GLIBS
25-06-2021
संकरी गली में नर्सिंग होम खुलने का विवाद नहीं थम रहा, सीएमएचओ ने अस्पताल प्रबंधन को नोटिस जारी कर मांगा जवाब

राजिम। संकरी गली में नर्सिंग होम खुलने का विवाद थम नहीं रहा है। यहां के निवासियों का कहना है कि संकरी गली में क्लीनिक संचालित न हो, जबकि गरियाबंद जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने इस मामले में अस्पताल प्रबंधन को नोटिस जारी करके जवाब मांगा है। बता दें कि क्लीनिक स्थापना के लिए छत्तीसगढ़ राजपत्र में प्रकाशित 20 अगस्त 2013 के पृष्ठ क्रमांक 738 (11) के 1.1 में स्थल और आसपास के क्षेत्र के अंतर्गत 1.11 में स्पष्ट निर्देशित है कि क्लीनिक किसी खुली जगह जिसके आसपास स्वच्छता और पर्याप्त पार्किंग स्थान को स्थापित किया जाएगा। क्लीनिक के उपयुक्त भवन के लिए संबंधित नगर पालिका उपविधियों जो समय-समय पर प्रवृत्त हो उसका अनुपालन करना होगा। इस अधिनियम से यह स्पष्ट हो जाता है कि अस्पताल संकरी गली में संचालित नहीं हो सकता। राजिम के वार्ड क्रमांक 1 के निवासियों की भी यही मांग है। क्लीनिक संकरी गली में संचालित न हो जबकि सीएमएचओ ने इस मामले में अस्पताल प्रबंधन को नोटिस जारी करके जवाब मांगा है। इधर अनापत्ति प्रमाण पत्र को लेकर मुख्य नगरपालिका अधिकारी और नगर पंचायत अध्यक्ष के मध्य विवाद की स्थिति बनी हुई है। एक तरफ पालिका अधिकारी का कहना है कि अनापत्ति प्रमाण पत्र देना हमारे अधिकार क्षेत्र में है। दूसरी ओर नगर पंचायत अध्यक्ष एवं पार्षदों का कहना है कि पंचायती अधिनियम के तहत परिषद की अनुमति के बिना अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं दिया जा सकता, जिसका उल्लेख पालिका अधिनियम के तहत धारा 50 में स्पष्ट उल्लेख है। हाईकोर्ट के वकील हर्षवर्धन अग्रवाल ने कहा कि पालिका अधिनियम के तहत कोई भी अनापत्ति प्रमाण पत्र परिषद को विश्वास में लिए बिना पालिका अधिकारी नहीं दे सकते। नगर पंचायत अध्यक्ष, वार्ड पार्षद एवं वार्ड वासियों ने जिलाधीश से मांग करते हुए कहा है कि तत्काल महानदी अस्पताल को अन्यत्र स्थापित करने का आदेश दिया जाए। वार्डवासी अस्पताल की विरोधी नहीं है, लेकिन संकरी गली में अस्पताल खुलने के कारण निवासियों को संक्रमण बीमारियों के डर के साथ-साथ आवागमन एवं स्वच्छता की समस्या हमेशा बनी रहेगी। इससे विवाद की स्थिति भी निर्मित हो सकती है। शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए अस्पताल को अन्यत्र स्थापित करना आवश्यक है। इधर अधिनियम के संबंध में डॉ चंद्रविकास राठौर ने कहा है कि खुली जगह से तात्पर्य होता है कि बेसमेंट या अपार्टमेंट में न चले। कृपया सुप्रीम कोर्ट के विभिन्न निर्देशों को पढ़ें। सफाई स्थानीय प्रशासन का काम है न कि अस्पताल प्रबंधन का। पार्किंग हमारे बेड के हिसाब से पर्याप्त है। किसी भी अस्पताल या झोलाछाप अस्पताल से कई गुना अच्छी सफाई है।

30-05-2021
कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने पर कड़ी कार्रवाई की जाए : कलेक्टर

बीजापुर। कोरोना टास्क फोर्स की बैठक में कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने कंटेनमेंट जोन की सतत निगरानी करने सहित आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराने अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कंटेनमेंट जोन में स्वास्थ्य विभाग के दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन कराने को कहा। कोविड गाइडलाइन का उल्लंघन करने वाले लोगों पर कड़ी कार्रवाई करने और कोरोना जांच एवं टीकाकरण में तेजी लाने के निर्देश दिए। उसूर ब्लाक अंतर्गत स्वास्थ्य केन्द्रों में अतिरिक्त बेड एवं ऑक्सीजन की व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा। इस दौरान सीएमएचओ डाॅ. बीआर पुजारी ने बताया कि उसूर ब्लाक के नरसापुर, नड़पल्ली, जाड़पल्ली छुटवाही गांव में कोरोना के अधिक केस मिले हैं।

वहां के ग्रामीण विगत 8-10 दिनों से सिलगेर के रैली में शामिल हो रहे हैं। नरसापुर में 48 केस मिला वहीं ​ छुटवाही में 17 पाॅजिटिव केस की पुष्टि हुई। नरसापुर पहुंचने के लिए दुर्गम रास्ता से जाना पड़ता है। फिर भी स्वास्थ्य अमला की टीम कठिनाईयों का सामना करते हुए अधिक से अधिक टेस्ट करने का कार्य कर रहे हैं। पूर्व में स्वास्थ्य टीम को गांव में प्रवेश नहीं दिया जा रहा था, लेकिन लोगों की स्वास्थ्य अचानक खराब होने से लोग घबराकर स्वास्थ्य जांच सहित कोरोना जांच करवा रहे हैं। कलेक्टर ने ग्रामीणों से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग कोरोना जांच कराए ताकि सही समय पर आवश्यक उपचार किया जा सकेगा। जांच में कोताही या अनावश्यक विलम्ब न करें।

पाॅजिटिव पाए गए लोगों से दूरी बनाकर रखें। स्वास्थ्य विभाग की ओर से दी जाने वाली परामर्श का पालन करें और दवाईयों का सेवन नियमित रूप से करें।  स्वास्थ्यगत ज्यादा परेशानी आने पर स्वास्थ्य विभाग को सूचित कर कोविड हॉस्पिटल में भर्ती होकर अपना इलाज कराएं। उन्होंने कोविड गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित करते हुए भीड़-भाड़, रैली एवं अन्य समारोह में जाने से बचने का आग्रह किया। कोरोना का संक्रमण बहुत ही खतरनाक है। समय पर इलाज एवं सावधानियां बरतनी आवश्यक एवं 45 वर्ष के ऊपर सभी लोग टीकाकरण कराएं टीकाकरण के बाद भी अगर कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव आता है तो मरीज की स्थिति गंभीर नहीं होती बल्कि सामान्य इलाज से ठीक हो जाएगा। बैठक में डिप्टी कलेक्टर उमेश पटेल, सुमन राज, डीपीएम राजीव मिश्रा, सिविल सर्जन डाॅ. अभय तोमर, सहायक आयुक्त श्रीकांत दुबे, आदिवासी विभाग सहित स्वास्थ्य एवं राजस्व विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

27-05-2021
छत्तीसगढ़ की मदद करने अमेरिका से गौतम बघेल ने बढ़ाया हाथ, सीएमएचओ के बेटे ने दिया 5 लाख रुपए का सहयोग

रायपुर। राज्य सरकार की ओर से कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम और महामारी के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान को सशक्त बनाने के लिए लोग मदद के लिए हाथ बढ़ा रहे हैं। इसी क्रम में वैक्सीन खरीदी के लिए अमेरिका के बोस्टन में बहुराष्ट्रीय कंपनी में इंजीनियर गौतम बघेल ने 5 लाख की राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष में दी है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को इस राशि का चेक गौतम के पिता विष्णु बघेल एवं माता डॉ.मीरा बघेल ने सौंपा। मुख्यमंत्री बघेल गुरुवार सुबह कोरोना से बचाव के लिए टीके की दूसरी डोज लगवाने रायपुर के पंड़ित जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय पहुंचे थे। टीका लगवाने के बाद मुख्यमंत्री को यह चेक दिया गया। बता दें कि डॉ. मीरा बघेल रायपुर जिले की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी हैं। मुख्यमंत्री बघेल ने कोरोना संकट की इस घड़ी में सहयोग प्रदान करने और इस आर्थिक सहायता के लिए गौतम बघेल की सराहना की है। इसके साथ ही उन्होंन गौतम के उज्ज्वल भविष्य की कामना की। इस दौरान संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष कुलदीप जुनेजा, कलेक्टर रायपुर एस. भारतीदासन एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव भी उपस्थित थे।

 

17-05-2021
कोविड केंद्र की समस्याओं के संबंध में महेश गागड़ा ने कलेक्टर से की बात, व्यवस्था को बेहतर करने किया आग्रह

बीजापुर। जिला मुख्यालय स्थित एजुकेशन सिटी में कोविड केंद्र बनाया गया है। इस समय यहां लगभग 60 संक्रमित भर्ती हैं। जानकारी मिली थी कि मरीजों को व्यवस्था में समस्या का सामना करना पड़ रहा है। इसे लेकर पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने कलेक्टर, सीएमएचओ व सीएस से बात की एवं मरीजों को हो रही समस्याओं से अवगत करवाया तथा इसे जल्द निराकरण के लिए आग्रह किया। इस दौरान अधिकारियों ने किसी भी समस्या का जल्द निराकरण करने की बात कही। पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने मीडिया के माध्यम से लोगों से अपील की है कि अधिक से अधिक लोग वैक्सीन लगवाएं, अफवाहों पर ध्यान न दें तथा कोविड नियमों का पालन करें। इस विषम काल को अनुशासन में रहकर नियमों का पालन कर जल्द विजय प्राप्त करेंगे। जल्द ही स्तिथि सामान्य हो इसकी जिम्मेदारी हम सबकी है। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं से जरुरतमंद लोगों को हरसंभव मदद करने के लिए आग्रह किया है। भाजपा कार्यकर्ता अलग-अलग मण्डल में सुखा सामग्री जरुरतमंद लोगों तक पहुंचा रहे हैं।

15-05-2021
जिले में वायरोलाजी लैब की स्थापना के बाद बढ़ी कोरोना की जांच

कोरिया। कोरोना महामारी से संक्रमण का पता लगाने के लिए कई तरह के टेस्ट के विकल्प मौजूद हैं लेकिन इस जांच में सर्वाधिक प्रयोग रैपिड एंटीजन टेस्ट और आरटी-पीसीआर टेस्ट का होता है। इन दो टेस्ट के जरिए व्यक्ति में संक्रमण के बारे में पता लगाया जाता है। सीएमएचओ डॉ.रामेश्वर शर्मा ने बताया कि वायरोलाजी लैब की स्थापना के बाद से जिले में कोरोना जांच अब पहले से अधिक हो रहे है। पहले आरटी-पीसीआर जांच के लिए अम्बिकापुर भेजा जाता था,जिससे रिपोर्ट आने में 5 दिन से 1 सप्ताह का समय लग जाता था, अब मात्र 1 दिन में ही रिपोर्ट मिल सकेगी, जिससे जनता को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।
उन्होंने बताया कि लैब की कार्यप्रणाली व्यवस्थित रखने के लिए अतिरिक्त स्टाफ दिया गया है। जिले में कोरोना के लिए आरटी-पीसीआर, रैपिड एंटीजन टेस्ट, ट्रूनॉट के माध्यम से जांच किए जा रहे हैं। ट्रूनॉट, रैपिड एंटीजन टेस्ट, आरटी-पीसीआर के माध्यम से विगत 6 दिनो में रैपिड एंटीजन टेस्ट से 1216, ट्रूनॉट से 134, तथा आरटी-पीसीआर से 119 टेस्ट किए जा चुके हैं।

 

 

14-05-2021
Breaking : महिला कैदियों को लगाई जा रही वैक्सीन, अधिकारी पहुंचे सेंट्रल जेल 

रायपुर। सेंट्रल जेल में महिला कैदियों को वैक्सीन लगाई जा रही है। मॉनिटरिंग के लिए सीएमएचओ कार्यालय से गजेंद्र डोंगरे मीडिया प्रभारी और राज यदु सेक्ट्रियल असिस्टेंस जेल पहुंचे हैं।

13-05-2021
सीएमएचओ ने दिखाई सहृदयता, दिव्यांग बुजुर्ग को ऑटो में ही लगवाया वैक्सीन, वृद्ध ने माना आभार

राजनांदगांव। वैक्सीनेशन सेंटर में आज एक दिव्यांग बुजुर्ग पहुंचे। उन्होंने सेंटर में निवेदन किया कि वे चल नहीं सकते इसलिए उन्हें यहीं पर वैक्सीन का दूसरा डोज लगा दिया जाये। वहां उपस्थित स्टाफ ने कहा कि उनके पास ऐसा कोई आदेश नही है इसलिए यह संभव नहीं है। उसी दौरान टीकाकरण केंद्रों का निरीक्षण करने निकले सीएमएचओ डॉ.मिथिलेश चौधरी वहां पहुंचे तो नियमों में शिथिलता बरतते हुए ऑटो में ही वैक्सीन लगाने निर्देशित किया। दिव्यांग बुजुर्ग ने सीएमएचओ के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि यदि आप नहीं आते तो यह सम्भव नहीं होता। 

 

13-05-2021
Breaking : प्रदेश में ब्लैक फंगस से पहली मौत

दुर्ग/रायपुर। ब्लैक फंगस से भिलाई के सेक्टर 9 अस्पताल में एडमिट युवक ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। बताया जा रहा है कि कुछ दिन पहले युवक कोरोना से संक्रमित हुआ था। वहीं इलाज के बाद ब्लैक फंगस से संक्रमित हो गया। मौत की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने की है। बताया जा रहा है कि युवक शुगर समेत अन्य बीमारियों से पीड़ित था। दुर्ग सीएमएचओ ने सभी निजी अस्पतालों को अलर्ट किया है।

03-05-2021
दुर्ग जिले के इन क्षेत्रों में कोरोना के नए वेरिएंट मिलने की जानकारी फेक, सीएमएचओ ने खंडन कर की अपील

रायपुर/दुर्ग। कोरोना महामारी के संकट के समय सोशल मीडिया में अफवाहों का बाजार गर्म है। जंगल में लगी आग की तरह ऐसी भ्रामक जानकारियां फैल रही है। इससे दहशत का माहौल बनता है। ऐसी ही एक जानकारी भ्रामक निकली है। दरअसल दुर्ग जिले के संबंध में सोशल मीडिया में गलत जानकारी वायरल हुई है। वायरल जानकारी में कोरोना के नए वेरियंट मिलने का जिक्र है,जो कि भ्रामक और गलत है।  इस संबंध में जिला जनसंपर्क अधिकारी सौरभ शर्मा ने बताया कि जारी आदेश में नया पॉजिटिव केस मिलने का उल्लेख है। इस कारण संबंधित क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। लोगों ने नया पॉजिटिव केस को वायरस का नया वेरियंट मिलना समझ लिया और भ्रामक और गलत जानकारियां वायरल की गई।  इसी तरह सोशल मीडिया में जिले के क्षेत्रों नेहरू नगर, सेक्टर-7 और सेक्टर-10 में कंटेनमेंट जोन बनाए जाने के संबंध में सोशल मीडिया में वायरल हुई भ्रामक और गलत जानकारियों का मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर ने खंडन किया है। उन्होंने लोगों से ऐसी भ्रामक जानकारियों से बचने की अपील की है। साथ ही ऐसी किसी भ्रामक जानकारी को प्रसारित नहीं करने की अपील भी की है।  उन्होंने बताया कि कंटेनमेंट जोन बनाने का निर्णय सैंपलिंग के आधार पर पॉजिटिव आने वाले मामलों की संख्या के आधार पर निर्धारित होता है। अनुपात से अधिक पॉजिटिव आने पर संक्रमण की रोकथाम तय करने कंटेनमेंट जोन बनाए जाते हैं। यह प्रोटोकाल के तहत किया जाता है।   उन्होंने कहा कि नेहरू नगर, सेक्टर-7 और सेक्टर-10 में भी इसी के चलते कंटेनमेंट जोन बनाने का निर्णय लिया गया। सोशल मीडिया में इसे लेकर कुछ  गलत जानकारियां वायरल हुई हैं। यह स्वास्थ्य विभाग के संज्ञान में आया है। डॉ. ठाकुर ने जिले के नागरिकों से अपील की है कि कोविड के संबंध में भ्रामक जानकारियों से बचें। किसी भी तरह की दुविधा होने पर कंट्रोल रूम में संपर्क करें ताकि वस्तुस्थिति की सही जानकारी प्राप्त हो सके।

03-05-2021
 कलेक्टर-सीएमएचओ पहुंचे टीकाकरण केंद्र, वैक्सीन लगवाने की अपील, बोले-अफवाहों पर ध्यान न दें

राजनांदगांव। शासन के निर्देशानुसार 18+ अन्त्योदय राशन कार्डधारियों के टीकाकरण का सोमवार को तीसरा दिन है। आज जिलाधीश टोपेश्वर वर्मा, निगम आयुक्त डॉ. आशुतोष चतुर्वेदी व सीएमएचओ डॉ. मिथिलेश चौधरी के साथ वार्ड पार्षद शहर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष कुलबीर छाबड़ा ने वार्ड क्रमांक 25 स्थित टीकाकरण केंद्र पहुंचे। उन्होंने केंद्र की जानकारी ली और लोगों से अपील की कि शासन की योजना का सभी अंत्योदय कार्डधारी लाभ उठाएं व अधिक संख्या में टीकाकरण करवाएं। अधिकारियों ने कहा कि यह पूर्णतः सुरक्षित है, किसी भी तरह की अफवाहों पर ध्यान न दें। उल्लेखनीय है कि प्रथम दिन मात्र दो व दूसरे दिन पूरे जिले में लगभग 280 हितग्राहियों ने टीकाकरण करवाया था।

16-04-2021
जांच रिपोर्ट आने तक अपने घर पर आइसोलेशन में रहे लोग : सीएमएचओ

कोरबा। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.बीबी बोडे ने जाँच रिपोर्ट आने तक नमूना देने वाले लोगों को अपने घर पर आइसोलेशन में रहने को कहा है। उन्होंने खासकर आरटीपीसीआर और ट्रूनॉट तकनीक से जांच हेतु नमूना देने वालों के लिए ये बात कही है। सीएमएचओ ने कहा कि कोरोना बीमारी के होने अथवा न होने की पुष्टि हेतु फिलहाल जांच के तीन विधियां उपलब्ध हैं। एंटीजन टेस्ट, आरटीपीसीआर एवं ट्रूनॉट तकनीक हैं। मरीज के शरीर में वायरस की मात्रा यदि ज्यादा है, तो एंटीजन टेस्ट तुरन्त पकड़ लेता है। इसका परिणाम भी तुरंत खड़े-खड़े मिल जाता है। और संक्रमित व्यक्ति तत्काल प्रभाव से दवाई एवं सावधानियां लेना शुरू कर देता है। इसमें कोई दिक्कत नहीं है। लेकिन आरटीपीसीआर और ट्रूनॉट  तकनीक से जांच रिपोर्ट मिलने में फिलहाल 1 से 5 दिन का समय लग रहा है। यदि व्यक्ति का रिपोर्ट पॉजिटिव आया और नमूना देने और रिपोर्ट आने की अवधि में उसकी हरकत आम दिनों की तरह रहा तो इस बीच वह अपने घर-परिवार सहित सैकड़ों लोगों को संक्रमित करने में सक्षम होगा। इसलिए रिपोर्ट आते तक होम आइसोलेशन में रहकर समय बिताना चाहिए। सीएमएचओ डाॅ.बोडे ने बताया कि किसी व्यक्ति का एंटीजन रिपोर्ट पॉजिटिव आया तो निश्चित रूप से वह कोरोना से संक्रमित हो चुका है। लेकिन यदि रिपोर्ट निगेटिव आया तो यह आवश्यक नहीं कि उसे कोरोना का संक्रमण नहीं हुआ है। और उसका आरटीपीसीआर एवं ट्रू नॉट रिपोर्ट भी निगेटिव आये। प्रायः यह देखा जा रहा है कि जांच रिपोर्ट का इंतजार किये बिना लोग खुले आम मेल-मिलाप कर रहे हैं,जिससे संक्रमण तेजी से फैल रहा है। जिला प्रशासन ने लोगों को कोरोना के लक्षण दिखने पर तत्काल जांच कराने का आग्रह किया है। जिले की सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर राज्य सरकार की ओर से निःशुल्क जांच की सुविधा उपलब्ध है। स्वयं होकर इलाज न करें और न ही झोला छाप डॉक्टरों के चंगुल में फंसे। अब तक का अनुभव रहा है कि लोग जांच कराने में विलम्ब करते हैं, अपने स्तर पर इलाज शुरू कर देते हैं, जिससे यह बीमारी बढ़ जाती है। और लोगों को बचा पाना मुश्किल हो जाता है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804