GLIBS
03-03-2020
खदान प्रभावित 7200 किसानों को डीएमएफ से मदद, 90 से 95 प्रतिशत अनुदान पर कृषि यंत्रों का वितरण

जांजगीर-चांपा। जिला खनिज न्यास निधि से जिले के खदान प्रभावित गांव के 7200 किसानों को खेती किसानी के लिए सहायता दी गई है। प्रत्येक किसान को 4-4 हजार रुपए की मदद डीएमएस मद से स्वीकृत की गई है। कलेक्टर जनक प्रसाद पाठक के मार्गनिर्देशन में कृषि यंत्रों पर 90 से 95 प्रतिशत तक की मदद स्वीकृत की गई है। इसके अलावा 580 हेक्टेयर में सिंचाई सुविधा को बेहतर बनाने के लिए ड्रिप व स्प्रिंकलर की स्थापना की जा रही है। उद्यान विभाग के सहायक संचालक से प्राप्त जानकारी के अनुसार सब्जी, मसाला, फसल प्रदर्शन लगाने के लिए एवं मसाला बीज किसानों को उपलब्ध कराया गया है। इसके अलावा सूक्ष्म तत्व दवा खाद का निःशुल्क वितरण कार्य भी किया जा रहा है। सब्जी भाजी की खेती करने वाले किसानों के लिए 80 हेक्टेयर रकबा में ड्रिप एरीगेशन यंत्र और 500 हेक्टेयर रकबा में स्प्रिंकलर सिंचाई संयंत्र लगाया जा रहा है। कृषि यंत्रों की स्थापना के लिए लघु/सीमांत किसानों को 95 प्रतिशत और बड़े किसानों को 90 प्रतिशत की सहायता दी जा रही है।

 

14-11-2019
डीएमएफ मद के लिए जनप्रतिनिधि दें अपने क्षेत्रों से कार्यों के प्रस्ताव- रविन्द्र चौबे

रायगढ़। कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने कलेक्टोरेट के सृजन सभाकक्ष में रायगढ़ जिला खनिज संस्थान न्यास के शासी परिषद की बैठक ली। इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, विधायक लालजीत सिंह राठिया, प्रकाश नायक, चक्रधर सिदार, उत्तरी गनपत जांगड़े, कलेक्टर यशवंत कुमार, पुलिस अधीक्षक  संतोष कुमार सिंह उपस्थित थे। कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि जिला खनिज न्यास निधि से सभी जनप्रतिनिधि अपने-अपने क्षेत्रों के कार्यों के प्रस्ताव दें। उन्होंने कहा कि खनिज न्यास निधि से होने वाले निर्माण कार्य की पूर्ण जानकारी जनप्रतिनिधि को होनी चाहिए। मुख्यमंत्री की मंशा अनुसार कार्य होना चाहिए। विशेष रूप से स्वास्थ्य, शिक्षा, पेयजल, महिला एवं बाल विकास जैसे महत्वपूर्ण कार्यों पर ध्यान केन्द्रित करते हुए प्रस्ताव बनायें। उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा चलाये जा रहे तेजस एवं तेजस्विनी एकेडमी की सराहना की और इसे युवाओं की प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए जारी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि एवं जिला प्रशासन आपसी संवाद एवं सुझाव से प्रस्ताव बनाये। उन्होंने कहा कि स्कूल शिक्षा के लिए शिक्षकों की नियुक्ति करें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सुपोषण योजना के तहत जनसहयोग लेते हुए उद्योग एवं डीएमएफ के माध्यम से बड़े कार्य किए जा सकते है। उन्होंने नंदेली में सौर ऊर्जा आधारित सिंचाई योजना के लिए के्रडा को निर्देशित किया। इस अवसर पर कृषि मंत्री ने विभिन्न कार्यों के लिए 31 करोड़ 20 लाख रुपए की राशि का अनुमोदन किया।

इस अवसर पर रायगढ़ जिला खनिज संस्थान न्यास निधि में प्राप्त आय एवं व्यय की जानकारी, रायगढ़ जिला अंतर्गत खनन से संबंधित संक्रियाओं से प्रत्यक्ष रूप से एवं अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित क्षेत्रों की संशोधित सूची का शासी परिषद से अनुमोदन, रायगढ़ जिला खनिज संस्थान न्यास निधि से स्वीकृति हेतु प्राप्त प्रस्तावों पर स्वीकृति के संबंध में चर्चा की गई। रायगढ़ जिला खनिज संस्थान न्यास निधि से न्यास के आकस्मिक व्यय हेतु एक करोड़ रुपए की राशि स्वीकृति की गई। उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने कहा कि खरसिया के शासकीय चिकित्सालय में गायन्कोलाजिस्ट की भर्ती करें। उन्होंने कहा कि खनन प्रभावित क्षेत्रों में धरमजयगढ़, घरघोड़ा एवं खरसिया क्षेत्र में आयरन तथा तमनार क्षेत्र में फ्लोराइड की अधिकता है, ऐसे स्थानों को चिन्हांकित कर शासकीय स्कूलों में पेयजल के लिए आरो वाटर की व्यवस्था करने के लिए कहा।

इस अवसर पर कलेक्टर यशवंत कुमार ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2016-17 से 2019-20 में अक्टूबर तक की अवधि में जिला खनिज न्यास निधि में कुल 192 करोड़ 36 लाख रुपए की राशि प्राप्त हुई। इसमें से इसी अवधि में कुल 550 कार्यों के लिये 161 करोड़ 16 लाख की प्रशासकीय स्वीकृति जारी की गई है। जारी प्रशासकीय स्वीकृति के विरूद्ध अभी 118 करोड़ 74 लाख रुपए का भुगतान किया गया है। महासमुंद जिले एवं जशपुर जिले के लिये न्यास निधि में से 15 प्रतिशत क्रमश: 36 करोड़ 29 लाख एवं 36 करोड़ 29 लाख रुपए की राशि दी गई है।

प्रभारी मंत्री चौबे ने कहा कि दूरस्थ अंचल के जनजातीय क्षेत्र एवं महत्वपूर्ण स्थानों में स्वास्थ्य सुविधाओं की ओर विशेष ध्यान देते हुए कार्य करें। उन्होंने रायगढ़ में डायबिटिज क्लीनिक के लिए सहमति प्रदान की। उन्होंने हाट-बाजार क्लीनिक योजना की जानकारी ली। इस अवसर पर मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी द्वारा प्रस्तुत प्रस्तावों को स्वीकृति प्रदान की गई, जिनमें सिकलिन जांच के लिए इलेक्ट्रोफोरेसिस मशीन, डिजीटल एक्सरे मशीन सहित स्वास्थ्य संबंधी अन्य महत्वपूर्ण उपकरणों को क्रय करने के लिए स्वीकृति प्रदान की गई। प्रभारी मंत्री ने हाथी प्रभावित क्षेत्रों के फेसिंग के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी ली। नगर निगम आयुक्त ने फागिंग मशीन के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया, जिस पर प्रभारी मंत्री ने सहमति प्रदान की। उन्होंने नालियों की सफाई कराने के कड़े निर्देश दिए। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ ऋचा प्रकाश चौधरी, सहायक कलेक्टर संबित मिश्रा, नगर निगम आयुक्त राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता, डीएफओ मनोज पाण्डेय, प्रियंका पाण्डेय सहित सभी जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

06-11-2019
शिक्षा व स्वास्थ्य को लें प्राथमिकता से : जयसिंह अग्रवाल

बीजापुर। राजस्व, आपदा, प्रबंधन, वाणिज्यकर एवं जिले के प्रभारी मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने बुधवार ​को विभागीय कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि बीजापुर जिला जिन मामलों में पिछड़ा हैै उसे प्राथमिकता से दूर करें।शासन की प्राथमिकता शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण, पेयजल आदि है। इन क्षेत्रों में प्राथमिकता से कार्य किए जाने की आवश्यकता है। मंत्री अग्रवाल ने कहा कि स्वास्थ्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में नई भरती की आवश्यकता है। तृतीय व चतुर्थ वर्ग के कर्मचारियों की नियुक्ति स्थानीय स्तर पर की जाएगी। स्थानीय लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों को कहा कि मुख्यमंत्री की मंशानुरूप विकास कार्यों को अजाम दिया जाए। ऐसी कार्ययोजना बनाई जाए जो कि आगामी 5 से 10 सालों तक प्रभावी रहे। दूरगामी सोच व परिणामयुक्त योजनाओं की रूपरेखा बनाई जाए ताकि स्थानीय निवासियों को इसका लाभ मिल सके। उन्होंने खनिज न्यास निधि का सदुपयोग किए जाने कहा। बैठक के प्रारंभ में कलेक्टर केडी कुंजाम ने जिले की विकास गतिविधियों की जानकारी दी। मंत्री अग्रवाल ने लोक सेवा गांरटी अधिनियम के तहत आवदेनों की जानकारी, आरबीसी के प्रकरणों की जानकारी, जिले में भू अभिलेख की स्थिति, प्रधानमंत्री आवास, वनमण्डल की गतिविधियां, टाइगर रिजर्व की स्थिति, कृषि, स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग की विभागीय गतिविधियों की जानकारी ली।

कलेक्टर कुंजाम ने जिला मुख्यालय के शांतिनगर वार्ड की बसाहट को शासन की योजनाओं से लाभावित कराए जाने एवं इनके अन्य स्थान पर बसाहट के संबध में अवगत कराया। मंत्री अग्रवाल ने इस आशय का प्रस्ताव शासन को भेजे जाने के निर्देश दिए है। सांसद दीपक बैज ने क्षेत्र में निर्माण कार्यों व सड़कों की वस्तु स्थिति की जानकारी लोक निर्माण विभाग व राष्ट्रीय राजमार्ग से ली। जिले में 170 किमी की 3 सड़के निर्माणाधीन है, जिसमें मात्र 28 किमी तक कार्य ही पूरा हुआ है। इसी प्रकार प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजनान्तर्गत चल रहे कार्यों की जानकारी ली गई। सीएसईबी के साहू ने अवगत कराया कि जिले के 396 ग्रामों में निर्बाध विद्युत आपूर्ति की जा रही है। इसमें 130 ग्रामों में क्रेड़ा से विद्युत प्रदाय किया जा रहा है। 53 गावों ऐसे है जहां बिल्कुल बिजली नहीं है। सांसद बैज ने कहा कि सड़क बिजली विकास की मूलभूत आवश्यकता है। मैदानी क्षेत्रों में पहुंच वाले क्षेत्रों में ग्रिड सिस्टम से बिजली दी जाए व पहुंचविहीन पहाड़ी क्षेत्रों में सौर उर्जा के माध्यम से बिजली प्रदाय की जानी चाहिए। इस मौके पर स्थानीय विधायक विक्रम मण्डावी, जिला पंचायत उपाध्यक्ष शंकर कुडियम, जिला पंचायत सदस्य बसंत राव ताटी, नीना उद्दे, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत पोषण लाल चन्द्राकर, वनमण्डलाधिकारी डीके साहू, पुलिस अधीक्षक गोवर्धन ठाकुर सहित समस्त विभागों के प्रमुख उपस्थित थे।

15-09-2019
जीवन स्तर ऊंचा उठाने के लिए हो डीएमएफ मद का उपयोग : मोहम्मद अकबर

दुर्ग। जिला खनिज न्यास निधि की शासी परिषद की बैठक दुर्ग जिले के प्रभारी मंत्री मोहम्मद अकबर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में सबसे पहले कलेक्टर अंकित आनंद द्वारा जिला खनिज संस्थान न्यास से संबंधित संशोधित नियमों की संक्षिप्त जानकारी दी गई। प्रभारी मंत्री मोहम्मद अकबर ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि डीएमएफ मद से खनन प्रभावित क्षेत्रों में प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित लोगों का जीवन स्तर ऊंचा उठाने और उनके कल्याण के उद्देश्य से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा जनहित में नियमों में संशोधन किया गया है, जिससे निश्चित रूप से जनता को फायदा पहुंचेगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य, पोषण, शिक्षा, पेयजल आदि क्षेत्रों में प्राथमिकता के आधार पर इस राशि का उपयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के उद्देश्य के अनुरूप परिषद के सभी सदस्यों से जरूरत के मुताबिक प्रस्ताव आमंत्रित करें और खनन प्रभावित ग्रामों में प्राथमिकता तय करते हुए कार्य करें।

प्रभारी मंत्री अकबर ने कहा कि प्रदेश के मुखिया की स्पष्ट मंशा है कि कुपोषण के खिलाफ बड़ा अभियान चलाकर प्रदेशभर में लइका और महतारी के जीवन स्तर को बेहतर किया जाए। इसके लिए डीएमएफ की राशि का उपयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा कि खनन प्रभावित क्षेत्रों में संचालित आंगनबाड़ी केन्द्रों में सघन सर्वे कर आंगनबाड़ी की भौतिक स्थिति का आंकलन कर कार्य शुरू किया जाएगा। उन्होंने महिला एवं बाल विकास विभाग के सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि जमीनी स्तर पर मजबूती से काम करना होगा। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्र के माध्यम से संचालित सेवाओं के द्वारा महिलाओं और बच्चों के पोषण स्तर में सुधार लाने के लिए डीएमएफ की राशि का इस्तेमाल किया जाएगा। बैठक में कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में प्राथमिकता तय करते हुए डीएमएफ की राशि का इस्तेमाल किया जाएगा। जिला अस्पताल में आम जनता के लिए अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी, ताकि मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिल पाएं। बैठक में बताया गया कि स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए 13.83 करोड़ रूपए के 98 कार्य स्वीकृत किए गए हैं। जिसमें से 49 कार्य पूर्ण एवं शेष प्रगतिरत् है। बैठक में वित्तीय वर्ष 2019-20 की कार्ययोजना पर विस्तार से चर्चा की गई। कलेक्टर अंकित आनंद ने बताया कि उच्च प्राथमिकता वाले क्षेत्र जैसे पेयजल, पर्यावरण संरक्षण, स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, महिला एवं बाल विकास विभाग, नि:शक्तजन, कौशल विकास और स्वच्छता सेक्टर में लगभग 36 करोड़ रूपए के 97 कार्यों के प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। मंत्री चौबे ने निर्देश दिए कि चालू सत्र में उपलब्ध राशि के आधार पर प्राथमिकता तय करते हुए ही प्रस्ताव स्वीकृत करें। बैठक में समिति के सदस्यों ने अपने-अपने क्षेत्रों में समस्याओं के बारे में प्रभारी मंत्री को अवगत कराया। विधायक एवं महापौर देवेन्द्र यादव ने भिलाई नगर निगम क्षेत्र में प्रस्तावित मदर्स मार्केट के निर्माण के लिए अतिरिक्त राशि की मांग की। उन्होंने बताया कि मदर्स मार्केट में महिला स्व-सहायता समूह को स्वरोजगार प्रदान किया जाएगा। जिससे महिलाएं आर्थिक रूप से सबल बनेंगी।

उन्होंने बताया कि मदर्स मार्केट में ऐसी वस्तुओं का उत्पादन किया जाएगा, जिसकी मांग बाजार में है। जैसे कापियां, लेटरपेड, फिनाइल, डिटर्जेंट पाउडर आदि। महिलाओं को उत्पादन से लेकर बिक्री तक की सुविधा एक ही छत के नीचे उपलब्ध कराई जाएगी। इसके अलावा निर्मित सामग्री की समुचित बिक्री सुनिश्चित करने के लिए भी प्रयास किए जाएंगे। मंत्री अकबर ने कहा कि इस प्रस्ताव पर विस्तृत चर्चा कर आगे की कार्यवाही की जाएगी। महापौर देवेन्द्र यादव ने शहरी क्षेत्र में आवारा पशुओं की समस्या की ओर समिति का ध्यान आकर्षित किया और समस्या की निराकरण की दिशा में कार्य करने की बात कही। मंत्री अकबर ने बैठक में आमंत्रित शासी परिषद के सभी सदस्यों से प्राप्त सुझावों पर पृथक से चर्चा की बात कही। बैठक में बताया गया कि जिले में 49 मुख्य खनिज पट्टेदार है। जिसमें 47 चूना पत्थर और 02 मोल्डिंग सेंड के पट्टेदार है। इसी प्रकार 151 गौण खनिज पट्टेदार जिसमें से 81 चूना पत्थर, 67 मिट्टी और 3 क्वार्टजाईट के पट्टेदार है। उल्लेखनीय है कि 92 ग्राम खनन से प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित है। बैठक में दिसम्बर 2015 में डीएमएफ की स्थापना से लेकर अब तक के आय-व्यय की जानकारी भी दी गई। बैठक में बताया गया कि विगत तीन वर्षों में 121.50 करोड़ रूपए की राशि डीएमएफ मद में प्राप्त हुई है। जिसमें से लगभग 73 करोड़ रूपए के 2857 कार्य स्वीकृत हुए हैं। जिसमें से उच्च प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में लगभग 82 प्रतिशत् और अन्य प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में 18 प्रतिशत् राशि व्यय की गई है। बैठक में विभाग के अधिकारी मौजूद थे।

11-01-2019
Construction work: अधूरे निर्माण कार्यों को गुणवत्ता से शीघ्र पूरने के निर्देश 

रायपुर। कलेक्टर डॉ. बसवराजु एस. ने जिला खनिज न्यास निधि के अधूरे कार्यों को पूरी गुणवत्ता से शीघ्र पूरा करने के निर्देश सभी विभागीय एजेन्सियों को दिए हैं। उन्होंने कहा कि जो कार्य अभी तक शुरू नहीं हो पाए हंै उन्हें निरस्त कराया जाए। कलेक्टर आज यहां जिला कलेक्टोरेट परिसर स्थित रेडक्रॉस सभाकक्ष में जिला खनिज न्यास निधि से कराए जा रहे कार्यों की विभागीय एजेंसीवार समीक्षा के दौरान उपरोक्त निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि सभी अधूरे कार्यो को संबंधित विभागीय एजेंसी तेजी से शीघ्र पूरा कराएं। गुढिय़ारी में आंगनबाड़ी भवन निर्माण का कार्य ठेकेदार द्वारा नहीं किए जाने पर निविदा निरस्त किया जाए।  कलेक्टर ने कहा कि जिन स्कूलों व आश्रम-छात्रावासों में बाउण्ड्रीवॉल का निर्माण किया गया है वहां ग्राम पंचायत के सहयोग से मनरेगा से वृक्षारोपण कराया जाए ताकि वह परिसर ऑक्सीजोन के रूप में विकसित हो सके। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी दीपक सोनी, नगर निगम के आयुक्त रजत बंसल, डिप्टी कलेक्टर अनुप्रिया मिश्रा सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804