GLIBS
16-09-2020
इंद्रावती के जल का सदुपयोग कर बस्तर को स्वर्ग बनाने के लिए बोधघाट परियोजना जरूरी : भूपेश बघेल

रायपुर/जगदलपुर। अब बोधघाट परियोजना के निर्माण से क्षेत्र में सिंचाई क्षमता 366580 हेक्टेयर क्षेत्र का विकास होगा। इस परियोजना के विकास के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बस्तर क्षेत्र के सांसद, विधायक और गणमान्य जन प्रतिनिधियों की बैठक लेकर कहा कि इंद्रावती नदी के जल का सदुपयोग कर बस्तर को खुशहाल और समृद्ध बनाने के लिए बोधघाट परियोजना जरूरी है। प्रदेश और बस्तर संभाग की महत्वपूर्ण बहु उद्देशीय परियोजना इंद्रावती नदी पर प्रस्तावित बोधघाट परियोजना है। लगभग 22 हजार 653 करोड़ रुपए की लागत से बोधघाट परियोजना का विकास दंतेवाडा जिले के गीदम विकासखण्ड के पर्यटन स्थल बारसुर के समीप किया जाना है। परियोजना का महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है कि वर्तमान में लगभग 13 प्रतिशत सिंचाई क्षमता है। इस परियोजना के निर्माण से क्षेत्र में सिंचाई क्षमता 366580 हेक्टेयर क्षेत्र का विकास होगा।

इससे दंतेवाड़ा जिले से 51 गाँव, 218 बीजापुर और सुकमा के 90 गाँव कुल 359 गाँव लाभान्वित होंगे। इसके अलावा परियोजना से 300 मेगावाट विद्युत उत्पादन होगा। ओद्यागिक उपयोग हेतु 500 मि.घ.मी. जल, पेयजल के लिए 30 मि.घ.मी. पानी का उपयोग किया जा सकेगा। मत्स्य पालन में 4824 टन वार्षिक लक्ष्य के साथ पर्यटन के लिए भी एक स्थल का विकास किया जाएगा। इस परियोजना के निर्माण से 42 गाँव और 13783.147 हेक्टेयर जमीन डुबान क्षेत्र में आ रहे है। इसमें वन भूमि 5704 हेक्टेयर, निजी भूमि 5010 हेक्टेयर और शासकीय भूमि 3069 हेक्टेयर  के करीब आ रही है।मुख्यमंत्री ने कहा प्रभावितों के लिए पुनर्वास व व्यवस्थापन की बेहतर व्यवस्था किया जाएगा। विस्थापितों को उनकी जमीन के बदले बेहतर जमीन, मकान के बदले बेहतर मकान दिए जाएँगे। प्रभावितों के पुनर्वास एवं व्यवस्थापन के बाद ही उनकी भूमि ली जाएगी। कोशिश होगी, इस प्रोजेक्ट की नहरों के किनारे की सरकारी जमीन प्रभावितों को मिले ताकि वह खेती किसानी बेहतर तरीके से कर सके।

15-09-2020
इंजीनियर्स डे पर गर्व से कहा बस्तर कलेक्टर रजत बंसल ने की वे,एसपी दीपक झा व जिपं सीईओ तीनों इंजीनियर हैं

रायपुर /जगदलपुर। बस्तर जैसे नक्सल प्रभावित आदिवासी बहुल और पिछड़े जिले में कलेक्टर एसपी और जिला पंचायत तीनों इंजीनियर हैं। ये बात आज भारतरत्न मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की स्मृति में मनाए जाने वाले अभियंता दिवस पर जगदलपुर के कलेक्टर रजत बंसल ने गर्व से कही। उन्होंने वैज्ञानिक और निर्माता के रूप में देश की सेवा में अपना जीवन समर्पित करने वाले भारत रत्न मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की जयंती पर उनका नमन किया। उन्होंने कहा इंजीनियर्स डे मनाना बहुत जरूरी है। यह इंजीनियरों के बीच गर्व की भावना बढ़ाएगा। आज निर्माण में इंजीनियर की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण हो गई है। उन्होंने कहा कोरोना काल में प्रशासन की हर जरूरत को किसी भी समय पर आदेश करने पर इंजीनियर लोगों ने आगे आकर काम किया है। उनकी मेहनत के कारण जिले में कोविड-19 पर नियंत्रण के लिए प्रशासन की ओर से इलाज की सुविधाओं का विकास हो पाया है।

उन्होंने बताया पुलिस अधीक्षक दीपक झा और जिला पंचायत के सीईओ इंद्रजीत चंद्रवाल के साथ साथ वे भी इंजीनियर है। रजत बंसल ने कहा की व्यवस्था का विकास करने वाले और विकास कार्यों को गति देने में इंजीनियर आज मील का पत्थर साबित हो रहा है। अभियंता दिवस पर कार्यक्रम में उपस्थित सभी अफसरों ने सर विश्वेश्वरैया की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर  उनका नमन किया। बस्तर इंजीनियर एसोसिएशन की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया गया।

 

08-09-2020
स्टील प्लांट विनिवेशीकरण के खिलाफ एक दिवसीय हड़ताल, संसदीय सचिव रेखचंद और राजीव शर्मा ने दिया समर्थन

रायपुर/जगदलपुर। बस्तर जिले के नगरनार स्टील प्लांट के विनिवेशीकरण के विरुद्ध एक दिवसीय धरना प्रदर्शन संयुक्त मजदूर संगठन के बैनर तले मंगलवार को किया गया। मजदूर संगठन के आंदोलन को कांग्रेस के संसदीय सचिव व विधायक रेखचंद जैन व शहर जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष राजीव शर्मा सुबह से ही धरना -प्रदर्शन स्थल पहुंचकर समर्थन दिया है। संसदीय सचिव व विधायक रेखचंद जैन ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार, आदिवासी विरोधी मानसिकता का परिचय देते हुए नगरनार स्टील प्लांट विनिवेशीकरण किये जाने का निर्णय लिया है। इसका कांग्रेस पूरजोर विरोध करेगी। जैन ने मजदूर संगठनों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बस्तर वासियों की इस भावना से अवगत हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार को पत्र लिखकर अपना विरोध जताया है। केंद्र सरकार के निर्णय के खिलाफ युवावर्ग, आदिवासीयों व बस्तरहित में आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी।

शहर अध्यक्ष राजीव शर्मा ने भी कहा कि तत्कालीन छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार ने भी विनिवेशीकरण किये जाने का कुत्सित प्रयास किया था जिसका कांग्रेस ने पूरजोर विरोध किया था। वर्तमान में भी केंद्र की मोदी सरकार का भी पूरजोर विरोध किया जायेगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बतौर कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने ऐतिहासिक आंदोलन व पदयात्रा की तथा कांग्रेस पार्टी आगे भी बस्तर हित को लेकर चरणबद्ध तरीके से आंदोलन किया जायेगा। इस दौरान  ब्लाक अध्यक्ष विरेंद्र साहनी, अनवर खां, योगेश पानीग्राही, हेमु उपाध्याय, अवधेश झा, सुशील मौर्य, संतोष सेठिया, जलंधर बघेल , घनश्याम महापात्र, धनुर्जय दास, भगत, लक्ष्मण सेठिया, शोभाराम, मजदूर संगठनों व कर्मचारी संगठनों के प्रमुखों में महेंद्र जान, संतराम सेठिया, जितेंद्रनाथ, राजा मैत्थुस व बड़ी संख्या में कर्मचारी व अधिकारीगण उपस्थित थे।

07-09-2020
जिला योजना समिति के 8 पदों में से 7 पदों पर भाजपा जीती

रायपुर/जगदलपुर। बस्तर जिला योजना समिति के 8 पदों के लिए हुए चुनाव में भाजपा ने 7 पदों पर जीत दर्ज की है। सत्तारूढ़ कांग्रेस को सिर्फ 1 पद पर ही संतोष करना पड़ा है। चुनाव में भाजपा के धरमु राम मंडावी, सरिता जितेंद्र पाणीग्राही, पदमा कश्यप, निर्देश दीवान, मालती मंडावी, रामवती भंडारी एवं सीता नाग ने जीत दर्ज की है। चुनाव में भाजपा की ओर से भाजपा प्रदेश मंत्री किरण देव, पूर्व मंत्री केदार कश्यप, पूर्व सांसद दिनेश कश्यप, योगेंद्र पांडे एवं जिला महामंत्री रामाश्रय सिंह व जिला पंचायत उपाध्यक्ष मनीराम कश्यप ने चुनावी कमान संभाल रखी थी। भाजपा जिला महामंत्री रामाश्रय सिंह, राजेन्द्र बाजपेई, रजनीश पाणीग्राही, नरसिंग राव, सुधीर शर्मा, राजपाल कसेर ने भाजपा समर्पित विजयी प्रत्याशियों को जीत की बधाई दी है।

01-09-2020
छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस सोशल मीडिया राज्य कार्यकारिणी का हुआ गठन, नम्रता सोनी को मिली नई ज़िम्मेदारी

रायपुर। समाज और राजनीति में लगातार सोशल मीडिया के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए युवा कांग्रेस अपने सोशल मीडिया संगठन विस्तार को लेकर सक्रिय हो चुका है। छत्तीसगढ़ राज्य में कांग्रेस सरकार की जनहितकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए और विपक्ष के दुष्प्रचार को करारा जवाब देने के लिए छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस सोशल मीडिया के 26 अगस्त को एक दिवसीय बैठक का आयोजन रायपुर में किया गया। इसके बाद राष्ट्रीय महासचिव एवं छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस प्रभारी संतोष कोलकोंडा , राष्ट्रीय सचिव व सह- प्रभारी एकता ठाकुर, प्रदेश अध्यक्ष पूर्णचंद कोको पाढ़ी, राष्ट्रीय संयोजक व छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस सोशल मीडिया प्रभारी के.के शास्त्री व छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस सोशल मीडिया चेयरमैन अनूप वर्मा की सहमति से भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रभारी सोशल मीडिया वैभव वालिया ने छत्तीसगढ़ प्रदेशकार्यकारिणी का गठन किया।

बस्तर से नम्रता सोनी, युवा कांग्रेस छत्तीसगढ़ सोशल मीडिया के राज्य कार्यकारिणी समिति की सदस्य नियुक्त की गई है। इससे पहले भी राजनैतिक और सामाजिक क्षेत्र में बस्तर जैसे नक्सलप्रभावित इलाके में आदिवासियों, महिलाओं के लिए कार्य करने हेतु नम्रता अपनी अलग पहचान रखती है। नम्रता सोनी न सिर्फ राजनीतिक तौर पे सक्रिय है, बल्कि समाजिक कार्यकर्ता के रूप में संपूर्ण छत्तीसगढ़ में महिला सुरक्षा, व महिलाओं के अधिकार के लिए निरंतर कार्य करती आई है। इसके लिए समय समय पर उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। नम्रता ने समस्त शीर्ष नेतृत्व का नई ज़िम्मेदारी के लिए आभार व्यक्त करते हुए, संगठन के विस्तार व आगे भविष्य में बेहतर योगदान देने के लिए विश्वास दिलाया है। साथ ही सभी नवनिर्मित सदस्यों - अभिषेक वर्मा, दीपक गांधी, हरिराम कैवत , पंकज सोनी, आकाश महंत, रामसजिला यादव , सौरभ सिंह ठाकुर , स्वर्णिम शुक्ला, अफ़ज़ल रायपुरी, अरमान खान व प्रितिका विश्वकर्मा को भी हार्दिक शुभकामनाएं दी है। कांग्रेस के सोशल मीडिया छत्तीसगढ़ राज्य कार्यकारिणी समिति आगे भी अपनी ज़िम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए पार्टी को मजबूत करने के लिए सदैव संकल्पबद्ध है।

31-08-2020
42 गांव के विस्थापन के बाद ही बोधघाट का काम शुरू किया जाएगा : दीपक बैज

रायपुर/जगदलपुर। बस्तर सांसद दीपक बैज प्रेसवार्ता में कहा कि जब तक बस्तर के नेता और जनता की राय एकमत होगी तभी बोधघाट परियोजना का काम को शुरू किया जाएगा। उन्होंने ये भी कहा कि बस्तर के आदिवासी की चिंता प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को है और 42 गांव के पूरी विस्थापन के बाद ही काम को आगे बढ़ाया जाएगा। चित्रकोट के विधायक राजमन बेंजाम ने बोधघाट बहुउद्देशीय सिंचाई परियोजना के काम को आगे बढ़ाने के लिए अनुपूरक बजट में राशि का प्रावधान किए जाने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आभार जताया। उन्होंने कहा कि बोधघाट परियोजना के लिए राज्य सरकार द्वारा की जा रही पहल को लेकर बस्तर अंचल में लोग हर्षित हैं। चित्रकोट के विधायक के इस बयान के बाद बस्तर सांसद दीपक बैज ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए सफाई दी है। गौरतलब है कि बस्तर संभाग की महती बोधघाट परियोजना को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और बस्तर के नेता चिंतित है, बोधघाट परियोजना बनने से 42 गांव डूबान में आ रहे हैं और इसके लिए मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिमंडल ने बीते दिनों बैठक कर जानकारी ली और बस्तर के जनप्रतिनिधियों से भी राय ली गई और उसके लिए कार्ययोजना बनने से पहले आदिवासियों के विस्थापन पर विचार किया जाए और इसके लिए जनता से भी राय ली जाए कि किसी भी जोर जबरदस्ती करके बोधघाट परियोजना का निर्माण ना करे।

 

28-08-2020
बस्तर में युवा वॉलिन्टियर्स के कोविड-19 जागरूकता कार्यक्रम को नीति आयोग ने सराहा

रायपुर। भारत सरकार के नीति आयोग द्वारा आकांक्षी जिला बस्तर में युवा वॉलिन्टियर के द्वारा कोविड-19 से बचाव हेतु किए जा रहे कार्यों की सराहना की है। युवा वॉलिन्टियरों के द्वारा अपनों का ध्यान कार्यक्रम के तहत् बुजुर्ग नागरिकों को कोविड-19 से बचाव हेतु जागरूक करने और सोशल तथा फिजिकल दूरी का पालन करते हुए सैनिटाइजर का प्रयोग व समय-समय पर हाथ धुलाई के लिए प्रेरित किया जा रहा है। युवाओं द्वारा बस्तर के गांवों में कोविड-19 से सुरक्षा के लिए घर-घर लोगों को जागरूक किया जा रहा है। कलेक्टर रजत बंसल ने भी युवा वॉलिन्टियरों को जागरूकता कार्यक्रम के लिए अपनी शुभकामनाएं दी है।

26-08-2020
दंतेवाड़ा के 526 माओवादियों की हुई पहचान, वर्राटू अभियान जारी

दंतेवाड़ा। जिले में 526 माओवादियों की पहचान की गई है। सभी की पहचान थानेवार की गई है। सक्रिय माओवादी जिला दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा के मूल निवासी है। माओवादियों की पहचान कर उन्हें आत्मसमर्पण कर समाज के मुख्य धारा में जोड़ने के उद्देश्य से वर्राटू नामक योजना चलाई गई है। इसमें गाँव-गाँव में जाकर माओवादियों के पोस्टर लगाए जाते हैं। उन्हें आत्मसमर्पण के लिए प्रेरित किया जाता है।

16-08-2020
Video: गलवान घाटी में शहीद गणेशराम कुंजाम के परिजनों का सम्मान

रायपुर। दुर्गा प्रसाद प्रेमा मिश्रा स्मृति सेवा संस्थान की ओर से गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प में शहीद हुए बस्तर के गणेशराम कुंजाम के परिजनों को स्मृति चिन्ह सम्मान प्रदत्त किया। संस्था के अध्यक्ष सृजन मिश्रा ने बताया कि इसके पहले भी संस्था की ओर से महिलाओं को कोरोना वारीयर के रूप में सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा कि हमें गर्व है कि हमारे देश में ऐसे माता-पिता और ऐसे जाँबाज बेटे हैं जिनकी वजह से आज हम भारतवासी सुरक्षित महसूस करते हैं।

देश के सैनिकों पर गर्व है जो हंसते-हंसते बिना किसी बात की परवाह किए अपने देश के लिए शहीद हो जाते हैं। जिस प्रकार चीन की ओर से यहां घृणित कार्य किया गया है,जिसमें हमारे कई सैनिक घायल और शहीद हुए थे। उन्होंने भारत की मिट्टी और भारत के लोगों के लिए सुरक्षा के लिए अपनी जान दी। संस्था सभी को ससम्मान नमन करती है।

 

16-08-2020
बस्तर की संस्कृति को लोगों तक पहुंचाने का माध्यम बनेगा धनकुल रिसॉर्ट : सोरी 

कोंडागांव। संसदीय सचिव एवं विधायक कांकेर शिशुपाल सोरी ने धनकुल एथेनिक ईको रिसॉर्ट में  गढ़कलेवा का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि बस्तर की जनजातीय संस्कृति अपने आप में अनुठी है। जिसका अध्ययन करने देश-विदेश से प्रबुद्ध लोग बस्तर आया करते थे परंतु विगत कुछ सालों से माओवाद के दंश से पर्यटकों का बस्तर प्रवास कम हो गया है। ऐसे में नगर के निकट इस प्रकार के ईको एथेनिक रिसॉर्ट के निर्माण से ना सिर्फ आने वाले पर्यटकों अपितु नगर के निवासियों को बस्तर की विविधता पूर्ण संस्कृति को निकट से जानने का अवसर प्राप्त होगा। साथ ही उन्होने कहा कि यह रिसॉर्ट अपने आप में अनोखी विशेषताएं समेटे हुए है। एक ओर इसमें ग्रामीण परिवेश में रह कर लोगों को संस्कृति को निकट से जानने का अवसर प्राप्त होगा वहीं दूसरी ओर उन्हें स्थानिय पारम्परिक व्यंजनों का उचित दर पर स्वाद भी प्राप्त होगा। 

इस अवसर पर सोरी ने कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक के साथ ठेठरी, अनरसा, बड़ा, मुररा लड्डू, चैसेला, चीला जैसे व्यंजनों का आनन्द लिया। यहां गढ़कलेवा में खाजा, बीड़िया, पिडीया, देहरौरी, पपची, ठेठरी, खुर्मी, ननकी या अदौरी बरी, रखिया बरी, कांहरा बरी, मुरई बरी, उड़द दाल, मूंग दाल और साबूदाना के पापड़ मसाला युक्त मिर्ची, बिजौरी, लाइबरी जैसे 22 तरह के स्थानीय पारम्परिक व्यंजनों का विक्रय उचित दर पर स्वसहायता समूह द्वारा किया जायेगा।

10-08-2020
वनाधिकार मिलने से वनांचल के परिवारों की संवरी जिन्दगी

रायपुर। वनभूमि में वर्षों से काबिज लोगों को वनाधिकार पत्र मिलने से बस्तर के अनेक गरीब परिवारों की जिंदगी संवर गई है। छत्तीसगढ़ शासन ने वन क्षेत्रों में वन भूमि पर काबिज लोगों की भलाई के लिए गये संवेदनशील निर्णयों के कारण लंबे समय तक इस भूमि में काबिज होकर महतारी की सेवा कर अपने कुटूम्ब का भरण-पोषण कर रहे भूमि पुत्रों को आखिरकार जंगल जमीन का मालिकाना हक मिल ही गया है। इससे वन भूमि के स्वामित्व को लेकर उनकी चिंता दूर हुई है, अब वे निश्चिंत होकर अपनी मेहनत से इस जमीन में सोना उगा रहे हैं।इस योजना के फलस्वरूप बस्तर जिले के तोकापाल अनुविभाग के कुल 11 हजार 552 हितग्राहियों को वनाधिकार पत्र मिलने से यह जमीन उनके परिवार के लिए खुशहाल जीवन और अतिरिक्त आय का जरिया बन गया है। तोकापाल राजस्व अनुविभाग के अन्तर्गत तहसील तोकापाल में व्यक्तिगत वनाधिकार पत्र के अन्तर्गत 2 हजार 719 और सामुदायिक वनाधिकार पत्र के अन्तर्गत 623 सहित विकासखण्ड में कुल 3 हजार 342 हितग्राहियों को वनाधिकार पत्र वितरित किया गया है। इसी तरह दरभा विकासखण्ड में व्यक्तिगत वनाधिकार पत्र के अन्तर्गत 6 हजार 763 और सामुदायिक वनाधिकार पत्र के अनतर्गत 434 सहित कुल 7 हजार 197 हितग्राहियों को वनाधिकार पत्र वितरित किया गया है।

इसी तरह बास्तानार विकासखण्ड में व्यक्तिगत वनाधिकार पत्र के अन्तर्गत 734 एवं सामुदायिक वनाधिकार पत्र के अन्तर्गत 279 सहित विकासखण्ड में कुल 1 हजार 013 हितग्राहियों को वनाधिकार पत्र वितरित किया गया है। इस तरह से शासन के इस निर्णय के फलस्वरूप तोकापाल राजस्व अनुविभाग में कुल 11 हजार 552 हितग्राहियों को इस योजना से लाभान्वित हुए हैं।छत्तीसगढ़ सरकार के इस निर्णय की सराहना करते हुए इस योजना से लाभान्वित हितग्राहियों ने इसे किसान, मजदूर और जन हितैषी कदम बताया है। उन्होंने इसके लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली छत्तीसगढ़ सरकार को हृदय से धन्यवाद ज्ञापित किया है। राज्य शासन के निर्णय के फलस्वरूप वनाधिकार पत्र मिलने से प्रसन्न तोकापाल विकासखण्ड के ग्राम माड़वा के आदिवासी किसान गागरा, पूरन एवं रामसिंह ने कहा कि उन्हें इस जंगल जमीन का मालिकाना हक मिलने से उनके परिवार का वर्षों पुराना सपना साकार हुआ है।

उन्होंने कहा कि इस जमीन के माध्यम से उन्हें सुखमय जीवन का सहारा मिल गया है। तोकापाल विकासखण्ड के ग्राम कंरजी के आदिवासी किसान त्रिलोचन ने कहा कि उनके परिवार के लिए वर्षों से काबिज इस जंगल जमीन का पट्टा मिलने से उसके परिवार की सबसे बड़ी चिंता दूर हुई है। तोकापाल विकासखण्ड के ग्राम कंरजी के आदिवासी महिला निरबत्ती ने कहा कि उनके लिए यह जंगल जमीन हर तरह से फायदेमंद है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने हम जैसे अनेक जरूरतमंद लोगों को इस जमीन का मालिकाना हक देकर सहारा प्रदान किया  है ।

07-08-2020
बस्तर की सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और पुरातात्विक विरासत को सहेजने मुख्यमंत्री से संग्रहालय की मांग

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से बस्तर संभाग के कोया-कुटमा समाज के सदस्यों ने चित्रकोट विधायक राजमन बेन्जाम के साथ मुलाकात की। मुख्यमंत्री बघेल से कोया-कुटमा समाज के सदस्यों ने संभाग स्तरीय सामाजिक सामुदायिक भवन और बस्तर की सांस्कृतिक, पारम्परिक नृत्यों, शिल्प कलाओं, ऐतिहासिक धरोहरों और पुरातात्विक विरासतों को सहेजने के लिए संग्रहालय की मांग की। भूपेश बघेल ने उनकी इस मांग पर विचार का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री बघेल ने समाज के सदस्यों से बस्तर में वर्षा जल की उपलब्धता की जानकारी ली साथ ही बोधघाट बहुउद्देश्यीय परियोजना से किसानों और आमजनों को होने वाले लाभ से भी अवगत कराया। उन्होंने बताया कि यह परियोजना पूर्णत: किसान हित में होगी जिससे वर्ष भर पानी की उपलब्धता बनी रहेगी और कृषि कार्यों के लिए वर्षा जल पर निर्भरता कम होगी।  इस अवसर पर उद्योग मंत्री कवासी लखमा, बस्तर सांसद दीपक बैज, विधायक चित्रकोट राजमन बेंजामन, कोया-कुटमा समाज के संभागीय अध्यक्ष समारू कर्मा, प्रदेश महासचिव कांग्रेस रुक्मणी कर्मा, जिलाध्यक्ष कांग्रेस बलराम मौर्य एवं सदस्य उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804