GLIBS
02-02-2020
चंदूलाल चन्द्राकर से निष्पक्ष पत्रकारिता की प्रेरणा मिलती रहेगी : भूपेश बघेल

रायपुर। स्वर्गीय चंदूलाल चंद्राकर की मूल्य आधारित निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता, मातृभूमि के लिए सेवा भावना, उनके अमूल्य विचार नई पीढ़ी को हमेशा प्रेरित करते रहेंगे। उक्त बातें छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने चंदूलाल चन्द्राकर की पूण्य तिथि पर कही। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के महान सपूत, प्रखर पत्रकार और पूर्व सांसद स्वर्गीय चंदूलाल चंद्राकर की पुण्यतिथि 2 फरवरी पर उन्हें नमन है। बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के माटी पुत्र चंदूलाल चंद्राकर ने अपने प्रखर व्यक्तित्व और निर्भीक पत्रकारिता से देश में छत्तीसगढ़ का नाम रोशन किया है। उन्होंने लोकसभा में सांसद के रूप में तथा कई महत्वपूर्ण पदों का दायित्व संभालते हुए देश और प्रदेश की सेवा की। उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य आंदोलन को नई दिशा प्रदान की।

01-02-2020
राज्यपाल ने स्व.चंदूलाल चंद्राकर को किया नमन

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने छत्तीसगढ़ के प्रख्यात पत्रकार एवं पूर्व सांसद स्वर्गीय चंदूलाल चंद्राकर की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन किया है। राज्यपाल ने कहा है कि स्वर्गीय चंद्राकर ने सांसद तथा कई महत्वपूर्ण पदों के दायित्वों का निर्वहन करते हुए देश और प्रदेश की सेवा की। उन्होंने अपनी निर्भीक पत्रकारिता से छत्तीसगढ़ का नाम पूरे देश में रोशन किया। उनके व्यक्तित्व एवं विचार से नई पीढ़ी को हमेशा प्रेरणा मिलती रहेगी।

16-01-2020
'डॉन करीम लाला से मिलती थीं इंदिरा गांधी' के बयान पर संजय राउत की सफाई

नई दिल्ली। शिवसेना प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पर अंडरवर्ल्ड डॉन हाजी मस्तान और करीम लाला से मिलने का आरोप लगाया था। जिस पर राजनीति गरमा गई है। फिलहाल अपने बयान पर विवाद बढ़ने के बाद राउत ने सफाई दी है। उनका कहना है कि करीम लाला पठानों के नेता थे और कई राजनेता उनसे मिलने के लिए आते थे। वहीं महाराष्ट्र कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा ने शिवसेना नेता से अपना बयान वापस लेने की मांग की है। संजय राउत ने कहा है कि मुंबई में एक कार्यक्रम में अपनी पत्रकारिता के अनुभव साझा करते हुए राउत ने कहा कि साठ से अस्सी के दशक की शुरुआत तक मुंबई के अंडरवर्ल्ड में करीम लाला, मस्तान मिर्जा उर्फ हाजी मस्तान और वर्दराजन मुदालायर तीन डॉन हुआ करते थे। वे तय करते थे कि मुंबई पुलिस का कमिश्नर कौन होगा और कौन राज्य सचिवालय में बैठेगा। जब हाजी मस्तान मंत्रालय आता तो पूरा सचिवालय उसे देखने के लिए काम छोड़कर नीचे चला आता था।

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी करीम लाला से दक्षिणी मुंबई के पायधोनी में मुलाकात करती थीं। पर सियासी बवाल के बाद राउत ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी का हमेशा सम्मान रहा है। जहां तक करीम लाला की बात है तो वो पठानों के नेता के तौर पर जाना जाता था। इसलिए उससे अन्य नेता मिला करते थे। उन्होंने कहा कि मैंने इंदिरा गांधी, पंडित नेहरू, राजीव गांधी और गांधी परिवार के प्रति हमेशा सम्मान दिखाया है। विपक्ष में होने के बावजूद किसी ने ऐसा नहीं किया। जब भी लोगों ने इंदिरा गांधी को निशाना बनाया मैं उनके लिए खड़ा रहा। बहुत से राजनीतिक लोग करीम लाला से मिलने जाते थे। उस समय वक्त अलग था। वह पठान समुदाय का नेता था, वह अफगानिस्तान से आया था। इसलिए लोग पठान समुदाय की समस्याओं को लेकर उनसे मिलते थे।

18-12-2019
प्रेस क्लब में दी गई वरिष्ठ पत्रकार स्व.रविकांत कौशिक को श्रद्धांजलि

रायपुर। वरिष्ठ पत्रकार स्व. रविकांत कौशिक का विगत 16 दिसंबर को निधन हो गया। बुधवार को प्रेस क्लब में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में पत्रकारों ने दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। श्रद्धांजलि सभा में पत्रकारों ने कहा कि स्व. कौशिक का निधन प्रेस क्लब परिवार के लिए अपूर्णीय क्षति है। नए पत्रकारों के लिए उनके द्वारा दिया गया योगदान भविष्य में उनका मार्गदर्शन करेगा। स्व.कौशिक ने सहज,सरल भाषा में जनता के दुख को अपनी लेखनी के माध्यम से व्यक्त किया। स्व. कौशिक ने अपनी अथक मेहनत से संघर्ष कर पत्रकारिता के क्षेत्र में बड़ा मुकाम हासिल किया।

16-12-2019
वरिष्ठ पत्रकार कौशिक के निधन पर डॉ. रमन सिंह ने किया शोक व्यक्त  

रायपुर। भाजपा उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मुखर एवं प्रखर पत्रकार रविकान्त कौशिक के निधन पर संवेदना व्यक्त की है। डॉ. सिंह ने इसे अपनी निजी क्षति बताते हुए कहा कि कौशिक उनके अभिन्न पारिवारिक मित्र थे। प्रदेश की पत्रकारिता में स्थापित और अपना विशिष्ट स्थान रखने वाले कौशिक का देहावसान हृदयविदारक है। डॉ. सिंह ने कहा कि पत्रकारिता में वरिष्ठ पत्रकार कौशिक का तेवर, उनकी निष्ठा और ईमानदारी नयी पीढ़ी के लिये प्रेरणा का काम करेगी। वास्तव में उनका जाना प्रदेश की पत्रकारिता के एक विशिष्ट शैली का खत्म हो जाना है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता और राजनीति समेत समाज का एक बड़ा वर्ग इनके निधन से मर्माहत है। कौशिक अपनी एक अमिट छाप छोड़ कर गए हैं। उन्होंने ईश्वर से प्रार्थना की है कि परिवारजनों को इस पीड़ा को सहन करने की ताकत प्रदान करें। सम्पूर्ण भाजपा परिवार ने रविकान्त कौशिक के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

27-11-2019
सकारात्मक और प्रेरणादायक खबरों से पत्रकार कर सकते हैं सामाजिक उत्थान : कमल दीक्षित

बैकुंठपुर। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरी विश्वविद्यालय एवं राज योग एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन के मीडिया विभाग द्वारा बैकुंठपुर महलपारा के स्वर्णिम समाज के विकास में मीडिया की भूमिका विषय पर मीडिया सेमिनार का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता मूल्यानुगत अभिक्रम समिति अध्यक्ष कमल दीक्षित ने अपने उद्बोधन में कहा कि आज आर्थिक विकास के साथ संतुष्टि, खुशी और आनंद जीवन में से गायब हो गया है। शिक्षा-स्वास्थ्य बेहतर होने से समाज और देश का विकास होता है। कमल दीक्षित ने कहा कि बाजारवाद ने पत्रकारिता के मूल्यों को प्रभावित किया है। मीडिया को आज मूल्यों से, समाज से सरोकार नहीं, मुनाफे से  सरोकार  है। ऐसा भी नहीं है। कई ऐसे उदाहरण है जिसमें मीडिया द्वारा समाज में परिवर्तन,  जीवन में बदलाव व शिक्षा आदि में सहयोग मिलता है। पत्रकार चाहें तो मूल्य आधारित समाज की पूर्ण स्थापना कर सकता है। उन्होंने उपस्थित सभी मीडिया बंधुओं को 6 महीने के लिए यह प्रयोग करने के लिए कहा कि हम बदलेंगे, हमारे विचार बदलेंगे तो हमारी पत्रकारिता से समाज बदलेगा। कार्यक्रम का संचालन कर रहीं ब्रह्माकुमारी रूपा बहन ने कहा कि अपनी कलम द्वारा हम जोत से जोत जगा कर उस महा ज्योति परमात्मा को प्रत्यक्ष कर सकते हैं।

 

03-11-2019
राज्योत्सव के तीसरे दिन 8 विभूतियों और संस्थाओं को दिया गया राज्य अलंकरण

 रायपुर। राज्योत्सव के तीसरे दिन रविवार को साइंस कॉलेज मैदान में 8 विभूतियों और संस्थाओं को राज्य अलंकरण से सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरण दास महंत और अलंकरण समारोह की अध्यक्षता कर रहे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों एवं संस्थाओं को राज्य अलंकरण प्रदान किया। इस दौरान अदम्य साहस का प्रदर्शन करने वाले चार पुलिस कर्मियों को शौर्य पदक भी दिए गए। राज्य अलंकरण के अंतर्गत सामाजिक समरसता के लिए रायपुर के रामजी लाल अग्रवाल को महाराजा अग्रसेन सम्मान और मछली पालन के लिए माना कैंप रायपुर के सुदीप दास को बिलासा बाई केंवटिन सम्मान से विभूषित किया गया। संस्कृत भाषा के लिए खैरागढ़ के प्रो. कामता प्रसाद त्रिपाठी पीयूष को संस्कृति भाषा सम्मान, पत्रकारिता के लिए नई दिल्ली के रवीश कुमार को पंडित माधवराव सप्रे राष्ट्रीय रचनात्मक सम्मान, अपराध अनुसंधान के लिए दल्लीराजहरा थाने के निरीक्षक मनीष सिंह परिहार को पंडित लखन लाल मिश्र सम्मान तथा श्रम के क्षेत्र में एनटीपीसी लारा रायगढ़ और भिलाई के  प्रशांत शेखर शर्मा को संयुक्त रूप से महाराजा रामानुज प्रताप सिंहदेव सम्मान प्रदान किया गया। सरगुजा के गाराम पैकरा को शहीद वीर नारायण सिंह सम्मान और मुंगेली के अभ्यारण्य शिक्षण समिति को डॉ. भंवर सिंह पोर्ते सम्मान से विभूषित किया गया।

अदम्य साहस और वीरता का परिचय देने वाले चार पुलिस कर्मियों को राज्योत्सव में आज शौर्य पदक भी प्रदान किए गए। उपनिरीक्षक युगल किशोर वर्मा और आरक्षक कृषलाल साहू को मरणोपरांत शौर्य पदक से सम्मानित किया गया। शहीद वर्मा और साहू की पत्नी ने यह पदक ग्रहण किया। सहायक उपनिरीक्षक सुरेश कश्यप तथा प्रधान आरक्षक ताती मुकेश को भी उनके अदम्य साहस के लिए शौर्य पदक प्रदान किया गया।
 

12-10-2019
देश की बेटी बनी ब्रिटिश उप उच्चायुक्त, अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर मिला मौका

नई दिल्ली। अपने देश के किसी व्यक्ति का ब्रिटिश उप उच्चायुक्त बनना देश के लिए गौरव की बात होगी। दरअसल बंगलूरू में पत्रकारिता की पढ़ाई कर रही एक छात्रा को एक दिन के लिए ब्रिटिश उप उच्चायुक्त बनने का मौका मिला। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर मिले इस दुर्लभ अवसर के दौरान 24 साल की अंबिका बनर्जी ने ब्रिटेन और भारत के बीच राजनयिक संबंधों के बारे में जाना। संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर अंबिका को यह मौका मिला। उन्होंने शुक्रवार को एक दिन के लिए जेरेमी पिल्मोर बेडफोर्ड से प्रभार लेते हुए ब्रिटिश उप उच्चायुक्त की भूमिका निभाई, जोकि भारत में ब्रिटेन का तीसरा सबसे बड़ा पद है। अंबिका ने इस दौरान बंगलूरू स्थिति ब्रिटिश उच्चायोग में सरकार और उद्योगपतियों के साथ बैठक की अध्यक्षता भी की।

अंबिका ने कहा कि मुझे बंगलूरू के ब्रिटिश उप उच्चायुक्त कार्यालय के सभी अधिकारियों से मिलने का मौका मिला। मेरा दिन उत्साह और उल्लास से भरा हुआ था क्योंकि हमारे पास पूरे दिन की योजना थी। उन्होंने बताया कि हम व्हाइटफील्ड में टेस्को भी गए और सीखा कि यह कैसे कार्य करता है। वहां मैं विद्या लक्ष्मी से भी मिली, जो लैंगिक समानता को लेकर बहुत मुखर हैं। अंबिका ने बताया कि मेरे लिए यह केवल एक दिन की बात नहीं है। यह मेरे लिए बहुत ही शानदार अनुभव रहा। एक तरह से यह उस प्रक्रिया का एक हिस्सा है कि हम इन पदों तक कैसे पहुंच सकते हैं और मेरे लिए यह निश्चित तौर पर एक शुरुआत है। मुझे यह जानने को मिला कि ये कार्यालय कैसे काम करते हैं। भारत और ब्रिटेन के बीच राजनयिक संबंधों के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला।

ब्रिटिश उप उच्चायुक्त बेडफोर्ड के अनुसार ऐसे अवसरों का उद्देश्य ब्रिटेन में महिलाओं की स्थिति, महिला मुद्दों और विश्व स्तर पर ब्रिटेन के समर्थन के बारे में बताना है। उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस को लेकर यह कार्यक्रम तय किया गया है। भारत में यह दूसरी बार आयोजित कराया गया। उन्होंने बताया कि प्रतियोगिता के माध्यम से विजेता प्रतिभागी का चुनाव होता है और एक दिन के लिए उप उच्चायुक्त बनाया जाता है। भारत में हमने दूसरी बार प्रतियोगिता आयोजित कराई है। उन्होंने कहा कि हम महिलाओं की आवाज, मुद्दों, व्यापार में महिलाओं के लिए घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ब्रिटेन के समर्थन को बताने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

03-10-2019
गुरुदेव काश्यप की स्मृति में पत्रकारिता पुरस्कार व सम्मान समारोह का आयोजन

रायगढ़। पत्रकारिता जगत के पितामह गुरुदेव काश्यप की स्मृति में पत्रकारिता पुरस्कार व सम्मान समारोह बुधवार को पालीटेक्निक आडिटोरियम में हुआ। समारोह में देश के वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैय्यर, सांसद गोमती साय, कलेक्टर यशवंत कुमार व पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह के साथ शहर व जिले के पत्रकार, गणमान्य नागरिक व गुरुदेव काश्यप के पारिवारिक सदस्य शामिल हुए। इस मौके पर अतिथियों ने गुरुदेव काश्यप के व्यक्तित्व व उनकी पत्रकारिता पर वक्तव्य देते हुए भावी व युवा पीढ़ी के लिए उन्हें अनुकरणीय बताया। उन्होंने वर्तमान दौर में पत्रकारिता को चुनौतीपूर्ण बताते हुए कहा कि एक पत्रकार के समक्ष कई विपरीत परिस्थितियां आती हैं। उन्हें कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। व्यावसायिकता के इस दौर में प्रबंधन व अपने पेशे के प्रति सामंजस्य बिठाकर ईमानदारी व हिम्मत के साथ कार्य करने की जरूरत है। रमेश नैय्यर, शशिकांत शर्मा, रोशनलाल अग्रवाल, रमेश अग्रवाल, वेदमणि सिंह ठाकुर, सांसद गोमती साय ने  गुरुदेव काश्यप के साथ बिताए उन क्षणों को याद करते हुए कहा कि गुरुदेव ने पत्रकारिता के क्षेत्र में ऐसी मिसाल पेश की है, जिसके कारण उनका नाम इतिहास में दर्ज हो गया है। वे अपने कार्य के प्रति ईमानदार, अडिग रहते थे। किसी भी विपरीत परिस्थितियों में भी उन्होंने समझौता नहीं किया। उनके समक्ष कई चुनौतियां आईं, जिनका उन्होंने जीवटता के साथ सामना किया, जिसके बलबूते आज पत्रकारिता जगत में उनका नाम स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जा चुका है। उन्होंने युवा पत्रकारों को सीख देते हुए गुरुदेव काश्यप के जीवन से प्रेरणा लेने की अपील की। कार्यक्रम का संचालन जिला प्रेस एसोसिएशन के अध्यक्ष रामचंद्र शर्मा  व वरिष्ठ पत्रकार अनिल रतेरिया ने आभार प्रदर्शन किया।

21-09-2019
भाषा का सही प्रयोग पत्रकारिता के लिए जरूरी : रमेश नैयर

रायपुर। भाषा, साहित्य अध्ययनशाला, पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर में पूर्व छात्र मिलन समारोह एवं भाषा, साहित्य एवं भाषाविज्ञान पर दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी हुई। संगोष्ठी के मुख्य अतिथि डॉ. राजेंद्र मिश्र ने कहा कि भाषा हमारे अस्तित्व का अपरिहार्य हिस्सा है और इसका गहरा संबंध नागरिकता से होता है। विशेष अतिथि रमेश नैयर ने आज की पत्रकारिता की भाषा को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि भाषा का सही प्रयोग पत्रकारिता के लिए जरूरी है। जब तक भाषायी शुद्धता की ओर ध्यान नहीं दिया जाएगा तब तक भाषा का सौंदर्य और प्रभाव दोनों की कल्पना करना मुश्किल है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डॉ. केशरीलाल वर्मा, कुलपति, पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय ने भाषा, साहित्य अध्ययनशाला की विकास यात्रा पर प्रकाश डालते हुए बताया कि इस विभाग की गौरवशाली परंपरा को साथ लेकर काम करने वाले विद्वान किसी न किसी रूप में विभाग का नाम रोशन कर रहे हैं। भाषा का संबंध ज्ञान-विज्ञान के हर क्षेत्र से है और बिना भाषा के समाज की कल्पना करना असंभव है। वैज्ञानिक और तकनीकी शब्दावली आयोग के अध्यक्ष एवं केंद्रीय हिंदी निदेशालय के संचालक के रूप में देश की अन्य भाषाओं के विकास के लिए किए गए अपने कार्यों की जानकारी दी।

 

07-09-2019
 “हर हेड हेलमेट” अभियान को सफल बनाने वालों का सम्मान आज

रायपुर। राजधानी की यातायात व्यवस्था को दुरुस्त एवं जन-जन में जागरुकता लाने के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख के नेतृत्व में चलाया गया हर हेड हेलमेट अभियान रंग लाया है। इस अभियान की शुरुआत एक स्वयंसेवी संस्था की ओर से पुलिस प्रशासन को 100 हेलमेट प्रदान कर की गई थी। रायपुर पुलिस ने पुराने हेलमेट के बदले नए हेलमेट दिए थे।  अभियान की अपार सफलता के उपरांत पुलिस प्रशासन ने आज शनिवार को फेलिसीटेसन कार्यक्रम का आयोजन किया है, इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डीजीपी डीएम अवस्थी, गेस्ट ऑफ ऑनर आनंद छाबड़ा (आई. जी. रायपुर रेंज) एवं एसएसपी आरिफ शेख समेत रायपुर पुलिस के अन्य अधिकारी होंगे। इस कार्यक्रम के दौरान अभियान में सहयोग करने वाले लोगों को सम्मानित व पुरस्कृत किया जाएगा। 
15 अगस्त को 147 जगह पर लगाये गये डिस्ट्रीब्यूशन केन्द्रों से 15223 हेलमेटों का वितरण हुआ एवं 16000 लोगों द्वारा नियमित ट्रैफिक नियमों का पालन करने की शपथ ली गई । रक्षाबंधन के उपलक्ष्य पर रायपुर पुलिस ने एक व्हाट्सएप नंबर जारी कर लोगों से हेलमेट गिफ्ट कर सेल्फी भेजने का आग्रह किया। इस नंबर पर भाइयों-बहनों ने 10000 से अधिक सेल्फी भेजकर अभियान में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। व्यापक प्रचार प्रसार एवं संस्थाओ के सहयोग से इस अभियान को एक नई दिशा मिली।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804