GLIBS
23-09-2021
मुख्यमंत्री ने साहित्यकार हरिहर वैष्णव के निधन पर जताया शोक

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बस्तर के मूर्धन्य साहित्यकार हरिहर वैष्णव के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि यह साहित्य जगत के लिए एक अपूरणीय क्षति है। स्व. हरिहर वैष्णव ने बस्तर के लोक साहित्य की समृद्ध विरासत को सहेजने में अपना जीवन समर्पित कर दिया। मुख्यमंत्री बघेल ने ईश्वर से उनकी आत्मा की शान्ति और परिजनों को दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है। ज्ञातव्य है कि वैष्णव बस्तर के लोक साहित्यकार थे। उन्होंने जनजातियों में प्रचलित कहानियों, गीतों को लिपिबद्ध किया। हिंदी के साथ ही बस्तर की स्थानीय बोलियों, हल्बी, भतरी में भी उन्होंने साहित्य का सृजन किया।

23-09-2021
डॉ. रमन सिंह पर कवासी लखमा ने साधा निशाना, कहा...

रायपुर। आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि 15 साल के कार्यकाल में डॉ. रमन ने केवल हैलीकॉप्टर से यात्रा ही की है। वहीं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के कार्यकाल में आज बस्तर में शांति है, नेता कार से यात्रा कर रहे हैं। डॉ. रमन सिंह पर वार करते हुए कवासी लखमा ने कहा कि डॉ. रमन सिंह पहले झोलाछाप डॉक्टर थे, फिर मुख्यमंत्री बने। भूपेश बघेल आदिवासियों, किसान, मजदूरों के लिए काम करने वाले मुख्यमंत्री है। आने वाले चुनाव में 1 भी सीट भाजपा को नहीं मिलेगी।

13-09-2021
देश के सबसे बड़े टूरिज्म फेयर में बस्तर बना आकर्षण का केन्द्र, मिला द मोस्ट प्रॉमिसिंग न्यू डेस्टिनेशन का अवार्ड

रायपुर। देश के सबसे बड़े टूरिज्म ट्रेड फेयर में बस्तर को ‘द मोस्ट प्रॉमिसिंग न्यू डेस्टिनेशन’ अवार्ड से सम्मानित किया गया। यह अवार्ड सोमवार को कोलकाता में आयोजित टूरिज्म फेयर में बस्तर के सहायक कलेक्टर सुरूचि सिंह के नेतृत्व में पर्यटन प्रतिनिधिमंडल ने लिया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू ने पर्यटन विभाग के सभी अधिकारियों और जिला प्रशासन बस्तर को इसके लिए बधाई और शुभकामनाएं दी है।
कोलकाता के नेताजी स्टेडियम में इस महीने की 10 से 13 सितंबर तक आयोजित टीटीएफ मेले में विश्वस्तरीय पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित हो रहा बस्तर विशेष आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। इस मेले में लगाए गए स्टॉल में बस्तर के पर्यटन, संस्कृति एवं कलाकृतियों का प्रदर्शित किया गया है। मेले में देश-दुनिया से कलकत्ता पहुंचे टूर प्लानर और ट्रेवल एजेंट्स को ‘द मोस्ट प्रॉमिसिंग न्यू डेस्टिनेशन’ पर प्रेजेंटेशन भी दिया गया। ट्रेवल प्लानरों और एजेंटों को बस्तर आने का न्यौता भी दिया गया। इस मेले में आमचो बस्तर पर्यटन व स्थानीय कला संस्कृति को प्रदर्शित करने के लिए बस्तर जिला प्रशासन से आमचो बस्तर पर्यटन समिति से चौदह सदस्यीय टीम शामिल हुए। इन सदस्यों को प्रमुख पर्यटन स्थलों चित्रकोट, तीर्था, बीजाकासा, कोसरटेड़ा, मादरकोंटा, महेन्द्रीघूमर, तामड़ाघूमर, मिचनार, तीरथगढ़, टोपर, माँझीपाल समेत अन्य पर्यटन स्थलों से चुना गया था।
उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर देश-विदेश के सैलानियों को आकर्षित करने और बस्तर की कला संस्कृति को पर्यटन नक्शे पर पर उभारने के लिए विशेष कार्ययोजना तैयार की गई है। बस्तर अंचल के सभी प्रमुख पर्यटन स्थलों को सर्वसुविधायुक्त बनाया जा रहा है। बस्तर में पर्यटन रोजगार ट्रेनिंग, पर्यटक ट्रेकिंग, रैपलिंग, पैरामोटर, कैंपिंग, बस्तरिया व्यंजनों की उपलब्धता, टूरिस्ट गाइड सुविधा, एसटीएफ कैम्प, कोसारटेंडा बांध, इको रिसोर्ट समेत अनेक पर्यटक स्थलों का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है।

29-08-2021
भाजपा को जब बस्तर की चिंता करना था तब कमीशनखोरी-भ्रष्टाचार में मस्त थे : कांग्रेस

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि सत्ता जाने के बाद भाजपा का बस्तर में चिंतन शिविर आयोजित करना महज एक राजनीतिक नौटंकी है। बस्तर वासियों को पता है यही वह भाजपा है जिन्होंने 15 साल तक उन्हें प्रताड़ित और शोषित करने काम किया है। आरएसएस भाजपा मोदी के मित्रों को बस्तर के खनिज संपदा जल जंगल जमीन और नगरनार संयंत्र को कैसे सौपे इसको लेकर चिंता कर रही है। आरएसएस भाजपा में थोड़ी बहुत भी नैतिकता बाकी होगी,शर्म बाकी होगी तो उन्हें बस्तर के चिंतन शिविर में छत्तीसगढ़ के नगरनार संयंत्र, एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन सहित सरकारी उपक्रमों को,जो मोदी सरकार ने बेचने की नीति तय की है,उसके खिलाफ संकल्प पारित करना चाहिए।
धनंजय ने कहा है कि जब छत्तीसगढ़ की जनता ने भाजपा को सत्ता सौंपी तब भाजपा 15 साल तक कमीशनखोरी भ्रष्टाचार करने में मशगूल रही है।

बस्तरवासी रमन सरकार के दौरान नरकीय जीवन जीने मजबूर थे। उस दौरान बस्तर के आदिवासियों वनवासियों के जल जंगल जमीन पर कब्जा करना भाजपा का मुख्य एजेंडा रहा है। आदिवासियों वनवासियों को मिले कानूनी अधिकार का भी हनन किया गया। निर्दोष आदिवासियों को नक्सली बताकर जेल में बंद किया गया,झूठे मामलों में फंसाया गया। आदिवासी बेटियों के साथ दुष्कर्म की अनेक घटनाएं भी हुई। अनैतिक तरीके अपनाकर प्रताड़ित किया गया। अनेक प्रकार से यातनाएं दी गई। शोषण किया गया । बस्तर के विकास को बाधित किया गया। बस्तर विकास प्राधिकरण में बस्तर के जनप्रतिनिधियों को अधिकार नहीं दिया गया। बिजली सड़क पानी रोजगार के ओर ध्यान नही दिया गया।

21-08-2021
आटो चोरी करने वाले तीन चोरों को पुलिस ने ओडिशा से पकड़ा

जगदलपुर। शहर में तीन माह पूर्व कुम्हारपारा इलाके से हुए आटो चोरी के मामले में बस्तर पुलिस ने ओडिशा के तीन चोरों को गिरफ़्तार किया है। ये आरोपी सिमीलीगुड़ा रहने वाले हैं। आरोपियों को न्यायालय में पेश कर जेल रवाना किया गया। कोतवाली निरीक्षक एमन साहू ने बताया कि 25 मई को कुम्हारपारा से आटो क्रमांक-सीजी17 केएस 7562 की वाहन को गायब हो गया था। प्रार्थियां कंचन विश्वकर्मा ने इसकी रिपोर्ट की थी। इसके बाद पुलिस ने अज्ञात अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया था। इसी दौरान जानकारी प्राप्त हुई कि आटो को कुछ संदिग्ध व्यक्तियों के कब्जे में धनपुंजी क्षेत्र में देखा गया है। पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने एक टीम गठित कर कार्यवाही के लिए रवाना किया। टीम ने धनपुंजी में 3 संदिग्ध व्यक्तियों की पहचना कर घेराबंदी कर पकड़ा। पूछताछ करने पर अपना नाम मलिक हनतल, हेमंत जयपुरिया, महेश कुलदीप निवासी सिमीलीगुड़ा कोरापुट का होना बताया। इनके कब्जे से चोरी की आटो बरामद की। पूछताछ पर तीनों ने आटो को चोरी करना स्वीकार किया। पुनः अपराध की नियत से छत्तीसगढ़ और ओडिशा की सीमा पर आना बताया। 

 

15-08-2021
भारी बारिश और बिजली गिरने के आसार, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

रायपुर। छत्तीसगढ़ में सोमवार को बारिश और बिजली गिरने के आसार हैं। मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने पूर्वानुमान जारी किया है। उन्होंने कहा है कि मानसून द्रोणिका हिमालय की तराई में स्थित है। एक उत्तर-दक्षिण द्रोणिका झारखंड से पश्चिम मध्य बंगाल की और दक्षिणी तटीय उड़ीसा तक 1.5 किलोमीटर ऊंचाई पर स्थित है। एक ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी और दक्षिणी तटीय उड़ीसा के ऊपर 3.1 किलोमीटर से 7.6 किलोमीटर ऊंचाई तक स्थित है। इसके प्रभाव से 15 अगस्त को बस्तर संभाग के अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है। एक दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ भारी वर्षा होने की संभावना है। इसी तरह 16 अगस्त को प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है। गरज-चमक के साथ छींटे भी पड़ सकते हैं। प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज- चमक के साथ आकाशीय बिजली गिरने और भारी वर्षा होने की संभावना है। अधिकतम तापमानों में गिरावट संभावित है। भारी वर्षा का क्षेत्र मुख्यतः दक्षिण छत्तीसगढ़ रहने की संभावना है।

23-07-2021
राजीव भवन में मनाई गई चन्द्रशेखर आजाद, बालगंगाधर तिलक की जयंती और बिसाहू दास महंत की पुण्यतिथि

जगदलपुर। बस्तर जिला कांग्रेस कमेटी शहर की ओर से चन्द्रशेखर आजाद, बालगंगाधर तिलक की जयंती और बिसाहू दास महंत की पुण्यतिथि राजीव भवन में सादगी व गरिमा के साथ मनाई गई। सर्वप्रथम जिलाध्यक्ष राजीव शर्मा ने उनके छायाचित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांसुमन अर्पित की। इसके बाद उनके जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि क्रांतिकारी चन्द्रशेखर आजाद का जन्म 23 जुलाई 1906 को उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में हुआ इनका वास्तविक नाम चन्द्रशेखर सीताराम तिवारी था। चन्द्रशेखर आजाद का प्रारंभिक जीवन आदिवासी बाहुल क्षेत्र भावरा गांव में व्यतीत हुआ। भील बालकों के साथ रहते रहते चन्द्रशेखर आजाद ने धनुष बाण चलाना सिख चुके थे। इनकी माता जगरानी देवी उन्हें संस्कृति का विद्वान बनाना चाहती थी तथा उन्हें संस्कृति सीखने के लिए काशी विद्यापीठ बनारस भेजा गया। दिसम्बर 1921 में जब गांधी जी की ओर से असहयोग आंदोलन की शुरुआत की गई उस समय मात्र 14 वर्ष की उम्र में ही आजाद ने इस आंदोलन में भाग लिया। परिणामस्वरूप उन्हें गिरफ्तार कर मजिस्ट्रेड के समक्ष उपस्थित किया गया।

जब मजिस्ट्रेड ने उनसे नाम पूछा तो उन्होंने अपना नाम आजाद और पिता का नाम स्वतंत्रता बताया। यहीं से चन्द्रशेखर सीताराम तिवारी का नाम चन्द्रशेखर आजाद पड़ गया। महामंत्री अनवर खान ने कहा कि बालगंगाधर तिलक को भारतीय स्वतंत्रता का जनक कहा जाता है। वे बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह एक समाज सुधारक, स्वतन्त्रता सेनानी, राष्ट्रनेता के साथ—साथ भारतीय इतिहास, संस्कृति, हिन्दु, धर्म, गणित और भूगोल विज्ञान जैसे विषयों के विद्वान थे। बालगंगाधर तिलक लोकमान्य के नाम से भी जाने जाते थे। इनका जन्म 23 जुलाई 1856 को महाराष्ट्र के रत्नागिरी के चितपावन ब्रह्मण्ड कुल में हुआ। तिलक एक प्रतिभाशाली विद्यार्थी थे और गणित से उन्हें खास लगाव था। उनकी शिक्षा दीक्षा पुणे के एंग्लो वर्नाकुलर स्कूल में हुई। 16 वर्ष की उम्र में माता पिता का साया सर से उठ चुका था। स्नातक होने के बाद एक प्राइवेट स्कूल में गणित पढ़ाया करते थे और उसके बाद पत्रकार बन गए। बालगंगाधर तिलक 1890 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से जुड़े तथा एक आंदोलनकारी शिक्षक के साथ—साथ एक समाज सुधारक भी थे। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ कांग्रेसी सतपाल शर्मा ने किया, जिसमें कांग्रेस के पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे।

15-07-2021
बस्तर में बापी न उवाट जाने दादी के नुस्खे एक अनोखी पहल की है भूपेश बघेल सरकार ने

रायपुर। दादी-नानी के पास बच्चों के अच्छे लालन-पालन के लिए न सिर्फ अनुभव का खजाना होता है बल्कि वह प्यार-मनुहार से बच्चों से हर छोटी-छोटी बात मनवा लेती है। आदिवासी और नक्सल प्रभावित क्षेत्र दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा में बुजुर्ग महिलाओं के इन्हीं ममत्व, अनुभव और ज्ञान का उपयोग मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए किया जा रहा है। यहां यूनिसेफ के सहयोग से स्थानीय बोली में ‘बापी न उवाट‘ अर्थात ‘जाने दादी के नुस्खे‘ के नाम से एक अभिनव पहल की गयी है। इसमें गांव की बुजुर्ग महिलाओं के माध्यम से लोगों को कुपोषण मुक्त और स्वस्थ बनाने की मुहिम शुरू की गई है। दिसंबर 2020 में शुरू किए गए इस अभियान से दंतेवाड़ा के 239 गांव की बापियो यानि बुजुर्ग महिलाओं को जिला प्रशासन से सुपोषण अभियान से जोड़ा गया है। अब ये बुजुर्ग महिलाएं (बापियां) दंतंवाड़ा में मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान की ब्रांड एंबेसेडर बन चुकी है।

11-07-2021
बस्तर पुलिस ने चलाया वाहन चेकिंग अभियान, चार पहिया वाहनों की डिक्की खोल कर ली तलाशी

जगदलपुर। बस्तर पुलिस एक बार फिर से एक्शन मोड़ में आ गई है।  रविवार को परपा थाना क्षेत्र में पुलिस ने शाम से चेकिंग अभियान शुरू किया। इसमें पुलिस को जो वाहन संदिग्ध लगे, उन वाहन की डिक्की तक खोलकर चेकिंग की। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ओपी शर्मा ने बताया कि पुलिस की ओर से अभियान लगातार चलाया जाएगा। इसमें 3 सवारी से लेकर, अवैध शराब, गांजा, अन्य संदिग्ध सामानों का परिवहन करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। बता दें कि बस्तर में इन दिनों ओडिशा, सुकमा, एमपी, राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा के अलावा अन्य जगहों से वाहनों का आना जाना लगा हुआ है। पुलिस सुरक्षा के तौर पर जो भी वाहन संदिग्ध लगे उन वाहनों के ड्राइवर का लाइसेंस, मोबाइल नंबर, आधार कार्ड के साथ ही वाहनों की डिक्की आदि को खोलकर चेकिंग के बाद ही छोड़ रही है। परपा में आज 10 वाहनों के पर कार्यवाही की गई। ये बिना लाइसेंस के वाहन चला रहे थे। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804