GLIBS
04-12-2019
राजनाथ सिंह ने चीनी घुसपैठ पर लोकसभा में कहा, हमारे सैनिक भी उधर चले जाते हैं

नई दिल्ली। लोकसभा में बुधवार को कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के सवाल का जवाब देते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन से लगी सीमा को लेकर दोनों देशों के बीच कई जगहों पर अभी भी भ्रम की स्थिति है। कभी-कभी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) इधर आती है तो कई बार हमारे सैनिक भी उधर चले जाते हैं। रक्षा मंत्री ने लोकसभा में कहा कि सीमा सुरक्षा को लेकर मैं पूरे देश को आश्वस्त करना चाहता हूं। एलएसी को लेकर दोनों ही देशों के सैनिकों के बीच भ्रम की स्थिति है। यही कारण है कि चीन की पीएलए कई बार इधर आ जाती है और कई बार भारतीय सैनिक उनके देश में चले जाते हैं। उन्होंने कहा कि सीमा की सुरक्षा को लेकर चीन से किसी भी विवाद से निपटने के लिए हमारे सैनिक पूरी तरह से तैयार हैं।

उन्होंने बताया कि सीमा विवाद को देखते हुए दोनों देशों की सेनाओं के बीच अक्सर मीटिंग होती रहती है। चीन से सीमा विवाद को दूर करने के लिए हमारे पास पर्याप्त मैकेनिज्म है। हमारे सैनिक चीन की सेना का मुंहतोड़ जवाब देने को तैयार हैं। रक्षा मंत्री ने बताया कि सरकार भारतीय सीमा पर सुरक्षा को मजबूत करने के लिए एयर, रेल और रोड कनेक्टिविटी को लगातार मजबूत कर रही है। उन्होंने कहा कि हम टनल का भी निर्माण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश है कि हम कनेक्टिविटी को इतना मजबूत कर दें, जिससे किसी भी खतरे की स्थिति में सेना का मूवमेंट तेजी से किया जा सके।

 

18-11-2019
भारतीय सैनिक हटाए जाएंगे कालापानी से : केपी शर्मा ओली

नई दिल्ली। नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने रविवार को भारत से कालापानी इलाके से अपने सैनिकों को वापस बुलाने को कहा। उन्होंने कहा, नक्शा कोई भी छाप लेता है। बात इसमें सुधार की नहीं, अतिक्रमण की है। नेपाल दूसरों की जमीन पर एक इंच अतिक्रमण नहीं करेगा और अपने क्षेत्र का एक इंच हिस्सा दूसरों को नहीं देगा। हम भारतीय सुरक्षाबलों को कालापानी से हटाएंगे। नेपाल की जमीन पर नेपाली सेना रहेगी। सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) की शाखा, नेशनल यूथ एसोसिएशन की पहली बैठक को संबोधित करते हुए ओली ने कहा, हम नेपाल की हर इंच भूमि की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं। सरकार देश की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करने में सक्षम है। देश की सीमा पर दशकों से अतिक्रमण किया गया है, पर एनसीपी की अगुवाई वाली सरकार जल्द अपनी जमीन वापस लेने के प्रयास करेगी। ओली ने कहा, नेपाल अपने कब्जे वाले क्षेत्र से विदेशी सैनिकों को हटाने में सक्षम है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इस समस्या का हल आपसी बातचीत से निकाला जा सकता है।

भारतीय दूतावास के आगे प्रदर्शन
दरअसल जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन के बाद भारत ने देश का अपडेटेड राजनीतिक नक्शा जारी किया था। नेपाल लिम्पियाधुरा, कालापानी और लिपुलेक को भारतीय सीमा में शामिल करने का विरोध कर रहा है। नेपाली कांग्रेस के जुड़े संगठन नेपाल विद्यार्थी संघ ने रविवार को लैनचौर स्थित भारतीय दूतावास के समक्ष प्रदर्शन किया। इन लोगों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

22-10-2019
पुंछ के मेंढर सेक्टर में नापाक फायरिंग, 12 स्कूली बच्चों की जान सांसत में

श्रीनगर। पाकिस्तान की ओर से एक बार फिर भारतीय सीमा को निशाना बनाते हुए फायरिंग की जा रही है। पाकिस्तान ने पुंछ के मेंढर सेक्टर में सीजफायर का उल्लंघन करते हुए फायरिंग शुरू की। फायरिंग में सरकारी स्कूल के 12 बच्चों के फंसे होने की खबर है। भारतीय सुरक्षा बल इन बच्चों को सुरक्षित निकालने का प्रयास कर रहे हैं। भारतीय सुरक्षाबल भी लगातार पाकिस्तान की फायरिंग का जवाब दे रहे हैं। जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान की ओर से एक बार फिर भारतीय सीमा पर फायरिंग तेज कर दी गई है। रात 9 बजे से ही पाकिस्तान की ओर से हीरानगर सेक्टर को निशाना बनाते हुए फायरिंग की जा रही थी। हीरानगर में रहने वाले लोगों के मुताबिक फायरिंग करीब एक बजे तक चली थी। इसके बाद सुबह से ही पाकिस्तान भारत के अलग-अलग बॉर्डर को निशाना बनाते हुए हमला कर रहा है। अभी की जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान की ओर से पुंछ के मेंढर सेक्टर में मोर्टार से हमला किया जा रहा है। भारतीय सुरक्षा बल भी पाकिस्तान की फायरिंग का जवाब दे रहे हैं। बताया जाता है कि दोपहर में जब पाकिस्तान की ओर से फायरिंग शुरू की गई। उस वक्त बच्चों के स्कूल की छुट्टियां हुईं थीं। फायरिंग के कारण 12 बच्चे बीच में ही फंस गए। बच्चों को सुरक्षित बाहर निकालने का प्रयास जारी है।

22-10-2019
भारतीय सीमा में घुसे दो पाकिस्तानी नागरिक, मछुआरों को किया बीएसएफ ने गिरफ्तार

नई दिल्ली। सीमा सुरक्षाबल (बीएसएफ) ने दो पाकिस्तानी नागरिकों को गिरफ्तार किया है जो घूमते हुए भारतीय सीमा में दाखिल हो गए थे। उनके पास से दो मोबाइल फोन, पाकिस्तानी सिम और पहचान पत्र बरामद हुए। इन नागरिकों की पहचान सैफ और तलीफ के रूप में हुई है जिला ओकारा पाकिस्तान के रहने वाले है। वहीं, बीएसएफ ने बीती देर शाम गुजरात के कच्छ तट के पास ‘हरामी नाले’ से दो पाकिस्तानी नागरिकों को मछली पकड़ने वाली नौका के साथ पकड़ लिया। अधिकारियों ने बताया कि बीएसएफ के कर्मी पाकिस्तान से लगती भारतीय समुद्री सीमा के पास सर क्रीक क्षेत्र में गश्त कर रहे थे। उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी नागरिकों ने अपनी नौका छोड़कर भागने की कोशिश की, लेकिन उन्हें पकड़ लिया गया। शुरुआती तौर पर वे ‘मछुआरे’ प्रतीत होते हैं। अधिकारी ने कहा, हरामी नाला क्षेत्र में जब दो पाकिस्तानी नागरिकों ने अपनी नौका छोड़कर भागने की कोशिश की तो उन्हें पकड़ लिया गया। उन्होंने बताया कि उन्हें शाम करीब साढ़े पांच बजे पकड़ा गया और उनकी नौका को जब्त कर लिया गया। अधिकारी ने बताया कि बीएसएफ ने घटना के बाद व्यापक खोज अभियान चलाया तथा मामले की जांच की जा रही है। इससे कुछ दिन पहले ही बीएसएफ की एक टीम ने इसी इलाके से पाकिस्तान की पांच मछली पकड़ने वाली नौकाएं जब्त की थीं।

10-10-2019
पाकिस्तान ने फिर भेजा भारतीय सीमा में ड्रोन, लोगों ने किया क्रैश होने का दावा

नई दिल्ली। भारत पाकिस्तान सीमा से सटे पंजाब के फिरोजपुर में एक बार फिर पाकिस्तानी ड्रोन दिखे हैं। झुंझारा हजारा सिंह वाला के सीमावर्ती गांव में ग्रामीणों ने गुरुवार सुबह दो ड्रोन देखे गए। स्थानीय लोगों के अनुसार ड्रोन गांव के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गए है। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और पुलिस ड्रोन की तलाश कर रही है। बीते कुछ दिनों में कई बार पाकिस्तानी ड्रोन देखे गए हैं। इससे पहले इसी हफ्ते सोमवार रात पंजाब के हुसैनीवाला सेक्टर में दो पाकिस्तानी ड्रोन भारतीय सीमा में घुसे थे। यह संदिग्ध ड्रोन बस्ती रामलाल की बॉर्डर आउट पोस्ट और हुसैनीवाला की एचके टावर पोस्ट के करीब देखे गए और एक किलोमीटर की ऊंचाई पर उड़ रहे थे। बीएसएफ से जुड़े सूत्रों के मुताबिक यह ड्रोन कड़ी चौकसी के चलते वापिस पाकिस्तान की तरफ मुड़ गए और कुछ ही देर बाद उनकी आवाज भी बंद हो गई। हालांकि पुलिस का दावा है कि यह ड्रोन भारतीय सीमा में कोई भी संदिग्ध वस्तु गिराने में नाकाम रहे। बीएसएफ ने लगातार दूसरे दिन मंगलवार सुबह भी सीमावर्ती क्षेत्र में पाकिस्तान ड्रोन के घुसने की सूचना दी थी। हालांकि पुलिस ने कोई ड्रोन बरामद नहीं किया। और अब फिर से ड्रोन के भारतीय सीमा में घुसने की खबर है। हालांकि स्थानीय लोगों का दावा है कि ड्रोन गांव के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गए हैं। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और पंजाब पुलिस अब ड्रोन की तलाश में जुट गई हैं। पाकिस्तान से सटी सीमा पर आधुनिक उपकरणों के जरिए पाकिस्तानी ड्रोन पर नजर रखी जा रही है। वहीं पुलिस ने एयरपोर्ट्स और वायु सेना क्षेत्र के आसपास ड्रोन के इस्तेमाल पर पाबंदी लगा दी है। लोगों को ड्रोन के इस्तेमाल को लेकर दिशा-निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं। ड्रोन को लेकर जारी निर्देश के तहत पुलिस और सेना के अधिकारी लोगों को पहले ही आगाह कर चुके हैं कि अनाधिकृत ड्रोन का इस्तेमाल किए जाने पर न केवल उसे गिरा दिया जाएगा बल्कि इस्तेमाल करने वाले के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

15-10-2018
Indian border : चीन ने की भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश 
अरुणाचल में घुसे सैनिक तो लद्दाख में हेलीकॉप्टर्स ने किया वायु सीमा का अतिक्रमण
12-09-2018
Infiltration : चीनी सैनिकों ने की भारतीय सीमा में घुसपैठ, आईटीबी के प्रबल विरोध के बाद वापस लौटे 

नई दिल्ली। चीन ने उत्तराखंड के बाराहोती में 6 अगस्त, 14 अगस्त और 15 अगस्त को घुसपैठ की थी।  इस दौरान चीन की सेना पीपुल लिबरेशन आर्मी के सैनिक और कुछ सिविलियन, बाराहोती की रिमखिम पोस्ट के नजदीक दिखाई दिए थे। ये बातें एक  रिपोर्ट के बाद सामने आई हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी सैनिक करीब 4 किलोमीटर तक भारतीय सीमा के अंदर घुस आए थे। जब 15 अगस्त को हमारा देश आजादी की सालगिरह मना रहा था तब चीनी सैनिक भारतीय सीमा में घुसपैठ कर रहे थे।  आईटीबीपी के कड़े विरोध के बाद चीन के सैनिक और उनके नागरिक वापस गए थे।

विवादित सीमा पर अक्सर दिखाते हैं हेकड़ी:

चीन की सेना के जवान अक्सर हमारी सीमाओं में अंदर घुस आया करते हंै। कई बार तो ये महीनों तक यहीं रुक जाते हैं। चीन की विस्तारवादी नीतियों के चलते ऐसी समस्याएं अक्सर सामने आती रहती हैं।

चीन और भारत के बीच इससे पहले डोकलाम को लेकर विवाद हो चुका है।  जहां पर 72 दिनों के लिए भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने थीं।  हालांकि, इस विवाद को सुलझा लिया गया था लेकिन इस दौरान माहौल पूरी तरह से गर्म था।  दोनों देशों की सरकारें लगातार बॉर्डर पर शांति की बातें कहती रही हैं, हालांकि जमीन पर तस्वीर कुछ और ही नजर आती है।

भारत को घेरने की लगातार कोशिश में लगा चीन:

भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान को अपना मुरीद बनाने के बाद अब नेपाल को भी चीन ने अपनी ओर मिला लिया है। हमेशा भारत के भरोसे रहने वाला नेपाल आजकल चीनी रणनीतिकारों की कुछ ज्यादा ही सुनने लगा है। उधर श्रीलंका को वो पहले ही अपनी ओर मिला चुका है। ये बातें हम आपको इस लिए बता रहे हैं ताकि आपको चीन की गंदी चालें समझने में सहूलियत हो। ये सब सिर्फ भारत को घेरने के लिए चीन करता जा रहा है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804