंद में 1196.3 मिमी., महासमुंद में 1260.4 मिमी., धमतरी में 1116.2 मिमी., बिलासपुर में 1238.7 मिमी., मुंगेली में 904.9 मिमी., रायगढ़ में 1207.2 मिमी., जांजगीर-चांपा में 1315.7 मिमी. और कोरबा में 1330.7 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार गौरेला-पेंड्रा-मरवाही में 1051.3 मिमी., दुर्ग में 1004.2 मिमी., कबीरधाम में 953.4 मिमी., राजनांदगांव में 923.0 मिमी., बालोद में 1021.2 मिमी., बेमेतरा में 1077.1 मिमी., बस्तर में 1379.5 मिमी., कोण्डागांव में 1489 मिमी., कांकेर में 1026.1 मिमी., नारायणपुर में 1405.1 मिमी., दंतेवाड़ा में 1560.1 मिमी. और सुकमा में 1509.9 मिमी औसत दर्ज की गई है।

29-09-2020
प्रदेश में अब तक 1208.9 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज, बीजापुर में सर्वाधिक और सरगुजा में सबसे कम 

रायपुर। प्रदेश के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष में संकलित जानकारी के मुताबिक एक जून से अब तक प्रदेश में कुल 1208.9 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। प्रदेश में सर्वाधिक बीजापुर जिले में 2273.7 मिमी और सबसे कम सरगुजा में 821.6 मिमी औसत वर्षा अब तक रिकार्ड की गई है। राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के मुताबिक एक जून से अब तक सूरजपुर में 1306.7 मिमी, बलरामपुर में 1084.9 मिमी, जशपुर में 1292.3 मिमी, कोरिया में 1042.9 मिमी, रायपुर में 1042.1 मिमी, बलौदाबाजार में 1063.5 मिमी, गरियाबंद में 1189.9 मिमी, महासमुन्द में 1260.4 मिमी, धमतरी में 1116.2 मिमी, बिलासपुर में 1238.7 मिमी, मुंगेली में 904.9 मिमी, रायगढ़ में 1207.2 मिमी, जांजगीर-चांपा में 1315.7 मिमी तथा कोरबा में 1330.7 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 1051.3 मिमी, दुर्ग में 1004.2 मिमी, कबीरधाम में 953.4 मिमी, राजनांदगांव में 921.6 मिमी, बालोद में 1020.5 मिमी, बेमेतरा में 1077.1 मिमी, बस्तर में 1378.3 मिमी, कोण्डागांव में 1487.6 मिमी, कांकेर में 1020.7 मिमी, नारायणपुर में 1405.1 मिमी, दंतेवाड़ा में 1557.7 मिमी तथा सुकमा में 1490.1 मिमी औसत दर्ज की गई है।

25-09-2020
प्रदेश में जून माह से अब तक 1204.3 मिमी. औसत वर्षा, सर्वाधिक बीजापुर और सबसे कम सरगुजा में हुई बारिश  

रायपुर। प्रदेश में एक जून से अब तक कुल 1204.3 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। प्रदेश में सर्वाधिक बीजापुर जिले में 2261.4 मिमी. और सबसे कम सरगुजा में 821.2 मिमी.औसत वर्षा अब तक रिकार्ड की गई है। यह जानकारी प्रदेश के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से बनाए गए राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मिली है। एक जून से अब तक सूरजपुर में 1303.3 मिमी., बलरामपुर में 1074.3 मिमी., जशपुर में 1292 मिमी., कोरिया में 1042.1 मिमी., रायपुर में 1039.9 मिमी., बलौदाबाजार में 1062.0 मिमी., गरियाबंद में 1187.8 मिमी., महासमुंद में 1256.1 मिमी., धमतरी में 1116.2 मिमी., बिलासपुर में 1238.5 मिमी., मुंगेली में 904.9 मिमी, रायगढ़ में 1206.3 मिमी., जांजगीर-चांपा में 1313.7 मिमी. और कोरबा में 1330.7 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 1051.3 मिमी., दुर्ग में 1001.5 मिमी., कबीरधाम में 943 मिमी., राजनांदगांव में 917.1 मिमी., बालोद में 1020.5 मिमी., बेमेतरा में 1073.1 मिमी., बस्तर में 1362.8 मिमी., कोण्डागांव में 1486.8 मिमी., कांकेर में 1020.6 मिमी., नारायणपुर में 1393.1 मिमी., दंतेवाड़ा में 1538 मिमी. और सुकमा में 1462.2 मिमी औसत दर्ज की गई है। इसी तरह प्रदेश के विभिन्न जिलों में शुक्रवार 25 सितंबर को सुबह रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार सरगुजा में 5.4 मिमी., सूरजपुर मे 5.8 मिमी, बलरामपुर2.4 मिमी, जशपुर 11.3 मिमी, कोरिया में 16.2 मिमी.रायपुर 0.4 मिमी, मिमी, गरियाबंद में 0.3 मिमी., महासमुंद 0.2 मिमी ,मुंगेली 0.7 मिमी , रायगढ़ 3.8 मिमी जांजगीर चांपा 2.3 मिमी, कोरबा 7.5 मिमी ,गौरेला पेंड्रा मारवाही में 6.1 मिमी, कबीरधाम में 3.3 मिमी , राजनांदगा में 3.3 मिमी , बालोद 3.3 मि मी , कोंडागांव में 0.9 मिमी., कांकेर में 0.1 मिमी., नारायणपुर में 0.3 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804