GLIBS
03-07-2019
रथयात्रा के अवसर पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दीं शुभकामनाएं

रायपुर। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने भगवान श्री जगन्नाथ की रथयात्रा के अवसर पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने अपने संदेश में कहा है कि रथयात्रा हमारी आस्था एवं संस्कृति से जुड़ा पर्व है। ऐसे त्यौहार हम सबको एक सूत्र में बंधने का अवसर देते हैं और आपसी सौहाद्र्र बढ़ाते हैं। राज्यपाल ने इस अवसर पर सभी नागरिकों की खुशहाली की कामना की है। 

 

13-06-2019
सीएम बघेल और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आशाराम डहरिया के निधन पर जताया दु:ख 

 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने प्रदेश के नगरीय प्रशासन और श्रम मंत्री डॉ शिव कुमार डहरिया के पिता आशा राम डहरिया के निधन पर गहरा दु:ख प्रकट किया है। बता दें कि आशाराम डहरिया का देर रात निजी अस्पताल में इलाज के दौरान स्वर्गवास हो गया। वे 81 वर्ष के थे । मुख्यमंत्री ने आशाराम डहरिया के परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है। इसी तरह राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आशाराम डहरिया के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए मृतात्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

01-06-2019
सीए प्रोफेशनल के रूप में महिलाओं की हो ज्यादा सहभागिता : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

 

रायपुर। मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ की राज्यपाल आंनदीबेन पटेल शनिवार को बिलासपुर में आयोजित द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया, बिलासपुर ब्रांच चार्टर्ड अकाउंटेंट के राष्ट्रीय सम्मेलन में शामिल हुई। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में चार्टड अकाउंटेंट प्रोफेशनल का बहुत ही अहम योगदान रहता है। यदि सीए के क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा महिलाओं की सहभागिता होनी चाहिए। घर की छोटी से छोटी बातों का ध्यान महिलाएं बहुत बेहतर ढंग से रखती है। देश की वित्त मंत्री भी महिला है। उम्मीद है सीए के क्षेत्र में महिलाएं अपना नाम करेंगी। काफी हर्ष का विषय है कि न्यायधानी बिलासपुर में इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया (आईसीएआई) के द्वारा राष्ट्रीय स्तर की कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। जैसा की मुझे बताया गया है कि आईसीएआई के द्वारा अपने चार्टर्ड अकाउंटेंट सदस्यों के लिये कंटीनुअस प्रोफेशनल एजुकेशन (सीपीई) के नियम निर्धारित किये गये हैं। जिसके तहत सदस्यों को इस तरह के सेमीनार, कान्फ्रेंस एवं वर्कशॉप्स अटेंड करने होते है। जिससे वे स्वयं को विभिन्न कानूनों में समय-समय पर हो रहे परिवर्तनों के प्रति अपडेट रख सके एवं साथ ही राज्य एवं केन्द्र सरकार द्वारा लागू किये जाने वाले नए कानूनों के प्रति जागरूक रह सके। यह काफी प्रशंसनीय कदम है। कोई बड़ी या छोटी व्यापारिक संस्थान, यहां तक आजकल शासकीय संस्थानों में भी चार्टर्ड अकाउंटेंट की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। सीए बेहद चुनौतीपूर्ण एवं संभावनाओं से भरा प्रोफेशन है। विभिन्न प्रकार के वित्तीय गतिविधियों में चार्टर्ड अकाउंटेंट की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। संस्था को महत्वपूर्ण आर्थिक विषयों पर सलाह प्रदान करते हैं। वर्तमान परिप्रेक्ष्य में इन्हें यदि आर्थिक मार्गदर्शक की उपमा भी दी जाए तो वह अतिश्योक्ति नहीं होगी।
किसी भी देश में अर्थव्यवस्था का ही सबसे महत्वपूर्ण स्थान होता है। देश को आय की प्राप्ति विभिन्न स्त्रोतों से मिलने वाले राजस्व जैसे आयकर, विक्रय कर या अन्य करों के माध्यम से प्राप्त होती है। कराधान का महत्व प्राचीन समय से है। कौटिल्य ने भी इसे किसी राज्य के लिये सबसे महत्वपूर्ण माना था। व्यापारिक संस्थाओं से लेकर आम नागरिक कर संबंधित विषयों में चार्टड अकाउंटेंट की मदद अवश्य लेते हैं। आप लोग देश को अधिक से अधिक करों की प्राप्ति करने में सहयोग प्रदान करते है और राष्ट्र के आर्थिक प्रगति में अपना महत्वपूर्ण योगदान भी देते हैं। हमारा देश विश्व की उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। हमारे देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने में एकाउंटेंसी (लेखांकन) की महत्वपूर्ण भूमिका है। मेरा यह मानना है कि किसी भी देश में आर्थिक विकास में सशक्त एकाउंटेंसी (लेखांकन तथा अंकेक्षण) एक आधारभूत बुनियाद की तरह है। 
चार्टड एकाउंटेंट का मुख्य दायित्व होता है कि उसके द्वारा प्रस्तुत लेखा एवं वित्तीय प्रतिवेदन उच्च गुणवत्तायुक्त हो। सीए एक लेखापरीक्षक, परामर्शदाता एवं सलाहकार के रूप में अपनी विश्लेषणात्मक योग्यता एवं कौशल से, वित्तीय समस्याओं का समाधान खोजते हैं। ऐसी बहुमूल्य सेवा, किसी भी संगठन को न केवल मजबूत होती है, बल्कि संगठन की सही एवं परिशुद्ध वित्तीय स्थिति भी सुनिश्चित करती है। यह खुशी की बात है कि इस प्रोफेशन से जुड़े व्यक्ति सक्रिय एवं समर्पित होकर कार्य करते हैं।
भारत में आर्थिक उदारीकरण के दौर में देश के आर्थिक परिदृश्य में भारी बदलाव आया है। ऐसे में एकाउंटेंसी प्रोफेशनल्स का दायित्व और बढ़ जाता है कि वे सतर्क रहकर यह सुनिश्चित करें कि सभी लोग अपने व्यापार व्यवसाय में पारदर्शिता रखें। आज नागरिक के आर्थिक विकास निवेश का पैसा सुरक्षित रहे यह आप सब की सामाजिक जवाबदारी है। हमें यह ध्यान में रखना होगा कि हमारे देश की बड़ी आबादी को आज भी आधारभूत सुविधाओं से वंचित है। उन्हें विकास के रास्ते में आगे ले जाना, उन्हें सम्मानजनक जीवन स्तर उपलब्ध कराना, हम सबका सामूहिक दायित्व है।
तखतपुर विधायक रश्मि सिंह ने कहा कि सीए समाज में प्रबुद्ध नागरिक होते हैं। जिनके ऊपर अर्थव्यवस्था, अंकेक्षण, खाता प्रबंधन की जिम्मेदारी होती है। सीए के बिना व्यवसाय करना कठिन है। इस अवसर पर बिलासपुर विधायक शैलेष पाण्डेय ने कहा कि देश की आर्थिक व्यवस्था सुदृढ़ और पारदर्शी बनाने में सीए प्रोफेशनल की महत्वपूर्ण भूमिका है। 
इस अवसर पर बिल्हा के विधायक धरमलाल कौशिक, विधायक बिलासपुर एपी पांडा एसईसीएल, चार्टर्ड अकाउंटेंट जय छैरा, अनुज गोयल, सेंट्रल काउंसिल मेंबर्स, मुकेश बंसल, रिजनल काउंसिल चेयरमेन, सचेन्द्र जैन, बिलासपुर शाखा के अध्यक्ष, सीपी भाटिया, रायपुर शाखा के अध्यक्ष तथा इस राष्ट्रीय सम्मेलन में देशभर के कई चार्टर्ड अकाउंटेंट उपस्थित थे।

04-01-2019
Governor Anandiben Patel: पशुधन को बढ़ावा देकर अर्थव्यवस्था को करें मजबूत : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

दुर्ग। छत्तीसगढ़ राज्य की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने शुक्रवार को अपने दुर्ग जिला प्रवास के दौरान कामधेनु विश्वविद्यालय अंजोरा के विभिन्न इकाईयों का अवलोकन किया। राज्यपाल ने यहां बकरी पालन, अस्तबल, कड़कनाथ, गाय पालन इकाईयों का अवलोकन करते हुए पशुपालन एवं पशुधन को बढ़ावा देेने के लिए अपनायी जाने वाली वैज्ञानिक पद्धतियों से रू-ब-रू हुई। उन्होंने इस दौरान इकाई प्रमुखों से चर्चा कर पशु नस्ल के विस्तारीकरण, कृषकों को पशुपालन में भागीदार बनाने के लिए विश्वविद्यालय द्वारा अपनाई जाने वाली नीतियों एवं प्रक्रियाओं की जानकारी ली। उन्होंने संस्थाओं में कार्यरत् पशु वैज्ञानिकों को उनके इकाईयों में किए जाने वाले वैज्ञानिक अनुसंधानों को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने एवं ग्रामीण कृषकों को परम्परागत बनाने के लिए कम से कम 5 गांवों को गोद लेकर यहां के किसानों को इन अनुसंधानों से जोड़ने कहा है। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा है कि भारत कृषि प्रधान देश है।

पशुधन को बढ़ावा देकर देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान की जा सकती है। किसानों को आर्थिक आत्मनिर्भरता बनाने के लिए नए और वैज्ञानिक अनुसंधानों के साथ-साथ नए नस्ल के पशुओं को बढ़ावा देने की जरूरत है। इसके लिए विश्वविद्यालय के प्राध्यापकों एवं वैज्ञानिकों को समय-समय पर कृषकों को प्रशिक्षण देने एवं उत्तम नस्ल के पशुओं के पालन के लिए जागरूक करने कहा है। 
राज्यपाल श्रीमती पटेल ने विश्वविद्यालय परिसर स्थित पंचगव्य आयुर्वेदिक औषधालय का भी मुआयना किया। उन्होंने यहां बनाई जाने वाली आयुर्वेदिक औषधियों के तरीके एवं इन औषधियों से रोगों के निदान एवं उपचार में किए जाने वाली पद्धतियों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि पंचगव्य औषधियां अनेक व्याधियों के उपचार में सार्थक होती है। साथ ही साथ किसी प्रकार के दुष्परिणाम की संभावना भी कम होती है। पंचगव्य आयुर्वेदिक से उपचार करने पर व्याधियां और रोगों से स्थायी तौर पर निदान संभव होता है।

राज्यपाल श्रीमती पटेल ने यहां स्व-सहायता समूहों, मत्स्य महाविद्यालय कवर्धा और पशु चिकित्सा एवं पशुपालन महाविद्यालय अंजोरा द्वारा लगाए गए प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। स्व-सहायता समूहों के द्वारा निर्मित विभिन्न व्यंजनों से रू-ब-रू हुई। उन्होंने स्व-सहायता समूहों द्वारा बनाए गए विविध उत्पाद की प्रशंसा की। 
राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने जिला अस्पताल पहुंचकर यहां भर्ती मरीजों के स्वास्थ्य की जानकारी ली। राज्यपाल श्रीमती पटेल ने यहां भर्ती मरीजों से सौजन्यपूर्वक भेंटकर उनका हाल-चाल पूछा। उपस्थित चिकित्सकों को भर्ती मरीजों के उपचार में मानवीय संवेदना और सहृदयता का परिचय देने कहा। उन्होंने इस दौरान मरीजों को अपने हाथों से सेब एवं केला फल का वितरण कर शीघ्र स्वस्थ्य होने की कामना की। 
राज्यपाल ने भिलाई इस्पात संयंत्र का किया भ्रमण
राज्यपाल आनंदी बेन पटेल भिलाई इस्पात संयंत्र पहुंच कर कई यूनिटों का अवलोकन किया। वे यहां इस्पात बनाने के लिए उपयोग में आने वाली रासायनिक व वैज्ञानिक प्रक्रियाओं से रू-ब-रू हुई। इस दौरान उन्हांेने ब्लास्ट फर्नेंस में पिघलते हुए लोहा और यूनिवर्सल रेल मिल में रेलवे पटरी बनते देखा। 

01-01-2019
Governor Anandiben Patel : 3 और 4 जनवरी को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल दुर्ग जिले के प्रवास पर

दुर्ग। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल 3 और 4 जनवरी को दुर्ग जिले के प्रवास पर रहेंगीं। प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्यपाल श्रीमती पटेल 3 जनवरी को सुबह 10.45 बजे पुलिस ग्राउंड रायपुर से हेलीकाप्टर से प्रस्थान कर सुबह 11.05 बजे दुर्ग पहुंचेगीं। वे सुबह 11.10 बजे जैन पाश्र्व तीर्थ स्थल और प्राकृतिक उपचार केन्द्र पहुंचेगी। राज्यपाल श्रीमती पटेल सुबह 11.30 बजे हेलीकाप्टर से खैरागढ़ जाएगीं। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल 4 जनवरी को सुबह 9 बजे सड़क मार्ग से प्रस्थान कर सुबह 10.20 बजे कामधेनु विश्वविद्यालय अंजोरा दुर्ग पहुंचेगीं। विश्वविद्यालय भ्रमण के बाद वे सुबह 11.45 बजे अंजोरा से प्रस्थान कर दोपहर 12.10 बजे सर्किट हाउस दुर्ग पहुंचेगी। राज्यपाल दोपहर 1.30 बजे सर्किट हाउस से प्रस्थान कर दोपहर 1.45 बजे भिलाई स्टील प्लांट पहुंचेगी और भ्रमण के बाद दोपहर 3.45 बजे भिलाई स्टील प्लांट से राजभवन रायपुर के लिए प्रस्थान करेंगीं।
 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804